सामग्री पर जाएँ

भयानक

विक्षनरी से

हिन्दी

विश्लेषण

किसी से भय लगने से उसे भयानक कहते है।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

भयानक ^१ वि॰ [सं॰] जिसे देखने से भय लगता हो । भीषण । भयंकर । डरावना ।

भयानक ^२ संज्ञा पुं॰

१. बाध ।

२. राहु ।

३. भय । डर (को॰) ।

४. साहित्य में नौ रसों के अंतर्गत छठा रस । विशेष—इसका स्थायी भाव भय है । इसमें भोषण दृश्यों (जैसे, पृथ्वी के हिलने या फटने, समुद्र में तुफान आने आदि) का वर्णन होता है । इसका वर्ण श्याम, अधिष्ठाता देवता यम, आलंबन भयकर दर्शन, उद्दीपन उसके घोर कर्म और अनुभाव कंप, स्वेद, रोमांच आदि माने गए हैं ।