ढालना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ढालना क्रि॰ सं॰ [सं॰ धार]

१. पानी या और किसी द्रव पदार्थ को गिराना । उँडेलना । जैसे,—(क) हाथ पर पानी ढाल दो । (ख) घड़े का पानी इस बरतन में ढाल दो । (ग) बोतल की शराब गिलास में ढाल दो । संयो॰ क्रि॰—देना ।—लेना । मुहा॰— बोतल ढालन = शराब पीना । मद्यपान करना ।

२. शराब पीना । मद्यपाना करना । मदिरा पीना । जैसे,—आज कल तो खूब ढालते है ।

३. बैचना । बिक्रि करना (दलाल) ।

४. थोड़े दाम पर माल निकालना । सस्ता बेंचना । लुटना ।

५. ताना छोड़ना । व्यंग्य बोलना । †

६. चंदा उतारना । उगाही करना ।— (पंजाब) ।

७. पिघली हुई धातु आदि को साँचे में ढालकर बनाना । पिघली हुई सामग्री से साँचे के द्वारा निर्मित करना । जैसे, लोटा ढालना, खिलौने ढालना । उ॰— कोउ ढालत गोली कोउ बुँदवन बैठि बनावत ।—प्रेमघन॰, भा॰ १, पृ॰ २४ । संयो॰ क्रि॰— देना ।—लेना ।