रगड़

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रगड़ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ रगड़ना]

१. रगड़ने की क्रिया या भाव । घर्षण ।

२. वह हलका चिह्न जो साधारण घर्षण से उत्पन्न हो जाय । क्रि॰ प्र॰—खाना ।—लगना ।

३. (कहारों की परिभाषा में) धक्का ।

४. हुज्जत । झगड़ा । तकरार ।

५. भारी श्रम । गरही मेहनत । मुहा॰—रगड़ डालना = अधिक मेहनत लेना । भारी श्रम कराना । रगड़ पड़ना = अधिक परिश्रम उठाना या पड़ना । जैसे,—उसे बहुत रगड़ पड़ी; इससे थक गया ।