रे

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रे ^१ अव्य॰ [सं॰]

१. संबोधन शब्द । उ॰—क्यों मन मूढ़ छबीली के अंगनि जाय परयो रे ससा जिमि भीर में ।—मन्नालाल (शब्द॰) । विशेष—इस संबोधन से आदर का भाव सूचित होता है और इसका प्रयोग उसी के प्रति होता है, जिसके प्रति 'तू' सर्वनाम का व्यवहार होता है ।

२. तुच्छता वा अपमानसूचक संबोधन ।

रे ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ ऋषभ का आदि र] संगीत में ऋषभ स्वर । जैसे,— स, रे, ग, म, प, ध, नी ।