भला

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भला ^१ वि॰ [सं॰ भद्र अपय भल्ल, भल्ला]

१. जो अच्छा हो । उत्तम । श्रेष्ठ । जैसे, भला काम । भला आदमी । उ॰— भलो भलाइहि पै लहै लहे निचाइहि नीचु ।— मानस, १ । ५ । यौ॰—भला चंगा = शरीर से स्वस्थ ।

२. बढ़िया । अच्छा । यौ॰—भला बुरा =(१) उलटी सीधी बात । अनुचित बात । (२) डाँट फटकार । जैसे,— जब तुम भला बुरा सुनोगे तब सीधे हागे ।

भला ^२ संज्ञा पुं॰

१. कल्याण । कुशल । भलाई । जैसे,— तुम्हारा भला हो ।

२. लाभ । नफा । प्राप्ति । जैसे,— इस काम में उनका भी कुछ भला हो जायगा । यौ॰—भला बुरा = हानि और लाभ । नफा नुकसान । जैसे,— तुम अपना भला बुरा समझ लो ।

भला ^३ अव्य॰

१. अच्छा । खैर । अस्तु । जैसे,— भला मैं उनसे समझ लूँगा ।उ॰— भलेहिं नाथ कहि कृपानिकेता । उतरे तहँ मुनि- वृंद समेता ।— तुलसी (शब्द॰) ।

२. नहीं का सूचक अव्यय जो प्रायः वाक्यों के आरंभ अथवा मध्य में रखा जाता है । जैसे,— (क) भला कहीं ठंढा लोहा भी पीटने से दुरुस्त होता है । (अर्थात् नहीं होता) । (ख) वहाँ भला चित्रकारी को कौन पूछता है । (अर्थात् कोई नहीं पूछता) । मुहा॰—भले ही=ऐसा हुआ करे । इससे कोई हानि नहीं । अच्छा ही है । जैसे,— भले ही वे चले जायँ । उ॰— हृदय हेरि हारेउ सब ओरा । एकहिं भाँति भलेहि भल मोरा ।— तुलसी (शब्द॰) । (इस प्रयोग से कुछ उपेक्षा या संतोष का भाव प्रकट होता है ।)