विक्षनरी:हिन्दी–हिन्दी शब्दकोश/द, ध

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search
शब्द व्याकरण-१ व्या-२ व्या-३ व्या-४ व्या-५ अर्थ-१ अर्थ-२ अर्थ-३ अर्थ-४ अर्थ-५
दंगल पुंलिंग - - - - पहलवानों की कुश्ती प्रतियोगिता। - - - -
दंगा पुंलिंग - - - - उपद्रव, फसाद। - - - -
दंड पुंलिंग पुंलिंग - - - सज़ा, ज़ुर्माना; बांस या लकड़ी का डंडा। - - -
दंडनीय विशेषण - - - - दंड दिए जाने योग्य। - - - -
दंपत्ति पुंलिंग - - - - पति-पत्नी। - - - -
दंभ पुंलिंग - - - - अहंकार। - - - -
दक्षिणा स्त्रीलिंग - - - - यज्ञ दान आदि के अंत में ब्राह्मणों और पुरोहितों को दिया जाने वाला द्रव्य। - - - -
दत्तक पुंलिंग - - - - गोद लिया हुआ। - - - -
दतचित्त विशेषण - - - - जो किसी कार्य में मनोयोग पूर्वक लगा हुआ हो, तल्लीन। - - - -
दफनाना सकारात्मक क्रिया - - - - मुर्दे को जमीन में गाड़ना। - - - -
दबंग विशेषण विशेषण - - - जो किसी से दबता न हो, साहसी; प्रभावशाली। - - -
दबदबा पुंलिंग - - - - रोब, आतंक। - - - -
दबाना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - भार या दाब के नीचे लाना; किसी बात या मामले को आगे न बढ़ने देना, रोकना; दमन करना। - -
दबाव पुंलिंग - - - - दाबने की क्रिया या भाव, दाब। - - - -
दबोचना सकारात्मक क्रिया - - - - झपट कर दबा लेना। - - - -
दम पुंलिंग पुंलिंग पुंलिंग - - ताकत, जोर; हुक्के आदि का कश; सांस, श्वास, प्राण। - -
दमक स्त्रीलिंग - - - - चमक, प्रभा। - - - -
दमकल स्त्रीलिंग - - - - आग बुझाने का यंत्र या यंत्र-समूह। - - - -
दयनीय विशेषण - - - - दया के योग्य। - - - -
दया स्त्रीलिंग - - - - रहम, अनुकंपा, तरस। - - - -
दयादृष्टि स्त्रीलिंग - - - - दयापूर्ण या करुणापूर्ण दृष्टि या भावना। - - - -
दर पुंलिंग, स्त्रीलिंग पुंलिंग, स्त्रीलिंग - - - द्वार, दरवाजा; निर्ख, भाव (रेट) - - -
दरखास्त (दरख्वास्त) स्त्रीलिंग - - - - आवेदन, प्रार्थना पत्र, अर्जी। - - - -
दरबान पुंलिंग - - - - फाटक पर रहने वाला चौकीदार। - - - -
दरवाज़ा पुंलिंग - - - - द्वार, कपाट, किवाड़। - - - -
दरार स्त्रीलिंग - - - - रेखा की तरह का लंबा छिद्र। - - - -
दरिद्र विशेषण, पुंलिंग - - - - निर्धन, कंगाल, गरीब। - - - -
दरी स्त्रीलिंग - - - - मोटे सूत का एक बिछावन। - - - -
दर्जन पुंलिंग - - - - बारह वस्तुओं की इकाई। - - - -
दर्जी पुंलिंग - - - - कपड़े सीने का काम करने वाला। - - - -
दर्पण पुंलिंग - - - - मुंह देखने का शीशा, आईना। - - - -
दर्शक पुंलिंग - - - - देखने वाला। - - - -
दल पुंलिंग पुंलिंग - - - फूल की पंखड़ी; गुट, टोला। - - -
दलना सकारात्मक क्रिया - - - - मोटा पीसना, दरदरा करना। - - - -
दलाल पुंलिंग - - - - सौदा आदि करवाने में मध्यस्थता करने वाला, बिचोलिया। - - - -
दवा स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - औषधि; इलाज, उपचार। - - -
दशक पुंलिंग - - - - दस वर्षों की अवधि। - - - -
दस्तकारी स्त्रीलिंग - - - - हाथ से किया गया कारीगरी का काम, हस्तशिल्प। - - - -
दहकना क्रिया - - - - इस प्रकार जलना कि लपटें निकलने लगें, धधकना। - - - -
दहाड़ स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - शेर की गरज; जोर की चिल्लाहट। - - -
दहाड़ना क्रिया क्रिया - - - शेर का गरजना; जोर से चिल्लाना। - - -
दहेज पुंलिंग - - - - विवाह के अवसर पर कन्या पक्ष की ओर दिया जाने वाला धन और सामान (डाउरी)। - - - -
दाई स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - उपमाता, धाय; प्रसूति के समय मदद करने वाली स्त्री (मिड वाइफ) - - -
दातुन स्त्रीलिंग - - - - नीम, बबूल आदि की नरम टहनी का टुकड़ा जो दांत साफ करने के काम आता है। - - - -
दान पुंलिंग पुंलिंग - - - देने की क्रिया; धर्म आदि की दृष्टि से किसी को कोई वस्तु देने की क्रिया, खैरात। - - -
दानव पुंलिंग - - - - राक्षस, असुर। - - - -
दानवीर पुंलिंग - - - - उदारतापूर्वक दान करने वाला। - - - -
दाना पुंलिंग पुंलिंग पुंलिंग - - अन्न या फल का कण या बीज; माला आदि का तिनका; छोटी गोल फुंसी। - -
दाना-पानी पुंलिंग - - - - अन्न-जल, खाना-पीना, जीविका। - - - -
दानेदार विशेषण - - - - जिसमें दाने या रवे हों। - - - -
दाम पुंलिंग - - - - कीमत, मूल्य। - - - -
दायां विशेषण - - - - दाहिना। - - - -
दारोगा (दरोगा) पुंलिंग पुंलिंग - - - निगरानी, देख-भाल या प्रबन्ध करने वाला अधिकारी; पुलिस का वह अधिकारी जिसके अधीन सिपाहियों की एक टुकड़ी और प्राय: एक थाना होता है। - - -
दावत स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - भोज; निमंत्रण। - - -
दावा पुंलिंग पुंलिंग पुंलिंग - - अधिकार, स्वत्व, हक; स्वत्व की रक्षा या अन्याय के प्रतिकार के लिए न्यायालय में दिया हुआ प्रार्थना-पत्र, नालिश; किसी बात की यथार्थता के विषय में अत्यधिक आत्मविश्वास, गर्वोक्ति। - -
दिखावटी विशेषण - - - - जो केवल देखने में अच्छा या सुंदर हो। - - - -
दिन पुंलिंग पुंलिंग - - - वह समय जिसका आरंभ सूर्योदय तथा अंत सूर्यास्त से होता है, दिवस; चौबीस घंटे की अवधि। - - -
दिनकर पुंलिंग - - - - सूर्य। - - - -
दिमाग पुंलिंग पुंलिंग - - - सिर के भीतर का गूदा या भेजा; सोचने-समझने की शक्ति, मस्तिष्क। - - -
दियासलाई स्त्रीलिंग - - - - एक सिरे पर गंधक आदि मसाले लगाकर बनाई हुई छोटी तीली जो रगड़ने पर जल उठती है। - - - -
दिल पुंलिंग - - - - हृदय। - - - -
दिलासा पुंलिंग - - - - क्षुब्ध या दुखित हृदय को दिया जानेवाला आश्वासन, तसल्ली, ढाढस। - - - -
दिवंगत विशेषण - - - - जो मर गया हो, परलोकवासी। - - - -
दिवाला पुंलिंग - - - - अर्थहीनता की वह स्थिति जिसमें कोई व्यक्ति अथवा संस्था अपना ऋण न चुका सके, सर्वथा अभाव की स्थिति (बैंकरप्टसी)। - - - -
दिवालिया विशेषण - - - - जिसका दिवाला निकल गया हो, जो सर्वथा अभाव की स्थिति में हो। - - - -
दिशा स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - क्षितिज मंडल के चार-पूर्व, पश्चिम, दक्षिण, उत्तर, मार्गों में से एक; ओर, तरफ। - - -
दीक्षा स्त्रीलिंग - - - - किसी पवित्र मंत्र की वह शिक्षा जो आचार्य या गुरु से विधिपूर्वक, शिष्य बनने अथवा किसी संप्रदाय में सम्मिलित होने के समय ली जाती है, गुरुमंत्र। - - - -
दीपक पुंलिंग - - - - दीया, चिराग। - - - -
दीया (दिया) पुंलिंग - - - - दीपक, चिराग। - - - -
दीर्घा स्त्रीलिंग - - - - आने जाने के लिए कोई लंबा और ऊपर से छाया हुआ मार्ग। - - - -
दीवार स्त्रीलिंग - - - - मिट्टी, ईंटों पत्थरों आदि की प्राय: लंबी, सीधी और ऊंची रचना जो कोई स्थान घेरने के लिए खड़ी की जाती है, भीत (वॉल)। - - - -
दु:ख पुंलिंग - - - - कष्ट, क्लेश, तकलीफ। - - - -
दुकान (दूकान) स्त्रीलिंग - - - - वह स्थान जहाँ बेचने की चीजें सजाकर रखी गई हों, सौदा खरीदने और बेचने की जगह (शॉप)। - - - -
दुकानदार (दूकानदार) पुंलिंग - - - - दुकान का स्वामी, दुकानवाला। - - - -
दुतकारना सकारात्मक क्रिया - - - - उपेक्षा या तिरस्कारपूर्वक हटाना, तिरस्कृत करना। - - - -
दुबला विशेषण - - - - दुर्बल, निर्बल, कमज़ोर, पतले बदन वाला। - - - -
दुभाषिया पुंलिंग - - - - दो भाषाएँ जानने वाला वह मध्यस्थ जो उन भाषाओं के बोलने वाले दो व्यक्तिओं की वार्ता के समय एक को दूसरे का अभिप्राय समझाए (इन्टरप्रेटर)। - - - -
दुरुपयोग पुंलिंग - - - - किसी चीज या बात का अनुचित ढंग या प्रकार से किया जाने वाला उपयोग। - - - -
दुर्गंध स्त्रीलिंग - - - - बुरी गंध, बद्बू। - - - -
दुर्ग पुंलिंग - - - - किला, गढ़, कोट। - - - -
दुर्घटना स्त्रीलिंग - - - - हानिकारक, अशुभ या क़्लेशकर घटना। - - - -
दुर्दशा स्त्रीलिंग - - - - हीनदशा, बुरी हालत, दुर्गति। - - - -
दुर्भिक्ष पुंलिंग - - - - अकाल, कहत (फमिन)। - - - -
दुर्लभ विशेषण - - - - जो कठिनाई से अथवा कम मात्रा में प्राप्त होता हो, दुष्प्राप्य। - - - -
दुलहन (दुलहिन) स्त्रीलिंग - - - - नई बहू, नव-विवाहिता। - - - -
दुलार पुंलिंग - - - - लाड-प्यार। - - - -
दुविधा स्त्रीलिंग - - - - ऐसी मन: स्थिति जिसमें दो या कई बातों में से किसी एक बात का निश्चय न हो रहा हो। - - - -
दुश्मन पुंलिंग - - - - शत्रु, बेरी। - - - -
दुष्ट विशेषण - - - - दूषित मनोवृत्ति वाला, दूसरों को परेशान करने वाला। - - - -
दुहना सकारात्मक क्रिया - - - - मादा जीवों के स्तनों से दूध निचोड़ना। - - - -
दूत पुंलिंग पुंलिंग - - - एक जगह से दूसरी जगह चिट्ठी-पत्री, संदेश आदि पहुँचाने के लिए नियुक्त व्यक्ति (मैसेंजर)। किसी राजा या राष्ट्र का वह प्रतिनिधि जो राजनितिक कार्य से अन्य राष्ट्र में भेजा गया हो या स्थायी रूप से रहता हो (ऐबैसेडर)। - - -
दूतावास पुंलिंग - - - - राजदूत के रहने का स्थान और उसका कार्यालय (ऐंबैसी)। - - - -
दूभर विशेषण - - - - कठिन, मुश्किल, असह्य। - - - -
दूर क्रिया विशेषण क्रिया विशेषण - - - देश-काल आदि की दृष्टि से अधिक अंतर पर, फासले पर; अलग, पृथक्। - - -
दूरदर्शन पुंलिंग - - - - टेलीविजन। - - - -
दूरबीन स्त्रीलिंग - - - - एक यंत्र जिसके द्वारा दूर की वस्तुएँ बड़ी और समीपस्थ दिखाई देती हैं (टेलिस्कोप)। - - - -
दूरभाष पुंलिंग - - - - एक यंत्र जिसकी सहायता से दूर बैठे हुए लोग आपस में बातचीत करते हैं (टेलीफोन)। - - - -
दूल्हा पुंलिंग - - - - वह व्यक्ति जिसका ब्याह होने को हो या कुछ ही दिनों पहले हुआ हो, वर, नवविवाहित। - - - -
दूसरा विशेषण विशेषण - - - जो गिनती में दो के स्थान पर हो, पहले के बाद का; प्रस्तुत से भिन्न, अन्य। - - -
दृढ़ विशेषण विशेषण विशेषण - - अविचलित; कड़ा, मजबूत; जिसमें कोई हेर-फेर न हो सके, पक्का, निश्चित। - -
दृश्य पुंलिंग पुंलिंग - - - जो देखने में आ सके या दिखाई दे सके, जिसे देख सकते हों, चाक्षुप (विजुअल); नज़ारा, तमाशा। - - -
देखना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - - नेत्रों द्वारा किसी का ज्ञान प्राप्त करना; निगरानी करना या रखना। - - -
देख-रेख स्त्रीलिंग - - - - निगरानी। - - - -
देनदार विशेषण - - - - कर्जदार, ऋणी। - - - -
देना सकारात्मक क्रिया - - - - प्रदान करना। - - - -
देर स्त्रीलिंग - - - - विलंब। - - - -
देवता पुंलिंग पुंलिंग - - - दिव्य शक्ति संपन्न सत्ता; देव प्रतिमा। - - -
देवी स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - दुर्गा, सरस्वती, पार्वती आदि स्त्री-देवता; देवता की पत्नी। - - -
देश पुंलिंग पुंलिंग - - - जगह, स्थान, क्षेत्र, प्रदेश; कोई विशिष्ट भू-भाग या खंड (कन्ट्री) - - -
देशद्रोही पुंलिंग - - - - षड्यंत्र रचकर अपने देश (वतन) को हानि पहुँचाने वाला, देश से विश्वासघात करने वाला। - - - -
देशवासी पुंलिंग - - - - देश में रहने-बसने वाला। - - - -
देहांत पुंलिंग - - - - मृत्यु, मौत। - - - -
देहात पुंलिंग - - - - गांव, ग्राम। - - - -
दैनंदिनी स्त्रीलिंग - - - - डायरी। - - - -
दैनिकी स्त्रीलिंग - - - - जेब में रखी जाने वाली वह छोटी पुस्तिका जिसमें रोज़ के किए जानेवाले कामों का उल्लेख होता है, दैनंदिनी, डायरी। - - - -
दोपहर पुंलिंग - - - - दिन के बारह बजे और उसके आसपास का समय, मध्याह्न। - - - -
दोहराना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - - कोई काम या बात फिर से उसी प्रकार करना या कहना, पुनरावृति करना; किए हुए काम को फिर से आदि से अंत तक इस दृष्टि से देखना कि उसमें कहीं कोई भूल तो नही रह गई, पुनरीक्षण। - - -
दौड़-धूप स्त्रीलिंग - - - - ऐसा प्रयत्न जिसमें अनेक स्थानों पर बार-बार आना-जाना तथा अनेक आदमियों से मिलना और उनसे अनुनय-विनय करना पड़े। - - - -
दौड़ना अकारात्मक क्रिया - - - - अति वेग से चलना, इतनी तेज़ी से चलना कि पांव पृथ्वी पर पूरा न पड़े। - - - -
दौलत स्त्रीलिंग - - - - धन, सम्पत्ति, अधिकृत सभी वस्तुएँ जिनका आर्थिक मूल्य हो। - - - -
द्योतक विशेषण विशेषण - - - किसी चीज को प्रकाश में लाने वाला; प्रकट करने वाला। - - -
द्रोही विशेषण - - - - किसी के विरुद्ध षडयंत्र रचनेवाला, विश्वासघाती। - - - -
द्वंद्व पुंलिंग पुंलिंग - - - जोड़ा, युग्गल; दो व्यक्तियों का परस्पर युद्ध। - - -
द्वार पुंलिंग - - - - मकान, कमरे आदि की दीवार में बनाया हुआ भीतर बाहर आने-जाने का विशेष प्रकार का दरवाजा। - - - -
द्वीप पुंलिंग - - - - चारों ओर समुद्र से घिरा हुआ भू-भाग, जल के बीच का स्थल, टापू। - - - -
द्वेष पुंलिंग - - - - चित्त का वह भाव जो अप्रिय वस्तु या व्यक्ति का नाश करने की प्रेरणा करता है, वैमनस्य, शत्रुता, वैर। - - - -
धंधा पुंलिंग पुंलिंग पुंलिंग - - वह उद्योग या कार्य जो जीविका निर्वाह के लिए किया जाए; व्यवसाय, व्यापार; कोई भी काम। - -
धकेलना सकारात्मक क्रिया - - - - धक्का देना, ढकेलना, आगे बढ़ाना। - - - -
धड़ पुंलिंग पुंलिंग - - - शरीर का वह बीच-वाला भाग जिसमें छाती, पीठ और पेट है; तना। - - -
धड़कन स्त्रीलिंग - - - - हृदय का तीव्र और स्पष्ट स्पंदन। - - - -
धधकना सकारात्मक क्रिया - - - - आग का दहकना, भड़कना। - - - -
धन पुंलिंग पुंलिंग - - - सम्पत्ति, दौलत; पूंजी - - -
धनवान् विशेषण - - - - जिसके पास बहुत धन हो, धनी, दौलतमद। - - - -
धनाढ्य विशेषण - - - - बहुत बड़ा धनी, धनवान्। - - - -
धनुष पुंलिंग - - - - कमान। - - - -
धन्यवाद पुंलिंग - - - - किसी उपकार या अनुग्रह के बदले में कहा जानेवाला कृतज्ञतासूचक शब्द, शुक्रिया, (थैंक्स)। - - - -
धरती स्त्रीलिंग - - - - पृथ्वी, जमीन, भूमि। - - - -
धरना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया पुंलिंग - - किसी स्थान पर किसी चीज को रखना; बंधक रखना। कोई काम कराने के लिए अड़कर बैठ जाना और जब तक काम न हो जाए वहां से न हटना। - -
धर्म पुंलिंग पुंलिंग - - - समाज में किसी जाति, कुल, वर्ग आदि के लिए उचित ठहराया हुआ व्यवसाय, कर्त्तव्य; मज़हब (रिलिजन)। - - -
धर्मशाला स्त्रीलिंग - - - - परोपकार की दृष्टि से बनाया गया वह भवन जिसमें यात्री बिना कुछ शुल्क दिए कुछ समय तक रह सकते हैं। - - - -
धर्मात्मा विशेषण, पुंलिंग विशेषण, पुंलिंग - - - धार्मिक आचरण करने वाला; साधु-संत। - - -
धवल विशेषण विशेषण - - - उजला, सफेद; निर्मल। - - -
धांधली - - - - - अव्यवस्था, दुर्व्यवस्था, गड़बड़; निरंकुशता, स्वेच्छाचारिता। - - -
धागा पुंलिंग - - - - बटा हुआ महीन सूत जो प्राय: सीने-पिरोने के काम आता है, डोरा (थ्रेड)। - - - -
धातु स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - कुछ विशिष्ट प्रकार के खनिज पदार्थ; (संस्कृत व्याकरण में) क्रिया का मूल रूप। - - -
धार स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - पानी आदि के गिरने या बहने का तार, धारा, अखंड प्रवाह; किसी काटने वाले हथियार का वह तेज सिरा या किनारा जिससे कोई चीज काटते हैं। - - -
धारणा स्त्रीलिंग - - - - व्यक्तिगत विचार या विश्वास। - - - -
धारा स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - धारा, अखंड प्रवाह; किसी नियम, नियमावली, विधान आदि का वह स्वतंत्र अंश जिसमें किसी एक विषय से संबंध रखने वाली सब बातों का एक अनुच्छेद में उल्लेख होता है, दफा (सैक्शन); निरंतर चलनेवाला क्रम। - -
धारावाही विशेषण विशेषण - - - अविच्छिन्न क्रम या गतिवाला; जो क्रमश: खंडो के रूप में बराबर कई अंशों अथवा अंकों में प्रकाशित होता रहे। - - -
धिक्कार पुंलिंग - - - - भर्त्सना, लानत। - - - -
धीमा विशेषण विशेषण - - - कम वेगवाला, मंद; निस्तेज, तीव्रता या प्रचंडता से रहित (प्रकाश आदि)। - - -
धीर विशेषण विशेषण - - - जो शांत स्वभाववाला हो, अविचल; दृढ़, अटल, दृढ़-प्रतिज्ञ। - - -
धीरे क्रिया विशेषण क्रिया विशेषण - - - धीमी या मंद गति से, आहिस्ता; नीचे या हल्के स्वर में। - - -
धुंधला विशेषण विशेषण विशेषण - - धुंध से भरा हुआ; धुएँ की तरह का, कुछ-कुछ काला; मंद, फीका। - -
धुआं पुंलिंग - - - - जलती हुई चीजों से निकलने वाला वायवीय पदार्थ जो कुछ कालापन लिए होता है (स्मोक)। - - - -
धुन स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - प्रबल इच्छा, मन की तरंग; सनक, झक; गाने या बजाने का विशिष्ट ढंग (ट्यून)। - -
धुनना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - - धुनकी से रूई साफ करना ताकि उसके बिनौले अलग हो जाएं; खूब मारना-पीटना। - - -
धुरंधर विशेषण - - - - किसी विषय में औरों से बहुत बढ़ा-चढ़ा, प्रवीण। - - - -
धुरी स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - - लकड़ी या लोहे का वह छड़ या डंडा जो पहियों की गरारी के बीचोबीच रहता है और जिसके सहारे पहिया चारों ओर घूमता है, अक्ष; मूल आधार। - - -
धूम-धाम स्त्रीलिंग - - - - उत्साह तथा उल्लास से युक्त होनेवाला ऐसा आयोजन जिसमें खूब चहल-पहल और ठाठ-बाट हो। - - - -
धूम्र-पान पुंलिंग - - - - तम्बाकू, बीड़ी, सिगरेट आदि पीना। - - - -
धृष्टता स्त्रीलिंग - - - - ढिठाई, दुस्साहस। - - - -
धैर्य पुंलिंग - - - - अनुद्विग्नता, अविकलता, धीरज, सब्र। - - - -
धोखा पुंलिंग पुंलिंग - - - छल, कपट; भ्रम, भ्रांति। - - -
धोना सकारात्मक क्रिया सकारात्मक क्रिया - - - जल या किसी तरल पदार्थ के प्रयोग से साफ करना; दूर करना, मिटाना। - - -
धोंकना सकारात्मक क्रिया - - - - आग दहकाने के लिए धोंकनी, पंखे आदि की सहायता से जोर की हवा करना। - - - -
ध्यान पुंलिंग पुंलिंग पुंलिंग - - अंत:करण में उपस्थित करने की क्रिया या भाव, मनोयोग, अवधान; सोच-विचार, मनन; चित्त या मन को पूरी तरह एकाग्र और स्थिर करने की क्रिया या भाव। - -
ध्येय पुंलिंग - - - - उद्देश्य - - - -
ध्रुव विशेषण विशेषण पुंलिंग पुंलिंग - अचल, अटल, दृढ़, पक्का। स्थायी, नित्य, शाश्वत। पृत्वी के दोनों नुकीले सिरे (भूगोल); एक प्रसिद्ध तारा जो सदा उत्तरी ध्रुव के ठीक ऊपर रहता है। -
ध्वज पुंलिंग पुंलिंग - - - झंडा, पताका; चिह्न, प्रतीक। - - -
ध्वजारोहण पुंलिंग - - - - झंडा फहराने की क्रिया। - - - -
ध्वनि स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग स्त्रीलिंग - - आवाज़, शब्द; बाजे आदि बजने से उत्पन्न होने वाला शब्द; (काव्य में), व्यंग्य, व्यंग्यार्थ। - -