फावड़ा

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
फावड़ा

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

फावड़ा संज्ञा पुं॰ [सं॰ फाल, प्रा॰ फाड] मिट्टी खोदने और टालने का चौड़े फल का लोहे का एक औजार जिसमें डंडे की तरह का लंबा बेंट लगा रहता है । फरसा । कस्सी । क्रि॰ प्र॰—चलाना । मुहा॰—फावड़ा चलाना = खेत में काम करना । फावड़ा बजना = खुदाई होना । खुदना । खुदकर गिरना । घ्वस्त होना । फावड़ा बजाना = खोदना । खोदकर ढाना या गिराना । जैसे,—वह जरा चूँ करे तो मकान पर फावड़ा बजा दूँ । कार्य– फावड़ा कृषि कार्यों में फसलों में गुड़ाई, निराई करके खरपतवारों की रोकथाम के लिए इसका प्रयोग होता है।