संक्रांत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

संक्रांत ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ सङ्कांत]

१. दायभाग के अनुसार वह धन जो कई पीढियों से चला आया हो ।

२. सूर्य का एक राशि से दूसरी राशि में जाना । विशेष दे॰ 'संक्रांति' ।

३. वह संपत्ति जो पति द्वारा स्त्री को प्राप्त हो । पति से प्राप्त स्त्री की संपत्ति (को॰) ।

संक्रांत ^२ वि॰

१. मिला हुआ । प्राप्त ।

२. बिता हुआ । गत ।

३. प्रविष्ट (को॰) ।

४. स्थानांतरित । न्यस्त (को॰) ।

५. ग्रस्त । गृहीत (को॰) ।

६. प्रतिफलित । पिरतिविंबित (को॰) ।

७. चित्रित (को॰) ।

८. संक्रांतियुक्त (को॰) ।