लौ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लौ ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ दावा]

१. आग की लपट । ज्वाला । उ॰— जोरि जो धरी है बेदरद द्वारे तौन होरी, मेरी बिरहागि की उलूकनि लौ लाइ आव ।—पद्माकर (शब्द॰) ।

२. दीपक की टेम । दीपशिखा ।

लौ ^२ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ लाग]

१. लाग । चाह । राग । उ॰—लौ इनकी लागी रहै निज मन मोहन रूप । तातैं इन रसनिधि लयौ लोचन नाम अनूप ।—रसनिधि (शब्द॰) ।

२. चित्त की वृति । यौ॰—लौलीन = किसी के ध्यान में डूबा हुआ या मस्त । उ॰— खसम न चीन्हें बावरी पर पुरुषै लौलीन । कबीर पुकारि के परी न बानी चीन्ह ।—कबीर (शब्द॰) ।

३. आशा । कामना । उ॰—लौ लगी लोयन में लखिबे की उसे गुरु लोगन को भय भारी ।—सुंदरीसर्वस्व (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—लगना ।—लगाना ।

लौ ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰ लोलक] कान का लटका हुआ भाग । लोलकी ।