वंड

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

वंड ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ वण्ड]

१. वह जिसकी लिगेंद्रिय के अग्र भाग पर वह चमड़ा न हो, जो सुपारी को ढाँके रहता है ।

२. ध्वजभंग नामक रोग । पर्या॰—दुश्चर्मा । द्विनग्नक । शिपिविष्ट ।

वंड ^२ वि॰

१. बाँड़ा । हीनांग ।

२. अविवाहित (को॰) ।