सारण

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सारण ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. एक प्रकार का गंध द्रव्य ।

२. आम्रातक वृक्ष । अमड़ा ।

३. अतिसार । दस्त की बीमारी ।

४. भद्रबला ।

५. पारा आदि रसों का संस्कार । दोषशुद्धि ।

६. रावण के एक मंत्री का नाम जो रामचंद्र की सेना में उनका भेद लेने गया था ।

७. आँवला ।

८. गंधप्रसारिणी ।

९. नवनीत । मक्खन ।

१०. गंध । महक ।

११. घर की ओर ले चलना [को॰] ।

१२. शरद् ऋतु की वायु (को॰) ।

१३. तक्र । मट्ठा (को॰) ।

सारण ^२ वि॰

१. रेचक । प्रिवाहित करने या बहानेवाला ।

२. चिटका हुआ । फटा हुआ ।

३. जिसके सिर पर बालों के पाँच गुच्छे हों [को॰] ।