पदन्यास

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पदन्यास संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. पैर रखना । चलना । गमन करना । कदम रखना । उ॰—मृदु पदन्यास मंद मलयानिल बिगलत शीश निचोल ।—सूर (शब्द॰) ।

२. पैर रखने की एक मुद्रा

३. पैर की छाप । चरणचिह्न ।

४. चलन । ढंग ।

५. पद रचने का काम ।

६. गोखरू ।