समीर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

संज्ञा

हवा

उदाहरण

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

समीर संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वायु । हवा ।

२. वायु देवता (को॰) ।

३. शमी वृक्ष ।

४. प्राणवायु जिसे योगी वश में रखते हैं । उ॰—कछु न साधन सिधि जानौं न निगम विधि नहिं जप तप बस न समीर ।—तुलसी (शब्द॰) ।

समीर पु ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ समीर] समीर । पवन । (डिं॰) । उ॰— चरस करत लिषमण चमर, अरस अगर, सामीर । इस सिय जुत जन मंछ उर, बसो सदा रघुबीर ।—रघु॰ रू॰, पृ॰ १ ।

समीर ^२ वि॰ दे॰ 'सामीर्य' ।