पंकजराग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पंकजराग संज्ञा पुं॰ [सं॰ पङ्कजराग] पद्मराग मणि । उ॰— परिजन सहित राय रानिन कियो मज्जन प्रेम प्रयाग । तुलसी फल चार को ताके मनि मरकत पंकज राग ।—तुलसी (शब्द॰) ।