तकावी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तकावी संज्ञा स्त्री॰ [अ॰ तक़ावी] वह धन जो जमींदार, राजा या सरकार की ओर से गरीब खेतिहरों को खेती के औजार बनवाने, बीज, खरीदने या कुआँ आदि बनवाने के लिये ऋण स्वरूप दिया जाय । क्रि॰ प्र॰—बाँठना ।—देना ।

२. इस प्रकार का ऋण देने की क्रिया ।