सूक्ष्म

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

संज्ञा

  1. इतना छोटा कि मनुष्य की आँख नहीं देख सकती। इसे देखने हेतु सूक्ष्मदर्शी का उपयोग किया जाता है।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

सूक्ष्म ^१ वि॰ [सं॰] [वि॰ स्त्री॰ सूक्ष्मा]

१. बहुत छोटा । जैसे,—सूक्ष्म- जंतु ।

२. बहुत बारीक या महीन । जैसे,—सूक्ष्म बात ।

३. उत्तम । श्रेष्ठ । कलात्मक । उम्दा (को॰) ।

४. तेज । चोखा (को॰) ।

५. ठीक । सही (को॰) ।

६. कोमल । मृदु (को॰) ।

७. धूर्च । चालाक ।

सूक्ष्म ^२ संज्ञा पुं॰

१. परमाणु । अणु ।

२. परब्रह्म ।

३. लिंगशरीर ।

४. शिव का एक नाम ।

५. एक दानव का नाम ।

६. एक काव्यालंकार जिसमें चित्तवृत्ति को सूक्ष्म चेष्टा से लक्षित कराने का वर्णन होता है ।दे॰'सूक्ष्म' ।

७. निर्मली ।

८. जीरा । जीरक ।

९. छल । कपट ।

१०. रीठा । अरिष्टक ।

११. सुपारी । पूग ।

१२. वह ओषधि जो रोमकूप के मार्ग से शरीर में प्रविष्ट करे । जैसे —नीम, शहद, रेंडी का तेल, सेंधा नमक, आदि ।

१३. बृहत्संहिता के अनुसार एक देश का नाम ।

१४. जैनियों के अनुसार एक प्रकार का कर्म जिसके उदय से मनुष्य सूक्ष्म जीवों की योनि में जन्म लेता है ।

१५. योग की तीन शक्तियों में से एक (को॰) ।

१६. दाँत का खोखला या खोढ़र (को॰) ।

१७. सूक्ष्म होने का भाव । सूक्ष्मता (को॰) ।

१८. बारीक, महीन या उत्तम डोरा (को॰) ।