तबीयत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

तबीयत मिलना । हिसाब बैठना = (१) ठीक ठीक जैसा जैसा चाहिए वैसा प्रबंध हो जाना । इच्छानुसार सब बातों की व्यवस्था होना । (२) सुबीता होना । सुपास होना । आवश्य- कता पूर्ण होना । जैसे,—इतने से हमारा हिसाब नहीं बैठेगा । हिसाब से = (१) अंदाज से । संयम से । परिमित । जैसे,— हिसाब से खर्च किया करो । (२) लेखे के अनुसार । लिखे हुए ब्यौरे के मुताबिक । जैसे—हिसाब से तुम्हारा जितना निकले उतना लो । बेँड़ा या टेढ़ा हिसाब = (१) कठिन कार्य । मुस्किल काम । (२) अव्यवस्था । गड़बड़ व्यवहार या रीति । पक्का हिसाब = ठीक ठीक हिसाब । पूरा हिसाब । सूक्ष्म विवरण । कच्चा हिसाब = स्थूल विवरण । मोटा ब्यौरा । ऐसा ब्यौरा जो अधूरा हो । चलता हिसाब = लेनदेन का लेखा जो जारी हो । लेनदेन या उधार बिक्री का जारी सिलसिला ।

२. गणित विद्या । वह विद्या जिसके द्वारा संख्या, मान आदि निर्धारित हो । जैसे,—यह लड़का हिसाब में कमजोर है । यौ॰—हिसाबदाँ ।

३. गणित विद्या का प्रश्न । गणित की समस्या । जैसे,—चार में से मैंने दो हिसाब किए हैं । क्रि॰ प्र॰—करना ।—लगाना ।

४. प्रत्येक वस्तु या निर्दिष्ट संख्या या परिमाण का मूल्य जिसके अनुसार कोई वस्तु बेची जाय । भाव । दर । रेट । जैसे,— नारंगियाँ किस हिसाब से लाए हो । मुहा॰—हिसाब से = (१) परिमाण, क्रम या गति के अनुसार । अनुसार । मुताबिक । जैसे,—जिस हिसाब से दर्द बढ़ेगा उसी हिसाब से बुखार भी । (२) विचार से । ध्यान से । अपेक्षा से । जैसे,—कद के हिसाब से हाथी की आँखें छोटी हीती हैं ।

५. नियम । कायदा । व्यवस्था । बँधी हुई रीति या ढंग । जैसे,— तुम्हारे जाने आने का कोई हिसाब भी है या यों ही जब चाहते हो चल देते हो ।

६. निर्णय । निश्चय । धारण । समझ । मत । विचार । राय । जैसे,—(क) हमारे हिसाब से तो दोनों बराबर हैं । मुहा॰—अपने हिसाब या अपने हिसाब से = अपनी समझ के अनुसार । अपनी जान में । अपने विचार में । लेखे में । जैसे,— अपने हिसाब तो हम अच्छा ही करते हैं, तुम जैसा समझो ।

७. हाल । दशा । अवस्था । स्थिति । जैसे,—उनका हिसाब न पूछो, खूब मनमानी कर रहे हैं ।

८. चाल । व्यवहार । रहन । जैसे,—उनका वही हिसाब है, कुछ सुधर नहीं रहे हैं ।

९. ढंग । रीति । तरीका । जैसे,—(क) तुम्हें ऐसे हिसाब से चलना चाहिए कि कोई बुरा न कह सके । (ख) उनका हिसाब ही कुछ और है ।

१०. किफायत । मितव्यय । जैसे,—वह बड़े हिसाब से रहता है, तब रुपया बचाता है ।

११. हृदय या प्रकृति की परस्पर अनुकूलता । मेल । मुहा॰—हिसाब बैठना = पटरी बैठना । मेल मिलना । प्रकृति की समानता होना ।