विसमाद

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

विसमाद पु † संज्ञा पुं॰ [सं॰ विस्मय + ता]

१. संशय । शंका ।

२. दुःख । वेदना । उ॰—कड़िहारी और गृही कौ, कोई ना जाने अंत । बिन परचै बिसमाद है, हरषत परचै संत ।—कबीर सा॰, पृ॰ ९५ ।