रंजना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रंजना पु क्रि॰ स॰ [सं॰ रञ्जन]

१. प्रसन्न करना । आनंदित करना ।

२. भजना । स्मरण करना । उ॰— आदि निरंजन नाम ताहि रंजै सब कोऊ ।—सूर (शब्द॰) ।

३. रँगना । उ॰— यों सब के तन त्रानन में झलकी अरुणोदय की अरुनाई । अंतर ते जनु रंजन को रजपूतन की रज ऊपर आई ।—केशव (शब्द॰) ।