त्रिककुद्

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

त्रिककुद् ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. त्रिकूट पर्वत ।

२. विष्णु ।(विष्णु । ने एक बार वाराह का अवतार धारण किया था, इसी से उनका यह नाम पडां) ।

३. दस दिनों में होनेवाला एक प्रकार का यज्ञ ।

त्रिककुद् ^२ वि॰ जिसे तीन श्रृंग हों ।