ढण्ढस

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ढंढस संज्ञा पुं॰ [हिं॰] दे॰ 'ढँढोरच' । उ॰— ढंढस करु मन ते दूर, सिर पर साहब सदा हजूर ।— गुलाला॰, पृ॰ १३७ ।