पंचनी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पंचनी पु ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ पक्षिणी॰, प्रा॰ पंखणी] पक्षिणी । उ॰—चालंत कटक गोरी प्रबल भूषी चाली पंचनिय ।—पृ॰ रा॰, ११ । ५ ।

पंचनी ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ पञ्चनी]

१. कपड़े की बनी पासा खेलने की विसात ।

२. शतरंज की बिसात [को॰] ।