तंतमंत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तंतमंत पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ तन्त्रमन्त्र] दे॰ 'तत्र मंत्र' । उ॰— कइ जिउ तंत मंत सों हेरा । गएउ हिराय जो वह भा मेरा— जायसी (शब्द॰) ।