त्रिदिव

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

त्रिदिव संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. स्वर्ग । उ॰—अनुज ! रहना उचित तुमको यहीं है, यहाँ जो है त्रिदिव में भी नहीं है ।—साकेत, पृ॰ ६५ ।

२. आकाश ।

३. सुख ।