सँभलना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सँभलना क्रि॰ अ॰ [हिं॰ सँभालना]

१. किसी बोझ आदि का ऊपर लदा रह सकना । पकड़ में रहना । थामा जा सकना । जैसे,— यह वोझ तुमसे नहीं सँभलेगा ।

२. किसी सहारे पर रुका रह सकना । आधार पर ठहरा रहना । जैसे,—इस खंभे पर यह पत्थर नहीं सँभलेगा ।

३. होशियार होना । सचेत होना । सावधान होना । जैसे,—इन ठगों के बीच सँभल कर रहना ।

४. चोट या हानि से बचाव करना । गिरने पड़ने से रुकना । जैसे,—वह गिरते गिरते सँभल गया ।

५. बुरी दशा को फिर सुधार लेना । जैसे,—इस रोजगार में इतना घाटा उठाओगे कि सँभलना कठिन होगा ।

६. कार्य का भार उठाया जाना । निर्वाह संभव होना । जैसे,—हमसे इतना खर्च नहीं सँभलेगा ।

७. स्वस्थता प्राप्त करना । आरोग्य लाभ करना । चंगा होना । जैसे,—बीमारी तो बहुत कड़ी पाई, पर अब सँभल रहे हैं ।