है

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

है ।

४. अक्षरों और मात्राओं के क्रमानुसार तैयार की हुई शब्द, ग्रंथ, नाम या विषय आदि की सूची ।

है और जिसके पहनने के अधिकारी ईसाई धर्म के आचार्य, ग्रैजुएट, बड़े न्यायाधीश अथवा कुछ अन्य विशिष्ट लोग ही समझे जाता हैं ।

है ^१ अव्य॰

१. एक आश्चर्यसूचक शब्द । जैसे,—हैं ! यह क्या हुआ ?

२. एक निषेध या असहमतिसूचक शब्द । जैसे,—हैं ! यह क्या करते हो ? यौ॰—हैं हैं ।

है पु ‡ ^१ क्रि॰ अ॰ हिं॰ क्रि॰ 'होना' का वर्तमानकालिक एकवचन रूप ।

है पु ‡ ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ हय]दे॰ 'हय' । उ॰—दिष्ष फौज सुरतान की बंधव मोकलि भट्ट । तुम उप्पर गोरी सुबर है गै सज्जे थट्ट ।—पृ॰ रा॰, ५८ ।१९६ । यौ॰—हैवर । हैकल । हैगल ।

है है अव्य॰ [हा हा] शोक, खेद या दुःखसूचक शब्द । हाय । अफसोस । हा हंत ।