दूजी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

दूजी ^१ संज्ञा स्त्री॰ [देश॰] घोड़ों का आभूषण विशेष । उ॰—साखत पेसबंद अरु पूजी । हीरन जटित हैकलै दूजो ।—हम्मीर॰, पृ॰ ३ ।

दूजी ^२ वि॰ स्त्री॰ [हिं॰] दे॰ 'दूजा' । उ॰—(क) बोली मनुर बचन तिय दूजी ।—मानस, २ ।२२१ । (ख) अब जिय चाह करौ जनि दूजी ।—भ्रमहु न जग इच्छा तुव पूजी ।—भारतेंदु ग्रं॰, भा॰ १, पृ॰ ६०७ ।