पाठक

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

पाठक संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. जो पढे़ । पढ़नेवाला । वाचक ।

२. जो पढा़वे । पढा़नेवाला । अध्यापक ।

३. धर्मोंपदेशक ।

४. गौड़, सारस्वत, सरयूपारीण, गुजराती आदि ब्राह्मणों का एक उपवर्ग ।

५. गुप्तकाल में प्रचलित एक बडे़ माप का नाम जो कुल्यावाप से पँचगुना होता था । उ॰—पिछले गुप्तकाल में एक बडे़ माप का नाम मिलता है जिसे पाठक कहते थे । — पू॰ म॰ भा॰,पृ॰ १२३ ।