पाव

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

पाव ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ पाद (=चतुर्थाश) ]

१. चौथाई । चतुर्थ भाग । जैसे, पाव घंटा, पाव कोस, पाव सेर, पाव आना ।

२. एक सेर का चौथाई भाग । एक तौल जो सेर की चौथाई होती है । चार छटाँक का मान । जैसे, पाव भर आटा ।

३. पैर । उ॰— कियों कान्ह पै घाव पाव ठहरन नहीं पाए— ब्रज॰ ग्रं॰, प॰ १४ ।

पाव ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ पावःया सं॰ प्रावय॰ दे॰ प्रा पावय; गुज॰ पावो] एक वाद्य । वंशी अलगोजा ।