तंतुवाय

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तंतुवाय संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. कपड़े बुननेवाला । तांती । विशेष— भिन्न भिन्न स्मृतियों में इनकी उत्पति भन्नि भिन्न प्रकार से बतलाई गई है । किसी में इन्हें मणिबंध पुरुष और मणिकार स्त्री से और किसी में वैश्य पिता और क्षत्रियाणी माता के गर्भ से उत्पन्न बतलाया गया है । इनकी उत्पत्ति के संबंध में अनेक प्रकार की कथाएँ भी हैं ।

२. मकड़ी । उ॰— आकाश जाल सब ओर तना, रवि तंतुवाय है आज बना । करता है पदप्रहार वही, मक्खी सी भिन्ना रही मही ।— साकेत, पृ॰ २६७ ।