सत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सत ^१ वि॰ [हिं॰] दे॰ 'सत्' ।

सत ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ सत्] सत्यतापूर्ण धर्म । मुहा॰—सत पर चढ़ना = पति के मृत शरीर के साथ सती होना । सत पर रहना = पतिव्रता रहना । सती रहना ।

सत ^३ वि॰ [सं॰ शत] दे॰ 'शत' ।

सत ^४ संज्ञा पुं॰ [सं॰ सत्व]

१. किसी पदार्थ का मूल तत्व । सार भाग । जैसे,—मुलेठी का सत ।

२. जीवनी शक्ति । ताकत । जैसे,— चार दिन के बुखार में शरीक का सारा सत निकल गया ।

सत ^५ वि॰ [सं॰ सप्त]

१. 'सात' (संख्या) का संक्षिप्त रूप जिसका व्यवहार यौगिक शब्द बनाने में होता है । जैसे,—सतमंजिला ।