पंचविध

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पंचविध वि॰ [सं॰ पञ्चविध]

१. पँचगुना ।

२. पाँच प्रकार का [को॰] । यौ॰—पंचविधप्रकृति = शासन के पाँच अवयव—अमात्य, राष्ट्र, दुर्ग, अर्थ, और दंड ।