विवहार

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

विवहार पु संज्ञा पुं॰ [सं॰व्यवहार] दे॰ 'व्यवहार' । उ॰—(क) विवहार धरै वरनं सु बरं । पढ़ि पिंगल बाहन केन हरे ।— पृ॰ रा॰,२५ ।२०७ ।(ख) विवहार विवुध जोतिग गिनत सलष सुष्ष जात न कहिय । —पृ॰ रा॰,१४ ।२४ ।