सलाई

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सलाई ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ शलाका]

१. धातु की बनी हुई कोई पतली छोटी छड़ । जैसे, — सुरमा लगाने की सलाई । घाव में दवा भरने की सलाई । मोजा या गुलूबंद बुनने की लसाई । मुहा॰— सलाई फेरना = (१) आँखों में सुरमा या औषध लगाना । (२) सलाई गरम करके अंधा करने के लिये आँखों में लगाना । आँखे फोड़ना ।

२. दियासलाई । माचिस ।

सलाई ^२ संज्ञा स्त्री॰ [हि॰ सालना]

१. सालने की क्रिया या भाव ।

२. सालने की मजदूरी ।

सलाई ^१ संज्ञा स्त्री ॰[सं॰ शल्लकी]

१. सलई । शल्लकी ।

२. चीड़ की लकड़ी ।

सलाई † संज्ञा [हि॰] दे॰ 'सलई' ।