लोई

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लोई ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ लोप्ती = प्रा॰ लोबी] गुँधे हुए आटे का उतना अंश जो एक रोटी मात्र के लिये निकालकर गोली के आकार का बनाया जाता है और जिसे बेलकर रोटी बनाते हैं । उ॰— भाजी भावती है महा मोदक मही की शोभा पूरी रची है कर लोनाई बिधि लोई में ।—रघुनाथ (शब्द॰) ।

लोई ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ लोमीय (= लोई)] एक प्रकार का कंबल जो पतले ऊन से बुना जाता है और कंबल से कुछ अधिक लंबा और चौड़ा होता है । इसकी बुनावट प्राय: दुसुत्ती की सी होती है । उ॰—सीतलपाटी टाट, लोई कम्बल ऊन के । बची न एकौ हाट, खेस निवारहि आदिहै ।—सूदन (शब्द॰) ।

लोई ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰ लोक] लोग । दे॰ 'लोई' । उ॰—(क), नागर नवल कुँआर वर सुंदर मारग जात लेत मन गोई ।—सूर (शब्द) । (ख) सूरश्याम मनहरण मनोहर गोकुल बसि मोहे सब लोई ।—सूर (शब्द॰) । (ग) बल बसदेव कुशल सबू लोई । अर्जुन यह सुन दीने रोई ।—सूर (शब्द॰) ।