देर

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

क्रिया-विशेषन[सम्पादन]

अनुवाद[सम्पादन]

यह भी देखिए[सम्पादन]

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

देर ^१ संज्ञा पुं॰ [प्रा॰ देर (= दार)] द्वार । दरवाजा । उ॰— काली बीसल दे कियौ, दरब सिलातल देर । विमल कियो बछराज यह, अरब समपि अजमेर ।—बाँकी॰ ग्रं॰, भा॰ १, पृ॰ ५७ ।

देर ^२ संज्ञा स्त्री॰ [फा़॰]

१. अतिकाल । बिलंब । नियमित, उचित या आवश्यक से अधिक समय । जैसे,—(क) देर हो रही है, चलो । (ख) इस काम में देर मत करो । क्रि॰ प्र॰—करना ।—लगाना ।—होना ।

२. समय । वक्त । जैसे,—तुम कितनी देर में आओगे । विशेष—इस अर्थ में इस शब्द का प्रयोग तभी होता है जब उसके पहुले कोई परिमाणवाचक विशेषण होता है । जैसे,— कितनी देर, बहुत देर ।