सिरा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

सिरा ^१ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ सिर]

१. लंबाई का अंत । लंबाई के दो छोरों में से कोई एक । छोर । टोंक । जैसे,—एक सिरे से दूसरे सिरे तक ।

२. ऊपर का भाग । शीर्ष भाग ।

३. अंतिम भाग । आखिरी हिस्सा ।

४. आरंभ का भाग । शुरू का हिस्सा । जैसे,—(क) सिरे से कहो, मैने सुना नहीं । (ख) अब वह काम नए सिरे से करना पड़ेगा । (ग) सिरे से आखीर तक ।

५. नोक । अनी ।

६. अग्रभाग । अगला हिस्सा । मुहा॰—सिरे का = अव्वल दरजे का । पल्ले सिरे का । सिरे का रंग = सबसे प्रधान रंग । जेठा रंग । (रँगरेज) ।

सिरा ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. रक्तनाड़ी ।

२. सिँचाई की नाली ।

३. खेत की सिँचाई ।

४. पानी की पतली धारा ।

५. गगरा । कलसा । डोल ।