संगत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

संगत ^१ वि॰ [सं॰ सड़गत]

१. मिला या जुड़ा हुआ । संयुक्त ।

२. एकत्र किया हुआ । एक में मिलाया हुआ ।

३. शादि- शुदा । विवाहित ।

४. मैथुन संबंध में संसक्त । संभोग में लगा हुआ ।

५. समुचित । युक्तियुक्त । उपयुक्त । ठीक ।

६. कुंचित । सिकुड़ा हुआ [को॰] । यौ॰—संगतगात्र = संकुचित शरीरवाला ।

संगत ^२ संज्ञा पुं॰

१. मिलन ।

२. साथ । साहचर्य ।

३. मित्रता । दोस्ती । अंतरंगता ।

४. सामंजस्यपूर्ण या उपयुक्त वाणी । युक्तियुक्त टिप्पणी [को॰] ।

संगत ^३ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ सङ्गति]

१. संग रहने या होने का भाव । साथ रहना । सोहबत । संगति ।

२. संग रहनेवाला । साथी ।

३. वेश्याओं या भाँड़ों आदि के साथ रहकर सारंगी, तबला, मँजीरा आदि बजाने का काम । क्रि॰ प्र॰—बजाना ।—में रहना । मुहा॰—संगत करना = गानेवाले के साथ साथ ठीक तरह से तबला, सारंगी, सितार आदि का बजाना ।

४. वह जो इस प्रकार किसी गाने या नाचनेवाले के साथ रहकर साज बजाता हो ।

५. वह मठ जहाँ उदासी या निर्मले आदि साधु रहते हैं ।

६. संबंध । संसर्ग ।

७. प्रसंग । मैथुन ।

८. दे॰ 'संगति' ।