दुई

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

दुई संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ दी + ई] दो की भावना । द्वैत भाव । भेद- भाव । उ॰— कबीर इश्क का माता दुई को दूर कर दिल से । जो चलना राह नाजुक हैं हमन सर बोझ भारी क्या ।— कबीर॰ श॰, भा॰ १, पृ॰ ७० ।