फणिक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

फणिक संज्ञा पुं॰ [सं॰ फणि+ हिं॰ क (प्रत्य॰)] साँप । नाग । उ॰—सखी री नंदनंदन देखु । धूरि धूसरि जटा जुटली हरि किए हर भेखु । नीलापाट पिरोइ मणि गर फणिक धोखे जाय । खुन खुना कर हँसत मोहन नचत डौरु बजाय ।— सूर (शब्द॰) ।