विक्षनरी:बघेली-हिन्दी शब्दकोश

विक्षनरी से
(बघेली-हिन्दी शब्दकोश से पुनर्निर्देशित)
Jump to navigation Jump to search

संकेत

  • संज्ञा—(सं.)
  • सर्वनाम—(सर्व.)
  • क्रिया—(क्रि.)
  • विशेषण—(वि.)
  • अव्यय—(अव्य.)
  • क्रिया विशेषण—(क्रि.वि.)
  • योजक—(यो.)
  • सहायक क्रिया—(स.क्रि.)
  • पुलिंग—(पुं.)
  • स्त्रीलिंग—(स्त्री.)
  • बघेली मुहावरा—(ब.मु.)

  1. अइसन—(अव्य) इस प्रकार, इस प्रकार से, इस प्रकार का, ऐसा।
  2. अइसा—(अव्य) ऐसा, इस प्रकार ।
  3. अइसै—(अव्य) यों ही, ऐसे ही, बिना उद्देष्य विषेष के।
  4. अइँचड़—(विषे.) दबंग, शक्ति सम्पन्न, जोरदार, समर्थवान।
  5. अइँडाब—(क्रिया) अकारण अकड़ना, लड़ने-झगड़े को उद्धृत होना, शरीर तोड़ना।
  6. अइढ़ब—(क्रि.वि.) इधर कहने पर उधर जाना, टाल-मटोल कर चमकते हुए चल देना।
  7. अइना—(संज्ञा) आयना, दर्पण, शीषा।
  8. अइहेय—(क्रि.भवि.) आओगे, क्या आयेंगें।
  9. अइहैं—(क्रिया) आयेंगे। फिर आयेंगे ?
  10. अइहौं—(क्रि.भवि.)आऊँगा, आऊँगी।
  11. अइहीं—(क्रि.भवि.) आयेंगी, आयेगा, सुनिष्चिता बोधक।
  12. अइठब—(क्रि.वि.) झटका मारकर लूटना, धोका देकर ले लेना।
  13. अइँठी—(सं.स्त्री.) एक प्रकार की घुमावदार स्प्रिंग की तरह की वनस्पति।
  14. अइर—(क्रिया) फसल कटने पर पषुओं का स्वतंत्र विचरण, स्वच्छन्द।
  15. अइरहा—(सं.पु.) आवारा पषु, ऐसा पषु जिसके मालिक का पता न हो।
  16. अइलाब—(क्रिया) कुम्हला जाना, मुरझाना।
  17. अइलान—(विषे.) कुम्हलाई हुई, कुछ सूखा हुआ।
  18. अइली—(सं.सी) एक वनौषधि पौध।
  19. अइन-अइन—(विषे.) अच्छा - अच्छा, सुन्दर-सुन्दर, पुष्ट - पुष्ट, उपयोगी - उपयोगी।
  20. अई—(क्रिया) आयेगा, आइए, आगमन हो, अईराम की जयी लगोदा, बघेली मुहावरा।
  21. अइसनै—(अव्य.) ऐसे ही, यों ही, बिना प्रयोजन, सहजतः, ऐसा ही।
  22. अइरी-गइरी—(अव्य) टाल-मटोल, आना- कानी, बहानेबाजी।
  23. अइरा-गइरा—(अव्य) ऐसा-वैसा, अस्तित्व विहीन, बघेली मुहावरा।
  24. अइसा-ओइसा- अइसा-ओइसा—(अव्य) ऐसा-वैसा, गया- गुजरा, यों-त्यों।
  25. अइहू—(क्रि.भवि.) आओगी, आओगी तो, क्या आओगी ?
  26. अइँचब—(क्रिया) निकाल लेना, खींचना, अपनी ओर कर लेना।
  27. अइरौ-मइरौ—(अव्य.) यों ही, अकारण, बिना उद्देष्य के, ऐसे ही!
  28. अउचट—(विषे.) जोरदार, बहुत तेज, आवष्यकता से ज्यादा।
  29. अउ—(अव्य) और, और कुछ।
  30. अउरब—(क्रिया) कार्य के लिए विवेक, जागृत होना, त्वरित उपाय सूझना।
  31. अउर—(अव्य) और, और अधिक, अन्य या अलग।
  32. अउसर—(सं.पु.) उत्सव, मांगलिक कार्य, आयोजन।
  33. अउसरहा—(विषे.) जिस घर में उत्सव हो रहा हो, कार्यक्रम वाला घर।
  34. अउसेर—(सं.पु.) विलम्ब, समय बीत जाना, समय सीमा निकल जाना।
  35. अउँजब—(क्रिया) घड़ा झुकाकर पात्र में पानी गिराना।
  36. अउँछाब—(क्रिया) निद्रा आना, सोने की स्थिति बनना, आँखों का अलसाना।
  37. अउँखब—(क्रिया) बिना गाँठ लगाये खूटें में रस्सी बाँधना, सरफंदी लगाकर बाँधना।
  38. अउझड़ी—(विषे.) मूडी व्यक्ति, झक्की किस्म का, जो सुर आये वही करने वाला।
  39. अउटब—(क्रिया) ओटना, मर्दन करना, तरल को पकाकर गाढ़ा करना।
  40. अउटबाई—(क्रिया) औटने के बदले प्राप्त लाभांष, पारिश्रमिक या परितोषिक।
  41. अउटबाउब—(क्रिया) औटवाना, औटने में सहयोग करना।
  42. अउरेब—(विषे.) कमी, कमजोरी, दुर्गुण, कमियाँ।
  43. अउँघहटा—(विषे.) सोते हुए, अर्द्ध निद्रा में ग्रसित व्यक्ति।
  44. अउलट—(विषे.) आँखों से दूर, अदृष्य, आँख के ओट में।
  45. अउना—(सं.पु.) मिट्टी के पात्र या बखार में रखा गया निचला क्षिद्र।
  46. अउनब—(क्रिया) कपड़े से बन्द बखार के क्षिद्र को खोलना।
  47. अउँध—(विषे.) जमीन पर रखी अधोमुख वस्तु, मुँह के बल।
  48. अउँधाउब—(क्रि.वि.) जमीन पर वस्तु को मुख के बल रखना।
  49. अउरी—(सं.पु.) समय निकल जाना, अवधि बीत जाना, मौक चूक जाना।
  50. अउचड़—(विषे.) बहुत तेज, आवष्यकता से अधिक, जोरदार।
  51. अउँठा—(सं.पु.) हाथ या पैर का अँगूठा, स्त्री.लिंग ‘अउँठी’।
  52. अउटा—(सं.पु.) दीवाल से सटा ऊँचा अमठ, आँगन के समानान्तर का दीवाल से जुड़ा अमठ।
  53. अउटी—(सं.स्त्री.) दूध हल्दी गुड़ से पका हुआ काढ़ा, सर्दी की औषधि।
  54. अउन-पउन—(क्रिया) जुगाड़ बनाना, इधर का उधर करना, आपस में भिड़ा देना, कानाफूसी करना।
  55. अउब—(क्रि.भवि.) आउँगा, आउँगी।
  56. अउबै—(क्रि.भवि.) आयेंगे ? आओगे ?
  57. अउबैकरब—(क्रिया) आऊँगा ही, आऊँंगी ही, निष्चय बोधक।
  58. अउतै रहेन—(क्रिया) आता ही था, आ ही रहा था।
  59. अउतै हैन—(क्रिया) आता ही हूँ, आती ही हूँ।
  60. अउँखा—(सं.पु.) कामर का एक पहलू, कामर का एक हिस्सा।
  61. अउतै रहिगें—(क्रिया) आते ही रह गये, आते ही रहे, आना लगा ही रहा।
  62. अउतै रहिगै—(क्रिया) आती ही रही, आती ही रह गयी, आना लगा ही रहा।
  63. अउतै आवत—(अव्य) आते ही आते, जैसे ही आये वैसे ही।
  64. अउता—(अव्य) और तो, नहीं तो
  65. अऊ—(विषे.) और अधिक, कुछ और मात्रा और आगे।
  66. अकरास—(सं.पु.) आहार से अधिक खा लेने पर उत्पन्न बेचैनी, कष्ट, तकलीफ, खहाल।
  67. अकरासब—(क्रिया) बेचैनी होना, तकलीफ होना, कष्ट होना, खल जाना।
  68. अकबकाबा—(क्रिया) अटपटा लगना, बेचैनी होना, प्राण छटपटाना, घबड़ाना।
  69. अकारथ—(विषे.) जो किसी काम लायक न हो, जो अनुपयोगी हो, व्यर्थ की वस्तु।
  70. अकना—(सं.पु.) दाने रहित मक्के के बीच का डंठल।
  71. अकताब—(क्रिया) कार्य के लिए आतुर होना, जल्दी बाजी मचाना, कार्य के लिए छटपटाना।
  72. अकताई—(विषे.) आतुरता, तत्परता, चौकन्ना, छटपटाहट।
  73. अँकड़ी—(सं.स्त्री.) गेहूँ चना की फसल के साथ उगने वाली एक घास विषेष।
  74. अँकड़ा—(सं.पु.) बन्दरों के समूह का मुखिया।
  75. अँकुरब—(क्रिया) अंकुरित होना, प्रस्फुटित होना, ऊपर उगना।
  76. अकहुर—(विषे.) दोनों पहलुओं का असमान वजन, छोटा-बड़ा की स्थिति।
  77. अकहुरब—(क्रि.वि.) कामर का भार कम अधिक के कारण इधर-उधर झुकना।
  78. अकबकाई—(विषे.) बेचैनी की अनुभूति, घबड़ाहट लगना, व्याकुलता, छटपटाहट।
  79. अकनइया—(सं.स्त्री.) मक्का के फल का दाना रहित डंठल।
  80. अकबार—(स.पु.) दोवाह के बीच की जगह, अकबार लेना व. मु.।
  81. अक्तिआर—(सं.पु.) अधिकार या साहस, हिम्मत और दायित्व।
  82. अकोर—(सं.पु.) घूँस, लाँच, अनुचित साधन से कमाया गया धन।
  83. अकोरी—(विषे.) लोभी-लालची, घूँस लेने की प्रवृत्ति वाला, बिना लिये कार्य न करने वाला।
  84. अखम्भ—(विषे.) बहुत मेहनती, जो थके नहीं, खंभे की भाँति खड़ा रहने वाला।
  85. अखइनी—(सं.स्त्री.) बाँस की हुकदार कृषि कार्य की लकड़ी।
  86. अखरब—(क्रिया) खल जाना या खलना, हृदय में घाव हो जाना।
  87. अखुँआ—(सं.पु.) बाँस या गन्ना के तना की गाँठ से स्त्री.लिंग ‘अंखिया’। पौधे में अंकुरित आँख।
  88. अखरा—(सं.पु.) अक्षर, आवाज, वाणी, बोल।
  89. अँखमुंद—(क्रि.वि.) आँख मींचकर, सिर नीचे किये हुए, आँख मुदी गति।
  90. अखइबर—(विषे.) जो कभी न मरे, जो कभी न हटे, अजर-अमर, अखइबर होना, बघेली मुहावरा।
  91. अगता—(विषे.) आगे से, समय से पहले, पूर्व से ही।
  92. अगउढ़ी—(विषे.) कार्य के पूर्व लिया गया अग्रिम अनाज, अनुबंध अग्रिम।
  93. अगुयै—(विषे.) पहले ही, आगे से ही, समय से पूर्व ही।
  94. अगॉकर—(सं.स्त्री.) आग के मन्द आँच से पकाई गई रोटी।
  95. अगाध—(सं.पु.) उलाहना, गाली, दोषारोपण।
  96. अगहर—(विषे.) अग्र सोची, आगे से, समय रहते, समय से पूर्व।
  97. अगरासन—(विषे.) भोजन करने से पहले निकाला गया अंष, अग्र-राषन।
  98. अगिया बइताल—(सं.पु.) बात-बात पर आग उगलने वाला, लड़ाकू एवं झगड़ालू प्रवृत्ति वाला, ब.मु.।
  99. अगिया कोइलिया—(विषे.) आगी की लपट की तरह लड़ने वाली, अति जहरीली, बघेली मुहावरा।
  100. अगिलब—(क्रिया) आगे की ओर चलना, चलकर आगे ले जाना।
  101. अगोछब—(क्रिया) जाते हुए को दौड़कर आगे से रोकना, पहले से रास्ता अवरूद्ध करना, आगे होकर रोक देना।
  102. अँगुरी—(क्रि.सं.स्त्री..) उँगुली, अंगुल।
  103. अगुँरिआउब—(क्रिया) उँगुली से संकेत करना, इषारा करना।
  104. अगरिया—(सं.पु.) आदिवासी की एक प्रजाति, लोहे का औजार बनाने वाली जाति।
  105. अगउॅछी—(सं.स्त्री.) बड़ी साफी, दो मीटर लम्बी रूमाल, तौलिया, टावल, पुलिंग ‘अंगउछा’।
  106. अगीठी—(सं.स्त्री.) आग जलाने हेतु निर्मित मिट्टी की थाल विषेष।
  107. अँगरा—(सं.पु.) आग का अंगार, आग के टुकड़े, स्त्री.लिंग ‘अँगरिया’।
  108. अगड़ान—(विषे.) दूध दुहने योग्य अकड़े हुए थन, दूध उतरा हुआ थन।
  109. अगड़ाउब—(क्रिया) दुधारू पषुओं के थन या बाल को दुहने लायक बनाना।
  110. अगहनी—(विषे.) अगहन या रवी की ऋतु, अगहन की फसलें।
  111. अगधर—(विषे.) पहले या आगे से ही, निर्धारित समय से पूर्व।
  112. अगोछा—(क्रिया) भागते हुए व्यक्ति को दौड़कर उसे आगे होकर घेरना।
  113. अगोछबाउब—(क्रिया) किसी को दौड़कर बढते हुए कदमों को रोकवा देना।
  114. अगत्ति—(विषे.) गयी-गुजरी, जीर्ण- षीर्ण, जो किसी काम लायक न रह गई हो वह।
  115. अगमदहार—(विषे.) बहुत गहरा, इतना गहरा कि थाह न मिले।
  116. अगुआ—(सं.पु.) आगे होकर कार्य करने वाला, कार्य का सबसे पहले दायित्व सम्हानले वाला।
  117. अगेला—(क्रिया) आगे की ओर गतिमान होना, सीधे सामने चलना।
  118. अगाह—(सं.पु.) चेतावनी, संकेत, सावधान, सूचित।
  119. अगुआनी—(सं.स्त्री.) अगुवानी, स्वागत के साथ किसी को लेना।
  120. अगनई—(सं.पु.) आँगन का भीतरी प्रक्षेत्र, आँगन की तरफ की जगह (अव्य)
  121. अगीत—(अव्य.) आगे का भाग, आन्तरिक पहलू, द्वार के ओर का भाग।
  122. अगरिया—(सं.पु.) लोहे का कार्य करने वाली जाति, लुहार गु्रप की जाति।
  123. अगनइया—(सं.स्त्री.) छोटा आँगन, आँगन का प्रक्षेत्र।
  124. अगीहा—(सं./वि.) वह व्यक्ति जो अग्निदाह किया हो, दाह संस्कार करने वाला।
  125. अगरधत्ता—(स.पु.) बिना जड़, पत्ता की एक लता।
  126. अघान—(विषे.) जिसका पेट भरा हो, भोजन से संतुष्ट।
  127. अघाब—(क्रि.वि.) पेट भर जाना, भूख मिट जाना।
  128. अघबाउब—(क्रिया) खिलाकर पेट भरवाना, मारने के लिए लाक्षणिकता।
  129. अघबा—(विषे.) मवाद भरा हुआ घाव, पका हुआ फोड़ा।
  130. अघट्ट—(सं.पु.) असत्य या अघटित, सरासर झूँठ।
  131. अँचउब—(क्रिया) खाना खाने के पष्चात् हाथ-मुँह धोना।
  132. अचबाउब—(क्रिया) जूठा हाथ-मुँह धुलवाना, धुलाने में मदद करना।
  133. अचरब—(क्रिया) न्यायोचित होना, शोभा देना, उचित प्रतीत होना।
  134. अँचरा—(सं.पु.) आँचल, साड़ी का एक पल्लू।
  135. अचकन—(सं.पु.) कमर में बाँधने वाला राजसी परंपरा का अंगौछा।
  136. अँचउबेय—(क्रिया) क्या जूठा हाथ मुँह अब धोओगे, आचमन करोगे ?
  137. अचरज—(अव्य) आष्चर्य, अकाल्पनिक, असंभावित।
  138. अजनास—(विषे.) आलसी एवं लापरवाह, लुंज-पुंज, ढीला-ढाला एवं अकर्मण्य।
  139. अजिआउर—(सं.स्त्री.) दादी का मायका, दादी की जन्मभूमि।
  140. अजमाइन—(सं.स्त्री.) एक मसाले का पौध, ग्राम्य-औषधि फल।
  141. अजलेम—(विषे.) असत्य, सरासर झूठ, निराधार एवं मिथ्या।
  142. अजार—(विषे.) अषुभ गाली, दैवी प्रकोप की अषुभ कामना, दरिद्र, ब.मु.।
  143. अजीरन—(ब.मु.) अजीर्ण, अपच, अजीरन हो, बघेली मुहावरा।
  144. अजुयै—(अव्य) आज ही।
  145. अँजुरी—(सं.स्त्री.) अँजुरी, वर-वधू के विवाह के समय संयुक्त अंजुली में भरा जाने वाला परम्परागत भुना अन्न, एक वैवाहिक लोकगीत।
  146. अजुरिहाई—(सं.स्त्री.) दुरागमन के समय धारित साड़ी विषेष।
  147. अजिगर—(सं.पु.) एक लम्बा-मोटा सर्प, अजिगर साही ब.मु.।
  148. अँजोर—(सं.पु.) प्रकाष, उजाला।
  149. अँजोरी—(विषे.) उजियाला, अँजोर, शुक्ल पक्ष।
  150. अँजबाउब—(क्रिया) आँख में काजल लगवाना, काजल लगवाने को तैयार होना।
  151. अँजमाउब—(क्रिया) अदांज करना, परीक्षण करना, थाह लेना, मन टटोलना।
  152. अँजान—(सं.स्त्री.) एक धान विषेष।
  153. अँटकर—(क्रिया) अंदाज करना, अवगत होना, जायजा लेना।
  154. अटकरपंचे—(विषे.) अन्दाजवष, अनुमान से, अनुभव से, अटकर पंचे वीसा सौ, बघेली मुहावरा।
  155. अटहर—(विषे.) अड़चन युक्त, असाधारण व्यवस्था, जटिल व्यवस्था।
  156. अट्टाटोर—(विषे.) एकदम नया, बहुत मजबूत, टिकाऊ।
  157. अट्टाचढ़ी—(क्रि.वि.) नहला पर दहला मारना, बढ़कर बोली लगाना, प्रतियोगिता पूर्ण बढ़ाव होना, बघेली मुहावरा।
  158. अटरिया—(सं.स्त्री.) अटारी, अटा, अटाल।
  159. अटम्मर—(विषे.) बहुत अधिक, बहुत ऊँचा, पर्याप्त, भरापूरा।
  160. अटब—(क्रिया) अड़जाना, रूक जाना, ऊपर ही टंगे रहना, समा जाना।
  161. अँटकब—(क्रिया) बीच में रूक जाना, ऊपर ही टंगे रहना, समा जाना।
  162. अँटकाउब—(क्रिया) उलझा देना, लफड़ा में फँसाना, गिल्ली अटकाउब, ब. मु.।
  163. अटइढ़ब—(क्रिया) अकड़ना, आवेषित होना, लड़ने को उद्धत होना, शरीर दिखाना।
  164. अट्टढ़ब—(क्रिया) आक्रोषवस मुकर जाना, अकड़ जाना, कथन को अनसुनी करके अनुचित करार करना।
  165. अटाला—(सं.पु.) घर-गृहस्थी में संग्रहीत सामग्री, भार, धन-वैभव।
  166. अटर्र—(विषे.) मिश्रित, अषुद्ध, दागयुक्त, परिवर्तित, गुणवत्ता युक्त।
  167. अटपट—(विषे.) बहुत तेज, दु्रतगति, विलक्षण, अजीब।
  168. अट्ठासी—(विषे.) अकाल व अभाव, बहुत अधिक कमी, अट्ठासी पड़ब, बघेली मुहा.।
  169. अठन्नी—(विषे.) आठ आने, रूपया का आधा, आधा।
  170. अठमाइन—(सं.स्त्री.) अष्टमी तिथि को देवी को समर्पित व्यंजन-प्रसाद।
  171. अठरही—(विषे.) उन्नीस, अनाज नापते समय की शुभ गिनती।
  172. अडारन—(विषे.) अस्तित्व विहीन, मूल्य विहीन, अनुपयोगी, बेकार।
  173. अढ़बा—(सं.पु.) आदेषित कार्य, किसी द्वारा कहा गया, पर कथन या कार्य।
  174. अढ़उब—(क्रिया) कार्य करने के लिए आदेषित करना या कहना।
  175. अढु़़कब—(क्रिया) रूक जाना, ठहरना, थम जाना, रूकावट होना।
  176. अढ़बइया—(सं.पु.) काम के लिए कहने वाला, निर्देषक या आदेषकर्ता।
  177. अढ़मल्ल—(विषे.) जो किसी की न सुनता हो, जो किसी का कहना न मानता हो, अडिग प्रवृत्ति किन्तु घमण्ड वष।
  178. अढ़इया—(सं.पु.) ढाई दिन तक रहने वाला बुखार, ढाई का पहाड़ा।
  179. अढ़ाई—(विषे.) ढाई, दो और आधा, दो दसमलव पाँच।
  180. अढ़हरिया—(सं.पु.) अरहर के घने पौधों से आच्छादित खेत।
  181. अड़उसा—(सं.पु.) गिरती वस्तु को रोकने वाली वस्तु, साहस या शहादत।
  182. अड़ाब—(क्रिया) जमीन पर गिरना, वर्तन से तरल का जमीन पर गिरना।
  183. अड़ाउब—(क्रिया) गिराना, ओट लगाना, रोकना, किसी के सहारे टिकाना, हाथ रोपना।
  184. अड़भक्का—(विषे.) अचानक, अनायास, बिना सूचना के, अप्रत्याषित।
  185. अड़पेंचा—(क्रि.वि.) पेंचीदा रूकावट, अड़चन आना, दबाव पड़ना, अवरोध उत्पन्न होना।
  186. अड़इया—(स.पु.) आड़ने वाला, रोपने वाला, गिराने वाला।
  187. अडुआ—(विषे.) बिना मर्दन अण्डकोष वाला वयस्क बैल, अवरोधक तथ्य।
  188. अतरहन—(अव्य) इतना सुंदर, इस प्रकार का, इतना अच्छा।
  189. अँतरा—(सं.पु.) अन्तर, दो वस्तुओं के बीच का गैप, वस्तु के नीचे की पोलाई।
  190. अँतरी—(सं.स्त्री.) दो घर के बीच की पतली गैल, एक दिन के अन्तर में आने वाली बुखार।
  191. अँतर—(सं.पु.) इत्र, सुगन्धित तेल।
  192. अँतरहाई—(सं.स्त्री.) इत्रदान, इत्र रखने वाला बैग।
  193. अँतर-अँतर—(अव्य) छोड़-छोड़कर, अंतर दे देकर, गैप दे-देकर।
  194. अथाई—(विषे.) पलथी मारकर स्थिर रूप से आषन लगाकर बैठा हुआ।
  195. अथैय—(अव्य) दोपहर और शाम के मध्य का समय, अपरान्ह।
  196. अदराब—(क्रिया) मन होने के बाद भी भरपूर अनुरोध करा लेना फिर तैयार होना।
  197. अदरब—(क्रिया) खाने के लिए व्यंग्य, ढीले खूँटे को न हिलने लायक करना।
  198. अदहन—(सं.पु.) चावल या दाल पकाने के लिए प्रयुक्त गर्म पानी।
  199. अदहरा—(सं.पु.) कण्डे का अग्नि समूह, पृथक से की गई भोजन व्यवस्था।
  200. अदरउटा—(क्रिया.) इच्छा होते हुए भी कार्य न करने का प्रदर्षन करना।
  201. अधमरा—(विषे.) अति दुर्बल, मरणासन्न, आधा मरा सा स्त्री.लिंग अधमरी।
  202. अधबाउर—(विषे.) कम चतुर-चालाक, अर्द्धपागल, बघेली मुहावरा।
  203. अधबइकल—(विषे.) आधा पागल, अर्द्ध विक्षिप्त, कुछ कम होषियार।
  204. अधभेसड़—(विषे.) न होषियार न मूर्ख, मन्द बुद्धिवाला।
  205. अधवाई—(सं.स्त्री.) कच्चे घर में लगने वाली आड़ी लकड़ी।
  206. अधकपारी—(सं.स्त्री.) आधे सिर में दर्दवाला एक रोग।
  207. अधारी—(सं.स्त्री.) भिखारी की दो पहलू वाली झोली।
  208. अधिअरहा—(सं.पु.) हिस्सेदार, साझीदार, बराबर का हिस्सेदार।
  209. अँधिया—(सं.पु.) आधे की साझेदारी, बराबर का मालिकाना हक।
  210. अँधिअरा—(विषे.) आधे का हिस्सेदार, बराबर का मालिक।
  211. अधीहा—(सं.पु.) आधे का मालिक, आधे का हिस्सेदार।
  212. अधमाधूह—(विषे.) बहुत अधिक फसल की उपज, बहुत मोटा-तगड़ा।
  213. अधबा—(विषे.) मवाद भरा पका घाव या फोड़े, बहता हुआ घाव।
  214. अधरम—(विषे.) अधर्म, धर्म के विरूद्ध क्रियाकलाप।
  215. अधविलोरा—(विषे.) आधे-अधूरे में, अपरिपक्व व अपूर्ण, न इधर का न उधर का।
  216. अँधरिआब—(क्रिया) अंधा हो जाना, देखकर आँखें मिच जाना, दीवाना हो जाना।
  217. अँधियार—(सं.पु.) अंधकार, अंधेरा, असंभव, उपाय न सूझना।
  218. अधबेरिया—(अव्य) दोपहर, मध्यावकाष, लन्च का समय।
  219. अधिआउब—(क्रिया) आधा करना, हिस्साबांट देना, अलग कर देना।
  220. अधमधाउब—(क्रिया) जोर-जोर से पीटना, जोर की वर्षा का होना।
  221. अँधरझटका—(क्रि.वि.) आँख मूँदकर कर डालना, अन्दाजवष कार्य करना।
  222. अनवनित—(विषे.) बेडौल, विकृत संरचना, बिगड़ा हुआ आकार, असुंदर, अनगढ़।
  223. अनहट—(क्रिया) अनायास झगड़ा, आष्चर्य युक्त लड़ाई, अप्रिय घटना।
  224. अनकब—(क्रिया) कान लगाकर गौर से आवाज व आहट को सुनना।
  225. अनसोहित—(विषे.) अषोभनीय, अनुचित, अच्छा न लगने वाला।
  226. अनटागुड़गुड़—(क्रि.वि.) किसी वस्तु का लुढ़क- लुढ़क करके गिरना, बना कार्य बिगड़ जाना, बघेली मुहावरा।
  227. अनटीमारब—(क्रिया) बीच में टाँग अड़ाकर काम बिगाड़ देना, भ्रमित करके मतभेद उत्पन्न कर देना, अंटी मारब, बघेली मुहावरा।
  228. अन्नियाव—(क्रिया) अन्याय, अनुचित व्यवहार, अभद्र क्रियाकलाप।
  229. अनमिल—(विषे.) अषोभनीय, तर्क रहित, अलग-थलग, मेल न खाना।
  230. अनभल—(विषे.) बुरा कार्य, नुकसान पहुँचाना, अशुभ मानना।
  231. अनगँइया—(विषे.) जो कभी आया-गया न हो, एकदम नया अपरचित।
  232. अनबुझझ—(विषे.) जिसके पास सही गलत समझने की समझ न हो।
  233. अनोय—(विषे.) बाधा रहित, झंझट विहीन, सुख-षांति युक्त।
  234. अनियार—(विषे.) जिसकी आँख नयी हो, विषिष्ट दृष्टि।
  235. अनमासब—(क्रिया) नई वस्तु को प्रयोग में लेना, कार्य में उपयोग हेतु प्रयोग करना।
  236. अन्तस—(सं.पु.) हृदय, आत्मा, दिल, भीतर से।
  237. अन्तरा—(सं.पु.) गीत का मुखड़ा, दोहराने वाली प्रमुख पंक्तियाँ।
  238. अनबँइता—(विषे.) विकलांग, चाल चलते समय पाँव का तितिर-बितर पड़ना।
  239. अनमन—(विषे.) हताष एवं निराष, गिरा हुआ मन, अप्रसन्न।
  240. अनझब—(क्रिया) अन्तराल होना, गैप होना, एक दिन न बीतने पाना।
  241. अनूठ—(विषे.) अच्छा, एकदम नया, जूठा रहित।
  242. अनुहारब—(विषे.) किसी के रूप की किसी से तुलना, अनुरूपता का आकलन करना।
  243. अनुहार—(विषे.) बनावट, समतुल्य, उनकी तरह या जैसा अनुरूप।
  244. अन्न—(सं.पु.) अनाज, अन्न-दाना।
  245. अनारब—(क्रिया) अन्याय, गलत कार्य, नुकषानदायी गतिविधि।
  246. अनखाब—(क्रिया) गलत कार्य से नाराज होना, डाँटना-फटकारना वरोकना।
  247. अनचिन्हार—(विषे.) अपरिचित, अज्ञात, जिससे जान-पहिचान न हो।
  248. अनहोनी—(क्रिया) अप्रत्याषित घटना, दैवी विपत्ति, अपूर्णनीय क्षति।
  249. अनजब्बू—(विषे.) वस्तुस्थिति से अनभिज्ञ एवं अपरचित, अनजान व अबूझ।
  250. अनूतर—(क्रि.वि.) गाली-गलौज, दुर्वचन, बुरा-भला, उलाहना।
  251. अनजान—(विषे.) नादान व अबोध, ज्ञान रहित, जिसे अच्छे-बुरे की समझ न हो।
  252. अनरीत—(क्रिया) अन्याय व अत्याचार, नीति के प्रतिकूल कार्य, रीति-नीति एवं परम्परा के विरूद्ध काम।
  253. अपकिआब—(क्रिया) प्राण भड़भड़ाना, बेचैनी लगना, घुटन होना।
  254. अपजस—(विषे.) अपयष, दोषारोपण, कलंक।
  255. अपरोजिक—(विषे.) आलसी एवं कामचोर, अकर्मण्य एवं अकर्ता, सुस्त।
  256. अपनपौ—(सं.पु.) अपनापन, अगाध लगाव एवं झुकाव, अपनत्वता।
  257. अपरस—(सं.पु.) गदेली या तलवे में होने वाला एक चर्मरोग।
  258. अपनाउब—(क्रिया) स्वीकार करना, अपना बना लेना, ग्रहण करना।
  259. अपना—(सर्व) आप, तुम।
  260. अपनौ—(सर्व) आप भी, तुम भी।
  261. अपना पचे—(सर्व) आप लोग, आप सब।
  262. अपन-तुपन—(अव्य) आप और हम, हम-तुम, हम दोनों।
  263. अफॅदिआब—(क्रि.वि.) अन्दर ही अन्दर अकुलाहट होना, आंतरिक छटपटाहट होना।
  264. अफरब—(क्रि.वि.) खाने से पेट भर जाना, पूर्ण संतुष्ट होना।
  265. अबहिनै—(अव्य) अभी, अभी-अभी, इसी वक्त
  266. अबइया—(सं.पु.) मेहमान, अतिथि, आने वाले लोग।
  267. अबा—(अव्य) अभी, अभी ही।
  268. अबेर—(अन्य) विलम्ब, देर, मौका बीते।
  269. अबड़-दबड अबड़-दबड़—(क्रि.वि.)वक्त-वेवक्त, अव्बे- तव्वे, दर-दापट।
  270. अवाई—(क्रिया) आगवन, पदार्पण होना।
  271. अभ्यामन—(विषे.) भयावह, रूप का कुरूप, आष्चर्यनुमा स्वरूप।
  272. अभाबट—(ब.मु.) आष्चर्यनुमा अजूबा, अभावट होइगा, ब.मु.।
  273. अभिरब—(क्रिया) भिड़ना, लड़ने के लिए लिपट पड़ना।
  274. अभिराउब—(क्रिया) किसी को किसी से लड़ा देना।
  275. अभुआब—(क्रिया) लटछोर कर कूदना- फँदना, सवारी आने पर थिरकना।
  276. अभरन—(सं.पु.) अमूल्य वस्तु, अमृत तुल्य पदार्थ, बहुमूल्य प्रतीक।
  277. अभिटब—(क्रिया) टकराकर फिसल जाना, भिड़कर गिर पड़ना।
  278. अमल्लक—(विषे.) पूर्णतः या बिल्कुल, निर्दाग एवं निर्विवाद, एकदम।
  279. अमावट—(सं.पु.) पूड़ी की तरह सुखाया गया आम्ररस, मामा खाय अमावट, बघेली मुहावरा।
  280. अमिलहा—(सं.पु.) खट्टापन खाद्य पदार्थ, मषालेदार खट्टी तरकारी।
  281. अमलास—(सं.पु.) नषा की तलब, व्यसन की आवष्यकता, नषा करने का मन बनना।
  282. अमलिआब—(क्रिया) नषा करने का मन होना, नषा के बिना व्याकुल होना।
  283. अमचोहिल—(विषे.) आम का खट्टा-मीठा स्वाद।
  284. अमचुर—(सं.पु.) आम का चूर्ण, अमचुर कस खाये, ब.मु.।
  285. अमकोरिया—(सं.स्त्री.) बिना जाली के आम्रफल की सूखी टुकड़ियाँ।
  286. अमिली—(सं.पु.) इमली, बीड़ी पीने का शौकीन व आदी व्यक्ति।
  287. अमिसब—(क्रिया) मिलावट करना, सम्मिलित करना, दो की बात में तीसरी बात साजना, सहभागिता निभाना।
  288. अमाबस—(सं.स्त्री.) अमावस्या की तिथि, कालिमा या अंधेरा।
  289. अमरा—(सं.पु.) आँवला, औषधि फल।
  290. अमारख—(विषे.) बहुत अधिक, सीमा से ज्यादा, बहुत जोर।
  291. अमरउती—(सं.स्त्री.) जो अमरता प्रदान करे, जो अजर-अमर बनाये, जो अमृत पिला दे।
  292. अमिरती—(सं.स्त्री.) एक विषेष प्रकार की जलेबी।
  293. अमठ—(सं.पु.) बर्तन का मुखौटा, बर्तन का किनारा, घाट, नदी का तट।
  294. अमान—(सं.पु.) ऐतिहासिक राजा का नाम, उजड़़ा हुआ खेत, पषुओं का फसल कटनें पर विचरण।
  295. अमानी—(सं.पु.) ठेका का कार्य, दैनिक मजदूरी वाला काम।
  296. अमारी—(सं.स्त्री.) एक पौध जिसके छिलके से रस्सी बनायी जाती है।
  297. अमरइया—(सं.पु.) अमराई, आम के पौधों का समूह स्थल।
  298. अमसइया—(सं.पु.) मिश्रित करने वाला व्यक्ति, मिलावट में सहभागी।
  299. अमिस-खमिस—(अव्य) एक दूसरे से मिलाना- जुलाना या मिश्रित करना।
  300. अये—(क्रिया) आना, आइएगा।
  301. अरगासन—(सं.पु.) अग्रासन, अनूठा भोजन जो गाय के लिए खाने से पूर्व निकाला जाता है।
  302. अरहरिया—(सं.पु.वि.) अरहर के पौध का खेत, जहाँ सघन अरहर लगी हो।
  303. अरगासी—(सं.स्त्री.) चन्द्रमा उगने के पूर्व आकाषीय पूर्वाभाष।
  304. अरगासब—(क्रिया) चन्द्रमा निकलने की स्थिति का दिखना।
  305. अरगसनी—(सं.स्त्री.) झूले की तरह छप्पर से लटकायी गई बाँस की वह लकड़ी जिसमें घरेलू कपड़ें टाँगें जाते है।
  306. अरौ—(क्रिया) लड़ाई-झगड़ा, लड़ाई करने लायक कार्य, अरौ ब.मु.।
  307. अरछाउब—(क्रिया) बर्तन में भरे तरल पदार्थ के ऊपरी हिस्से को अलग कर लेने की क्रिया।
  308. अरबा—(सं.पु.) दीवाल पर रखने के लिए बनाया गया स्थान, स्त्री.लिंग अरिया।
  309. अरोरब—(क्रिया) अच्छा एवं बड़ा बड़ा छॉटना, रूपया, पैसा समेटना।
  310. अर्रा—(क्रिया) अकारण लड़ाई रोपना, विवाद के लिए स्थिति निर्मित करना।
  311. अरझुराब—(क्रिया) अड़चन में फॅस जाना, किसी वस्तु का लिपट जाना।
  312. अराररा—(अव्य) आष्चर्य बोधक चीख, वेदना युक्त स्वर।
  313. अर्राब—(क्रिया) वेदनात्मक चीख भरना, हारी मान लेना, विवषता की कराह।
  314. अरझब—(क्रिया) किसी से लिपट जाना, जिद करना, कपड़े पर झाड़ी का लिपट जाना।
  315. अरथिती—(सं.पु.) विष्वसनीय, जवावदार, जिम्मेदार।
  316. अरई—(सं.स्त्री.) हलवाह की लाठी में लगी हुई नुकीली कील, अरई गड़ाउब ब.मु।
  317. अरसी—(सं.स्त्री.) अलसी तिलहन।
  318. अरहरा—(सं.पु.) अरहर का डंठल, बड़ी दाने वाली अरहर।
  319. अरी—(सं.स्त्री.) ग्रामीण चक्की पर प्रयुक्त होने वाली काष्ठ का उपकरण।
  320. अरचन—(विषे.) अड़चन, दिक्कत, कठिनाई।
  321. अरी-जोती—(सं.स्त्री.) पत्थर की ग्रामीण चक्की में प्रयुक्त होने वाली पतली रस्सी एवं छोटी सी नल लकड़ी।
  322. अरथुत—(विषे.) आवष्यक रूप से, निषि्ंचत हो।
  323. अरूआ—(सं.पु.) एक कौए की विषेष किस्म, अरूआकस ब.मु.।
  324. अरा—(अव्य) आष्चर्य बोधक आह, ओह।
  325. अलबुद्दा—(विषे.) पर्याप्त मात्रा, भरा-पूरा, आवष्यकता से अधिक।
  326. अलफी—(सं.स्त्री.) पुराने शैली की हाफ कमीज।
  327. अलबी तलबी—(ब.मु.) अलवी-तलवी मारना, बघेली मुहावरा।
  328. अलसेट—(क्रिया) आलस्य, विलम्ब, लेट- लपेट, हीला हवाला।
  329. अलहन—(ब.मु.) दऊ के अलहन, बघेली मुहावरा, आष्चर्य चकित।
  330. अलाटप्पू—(विषे.) बिना योजना व रूपरेखा, बिना अनुभव, बिना सूचना, बिना सोचे-विचारे, अन्दाज बस।
  331. अलथकलथ—(क्रि.वि.) उलट-पुलट, बार-बार, घूम-फिरकर, वही-वही कार्य।
  332. अलहदे—(विषे.) बिल्कुल अलग, बिना दबाव व अंकुष से।
  333. अल्होरब—(क्रिया) सूप के सहारे अनाज के दाने छाँटने की क्रिया।
  334. अलमजार—(सं.पु.) कूड़ा-कर्कट व घास- फूस का ढेर, सूखी लताएॅ।
  335. अलियार—(सं.पु.) कूड़ा कर्कट एवं सूखी लताओं का ढेर।
  336. अलगा—(सं.पु.) कंधे पर वक्ष स्थल ढककर रखा गया साड़ी का एक पल्लू।
  337. अलोन—(विषे.) बिना नमक का खाद्य पदार्थ, आवष्यकता से कम नमक पड़ा हुआ स्वाद।
  338. अलबार—(सं.पु.) षिषुओं का चोचाल, माता- पिता के प्रति षिषुओं का प्रेम।
  339. असकहा—(विषे.) अकस्मात, अचानक, ऐसा लगा कि।
  340. अस—(अव्य) ऐसा, इधर, इस ओर, समतुल्य।
  341. असरफी—(सं.नंपु) आभूषण या सोना, बहुमूल्य धातु, दुर्लभ व वस्तु।
  342. असढ़िया—(सं.पु.) लम्बा मोटा सर्प, एक सर्प विषेष का नाम।
  343. असाख—(सं.पु.वि.) असत्य बोलना, सरासर झूठ बोलना।
  344. असन्ती—(विषे.) जिसका खाने से पेट ही न भरता हो, जिसको कभी संतुष्टि न होती हो।
  345. असाढ़ी—(अव्य) अषाढ़ महीने का कार्य, अषाढ़ में बोयी जाने वाली फसलें।
  346. असमै—(अव्य) इसी वर्ष, इसी सत्र में।
  347. असमौं—(अव्य) इस वर्ष भी, इस सत्र में भी।
  348. असील—(विषे.) असल, असली, सही-सही का, असली बाय का, ब.मु.।
  349. अस ओस—(ब.मु.) इधर की उधर, उधर की इधर, इस ओर भी उस ओर भी।
  350. अहटोटब—(क्रिया) मन लेना, मनोदषा जानना, तलाष करना, ठौर- ठिकाना की खोज, तथ्य की जानकारी लेना।
  351. अहॅदब—(क्रिया) किसी को पैरों से कुचलना, मारने-पीटने का प्रतीक, खाना-खाने के लिए व्यंग्य।
  352. अँहणा—(सं.पु.) एक बर्तन के नाप का दूसरा बर्तन, उसी तौल या माप का बनाया गया अस्थायी नपना या बाट।
  353. अँहड़ब—(क्रिया) किसी बाट की तौल का कृत्रिम बाट बनाना।
  354. अहिना—(अव्य) इस प्रकार, ऐसा, इस भाँति, इस तरह का।
  355. अहिबाती—(सं.सी.वि) सौभाग्यवती नारी, ऐसी नारी जिसका पति जीवित हो।
  356. अहिरान—(सं.पु.) अहीरों का मुहल्ला, अहीरों की बस्ती विषेष।
  357. अँहदोरब—(क्रिया) जी मिचलाना, अन्दर से उलटी का लगना, जी घूमना।
  358. अहिमक—(विषे.) बहुत अधिक, जोरदार, तेज-तर्राट, बहुत मात्रा।
  359. अहरा—(सं.पु.) रोटी बनाने के लिए लगी कण्डे की आग।
  360. अहरी—(सं.स्त्री.) घर से दूर सहायक घर, मवेषियों के रखने का घर।
  361. अहा—(अव्य) ओह! कितना बढ़िया, कितना अच्छा।
  362. अहेर—(क्रिया) हाँका खेलना, षिकार करना, वन्य प्राणियों पर निषाना साधना।
  363. अहुरा-बहुरी—(क्रि.वि.) जाना और तुरन्त लौटना, बहुत जल्दी, वापसी डॉक।
  364. अहारब—(क्रिया) मन मुताबिक मारना, मनचाहा उलाहना सुनाना। आ
  365. आउब—(क्रिया) आयेंगें ? आऊँगा, आऊँगी।
  366. आकर—(विषे.) असमान वजन, असंतुलित ऊँचाई, छोटा-बड़ा, ऊँची-नीची स्थिति।
  367. आकर दोहर—(अन्य) एक के ऊपर दूसरा, आगे-पीछे, नीचे-ऊपर।
  368. आँकुर—(विषे.) कड़ुबा या अरूचिकर, जहरीला स्वाद, आकुर लागै, बघेली मुहावरा।
  369. आँकब—(क्रिया) किसी की कीमत अंदाज से बोलना, मूल्य निर्धारण करना।
  370. आँक—(स.पु.) एक निष्चित मूल्यांक, कीमत या मूल्य।
  371. आकरन—(सं.पु.) मर्यादा एवं सीमा, सम्मानयुक्त संकोच।
  372. आँखा—(सं.पु.) कामर का एक पहलू, दोनों हाथ से उठाई गई फसल, डंठल।
  373. आखत—(सं.पु.) अक्षत, षिषु जन्म के
  374. समय आषीषयुक्त अन्नांष, ब.मु.आखर—(विषे.) एकदम नयी वस्तु, जो बिल्कुल प्रयोग में न लाई गई हो।
  375. आगा—(सं.पु.) गन्ना के अग्रभाग का कोमल भाग।
  376. आँगुर—(सं.पु.) अंगुल, एक अंगुल का प्रक्षेत्र या दूरी।
  377. आगू-पाछू—(अव्य) आगे-पीछे, एक के बाद दूसरा, आगू-पाछू बागब, ब.मु.।
  378. आगी के पुंज—(ब.मु.) अति लड़ाकू, अति नाराज होने वाला, बघेली मुहावरा।
  379. आगी—(सं.स्त्री.) आग, अग्नि।
  380. आँच—(सं.पु.) आग की ऊष्मा, क्षति, कुप्रभाव, दुष्परिणाम।
  381. आँजब—(क्रिया) अंजन लगाना, सजाना- संवारना।
  382. आजै—(अव्य) आज ही, आज के दिन ही।
  383. आजी—(सं.स्त्री.) दादी, दाई, पुलिंग ‘आजा’।
  384. आँटी—(सं.स्त्री.) गिल्ली- डंडा, एक ग्रामीण खेल।
  385. आँटब—(क्रिया) प्रहार को रोकना, आड़ लेना, रोकना।
  386. आँठी—(सं.स्त्री.) तरल पदार्थ के जमने से एक टुकड़ा का नाम।
  387. आड़र—(विषे.) बिना धुला, एकदम नया कपड़ा, अनूठा वस्त्र।
  388. आड़—(अव्य) बहाना, ओट, बहाना का माध्यम।
  389. आँड़ा—(सं.पु.) अण्डाणु, बेंड़ा स्थिति, रोको या रोकिये, एक नग या मात्रा (विषे.)
  390. आँड़ब—(क्रिया) बचाव करना, गिरते को थांहना, हाथ लगाकर रोक लेना।
  391. आडे़—(विषे.) किसी के बहाने, कारण का कारक।
  392. आँतर बाँह—(अव्य) बिरल ढंग से हुई खेत की जुताई, दो कुड़ों के बीच छूटी हुई भूमि।
  393. आँती—(सं.स्त्री.) आँत, हिम्मत या क्षमता, साहस।
  394. आती कोंइया—(सं.स्त्री.) आँत का ऑत से जुड़ा पेट का प्रकोष्ठ, आती कोइया मुरूरै, बघेली मुहावरा।
  395. आद—(सं.पु.) अदरक, एक औषधीय कन्दमूल आदि, बघेली मुहावरा।
  396. आँधर—(विषे.) अंधा, लाभ-हानि न समझने वाला।
  397. आन—(विषे.) दूसरा, पराया, अन्य आदमी, वंष परिवार से भिन्न, बाहरी।
  398. आने कइत—(अव्य) दूसरे तरफ, विपरीत दिषा में, अन्यत्र।
  399. आनतरा—(अव्य) दूसरे प्रकार का नहीं, परायापन, असंभव नहीं।
  400. आपरूभ—(सर्व.) अपने आप, बिना कारण के, बिना घटना के।
  401. आपुन—(सर्व.) स्वयं, आप, खुद, पत्नी द्वारा पति के लिए संकेत।
  402. आपुसमां—(सर्व.) आपस में, मित्र-मण्डली में।
  403. आबा—(क्रिया) आइए, आओ, मिट्टी का बर्तन पकाने वाली भट्ठी।
  404. आबा हो—(क्रिया) आओ, आइए, आ जाओ।
  405. आबा-जाही—(क्रि.वि.) आना-जाना, जीना- मरना, आमदनी- खर्च।
  406. आमा गोही—(विषे.) किसी वस्तु का मध्य मोटा और दोनों किनारे ढालदार।
  407. आमर—(सं.स्त्री.) प्रजनन पष्चात् गर्भाषय से उत्सर्जित माँस की रस्सी एवं तरल पदार्थ।
  408. आमछे-आमछे—(अव्य) कबड्डी के खिलाड़ी द्वारा प्रयुक्त श्वांस साधक शब्द।
  409. आमिल—(विषे.) खट्टा स्वाद, खटाई से परिपूर्ण, आमिल-गुरूतुल करना’, बघेली मुहावरा।
  410. आँय—(योज.) हैं, है, पुनर्श्रवण का तकिया कलाम, हाँ।
  411. आये—(क्रिया) आ गये, आ चुके।
  412. आये-वाये—(अव्य) ऐसा-वैसा व्यक्ति, बेडौल व्यक्ति, ऐरा-गैरा।
  413. आय तो—(क्रि.वि.) ठीक कहते हो, ऐसा ही है, सही तो है।
  414. आये ता—(क्रि.वि.) आये तो, आ तो गये, आना तो हुआ।
  415. आये-गये—(अव्य) आने-जाने से, परिचय बढ़ाने से, व्यवहार बनने पर।
  416. आर—(सं.पु.) दो खेतों की सीमा रेखा, स्त्री लिंग आरि।
  417. आलन—(सं.पु.) व्यंजन में पड़ने वाला अतिरिक्त मषाला।
  418. आलाविक्ख—(विषे.) बहुत कड़वा, एकदम जहरीला, आलाविक्ख, बघेली मुहावरा।
  419. आलर—(विषे.) मुलायम या कोमल, ढीली चूड़ी।
  420. आलगुलूगुल—(ब.मु.) अस्पष्ट, अनाप-सनाप, अस्पष्ट, बघेली मुहावरा।
  421. आँव—(स.पु.) पेचिस, पतला दस्त, टट्टी के साथ लाल-सफेद मवाद।
  422. आसँउ—(अव्य) वर्तमान वर्ष, इस साल, इस ऋतु या मौसम में।
  423. आसरा—(स.पु.) सहारायुक्त भरोसा, आषा व आकांक्षा।
  424. आँसब—(क्रिया) आस जाना, खल जाना, खटकना, कष्ट महसूस होना।
  425. आहीं—(स.क्रि.) हैं, हाँ, यही हैं।
  426. आहे—(स.क्रि.) हो, हाँ, । इ
  427. इआ—(सर्व.) यह, ये, अमुक।
  428. इआ मेर—(अव्य) इस प्रकार का, इस भाँति का, ऐसा ।
  429. इड्ड—(सं.स्त्री.) जिद, संकल्प, प्रतिज्ञा, हठ, इड्ड करब’ बघेली मुहावरा।
  430. इड्डिआब—(क्रिया) जिद करना, अपनी बात में अड़ जाना, हठ कर देना।
  431. इड्डी—(विषे.) जिद्दी प्रवृत्ति का व्यक्ति, हठधर्मी।
  432. इचँउआ—(क्रि.वि.) एकदम खींचतें हुए शैली में।
  433. इतराज—(सं.पु.) नाराजगी, आपत्ति, असहमति, अप्रसन्नता।
  434. इत्त—(विषे.) अति, सीमा लांघा हुआ, असहनीय।
  435. इतिनिया—(विषे.) इतनी कम, इतनी सी, इतनी ही।
  436. इँदरहर—(सं.स्त्री.) बेसन से निर्मित ग्राम्य व्यंजन।
  437. इदँरामन—(सं.स्त्री.) एक पीले रंग का सुंदर किन्तु जहरीला फल।
  438. इनखा—(सर्व) इनको, इसको, इसे।
  439. इनहीं—(पर्व) इन्हें, इनको, इसको, इसे।
  440. इनहित—(सर्व.) यही, इन्होंने ही, इन्हीं के।
  441. इन्तकाल—(क्रिया) स्वर्गवास या देहान्त।
  442. इन्तहान—(सं.स्त्री.) परीक्षा, इम्तहान, कसौटी, परीक्षण।
  443. इनमहा—(सं.पु.) ईनाम से पाई हुई वस्तु, पुरस्कार वाली चीज।
  444. इरखा—(विषे.) इर्ष्या, द्वेष, देखकर जलन होने का गुण।
  445. इलिम—(सं.स्त्री.) प्रक्रिया या विधि, दावपेंच, उपाय, तौर-तरीका।
  446. इलिलविलिल—(क्रि.वि.) अब्बे-तव्वे, आना- कानी, टाल-मटोल।
  447. इस्सर—(सं.पु.) ईष्वर, भगवान, अल्ला, परमेष्वर।
  448. इस्कूल—(सं.स्त्री.) विद्यालय, मदरसा, शाला, स्कूल।
  449. इसाब—(क्रिया) ईष्या करना, पराई प्रगति न देख सकना।
  450. इहैं—(अव्य) यहीं पर, यही ही, यहाँ ही।
  451. इहाँ—(अव्य) यहाँ, यहाँ पर, इस जगह में।
  452. इहैं—(सर्व) यही, यह ही। ई
  453. ईं—(सर्व.) यें, यह, अमुक (आदर सूचक)
  454. ईं—(सर्व) यह, अमुक (अनादर सूचक)
  455. ईं-ऊँ—(सर्व) ये और वो, यह और वह, ये औ वो।
  456. ईंचब—(क्रिया) खींचना, निकालना, अन्दर से बाहर करना, डूबते को पानी से खींच लेना।
  457. ईंछब—(क्रिया) फल का छिलका अलग करना, कंघी करना।
  458. ईं पचे—(सर्व) ये लोग, ये सब, लोग-बाग।
  459. ईं आँय—(सर्व) यह है, ये हैं, अमुक व्यक्ति।
  460. ईस—(सं.पु.) ईर्ष्या, जलन, द्वेष-विद्वेष। उ
  461. उआ—(सर्व) वह, वो, अनादर सूचक सर्वनाम।
  462. उइॅ—(सर्व) वह, वो, आदरसूचक सर्वनाम।
  463. उक्खान—(सं.पु.) उप आख्यान, कहावत या मुहावरे, लोकोक्ति।
  464. उक्साउब—(क्रिया) उत्प्रेरित करना, पानी चढ़ाना, कार्य के लिए खोदना।
  465. उक्सुर-पुक्सुर—(ब.मु.) करवट बदलना, अनिद्रा से बिस्तर में इधर-उधर हरकत।
  466. उकरीध—(सं.पु.) मन का ऊब जाना, कष्ट की अनुभूति, अरूचिकर।
  467. उँकेलब—(क्रिया) मष्तक, पषु की चमड़ी छीलना, मारना-पीटना, चिपकी वस्तु को अलग करना।
  468. उकरूँ—(अव्य) दोनों घुटने मोड़कर तलबे के बल बैठने का ढंग।
  469. उकॉव—(स.पु.) अनाज की संचित राषि, डंठल का ऊंचा ढेर
  470. उकठा—(विषे.) जिसका मौलिक रंग उड़ गया हो, फीका रंग वाला।
  471. उकसब—(क्रिया) व्यवस्थित को अस्त- व्यस्त करना, छप्पर की लकड़ी खपड़ा निकालना, रस्सी या धागे की लड़ी अलग- अलग करना।
  472. उकबीत—(विषे.) गर्मी के कारण पषीने से उत्पन्न बेचैनी।
  473. उकिठब—(क्रि.वि.) रंग का उड़ जाना, रंग-बेदरंग होना, मन्द रंग हो जाना।
  474. उखरब—(क्रिया) उखड़ जाना, अपने आप नष्ट होना, जड़ से अलग होगा।
  475. उखारब—(क्रिया) उखाड़ना, गड़ी को बाहर करना, जड़ समेत निकाल लेना।
  476. उखरबइया—(सं.पु.) उखाड़ने वाला व्यक्ति।
  477. उखेखब—(क्रिया) दबाव देकर किसी कार्य के लिए कहना, कार्य के लिए जोर लगाना।
  478. उखार—(सं.पु.) प्रगति, उपलब्धि, कमाई, उखार करना, बघेली मुहावरा।
  479. उखरबाउब—(क्रि.) दूसरे से उखड़वाना, उखाड़ने में सहयोग करना।
  480. उखिआरब—(क्रिया) गड़ी या दबी वस्तु को उखाड़ना, पुरानी बात को उछालना।
  481. उखिल—(विषे.) गिरवी वस्तु कब्जे में वापस आना, बिना बच्चे की गाय-भैंस, खेत का पानी से खुला हुआ भाग।
  482. उगहता—(सं.पु.) उगाहने का कार्य करने वाला, उधारी वसूलने वाला।
  483. उगहबइया—(सं.पु.) उधारी वसूलने का कार्य करने वाला।
  484. उगाहब—(क्रि.) उगाही करना, उधारी वसूलना, माँगकर संचित करना।
  485. उगहबाउब—(क्रि.) इकठ्ठा करवाना, वसूलने में सहभागिता निभाना।
  486. उगिलब—(क्रि.) उगलना, पेट में न पचना, मुख से बाहर करना, रहस्य या भेद खोलना।
  487. उगिलन—(सं.पु.) खाकर मुँह से उगला हुआ पदार्थ विषेष।
  488. उगिलबाउब—(क्रिया) मुँह के अंदर से बाहर कराना, भीतर की बात का बयान करा लेना, उगलवाने में योगदान करना।
  489. उगिलबइया—(क्रिया) उगलने वाला, रहस्य या भेद खोलने वाला।
  490. उघरब—(क्रिया) खुलना, पर्दा का हट जाना, पोल खुल जाना।
  491. उघरबाउब—(क्रिया) खुलवाना, खोलने में सहयोग करना, नंगा कर देना।
  492. उघारब—(क्रिया) बन्द वस्तु को खोलना, पोल-पट्टी खुलना, नग्न करना।
  493. उघँरबइया—(सं.पु.) खोलने वाला, बेइज्जत करने वाला।
  494. उघन्नी—(सं.स्त्री.) चाभी, ताला खोलने वाला उपक्रम।
  495. उघाँर—(विषे.) बिना वस्त्र या पर्दा की, नग्न वदन, एकदम खुली।
  496. उँचहन—(विषे.) मोटी जमीन का खेत, वन-बगार की भूमि, जल्दी पकने वाली फसल।
  497. उचट्टा—(विषे.) कूदते-फाँदते हुए, गतिमान होने की विधि, तेज चाल।
  498. उचिटब—(क्रिया) कूदना, मन का ऊब जाना, बिगड़ जाना, उछलना।
  499. उचक्का—(सं.पु.) अभद्र या उदण्ड पुरूष, बड़ बोला, स्त्री.लिंग उचक्की।
  500. उचाउब—(क्रिया) उठाना, भार वाहन करना, ऊपर उठाना।
  501. उचिटाउब—(क्रिया) वस्तु को उछलवाना, कुदवाना। ऊ
  502. ऊचबासे—(विषे.) ऊँचे स्थान पर, बहुत उँचाई में, पहुँच से ऊपर।
  503. उछलब—(क्रिया) बर्तन के ऊपर से पानी का उछल जाना, अधिक पानी का बहना।
  504. उछाल—(सं.पु.) खेत में अधिक पानी निकलने के लिए बनाई गई नाली।
  505. उछिन्न—(विषे.) सीमा से परे, अग्राह्य व्यवहार, रीति-नीति विरूद्ध कार्य।
  506. उज्जर—(विषे.) सफेद, साफ सुथरा, धुला हुआ, पवित्र, उज्जवल।
  507. उजरइती—(विषे.) वेतपना, बड़प्पननुमा।
  508. उजिआर—(विषे.) उजाला या प्रकाष, सुबह, अँजोर, अंधकार रहित।
  509. उजिआरी—(विषे.) उजाला पाख, अजोरी वाली।
  510. उज्जरई—(विषे.) उजलापन, बड़पन्ननुमा प्रदर्षन।
  511. उजबुक—(सं.पु.) झक्की मिजाज का, अर्धपागल, अस्थिर मानसिकता का।
  512. उजरन्त—(सं.पु.) उजार का समूह, अनुपयोगी घास की टुकड़ियाँ।
  513. उजार—(सं.पु.) सूखे घास के तिनके, नुकसान या हानि।
  514. उजारब—(क्रिया) उजाड़ना, सार्वजनिक करना, नुकषान पहुँचाना, घर-द्वार बरबाद करना।
  515. उजरबाउब—(क्रिया) उजड़वाना, उजाड़ने में मदद करना।
  516. उटक्कर—(विषे.) सुस्पष्ट, एकदम अलग, सुवाच्य सुलेख।
  517. उटन्ग—(विषे.) सिले कपड़े का छोटा पड़ जाना, अंग से ओछा वस्त्र।
  518. उटपटाँग—(विषे.) औचित्यहीन कार्य, जिसका कोई महत्व न हो, तथ्यहीन।
  519. उटपटाँगी—(स.पु.) हमेषा बुरी हरकत करने वाली प्रवृत्ति का व्यक्ति।
  520. उटनी—(सं.स्त्री.) मादा ऊँट, नारी के लिए एक गाली।
  521. उटकटार—(सं.स्त्री.) काँटेदार छोटे कद की कटीली झाड़ियाँ या फल।
  522. उठब—(क्रिया) उठना, खड़े होना, सोकर जगना, गाय का ऋतुमती होना।
  523. उठाउब—(क्रिया) सोते को जगाना, ऊपर उठाना, पड़ी वस्तु को ले लेना।
  524. उठबाउब—(क्रिया) उठाने में सहयोग करना, उठवाना।
  525. उठबइया—(सं.पु.) उठाने वाला, ले लेने वाला, जगाने वाला।
  526. उठाई गीर—(वि.स.पु.) जो अमानत से खयानत करता हो, धरोहर को भी खर्च कर देने वाला व्यक्ति।
  527. उठाउठउहल—(ब.मु.) सभा विसर्जन, चला- चली, बघेली मुहावरा।
  528. उठबेय—(क्रि.भवि.)उठोगे, उठोगी, खड़े होओगे।
  529. उठइहेय—(क्रि.भवि.) उठाओगे, उठायेंगे ?
  530. उढ़री—(सं.स्त्री.) रखैल औरत, बिना व्याही बीबी, एक गाली।
  531. उढ़रब—(क्रिया) व्याहा पति छोड़कर दूसरा पति कर लेना।
  532. उड़न्की—(सं.स्त्री.) अफवाह, बदनाम करने की हवा, कृत्रिम दोष।
  533. उड़िला—(सं.पु.) गर्मी के दिनों में पषुओं का स्वछन्द विचरण, उड़िला होना, बघेली मुहावरा।
  534. उड़िलाउब—(क्रिया) कुत्ते को काटने हेतु उत्प्रेरित करना, प्रोत्साहित करना।
  535. उड़ासब—(क्रिया) बिछा बिस्तर उठाना, बिछौना निकालना, सभा विसर्जन।
  536. उड़ाउब—(क्रिया) उड़ाना, भूसा से अनाज अलग करना।
  537. उड़ेलब—(क्रिया) मोटी धार से पानी गिराना, एक बारगी पानी डालना।
  538. उड़िलाब—(क्रिया) स्वच्छन्द होना, सार्वजनिक होना, आवारा हो जाना।
  539. उड़बाई—(सं.पु.) भूसा से अनाज अलग करने का मेहनताना, मजदूरी।
  540. उतर—(क्रिया) नीचे उतरो, जमीन पर आओ, उतरो।
  541. उतरब—(क्रिया) ऊपर से नीचे होना, पार उतरना।
  542. उतारब—(क्रिया) पहना हुआ वस्त्र शरीर से निकालना, उतारना।
  543. उतरबाउब—(क्रिया) उतरवा लेना, पहनी हुई वस्तु को ले लेना।
  544. उतरवाई—(सं.पु.) पार उतारने के बदले प्राप्त पारिश्रमिक, मेहनताना।
  545. उत्तरायन—(विषे.) उत्तर दिषा में सूर्य या चन्द्र का होना, उत्तर दिषा की ओर।
  546. उतजोग—(अव्य) उपाय या उक्ति, प्रक्रिया एवं विधि।
  547. उतरबइया—(सं.पु.) पार लगाने वाला, जो वस्त्र तन से निकलवा लिया हो।
  548. उतारा—(सं.पु.) नये घर के प्रवेष पूर्व का पूजा-पाठ, रीति एवं परम्परा।
  549. उतारन—(विषे.) पहना हुआ या पहनकर फेंका गया जूठन वस्त्र।
  550. उतान—(अव्य) घमण्डी, सीना उभारकर चलना, पीठ के बल जमीन पर लेटा हुआ।
  551. उतन्ना—(सं.पु.) कान के ऊपर हिस्से में धारित वाला।
  552. उतराब—(क्रिया) पानी के ऊपर तैरना, ऊपर-ऊपर रहना।
  553. उतरूआ—(विषे.) समाज या परिवार से तिरस्कृत व्यक्ति।
  554. उत्तरहा—(विषे.) उत्तर दिषा का निवासी।
  555. उतिनब—(क्रिया) सजावट को उखाड़ना, बने घर की सामग्री अलग करना।
  556. उतिनबाउब—(क्रिया) घर की लकड़ी- खप्पड़ सब निकलवाना व सहयोग करना।
  557. उतिनइया—(स.पु.) घर की ईमारती लकड़ी छप्पर खोलने वाला।
  558. उतुहब—(क्रि.वि.) गर्भवती गाय-भैंस का गर्भपात हो जाना।
  559. उत्तू—(ब.मु.) खुल जाना उत्तू होइ जई, बघेली मुहावरा।
  560. उताउब—(क्रिया)मिट्टी से बन्द पात्र को पुनः खोलना।
  561. उदकब—(क्रि.वि.) उछलकर ऊपर होना, ऊपर की ओर उठना।
  562. उदकाउब—(क्रिया) ऊपर की ओर उछालना।
  563. उदुआ—(सं.पु.) जल का सूखा पड़ना, गाँव के जलाषयों का सूख जाना।
  564. उदुआब—(क्रिया) जलाषय का पानी सूख जाना।
  565. उदुआन—(विषे.) बिना पानी का नदी- तालाब व कुँआ, सूखा जलाषय।
  566. उदई—(सं.पु.) बिल्कुल मूर्ख, मूर्खता का एक प्रतीक।
  567. उदन्त—(विषे.) ऐसा बैल जिसके सभी दाँत टूट चुके हों।
  568. उदिरब—(क्रिया) खोलना, किवाड़ खोलवाना, खोलवाने में मदद करना।
  569. उदिरबइया—(सं.पु.) किबाड़ा खोलने वाला।
  570. उद्दियान—(ब.मु.) अकर्ण प्रिय लगना, देखने- सुनने में अच्छा न लगना।
  571. उधराब—(क्रिया) आँख मींचकर रूचिपूर्वक कार्य हेतु उद्धत होना।
  572. उधराउब—(क्रिया) काटने के लिए कुत्ते को उत्प्रेरित करना।
  573. उधिन—(क्रि.वि.) शरीर में असहनीय पीड़ा उठना, हाथ-पाँव में फाटन होना।
  574. उधिना—(अव्य) उस दिन, उस तारीख को।
  575. उधाब—(क्रिया) पीछे पड़ जाना, कार्य के लिए मन बना लेना।
  576. उधिरा—(विषे.) खरोंच लगा हुआ, चमड़ी का छिला हुआ।
  577. उधिरब—(क्रि.) चमड़ी का छिल जाना, चमड़ी में खरोंच लगना।
  578. उधेरब—(क्रिया) माँस से चमड़ी छीलना, किसी को पीटना।
  579. उधेरबाउब—(क्रिया) चमड़ी या छिलका अलग करवाना।
  580. उधेरबइया—(सं.पु.) उधेड़ने वाला, मारने- पीटने वाला।
  581. उधिरबाइ उधिरबाई—(सं.पु.) चमड़ी निकलने का मेहनताना या मजदूरी।
  582. उधुँआ—(सं.पु.) अनुमान व अंदाज बस, अचानक बिना योजना के
  583. उधरहा—(सं.पु.) उधार में दी गई या ली गई वस्तु।
  584. उधुम—(क्रिया) अत्याचार, झगड़ा- फसाद।
  585. उधिनै—(सर्व.) उसी दिन, उस दिन ही, उसी रोज।
  586. उनहिन—(सर्व.) वही, उन्हीं, वे ही
  587. उनहूँ—(सर्व.) उनको भी, उन्हें भी, वो भी।
  588. उनहीं—(सर्व.) उनको, उसको
  589. उन्हारी—(सं.स्त्री.) रबी की फसलें
  590. उनरब—(क्रिया) मुँह खुलना, परत हटना, फटना।
  591. उनसे—(सर्व.) उससे, उस व्यक्ति से।
  592. उनखे—(सर्व) उनके यहाँ, उस व्यक्ति के
  593. उनखा—(सर्व.) उनको, उसको।
  594. उपहकाज—(सं.पु.) मनगढ़त, अपने मन से अनुमान बस।
  595. उपराजिल—(विषे.) उपजाऊ, क्षमता युक्त।
  596. उपराज—(सं.पु.) उपज, होती, पैदा हुआ अनाज।
  597. उपराजब—(क्रि.सक.) उत्पन्न करना, पैदा करना, जन्माना, निर्माण करना।
  598. उपन्ना—(सं.पु.) पीले रंग का एक गमछा।
  599. उपटब—(क्रिया) उभर आना, चिन्ह बन जाना, स्पष्ट दिखना।
  600. उपटाउब—(क्रि.) उभारना, चिन्ह बनाना, सुपष्ट करना।
  601. उपरँहगा—(सं.पु.) ओढ़ने वाला वस्त्र, ऊपर का पहलू, रजाई-गद्दे की खोली।
  602. उपरउझा—(क्रिया) किसी का पक्ष कहना, तरफदारी करना।
  603. उपरेहित—(सं.पु.) परम्परागत संस्कार कराने वाले पुरोहित।
  604. उपरचढ़ी—(सं.स्त्री.) बढ़ चढ़कर, अधिक बोली लगाना, प्रतिस्पर्धा।
  605. उपरी—(सं.स्त्री.) गोबर की गोल उप्पली या उप्पल।
  606. उपड़उरा—(सं.पु.) उप्पल का ढेर लगाने वाली जगह विषेष।
  607. उपरफट्ट—(अव्य) दिखावटी या बनावटी, औपचारिक, ऊपर ही ऊपर।
  608. उपरचुपर—(अव्य) लेपननुमा व्यवहार, दिखावटी एवं बनावटी व्यवहार।
  609. उपचीर—(क्रि.वि.) मन को खिन्न कर देने वाली वार्ता, खराब कार्य ।
  610. उपासब—(क्रिया) उपवास करना या व्रत रहना, फलाहारी होना।
  611. उपासन—(विषे.) जिसके मुँह में बीमारी के कारण दाना-पानी न गया हो।
  612. उपास—(क्रिया) व्रत या उपवास, अन्न त्याग संकल्प।
  613. उपसहा—(विषे.) उपवास रहने वाला व्यक्ति, बहुत दिनों से बीमार।
  614. उप्प-उप्प—(अव्य) बन्दरों के बोलने की एक विषेष आवाज।
  615. उपखर—(क्रिया) वर्षा के पष्चात् आकाष का खुलना, हल्की धूप का निकलना।
  616. उफिनब—(क्रिया) रस्सी का फंदा बिना गाँठ खोले घड़े के गले से निकालना।
  617. उफनाब—(क्रिया) उफान आना, आवेषित एवं आक्रोषित होना।
  618. उबाब—(क्रिया) किसी की याद सताना, याद में उदास होना, स्मरण आना।
  619. उबांत—(सं.स्त्री.) कय, बमन, उलटी होना, जी मिचलाना।
  620. उबाउब—(क्रिया) किसी को मारने के लिए हाथ उमाहना, मारने को हाथ भर उठाना।
  621. उबेने—(विषे.) नंगे पाव, बिना कपड़ा पहने हुये।
  622. उबिठब—(क्रिया) खाते-खाते हिच जाना, अरूचि हो जाना, मन से ऊब जाना।
  623. उबजियाब—(क्रिया) मन ऊब जाना, मन भर जाने से अरूचि हो जाना।
  624. उमहब—(क्रिया) कार्य करने का मन बनाना, मानसिकता का बनना, खुलना या सामने आना।
  625. उमाहब—(क्रिया) किसी को पीटने के लिए हाथ ऊपर उठाना।
  626. उमिर—(सं.स्त्री.) उम्र, आयु, पन, जीवन का चरण।
  627. उरझेटब—(क्रिया) सींग से वस्तु को तितर-बितर कर देना।
  628. उरिन—(क्रिया) उऋण, ऋण मुक्त होना, कर्ज या भार से छुटकारा मिलना।
  629. उरदा—(सं.पु.) उड़द, एक खरीफ की फसल या दलहन।
  630. उरदहा—(विषे.) उड़द की फसल बोया हुआ खेत विषेष।
  631. उरई—(सं.स्त्री.) कास समूह का एक विषेष छाँस।
  632. उराव—(सं.पु.) शौक, उत्साह, मन का बनना, दिल हो आना।
  633. उरायल—(सं.पु.) शौक या उत्साहपूर्ण करने के लिए भाव-विभोर, उत्साहित,
  634. उरेहब—(क्रिया) श्यामपट पर अक्षर की आकृति बनाना, लकीर खींचना, चाक से लिखना।
  635. उलहब—(क्रिया) प्रस्फुटित होना, विकसित होना, पुनर्रपल्लवित होना।
  636. उल्ली—(सं.पु.) खिझाने वाला एक शब्द, हँसी-मजाक उड़ाने का प्रतीक।
  637. उलर—(विषे.) कच्ची उम्र, असमान्य स्थिति, तुलना में छोटा दिखना।
  638. उलिचब—(क्रिया) चुल्लू से पानी फेंकना, अंजुली से पानी हटाना।
  639. उललाउब—(क्रिया) किसी की मजाक उड़ाना, हँसी करके तिरस्कृत करना।
  640. उलेला—(क्रि.वि.) पानी की बहुत छोटी धार, एकदम पानी सिमटकर बहना।
  641. उलउब—(क्रिया) वंष या परिवार को रेखांकित करके बुरा-भला कहना, पूरे परिवार को चुनौती देना।
  642. उलटी—(क्रिया) कय होना, पेट का भोजन मुख द्वार से निकल आना।
  643. उलटब—(क्रिया) सिर के बल पलटी मारना, मवेषी का गर्भ न ठहरना।
  644. उलटाउब—(क्रिया) पलटवाना या पलटाना, पलटने में सहयोग करना।
  645. उलटमाँसी—(सं.स्त्री.) विपरीतार्थी, वक्रोक्ति युक्त कथ्य, व्यग्यात्मक अभिव्यक्ति।
  646. उलटा पल्ला—(क्रि.वि.) साड़ी का पल्लू कंघे व वक्ष से घुमाकर सिर पर रखना।
  647. उलटा पुलटा—(अव्य) गलत-सलत, जैसा चाहिए उसका ठीक उल्टा।
  648. उलट-पलट—(अव्य) पुनरावृत्ति, बार-बार, सघन रूप से निरीक्षण।
  649. उलझारब—(क्रिया) घडे़ में भरे पदार्थ को हिलाना-डुलाना, हिलाकर ऊपर नीचे करने की क्रिया।
  650. उलटहाबव—(क्रिया) प्रतिउत्तर, सवाल का जवाब, प्रष्न का तुरंत जवाब।
  651. उसलब—(क्रिया) उखड़ना, बैठे पषु का खड़ा होना, घर उजाड़कर चले जाना।
  652. उसिना—(सं.पु.) उबाला हुआ खाद्य पदार्थ, दाल की पीठी का ग्रामीण व्यंजन।
  653. उसिनब—(क्रिया) भाप से उबालना, भाप के सहारे पकाना।
  654. उसाँसी—(क्रिया) प्रोत्साहन, हाथ लगाना, ऊपर उठने के लिए सम्बल देना।
  655. उसुआब—(क्रिया) सूखे घाव का पुनः आना, घाव में मवाद भरने से सूज आना।
  656. उसुआन—(विषे.) घाव का पका हुआ, पके घाव में आया हुआ सूजन।
  657. उसलूहुड़—(विषे.) बर्तन के मुहाड़े के ऊपर का भरा पदार्थ, एकदम भरा हुआ।
  658. उसनीद—(विषे.) अनिद्रा, नींद लगने की अनुभूति, जागरण।
  659. उसट्ट—(क्रिया) कार्यक्रम का स्थगन होना, निरस्त होना, पक्का कार्य निरस्त हो जाना, लगा विवाह बदल जाना।
  660. उसढ़ढल—(विषे.) अपरिपक्व व अनिष्चित, ढीला कार्य, परिवर्तनीय एवं स्थगन योग्य।
  661. उसरहा—(सं.पु.) ऊसर मिट्टी वाला बाँध या खेत का नाम।
  662. उसालब—(क्रिया) जड़ से उखाड़ना, किसी का घर उजाड़ना, पैर आगे बढाना, रोमा उसालब, बघेली मुहावरा।
  663. उहाँ—(अव्य) वहाँ, वहाँ पर, उस जगह।
  664. उहै—(सर्व.) वही, वह ही।
  665. उहौ—(सर्व.) वह भी, वो भी। ऊ
  666. ऊन्ख—(सं.स्त्री.) गन्ना, गन्ना का पौधा।
  667. ऊॅंद—(विषे.) निर्बल क्षमता वाला, जल्दी निर्णय न ले सकने वाला।
  668. ऊप-ऊप—(अव्य) बन्दरों के बोलनें की आवाज।
  669. ऊब—(सं.स्त्री.) किसी की याद आना, किसी के देखने या मिलने की मनःस्थिति।
  670. ऊबट—(सं.पु.) ऊँचा-नीचा, अनुभव से, अनुमानवष, अंदाज से।
  671. ऊम—(सं.पु.) अनुमान, स्मरण, समाधान की सूझ।
  672. ऊमर—(सं.पु.) एक वनस्पति वृक्ष, ऊमर केर फूल, बघेली मुहावरा।
  673. ऊर—(विषे.) जो अपूर्ण हो, रूढ़ संख्या।
  674. ऊरधरे—(स.पु.) कुत्ते को गतिमान करने का एक विषेष शब्द।
  675. ऊरा—(सं.पु.) बिच्छू का डंक, नुकीली चीज, व्यंग्य वाणी।
  676. ऊसर—(सं.पु.) लावण्य मिश्रित अनुपजाऊ जमीन।
  677. ऊल्लादच्ची—(क्रिया) किसी का झूठा संदेष बताकर ठग लेना, झूठ व पाखण्ड का सहारा लेकर अपना कार्य सिद्ध कर लेना, ऊलादच्ची मारना, ब.मु.।
  678. ऊलाडाबर—(सं.स्त्री.) ऊँचा-खाली स्थान, ऊबड़-खाबड़ सतह, असमतल गढ्ढानुमा।
  679. ऊलिहे—(अव्यय) कुत्ते को उत्तेजित करने वाला विषेष शब्द। ए/ऐ
  680. ए!ऐ!—(सम्बो.) सम्बोधन एवं चेतावनी सूचक शब्द।
  681. एइन—(सर्व.) यही, यही हो, यही ही।
  682. एईं—(सर्व.) यही, ये ही।
  683. एऊँ—(सर्व.) यह भी, ये भी।
  684. एकठा—(विषे.) अकेले एक, अखण्डित, एकहरा।
  685. एकसर—(विषे.) दुबले-पतले शरीर का, जिसका एकहरी बनावट हो।
  686. एक रंग—(विषे.) एक ही रंग का, समान गुण का, एक ही प्रकार।
  687. एक्का-दुक्का—(विषे.) एक-दो, छुटपुट, विरलरूप, भूले-भटके।
  688. एकठउरा—(विषे.) एक ही नग, एक ही स्थान में, संयुक्त रूप से।
  689. एकाध—(विषे.) नाममात्र का, गिने चुने, एक या एक से भी कम।
  690. एकड्डी—(विषे.) एक रटवाला, नितान्त जिद्दी, दृढ़ संकल्पी।
  691. एकुयै—(विषे.) एक ही, अभिन्न, समान गुण-धर्म वाले।
  692. एकैठे—(विषे.) मात्र एक ही नग, एक ही, सिर्फ एक।
  693. एकर—(सर्व.) इसका, इसकी, अनादर सूचक।
  694. एकैमेर—(विषे.) एक ही प्रकार का, एक ही गुण-रूप का।
  695. एकैकइत—(अव्य) एक ही दिषा में, एक ही ओर, एक तरफा।
  696. एक्का—(सं.पु.) एक घोड़े वाली गाड़ी, एक्का कस घोड़, बघेली मुहावरा, एक बिन्दी वाली तास की पत्ती।
  697. एकंगी—(विषे.) एकांगी, एक दिषा विषेष में झुका हुआ।
  698. एकबेरी—(विषे.) एकबार, एक दौर, एक चरण, मात्र एक बार।
  699. एकघान—(विषे.) एक बार में पीसी जाने वाली वस्तु या अनाज की मात्रा।
  700. एकझने—(विषे.) कोई एक व्यक्ति, एक ही व्यक्ति।
  701. एकटक्क—(विषे.) अपलक, सघन दृष्टि।
  702. एकबले—(अव्य) एक ओर, एक ही तरफ, एक ही दिषा में।
  703. एखर—(सर्व.) इसका, इसकी, अनादर सूचक।
  704. एखा—(सर्व.) इसे, इसको, अनादर सूचक।
  705. एगर—(अव्य.) पास में, गाँठ में, नजदीक, अंग में।
  706. एगसिया—(सं.स्त्री.) एकादषी को जन्मीं नारी का नाम।
  707. एगास—(सं.स्त्री.) एकादषी की तिथि।
  708. एँघ्घा—(अव्य) इस ओर, इस दिषा में इस जगह में।
  709. एँघरी—(अव्य) इस समय, इस अवधि में इस अवसर पर।
  710. एँड़ा—(सं.पु.) घुटने की गाँठ, एड़ा लगाना, बघेली मुहावरा।
  711. एड़िआउब—(क्रि.) एड़ा लगाकर किसी को दबाना या मारना।
  712. एँड़बेड़—(विषे.) अला-भला, तिरछा- आड़ा, बेडौल, बलखाया हुआ, काम चलाऊ, एड़-बेड़, ब.मु.।
  713. एतना—(विषे.) इतना, इतना अधिक, स्त्री.लिंग एतनिया एवं एतनी।
  714. एत्ता—(विषे.) इतना, इतना ज्यादा, स्त्री.लिंग एन्ती।
  715. एतू—(विषे.) इतनी, इतनी ही, इतना ही।
  716. एत्तै—(विषे.) इतना ही, स्त्री.लिंग ‘एत्तिन’।
  717. एत्तीदार—(अव्य) इतनी देर, इतने समय बाद, इस समय में।
  718. एतान—(अव्य) इस प्रकार, इस विधि से, इस भाँति।
  719. एत्ते का—(अव्य) इतने के लिए, इतने भर को।
  720. एदा—(यो.) यह, ये, यहाँ।
  721. एदॉर—(अव्य) इस बार, इस दौर में, अवकीवार, स्त्री.लिंग एदॉरी।
  722. एनका—(सर्व.) इनको, इन्हें, आदर सूचक।
  723. एनहिन—(सर्व.) यही, यही ही, इन्हीं।
  724. एनठे—(अव्य) यहाँ पर, इस जगह में, इस स्थान में।
  725. एँपर—(अव्य) इस पर, इसके ऊपर, इसमें।
  726. एँपल्ला—(अव्य) इस पार, इस तरफ, यह भाग, इस ओर।
  727. एँपलाट—(अव्य) इस हिस्से, इस भाग, इस तरफ।
  728. एँबेर—(अव्य) इस बार, इस दौर में, स्त्री.लिंग एँवेरी।
  729. एँबेरा—(अव्य) इस समय, इतनी देर।
  730. एँबले—(अव्य) इस तरफ, इस पहलू, इस दिषा।
  731. एँमा—(सर्व) इस पर, इसमें, इसके ऊपर, इस जगह में।
  732. एँय-एँय—(अव्य) बच्चों के रोने की ध्वनि विषेष।
  733. एरी—(अव्य) ऐ री! ए जी, ऐ जी! सम्बोधन सूचक।
  734. ए रे—(सम्बो.) छोटे के लिए स्नेहित सम्बोधन, बड़ों के लिए अनादर सूचक।
  735. एँलटा—(अव्य) इस दिषा को, इधर को, इस तरफ, इस हिस्सा में।
  736. एसे—(अव्य) इस कारण से, इसलिए, इससे, इस व्यक्ति से।
  737. एँसता—(अव्य) इस समय, इन दिनों, इस मौके पर।
  738. ए ही—(सर्व) इसे, इसको, यही, इसे ही।
  739. एँहसे—(अव्य) इसलिए, इस वजह से, इस विचार से।
  740. एहीं से—(अव्य) इसीलिए, इसी उद्देष्य से, इसी नियत से।
  741. एँह—(अव्य) अहा, अरे, वक्रोक्ति सूचक, पष्चाताप सूचक।
  742. एहदे—(अव्य) यह देखो, ये देखो, ये है, यहाँ पर है।
  743. एहूका—(सर्व.) इसको भी, इनको भी, इसे भी।
  744. ऐह-ऐह—(अव्य) गाय या बछड़े को बुलाने वाला विषेष शब्द।
  745. ऐहा—(अव्य) दूध दुहने के लिए गाय को प्रसन्न करने हेतु विषेष शब्द। ओ
  746. ओइन—(सर्व.) वही, वह ही, वे ही, वो ही!
  747. ओइरा—(सं.पु.) खेत में अनाज बोने हेतु हल में प्रयुक्त काष्ठ पात्र विषेष।
  748. ओइरब—(क्रिया) घूँस में पैसा देना, चक्की में अन्न डालना।
  749. ओइसे—(अव्य) यो हीं, यों तो, मेरी मर्जी।
  750. ओइसै—(अव्य) वैसे ही, यों हीं, बिना उद्देष्य या प्रयोजन के।
  751. ओइसन—(अव्य) वैसे, वैसे तो।
  752. ओइझा—(अव्य) उधर, उस तरफ, उस ओर!
  753. ओईं—(सर्व.) वहीं, वह ही,
  754. ओंऊँ—(सर्व.) वो भी, वह भी, वे भी।
  755. ओकलाई—(क्रि.वि.) उलटी आना, कय की अनुभूति।
  756. ओकब—(क्रिया) कय करना, उलटी होने की क्रिया।
  757. ओकरब—(क्रिया) करना, क्रिया विषेष, मैथुन करना।
  758. ओका—(सर्व.) उसको, उसे, उस वस्तु को, उस व्यक्ति को।
  759. ओके—(सर्व.) उसके, उसके यहाँ, उस व्यक्ति के।
  760. ओकी—(सं.स्त्री.) उलटी कय, उलटी हेतु घृणा।
  761. ओकरबाउब—(क्रि.) कार्य करवाना, करवाने में सहयोग करना, मैथुन करवाना।
  762. ओखर—(सर्व.) उसका, उस व्यक्ति का।
  763. ओखा—(सर्व.) उस व्यक्ति को, उसे, उसको।
  764. ओगरब—(क्रिया) अपने आप पैदा होना, जल का निकलते रहना, निःसक्त होना।
  765. ओगार—(विषे.) एकदम ठोस, पूर्ण परिपक्व, मोटी लकड़ी के बीच का पका अंष।
  766. ओघ्घा—(अव्य) उस तरफ, उस दिषा में।
  767. ओछरब—(क्रिया) कय वमन करना, अन्दर का उगल देना।
  768. ओछराई—(क्रि.वि.) उलटी या कय लगने की अनुभूति।
  769. ओछराउब—(क्रिया) उलटी करवाना, अन्दर का निकलवा लेना।
  770. ओछरन—(विषे.) उल्टी या कय में गिरा हुआ पदार्थ या अन्नांष।
  771. ओछबढ़—(विषे.) छोटा-बड़ा होना, एक छोर बड़ा दूसरा छोटा, असामान्य।
  772. ओछाहिल—(विषे.) समय से पूर्व जन्मा अपरिपक्व षिषु।
  773. ओछात—(विषे.) अस्पष्ट व आंषिक रूप से, अकस्मात् जरा सा दिख जाना।
  774. ओछ—(विषे.) कपड़े का छोटा पड़ जाना, संकीर्ण सोच व मानसिकता।
  775. ओछीकानी—(विषे.) गाय या बछड़े का वयस्क होने का एक दाँतीय संकेत।
  776. ओक्ष्क्षा—(सं.पु.) सवारी चढ़ने पर मुख से निकला शब्द या दुहाई।
  777. ओछ्छाब—(क्रि.वि.) पण्डे का सवारी आने पर कूदना-फाँदना।
  778. ओझरि—(सं.स्त्री.) आँत, आँत प्रक्षेत्र की माँस पेषी, उदर।
  779. ओठर—(सं.पु.) बहाना, कामचोरी, जी चुराना।
  780. ओठरिहा—(सं.पु.) बहानेबाज, वह जो बहाना बनाये हुए हो।
  781. ओठी—(सं.पु.) हल में संलग्न दाहिना बैल का प्रतीक।
  782. ओढ़ना—(सं.पु.) वस्त्र, कपड़ा, रजाई या चादर, ओढ़ने वाला कपड़ा।
  783. ओढ़ब—(क्रिया) ढकना, ओढ़ना।
  784. ओढ़बाउब—(क्रिया) स्वयं न ढककर दूसरे से ढकवाना, ओढ़वाना।
  785. ओढ़कब—(क्रिया) सहारा लेकर टिकना।
  786. ओढ़काउब—(क्रिया) किसी वस्तु के सहारे दूसरी वस्तु टिकाना, दूसरे के सिर पर मढ़ना।
  787. ओढ़निया—(सं.स्त्री.) सिर ढकने वाला वस्त्र, घूँघट का कपड़ा।
  788. ओंड़ब—(क्रिया) घुटने से दबाना, एड़ा लगाकर मर्दन करना।
  789. ओड़चब—(क्रिया) ताकत लगा-लगाकर मर्दन करना, मैथुन करना।
  790. ओड़िआउब—(क्रिया) जमीन पर पटककर एड़ा से दबाना।
  791. ओड़चबाउब—(क्रिया) किसी से मर्दन करवाना, मैथुन क्रिया करवाना।
  792. ओत—(विषे.) दवा खाने पर आराम लगना, आलस्य या देर, छूट मिलना,सस्ता।
  793. ओती—(सं.पु.) आलसी, देर दराज, प्रवृत्ति का।
  794. ओताब—(क्रिया) विलम्ब करना, आलस्य करना।
  795. ओंतान—(अव्य) उस प्रकार, उस तरीके से।
  796. ओत्ता—(विषे.) उतना, उतना ज्यादा, स्त्री.लिंग ‘ओत्ती’।
  797. ओद—(विषे.) गीला, अषुष्क, आर्द्र।
  798. ओदी—(सं.स्त्री.) गीलापन, नमीयुक्त।
  799. ओदिआउब—(क्रिया) गीला करना, पानी से नम बनाना।
  800. ओदार—(विषे.) उदार, दानी, देनदार प्रवृत्ति।
  801. ओदार—(अव्य) उस बार, उस दौर में, दूसरे चरण में, स्त्री.लिंग ओंदारी।
  802. ओदरब—(क्रिया) चिटक जाना, फट जाना, धराषायी हो जाना।
  803. ओदारब—(क्रिया) गिराना, फाड़ना, खण्डवत करना।
  804. ओदरबाउब—(क्रिया) किसी से फड़वाना, गिराने में सहयोग करना।
  805. ओधा—(अव्य) ओट, आड़, अदृष्य।
  806. ओधसब—(क्रिया) धराषायी होना, किसी पर किसी का गिरना, टकराकर भिड़ना।
  807. ओधासब—(क्रिया) गिराना, नष्ट करना।
  808. ओधउटे—(विषे.) ओट में, आड़ में, छाया में।
  809. ओन्हा—(सं.पु.) कपड़ा, वस्त्र।
  810. ओनउब—(क्रिया) गाय-भैंस के प्रजनन के पूर्व का विषेष दृष्य।
  811. ओनामासी—(सं.स्त्री.) श्रीगणेष, पढ़ाई के प्रारंभ का शुभ संकेत।
  812. ओनइस—(विषे.) उन्नीस, एक कम बीस की संख्या, बघेली मुहावरा।
  813. ओनखा—(सर्व.) उनको, उन्हें।
  814. ओनहनें—(सर्व.) वही लोग, वे लोग ही, वही सब।
  815. ओनहिनका—(सर्व) उन्हीं को, उन्हीं लोगों को।
  816. ओपलझा—(अव्य) उस ओर, उस पहलू, उस तरफ।
  817. ओमां—(अव्यय) उस पर, उसमें, उस स्थान में।
  818. ओय—(सं.पु.) वही, पति के लिए प्रतीक, पुकारने पर हाँ स्वीकारोक्ति।
  819. ओय-ओय—(अव्य) रोते बच्चों को पुचकारने का विषेष शब्द।
  820. ओंय-ओंय—(अव्य) भैंस के मुख की ध्वनि विषेष।
  821. ओयन—(सं.पु.) गाय का दुग्ध प्रक्षेत्र का सूजा हुआ संकेत।
  822. ओर—(सं.पु.) बर्फ, वर्षा के रूप में गिरा ओला, एकदम ठंड।
  823. ओरा—(विषे.) छूट, सस्ता, आराम, लाभ, सहूलियत।
  824. ओराब—(क्रि.वि.) काम का कुछ कम होना, उपसंहार की ओर पहुँचना।
  825. ओरगब—(क्रि.) रूकना या ठहरना, प्रतीक्षा करना।
  826. ओरमाउब—(क्रिया) आश्रित होना, मुँह लटकाना।
  827. ओरगा—(सं.पु.) किसानों एवं (बढ़ई, लुहार, नाई) प्रजा के बीच की संविदा।
  828. ओरहन—(सं.पु.) षिकायत, उलाहना, दोषारोपण।
  829. ओरगहरू—(सं.पु.) जो सेवक विषेष ही सेवा के लिए निर्धारित हो।
  830. ओरचामन—(सं.स्त्री.) चारपाई के बिनाव को कसने वाली पतली रस्सी।
  831. ओरी—(सं.स्त्री.) छप्पर का अग्रभाग, आँगन की ओर वाला छप्पर।
  832. ओरमानी—(सं.स्त्री.) दीवाल से आगे निकला हुआ छप्पर का अग्रभाग।
  833. ओरिआउब—(क्रिया) षिषु जन्म की सूचना बतौर गाँव के आँगनों में चौखुट गोबर का चित्र बनाने की परम्परा।
  834. ओलब—(क्रिया) ठंड लगने पर आग से षिषु को सेंकना, देषी औषधि का लेपन।
  835. ओलबाउब—(क्रिया) लेपन लगवाना, ताप से सेंकवाना।
  836. ओलिआउब—(क्रिया) घुसेड़ देना, ओली बना लेना, नीचे की धोती ऊपर मोड़ लेना।
  837. ओला—(सं.पु.) बर्फ, पाला, ओस कण।
  838. ओली ओली—(अव्य) पषुओं को घर के अन्दर होने के निर्देष शब्द।
  839. ओलिया—(सं.स्त्री.) ओली, घोती को ऊपर की ओर झोलीदार बनाकर मोड़ाव।
  840. ओलियाब—(क्रिया.) घुस जाना, अन्दर होना, किसी के घर में घुस पड़ना।
  841. ओसहा—(सं.पु.) देषी औषधि, घरेलू जड़ी-बूटी की चिकित्सा।
  842. ओसबाउब—(क्रिया) किसी से भूसा उड़वाकर अनाज के दाने अलग करवाना।
  843. ओसाउब—(क्रिया) भूसे से अनाज के दाने अलग करने की क्रिया।
  844. ओस—(अव्य) उधर, उस ओर, उस तरफ को।
  845. ओसटब—(क्रिया) बूड़े के पानी का कम होना, नदी के बाढ़ के पानी का कम होना।
  846. ओसइली—(सं.स्त्री.) भूरे रंग की तिल विषेष।
  847. ओसरी—(अव्य) बारी, बारी, क्रम।
  848. ओसरी पहरा—(अव्य) एक के बाद एक, क्रम-क्रम से, बारी-बारी।
  849. ओसारी—(सं.स्त्री.) घर के सामने का बरामदा, पुलिंग ‘ओसार’।
  850. ओसर—(सं.स्त्री.) पहली बार प्रजनित भैंस, गर्भधारण योग्य भैंस की बच्ची।
  851. ओंसता—(अव्य) उस समय, उस समय पर, उस वक्त में, उन दिनों।
  852. ओहटी—(सं.स्त्री.) किसी कार्य का एक चरण, एक पारी विषेष।
  853. ओहदा—(सं.पु.) पद, औकात, धारित पदवी, श्रेणी।
  854. ओहार—(विषे.) निकली हुई चेचक का कम होना या ठीक होना।
  855. ओहब—(क्रिया) मवेषी के सामने आवष्यकता से अधिक घास डालना।
  856. ओही—(सर्व) उसे, उसको, उस व्यक्ति को।
  857. ओहमओह—(विषे.) उदार मन से, पर्याप्त, बहुत-बहुत मात्रा।
  858. ओहिनबेर—(अव्य.) उसी बार, उसी दौर में, उस समय ही। क
  859. कइअक—(विशे.) कई, बहुत, अनेक, विभिन्न।
  860. कइठे—(विषे.) कितने, कितनी संख्या, कितना।
  861. कइझन—(विषे.) कितने लोग, कितनी संख्या।
  862. कइतिआब—(क्रिया) किनारा काटना, अलग होना, रास्ता छोड़ना।
  863. कइत—(अव्य.) एक तरफ, एकान्त, दूर, पृथक, किनारे।
  864. कइथा—(सं.पु.) कैथा, एक प्रकार का फल।
  865. कइली—(सं.स्त्री..) गले पर चित्ती पड़ी सर्पणी। कइसनौ - - किसी भी प्रकार की, ऐन-केन -प्रकारणेन।
  866. कउखन—(विषे.) कितना जल्दी, शीघ्रता, किस प्रकार से।
  867. कँउस—(सं.) शरीर में पसीना चलना, गर्मी लगना।
  868. कउड़िआरा—(सं.पु.) एक प्रकार का सर्प जिसके पीठ पर कौड़ी हो।
  869. कउन—(अव्य.) कौन, कौन सा।
  870. कउनौ—(अव्य.) कोई भी, कोई।
  871. कउआब—(क्रिया) बेचैन होना, छटपटाना, यादबस आतुर होना।
  872. कउँफब—(क्रिया) आवेषित होना, क्रोधबस बुरा भला कहना।
  873. कउलब—(क्रिया) अन्दाज लगाना, मन लेना, मन ही मन तौलना।
  874. कउरा—(सं.पु.) टुकड़ा, रोटी की टुकड़ी, रोटी की भीख।
  875. कउरहा—(सं.पु.) कंकड़ की गोट से खेला जाने वाला खेल, भिखारी प्रवृत्ति का, रोटी के टुकड़ों पर आश्रित, निर्लज्ज, लोभी।
  876. कउर—(सं.पु.) निवाला, कौर।
  877. कउआ—(सं.पु.) कौआ, मुण्डन में रखीगई चोटी।
  878. कउआ टोंटी—(सं.पु.) कंकड़ की गोट से खेला जाने वाला खेल।
  879. कउड़ी—(सं.स्त्री..) सिंघाड़े का सूखा फल, खेली जाने वाली कौड़ी।
  880. कउड़ा—(सं.पु.) अलाव, तापने वाली आग।
  881. कउहरी—(सं.स्त्री..) एक प्रकार का औषधीय वन-फल।
  882. कउहट—(क्रि.वि.) शोरगुल, हलचल, झंझट, उलझन।
  883. कउरी—(सं.स्त्री..) कामर, दो पहलू वाली सेहरी।
  884. कका—(सं.पु.) चाचा, पिताजी के छोटे भाई।
  885. ककनिया—(सं.स्त्री..) गुड़ और आटे का बना बतासा, कुँए के अन्दर लगी ईंट, नारियों के हाथ का गहना।
  886. ककिया—(सं.स्त्री..) चचेरी।
  887. कँकरिया—(विषे.) ठंड के कारण दाँतों में कम्पन।
  888. कक्कू—(सं.पु.) चाचा, पिताजी के रिश्ते का भाई।
  889. ककई—(सं.स्त्री..) काठ की कंघी, कंघी पुलिंग ककबा।
  890. कँकरी—(सं.स्त्री..) ककड़ी, छोटी कंकड़ी।
  891. कँखरब—(क्रिया) कराहना, कराह का होना।
  892. कखउरी—(सं.स्त्री..) काँख की फुंसी, पुलिंग कखरेखा।
  893. कँखरिआउब—(क्रिया) काँख से दबाना।
  894. कँखरी—(सं.स्त्री..) कंधा एवं बाँह के जोड़ के नीचे का भाग, काँख।
  895. कँखना—(क्रि.वि.) हमेषा कराहते रहने का एक रोग।
  896. कगर—(अव्य.) एक किनारे, एकान्त, अलग, एक ओर।
  897. कगरिआउब—(क्रिया) किनारे करना, अलग करना, बाँट देना।
  898. कगरिआब—(क्रिया) किनारे होना, किनारा काट लेना।
  899. कगदहाई—(सं.स्त्री..) कागजात रखने वाला बस्ता विषेष।
  900. कचकचाब—(क्रिया) आवेषित होकर बुरा- भला बकना,शोर-षराबा।
  901. कचकचायके—(क्रि.वि.) पूरी ताकत के साथ दबाना, पूर्ण सामर्थ्य से।
  902. कचाइध—(विषे.) अधकच्चा की स्थिति की अनुभूति होना।
  903. कचेनिया—(सं.स्त्री..) चूड़ी पहिचानने वाली, कचेर की पत्नी।
  904. कच्चकच्च—(क्रि.वि.) दीवाल पर सिर पटकने से उत्पन्न ध्वनि।
  905. कचउँधी—(विषे.) अपच के कारण खट्टी डकार।
  906. कचेरब—(क्रिया) उठाकर पटक देना, दीवाल पर सिर पटकना।
  907. कचक—(सं.पु.) दबाव के कारण खून जम जाना, अपच।
  908. कचरपचर—(अव्य.) शोर-गुल, अषांति, कोलाहल पूर्ण वातावरण।
  909. कचरब—(क्रिया) कुचलना, पैरों तले दबाना, पैरों से मारना।
  910. कचराउब—(क्रिया) स्वेच्छा से पैर से दबवाना, किसी को पिटवाना।
  911. कच्चा बच्चा—(सं.पु.) षिषु एवं माँ, ब. मु.।
  912. कचकुचहिली—(विषे.) अनाज के दाने के मध्य का कच्चा कण।
  913. कचरबइया—(सं.पु.) कुचलने वाला, पाँव से पाँव दबाने वाला।
  914. कचोटब—(क्रिया) देने में पछताना, पष्चाताप करना।
  915. कछिया—(सं.पु.) कुषवाहा, बागवान, स्त्री.कछिनिया।
  916. कछिअउरा—(सं.पु.) सब्जी-भाजी की बगिया।
  917. कछोटा—(सं.पु.) काँछ लगाकर साड़ी का पहनावा।
  918. कछनी—(सं.स्त्री..) धोती या साड़ी की कच्छ, कछनी।
  919. कछलम्पट—(सं.स्त्री..) बदचलन नारी, एक गाली।
  920. कजरउटी—(सं.स्त्री..) काजलदानी, काजल वाली डिब्बी, पुलिंग कजरउटा।
  921. कजबा ाइक—(सं.पु.) विवाह खोजने वाला, ब्याह का पहलकर्ता।
  922. कजहा—(विषे.) कन्यापक्ष से शादी हेतु आये लोग, शादी होने वाले लड़के के लिये विषेषण विषेष।
  923. कजही नाउन—(बघे.मुहा.) बार-बार अनावष्यक आना-जाना।
  924. कजानी—(अव्य.) शादी के लिये आतुर, शायद, क्या जानूँ, संभवतः नहीं मालूम।
  925. कजात—(अव्य.) शायद, सम्भवतः, या कि, हो सकता है।
  926. कजरिया—(विषे.) जिसकी आँखों में काजल सा लगा हो।
  927. कटइया—(विषे.) फसल काटने वाले, सुकोमल षिषु, ककड़ी।
  928. कटराब—(क्रिया) पके व्यंजन खीर का बर्तन में लिपटकर सूख जाना।
  929. कटिया—(सं.स्त्री..) मवेषी को खिलाने वाला कटा आहार, खीरा।
  930. कटाँइध—(विषे.) कशैली स्वाद, हल्का कड़वा।
  931. कटुक—(विषे.) हलका कड़वा, कसैला स्वाद।
  932. कटँउही—(विषे.) फसल काटने के बदले प्राप्त मजदूरी।
  933. कटबा—(सं.पु.) नारियों के गले का एक आभूषण।
  934. कटेरुआ—(सं.पु.) दूध पीते पशु के बच्चों की टट्टी।
  935. कट्टहा—(सं.पु.) महापात्र, महाब्राम्हण, एक गाली।
  936. कटकटउहन—(विषे.) दाँत पीसकर पूरी ताकत से काटना।
  937. कटनबार—(सं.पु.) चौकोर गीली मिट्टी काटने का काष्ठ औजार।
  938. कटघोड़वा—(सं.पु.) काठ का बना घोड़ा, बच्चों का खिलौना।
  939. कटमटाब—(क्रिया) वनस्पति के रोये लगाने से शरीर पर खुजली होना।
  940. कटहरि—(सं.स्त्री..) एक सब्जी का फल, हल मे लगने वाली लोहे की मुदरी।
  941. कटइली—(विषे.) कटकर रहने वाली, तिरस्कृत नारी, आधा कटा हुआ फल।
  942. कठँगरा—(सं.पु.) काष्ठ से निर्मित अंगारा।
  943. कठमेहर—(सं.पु.) औरतों के बीच में बैठने वाला पुरूष।
  944. कठउती—(सं.स्त्री..) पत्थर या काष्ठ की बनी टोकनी का पात्र, पुलिंग कठउता।
  945. कठबा—(सं.पु.) काठ, काठ की भाँति जड़ आदमी।
  946. कठेस—(विषे.) अधपका फल, जो अभी कुछ ठोस हो।
  947. कठुला—(सं.पु.) कण्ठ का एक आभूषण, दुर्लभ वस्तु।
  948. कठखोलनी—(सं.स्त्री..) चोंच से काठ को खोलने वाली चिड़िया।
  949. कठबइठा—(विषे.) मनोविनोदी या लाड़ प्यार की गाली, स्त्री.लिंग कठबइठी।
  950. कठूमर—(सं.पु.) ऊमर से छोटी, ऊमर का फल या वृक्ष।
  951. कठँगरी—(सं.स्त्री.) मोटी लकड़ी से टूटे प्रज्जवलित अंगार।
  952. कढ़ब—(क्रिया) भीतर से बाहर निकलना।
  953. कढ़ी—(सं.स्त्री..) मठा एवं बेसन से बना काढ़ा, ग्राम्य व्यंजन।
  954. कढ़बाउब—(क्रिया) निकलवाना, भीतर से बाहर करवाना।
  955. कढाउब—(क्रिया) सुरक्षित निकालकर किसी को राह पकड़वाना, निकलवाना।
  956. कढीहा—(विषे.) कढ़ी खाने के विषेष चर्चित व मशहूर।
  957. कड़ँबा—(सं.पु.) छोटे कद का आम्रवृक्ष, कलमी आम।
  958. कड़िया—(सं.स्त्री..) बाँस की टहनियाँ, बारी का रूधन।
  959. कड़बार—(सं.स्त्री..) खेत की बारी रुधन हेतु प्रयुक्त सूखी झाड़ियाँ।
  960. कडुला—(सं.पु.) छापक फलदार वृक्ष, कलमी पौध।
  961. कड़बाउब—(क्रिया) दूसरे से अन्न कुटवाना, किसी से किसी को पिटवाना।
  962. कँड़रब—(क्रिया) स्वयं पिट जाना, किसी द्वारा पीटा जाना।
  963. कतनी—(विषे.) कितनी, कितने नग, कितनी मात्रा।
  964. कतकीदार—(अव्य.) किस समय, कितनी देर।
  965. कतका—(विषे.) कितना, कितनी मात्रा।
  966. कताहुर—(सं.पु.) सूखा कूड़ा कर्कट, धूल मिश्रित कचरा।
  967. कतरा—(सं.पु.) जमाये गये दूध का ठोस टुकड़ा, काची व्यंजन।
  968. कतन्नी—(सं.स्त्री.) कैंची, इसका पुलिंग कतन्ना।
  969. कतरी—(सं.स्त्री..) कोल्हू की वह पटरी जिस पर बैठकर कोल्हू चलाता है।
  970. कतरब—(क्रिया) टुकड़े-टुकड़े करना, टुकडे़ में काटना, अनाज से कंकड़ अलग करना।
  971. कतेक—(विषे.) कितने, कितने लोग, कितना, कई लोग।
  972. कथरिआउब—(क्रिया) कथरी को हाथ से सिलाई करना।
  973. कथरी—(सं.स्त्री..) फटे पुराने कपड़ों से निर्मित गद्दा।
  974. कँदुआ—(सं.पु.) हलवाई, मिठाई बनाने वाला।
  975. कँदरी—(सं.स्त्री..) पाँव की उँगुलियों के बीच सड़न का रोग।
  976. कँदरिआब—(क्रिया) जी मिचलाना, उलटी सी लगना।
  977. कँदिआउब—(क्रिया) चिकनी-चुपड़ी करके मिलाना-पटाना।
  978. कँउही—(सं.स्त्री..) काँदौ-कीच से सनी हुई, कीचड़युक्त।
  979. कँधइया—(सं.पु.) कृष्ण, कन्धा, कन्धे में किसी को उठाना।
  980. कँधेला—(सं.पु.) साड़ी के एक छोर से वक्षस्थल ढकना एवं सिर खुला करना।
  981. कनटाइन—(विषे.) कशैला, कड़वा, कटु स्वाद।
  982. कनटोप—(सं.पु.) कान ढकने वाला ऊनी टोपा।
  983. कनकनाब—(क्रिया) आवेषित होकर कर्कष वाणी में बड़-बड़ाना।
  984. कनिखा—(सं.पु.) पेड़ की शाखाओं की टहनियाँ, उपषाखायें।
  985. कनबहिरी—(विषे.) अनसुनी करना, कान से बहरा होना।
  986. कनझान—(विषे.) अंगार को बुझाकर मन्द हुई स्थिति।
  987. कनइल—(सं.पु.) कनैल का पौध, एक विषेष फूल।
  988. कन्डा—(सं.पु.) गोबर का उप्पल, सूखी हुई उपली, ईंधन।
  989. कना—(सं.पु.) चावल के वाह्य पर्त का चूर्ण कण।
  990. कनेबा—(सं.पु.) कोल्हू का जुॅआ और लाठ से जुड़ी लकड़ी।
  991. कनुआब—(क्रिया) निरर्थक अकड़ना, लड़ने को उद्धत होना।
  992. कनेमन—(सं.पु.) अचार का सूखा मषाला, मषाला का चूर्ण।
  993. कनिगा—(सं.स्त्री..) लाल चावल वाली एक धान विषेष।
  994. कनिहा—(सं.स्त्री..) कमर, कमर के बल षिषु को उठाना।
  995. कनकटिया—(विषे.) जिसका थोड़ा सा कान कटा हो।
  996. कनछेदन—(सं.पु.) बच्चों का कर्ण भेदन संस्कार।
  997. कनउब—(क्रिया) मिलाना-पटाना, खुश करके पक्ष में करना।
  998. कनहरी—(सं.स्त्री..) गर्भाषय एवं षिषु की नाभि से जुड़ा माँस का नाड़ा।
  999. कन्छई—(सं.स्त्री..) कान के अन्दर की फोड़िया- फुंसी।
  1000. कनफोरबा—(सं.पु.) कान भरने वाला, दोनों का मन फोड़ने वाला।
  1001. कनकउआ—(सं.पु.) एक प्रकार की घास, सब्जी, वनस्पति।
  1002. कनई—(सं.स्त्री..) बाँस की पतली-पतली टहनिया।
  1003. कनछरियाब—(क्रिया) कट-छंटकर रहना, तिरछी नजर रखना।
  1004. कन्डाब—(क्रिया) भूखे-प्यासे, सूखी स्थिति, भूॅख से ब्याकुल होना।
  1005. कनगजीर—(सं.स्त्री..) पतले चावल वाली एक धान।
  1006. कन्डान—(विषे.) भूखे-प्यासे की स्थिति, अस्तित्व विहीन।
  1007. कन्नी—(सं.स्त्री..) दीवाल जोड़ने का एक औजार, गोंद।
  1008. कन्हीहा—(विषे.) जो हमेषा गोद मे रहने का आदी हो चुका हो।
  1009. कन्डम—(विषे.) घटिया, खराब, जीर्ण- षीर्ण, अनुपयोगी।
  1010. कनसुर—(विशे.) ऊँचा सुनाई देना, ऊँचा- नीचा सुनना, अमेल एवं अप्रिय सुर।
  1011. कनेखा—(सं.पु.) व्यंग्य बाण, बात का बतंगड़ बनाना।
  1012. कनस्टर—(सं.पु.) खाली पुराना घी-तेल का टीना।
  1013. कपरकपर—(अव्य.) कर्णकटुवार्ता, जल्दी- जल्दी बोलना।
  1014. कपटब—(क्रिया) टुकड़े-टुकड़े काटना, सिर उतार लेना।
  1015. कपार—(सं.पु.) सिर, खोपड़ी, मस्तिष्क, ब्रम्हाण्ड।
  1016. कपड़छन—(सं.पु.) कपड़े से छानना, पतले कपड़े से आटा झोलना।
  1017. कपच्छई—(सं.) एक प्रकार का रोग, उल्टी- दस्त का रोग।
  1018. कपसा—(सं.स्त्री.) एकदम सफेद, गौर वर्ण, कपास या रुई।
  1019. कपिला—(विषे.) एक गाय विषेष, निर्दाग, दूध का धुला।
  1020. कबउ-कबउ—(अव्य.) कभी भी, यदा-कदा।
  1021. कबहूँ-- (अव्य.) कभी-कभी नहीं, किसी सूरत में।
  1022. कबार—(सं.पु.) दिन-रात, खेत-बगार में कार्य, लोहे या काँच के टुकड़े।
  1023. कबेलबा—(सं.पु.) तुरन्त का जन्मा कौए का बच्चा।
  1024. कबरिया—(विषे.) दो रंगों वाली, सफेद चित्ती वाली, भदरंगी/पुलिंग कबरबा।
  1025. कबै—(योजक) कब, किसदिन, किस समय।
  1026. कमरी—(सं.स्त्री.) कामरि।
  1027. कमरेड़ा—(सं.स्त्री..) कामर लटकाने वाला बाँस का लठ्ठा।
  1028. कमटी—(सं.स्त्री..) बॉस की लम्बवत फाड़ी गयी टुकड़ियाँ।
  1029. कमिया—(सं.पु.) काम करने वाला, मेहनत कष।
  1030. कमरिहा—(विषे.सं.) कामरि ढोने वाला- व्यक्ति विषेष।
  1031. कमरिया—(सं.स्त्री..) छोटा सा कम्बल, कामरिनुमा खिलौना, पुलिंग कमरा।
  1032. कम्मल—(सं.स्त्री..) मवेषियों के गले की झूलदार चमड़ी।
  1033. कमरा—(सं.पु.) रोयेंदार काले रंग का कीड़ा, कम्बल।
  1034. करकस—(विषे.) कटुवाणी, अप्रिय, खराब लगना।
  1035. करकसा—(सं.स्त्री..) कर्कष वाणी बोलने वाली, कटुभाषी।
  1036. करबी—(सं.स्त्री.) ज्वार का डंठल टुकड़ों में काटना।
  1037. करबर—(विषे.) रबेदार, खुरदुरा, चिकनाहट रहित।
  1038. करासन—(सं.पु.) दो पहाड़ियों के बीच का प्रक्षेत्र, पहाड़ का ऊपरी षिखर।
  1039. करमोउब—(क्रिया) भात को थोड़े से दूध से नाम मात्र का मोवन करना।
  1040. करूआ—(विषे./सं.)काले रंग की चूड़ी, करुआदेव का नाम।
  1041. करू—(विषे.) कड़वा, कषैला, जहरीला, कड़वी।
  1042. करेंगवा—(सं.पु.) काले सर्प का सपोला, हाथी का षिषु, बच्चा।
  1043. करोउब—(क्रिया) खरोचना, नाखून से गीली मिट्टी निकालना।
  1044. करंज—(सं.पु.) कंजी का एक वृक्ष।
  1045. करिआरी—(सं.स्त्री.) घोड़े के मुँह में लगायी जाने वाली लोहे की साँकली।
  1046. करधन—(सं.स्त्री..) कमर की साँकल, कमर में धारित धागा।
  1047. करमबली—(विषे.) सौभाग्यषाली, प्रखर कर्म वाला।
  1048. करतूति—(विषे.) पुरूषार्थ, कार्य का प्रतिफल।
  1049. करइली—(सं.स्त्री..) छोटे आकार का करेला, पषु के पूँछ का मांशल भाग, कलेजा या दिल।
  1050. करहिया—(सं.स्त्री..) छोटे आकार की कड़ाही, पुलिंग कराहा।
  1051. करी—(सं.स्त्री..) भगाकर लायी हुई स्त्री., मोटी-मोटी नमकीन, गाटर की तरह, ईमारती लकड़ी।
  1052. करोनी—(सं.स्त्री..) खुरचन, करोचन, खुरचने का पात्र।
  1053. करई—(सं.स्त्री..) लोटे की आकृति का मिट्टी का पात्र।
  1054. करहुला—(सं.पु.) कम उम्र की हाथी का बच्चा।
  1055. करेजा—(सं.पु.) कलेजा, हिम्मत, प्राण-मित्र।
  1056. कराइँध—(विषे.) पककर अत्याधिक सूखी स्थिति, खर हुआ डंठल।
  1057. कर्रा—(विषे.) कड़ा, कठोर, सख्त, कसा हुआ, बहुत जोर से।
  1058. कर्र-कर्र—(क्रि.वि.) ककड़ी या फल खाने पर उत्पन्न ध्वनि।
  1059. करब-कथब—(ब.मुहा.) मरने पर कर्म क्रिया, कार्य की व्यवस्था।
  1060. करँउटा—(सं.स्त्री..) करवट, पाला बदलना।
  1061. करेनिया—(विषे.) काले रंग वाली वस्तु।
  1062. करिहौं—(क्रि.भवि.) करुँगा, करुँगी, करना है।
  1063. करबै करब—(क्रि.भवि.) करुँगा ही, करना ही करना है।
  1064. करत रहेन—(क्रिया) करता था, करता रहा, करता रहा था।
  1065. करिस—(क्रिया) किया, किया गया।
  1066. करइहौं—(क्रि.भवि.) कराऊँगा, कराऊँगी।
  1067. करेउँतै—(क्रि.भू.) किया था, की थी, किया तो था।
  1068. करबइया—(विषे.) कार्य करने वाला।
  1069. करबाउब—(क्रिया) कार्य करवाना, काम कराना।
  1070. कलछर—(विषे.) हल्की काली, हल्का काला रंग।
  1071. कलपबास—(सं.पु.) तीर्थ-प्रवास, तीर्थ स्थान में तपस्या।
  1072. कल्हरब—(क्रिया) चीखना, पीड़ा के कारण कराहना।
  1073. कलमस—(विषे.) खोट, मिलावट, मिश्रित व अषुद्ध, दाल में काला।
  1074. कलथब—(क्रिया) पलटना, बदल जाना, एक पात्र से दूसरे में करना।
  1075. कलबलाब—(क्रि.वि.) जीभ में खुजलाहट, जीभ में बेचैनी।
  1076. कलेबा—(सं.पु.) नाष्ता, सुबह का जल-पान।
  1077. कल्लाब—(क्रिया) बाल उखाड़ने से पीड़ा होना, घर्षण से दर्द होना।
  1078. कलउब—(क्रि.) फल को हल्का उबालना, वाष्पित करना।
  1079. कलँउ-कलँउ—(अव्य.) भूख से याकुल, खाने की आतुरता।
  1080. कल्ला—(सं.पु.) हरे बाँस का टुकड़ा, प्रस्फुटित नवोदित बाँस।
  1081. कलकुतिया—(विषे.) अत्याधिक लालषा, मिलने की प्रबल पिपाषा,
  1082. कलट्टर—(सं.पु.) जिलाधीष, कलेक्टर।
  1083. कलभुँजरा—(विषे.) काला, चितकबरा, घृणित काला रंग।
  1084. कलपाउब—(क्रिया) तरसाना, दुःखी करना, रुलाना।
  1085. कलौं-कलौं—(अव्य.) भूख के कारण कराहना, अति भूख की ध्वनि।
  1086. कलपडाह—(विषे.) तड़पनयुक्त दयनीय दषा, कष्टप्रद परिद श्य।
  1087. कलोर—(विषे.) जवान बछिया, बिना व्यायी गाय।
  1088. कलऊ—(अव्य.) कलयुग, कलऊ लग गया बघेली मुहावरा।
  1089. कलकरा—(क्रिया) धैर्य धारण करो, इंतजार कीजिए।
  1090. कलबली—(क्रि.वि.) खुजली होना, कामुक स्थिति होना।
  1091. कलेउहा—(सं./वि.) कलेवा करने योग्य षिषु विषेष।
  1092. कलम—(सं.पु.) लकड़ी की लेखनी, दाढ़ी वाले कान के बगल के बाल, पौधे से पौध तैयार करना।
  1093. कलमुही—(विषे.) जिसका मुँह काला हो, एक गाली विषष्े।
  1094. कसत—(अव्य.) किस प्रकार, कैसे, कैसा, किधर।
  1095. कसाई—(सं.पु.) बकरा काटने वाला, निर्दयी व्यक्ति, एक जाति।
  1096. कन्सरा—(सं.पु.) तेल का खाली टीना।
  1097. कसनी—(सं.स्त्री.) अनाज का डंठल या घास बाँधने वाली रस्सी।
  1098. कसान—(विषे.) कषैलापन का स्वाद, आम्लीयता रहित।
  1099. कसनहट—(सं.स्त्री..) पषुओं के गले में बाँधी जाने वाली कलात्मक रस्सी, हल-जुआ का मोटा रस्सा।
  1100. कँसब—(क्रिया) खरा-खोटा का परीक्षण करना, कसौटी में फसना, जमकर बाँधना, मानक पैमाने में तौलना।
  1101. कसकुट—(सं.पु.) कई धातुओं के मिश्रण से बनी धातु का नाम।
  1102. कसाँइध—(विषे.) कसौलापन की गंध, कसैला बर्तन का स्वाद।
  1103. कसन—(सं.स्त्री..) हल एवं जुआ को कसने वाला मोटा रस्सा।
  1104. कसिके—(सं.पु.) कैसे, किस प्रकार से, जकड़कर बाँधना।
  1105. कसाला—(सं.पु.) मन में मलाल, कमी, खाम्ही, गड़बड़ी।
  1106. कसमसाब—(क्रिया) भीतर ही भीतर आक्रोष से जलना, अंदरूनी भीतर ही भीतर गुस्से से, आक्रोष एवं वेदना सहकर चुप रहना।
  1107. कसकब—(क्रिया) रह-रहकर घाव का काटना, दिन में चुभना।
  1108. कसरि—(विषे.) कोर कसर, कमी रह जाना, कमजोरी करना।
  1109. कस—(अव्य.) कहाँ, किधर, किस ओर, किधर को, किस प्रकार।
  1110. कसो—(सं.पु.) कहो, हुँकारी भराने का एक शब्द।
  1111. कहल—(सं.पु.) गरमी की उमस, तापयुक्त कष्ट।
  1112. कहलब—(क्रिया) गरमी लगना, पसीना- पसीना होना।
  1113. कहनूति—(सं.स्त्री.) कहावत, कही गई उक्ति, वादा।
  1114. कहुलब—(क्रिया) कड़ाह में अनाज के दाने भूनना, मारना-पीटना।
  1115. कहँउ—(अव्य.) कहीं, कहीं भी, कहीं पर, कह दूँ, कहें।
  1116. कहा—(क्रिया) कथनानुसार किया गया कार्य, कहिए या कहो, निर्देश पालन।
  1117. कहूँ-- (अव्य.) किसी जगह, कहीं, कहीं भी, कहीं पर।
  1118. कहिया—(अव्य.) कब, किस दिन, किस समय।
  1119. कही—(क्रिया) कहिए, कह दीजिए।
  1120. कहिदेई—(क्रिया) कह दें? कह दीजिए, कह दो।
  1121. कहा-सुनी—(क्रि.वि.) बातचीत, मषविरा, सल्लाह, गाली-गलौज।
  1122. कहब—(क्रिया) कहना, कहेंगे, कहूँगा।
  1123. कहबाउब—(क्रिया) बुरा-भला सुनना, किसी से संदेष कहना, दूसरे के मुख से कहलवाना, मुख से कहलवाना।
  1124. कहिहौं—(क्रि.वि.) कहूँगा, कह दूँगा, कहेंगे, कहूँगी।
  1125. कहियौ—(अव्य.) कभी भी, किसी दिन, किसी भी समय।
  1126. कहिना—(अव्य.) कब, किस दिन, क्यों, कैसा, किस समय।
  1127. कही कहा—(क्रि.वि.) वाद-विवाद, आपसी शर्तनुमा संविदा, पक्की बात हो जाना।
  1128. कहा करब—(क्रिया) किसी का कहना मानकर कार्य करना।
  1129. कहे-कहे—(अव्य.) कहने-कहने पर, किसी की प्रेरणा से।
  1130. कहबइया—(विषे.) कहने वाला, कह बताकर कार्य करने वाला।
  1131. कहिस—(क्रि.भू.) कहा था, कहा गया।
  1132. कहिनतै—(क्रि.भू.) कहा था, कहे थे, कहा गया था।
  1133. कहत रहेन—(क्रिया) कहता था, कह रहा था, बताया था।
  1134. कही ता—(क्रिया) कहिये तो, कहकर देखिए, कहें तो।
  1135. कहत रहें—(क्रिया) कह रहे थे, कहते थे, कहता था।
  1136. कहबै करब—(क्रिया) कहेंगे ही, कहूँगा ही।
  1137. कहेन—(क्रि.सं.) कहा आपने? एक सम्बोधन एवं तकिया कलाम।
  1138. कहि-कहि—(अव्य.) कह-कह करके, कहकर कोई कार्य, स्मरण में लाना। कहबररै (क्रिया)- - नहीं कहा जाता, कहने की हिम्मत नही पड़ती। का
  1139. काड—(सर्व.) क्या? स्त्री.लिंग ’की’ कौन?
  1140. काइ काई—(सं.स्त्री..) जल मे होने वाली एक घास।
  1141. काँइया—(विषे.) दुष्ट प्रवृत्ति का आदमी, कारणी व्यक्ति।
  1142. काकी—(सं.स्त्री..) चाची, पिताजी के छोटे भाई की पत्नी।
  1143. काकू—(सं.पु.) चाचा, पिता जी के अनुज।
  1144. काँकर—(सं.पु.) कंकड़, पत्थरों का सूक्ष्म अंष।
  1145. का-का—(अव्य.) क्या-क्या? कौन-कौन सी चीज?
  1146. काँखब—(क्रिया) पीड़ा के कारण कराहना, हार मान लेना।
  1147. कागद—(सं.पु.) कागज।
  1148. कागदी—(सं.पु.) एक विषेष प्रकार की नींबू की किस्म।
  1149. काँड़ब—(क्रिया) काँड़ी में अनाज कूटना, किसी को पीटना।
  1150. काँड़ी—(सं.स्त्री..) पत्थर का पात्र जिसमें अनाज मूसल से काँड़ा जाता है, ओखली।
  1151. काटब—(क्रिया) बहते पानी का छल्लेदार होना। काटना, टुकड़े-टुकड़े करना, काट खाना, दॉत गड़ा देना।
  1152. कॉठी—(सं.स्त्री..) डील-डौल, कद, ढाँचा, शारीरिक गठन।
  1153. काठ—(सं.पु.) काठ, मोटी ईमारती की लकड़ी।
  1154. काढ़ब—(क्रिया) निकालना, कर्ज लेना, घर से बाहर करना।
  1155. काढ़ा—(सं.पु.) कर्ज, तरल पदार्थ का गाढ़ा रूप, ऋण बतौर लिया गया उधारी रुपया-पैसा, या अनाज।
  1156. काचर—(विषे.) गाय-भैंस के स्तन प्रक्षेत्र में दुग्ध की उभार सूचक स्थिति।
  1157. काची—(सं.स्त्री..) महुआ एवं चावल से बना बघेली व्यंजन।
  1158. काँछब—(क्रिया) उँगलियों से बर्तन में लिपटे पदार्थ को पोंछना।
  1159. काछी—(सं.पु.) कुशवाहा, बागवान, साग भाजी उगाने वाली जाति।
  1160. काज—(सं.पु.) विवाह, शादी, कार्य या काम।
  1161. कातब—(क्रिया) कपास से सूत बनाना, सूत या रस्सी कातना।
  1162. काँद—(सं.स्त्री..) चकत्तेदार घास, गठीली घास, जोतन की घास।
  1163. काँदा—(सं.पु.) कन्दमूल, कीचड़ एक तरकारी का नाम। काँँ ँ
  1164. दौ—(सं.पु.) बरसात का कीचड़ पानी- मिट्टी का उभार।
  1165. काँधा—(सं.पु.) कन्धा।
  1166. काँन—(सं.पु.) इज्जत, मर्यादा, सीमा मानना, कान मानब, बघेली मुहावरा।
  1167. कानी—(सं.स्त्री../विषे.) रस्सी का वह भाग जो मवेषी के गले में बाँधी जाती है, आँख से विकलांग।
  1168. कानीहउद—(सं.पु.) कांजी हाउस, आवारा पषुओं का जेलखाना।
  1169. कापा—(सं.पु.) खेत का हिस्सा या टुकड़ा।
  1170. कापू—(सं.पु.) जलाषय के तल पर जमी मिट्टी की मोटी तह।
  1171. काँपब—(क्रिया) कम्पन करना, भय या ठंड से शरीर हिलना।
  1172. कामरि—(सं.स्त्री..) तराजूनुमा कमरी, देवताओं को समर्पित कामर।
  1173. काँमा—(सं.पु.) कोपर के दोनों किनारे, प्रतिकूल परिस्थिति।
  1174. कॉयठ—(विषे.) हलका कड़वा, खाने में कसैला लगना।
  1175. कायली—(सं.स्त्री..) शर्म, संकोज, शर्मिन्दगी, ग्लानि।
  1176. काँय-काँय—(क्रि.वि.) कर्कष आवाज के साथ बातें करना, काँय-काँय करना, बघेली मुहावरा।
  1177. कारनी—(विषे.) घटिया किस्म का व्यक्ति, दिल में द्वेष रखने वाला।
  1178. कारकुन्नी—(ब.मु.) करामात, कारगुजारी, कार्यवाही, सरारत पूर्णकार्य।
  1179. कारी—(विषे.) काली, श्यामवर्ण, काले रंग वाली।
  1180. कारोबार—(सं.पु.) घरेलू स्थिति, उद्यम व्यापार, आर्थिक स्थिति।
  1181. कारछ—(विषे.) हल्की कालिमायुक्त, कालापन लिये हुये रंग।
  1182. काला भुसुंड़—(विषे.) एकदम काला, काला एवं भयावह।
  1183. काल्हु—(अव्य.) आने वाला कल, बीता हुआ कल।
  1184. काँसि—(सं.स्त्री..) एक प्रकार की लम्बी घास।
  1185. काही—(अव्य.) किसे, किसको, किस व्यक्ति को।
  1186. काहू—(सर्व.) किसी को, कोई।
  1187. काँहीं—(अव्य.) को, का, लिए।
  1188. काह काहे—(अव्य.) क्यों, किसलिए, किस कारण, इसलिये कि।
  1189. काहूका—(सर्व.) किसी को, किसी को भी, अन्य को।
  1190. काहे से कि—(अव्य.) क्योंकि, इसलिए, इस कारण। कि
  1191. किकिआब—(क्रिया) भय के कारण चीखना, सोते-सोते कूद उठना।
  1192. किकिरी कोंढा—(सं.पु.) छोटे-छोटे बच्चों की बहुतायत।
  1193. किचकिचाब—(क्रिया) दाँत पीसकर बोलना, पूरी ताकत लगाकर कहना।
  1194. किच्च—(विषे.) कोचिया, कृपण, मितव्ययी।
  1195. किच्चपिच्च—(क्रि.विषे.) आनाकानी, देने-लेने में बकवास करना।
  1196. किचिर-पिचिर—(विषे.) रिमझिम पानी से उत्पन्न हल्का कीचड़।
  1197. किट्ट-किट्ट—(क्रि.वि.) दाँतो से दाँत लड़ने से उत्पन्न ध्वनि, भोजन में कंकड़ मिल जाने पर उत्पन्न ध्वनि।
  1198. किटकिटाव—(क्रिया) कंकड़ मिल जाना, खाते समय दाँत में कंकड़ आने से किट-किट होना।
  1199. किटकिरी—(सं.स्त्री..) आँख में पड़ी धूल, धूल का कण, आँख में चुभनेवाली।
  1200. किधिनौ—(अव्य.) किसी दिन, किसी भी दिन।
  1201. किधिना—(अव्य.) किस दिन? कब? किस समय।
  1202. किन्हा—(अव्य.) किस दिन, कब?
  1203. किन्नर—(क्रि.वि.) बात-बात में तर्क-वितर्क पूर्ण पूछताछ।
  1204. किन्नरहा—(सं.पु.) कार्य के समय या देते-लेते समय पंचायत रोपने वाला।
  1205. किनकी—(सं.स्त्री..) चावल से टूटे हुये छोटे- छोटे कण समूह।
  1206. किनरिहाई—(विषे.) किनारीदार धोती या टोकनी विषेष।
  1207. किरमिचाब—(क्रिया) मुष्किल से बिना मन के कोई चीज देना, देने में।
  1208. किरिथ्थान—(विषे.) छूत-अछूत वस्तुओं का आपस में मिल जाना, अपवित्र हो जाना, जमीन पर जूठा भोजन बिखर जाना।
  1209. किरबा—(सं.पु.) कीड़ा, सर्प, कीड़े-मकोड़े।
  1210. किरचा—(सं.पु.) किसी वस्तु या पदार्थ का एक अंष या कण।
  1211. किरकिराब—(क्रिया) लिखते समय निब का कागज काटना, धूल के कारण आँख में दर्द होना।
  1212. किरहाव—(सं.पु.) घाव में डाली जाने वाली कीटनाशक दवा।
  1213. किरहा—(विषे.) घाव में कीड़े पड़ जाना, किड़ाया हुआ व्यक्ति।
  1214. किरिया—(सं.स्त्री..) कसम, सौगन्ध, चुनौती।
  1215. किलकिल—(सं.स्त्री..) वाद-विवाद, झगड़ा, बात-बात मे बहस।
  1216. किलनी—(सं.स्त्री..) मवेषियों की चमड़ी पर लिपटा रहने वाला कीड़ा, जुंआ।
  1217. किलबा—(सं.पु.) वह लकड़ी जिसके सहारे जांत घूमता है।
  1218. किलिप—(सं.स्त्री..) पेन के ढक्कन की क्लिप, औरतों के बाल वाली क्लिप।
  1219. किल्ल पों—(क्रि.वि.) शोरगुल करना, हीला हवाली करना।
  1220. किस्सा—(सं.स्त्री..) कथा, बीती बातें, कहानी, लोक कथा।
  1221. किसनिया—(सं.स्त्री..) मालकिन, किसान की पत्नी।
  1222. किहिन—(क्रिया) किये, किया, कर डाले, कर चुके।
  1223. किहिनी—(सं.स्त्री..) पहेली, बुझउअल, जनउहल, कहानी। की
  1224. कीक—(सं.स्त्री..) जोर से चीखना, चीख- चीत्कार।
  1225. की-की—(सर्व.) कौन-कौन? रोते समय की ध्वनि विषेष।
  1226. कीट—(सं.स्त्री..) अति मैला, तेल रखने वाले बर्तन के तल पर जमा कचरा, दाँतों में जमा हुआ दाग।
  1227. कीचर—(सं.पु.) आँखों से निकलने वाला श्वेत कचरा।
  1228. कीन—(क्रिया) किया हुआ, किया।
  1229. कीन्हिन—(क्रि.भू.) किये हैं, किया है, की गई क्रिया।
  1230. कीरब—(क्रिया) लिखकर काटना, कर्ज पर पावती लगाना, माचिस की सलाई जलाना, आग लगाना, नष्ट करना।
  1231. कु कुइँट—(सं.स्त्री..) दाने निकलने के बाद बचे अलसी के डंठल।
  1232. कुईनी—(सं.स्त्री..) तालाब में रात को फूलने वाला एक श्वेत पुष्प।
  1233. कुँई-कुँई—(क्रि.वि.) मैथुन हेतु बैल के मुख से निकली ध्वनि।
  1234. कुकरम—(सं.पु.) कुकर्म, बुरा कार्य, निन्दनीय काम।
  1235. कुकाम—(सं.पु.) काम का नुकसान, कार्य में व्यवधान होना।
  1236. कुंकुँधब—(क्रिया) मुक्का से जमकर पीटना, कुचलकर पीटना।
  1237. कुकुरदँती—(विषे.) कुत्ते की भाँति दाँत वाली, सामने के दाँत जिसके आगे-पीछे हो, पुलिंग कुकुरदता।
  1238. कुकुरिया—(सं.स्त्री..) कुतिया के लिये एक गाली, पुलिंग कुकुरा।
  1239. कुकुरमुँहा—(विषे.) कुत्ते की तरह मुँह हो जिसका, एक गाली।
  1240. कुचरब—(क्रिया) कुचलना, कूटना-पीटना, दातून चबाना।
  1241. कुचुहिली—(विषे.) दलहन के तुचके हुये अपुष्ट दानें।
  1242. कुड़िया—(सं.स्त्री..) पत्थर या चीनी मिट्टी का कटोरानुमा बड़ा पात्र।
  1243. कुड़ि—(सं.स्त्री..) खेत जोतते समय हल से बनने वाली लकीर।
  1244. कुढ़िआउब—(क्रिया) संचित करके रखना, वस्तु का ढेर लगाना।
  1245. कुढ़ब—(क्रिया) ईर्ष्या द्वेष करना, प्रगति देखकर जी जलना।
  1246. कुतकुताउब—(क्रिया) शरीर पर उँगली का घर्षण करके हँसाना।
  1247. कुतकुती—(सं.स्त्री..) शरीर को उँगुलियों से सहलाने पर उत्पन्न आनन्ददायी अनुभूति, हँसाने की प्रक्रिया।
  1248. कुतक्क—(सं./कि.वि.) ठेंगा, हाथ का अँगूठा दिखाना, कुछ नहीं के अर्थ में।
  1249. कुतरक—(विषे.) दैनिक दिनचर्या बिगड़ने से उत्पन्न व्याधि।
  1250. कुतुरब—(क्रिया) दाँत से रोटी काटना, रोटी काट लेना।
  1251. कुदराब—(क्रिया) उछलना-कूदना, कूदना- फाँदना, दौड़ दौड़कर चलना।
  1252. कुदँउआ—(क्रि.वि.) कूदते-फाँदते या उछलते हुये चलना।
  1253. कुदरूप—(विषे.) रूप से भद्दा, गन्दा चेहरे वाला।
  1254. कुदाउब—(क्रिया) कुदाना, उछालना, उभारना।
  1255. कुदरिया—(सं.स्त्री..) छोटे आकर की कुदाली, पुलिंग कुदारा।
  1256. कुँदुरू—(सं.स्त्री..) परवल समूह का एक फल, तरकारी विषेष।
  1257. कुधुँलब—(क्रिया) मारना-पीटना, कुचल डालना।
  1258. कुनाई—(सं.पु.) भूसे से महीन भूसे का आटा जैसा निकला कण।
  1259. कुचाहिल—(सं.पु.) अधमरा, पिटा हुआ, घायल शरीर वाला।
  1260. कुजँड़ा—(सं.पु.) नारियों का दरबार में बैठने का आदी पुरुष।
  1261. कुजुनिया—(अव्य.) खाना-खाने की बेला, सोने का समय, सूर्य डूबते समय की बेला, अनुपयुक्त समय।
  1262. कुजाति—(सं.स्त्री..) जात-विरादरी से तिरष्कृत व्यक्ति, असमान जाति का, छूत व्यक्ति।
  1263. कुजोर—(विषे.) काम का नुकसान, समय का नष्ट हो जाना।
  1264. कुजोग—(सं.पु.) दुर्भाग्यपूर्ण समय, बुरा वक्त, दुर्दिन, कुसमय।
  1265. कुछू—(विषे.) कुछ, कुछ भी, कोई चीज।
  1266. कुटकुर—(विषे.) गीली जमीन का हलका- हलका सूख जाना।
  1267. कुटुल्ली—(क्रि.वि.) निरर्थक बातें करना, बाते भिड़ाना, कुटुल्ली काटना, ब.मु.।
  1268. कुटुर-कुटुर—(अव्य.) जल्दी-जल्दी बोलना, तोतली बोली, निर्भीकता पूर्ण बोली।
  1269. कुटइलहा—(विषे.) हमेषा मार खाते रहने वाला, कुटेंव वाला।
  1270. कुट्टी—(सं.स्त्री.) बोलचाल बन्द हो जाना, बीड़ी की अधजली टुकड़ी।
  1271. कुटकी—(सं.स्त्री..) कण के आकार का महीन कीट, एक खरीफ फसल।
  1272. कुठुली—(सं.स्त्री..) अनाज रखने वाला मिट्टी का पात्र, पुलिंग कुठिला।
  1273. कुठाँव—(सं.पु.) कुत्सित स्थान, अनुचित ठौर, संवेदनषील अंग।
  1274. कुठाहिर—(सं.पु.) अनुपयुक्त जगह, मुलायम या नाजुक स्थान-अंग।
  1275. कुनू-कुनू—(विषे.) बहुत छोटा-छोटा, थोड़ा- थोड़ा, अति अल्प।
  1276. कुनेत—(विषे.) बुरी नियत, दो वस्तुओं की असमान ऊँचाई, जिसका रिष्ता बोलने या छूने का न हो।
  1277. कुन्नियाव—(विषे.) अन्याययुक्त कार्य, अनैतिक- अनमिल काम।
  1278. कुनकुन—(विषे.) हलका गर्म, बहुत कम गरम जल की स्थिति।
  1279. कुनकुनाब—(क्रिया) उत्तेजित होना, हल्का- हल्का गर्म होना, मन ही मन नाराज होना, पहले से चैतन्य होना।
  1280. कुबरा—(सं.पु.) जिसका कूबड़ निकला हुआ हो, स्त्री.लिंग कुबरी।
  1281. कुमरगह—(विषे.) क्वांरापन का दाग मिटना, बुढ़ापे में विवाह।
  1282. कुमार—(सं.पु.) क्वांरा, अनव्याहा, क्वार महीना।
  1283. कुमारगी—(विषे.) बुरे मार्ग मे चलने वाला, चाल चलन से गंदा व्यक्ति।
  1284. कुरिया—(सं.स्त्री..) कुटी, छोटा सा घर, घास-फूस की झोपड़ी।
  1285. कुरधन—(सं.स्त्री..) मथानी में लगी रस्सी विषेष।
  1286. कुरकुर—(क्रि.वि.) भुने पापड़ को तोड़ने से होने वाली आवाज, रोटी का अधिक भुन जाना, पिल्ले को बुलाने वाला एक शब्द।
  1287. कुरसंती—(विषे.) बदमासीनुमा शैली में अन्याय पूर्ण व्यवहार, संविदा से मुकर जाना, धोखा-धड़ी युक्त क्रिया कलाप।
  1288. कुरकुटिहा—(विषे.) चिथड़े पहने हुये, दरिद्र वेष भूषा, अति दीन-हीन।
  1289. कुरुरमुरुर—(क्रि.वि.) थोड़ा, बहुत कम, काम चलाऊ मात्रा, ऐन-केन प्रकारेण
  1290. कुरुर-कुरुर—(क्रि.वि.) फल या पापड़ खाने पर होने वाली एक ध्वनि।
  1291. कुरुआ—(सं.पु.) एक पाव की क्षमता का मापन पात्र। कुरउब - - राषि लगाना, जमीन पर रखना, संचयन क्रिया।
  1292. कुरई—(सं.स्त्री..) अनाज नापने का एक पुराने प्रचलन का पात्र।
  1293. कुरइली—(सं.स्त्री..) अनाज गहाई में प्रयुक्त होने वाली लकड़ी का कृषि औजार।
  1294. कुरेंदब—(क्रिया) मिट्टी की ऊपरी परत छीलना, गड़ी बात को उखाड़ना, भूली बात को खोदकर जागृत करना।
  1295. कुलकब—(क्रिया) अति प्रसन्न होना, किलकारी मारना।
  1296. कुलुलबुलुल—(क्रि.वि.) मन्दगति से हरकत या हलचल करना, छोटी-छोटी अनगिनत वस्तुए, पिल्ले समूह की प्रवृत्तिगत हरकत।
  1297. कुलाँच—(सं.पु.) उलाहना, बुरा-भला शब्द, गाली-गलौज।
  1298. कुलच्छी—(विषे.) बुरे लक्षणों का, दुर्गुणी, बुरी प्रवृत्ति वाला।
  1299. कुलुनिया—(सं.स्त्री..) कोल की पत्नी, कोल जाति की नारी।
  1300. कुलपुज्ज—(विषे.) कुल का पूज्य, परिवार के लिये पूजित पुरोहित।
  1301. कुल्ल—(विषे.) सम्पूर्ण या योग, बहुत अधिक, पर्याप्त मात्रा।
  1302. कुलबोरन—(विषे.) वंष परिवार की मर्यादा डुबाने वाला।
  1303. कुल्लू—(सं.पु.) एक जंगली वृक्ष, कान के बगल का दाढ़ी की ओर झुका बाल।
  1304. कुसगुन—(सं.पु.) अपषगुन, बुरा संकेत, अशगुन।
  1305. कुसी—(सं.स्त्री..) गेहूँ के दाने को ढके रहने वाला छिलका, गहाई के बाद की डंठल की गठीली टुकड़ियाँ।
  1306. कुसा—(सं.पु.) घास या काँस की जड़, पूजा-पाठ का उपकरण।
  1307. कुसिया—(सं.स्त्री..) हल में प्रयुक्त होने वाली एक लकड़ी।
  1308. कुसिआरी—(सं.स्त्री..) हल का फाल, एक कीड़े द्वारा बनाया गया घर, चने के आकार की घास की जड़।
  1309. कुसाइत—(स.पु.) बुरा समय, कष्टप्रद दिन, प्रतिकूल परिस्थिति।
  1310. कुसुली—(सं.स्त्री..) गुझिया।
  1311. कुहब—(क्रिया) जमकर मारना- पीटना, खेत में अत्याधिक अनाज का उग आना, जोर से वर्षा होना।
  1312. कुहकुहाब—(क्रिया) पिल्ले की वेदनायुक्त आवाज का निकलना।
  1313. कुहार—(सं.पु.) कुम्हार, कुंभकार जाति, स्त्री.लिंग कुहारिन।
  1314. कुहिराब—(क्रिया) धुँआ छा जाना, धूल दूषित आसमानी वातावरण।
  1315. कूकीं—(क्रि.वि.) बच्चों का छिपा- छिपउहल वाला एक खेल, लुका-छिपी।
  1316. कुकुर—(सं.पु.) कुत्ता, कुत्ते की तरह आदमी। कू
  1317. कूचब—(क्रिया) कुचलना, किसी वस्तु को कूटना, मारना-पीटना।
  1318. कूँची—(सं.स्त्री..) गहना साफ करने वाला ब्रस, दातून की कूँच।
  1319. कूँचा—(सं.पु.) झाड़ू, बढ़नी।
  1320. कूँची—(सं.स्त्री..) छोटे आकार की झाडू़, महुए का फूल ढकने वाला डंठल, दीवाल पोतने का एक ब्रस।
  1321. कूढ़ा—(सं.पु.) कूड़ा कर्कट का ढेर, अनाज का ऊँचा गड्ढा।
  1322. कूता—(सं.पु.) ठेके का काम, बिना नाप-तौल के अन्दाज, नजर अन्दाज से मूल्यांकन।
  1323. कूतब—(क्रिया) अन्दाज लगाना, अनुमान से मूल्यांकन करना।
  1324. कूदा-फाँदी—(क्रि.वि.) भाग-दौड़ करना, किसी कार्य के लिये अतिरिक्त प्रयास करना, हाथ-पाँव पटकना, अथक परिश्रम करना।
  1325. कूर—(सं.स्त्री..) गुझिया के भीतर का मसाला, पिल्ले को बुलाने का शब्द।
  1326. कूरी—(सं.स्त्री..) पूजा के समय चावल से जमीन पर बना नवग्रह।
  1327. कूरा—(सं.पु.) कूड़ा-कर्कट, धूल-घास के कण, घास मिट्टी का ढेर।
  1328. कूल—(सं.स्त्री..) कमर के दोनों बगल की हड़्डियाँ व माँस पेषी।
  1329. कूहा—(सं.पु.) बड़ा सा ढेर, अधिक मात्रा में संचित वस्तु समूह। के
  1330. के—(सर्व.) कौन?
  1331. के-के—(सर्व.) कौन-कौन?
  1332. केऊ—(सर्व.) कोई, कोई भी।
  1333. केकँरा—(सं.पु.) केकड़ा, गीली मिट्टी में रहने वाला एक कीड़ा।
  1334. केखर—(सर्व.) किसका, (पुलिंग) केखरि (स्त्री.लिंग)
  1335. केखा—(सर्व.) किसको, किसे, किस व्यक्ति को।
  1336. केखे—(सर्व.) किसके यहाँ, किसके।
  1337. केंधा—(अव्य.) किधर, किस ओर, किस तरफ, कहाँ।
  1338. केचुर—(सं.पु.) सर्प के पेट से उत्सर्जित पुरानी चमड़ी।
  1339. केंचब—(कि.वि.) पटक-पटक कर पीटना, खूब जमकर खाना।
  1340. केत्तव—(विषे.) कितना भी।
  1341. केतका—(विषे.) कितनी मात्रा, कितना नग, स्त्री.लिंग केतनी।
  1342. केतू—(विषे.) कितनी, कितना, कितनी संख्या।
  1343. केत्ते जने—(विषे.) कितने लोग, कितने जन, कितने।
  1344. केत्तीदार—(अव्य.) किस समय, कितनी देर।
  1345. केबा—(क्रिया) परेषानी, उलझन, झंझट, आफत।
  1346. केबादा—(सं.पु.) परेषानी के कारण दुर्गति, दुखदायी उलझन।
  1347. केमरिया—(सं.स्त्री..) खिड़की में छोटे साइज की किवाड़िया।
  1348. केंमाचि—(सं.स्त्री..) एक प्रकार की रोयेदार सेम, तरकारी वाला फल।
  1349. केमाँ—(अव्य.) किसमें, किस पर, किसके ऊपर।
  1350. केमरा—(सं.पु.) किवाड़ा, फाटक।
  1351. केरकेर—(क्रि.वि.) पषुओं को अन्दर करने का सांकेतिक शब्द।
  1352. केरि—(अव्य.) की, आपकी, स्त्री.लिंग शब्द।
  1353. केर—(अव्य.) का, आपका, पुलिंग शब्द।
  1354. केि रिआउब—(क्रिया) मवेषियों को भीतर करना, घर के अन्दर कर लेना।
  1355. केराई—(सं.स्त्री..) धुलते समय निकला हुआ दाल का छिलका।
  1356. केरबार—(सं.पु.) नाव खेने वाला लकड़ी का लठ्ठा।
  1357. केसे—(सर्व.) किससे, किस व्यक्ति से।
  1358. केहरा—(सं.पु.) अहीरों का एक नृत्य, चारों ओर नाचकर फिरना।
  1359. केहौं-केहा केहौं-केहौं—(क्रि.वि.) षिषु रुदन की एक विषेष ध्वनि।
  1360. केहीं—(सर्व.) किसे, किसको। को
  1361. को—(सर्व.)कौन।
  1362. कोइली—(सं.स्त्री..) आम के फल में पड़ी काली बिंदी, कोयल।
  1363. कोइलियार—(सं.पु.) काले रंग का एक सर्प, कजरारी आँख।
  1364. कोंइदा—(विषे.) बिल्कुल कच्चा फल, फल की बतिया।
  1365. कोऊ—(सर्व.) कोई भी, भी, कोई।
  1366. कोऊ से—(सर्व.) किसी से, किसी भी से।
  1367. कोस—(सं.पु.) कौआ, एक नजर, गड़ाकर देखना।
  1368. को केत्ता—(विषे.) कौन कितना, कौन कितनी दूर तक।
  1369. को केखर—(अव्य.) कौन किसका, किसने किसका।
  1370. को केही—(अव्य.) कौन किसे, कौन किसकी।
  1371. कोख—(सं.स्त्री..) पेट, गोद, गर्भाषय।
  1372. कोगदा—(सं.पु.) लकड़ी के बीच का अपुष्ट भाग।
  1373. कोगी—(सं.पु.) दरिद्री पेटवाला, जिसका कभी पेट न भरे।
  1374. कोचइन—(सं.स्त्री..) चें-चे करने वाली चिड़िया, शोरगुल करने वाली नारी।
  1375. कोचट—(विषे.) कंजूस या कृपण।
  1376. कोचरा—(विषे.) कीचड़ लगी आँख वाला, बार-बार पलकें पटपटाने वाला।
  1377. कोटहाई—(विषे.) कोटे से खरीदी गई सस्ती चीजें।
  1378. कोट—(क्रिया) तास के खेल में सौ बार हारने का प्रतीक शब्द।
  1379. कोटर्रकोटर्र—(क्रि.वि.) मेढ़क के बोलने की एक विषेष ध्वनि।
  1380. कोठा—(सं.पु.) मकान का एक कमरा, पेट के दोनों बगल के प्रकोष्ठ।
  1381. कोठरिया—(सं.स्त्री..) कच्चे घर की छोटी सी कोठरी।
  1382. कोंढ़ा—(सं.पु.) छप्पर रहित बाड़ा, मवेषियों का घरौंदा।
  1383. कोड़ान—(विषे.) कीड़े लगे फल या दाँत।
  1384. कोड़हा—(विषे.) जिसके कोढ़ हो, सफेद दाग वाला, एक गाली।
  1385. कोड़बाउब—(क्रिया.) जमीन गोड़वाना, गोड़ में मदद करना।
  1386. कोड़ब—(क्रिया) जमीन की ऊपरी परत निकालना, हल्की खुदाई।
  1387. कोतरा—(सं.पु.) आलमारी के नीचे की जगह, बहुत अन्दर वाली जगह।
  1388. कोंथब—(क्रिया) नाखून से चमड़ी खीचना या गड़ाना, चिहुँटी काटना।
  1389. कोथबाउब—(सं.पु.) चिहुँटी कटवाना, अँगुली गड़वाने में सहयोग करना।
  1390. कोथबइया—(सं.पु.) चिहुँटी काटने वाला व्यक्ति।
  1391. कोदई—(सं.स्त्री..) छिलका रहित कोदौ का दाना।
  1392. कोदइली—(सं.स्त्री..) कोदा अनाज से छोटी खरीफ की फसल।
  1393. कोनमां—(सं.पु.) घर या पलक का एक कोन, खेत का एक हिस्सा।
  1394. कोनइता—(सं.पु.) धान दलने वाली मिट्टी की ग्रामीण चक्की।
  1395. कोनी-कोना—(अव्य.) चारो ओर, कोनी कोना बोलना, बघेली मुहावरा।
  1396. कोनिया—(सं.स्त्री..) घर के छप्पर का कोना, मस्तक के बगल वालों से बना कोन।
  1397. कोनातू—(विषे.) टेढ़ी स्थिति, कोणेदार जगह, तिरछी दृष्टि।
  1398. कोपराउब—(क्रिया) जुते हुये खेत को कोपर से समतल करना।
  1399. कोपरहा—(सं.पु.) कोपर में प्रयुक्त सांकल व बैल।
  1400. कोंपर—(सं.पु.) खेत की मिट्टी समतल करने वाली पटरी।
  1401. कोबा—(सं.स्त्री..) कटहल या सीताफल के दाने को ढकने वाला गबूझा।
  1402. कोमराउब—(क्रिया) मक्खन पालिस करना, प्रसन्न करना, मर्दन करके कठोर वस्तु को कोमल करना।
  1403. कोमरई—(विषे.) कोमलपन, विनम्रता, नमनीयता।
  1404. कोमरी—(सं.स्त्री..) नवीन कोपलें, अति मुलायम पत्ते।
  1405. कोमरि—(विषे.) मुलायम, सुकुमार, अरूढ़।
  1406. कोरा—(सं.स्त्री..) माँ की गोद, बाँस की तरह काठ की पतली लकड़ी।
  1407. कोरइया—(सं.स्त्री..) पतले बाँस के लठ्ठे, षिषु का माँ की गोद में पाँव में पाँव फँसाकर पड़ना।
  1408. कोरिखा—(विषे.) कोयला, कालिख, कलंक का टीका।
  1409. कोराव—(क्रि.वि.) प्रजनन पूर्व गाय-भैंस के जनांग से तरल पदार्थ निकलना।
  1410. कोरकसर—(सं.स्त्री..) कमी, न्यूनता, काँट- छाँट।
  1411. कोरउहा—(सं.पु.) दुधमुहा षिषु, माँ की गोद में रहने वाला षिषु।
  1412. कोरिखऊँ-- (विषे.) बक्रदृष्टि, तिरछी नजर से देखना।
  1413. कोरभर—(क्रि.वि.) किसी वस्तु का नोक के बल गिरना, व्यंग्यात्मक कथन।
  1414. कोरचा—(सं.पु.) चोरी से अपने गाँठ से संचित रूपया-पैसा।
  1415. कोल्ह कोल्हू—(सं.पु.)तेल निकालने वाला लकड़ी का चरखा।
  1416. कोलान—(सं.पु.) कोलों की बस्ती, आदिवासी मुहल्ला।
  1417. कोलदहका—(सं.पु.) कोल प्रजा पति का चर्चित लोक गीत।
  1418. कोलीहा—(विषे.) जो दूसरे की जमीन में आकर बसा हुआ हो।
  1419. कोलिया—(सं.स्त्री..) घर के पीछे लगी जमीन का खेत, बगिया।
  1420. कोलिन—(सं.स्त्री..) कोल की पत्नी, पुलिंग कोल।
  1421. कोस—(सं.पु.) दो मील की दूरी, लम्बाई माप का पुराना पैमाना।
  1422. कोंहड़ा—(सं.पु.) श्वेत कद्दू, लाल कद्दू, एक फल तरकारी, स्त्री.. कोहड़िया।
  1423. कोहरी—(सं.स्त्री..) उवाली गई ज्वार-दाने, गेहूँ के उबले दाने, पुलिंग कोहरा।
  1424. कोहबर—(सं.पु.) गृह देवता वाला कमरा, पति-पत्नी का प्रथम प्रवेष कर पूजा करने का स्थल विषेष।
  1425. कोहू—(सर्व.) कोई, कोई भी, किसी भी की।
  1426. कोहराब—(क्रिया) गाय-भैंस के मूत्रांग से श्वेत पदार्थ का उत्सर्जन होना।
  1427. कोहड़उरी—(सं.स्त्री..) कोहड़े एवं दाल से बनी हुई पकौड़ीनुमा बरी। ख
  1428. खई—(क्रिया) खालें, खायें, खाइए, खाओं, खा लूँ।
  1429. खइहौं—(क्रिया) खाऊगा, खाऊँगी।
  1430. खँइचब—(क्रिया) खींचना, निकालना, लाइन खींचना।
  1431. खइरबार—(सं.पु.) एक जाति, ऐरा-गैरा लोग, खाने वाले।
  1432. खउटाब—(क्रिया) रंग उड़ जाना, शरीर की चमक चली जाना।
  1433. खउटहा—(सं.पु.) एक गाली, मैल की पपड़ीयुक्त चमड़ी धारित आदमी।
  1434. खउरि—(क्रिया) सींग से जमीन खोदना, कार्य हेतु अति उत्तेजित होना।
  1435. खउरा—(विषे.) मैल की पपड़ी, एक प्रकार का रोग, आर्थिक तंगी, खउरा लगना, बघेली मुहावरा।
  1436. खउनहर—(सं.पु.) खाना खाने वाला, खाना के लिये प्रतीक्षारत लोग।
  1437. खउनहाई बेरा—(विषे.) खाना खाने का समय, दोपहर या रात की बेला।
  1438. खउँदब—(क्रिया) पाँव से कुचलना, पाँव से शरीर का मर्दन करना, किसी को पैरों से मारना-पीटना।
  1439. खउरिआन—(विषे.) धूल-धूसरित, चर्म रोग से ग्रसित, उड़ी हुई चमक।
  1440. खउदि—(सं.स्त्री..) जुताई वाले बैलों के पुठ्ठे पर बना चिन्ह्।
  1441. खउटान—(विषे.) जिसका रंग उड़ा हो, खउटा लगा हुआ।
  1442. खक्खा—(सं.पु.) जोर की हँसी, हँसी का ठहाका, अट्टहास।
  1443. खखलब—(क्रिया) दाँत से काटकर खून निकाल लेना, जमकर पिटाई करना।
  1444. खखरी—(सं.स्त्री..) पानी निकलने का कच्चा पुल, मीठा पापड़।
  1445. खखार—(सं.पु.) गाढ़ा कफ या थूक, बलगम।
  1446. खखरिया—(सं.स्त्री..) बेसन की बनी गुड़ के सिरेयुक्त पपड़ी।
  1447. खँचब—(क्रिया) गीली जमीन में पाँव का धंस जाना।
  1448. खँचन—(सं.पु.) ऐसी जमीन जहाँ पाँव रखने पर धँस जाते हों।
  1449. खचाड़ा—(विषे.) टूटी-फूटी स्थिति, जीर्ण- षीर्ण हालत।
  1450. खजुरी—(सं.स्त्री..) खुजली, एक रोग विषेष।
  1451. खजुआउब—(क्रिया) खुजलाना, खजुआ देना, बघेली मुहावरा।
  1452. खजुलँइया—(सं.स्त्री..) एक त्यौहार, कजली, रक्षा बन्धन का दूसरा दिवस।
  1453. खँझनी—(सं.स्त्री..) झाँझ या मजीरा, धातु का एक वाद्य यंत्र।
  1454. खँझझी—(सं.स्त्री..) जलाषय में होने वाली एक घास विषष।
  1455. खटिया—(सं.स्त्री..) चारपाई, लकड़ी का शयन पात्र।
  1456. खटकरब—(क्रिया) टिक पाना, रह पाना, पार हो जाना।
  1457. खटोलबा—(सं.पु.) बच्चों के लिये छोटे आकार की चारपाई।
  1458. खटरस—(विषे.) खट्टा एवं मीठा स्वाद का मिश्रण युक्त।
  1459. खट्ट-खट्ट—(सु.पु.) खटखट की आवाज, जल्दी-जल्दी बिना रुके हुये
  1460. खटकिल्ली—(सं.स्त्री..) लकड़ी की कील।
  1461. खटिक—(विषे.) अत्यन्त कंजूस आदत का कृपण, खटिक होना, ब.मु.।
  1462. खटाइॅध—(विषे.) हल्का खट्टा, खटाई युक्त फल का स्वाद।
  1463. खटाका—(विषे.) तत्काल, तुरन्त, बिना रूके हुये, निर्भीक होकर।
  1464. खटर-पटर—(क्रि.वि.) चलते समय जूते से उत्पन्न आवाज, शोर-गुल।
  1465. खटमिठ्ठी—(विषे.) कुछ खट्टा कुछ मीठा स्वाद हो जिसमें।
  1466. खटखटाउब—(क्रिया) खटखटाने की आवाज करना, संकेत करना।
  1467. खटबाउब—(क्रिया) बहुत दिनों तक चलाना, काफी दिनों तक प्रयोग योग्य बनाये रखना, इफाजत के साथ उपयोग करना।
  1468. खटाऊ—(विषे.) टिकाऊ, मजबूत, अधिक दिनों तक चलने वाली।
  1469. खढ़ोरब—(क्रिया) भट्टी में चना भूनना, हल्का भूनना।
  1470. खढ़ढलान - - जिस कार्य मे अधिक दिक्कत हो, कष्ट एवं व्यवधान युक्त।
  1471. खता—(सं.पु.) फोड़ा, बड़ा सा घाव, स्त्री.लिंग खतिया।
  1472. खतउनी—(सं.स्त्री..) जमीन का हिसाब वाला रिकार्ड, पटवारी का जमीनी गोषवारा।
  1473. खतहा—(विषे.) जिसके सिर पर फोड़ा- फुन्सी हो, स्त्री.लिंग खतही।
  1474. खदलेंहड़—(विषे.) खाने भर के लिये छोटे- छोटे बच्चे जो कार्य योग्य न हो।
  1475. खदुगर—(विषे.) खादयुक्त मिट्टी, उर्बर भूमि।
  1476. खधाई—(सं.पु.) खेत के बीच-बीच की घास चराने वाला व्यक्ति।
  1477. खधँउब—(क्रिया) छींद लेना, वर्गीकृत करना, वर्ग में बाँटना, कब्जा करना।
  1478. खँधब—(क्रिया) बीच में रुक जाना, ठहर जाना, सोच-विचार कर चुप रह जाना।
  1479. खन्ती—(सं.स्त्री..) खदान, छोटी खदान, पुलिंग ‘खन्ता’।
  1480. खनतरिया—(सं.स्त्री..) चमड़े का टूटा हुआ जूता, जूते के अन्दर की तक्ती।
  1481. खनखनाउब—(क्रिया) खन-खन की आवाज करना, बजाना।
  1482. खनीमा—(सं.पु.) एक प्रकार का कन्दमूल, एक तरकारी।
  1483. खनखजूर—(सं.पु.) दस पैरों वाला एक जहरीला कीड़ा।
  1484. खनपात—(क्रि.वि.) खोदना-पाटना, खनपात बराबर बघेली मुहावरा।
  1485. खनतीखोटिया—(सं.स्त्री..) दोनों टाँगों पर बच्चों को बिठाकर लेटे-लेटे झुलाना।
  1486. खन्न-खन्न—(सं.पु.) जमीन पर थाली गिरने से उत्पन्न आवाज, सिक्के से सिक्का बजाने की ध्वनि।
  1487. खनखोदरा—(विषे.) खुरदरा चेहरे वाला, चेचक के गहरे दाग वाला मुख।
  1488. खन्धा—(सं.पु.) घर का एक कमरा, खेत का एक टुकड़ा, खाना, वर्गीकृत।
  1489. खनब—(क्रिया) खोदना, अनभल मनाना, खुदाई करना।
  1490. खनबइया—(विषे.) खोदने वाला, उत्प्रेरित करने वाला।
  1491. खनाउब—(क्रिया) खुदाई करवाना, खोंदवाना।
  1492. खनबेय—(क्रिया) खोदोगे, खोदेंगे, खोदोगी।
  1493. खनेनतै—(क्रि.भू.) खोदा था, खोदी थी।
  1494. खपब—(क्रिया) माँग के अनुसार पूर्ति होना, खर्च हो जाना।
  1495. खपउब—(क्रिया) अपने आप को तपाना, खर्च कर देना।
  1496. खपबाउब—(क्रिया) औंधा करके रखना, अधोमुख वस्तु करना।
  1497. खपकउँआ—(अव्य.) जमीन पर सटाकर रखने की विधि।
  1498. खपटी—(सं.स्त्री..) पापड़ की तरह पतली पत्थर की परत, खपड़े की टुकड़ी, खपटी खुजलाना बघेली मुहावरा।
  1499. खपड़ा—(सं.पु.) छप्पर छाने का उपकरण, मिट्टी के बने खपड़े।
  1500. खपड़हा—(विषे.) खपड़े से छायी हुई छप्पर, खपरैल घर।
  1501. खपड़ी—(सं.स्त्री..) चना भूनने के लिये प्रयुक्त घड़ा, एक मिट्टी का पात्र।
  1502. खप्पर—(सं.पु.) खेल तमाशे में प्रयुक्त आगयुक्त पेंदीवाला अर्ध घड़ा।
  1503. खपचड़ी—(सं.स्त्री..) बैल की सीग मे बँधी पटरी एवं कपड़ा।
  1504. खबीस—(सं.पु.) इस्लामी भूत पिषाच या राक्षस।
  1505. खबाउब—(क्रिया) खिलाना, खिलवाना, खिलाने में सहयोग करना।
  1506. खबइया—(सं.पु.) खाने वाले लोग, भोज हेतु आमंत्रित जन।
  1507. खबड़ीहिल—(विषे.) उबड़-खाबड़, ऊँची- नीची, खुरदुरी भूमि।
  1508. खबर्रा—(सं.पु.) खूब खाने वाला, स्त्री.लिंग- ‘खबर्री’ पेटारथू।
  1509. खबच्चड़—(विषे.) अधिक खाने वाला, दूसरे का हक भी खा लेने वाला।
  1510. खब्बड़—(सं.पु.) खाने-पीने में आगे रहने वाला, बघेली मुहावरा।
  1511. खभार—(सं.पु.) घर गृहस्थी का भार, गृहस्थी का कार्य।
  1512. खभुआउब—(क्रिया) सिर में बालों को तितिर- बितिर फैलाना, कंघी बिहीन केष।
  1513. खमखर—(विषे.) जलवृष्टि बाद धूप का निकालना, गीली जमीन का सूख जाना, वातावरण का खुल जाना।
  1514. खम्हार—(सं.पु.) एक वनौषधि।
  1515. खये—(क्रिया) खाना, खा लेना, खाना?
  1516. खयरात—(विषे.) खाने के बाद भाग जाने वाले, ऐसे-वैसे लोग।
  1517. खर—(विषे.) तेज-तर्राट, कंठस्थ या रट डालना, सामान्य से अधिक पका हुआ।
  1518. खरके—(क्रि.वि.) सुस्पृष्ठ ढंग से, ठीक से, जोर देकर, पूरे मन से।
  1519. खरकउनी—(सं.स्त्री..) पषुओं के एकत्र होने का विषेष स्थल, पषुओं का अखाड़ा।
  1520. खरकरब—(क्रिया) कंठस्थ करना, पूर्णता प्रदान करना, मजबूत बनाना।
  1521. खरी—(सं.स्त्री..) खली, खरी-बेनउरी,ब.मु.।
  1522. खररि—(सं.स्त्री..) अनाज के डंठल बाँधने वाली रस्सी।
  1523. खरचिन्हा—(सं.पु.) जमीन पर बनाया गया चिन्ह्, खींची गई जमीन पर रेखा।
  1524. खरभोंटब—(क्रिया) दोनों हाथ से खाना, झटका मारकर छुड़ा लेना, जल्दी- जल्दी दोनों हाथ से संग्रह करने की क्रिया।
  1525. खरिका—(सं.पु.) बहुत अधिक, पषुओं के इकट्ठा होने वाली जगह।
  1526. खरखसील—(विषे.) खुरदुरापन, दानेदार या रबेदार, चिकनाहट रहित।
  1527. खरिहान—(सं.पु.) खलिहान, खरिहान करना बघेली मुहावरा।
  1528. खरकब—(क्रिया) आगे बढ़ना, खिसक कर आगे होना।
  1529. खरही—(सं.स्त्री..) फसल कटाई के समय सेवकों को दिया जाने वाला अनाज का डंठल।
  1530. खर-खर—(विषे.) दो टूक, सही-सही, पर्याप्त पकी हुई।
  1531. खरिया—(सं.स्त्री..) गुप्ता जाति का गोत्र, रस्सी का जालीदार बँधना।
  1532. खरहा—(सं.पु.) खरगोष। खरहा
  1533. कुँदाव—(विषे.) थोड़ा सा, छोटा-नीचा ढेर, बघेली मुहावरा।
  1534. खरखराब—(क्रिया) खड़खड़ाना, खड़खड़ाहट होना, सूखे पत्तों की आवाज।
  1535. खरकाउब—(क्रिया) खिसका देना, खिसका लेना, हटाना, दूर करना।
  1536. खर्रा—(सं.पु.) ठंडी में घास पर जमी तुषार, घास की जड़ से बना ब्रस।
  1537. खरचा—(सं.पु.) दाँत खोदने वाली सीक, हलवाहे का पारिश्रमिक खर्च।
  1538. खरपटबा—(सं.पु.) स्वाभिमानी, लेनदेन में खरा, समर्थ एवं सक्षम पुरुषार्थी।
  1539. खरखोड़ब—(क्रिया) जमीन से घास छीलना, पूर्णतः समेट लेना।
  1540. खरफुर—(क्रि.) सत्यापन करना, पक्का करना, सत्य-असत्य का परीक्षण करना।
  1541. खरहँट—(सं.स्त्री..) बिछौना रहित चारपाई, खाली चारपाई।
  1542. खरधरिआब—(क्रिया) कार्य के लिये तत्पर होना, पूर्ण मन बनाकर करना।
  1543. खरहरा—(सं.पु.) झाड़ू के विकल्प में प्रयुक्त अरहल के डंठल-समूह।
  1544. खरउब—(क्रिया) खरा करना, घी को खूब पकाना, भूख को जगाना।
  1545. खरान—(विषे.) पक कर सूखा हुआ, अधिक पकी हुई रोटी की स्थिति।
  1546. खराउब—(क्रिया) नदी नाले की तेज धारा, तीव्रगति से बहाव।
  1547. खरेदब—(क्रिया) पीछा करना, दूर भगाना, घर से निकालना, हटाना।
  1548. खरी के ढेपरा—(सं.पु.) खली का टुकड़ा, ब. मु.।
  1549. खरचब—(क्रिया) खर्च करना, सींक से पत्तल बनाने की क्रिया।
  1550. खलल—(सं.स्त्री..) विग्रह, बाधा-व्यवधान, आपसी मतभेद, रुकावट।
  1551. खलँइता—(सं.पु.) हवा देने हेतु चमड़े की धौकनी, ढीले-ढीले जूते।
  1552. खलबट्टा—(सं.पु.) खड़ा मषाला कूटने वाला लोहे का कटोरानुमा पात्र।
  1553. खलाउब—(क्रिया) नीचे करना, नीचे की ओर झुकाना, पेट का धसा होना।
  1554. खलरी—(सं.स्त्री..) चमड़ी, खाल, वाह्य आवरण।
  1555. खलीसा—(सं.पु.) जेब, पाकेट।
  1556. खलास—(विषे.) खाली हो जाना, चुक जाना।
  1557. खलखलाउब—(क्रिया उदार होकर झोली भरना, खूब दे देना।
  1558. खसट्टा—(विषे.) सस्ता, कमजोर, घटिया किस्म, असुंदर।
  1559. खँसिलब—(क्रिया) जमीन पर पड़े-पड़े खिसकना, फिसलना।
  1560. खँसिलाउब—(क्रिया) आगे बढ़ाना, पीछे खींचना, घसीटना।
  1561. खसकब—(क्रिया) बढ़ना, खिसकना, बैठे-पड़े इधर-उधर होना।
  1562. खँसेलब—(क्रिया घसीटना, जमीन पर घिसलाना।
  1563. खहराउब—(क्रिया) जूठी गिलास पानी डालकर धोना, दोहनी साफ करना। खा
  1564. खाँड़ी—(विषे.) बीस कुरई की मात्रा का एक मापक शब्द।
  1565. खाँचब—(क्रिया) आगे पैर बढ़ाना, लंगोटी की काछ लगाना।
  1566. खादा—(सं.पु.) खाद, रसायन, गोबर का सड़ा समूह।
  1567. खाँधव—(क्रिया) वर्गीकृत करना, पार्टीशन करना।
  1568. खाखाखइया—(सं.पु.) बघेली जनउहल, एक प्रकार का खेल।
  1569. खाखी—(विषे.) भूरे मटमैले रंग का, कपड़ा का रंग।
  1570. खाब—(क्रिया) खायेंगे, खाऊँगा, खाऊँगी।
  1571. खाम्हीं—(विषे.) कमी, कमजोरी, कोर- कसर, गड़बड़ी।
  1572. खाये?—( सं.पु.) खा लिये? खा लिया?
  1573. खारी—( (सं.स्त्री..) चने के पौध पर चिपका खट्टा चिपचिपा पदार्थ।
  1574. खाले—(अव्य.) तरी, नीचे, खा लीजिए, खा लो। खाँँ ँ
  1575. वचबाँव—(ब.मु.) कर्कष एवं अप्रिय वाणी के साथ खाने को बढ़ना। खाँँँ
  1576. व-खाँव—(अव्य.) अति भूखी मानषिकता एवं भूखी हरकत।
  1577. खासा—(विषे.) बहुत अधिक, पर्याप्त, भरपूर, बहुत अच्छा, बहुत सुन्दर, स्त्री.. खासी। खि
  1578. खिआब—(क्रि.वि.) घिसकर घट जाना, छोटा या कम हो जाना।
  1579. खिखिरी—(सं.स्त्री..) बाँस की बनी बिना लेपन की टोकनी, पुलिंग-खिखिरा।
  1580. खिखीखिखी—(क्रि.वि.) अर्द्ध-हँसी, वेमतलब हसते रहना, बघेली मुहावरा।
  1581. खिरब—(क्रिया) कपड़े का घिसकर पतला हो जाना, भैंस या गाय के मूत्रांग से श्वेत पदार्थ का उत्सर्जन होना।
  1582. खिरकी—(सं.स्त्री..) खिड़की, घर के पीछे का निकास द्वार।
  1583. खिरझिआब—(क्रिया) जिदबस किसी कार्य के पीछे पड़ जाना।
  1584. खिरामा—(सं.पु.) कम खट्टा आम, एक विषेष आम।
  1585. खिसनिपोर—(विषे.) जिसकी खीस बाहर हो, हमेशा अनावश्यक हँसते रहने वाला।
  1586. खिसपादन—(विषे.) बात-बात में चिढ़ने वाला, चिढ़ने वाली प्रवृत्ति।
  1587. खिसखिस—(क्रि.वि.) गन्दगी के कारण घृणा, कीचड़ का फैल जाना।
  1588. खिसकटहा—(विषे.) जो हमेषा निरर्थक खीस निकालता हो, स्त्री.लिंग- खिसकढ़ी।
  1589. खिसिर खिसिर—(क्रि.वि.) बिना प्रयोजन के अविरल हँसना, निरर्थक दाँत निकालना।
  1590. खिसिबाउब—(क्रिया) किसी को चिढ़ाना, परेषान करना।
  1591. खिसिअउनी—(सं.स्त्री..) नाराजगी का ताव, नाराजगी का आवेग। खी
  1592. खीखिर—(विषे.) पतला, पारदर्षी, घिसा हुआ, झिल्लीदार।
  1593. खींचब—(क्रिया) खींचना, निकालना, आक श्ट करना, बढ़ाना।
  1594. खीरा—(सं.पु.) मौसमी फल, एक ककड़ी विषेष।
  1595. खीलब—(क्रिया) कंघी से बाल सम्हालना, मंत्र द्वारा विष बंद करना।
  1596. खीला—(सं.पु.) बड़ा सा कील, मषीन के पुर्जे।
  1597. खीस—(सं.स्त्री..) दाँत के मसूड़े, दुरूपयोग, नष्ट उजाड़ होना (विषे.)।
  1598. खींसा—(सं.पु.) वस्त्र में लगे हुये जेब, पाकेट। खु
  1599. खुआर—(विषे.) धन-सम्पत्ति नष्ट करना, व्यर्थ में पूँजी गँवाना।
  1600. खुआ—(सं.पु.) अन्याय, शरारत, झगड़े के बहाना खोजना।
  1601. खुइती—(सं.स्त्री..) शरारत, आगे से लड़ाई के वातावरण बनाना।
  1602. खुइला—(सं.पु.) लकड़ी का नुकीला कीला।
  1603. खुइलब—(क्रिया) खोदना, गड़ी बात को उखाड़ना।
  1604. खुई—(सं.स्त्री..) झगड़ेलू वातावरण की पृष्ठभूमि।
  1605. खुक्ख—(विषे.) जलकर खाक हुआ, बिल्कुल खाली, एकदम नष्ट।
  1606. खुखसब—(क्रिया) कोसना, दबाव देना, कमजोरी की आड़ में डाँटना।
  1607. खुखुआउब—(क्रिया) जलती आग को प्रज्जवलित करना, बुझी आग को जगाना।
  1608. खुचुर—(सं.स्त्री..) चर्चा, बिन्दु विषेष का विवेचन।
  1609. खुटखुटाउब—(क्रिया) खुट-खुट की आवाज करना, खुटखुटाना।
  1610. खुट्टई—(सं.स्त्री..) किसी की बुराई, कुबड़ाई, विरोध चर्चा।
  1611. खुँटिया—(सं.स्त्री..) छोटी कील, छोटे कद का आदमी, नाक का गहना।
  1612. खुटुर-खुटुर—(अव्य.) बच्चों के चलने पर पाँव की आहट।
  1613. खुढ़्ढी—(सं.स्त्री..) खेत में फसल की नुकीली डंठल।
  1614. खुथ्था—(सं.पु.) जमीन में जड़ सहित लगा डंठल।
  1615. खुथबा—(सं.पु.) काटेदार घास का एक फल।
  1616. खुदबिर्री—(सं.स्त्री..) शरारत पूर्ण हरकत, झगड़े का बहाना उत्पन्न करना।
  1617. खुदरा—(सं.पु.) फुटकर, खुल्ला, क्षुद्र वस्तु।
  1618. खुधिके—(अव्य.) जिदबस, रुख पूर्वक, पीछे पड़कर।
  1619. खुधब—(क्रिया) जान-बूझकर करना, किसी के पीछे पड़ जाना।
  1620. खुन्स—(सं.स्त्री..) सदमा, आघात, चिन्ता या सोच।
  1621. खुनिहाई—(सं.स्त्री..) गमी के कारण त्यौहार न मनाना, जिस त्यौहार को कोई गमी पड़ गई हो।
  1622. खुनिआउब—(क्रिया) किसी को खून खच्चड़ करना, सिर फोड़ डालना।
  1623. खुनिआब—(क्रिया) लहूलुहान होना, खून से लथपथ होना।
  1624. खुरचपहा—(विषे.) मवेषियों की खुर से निर्मित नुकली मिट्टी।
  1625. खुरुहुरी—(सं.स्त्री..) नारियल की गरी।
  1626. खुरपी—(सं.स्त्री..) घास छीलने का लौह कृषि यंत्र, पुलिंग खुरपा।
  1627. खुरखुन्द—(क्रिया) बार-बार आना-जाना, परेषान कर डालना, आतुरता का प्रदर्षन करना।
  1628. खुरपब—(क्रिया) खुरपा से घॉस की छिलाई करना, पौध पर गोड़ा चढ़ाना।
  1629. खुरी—(सं.स्त्री..) पषुओं की खुर।
  1630. खुरमा—(सं.पु.) आटे-गुड़ से बना एक बघेली व्यंजन।
  1631. खुरचब—(क्रिया) खरोचना, कुरेदना, हलके हाथ से छीलना, दही मथना।
  1632. खुरथेलब—(क्रिया) पाँव से रजाई को अस्त-व्यस्त करना।
  1633. खुराग—(सं.स्त्री..) आहार, भोजन, खाना-खर्चा, व्यय पूर्ति।
  1634. खुर्राट—(विषे.) अनुभवी, चतुर चालाक, घोटा-पिटा, बड़ा-बूढ़ा।
  1635. खुसुर खुसुर—(क्रि.वि.) कानाफूसी करना, कान में सलाह करना।
  1636. खुसुर पुसुर—(क्रि.वि.) हलचल होना, हरकत करना, चुपके-चुपके बोलना।
  1637. खुसरँजाय—(विषे.) स्वेच्छा से, अपनी खुशी से, सहजतः अपने मन से।
  1638. खुसकब—(क्रिया) चुपके से वस्तु देना, चोरी-चुपके से वस्तु देना।
  1639. खुसड़ा—(सं.पु.) दिनभर खीस काढ़ने वाला, औरतों की भाँति बातें करने वाला।
  1640. खुसिअन—(विषे.) अपनी राजी-खुशी से, बिना किसी दबाव के। खू
  1641. खूँट—(सं.पु.) कान के अन्दर का मैल, पषुओं का एक रोग।
  1642. खूँटा—(सं.पु.) पषु बाँधने के लिये जमीन पर गड़ा छोटा लठ्ठा।
  1643. खूँटीदतेर—(सं.पु.) जड़ से नष्ट हो जाना, एकदम साफ होना।
  1644. खूँथब—(क्रिया) पूँजी नष्ट करना, सब्जी को पकाते समय कुचलना, किसी को चुपचाप कोसना।
  1645. खूँथी—(सं.स्त्री..) पूँजी, सम्पत्ति, नाभि का नाड़ा, बाप-बबा की पूँजी।
  1646. खूसड़—(सं.पु.) एक पक्षी विषेष का नाम, खीस निकालने वाला। खे
  1647. खेढ़ी—(सं.स्त्री..) प्रजनन के पष्चात् गर्भाषय से निकलने वाला प्ररस एवं माँस का नाड़ा।
  1648. खेतबाई—(सं.पु.) खेतों का भ्रमण, फसल का जायजा, खेत की देख-भाल।
  1649. खेदब—(क्रिया) दूर भगाना, पास से हटाना, दौड़कर पीछा करना।
  1650. खेदबा भैरमा—(ब.मु.) यैरे-गैरे लोग, बिना रिष्ते के, खानाबदोस लोग।
  1651. खेदा—(विषे.) विवाह के साथ व्रतबन्ध होना, व्रतबंध की परंपरा।
  1652. खेप—(सं.स्त्री..) एक दौर में उतारा गया सामान, एक चरण में।
  1653. खेर—(सं.पु.) खेत-गाँव की सीमा, पूर्वजों की प्रथम जन्म स्थली।
  1654. खेरमाई—(सं.स्त्री..) ग्राम्य देवी, गाँव की सीमावर्ती विषेष देवी।
  1655. खेलउँहा—(सं.पु.) खड़े आम का मषाला भरा एक अचार की किस्म।
  1656. खेलबउर—(सं.पु.) खिलवाड़, हँसी-मजाक। खो
  1657. खोक्खा—(सं.पु.) खाली दियासलाई, बिल्कुल खाली।
  1658. खोकसा—(विषे.) सड़ा या अठोस अंष, अपुष्ट लकड़ी।
  1659. खोकसब—(क्रिया) बुरी तरह काट खाना, दाँत से काट देना।
  1660. खोंखब—(क्रिया) खाँसना, खाँसी आने की आवाज आना।
  1661. खोंखी—(सं.पु.) खाँसी, खाँसी का एक मर्ज।
  1662. खोंग—(सं.पु.) लकड़ी में फँसकर वस्त्र का फट जाना।
  1663. खोंचब—(क्रिया) खोंचना, गूलना, उत्तेजित करना।
  1664. खोचना के मारे—(सं.पु.) औरतों द्वारा दी जाने वाली मनोविनोदी गाली।
  1665. खोंची—(सं.स्त्री..) सामान क्रय करते समय प्राप्त की गई एक अतिरिक्त वस्तु, वितरण में बचायी गई मात्रा।
  1666. खोजाबर—(सं.पु.) कई पीढ़ी की संतानें, वंष परिवार की वृद्धि के लोग।
  1667. खोझरी—(सं.स्त्री..) प्रजनन के 3-4 दिन बाद का जमने योग्य दूध।
  1668. खोंटब—(क्रिया) पौध की कोपल काट देना, बाढ़ मारना।
  1669. खोंटलइँया—(सं.स्त्री..) तरकारी वाली एक ग्राम्य-लता।
  1670. खोड़इसा—(सं.पु.) लड़ने के लिये, रुखपूर्वक परिस्थिति बनाना, खोड़इसा रोपना, बघेली मुहावरा।
  1671. खोढ़—(विषे.) खराब शुरूआत, कुशगुन, टोक देना, वृक्ष में पोली खुली जगह।
  1672. खोतड़ी—(सं.स्त्री..) सिर, खोपड़ी, ललाट, मस्तिष्क।
  1673. खोथइला—(सं.पु.) पक्षियों का घास फूस का घोसला।
  1674. खोदरा—(सं.पु.) चेचक के दागों से युक्त खुरदुरा चेहरा वाला व्यक्ति।
  1675. खोंधरी—(सं.स्त्री..) झोपड़ी, घास फूस की छोटी सी कुटिया।
  1676. खोन्नस—(सं.पु.) लड़ाई-झगड़े से उत्पन्न करने के लिये वातावरण बनाना।
  1677. खोंपहर—(सं.पु.) तीन दीवालों से बना एक घर विषेष।
  1678. खोपड़़इया—(सं.स्त्री..) सिर, खोपड़ी, माँस रहित हड्डी-पेंषी।
  1679. खोंपा—(सं.पु.) घर के चौड़ाई प्रक्षेत्र का छप्पर, खोंपा उतिनना ब.मु.।
  1680. खोभा—(सं.पु.) जमीन में जड़ समेत गड़ा पैना-पौध का डंठल।
  1681. खोम्हरा—(सं.पु.) बाँस व पत्ते से बना बड़ा टोप, बड़े-बड़े बालों का सूचक व्यंग्य।
  1682. खोम्हरी—(सं.स्त्री..) पत्ते एवं बाँस की बनी एक ग्राम्य टोपी।
  1683. खोरसब—(क्रिया) जलती लकड़ी से शरीर को स्पर्ष करना, मुँह में आग डालना।
  1684. खोरबा—(सं.पु.) कटोरा, खोरा, स्त्री.लिंग, खोरिया या कटोरी।
  1685. खोर्र-खोर्र—(सं.पु.) खाँसते समय की ध्वनि, खोर्र-खोर्र करना ब.मु.।
  1686. खोर—(सं.पु.) रास्ता-ढर्रा, सँकरा मार्ग, स्त्री.लिंग खोरि।
  1687. खोल—(सं.पु.) दो पहाड़ियों के बीच की जगह, रजाई का कवर, स्त्री खोली।
  1688. खोलकी—(सं.स्त्री..) दीवाल व छप्पर की संधि, बारी का क्षिद्रनुमा भाग।
  1689. खोसकब—(क्रि.) चुपचाप किसी को दे देना।
  1690. खोसना—(सं.पु.) वस्तु में लगी क्लिप, पेन का ढक्कन।
  1691. खोंसबा ढरकुलिया—(सं.स्त्री..) नारियों के कान का पुराना प्रचलित आभूषण।
  1692. खोह—(सं.पु.) अंधकार युक्त पहाड़ी जगह, कंदरा। ग
  1693. गइ—(क्रिया) गयी, गयीं।
  1694. गइल—(सं.स्त्री..) गैल, आम रास्ता, सँकरी निकाय।
  1695. गइलहरा—(सं.पु.) घर के भीतर का आने- जाने का पतला रास्ता।
  1696. गइताल—(विषे.) आलसी, निकम्मा, कामचोर, निष्क्रिय।
  1697. गइधुरिया—(स्त्री..) गोधूलि, सूर्यास्त की बेला, सायंकाल।
  1698. गइरी—(सं.स्त्री..) घासयुक्त गीली मिट्टी जिससे कच्ची दीवाल बनती है।
  1699. गइहौं—(कि.भवि.)गाऊँगी, गाऊँगा।
  1700. गइल-घाट—(अव्य.) नदी-तालाब का रास्ता, बघेली मुहावरा।
  1701. गउँसट—(सं.पु.) उपकार, सहयोग, परमार्थ, मदद, भलाई।
  1702. गउँपबा—(सं.पु.) जिसे इनाम में गाँव मिला हो, एक-दो गाँव का राजा।
  1703. गउँटिया—(सं.पु.) कोल जाति, गांँव का मुखिया, स्त्री.लिंग-गउॅटिन।
  1704. गउँहार—(सं.पु.) ग्रामवासी, गाँॅव के रहवासी, ग्राम्य-जन।
  1705. गउँतरी—(विषे.) महिमानदारी, रिष्तेदारी का प्रवास।
  1706. गउरिमिन्ट—(सं.स्त्री..) सरकार, शासन, गवर्मेन्ट।
  1707. गउरिआब—(क्रिया) आम में बौर आना, बौर लगना, आम का पुष्पित होना।
  1708. गउरिआन—(विषे.) बौर लगा हुआ, बौराया हुआ आम्र-वृक्ष।
  1709. गउरि—(सं.स्त्री..) आम की बौर, पूजा- पाठ में प्रयुक्त गोबर का पिण्ड।
  1710. गउसाला—(सं.पु.) गोषाला, गौ सेवा-स्थल।
  1711. गउँहेड़—(सं.पु.) गाँव का गाँव, गाँव के सभी निवासीगण।
  1712. गउँचब—(क्रिया) लम्बी-चौड़ी कोरी बात करना, बड़ी-बड़ी बातें करना।
  1713. गऊ—(सं.स्त्री..) गाय, गाय की तरह सीधी-साधी प्रवृत्ति।
  1714. गउ के—(सं.पु.) गो माता की एक कसम, गाय की सौंगन्ध।
  1715. गघरी—(सं.स्त्री..) मिट्टी का घड़ा, छोटे आकार का घड़ा।
  1716. गच्च-गच्च—(अव्य) दीवाल में सिर पटकनें से उत्पन्न एक ध्वनि।
  1717. गचर्रब—(क्रिया) गप्प मारना, डींग हाकना, निरर्थक बैठे-बैठे कोरी बातें फेंकना।
  1718. गचर-पचर—(अव्य.) अस्पष्ट बात, अनिर्णायक स्थिति, शोर-गुल।
  1719. गचकब—(क्रिया) जी भर के खाना, मैथुन करना किसी को पीटना।
  1720. गचगचायके—(विषे.) पूरी ताकत के साथ, पूर्ण दाबयुक्त, दाँत पीसकर लगाया गया बल, बघेली मुहावरा।
  1721. गचापेल—(विषे.) अच्छी मोटी-तगड़ी, देखने सुनने लायक, अति सुन्दर, मैथुन योग्य पूर्ण समर्थ।
  1722. गज्ज-बिज्ज—(अव्य.) अपच स्थिति, पेट में अजीर्ण होना।
  1723. गजर-बजर—(अव्य.) कमजोर, ऐसा-वैसा, गोल-माल, अनाप-सनाप, गजर-वजर होना, बघेली मुहावरा।
  1724. गजान—(विषे.) कीचड़ से मटमैला हुआ पानी, गंदा हुआ जल।
  1725. गँजार—(स.पु.) थूक एवं कफयुक्त तरल पदार्थ, बलगम, खखार।
  1726. गजाँउब—(क्रिया) साफ पानी को जलाषय में घुसकर मटमैला करना, पानी को गँदला करना।
  1727. गटउरी—(सं.स्त्री..) षिषुओं का अण्डकोष, खेतों की छोटी-छोटी क्यारी।
  1728. गटरमाला—(सं.स्त्री..) बड़े-बड़े दानों का माला, रुद्राक्ष का बड़ा माला।
  1729. गटारन—(सं.स्त्री..) कटीले फल वाली एक वनस्पति, वनौषधि, गटाइन।
  1730. गट्ट-गट्ट—(सं.पु.) पानी पीने पर होने वाली गले की आवाज विशेष।
  1731. गँठबा—(सं.पु.) घास की गुच्छेदार जड़, गठीली जड़ें।
  1732. गठजोराब—(क्रिया) गाँठ का जुड़ना, वैवाहिक सूत्र बन्धन में बँधना।
  1733. गठरी—(सं.स्त्री..) छोटा गठ्ठा, पोटली, पुलिंग गठरा।
  1734. गठिआउब—(क्रिया) पोटली बाँधना, पोटली में गाँठ लगाना, बाँधना।
  1735. गठिल्ला—(सं.पु.) गाँठदार वस्तु, अत्याधिक गाठों वाला बाँस। गड्ड-विड्ड- - एक दूसरे में मिला देना, मिला- जुला, मिश्रित।
  1736. गड्डाब—(क्रिया) लुढ़कना, लुढ़ककर आगे बढ़ जाना, ठोकर लग जाना।
  1737. गड्डाउब—(क्रिया) लुढ़काकर चलाना, पहिए जैसा घुमाना।
  1738. गढ़हा—(सं.पु.) छोटा गढ्ढ़ा, उथला गढ्ढ़ा।
  1739. गढागेंद—(सं.पु.) गेंद एवं डंडे पर केन्द्रित एक ग्रामीण खेल।
  1740. गढहिन—(सं.स्त्री..) बरसात का पानी भर गढ्ढ़ा।
  1741. गड़ास—(सं.स्त्री..) कृषि औजार, घास काटने वाली लोहे का पैना औजार।
  1742. गड़ेचब—(क्रिया) किसी का सिर जमीन पर दबाये रहना, पटककर पीटना, जमीन पर दबोचना।
  1743. गड़ाइन—(सं.स्त्री..) कई मवेषियों के गले को बाँधा जाने वाला एक विषेष गेंरमा।
  1744. गड़ारा—(सं.पु.) नमक-पानी से गले की सिंकाई करना।
  1745. गड़ेर—(विषे.) गले की मोटी आवाज, मोटा स्वर, असुरीली बोल।
  1746. गड़गड़ान—(विषे.) यौवन से परिपूर्ण, जवानी से भरी, व्याह योग्य।
  1747. गतिया—(सं.स्त्री..) ठंड से बचने के लिये शरीर पर बधी फटी-पुरानी धोती की टुकड़ियाँ।
  1748. गति-विपति—(अव्य) दुख-कष्ट, आकस्मिक आपत्ति, आपत्ति-बिपत्ति।
  1749. गदिया—(सं.स्त्री..) गदेली, हथेली।
  1750. गदेला—(सं.पु.) कम उम्र के बच्चे, छोटी सी कुदाल, बच्चों का छोटा गद्दा।
  1751. गदेलबा—(सं.पु.) रुआ भरा गद्दा, मोटा बिछावन।
  1752. गदराब—(क्रि.वि.) पकने के समीप पहुॅची स्थिति का होना, अंगों का जवानी से भरना।
  1753. गद्द-गद्द—(सं.पु.) भूसे पर लाठी पटकने से उत्पन्न ध्वनि।
  1754. गदे—(सं.पु.) आदत में सुमार, आदी होना, गदे पड़ना, बघेली मुहावरा।
  1755. गधारब—(क्रिया) बुरा-भला कहना, गाली देना, उलाहना सुनाना।
  1756. गन्जा—(सं.पु.) चौडे़ मुख का बड़ा पात्र, बिना बाल का सिर।
  1757. गन्तरा—(सं.पु.) षिषुओं के उत्सर्जन अंग के नीचे बिछाया जाने वाला कपड़े का टुकड़ा, स्त्री.लिंग गन्तरिया।
  1758. गन्धइली—(सं.स्त्री..) बाड़ी बनाने की एक वनस्पति, झाड़ी।
  1759. गनगनाब—(क्रिया) नींद में मस्त होना, ध् यानमग्न होना, फिरंगी की तरह तीव्र गति से घूमना।
  1760. गनी-गरीब—(अव्य.) दीन-हीन, छोट-मोटे, निर्धनजन।
  1761. गन्ना—(सं.पु.) चिन्ता, परवाह, झरने का संचित पानी।
  1762. गनब-गूफब—(अव्य.) गणना करना, हिसाब- किताब करना, बघेली मुहावरा।
  1763. गनब—(क्रिया) गिनती करना, ध्यान में बैठा लेना, गणना करना।
  1764. गपकब—(क्रिया) लपककर खा लेना, हड़प लेना, निगल जाना।
  1765. गपर-गपर—(अव्य.) बिना सोचे-बिचारे जो भी मन आये बोलना।
  1766. गपुआब—(क्रिया) मौन हो जाना, मुँह फुला लेना, नाराजगी से न बोलना।
  1767. गपुआ—(सं.पु.) कम बोलने वाला, गाल फुलाये रहने वाला।
  1768. गपोड़ा—(विषे.) सदैव गप्प मारने वाला, डींग हाँकने वाला।
  1769. गपोड़संख—(विषे.) एक बघेली मुहावरा, गप्प मारने में सिद्धहस्त।
  1770. गफ—(विषे.) सघन सूतवाला वस्त्र, मोटे सूत का कपड़ा।
  1771. गबर्रा—(सं.पु.) गाते ही रहने वाला, खूब गाने वाला।
  1772. गबइया—(सं.पु.) गाने-बजाने वाला, गायक।
  1773. गभुआर—(विषे.) नादान, अबोध, दुधमुँहा, अन्जान।
  1774. गभेलुआ—(सं.पु.) दोनों गाल का आंतरिक भाग, मुँह का जबड़ा।
  1775. गभिनाब—(क्रिया) पषुओं का गर्भधारण करना, पषुओं का गर्भ ठहराना, ऋतुमती होना।
  1776. गभिनाउब—(क्रिया) गर्भवती कराना, पषुओं को प्रजनन योग्य बनाना।
  1777. गमइॅहा—(सं.पु./विषे.) गाँव में रहने वाला, ग्रामीण रहन-सहन वाला।
  1778. गमरदल—(सं.स्त्री..) गँवार प्रवृत्ति के लोग।
  1779. गमनहाई—(सं.स्त्री..) गवने में आई नारी, वह नारी जिसका गवना होने वाला हो।
  1780. गमनहा—(सं.पु.) जिसका दुरागमन हुआ हो, जिसका दुरागमन होना हो।
  1781. गमराब—(क्रिया) बात-बात में अकड़कर बोलना, भाव बढ़ जाना, लडाकू भाषा ऐठ कर बोलना।
  1782. गमरगट्ट—(विषे.) गँवार प्रवृत्ति वाला, जिसे मारने या पिट जाने की शर्म न हो।
  1783. गय—(क्रिया) गई, चली गई, मर गई।
  1784. गयौंते—(क्रि.भू.) गया था, गई थी, मर गया था।
  1785. गरी—(सं.स्त्री..) खेत का गहरा भाग, नारियल की गरी।
  1786. गरियार—(विषे.) जी चुराने वाला, हल में न चलने वाला बैल।
  1787. गर—(सं.पु.) गला, गर्दन।
  1788. गरहा—(सं.पु.) घाव के कारण अंग पर बना गढ्ढा, पाँव के अँगूठे का फटा तल।
  1789. गरहन—(सं.पु.) ग्रहण, ग्रहण का काल।
  1790. गरेंठ—(विषे.) पात्र के गले तक भरा हुआ पदार्थ की मात्रा।
  1791. गरहनिया—(विषे.) ग्रहण से बाधित अंगवाला, ग्रहण के कारण विकलांगता।
  1792. गरिआउब—(क्रिया) गाली देना, उलाहना सुनाना।
  1793. गरफाँसी—(सं.स्त्री..) गले का फंदा, गले की फाँसी।
  1794. गरगटी—(सं.स्त्री..) पाँव की उँगुलियों के चिन्हों का फटाव, एक रोग विषेष।
  1795. गरजुआन—(क्रिया) गरजमन्द होना, गर्ज के वषीभूत होना।
  1796. गर्रान—(विषे.) यौवनापन का नषा, ताकत का घमण्ड़।
  1797. गर्रबा—(सं.पु.) एक विषेष पक्षी, गर्रबा राजा, बघेली मुहावरा।
  1798. गर्रइया—(सं.स्त्री..) एक विषेष किष्म की चिड़िया, गौरैया।
  1799. गर्राब—(क्रिया) गुर्राना, कड़ी आवाज में बोलना, अकड़कर बोलना।
  1800. गरू—(विषे.) भारी, वजनी, वजनदार, गंभीर, प्रतिष्ठित।
  1801. गरूर—(सं.पु.) गर्व, घमण्ड, अभिमान।
  1802. गरओरमाउब—(क्रिया) हीनता-दीनता के कारण किसी के दरवाजे पर प्रलोभनवष बैठना, गरओरमाउब, बघेली मुहावरा।
  1803. गरग—(सं.पु.) गर्ग गोत्री एक ब्राम्हण, शुक्ल ब्राम्हण।
  1804. गरदा—(सं.पु.) धूल, घास-धूल के कण, ढोलकनुमा तकिया।
  1805. गलेथब—(क्रिया) धान की बाली निकलने के पूर्व की स्थिति होना।
  1806. गलबेला—(क्रि.विषे.)चहल-पहल, शोर- गुल, खींचातानी, हो-हल्ला।
  1807. गलब—(क्रिया) ठंड लगना, ठंड से सिकुड़ना, वस्तु में घटाव होना।
  1808. गलाउब—(क्रिया) किसी वस्तु को ताप में तपाना, पचा डालना।
  1809. गलकब—(क्रिया) बिना परिश्रम के पा जाना, किसी वस्तु को लूट लेना।
  1810. गलगाप—(क्रिया) लापता, देखते ही देखते गुम जाना, लुप्त होना।
  1811. गलमदरी—(सं.स्त्री..) बड़े-बड़े गालों वाली, जिसके गाल फूले हों ऐसी नारी।
  1812. गल्लइया—(सं.स्त्री..) गलर-गलर करने वाली एक चिड़िया विषेष।
  1813. गलरी—(सं.स्त्री..) पोड़की नामक एक चिड़िया।
  1814. गल्ला—(सं.पु.) हल्ला, शोर-गुल, अनाज।
  1815. गलका—(सं.पु.) गदेली में पड़ा हुआ फफोला, एक ब्याधि।
  1816. गलभारब—(क्रिया) उलाहना एवं आवेष के साथ बोलना, जोर-जोर से चिल्लाना, दहकना, चुनौती देकर बातें करना।
  1817. गलिआउब—(क्रिया) खाकर गले के भीतर दबाना, गाल में दबाये रहना।
  1818. गलगलाब—(क्रिया) अस्पष्ट, भीतर ही भीतर स्वरों का रहना।
  1819. गला—(सं.पु.) सुआ, शुक पक्षी।
  1820. गलदा—(सं.पु.) माँस से लदा हुआ, किसी व्यक्ति का नाम।
  1821. गलदहा—(सं.पु.) कीचड़युक्त स्थल, पाँव धंसने वाली गीली जमीन।
  1822. गलथर—(विषे.) बढ़े एवं बड़े गाल, फूले गालों वाली नारी।
  1823. गलुआ—(सं.पु.) गाल, कपोल।
  1824. गली—(सं.स्त्री..) गैल, रास्ता, छोटी खोर।
  1825. गलँइचा—(सं.) धागे की बनी मोटी बड़ी दरी, गलीचा।
  1826. गलारा—(सं.पु.) बोलने की कर्कष आवाज, जोर का स्वर।
  1827. गसॅबाउब—(क्रिया) गुंथवाना, गहना धागे से कसवाना, मैथुन कराना।
  1828. गॅसबइया—(सं.पु.) गूंथने वाला, मैथुन करने वाला, कसने वाला।
  1829. गहबाउब—(क्रिया) पैरों से कुचलवाना, फसल की गहाई कराना।
  1830. गहिहौं—(कि.भ.) गहाई करुँगा,गहाई करुँगी, गाहूँगा।
  1831. गहिर—(विषे.) गहरा, वजनी, वजनदार।
  1832. गहदान—(विषे.) यौवनायुक्त, हरा-भरा, रसील, पकने के पास की स्थिति।
  1833. गहदाब—(क्रिया) पकना, परिपक्व होना, जवान होना, रस से भर जाना।
  1834. गहमागहमी—(विषे.) काँटे का टक्कर, मार- काट, जोषोखरोसमय।
  1835. गहिराउब—(क्रिया) गहरा करना, खुदी जगह को और खोदना।
  1836. गहदेला—(सं.पु.) छोटी कुदाल। गा
  1837. गाष्ठज—(सं.स्त्री..) तड़ित बिजली, उलका पात, गाज गिरब, बघेली मुहावरा।
  1838. गाँजब—(क्रिया) वस्तु के ऊपर वस्तु दबाकर रखना, अन्दर रखना या भरना।
  1839. गाट—(सं.स्त्री..) हाथ से प्रसारित छोटी किन्तु गुदार पूड़ी।
  1840. गाँठी—(सं.स्त्री..) छोटी गाँठ, हाथ-पाँव की गाँठ, गाँठी लगाउब, ब.मु.।
  1841. गाता—(सं.पु.) पुस्तक का गत्ता, वाह्य आवरण।
  1842. गाती—(सं.स्त्री..) पुराने कपड़े की टुकड़ी जिसे ठंड में शाल के रूप में प्रयुक्त करते हैं।
  1843. गाते—(सं.पु.) दोनों टाँग के बीच का पोला भाग।
  1844. गाथब—(क्रिया) गुत्थीदार बनाना, गूँथना व कसना, वस्तु में वस्तु गूँथना।
  1845. गाद—(सं.स्त्री..) जलाषय की एक घास, गोंद।
  1846. गादा—(सं.पु.) ज्वार या गेहूँ के अधपके दाने, भुने हुये।
  1847. गादी—(सं.पु.) हमउम्र जोड़ी, बेल, समतुल्य जोड़ बराबरी की बेल।
  1848. गादर—(विषे.) अधपका, पकापन के समीप की स्थिति, यौवनावस्था।
  1849. गाप—(सं.पु.) खेत का वह अंष जिसको जोता जा रहा हो।
  1850. गाबा—(स.पु.) खेत का थोड़ा सा भाग, किसान का पैमाना, दो उँगुलियों के मध्य का स्थान।
  1851. गाभिन—(विषे.) गर्भधारण किये हुये, गर्भवती गाय या भैंस।
  1852. गामय के—(अव्य.) गाँव के ही, अपने ही ग्राम के।
  1853. गारब—(क्रिया) बुरादानुमा फल का गबूझा निकालना।
  1854. गारी—(सं.स्त्री..) गाली, बघेली लोक गीत।
  1855. गारी-गुप्ता—(सं.स्त्री..) परस्पर गाली देना, दुवर्चन का आदान-प्रदान, गारी गुप्ता, बघेली मुहावरा।
  1856. गाल-गूल—(ब.मु.) गाल-गूल करना, ब.मु.बहलाकर अनदेखी करना, अस्पष्ट।
  1857. गाला—(सं.पु.) गले की आवाज, गाल बजाना, कर्कष भाषा-बोली।
  1858. गाली—(सं.स्त्री..) मवेषी के गले से बँधी गेरमा की गाँठ विषेष।
  1859. गाँस—(सं.स्त्री..) बैर-विरोध, ईर्ष्या एवं प्रतिषोध, द्वेष पाले रहना।
  1860. गाँसब—(क्रिया) संधारण करना, एक सूत्र में पिरोना, दबाव बनाना, दमंगी, जताकर धमकी देना।
  1861. गाहब—(क्रिया) फसल की गहाई करना, बिछावन को पैरों से गन्दा करना।
  1862. गिच्च-पिच्च—(अव्य) आना-कानी, लेन-देन में हीला-हवाली करना।
  1863. गिंजरब—(क्रिया) कमजोरी पकड़कर घोंसना, उपहास करना, किसी की हँसी उड़ाना, व्यंग्य करना एवं दबाना।
  1864. गिजगिज—(विषे.) अति मुलायम, लुंज- पुंज, अठोस, लोचदार।
  1865. गिट्ट—(विषे.) छोटे कद, सामान्य से कम ऊँचाई।
  1866. गिट्टी—(सं.स्त्री..) पत्थर की छोटी- छोटी कंकड़ी, ठिगनी, पुलिंग गिट्टा।
  1867. गिधरोमन—(सं.पु.) नवजात षिषु, हाल साल का जन्मा षिषु।
  1868. गिनगिनी—(क्रिया) एक ही परिधि में तेज से घूमना, झूले की घुमाव क्रिया।
  1869. गिनगिनाब—(क्रि.वि.) बहुत वेग से, बहुत गति से घूमना।
  1870. गिप्पी—(सं.स्त्री..) एक ग्रामीण खेल, जो खपड़े की टुकड़ियों में केन्द्रित होता है।
  1871. गिरब—(क्रिया) गिर पड़ना, पथभ्रष्ट होना, ऊपर से टपकना।
  1872. गिराउब—(क्रिया) किसी को पटकना, ऊपर से ढकेल देना, नीचा दिखाना।
  1873. गिरगोदब—(क्रिया) लिखकर काटना, निरर्थक कागज खराब करना।
  1874. गिरदान—(सं.स्त्री..) गिरगिट, छिपकली।
  1875. गिलाब—(सं.स्त्री..) मिट्टी का गारा, ईंट-जुड़ाई में प्रयुक्त मसाला।
  1876. गिल्ली—(सं.स्त्री..) तीव्र गति से पेड़ पर चढ़ने वाला जन्तु, गिल्ली कस दौड़ना बघेली मुहावरा।
  1877. गिलटी—(सं.स्त्री..) गले के बगल में निकली गुलथी, नष की निकली गाँठ।
  1878. गिलिट—(सं.स्त्री..) आल्मूनियम, एक मिश्रित धातु।
  1879. गिलगोंचब—(क्रि.वि.) हाथ से दबा-दबाकर बच्चों को खिलाना, स्नेहिल उँगुलियों से षिषु-अंग दबाना।
  1880. गिल्ला—(सं.स्त्री..) बुराई, उपहास, छोटपन, कुबड़ाई।
  1881. गिलपोच्चा—(विषे.) अति गीला, असमान्य गीला, कम आटा अधिक पानी।
  1882. गिलबिल—(सं.पु.) अस्पष्ट, ऐसी बोली जो समझ में न आयें। गु
  1883. गुइँत—(सं.स्त्री..) माँस की गाँठ, घाव का सूखकर सिकुड़ जाना।
  1884. गुखुरू—(सं.स्त्री..) घास का कांटेदार फल, कांटा चुभा पाँव का घाव, नुकीली मिट्टी।
  1885. गुगुड़ा—(सं.पु.) फल की शैषवास्था, जिस फल से फूल न झड़ा हो, एक गूगुड़ वनौषधि।
  1886. गँगुआब—(क्रिया) सुलगना, धुँआ छोड़ना, न जलना न बुझना, ब.मुहा.।
  1887. गुच्चिआउब—(क्रि.वि.) लाठी के पेंदा से प्रहार करना।
  1888. गुचुर पंचाइत—(अव्य.) निरर्थक बातें, वही-वहीं बात बार-बार पूछना- बताना, ब. मु.।
  1889. गुच्चा—(सं.पु.) लाठी का निचला भाग, गाँठनुमा छड़ी का भाग।
  1890. गुचकब—(क्रिया) लाठी से किसी के शरीर में खोदना, लाठी चुभाना।
  1891. गुचुरामन—(क्रि.वि.) बहस एवं वार्ता, बिना अर्थ की बातें।
  1892. गुजरब—(क्रिया) मर जाना, बीत जाना, चला जाना।
  1893. गुजारा—(सं.पु.) जीविकोपार्जन, काम चलाना, निर्वाह होना।
  1894. गुझिना—(सं.पु.) फल की सूखी जाली, रेरूआ फल का कंकाल।
  1895. गुझिनब—(क्रिया) गुझिना द्वारा बर्तन साफ करना।
  1896. गुझार—(विषे.) गबूझेदार, पर्याप्त गुदायुक्त।
  1897. गुटकब—(क्रिया) बिना चबाये लील लेना, निगलना, पी लेना।
  1898. गुटँरूँ गूँ—(ब.मु.) मुर्गे की बोली, ब. मु.।
  1899. गुटकाउब—(क्रिया) किसी से निगलवाना, बिना चबाये अन्दर कर लेना।
  1900. गुठुरी—(सं.स्त्री..) फल की गुठली, भूसे में डंठल की गाँठ।
  1901. गुठुआ—(सं.पु.) घुटना, पाँव के ऊपर की गाँठ वाला भाग।
  1902. गुड्डी—(सं.स्त्री..) छोटे मुख वाला छोटा सा लोटा, लोटिया।
  1903. गुढा़—(सं.पु.) जिस नाड़े से भैंस के दोनों पीछे के पाँव बाँधे गये हों।
  1904. गुडुमतान—(विषे.) जोड़ना-तगोड़ना, जुगाड़ बनाना, सही-झूठ बोलकर काम निकालने वाली व्यवस्था।
  1905. गुड़गुड़ी—(क्रि.वि.) लुढ़ककर आगे होना, लुढ़कते हुये धक्के से दूर तक हो जाना।
  1906. गुड़न्तब—(क्रिया) लुढ़ककर गिरना, (बघेली मुहावरा), गिर जाना या फेल हो जाना।
  1907. गुड़गुड़ाउब—(क्रिया) हुक्का की भाँति आवाज निकालना, पानी पी लेना।
  1908. गुड़ गोबर—(ब.मु.) बना बनाया काम बिगड़ जाना, सत्यानाष होना।
  1909. गुड़मुड़ी—(क्रि.वि.) लोटपोट होना, लुढक- लुढ़ककर सिर के बल बढ़ जाना।
  1910. गुडेरी—(सं.स्त्री..) पतली रस्सी का बन्डल, जो भीतर ईर्ष्या द्वेष पाले हो।
  1911. गुथरब—(क्रिया) सम्बद्ध होना, अति सघन होना, पिरोना या गुथ जाना, एक दूसरे में मिला होना।
  1912. गुथीमा—(सं.स्त्री..) एक-दूसरे एवं तीसरे से संलग्न वस्तु, गुंथी हुई वस्तु।
  1913. गुदाम—(सं.स्त्री..) बटन।
  1914. गुदार—(विषे.) गबूझेदार वस्तु, माँसपेषियों से भरपूर, दलदार रोटी।
  1915. गुदामिल—(विषे.) खटमिठ्ठा स्वाद।
  1916. गुदरी—(सं.स्त्री..) फटे पुराने कपड़े का बिछावन, गुदड़ी, गुदड़ी मा लाल, बघेली मुहावरा।
  1917. गुधुनाब—(क्रिया) नाराज होकर बोलना, अन्दर ही अन्दर जलकर अस्पष्ट स्वर निकालना, नाक के बल मन्द स्वर से बोलना।
  1918. गुनब—(क्रिया) विचार करना, गुणा- भाग मन में लगाना, सीमा मानना।
  1919. गुनब-धुनब—(अव्य.) अति मंथन करना, खूब सोचना-विचारना, ब.मुहा.।
  1920. गुन काढ़ब—(ब.मु.) अपने दुर्गुणों का होषियारी के रूप में प्रदर्षन करना।
  1921. गुनमान—(विषे.) गुणवान, गुणों से भरा हुआ, बड़ा गुणवान व्यंग्यात्मक, बघेली मुहावरा।
  1922. गुनिया—(विषे.) झाड़-फूँक करने वाला, गुणी।
  1923. गुनियाउब—(क्रिया) सुधारते-सुधारते और बिगाड़ देना, बघेली मुहावरा।
  1924. गुफ्फा—(सं.पु.) आष्चर्ययुक्त बातें, हवाई फायर, बातों का अजूबा।
  1925. गुमकी—(सं.क्रि.) ढोलक या तबले की थाप, ओठ से ओठ पटककर ताल मिलाना।
  1926. गुर के बाप—(ब.मु.) काले कारनामों की जड़, दुगुर्णो का खजाना, गुर के बाप कोल्हूँ, व्यंग्य मुहावरा।
  1927. गुर—(सं.पु.) गुड़, गुरखाय, गुलगुला से परहेज, बघेली मुहावरा।
  1928. गुरेर—(क्रि.वि.) बैर, मन मोटाव, ईर्ष्या-द्वेष पाल लेना।
  1929. गुरूआइन—(सं.स्त्री..) गुरू की पत्नी, षिक्षा देने वाली, पुलिंग गुरूबाबा।
  1930. गुरगुदा—(विषे.) अति फटा पुराना, जीर्ण- शीर्ण वस्त्र।
  1931. गुरमेटब—(क्रिया) लपेटना, अस्त-व्यस्त को समेटना।
  1932. गुरिद—(क्रिया) वंष-परिवार का विनाश, वारिस न बचना, चौपड़ खेल में सभी गोटों का पिट जाना।
  1933. गुरिजा—(सं.पु.) दो मंजिला कच्चा घर, एक औषधीय वृक्ष का नाम।
  1934. गुरिया—(सं.स्त्री..) मनका, माला का एक भाग, सब्जी की एक टुकड़ी, माले का एक मूँगा।
  1935. गुरतुल—(विषे.) मीठा, मिठासयुक्त स्वाद, मधुर।
  1936. गुरदा—(सं.पु.) कपड़े का गुर्रीदार कोड़ा, पेट का एक भाग, मांष पेषी।
  1937. गुरी-गुरी—(अव्य.) टुकड़े-टुकड़े, छोटे- छोटे भाग, गुरी-गुरी काटना, बघेली मुहावरा।
  1938. गुराम—(सं.पु.) आम का रस, गुड़ आटा का पकाया गया घोल, व्यंजन।
  1939. गुर्रा—(सं.पु.) पुरुष धोती का काछदार एवं मरोड़दार एक पहनावा।
  1940. गुर्राब—(क्रिया) कुत्ते की तरह बोलना, अकड़कर बोलना, नाक के बल बोलना।
  1941. गुरुघंटाल—(ब.मु.) तिकड़म बाज, माहिर, चतुर-चालाक, घोटा- पिटा, अनुभवी।
  1942. गुल्ला—(सं.पु.) षिकार करने का औजार, दीवाल में गड़ी लकड़ी की मोटी कील।
  1943. गुल्ली—(सं.स्त्री..) ग्रामीण खेल की एक लकड़ी विषेष।
  1944. गुल्ली-डंडा—(सं.स्त्री..) ग्रामीण चरवाहों का दो लकड़ियों वाला खेल।
  1945. गुलगुल—(विषे.) ठोस रहित, पिलपिला, जो दबाने से दब जाय गेंद की भाँति।
  1946. गुलगुला—(सं.पु.) आटा एवं गुड़ से बना ग्रामीण व्यंजन।
  1947. गुलथी—(सं.स्त्री..) माँंसपेषियों की गाँठ, आटे का न घुला अंष, मन में फर्क।
  1948. गुलूबन्द—(सं.पु.) गलाबन्द, कान की पट्टी, मफलर।
  1949. गुलेल—(क्रि.वि.) लोचदार, धनुषाकार होना, संकोच से झुककर अर्द्धगोलाकर हो जाना, एम ग्राम्य धनुष (संज्ञा)
  1950. गुलरा—(सं.पु.) मेढ़क, गूलर स्त्री.लिंग गुलरिया।
  1951. गुलमगट्ट—(विषे.) पराई औरतों के चक्कर में रहने वाला, गुलाम प्रवृत्तिवाला, पत्नी का वषीभूत, स्त्री.लिंग गुलमगट्टी।
  1952. गुलुर-गुलुर—(अव्य.) तोतली बोली, षिषुओं की बोलने वाली प्रिय शैली।
  1953. गुलमेहंदी—(सं.स्त्री..) एक वन फूल।
  1954. गुस्सइला—(विषे.) क्रोधी, बात-बात में नाराज होने वाला।
  1955. गुस्साब—(क्रिया) नाराज होना, आवेषित होना।
  1956. गुहब—(क्रिया) क्रमबद्ध गूंथना, माला की तरह पिरोना।
  1957. गुहु—(सं.पु.) मैला, टट्टी, कुछ नहीं, न के बराबर, गुहु, बघेली मुहावरा।
  1958. गुहु लकड़िया—(ब.मु.) गड़ी बात को बार-बार उखाड़ना व प्रकाष में लाना।
  1959. गुहइया—(विषे.) गहने को धागे से गूंथने वाला, माला पिरोने वाला। गू
  1960. गूगुड़—(सं.पु.) एक वनौषधि, एक वनस्पति।
  1961. गूझा—(सं.पु.) गवूझा, फल का मांसल, गूझा काढ़ना, ब.मुहा.।
  1962. गूदी—(ब.मु.) नाभि, पेट की बोड़री, फल का गबूझा।
  1963. गूना—(ब.मु.) गूना गोठना (ब.मु.), घड़े की गोवबंर एवं चने से कढ़ाई।
  1964. गूरा—(सं.पु.) कमर की हड्डी, कूल की हड्डी, पत्थर का टुकड़ा।
  1965. गूलर—(सं.पु.) मेढ़क, ऊमर का एक वृक्ष।
  1966. गूलब—(क्रिया) चुभाना, कार्य के लिये प्रेरित करना, स्मरण कराना। गे
  1967. गेदुर—(सं.पु.) एक स्तनधारी जन्तु, जमगादड़।
  1968. गेरमा—(सं.पु.) खूँटे से पषु को बाँधने वाली रस्सी, स्त्री.लिंग गेराई।
  1969. गेरब—(क्रिया) घेरना, घेराव करना, घेर लेना।
  1970. गेलभ—(क्रि.वि.) फिजूल की बातों में फँसाकर समय नष्ट करना, दारुखोर की बोली भाषा।
  1971. गेल्हराब—(क्रिया) जानबूझकर अन्जान बनना, अज्ञात की कला। गो
  1972. गोंई—(सं.स्त्री..) सखी, सहेली, मित्र, एक तकिया कलाम।
  1973. गोइआरो—(सं.पु.) दोस्ती, दोस्ती का रिष्ता, मित्रता।
  1974. गोचंदर—(सं.स्त्री..) व्यर्थ की वार्ता, आपसी वाद-विवाद, तर्क वितर्क।
  1975. गोंच-पोंच—(अव्य.) संदिग्ध, विवादित, उलट फेर, इधर का उधर।
  1976. गोजहरा—(सं.पु.) अन्दर डाल देना, डाल देना, छिपा देना।
  1977. गोंजब—(क्रिया) जौ का अनाज, चना एवं जौ मिश्रित फसल।
  1978. गोटँइया पारब—(ब.मु.) दूर से ही पूछ-ताछ करते रहना, अनावष्यक बातों में समय नष्ट करना।
  1979. गोटई—(सं.स्त्री..) गोटी पत्थर की टुकड़ी, गोटई बैठाना, (ब.मु.) पुलिंग गोटबा।
  1980. गोट्टी—(विषे.) गोरी, गौरवर्ण की, गोरे रंग की, पुलिंग गोट्टा।
  1981. गोटईटार—(ब.मु.) नाम मात्र का, बहानेबाज, कामचोर।
  1982. गोठब—(क्रिया) आटे से कसीदाकारी करना, कलात्मक खुदाई करना।
  1983. गोठबाउब—(क्रिया) आटे की कसीदाकारी में सहयोग करना।
  1984. गोंठबाई—(सं.पु.) गोठने का पारिश्रमिक, कार्य का लाभांष।
  1985. गोठाब—(क्रिया) खट्टापन के कारण दाँतों का निष्क्रिय हो जाना।
  1986. गोंठबइया—(सं.पु.) खूब बातें बतानें वाला, गोठने का कार्य करने वाला।
  1987. गोड्ड़ाब—(क्रिया) लड़खड़ा जाना, लड़खड़ाकर उछल जाना, रास्ते से भटक जाना।
  1988. गोढ़री—(सं.स्त्री..) सिर पर भार रखने के लिये सिर पर कपड़े का छल्ला।
  1989. गोड़ब—(क्रिया) गुड़ाई या खुदाई करना, जमीन को ढीलेदार बनाना।
  1990. गोड़—(सं.पु.) पाँव, पैर, एक आदिवासी जाति।
  1991. गोंड़ा—(सं.पु.) पौधे में चढ़ाई गई मिट्टी, कुर्सी टेबिल का पावा, घर की सीमा।
  1992. गोड़चल—(विषे.) चलते-फिरते रहने वाला, मजबूत हाथ-पाँव वाला।
  1993. गोड़धोई—(सं.स्त्री..) पाँव धुलाई की रस्म, एक बघेली परम्परा।
  1994. गोड़हरा—(सं.पु.) पाँव में धारित चाँदी का आभूषण, पाँव का बड़ा मोटा चूड़ा।
  1995. गोड़उस—(अव्य.) चारपाई के पैर की ओर, सिरहाने से विपरीत हिस्सा।
  1996. गोती—(सं.स्त्री..) परिवार का व्यक्ति, पट्टेदार या हिस्सेदार।
  1997. गोदब—(क्रिया) हाँथ में गोदना, कागज खराब करना।
  1998. गोदबइया—(सं.पु.) गोदने वाला, जिसने कागज खराब किया।
  1999. गोदबाउब—(क्रिया) हाथ में चित्र बनवाना, फूल बैठवाना।
  2000. गोदा—(सं.पु.)पौधे में चढ़ी मिट्टी, प्रस्फुटित पौध की कोपलें।
  2001. गोनिया—(सं.स्त्री..) घोडे़ के पीठ का दोनों पहलू के बोरे, पटवारी का पैमाना।
  2002. गोप्सहर—(सं.पु.) परोपकारी, कृत्रिम मददगार, दिखावटी सहयोगी।
  2003. गोपालगाँठ—(ब.मु.) जोड़-तगोड़, लाग- वाग, जुगाड़, जोड़-गॉठ।
  2004. गोफना—(सं.पु.) रस्सी का एक युक्तिपूर्ण पत्थर फेंकनें की वस्तु।
  2005. गोफरी—(सं.स्त्री..) पौध की नवीन कोपलें, नये-नये कोमल पत्ते।
  2006. गोबरइला—(सं.पु.) गोबर में रहने वाला एक विषेष काला कीड़ा।
  2007. गोबरउटब—(क्रिया) गोबर से घर की पुताई- लिपाई करना।
  2008. गोबरकरी—(सं.स्त्री..) गोबर उठाने वाली मजदूरनी।
  2009. गोभव—(क्रिया) नुकीली वस्तु आर-पार करना, सुई चुभाना।
  2010. गोमट—(विषे.) नमीयुक्त, हल्का गीला, पूरा जो न सूखा हो।
  2011. गोमा—(सं.पु.) सखी-सहेली का पति, नारी का पुरुष मित्र।
  2012. गोरि—(विषे.) गौर वर्ण, गोरी, पुलिंग गौर।
  2013. गोरकिया—(सं.स्त्री..) गौरवर्ण वाली नारी।
  2014. गोराब—(क्रिया) गौर वर्ण का हो जाना, साफ रंग का होना।
  2015. गोराई—(विषे.) रूप-रंग एवं सौन्दर्य, गोरापन।
  2016. गोरू—(सं.पु.) मवेषी, पषु।
  2017. गोरूआरी—(क्रिया) पषुओं का बाँधने- छोड़ने व घास खिलाने का कार्य।
  2018. गोरसी—(सं.स्त्री..) आग जलाने के लिये बनी मिट्टी की टोकनीनुमा पात्र इसका पुलिंग गोरसा।
  2019. गोलिआउब—(क्रि.वि.) गोला आकार प्रदान करना, पिण्ड रूप में बनाना।
  2020. गोलमाल—(ब.मु.) विषय बदलना, सन्दर्भ घुमाना, गायब करना, छिपा देना, कुछ का कुछ कर देना।
  2021. गोलकिया—(विषे.) जो गोली हो, गोल वाली वस्तु।
  2022. गोलहथी—(सं.स्त्री..) नये चावल की खिचड़ी, सिर के बल जमीन पर पलटना (क्रि.वि.)
  2023. गोलम्बर—(सं.पु.) गोलाईदार चौराहा।
  2024. गोला—(सं.पु.) लकड़ी का बड़ा ईमारती लठ्ठा।
  2025. गोलियामटरा—(सं.पु.) मटरफली, गोला मटर।
  2026. गोसट—(सं.पु.) परोपकार, लाभ, गोसट देना, ब.मुहा.।
  2027. गोसँइया—(सं.पु.) संरक्षक, मालिक, स्वामी, पालनकर्ता।
  2028. गोस—(सं.पु.) माँस, गोस्त।
  2029. गोहटी—(सं.स्त्री..) एक मादा जन्तु जो विषैली होती है, पुलिंग गोह।
  2030. गोही—(सं.स्त्री..) फल की बीजा, महुआ का बीजा, जंघा में उगी मांषपेषी-गाँठ।
  2031. गोहागर—(ब.मु.) नाम गोहागर मुहु कुकुर कस, बघेली मुहावरा।
  2032. गोहराउब—(क्रिया) आवाज देकर बुलाना, लौटने के लिये आग्रह स्वर।
  2033. गोहूँहा—(सं.पु.) जिस खेत में गेंहूँ बोया हो, गेंहूँ की फसल का बाँध।
  2034. गोह—(सं.पु.) एक विषैला जन्तु, जो छिपकली से बहुत बड़ा होता है।
  2035. गोहार—(क्रि.वि.) संकट के समय तेजी आवाज से पुकार, गोहार मारना, बघेली मुहावरा।
  2036. गोहूँ—(सं.पु.) गेंहूँ का पौध, गेंहूँ।
  2037. गोहमना—(सं.पु.) गेंहुआ रंग, एक वनस्पति, सर्प की एक प्रजाति।
  2038. गोहरबइया—(सं.पु.) बुलाने वाला, पुकारने वाला। घ
  2039. घइरब—(क्रिया) कमर हिलाते हुये चलना, बन-ठन के गतिमान होना।
  2040. घइला—(सं.पु.) मिट्टी या धातु का घड़ा, स्त्री.लिंग घइली।
  2041. घइया—(सं.स्त्री..) बतासा, बतासा बनाने का पात्र।
  2042. घउघई—(अव्य.) समय, क्षण, अवधि, काल, अवसर।
  2043. घउदा—(सं.पु.) फलों का गुच्छा, फलों का झोंथ।
  2044. घँघरिया—(सं.स्त्री..) छोटा लहँगा, घेरदार चमकीला लहँगा।
  2045. घँघोउब—(क्रिया) पानी को हिलोर कर मटमैला करना।
  2046. घघोमन—(विषे.) मैल धोया हुआ पानी, हिलोर कर गन्दा किया गया पानी।
  2047. घघोटब—(क्रिया) काटने जैसा दौड़ना, बाज जैसा टूट पड़ना।
  2048. घटबढ़—(विषे.) कम-अधिक, कमी-वेषी।
  2049. घट्टिहा—(विषे.) घृणित, गन्दा आचरण वाला, एक गाली विषेष।
  2050. घटबा—(सं.पु.) जलाषय का घाट, स्नान करने का निर्धारित स्थल।
  2051. घटनउक—(विषे.) कमाने लायक, घटने योग्य, कम होने लायक।
  2052. घटघटाउब—(क्रि.वि.) पानी जैसा पीना, घट्घट करके पी लेना।
  2053. घटब—(क्रिया) कम होना, कम पड़ जाना, घटना, घट जाना।
  2054. घटउब—(क्रिया) इज्जत कम करना, घटवा देना, घटा लेना।
  2055. घटरमाला—(सं.पु.) बड़े-बड़े मनका या मूंगे का बना हुआ माला।
  2056. घठ्ठा—(सं.पु.) रगड़ लगने से गदेली पर उभरे ठेंठा या चिन्ह्।
  2057. घच्च-घच्च—(अव्य.) जमीन पर सिर पटकने से उत्पन्न ध्वनि, नुकीली चीज घुसने की आवाज।
  2058. घत—(ब.मु.) दाव लगाना, घात लगाना, लाग बैठाना।
  2059. घतिआउब—(क्रिया) पकड़ में कर लेना, अपनी पहुँच में करवा लेना।
  2060. घन्ट—(ब.मु.) कुछ नहीं, पुरुष मूत्रांग।
  2061. घनिआउब—(क्रिया) सघन करना, घन से पीटकर प्रसारित करना।
  2062. घनघनाउब—(क्रिया) जोर से घण्टी बजाना।
  2063. घमउरी—(सं.स्त्री..) पषीने से हुई शरीर पर रबेदार फुन्सी-फोड़िया।
  2064. घमसान—(सं.पु.) गोंड जाति का एक पूज्य देवता।
  2065. घमछाहिर—(विषे.) घाम एवं छाँव, आधी धूप एवं आधी छाँव।
  2066. घमान—(विषे.) धूप से ग्रसित या व्याकुल, कड़ी धूप से त्रस्त।
  2067. घमाका—(सं.पु.) मुष्ठिका, मुष्ठिका का प्रहार।
  2068. घमाघम—(विशे.) धूप की धूप, बादल ही बादल, बरसात के पूर्व गर्जन।
  2069. घमघबाउब—(क्रिया) बाजा बजवा लेना, उत्सव या आयोजन बाजे-गाजे के साथ करना।
  2070. घमचुरहा—(क्रि.वि.) धूप में पीला हुआ फल।
  2071. घम्मा—(सं.पु.) सदैव गाल फुलाये रहने वाला व्यक्ति विषेष का नाम।
  2072. घमिरा—(सं.पु.) एक घास, एक वनौषधि।
  2073. घम्म-घम्म—(सं.पु.) मुष्ठिका प्रहार से उत्पन्न ध्वनि, दही मथने की आवाज, दूध दुहते समय की आवाज।
  2074. घरक्का—(सं.पु.) मरने के पूर्व की श्वॉस, सोते समय की सांस-ध्वनि।
  2075. घरसठ—(क्रि.वि.) घरोबा, घरेलू सम्बंध, ताल-मेल, घुल-मिल जाना।
  2076. घरहा—(सं.पु.) घर-परिवार का, आपसी या घरेलू व्यक्ति।
  2077. घर-घुसना—(सं.पु.) घर के भीतर रहे आने वाला, पराई औरत के पीछे पड़े रहने वाला, बघेली मुहावरा।
  2078. घरी—(सं.स्त्री..) एक घण्टा समय, चूल्हे का वह भाग जिसके किनारे रोटी सेंक रही हो।
  2079. घरइहा—(सं.पु.) पति, गृहस्वामी, घरवाला, घरेलू सदस्य।
  2080. घरफोरवा—(विषे.) घर-परिवार में कलह उत्पन्न करने वाला, मिया-बीबी को लड़ा देने वाला।
  2081. घराती—(सं.पु.) कन्या पक्ष के लोग, कन्या पक्ष के स्वागताकांक्षी।
  2082. घरिया—(सं.पु.) छप्पर का झुकावदार खपड़ा जो ऊपर रहता है।
  2083. घरीघरी—(अव्य.) बार-बार-, उलट-पलट, फिर-फिर से।
  2084. घरबइठा—(सं.पु.) विवाह के बाद जो पत्नी के मायके में ही रहने लगा हो।
  2085. घरघराब—(क्रिया) बादलों की गर्जना, गाड़ी मोटर की आवाज होना।
  2086. घरुहा—(सं.पु.) बटन डालने के लिये, वस्त्र पर बना क्षिद्र या कज।
  2087. घलाय—((योजक) सहित, समेट, भी।
  2088. घली—((क्रिया) मार पडे़गी, मार पड़ी, बजी।
  2089. घलाघली—((क्रि.वि.) एक दूसरे पर मार-पीट, झगड़ा।
  2090. घलघलाब—((क्रि.वि.) पेट के पानी हिलने- डुलने की ध्वनि होना, पेट का गुड़-गुड़ाना।
  2091. घलब—(क्रिया) मार पड़ना, मार खाना, सिर पर संकट या प्रहार पड़ना।
  2092. घँसब—(क्रिया) घिसना, घर्षण करना, अनसुनी करना, मालिष करना, मैल छुड़ाना, लेपन करना, घँसि डारब, बघेली मुहावरा।
  2093. घसिआरी—(क्रि.वि.) मवेषियों को सुबह-शाम घास खिलाने का कार्य करना और लाभांष से दूर रहना।
  2094. घँसबाउब—(क्रिया) घिसवाना, घर्षण करवाना, स्वयं झसवाना।
  2095. घँसनीठ—(विषे.) जिस पर गाली-मार का असर न होता हो, जो मार खाते रहने पर भी मार-गाली की परवा न करता हो, निर्भीक।
  2096. घसोंटब—(क्रिया) धूल में घसीटना, घसीट कर गन्दा करना, रोज-रोज पहनना।
  2097. घँसिलब—(क्रिया) घिसट-घिसट कर चलना, काम चलाऊ गति।
  2098. घसिलाउब—(क्रिया) घसीटना, घसीटते हुये खीचना, काम न करके लटकाये रहना।
  2099. घसबरब—(क्रिया) घिसल जाना, जमीन पर फिसल जाना, पिस जाना।
  2100. घसरभसर—(ब.मु.) ऐसा-वैसा, कमजोर, लापरवाही, कामचोर, हीला-हवाली।
  2101. घसबइया—(सं.पु.) घिसने वाला तेल लगाने वाला, मैल रगड़ने वाला, रगड़-रगड़ कर तेल का लेपन करने वाला। घा
  2102. घाउर घुप्प—(विषे.) एकदम गुप्प, चुप, मौन, मुहबन्द, बघेली मुहावरा।
  2103. घाघ—(विषे.) घोटा-पिटा, जानकार, चतुर-चालाक।
  2104. घाठ—(सं.स्त्री..) दलिया, गेहूँ की खिचड़ी, गेंहूँ व ज्वार का भात।
  2105. घाती—(सं.पु.) हृदय का काला, धोखेबाज, घात करने वाला।
  2106. घानी—(सं.स्त्री..) तेल के बदले दिया गया तिलहन, घानी निकारब, ब.मु.।
  2107. घाम—(सं.पु.) धूप, सूर्य की ऊष्मा।
  2108. घालब—(क्रिया) उक्ति या आख्यान कहना, सुनाना, छोड़ना।
  2109. घाल—(योजक) सहित, समेत।
  2110. घिआर—(विषे.) अधिक घी देने वाली, जिसके दूध में घी मात्रा अधिक हो। घि
  2111. घिउ—(सं.पु.) घी, घृत।
  2112. घिउहाई—(सं.स्त्री..) घी से युक्त, घी रखने वाला पात्र, घी से बना व्यंजन।
  2113. घिघ्घी—(सं.स्त्री..) आवाक हो जाना, सब कुछ सुध-बुध खोना, होष उड़ जाना, चेतना शून्य होना, घिघ्घी बंधना, ब.मु.।
  2114. घिघिआब—(क्रिया) दाँत गड़ा देना, पुरुजोर प्रयास के साथ निवेदन करना।
  2115. घिंचरब—(क्रिया) खिंच जाना, आकष्श्ट होना, खिंचाव के कारण घिसलना।
  2116. घिंचमरा—(सं.पु.) एक गाली, कमजोर गर्दन वाला, पतली गर्दन वाला।
  2117. घिंचबइठा—(विषे.) छोटी गर्दन वाला, जिसकी गर्दन बैठी हो, स्त्री.लिंग घिंचबइठी।
  2118. घिंचाउब—(क्रिया) खिंचवाना, खींचने में मदद करना, निकलवाना।
  2119. घिन—(सं.पु.) घृणा, निन्दा, अरुचि, जी मचलाना।
  2120. घिनघिनाब—(क्रिया) मन भिनकना, घृणा लगना, नफरत होना।
  2121. घिनाब—(क्रिया) घृणा लगना, मन मिचलाना, गन्दगी के कारण अरुचि होना।
  2122. घिनउची—(सं.स्त्री..) वह स्थान जहाँ पानी से भरा घड़ा नियमित रखा रहता हो।
  2123. घिनउनी—(सं.स्त्री..) हाथ में होने वाली मवाददार व्याधि, एक गाली।
  2124. घिनहा—(सं.पु.) गन्दा व्यक्ति, घृणित कार्य करने वाली, स्त्री.लिंग घिनही।
  2125. घिनहाई—(सं.स्त्री..) अभद्र कार्य, निन्दनीय क्रिया, कमीयुक्त कार्य।
  2126. घिर्रा—(सं.पु.) घर्षण, घिसाब-चिन्ह्, रस्सी के घर्षण का चिन्ह्। घी
  2127. घींच—(सं.स्त्री..) गर्दन, लेवाड़ी, घीच कुटाना, बघेली मुहावरा।
  2128. घींचब—(क्रिया) निकाल लेना, खींचना, चुरा लेना।
  2129. घींच मराउब—(ब.मु.) व्यर्थ में कार्य करना, फोकट में प्राण लगाकर काम करना। घु
  2130. घुआ—(सं.पु.) किवाड़ के ऊपर-नीचे का नुकीला भाग, मक्का की रेषेदार बलरी।
  2131. घुइरब—(क्रिया) घूरकर देखना, कड़ी नजर से देखना, एकटक देखना, आँख दिखाना।
  2132. घुइँस—(सं.पु.) धमकीयुक्त दबाव, दबावबस कोसना।
  2133. घुघुँरी—(सं.स्त्री..) उबले हुये हरे ज्वार के दानें, उबले हुये गेंहूँ के दानें।
  2134. घुघुँची—(सं.स्त्री..) एक रंगीन फल वाली वनस्पति, एकरती माप का फल, घुघुँची अपनें रंग बाउर, ब.मु।
  2135. घुघुआर—(सं.पु.) मैला-कुचैला व्यक्ति, कूड़े- कर्कट की तरह अस्तित्वहीन।
  2136. घुटकी—(सं.स्त्री..) गला, गर्दन, गले की मांसल गाँठ।
  2137. घुटुआ—( (सं.पु.) पैर मुड़ने के स्थल की गॉठ, पैर की कटोरीनुमा कटोरी।
  2138. घुटघुट दोहनी—(विषे.) दोहनी के गले तक भरा हुआ माप का पदार्थ।
  2139. घुटकब—(क्रिया) निगलना, पानी-पीना, निवाला गले से अन्दर करना।
  2140. घुनहा—(वि./सं.पु.) घुन लगा हुआ एक कोमल पत्थर।
  2141. घुनब—(क्रिया) घुन जाना, कीड़े से अनाज का अपुष्ट हो जाना।
  2142. घुनघुना—(सं.पु.) बच्चों का खिलौना, बच्चों का बाजा।
  2143. घुपब—(क्रिया) चारों तरफ से बादलों का घिर आना, अंधकारमय होना।
  2144. घुमइया—(सं.पु.) घूमने वाला, घुमक्कड़, चलते-फिरते रहने वाला।
  2145. घुमड़ब—(क्रिया) बादलों का घिर आना, बादलों का अच्छादन।
  2146. घुरब—(क्रिया) घुलना, एकात्म होना, ताल-मेल बैठ जाना, घुट-घुट करमरना।
  2147. घुरउब—(क्रिया) किसी को घुट-घुट कर मरने लायक कर देना।
  2148. घुरूर-घुरूर—(अव्य.) गाड़ी या बस की आवाज, चक्की की ध्वनि।
  2149. घुरबा ा—(सं.पु.) कूड़ा कर्कट रखने का स्थल, आँख गड़ाये रखने वाला।
  2150. घुघुरी—(सं.स्त्री..) उबले ज्वार या गेंहूँ के खड़े दाने।
  2151. घुर्राब—(क्रिया) घुर-घुराहट होना, बस गाड़ी की आवाज होना।
  2152. घुरहगना—(ब.मु.) अस्तित्वविहीन, घर की मुरगी दाल बराबर।
  2153. घुल्ला—(सं.पु.) कपड़ा या वस्तु टांगने की लकड़ी, खूंटी।
  2154. घुल्ला ाब—(क्रिया) पेट का घुल-घुलाना, पेट में घुल्ल-घुल्ल होना।
  2155. घुल्लघुल्ल—(सं.पु.) घड़े से पानी निकालते समय की आवाज, पेट के अन्दर की आवाज।
  2156. घुसेरब—(क्रिया) अन्दर डालना, पिरोना।
  2157. घुसबाउब—(क्रिया) अन्दर डलवाना, डलवाने में सहयोग करना।
  2158. घुँसहा—(सं.पु.) जो घूँस लेकर काम करता हो, घूँसखोर।
  2159. घुसेरबइया—(सं.पु.) जो डालने का कार्य करता हो, पिरोने वाला।
  2160. घुसुरब—(क्रिया) किसी से चिपकना, आधीन होना, जबरिया ठंसना। घू
  2161. घूँचा—(सं.पु.) मुस्ठिका, मुस्ठिका से प्रहार।
  2162. घूर—(सं.पु.) सड़ा-गला कूड़ा कर्कट, घूर होइगा, बघेली मुहावरा।
  2163. घूँटी—(सं.स्त्री..) षिषुओं को पिलाने बड़ी जड़ी-बूटी, एक औषधि। घे े
  2164. घेंचा—(सं.पु.) हाथ मोड़ने पर निकली हड्डी या गाँठ।
  2165. घेचिआउब—(क्रिया) घेंचें के बल किसी को मारना-पीटना।
  2166. घेटब—(क्रिया) घिसना, घिसकर चिकना करना, रगड़ना।
  2167. घेट्टा—(सं.पु.) घिसकर चिकना करने वाला पत्थर।
  2168. घेंटी—(सं.स्त्री..) छिलकायुक्त फली।
  2169. घेतल—(विषे.) मन्द बुद्धिवाला, हकलाकर बोलने वाला।
  2170. घेमन—(सं.पु.) परेषानी, दुगर्ति, विडम्बना।
  2171. घेर—(सं.पु.) केले के फल का एक गुच्छा, कपड़े की चौड़ाई।
  2172. घोक्की—(विषे.) घिरी हुई, आकाष की भाँति झुकी हुई वस्तु स्थिति।
  2173. घोखब—(क्रिया) रटना, याद करना, कंठस्थ करना, स्मरण करना।
  2174. घोखबाउब—(क्रिया) किसी से याद करवाना, कंठस्थ करवाना।
  2175. घोखबइया—(सं.पु.) रटने वाला, पुनर्रावृत्तिकर्ता।
  2176. घोंघी—(सं.स्त्री..) गर्दन या गला, शंख की आकृति का कीड़ा, पुलिंग घोघा।
  2177. घोंघा—(सं.पु.) गर्दन, कण्ठ, गला, गले की आवाज।
  2178. घोंघाब—(क्रिया) जोर-जोर से बोलना, गला फाड़कर चिल्लाना।
  2179. घोटहर—(सं.पु.) बड़े-बड़े मनका से बना बड़ा माला।
  2180. घोट्ठा—(सं.पु.) तर्क पर तर्क करना, काष्ठ पर रगड़कर चिन्ह्।
  2181. घा ोट्ठब—(क्रिया) परेषान होना, बार-बार आना-जाना, दौड़-धूप करना।
  2182. घोटब—(क्रिया) घिसना, मथना, महीन करना, कंठस्थ करना, घिसाई करना।
  2183. घोटघोटाउब—(क्रि.वि.) पानी जैसा पीना, बिना रूके एक साँस में पी जाना।
  2184. घोटाउब—(क्रिया) घिसवाना, घोटाई करना, परेषान करना, सिर मुड़वाना।
  2185. घोट्घोट—(सं.पु.) पानी पीते समय की एक ध्वनि।
  2186. घोटन्ना—(सं.पु.) हुकदार छड़ी या बेंत, स्त्री.लिंग घोटन्नी।
  2187. घोटा—(सं.पु.) पषुओं को तरल दवा पिलाने वाली बाँस की पोंगली।
  2188. घोड़मुहा—(विषे.) घोड़े के मुँह की तरह वाला व्यक्ति, एक गाड़ी।
  2189. घोड़सार—(सं.पु.) घोड़ा बाँधने वाला स्थल, घुड़षाल।
  2190. घोड़ाब—(क्रिया) घोड़ी का गर्भवती होने की क्रिया।
  2191. घोड़ग्घर—(सं.पु.) बड़ा एवं वयस्क, घोडग्धर आय, बघेली मुहावरा।
  2192. घोड़दउर—(क्रि.वि.) घोड़े की दौड़, घोड़े की भाँति आदमी की दौड़।
  2193. घोड़िया—(सं.स्त्री..) घोड़ी, सयानी नारी के लिये अपमानजन्य संकेत।
  2194. घोडिबाउब—(क्रिया) घोड़ी को गर्भधारण करवाना।
  2195. घोड़चढ़ा—(ब.मु.) बहुत बड़ा आदमी, घोड़चढ़ा आबै बघेली मुहावरा।
  2196. घोड़चरा—(सं.पु.) एक घास विषेष, घोड़े की चरी हुई घास।
  2197. घोड़हा—(सं.पु.) घोड़ रखने वाला, घोड़ चढ़ने वाला, घोड़ खरीदने व बेचने वाला, गुप्त जाति का गोत्र।
  2198. घोन्नस—(सं.पु.) घुटना की मोटी हड्डी, घुटना।
  2199. घोरब—(क्रिया) घोलना, दही मथना, माठा सा घोरब, बघेली मुहावरा।
  2200. घोरबाउब—(क्रिया) किसी से घुलवाना, दही मथवाना।
  2201. घोराउब—(क्रिया) किसी को आवाज देकर बुलाना एवं बुलवाना।
  2202. घोराघारी—(ब.मु.) टाल-मटोल, अस्पष्ट व अनिर्णय, संदिग्ध बातें।
  2203. घोल घोलब—(क्रिया) बड़े बर्तन के क्षिद्र से पानी निकलना, खेत की मेंड़ से पानी बहना।
  2204. घोंसमन—(सं.पु.) दबावयुक्त उलाहना, धमकी भरा दबाव, कोसने का कार्य।
  2205. घोंसनहर—(सं.पु.) सदा घोंसने या कोसने वाला व्यक्ति।
  2206. चइली—(सं.स्त्री.) छोटी पतली लकड़ी की टुकड़ी, रोटी का छिलका, गरम मशाले की पतली लकड़ी, पुलिंग चइला।
  2207. चसेला—(सं.पु.) ज्वार को मक्का के आटे से बनी घी-तेल से छनी पूड़ी।
  2208. चउपट—(विशे.) आँख का फूट जाना, अत्यधिक क्षति का होना।
  2209. चउमासा—(सं.पु.) चउमासा कटना (बघेली, मुहावरा), चतुर्मासी पत्रिका
  2210. चउपटा नन्द—(ब.मु.) नाम, चार महीने का शिशु, एकदम सर्वनास, सत्यानाश की स्थिति।
  2211. चउम्ही—(सं.पु.) कृषि कार्य सम्बन्धी हल मे संलग्न एक लकड़ी।
  2212. चउम्ह—(सं.पु.) मुख के दोनों जबड़ा।
  2213. चउगोलबा—(सं.पु.) कवितानुमा चारों पदो ंकी कहावत।
  2214. चउकी—(सं.पु.) रोटी बेलने के लिये काष्ठ या पत्थर का बना वृत्ताकार पात्र, पुलिस स्टेशन या थाना वनरक्षक नाका।
  2215. चउगाब—(क्रिया) आश्चर्य चकित होना, देखकर आश्चर्य मे पड़ना।
  2216. चउगान—(सं.पु.) घर के सामने का आरक्षित स्थल, आश्चर्य चकित, मन।
  2217. चउपाल—(सं.पु.) प्रमुख प्रवेश द्वार के पास बना बैठका, आकाशवाणी के एक कार्यक्रम का नाम।
  2218. चउबिआन—(सं.पु.) चौबे लोगो की बस्ती, चौबे के नाम से जाना जाने वाला मुहल्ला।
  2219. चउकठ—(सं.पु.) दरवाजे पर लगने वाले लोहे या काष्ठ का बना फ्रेम।
  2220. चउमास—(विशे.) वर्षा ऋतु के चारमास, बरसात।
  2221. चउमसही—(सं.स्त्री..) बरसात ऋतु से होने वाली साग-सब्जी फल, बरसात से धारित की जाने वाली वस्तु।
  2222. चउकब—(क्रिया) अकस्मात उछल पड़ना, भय से कूदना, भौचक्का।
  2223. चउक—(सं.स्त्री.) घर के बाहर चौक, पूजा हेतु आटे से निर्मित स्थल।
  2224. चउथि—(सं.स्त्री.) महीने की चतुर्थी तिथि का नाम।
  2225. चउथिया—( (सं.विशे) चार दिन के अन्तराल में चढ़ने वाला बुखार।
  2226. चउरा—(सं.पु.) किसी की स्मृति मे बना चबूतरा, झाड़-फूँक का स्थल।
  2227. चउगिरदा—(विशे.) चारों ओर या चतुर्दिक, चारों ओर से घिरा हुआ।
  2228. चउखुट—(विशे.) जिसके चारों कोण बराबर हो, चौकोर वस्तुस्थिति।
  2229. चउपरतब—( (क्रिया) कपड़ों को मोड़कर व्यवस्थित ढंग से रखना।
  2230. चउहद्दी—(विशे.) खेत के चारों दिशाओं की सीमा, सीमांकन या सीमारेखा।
  2231. चउथइया—(सं.स्त्री.) एक पाँव की चौथाई नाप का बना, काष्ठ का पात्र।
  2232. चउथी—(सं.स्त्री.) कक्षा चार, पर्व के चौथे दिन का परंपरागत कार्यक्रम।
  2233. चउरी—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का चबूतरा, देवी का देवालय।
  2234. चउथेरा—(सं.पु.) तमाचा या हाथ की चपत, गदेली से गाल पर प्रहार।
  2235. चउंड़रा—(सं.विशे.) झुकी सींग वाला बैल, किसी बैल विशेष का नाम, अंग प्रदर्शित करने वाली, बदचलन औरत।
  2236. चउधरा—(विशे.) जवानी न सम्भाल पाने वाली पूर्ण वयस्क बालिका।
  2237. चउकी—(सं.स्त्री.) घर के सामने के आरक्षित जगह, पूजा पाठ के पूर्व जमीन पर बना रेखा चित्र।
  2238. चउपहल—(विशे.) चारों ओर से कोन निकली एवं चिकनी स्थिति, गाटर की भाँति स्थिति।
  2239. चउपलही—(सं.पु.) चौकोर वस्तु, ऐसी जो चारों ओर से चीरकर चौकोर हो।
  2240. चउँसी—(सं.स्त्री.) माघ-पूस की रात में ओस का जमीन में सफेद जम जाना।
  2241. चउकस—(सं.पु.) साही माप या माप स्थिति, शरीर में फिट बैठना, मनमुताबिक हो जाना।
  2242. चउकसी—(विशे.) चतुराई या चलाकी, बदमाशी एवं बेईमानीनुमा होशियारी।
  2243. चउरासी—(सं.पु.) घुँघरूनुमा चाँदी का आभूषण, नारियों द्वारा कमर में धारण करने वाली सँकली।
  2244. चउपर—(सं.पु.) चौपर का एक खेल।
  2245. चउगुन—(विशे.) चारगुना, किसी वस्तु को चार मोड़ में मोड़ना।
  2246. चउहानी—(ब.मु.) अपना कार्य अपने हाथ कर लेने में लघुता नहीं के अर्थ पर केन्द्रित (बघेली मुहावरा), भाजी खाये चौहानी नहीं घटे।
  2247. चट्टी—(ब.मु.) द्विग भ्रमित करने के अर्थ में चट्टी (बघेली मुहावरा), दूसरे के कहने-सुनने में पड़ना।
  2248. चकराउब—(क्रिया) मुँह चौड़ा करके फैलाना, मुँह फैलाकर बात करना।
  2249. चकराब—(क्रिया) मुँहफाड़कर बातें करना, मुँह चमकाना, मुँह बनाकर लम्बी- चौड़ी मारना।
  2250. चकल्लस—(सं.स्त्री.) व्यर्थ की झंझट, उलझनयुक्त वस्तुस्थिति, निरर्थक पंचायत।
  2251. चकत्ती—(सं.स्त्री.) शरीर पर चकत्तेदार चर्मरोग, चपटा शुष्क घाव।
  2252. चकरपेहदिया—(विशे.) छोटे कद का मोटा व्यक्ति, असमान्य ढंग से मोटा।
  2253. चकचक—(विशे.) एकदम से गीला, घी-तेल में डूबी हुई।
  2254. चकाचक्क—(विशे.) प्रत्येक दृष्टि से परिपूर्ण एवं सम्पन्न व्यवस्था।
  2255. चकरान—(विशे.) हृष्ट-पुष्ट युक्त, मोटाई युक्त, चौड़ाई से ओतप्रोत।
  2256. चकेठ्ठा—(विशे.) लम्बा कम मोटा अधिक, दोहरा वदन, स्त्री.. चकेठ्ठी।
  2257. चकरा—(सं.पु.) मिट्टी का दो पाट वाला पात्र, मिट्टी की चक्की।
  2258. चकरी—(सं.स्त्री.) पत्थर की बनी दो पाट वाली चक्की।
  2259. चकलई—(विशे.) किसी वस्तु या व्यक्ति की चौड़ाई या मोटाई।
  2260. चकलाउब—(क्रिया) विस्तृत करना, चौड़ा करना, फैलाना।
  2261. चकउड़ा—(सं.पु.) उड़द के फल सा एक घास का पौधा।
  2262. चकबार—(सं.पु.) लकड़ी का औजार- जिससे चौकोर गीली मिट्टी काटी जाती है।
  2263. चकदण्ड—(सं.पु.) कष्ट, परेशानी मुक्त संकट, उलझनयुक्त।
  2264. चकरिहा—(सं.पु.) नौकरी करने वाला कर्मचारी या नौकरी में संलग्न व्यक्ति।
  2265. चकरहा—(सं.पु.) वह स्थान जहाँ मिट्टी की बनी चक्की गड़ी हो।
  2266. चकुनिआब—(क्रिया विशे.) शर्म के कारण सिकुड़ना, लज्जा के कारण मुख छिपाना, संकोच करना।
  2267. चगड़ब—(क्रिया) दौड़कर पीछा करना, गतिमान कर दूर भगाना, दौड़कर भगाना।
  2268. चगड़वइया—(सं.पु.) पीछा करने वाला व्यक्ति, मवेशी दौड़कर भगाने वाले।
  2269. चँछरब—(क्रिया) छिल जाना, छिलका का निकल जाना, चमड़ी का छिल जाना।
  2270. चँछउआ—(विशे.) छीलते हुए शैली में कार्य करना।
  2271. चँछवइया—( (सं.पु.) छीलने वाला, लकड़ी को सुडौल बनाने वाला व्यक्ति।
  2272. चॅछवाई—(सं.पु.) लकड़ी को सुडौल बनाने के बदले में प्राप्त मेहनताना।
  2273. चटपटी—(सं.पु.) चटपट करने वाली काष्ठ की चप्पल।
  2274. चट्टी चढ़ाना—(ब.मु.) दिक्भ्रमित करके कार्य के लिए उद्धत करना।
  2275. चटकनिआउब—(क्रिया) तमाचे से पीटना, तमाचा जड़ देना।
  2276. चटबइया—(सं.पु.) चटवाने वाला व्यक्ति, स्वाद लेने वाला।
  2277. चटुआ—(सं.पु.) बार-बार अपमानित होने पर भी जो उसी के पीछे चले।
  2278. चटकब—(क्रिया) फट जाना, विदीर्ण हो जाना, दो भागों में खण्डित हो जाना, दरार आ जाना।
  2279. चट्ट चट्ट—(सं.पु.) सूखी लकड़ी को हाथ से तोड़ने पर होने वाली ध्वनि।
  2280. चटपट—(विशे.) तुरन्त, तत्काल, जल्द
  2281. चढ़ाव—(सं.पु.) विवाह के समय वर द्वारा मण्डप के तले कन्या को अर्पित होने वाले आभूषण, श्रृँगारयुक्त कन्या की एक रस्म।
  2282. चढ़बइया—(सं.पु.) सहारा लेकर ऊपर चढ़ाने वाला, चढ़ने में मदद करने वाला।
  2283. चढ़ईया—(विशे.) रास्ते की उच्च भूमि, समतल से ऊँचा।
  2284. चढ़ब—(क्रिया) चढ़ाई करना, सवार होना, चढ़ना या चढ़ जाना।
  2285. चढ़बाइक—(सं.पु.) विवाह की मध्यस्थता करने वाला व्यक्ति विशेष।
  2286. चढ़ाउब—(क्रिया) सहारा देकर ऊपर उठाना, ऊपर करना, चढ़ाना अर्पित करना।
  2287. चढ़बाउब—(क्रिया) अपने ऊपर चढ़वाना, चढ़वाने में सहयोग करना।
  2288. चढ़बाई—(क्रिया) चढ़वाने के बदले प्राप्त पारितोषिक, भाड़ा उठाने की मजदूरी।
  2289. चतुरबइकल—(सं.स्त्री.) जो जान बूझकर पागल बना हो अपना स्वार्थ सिद्व करने के लिए चटक-मटक, आकर्षक वेशभूषा, श्रृँगार, चमक-दमक।
  2290. चथ्थ-चथ्थ—(सं.सी.) माँसपेशी पर गदेली से प्रहार करने पर उत्पन्न ध्वनि।
  2291. चदउरे—(सं.पु.) सिर के चाँद पर, ब. मु.।
  2292. चदिया—(विशे.) पाँव के तलबे पर बने चिकने चिन्ह, तलबे के ठेठे। चँँ ँ
  2293. दिहाई—(सं.सी.) चाँदी की धातु से बनी हुई वस्तु।
  2294. चनचनाव—(क्रि.) कर्कश वाणीयुक्त वार्ता की क्रिया, आवेशित होकर अनाप सनाप बोलना।
  2295. चनफन—(विशे.) चंचल एवं चैतन्य, कर्मठ एवं सक्रिय, होशियार एवं तत्पर।
  2296. चन्नाब—(क्रि.) बालों के खींचने से दर्द का होना।
  2297. चन्नावाउब—(क्रि.) बाल उखाड़कर पीड़ा की अनुभूति करवाना।
  2298. चन्टई—(विशे.) तेजाई या टटकापन, फुर्ती, सजगता एवं सर्तकता।
  2299. चपरास—(सं.पु.) पुलिस या कोटवार के कमर का शासकीय बेल्ट।
  2300. चपटब—(क्रि.) चिपकना, किसी वस्तु का दबाव से चपटा हो जाना।
  2301. चपटाउब—(क्रि.) वस्तु को चपटी करना, गोंद से चिपकाना।
  2302. चपटवइया—(सं.पु.) चिपकाने वाला व्यक्ति, वस्तु को चपटी करने वाला।
  2303. चपेट—(सं.स्त्री..) भारी पत्थर के नीचे हाथ दब जाना, किसी का दबाव किसी व्यक्ति पर पड़ना, दबाव से लगी चोट।
  2304. चपेठब—(क्रि.) किसी को घेरकर किसी कार्य हेतु दबाव देना।
  2305. चपकउली—(सं.स्त्री.) चपटी आकृति वाली वस्तु-जूती की तरह चपटी, चिपका हुआ गाल या मुँह।
  2306. चपका—(सं.पु.) कोड़ा, चमड़े का अस्त्र।
  2307. चपरपेल—(सं.पु.) गलत बात को भी जबरिया सही सिद्ध करना।
  2308. चपरपेली—(क्रि.) जबरिया, जबरदस्ती, मनमानीपूर्ण कार्य करना।
  2309. चपउआ—(सं.पु.) दबे पाँव, दबाकर चलने की शैली।
  2310. चपबइया—(सं.पु.) दबाव देकर, दबाने वाला, दबाये रहने वाला व्यक्ति।
  2311. चपाउब—(क्रि.) दबाना, शक्ति लगाकर दबाव देना।
  2312. चपबाउब—(क्रि.) दबवाना, ताकत लगवाना, मालिश करवाना।
  2313. चपटिआउब—(क्रि.) किसी वस्तु को चपटी आकृति में करना।
  2314. चपटा—(सं.पु.) चपटे आकृति की वस्तु, चिपकी हुई।
  2315. चपर—(अव्यय) बेबुनियाद जिदपूर्ण वाली बातों विहीन वार्तालाप।
  2316. चबइना—(सं.पु.) चबेना, भुना चना, मक्का का फूटा, फसल काटते समय दिया जाने वाले अतिरिक्त बोनस।
  2317. चबरिआउब—(क्रि.) तमाचा से मारना, गाल पर गदेली से प्रहार करना।
  2318. चबाउब—(क्रिया) दाँतों से कटवाना किसी वस्तु को दाँतों से चबाना।
  2319. चबइया—(सं.पु.) चबाने वाला व्यक्ति, चबेना चाभने वाला, काट खाने वाला।
  2320. चबरा—(सं.पु.) तमाचा, उँगुलियों सहित हथेली प्रक्षेत्र।
  2321. चबनहा—(सं.पु.) काट खाने वाला जानवर, विषैला जानवर, दाँत से पकड़ने का आदी जानवर।
  2322. चबडिढ़—(विशे.) बात भिड़ाने में तेज, तर्क-वितर्क मे समर्थ, बात करने में निर्भीक बहस में जल्दी न मानने वाला।
  2323. चभराब—(विशे.) ओंठ पर ओंठ जोर-जोर से पटकर बात करने की शैली।
  2324. चभोक्का—(ब.मु.) तरल पदार्थ का किसी वस्तु पर भरपूर लेपन तेल या घी में डूबी हुई रोटी की स्थिति।
  2325. चभर-चभर—(अव्यय) समाज में गाल बजाना, योग्य समुदाय के मध्य निरर्थक राग अलापना, मुँह बना बनाकर कृत्रिम बातें करना।
  2326. चमकइया—(सं.पु.) चमकने वाला, आँख चमकाने वाला व्यक्ति।
  2327. चमाचम्म—(विशे.) हर दृष्टि से भरपूर एवं सम्पन्न, जोर से चमचमाता हुआ।
  2328. चमकब—(क्रिया) चमकना, किसी को खिझाने के लिए मुँह बनाना, इधर-उधर अंग हिलाना, किसी के सामने बनना-ठनना।
  2329. चमका—(सं.पु.) धता पढ़ाने वाली शब्दवलियाँ, उलटा-सीधा बताने वाली बातें बहानाबाजी या विलोमअर्थी प्रस्तुति।
  2330. चमकुल—(विशे.) बदचलन प्रवृत्ति की नारी, अंग प्रदर्शन करने वाली।
  2331. चम्पई—(विशे.) पीला गहरा, चंपा के रंगका।
  2332. चमर—(सं.पु.) देवी-देवताओं को या राजसी पुरुषों को हवा करने वाला घोड़े के बाल का बना एक विशेष वस्तु या पात्र।
  2333. चमरहाई—(विशे.) निकृष्ट व्यवहार, अतिघृणित क्रिया-कलाप।
  2334. चमरडोभा—(क्रिया) विरल सिलाई, दूर-दूर सुई की सिलाई।
  2335. चमकाउब—(क्रिया) चिढ़ाने के लिए मुँह की आकृति विकृत बनाना, किसी की हँसी उड़ाना, दूसरे को संकेत करके नकल उतारना।
  2336. चमराई—(सं.स्त्री.) बड़े पत्तों वाली साग की एक किस्म।
  2337. चरहा—(सं.पु.) आरक्षित घास का मैदान, घास की कटाई करने वाले।
  2338. चरचरी—(विशे.) किसी भी कार्य की अधिकता, फसल कटाई का समय।
  2339. चरमुट—(विशे.) धन-धान्य से सम्पन्न, स्वस्थ्य एवं शक्तिवान, शरीर हृष्ट एवं पुष्ट, लम्बा-चौड़ा, नया जवान।
  2340. चरवाह—(सं.पु.) पशुओं को वन में चराने वाला, पशुओं की सेवा सुश्रुसा करने के लिए संलग्न व्यक्ति।
  2341. चरवाहिन—(सं.स्त्री.) पशु चराने वाली नारी।
  2342. चरागन—(सं.पु.) जहाँ पर खूब चारा उगा हुआ हो वह प्रक्षेत्र।
  2343. चराउब—(क्रिया) घास खिलाने का कार्य, पशुओं को चरवाना।
  2344. चरबाउब—(क्रिया) मवेशी चरवाना, चरवाने में सहयोग करना।
  2345. चरबइया—(सं.पु.) चरवाहा, पशुओं को चराने वाला।
  2346. चरचराउब—(क्रिया) ओर-छोर फाड़ देना, लकड़ी की डाली या नया कपड़ा फाड़ने से उत्पन्न ध्वनि होना।
  2347. चरु—(सं.पु.) दुधारु पशुओं के छोटे-छोटे बच्चे, चिड़िओं के बच्चे।
  2348. चरेर—(विशे.) कड़ा या सख्त, अधिक उम्र या वयस्क, परिपक्व अवस्था।
  2349. चरचराब—(क्रिया) पेड़ की डाली टूटने से होने वाली एक विशेष ध्वनि, आवश्यकता से अधिक तेज आवाज के साथ बोलना।
  2350. चरगोड़ा—(विशे.) चार पाँव वाली वस्तु-चार पैर का जीवधारी।
  2351. चरब—(क्रिया) पशुओं द्वारा घास चरना, चुन लेना या खा डालना।
  2352. चरोहन—(सं.पु.) चावल धोने के बाद निकला हुआ श्वेत पानी।
  2353. चरसा—(सं.पु.) गाय, भैंस का चमड़ा।
  2354. चरसी—(सं.स्त्री.) चमड़ी, खलरी चरसी खीचंब, बघेली मुहावरा।
  2355. चरपर—(विशे.) तिक्त या कड़वा स्वाद, मिर्चा के स्वाद का आधिक्य।
  2356. चरउही—(सं.स्त्री.) मवेशी चराने की मजदूरी।
  2357. चर्राउब—(क्रिया) किसी कपड़े को ओरा- छोरा फाड़ना।
  2358. चरपरहा—(सं.पु.) गाँव में प्रचलित आटे की मसालेदार सब्जी।
  2359. चरन्नी—(सं.स्त्री.) रुपये का चौथा भाग, चौथाई मूल्य का प्रचलित सिक्का।
  2360. चरचरी—(विशे.) कृषि कार्य की अधिकता या जोर की स्थिति।
  2361. चरु—(सं.पु.) जंगल में पशुओं को प्रवेश देने के लिए वन विभाग द्वारा लिए जाने वाला शासकीय शुल्क।
  2362. चरहा—(सं.पु.) जहाँ बड़ी बड़ी घास उगी हो वह आरिक्षत जगह।
  2363. चराई—(सं.स्त्री.) मवेशी चराने की मजदूरी, चरवाही का मेहनताना।
  2364. चरनन—(सं.पु.) पाँव के बल पैदा हुआ बालक, प्राण लेवा शिशु, खराब चरण में।
  2365. चलनी—(सं.स्त्री.) आटे के छिलके को अलग करने हेतु लोहे का बना जालीदार एक पात्र, पुलिंग ’चलना’।
  2366. चलबइया—(सं.पु.) आटा चलाने वाला व्यक्ति, चलने वाला राहगीर।
  2367. चलबाउब—(क्रिया) आटा चलवाना, पकड़कर चलना सिखाना, आटा चालने में सहयोग करना।
  2368. चलना—(सं.स्त्री.) अनाज और कंकड़ को अलग करने वाला जालीदारी पात्र।
  2369. चलाचली—(सं.स्त्री.) प्रस्थान की बेला, विदाई समारोह।
  2370. चलबली—(सं.स्त्री.) गाल का मध्य भाग, हवा फूंकते समय फूलने वाला गाल।
  2371. चलब—(क्रिया) चलना, साथ मे जाना, गतिमान होना, चलेंगे, चलूँंगा।
  2372. चलाउब—(क्रिया) सहारा देकर चलने हेतु प्रोत्साहित करना आटा चालने में मदद करना।
  2373. चलक्चिल—(विशे.) अपने स्थान से हटा हुआ, बेठिकाने व अव्यवस्थित, बिरादरी से गिरा हुआ, हेरा-फेरी।
  2374. चहली—(सं.स्त्री.) पानी भरने के लिए जमीन पर भरा गया चौकोर स्थल।
  2375. चहलब—(क्रिया) किसी को जमीन पर पटककर पाँव से कुचलना, गीली मिट्टी में घास डालकर पाँव चलाना व मिश्रित करना।
  2376. चलन—(क्रिया) चाल, प्रचलन, चलने की शैली, रीति-रिवाज।
  2377. चहला—(सं.पु.) सतह पर पानी से कीचड़ उठ जाना, पानी-मिट्टी मिश्रित कीचड़नुमा स्थिति।
  2378. चहड़ार—(विशे.) जो अकारण मारपीट करने का आदी हो, आये दिन लड़ने- भिड़ने वाले के लिए व्यग्ंय बोधक।
  2379. चहका—(सं.पु.) किसी पर कीचड़ उछालना, हँसी उड़ाना और चर्चा करना।
  2380. चहवोर—(विशे.) तरल पदार्थ में डूबी हुई वस्तु, लेपन से ओत-प्रोत।
  2381. चहचिड़बा—(सं.पु.) बरसाती सब्जी का फल जो लम्बे गुब्बारे की तरह फलता है।
  2382. चहकारब—(क्रिया) किसी के बोलते ही उसके ऊपर चढ़ बैठना, पानी चढ़ाना।
  2383. चहकब—(क्रिया) चिल्लाकर उलाहनायुक्त बातें कहना, गुस्सा बुझाने की क्रिया, चीख-चीख कर व्यग्ंय वर्षा।
  2384. चहलाउब—(क्रिया) किसी को किसी से पिटवाना, छोटे बच्चे से पाँव द्वारा अपना शरीर कुचलवाना।
  2385. चहॅंदर—(सं.पु.) भोजन स्थल में थाली से अन्नांश पानी गिराकर गंदा कर देने का परिदृश्य।
  2386. चहेटब—(क्रिया) पीछे से खदेड़ना, किसी का पीछा करना, किसी को दौड़कर पकड़ने का प्रयास करना।
  2387. चहेड़ब—(क्रिया) गले तक खाने के लिए बघेली मुहावरा।
  2388. चहेड़िआउब—(क्रिया) मनोविनोद की दृष्टि से किसी को चिढ़ाना।
  2389. चहबोकब—(क्रिया) पर्याप्त मात्रा मे तरल पदार्थ का लेपन करना।
  2390. चहकाउब—(क्रिया) जी खोलकर किसी को पेटभर खिलवाना।
  2391. चहलबइया—(क्रिया) पाँव से कुचल-कुचलकर मारने-पीटने वाला, गीली मिट्टी में घास डालकर पाँव से मिश्रित करने वाला व्यक्ति।
  2392. चहटबइया—(सं.पु.) दौड़कर मवेशी को दूर भगाने वाला, दौड़कर पीछा करने वाला।
  2393. चहहा—(सं.पु.) चाय सना बर्तन, चाय पीने वाले लोग। चा
  2394. चाइचुआ—(सं.पु.) चकते की शैली में सिर के बाल झड़ने का रोग। चाँँ ँ
  2395. ईमाई—(क्रिया) फिरंगी जैसा भ्रमण करने की क्रिया, वृत्ताकार घूमना।
  2396. चाउर—(सं.पु.) चावल।
  2397. चाकल—(विशे.) चौड़ा या चौड़ी, अधिक चौड़ाई वाली वस्तु या रास्ता।
  2398. चाकर—(सं.पु.) नौकर, अधीनस्थ शासकीय कर्मचारी, अनुबंधित व्यक्ति।
  2399. चाकी—(सं.स्त्री.) चक्की, चाकी पड़ना, बघेली मुहावरा।
  2400. चाँचर—(क्रिया) खाना खाते समय जमीन पर चारों तरफ भोजन बिखरना।
  2401. चाँछब—(क्रिया) छीलना ऊपरी छिलका निकालने की क्रिया, चाँचर मचाना, (बघेली मुहावरा) व्यर्थ की बकवास करना।
  2402. चाटब—(क्रिया) चाटने की क्रिया, जीभ से चाटना।
  2403. चाँड़—(विशे.) बहुत तेज, जोरदार, तेज- तर्राट।
  2404. चाड़े—(विशे.) जोर-जोर से, ऊँचे स्वर में, खुलेआम या खुलासा।
  2405. चापब—(क्रिया) पाँव दवाना किसी वस्तु को ढंकना, दबाव देना या दबाना।
  2406. चापट—(सं.पु.) चपटे आकार का या चपटी आकृति।
  2407. चाबर—(सं.पु.) तमाचा, गदेली का समग्र भाग।
  2408. चाबब—(क्रिया) किसी को दाँत से काटना, दाँत से चना चबाना।
  2409. चाबुक—(सं.पु.) सवार होने के समय घोड़े के मुख में लगाई जाने वाली लोहे की एक साँकल।
  2410. चाभ—(सं.पु.) मुख का जबड़ा, जबड़े का गतिमान होना, आवाज फूटना।
  2411. चाम—(सं.पु.) पशुओं की मृत चमड़ी, चमड़ा।
  2412. चाँय-चाँय—(अव्यय) कर्कश स्वर में बोलना, अप्रिय भाषा-बोली एवं आवाज।
  2413. चार—(सं.पु.) एक वनफल का नाम।
  2414. चारा—(सं.पु.) घास, पशुओं का आहार।
  2415. चारखाना—(सं.पु.) ऐसा कपड़ा जिसमे चौड़ी पट्टी की खड़ी रेखा हो।
  2416. चालब—(क्रिया) किसी की चर्चा चलाना, चलना से मिश्रित को अलग- अलग करना, अनाज से कंकड़ अलग करना।
  2417. चालबाजी—(सं.पु.) चाल-चलकर चतुराई, चतुरना, धोखा, बदमासी।
  2418. चाहब—(क्रिया) चाहना, चाहत किसी को पसन्द करना।
  2419. चाही—(अव्यय) चाहिए, लेंगे, आवश्यकता है, अपेक्षा है।
  2420. चाहे—(अव्यय) होवे तो, या तो, इच्छा हो, मन आवे। चि
  2421. चिआंचिया—(विशे.) थोड़ा-थोड़ा करके देना या लेना, फुटकर कार्य, कईबार में किसी कार्य को पूरा करना, खण्ड-खण्ड रुप।
  2422. चिकचिकाब—(विशे.) रोटी-घी का भरपूर लेपन का उभर आना।
  2423. चिकचिकान—(विशे.) चिकनई में डूबा हुआ, घी में डुबाकर निकाल ली गई स्थिति।
  2424. चिआर—(सं.पु.) घर का मध्य, माथा, छप्पर का ऊपरी भाग।
  2425. चिकनिया—(सं.पु.) शौकीन, सौन्दर्य प्रेमी, स्वच्छता सफाई वाला।
  2426. चिकनई—(विशे.) चिकनाहट, तेल या घी के लेपन की स्थिति।
  2427. चिकचोधरा—(विशे.) बालों की छोटी-बड़ी छटाई की स्थिति।
  2428. चिकुनगुंडा—(सं.पु.) खाने-पहनने का शौकीन व्यक्ति, सौन्दर्य प्रेमी।
  2429. चिकचिक—(सं.पु.) वाद-विवाद, मन-मोटाव, उलझनयुक्त बातचीत, किसी वस्तु पर तरल पदार्थ का भरपूर लेपन की स्थिति।
  2430. चिकनाउब—(क्रिया) चिकनी करना, तेल मालिस लगाना, खुशामद करना, लेपन करना।
  2431. चिकनाब—(क्रिया) चिकनाहट से ओत-प्रोत होना, पौष्टिक आहार से मजबूत होना, चर्बी चढ़ आना।
  2432. चिकटब—(क्रिया) कपड़े का तेल में खूब सना होना, हाथ में तेलयुक्त कपड़े का चिपकना।
  2433. चिकचिकहा—(सं.पु.) ऐसा व्यक्ति जो चिकचिकबाजी करता हो।
  2434. चिखना—(सं.पु.) सलाद, चटनी, दारु पीते समय प्रयुक्त सामग्री।
  2435. चिखबाउब—(क्रिया) चिखलाना, स्वाद का परीक्षण करवाना, खा करके स्वाद जानना, जानने।
  2436. चिखरब—(क्रिया) स्वाद के लिए चखाई होना।
  2437. चिखइया—(सं.पु.) चीखने या स्वाद लेने वाला व्यक्ति।
  2438. चिखना—(सं.पु.) स्वाद बदलाव के लिए प्रयुक्त पदार्थ, चटनी, सलाद आदि।
  2439. चिगिड्डा—(सं.पु.) चिड्डा की भाँति दौड़कर कार्य करने वाला, पतले ढांचे का व्यक्ति।
  2440. चिगुरब—(क्रिया) जकड़ना, नस का संकुचित होना।
  2441. चिचिरी—(सं.पु.) तेंद का दातून, तेंद का एक पौधा, वनौषधि पौधा।
  2442. चिटका—(सं.पु.) चिता, अग्निदाह क्रियास्थल, चिटका फोरब (गाली)।
  2443. चिटकबरा—(सं.पु.) रंग-बिरंगा, कबरा, चिटकबरा, चिटकबरी।
  2444. चिट्ट—(सं.पु.) वसूल हो जाना, पक जाना, उपलब्धियाँ, लाभ, पीठ के बल जमीन पर गिरना, चिट्ट होना या चिट्ट करना, बघेली मुहावरा।
  2445. चिटकहनी—(सं.स्त्री.) मरघट, जहाँ चिता जलाया जाता हो।
  2446. चिटकब—(क्रिया) तिड़कना, शीशे का टूटना, आक्रोश के कारण कूदना- उछलना।
  2447. चिटा—(सं.पु.) चौकोर चाक से बनाया गया जमीन पर चिन्ह, ग्रामीण खेल के लिए वर्गीकृत रचना।
  2448. चिटापटी—(विशे.) रंग-बिरंगी, भाँति-भाँति के छापे रचना।
  2449. चिट्टी—(सं.स्त्री.) चमड़ी पर पड़ी हुई चित्ती, सफेद दाग से चकतीदार चमड़ी
  2450. चिड्डा—(सं.पु.) हरे रंग का एक कीड़ा अति दुबले पतले व्यक्ति।
  2451. चिड़चिड़ाब—(क्रिया) बात-बात में आवेशित होना, खीझ उठना।
  2452. चिडचिडहा—(सं.स्त्री.) चिड़चिड़ाने की प्रवृत्ति का आदमी।
  2453. चितावर—(सं.पु.) औषधीय एक वनस्पति व लकड़ी का विशेष।
  2454. चिथरा—(सं.पु.) फटा-पुराना, जीर्ण-शीर्ण कपड़े के टुकड़े।
  2455. चिन्हारी—(सं.स्त्री.) जान-पहिचान, एक दूसरे को भली प्रकार जानना।
  2456. चिथरब—(क्रिया) सड़ी वस्तु का खींचने से टुकड़े-टुकड़े हो जाना।
  2457. चिनी मिट्टी—(सं.स्त्री.) मिट्टी मिश्रित एक धातु का नाम, बर्तन बनाने वाली एक विशेष धातु।
  2458. चिन्धी—(सं.स्त्री.) फटे-पुराने वस्त्र का कई जगह से फूट जाना, जीर्ण-शीर्ण कपड़े का अवशेष।
  2459. चिन्हबाउब—(क्रिया) किसी को पहचनवाना पहिचान कराना, परीक्षण करना।
  2460. चिन्हाउब—(क्रिया) परीक्षण करना, परिचय कराना, पहेली बुझाना।
  2461. चिन्हार—(सं.पु.) जाना-पहचाना व्यक्ति, परचित व्यक्ति।
  2462. चिन्हइया—(सं.पु.) देखकर पहचान जाने वाला, परिचयकर्ता, जानकार या भिज्ञ, सबको जानने-समझने वाला।
  2463. चिन्हबया—(सं.पु.) पहचानने वाला, जानने वाला, परिचय पूछने वाला।
  2464. चिनगा—(सं.पु.) मछली के छोटे-छोटे शिशु, स्त्री.लिंग चिनगी वाला, इधर को उधर करने की प्रवृत्ति वाला।
  2465. चिपुरा—(विशे.) जो आँखें चिपचिपाता रहता हो, जिसकी आँखें प्रायः कीचड़ सनी हो।
  2466. चिपुराब—(क्रिया) आँखों की पलकों का आपस में चिपक जाना, आँखे पटपटा कर देखना।
  2467. चिपुराउब—(क्रिया) बार-बार पलकों को पटकना।
  2468. चिपोटा—(सं.पु.) छोटे बच्चे, संकुचन या सिकुड़न, माँसपेशियों को खींचना।
  2469. चिपोंग—(विशे.) चीपों, गदहा की भांति भाड़ा ढोने वाला व्यक्ति, बुद्धिहीन, अकल रहित।
  2470. चिविल्ला—(सं.पु.) नुकसान करने वाला, हरकत करने की प्रवृत्ति वाला, लड़का, स्त्री.लिंग चिबिल्ली।
  2471. चिबुलखी—(सं.स्त्री.) चंचलमन वाली नारी, बदचलन और चरित्रहीन सी।
  2472. चिभऊ—(अव्यय) बिना रुचि के खाना, खाने की शैली।
  2473. चिमनी—(सं.स्त्री.) दीपक व लालटेन, धुआँ निकलने का खम्भा।
  2474. चिमान—(सं.पु.) शांत या चुपकी स्थिति, मुँहबंद या वार्ता बंद।
  2475. चिमाब—(क्रिया) चुप एवं शांत हो जाना, एकदम चुप होना।
  2476. चिमाउब—(क्रिया) रोते हुए या बोलते हुए को समझाकर चुप करा देना।
  2477. चिमटा—(सं.स्त्री.) लोहे की पतली पटरी जो बीच से बराबर मुड़ी हो।
  2478. चिमटी—(सं.स्त्री.) औरतों द्वारा बालों में धारित चिमटी गहना।
  2479. चिमटिआउब—(क्रिया) चिमटे से पिटाई करना, छप्पर को नीचे ऊपर लकड़ी से बंधन द्वारा बाँधना।
  2480. चिमराब—(क्रिया) पानी में भिगोकर लचीला बन जाना, आर्द्रयुक्त हो जाना।
  2481. चिमरान—(विशे.) नमी से अशुष्क हुई वस्तु, लोचदार स्थिति।
  2482. चियाचिया—(विशे.) वस्तु की थोड़ी-थोड़ी सी कई दौर में दी गई अलग-अलग मात्रा।
  2483. चिरिया—(सं.पु.) चीरने वाला, चीड़-फाड़ करने वाली।
  2484. चिरइया—(सं.स्त्री.) चिड़िया, गले में उठी हड्डी, लकड़ी या लोहे की बनी घर के माथ की महत्वपूर्ण एक लकड़ी।
  2485. चिरंजू—(विशे.) चिरंजीवी या दीर्घायु होने के लिये शुभाशीश शब्द।
  2486. चिरकोटी—(क्रिया) हाथ के अँगूठे और तर्जनी के दबाव से शरीर की चमड़ी खींचना या काटना।
  2487. चिरीमा—(सं.पु.) चीरी हुई इमारती लकड़ी, फाड़ी हुई लकड़ी।
  2488. चिरंउजी—(सं.स्त्री.) चार नामक फल का बीज, बेर या कद्दू का बीज।
  2489. चिरई—(सं.स्त्री.) चिड़िया, पक्षी।
  2490. चिरकब—(क्रिया) पतला दस्त पड़ना, लिखकर गन्दा सा कर देना।
  2491. चिरभोंट—(सं.पु.) कटीली वस्तु के स्पर्श से शरीर में रेख बन जाना, चमड़ी छिलने से बनी लकीर।
  2492. चिरबाई—(सं.पु.) लकड़ी फाड़ने की मजदूरी, आप्रेशन शुल्क।
  2493. चिरबइया—(सं.पु.) आप्रेशन करने वाला सर्जन, लकड़ी चीरने वाला।
  2494. चिरपिर—(विशे.) बहुत तीखा, तिक्त स्वाद, कषैला।
  2495. चिराइध—(विशे.) चमड़ी को जलाने से उत्पन्न दुर्गन्ध।
  2496. चिराउब—(क्रिया) चीड़-फाड़ करवाना, लकड़ी की चिराई करवाना।
  2497. चिरबिर—(क्रि.विशे.) बच्चों जैसी हरकत, नादान जैसी बात-व्यवहार, चिढ़ाने वाली गतिविधियाँ।
  2498. चिरकुटिया—(सं.स्त्री.) सूखी लकड़ियों की पतली-पतली टहनियाँ।
  2499. चिरकुटिहा—(सं.पु.) फटे-पुराने चीथड़े कपड़े पहने हुये व्यक्ति, निर्धन या हीन।
  2500. चिर्री—(सं.स्त्री.) बिजली गिरना, उल्कापात होना, आग का अंगार।
  2501. चिरचिरी—(सं.स्त्री.) तेंदू का छिलका, तेंदू का पौधा, एक औषधीय पौध।
  2502. चिल्फी—(सं.स्त्री.) लकड़ी का छोटा छिलका, रोटी की पतली पर्त, पुलिंग चिल्फा।
  2503. चिल्हार—(क्रि.विशे.) लम्बी चीख-जोर से दर्दयुक्त आवाज, करुण पुकार।
  2504. चिलचिलाब—(क्रिया) चमकता हुआ, चमकदार, जेठ मास की दोपहरी।
  2505. चिल्लवा—(विशे.) शोरगुल करना, जोर-जोर से आवाज करना, क्रन्दन करना।
  2506. चिलकनहा—(सं.पु.) जो चमकता हो ऐसी वस्तु।
  2507. चिल्होंट—(सं.पु.) नवजात शिशु, दुग्धमुहा, अबोध बालक।
  2508. चिल्ला—(सं.पु.) गहाई किया हुआ बीज रहित अलसी का डंठल, मसूर से बनने वाला एक ग्राम्य व्यंजन विशेष।
  2509. चिल्लबाउब—(क्रिया) जोर-जोर से चिल्लाने के लिए विवश कर देना, चिल्लवाना।
  2510. चिल्लाब—(क्रिया) जोर-जोर से चिल्लाना या चीखना, रोटी पर जली चिट्टियाँ पड़ जाना, अलसी के पौधा में फूल के बाद फल न लगना।
  2511. चिल्लवइया—(सु.पु.) गला फाड़कर चिल्लाने वाला, जोरदार आवाज से पुकारने वाला, गुहार लगाने वाला।
  2512. चिलकब—(क्रिया) चमकीला दिखना, किसी वस्तु का चमचमाना,घाव का काटना, माँसपेंशियों में दर्द उठना।
  2513. चिल्लर—(सं.पु.) खुदरा पैसे, फुटकर सिक्के, छोटे-छोटे बच्चे, चिल्लर पार्टी।
  2514. चिहुटी—(सं.स्त्री.) अंगुली से त्वचा खींचना या दबाना, चुटकी काटना।
  2515. चिहुटा—(सं.पु.) काले रंग का चींटा, अति छोटा काला कीड़ा।
  2516. चिहराब—(क्रिया) किसी वस्तु में और दरार पड़ जाना, फट जाना।
  2517. चिहिराउब—(क्रिया) किसी वस्तु में दरार कर देना, किसी वस्तु को फोड़ देना, दरारयुक्त वस्तु को करना।
  2518. चिहिरान—(विशे.) दरारयुक्त, फटी हुई व खण्डित। ची
  2519. चीकट—(विशे.) ऐसी वस्तु जिसे हाथ से छूने पर हाथ चिपके, बहुत मैला।
  2520. चीकन—(विशे.) चिकना, महीन या बारीक, अच्छा एवं सुन्दर कार्य।
  2521. चीखब—(क्रिया) खाकर स्वाद का परीक्षण करना, वस्तु स्थिति से अवगत होना।
  2522. चीटीपोटा—(अव्यय) घर के छोटे मोटे सभी उम्र के बच्चे।
  2523. चीड़ा—(सं.पु.) तरल पदार्थ का ठोस रूप, दही का जमा अंश।
  2524. चीथब—(क्रिया) शरीर की चमड़ी को अंगुली से खींचना, कपड़ा फाड़ना।
  2525. चीन्ह—(क्रिया) चिन्ह या निशान, किसी प्रकार का दाग पहिचान।
  2526. चीन्हब—(क्रिया) पहिचानना, परीक्षण करना, अवगत होना, जानना, समझना।
  2527. चीभब—(क्रि.वि.) बिना रुचि या बिना भूख के खाना-खाना।
  2528. चीमर—(विशे.) गीली लकड़ी जो तोड़ने पर टूटने के बजाय लटक जाय।
  2529. चीरब—(सं.पु.) चीड़ना या फाड़ना, फाड़कर दो टुकड़े करना, चीरा लगाना।
  2530. चीरा—(सं.पु.) तेल में डूबा हुआ कपड़ा, अत्यन्त मैला कपड़ा, चीरकर बनाया हुआ घाव, शरीर पर बनाई गई जगह।
  2531. चीलर—(सं.पु.) गन्दगी पसीने से उत्पन्न होने वाले जूं. या जुंआ।
  2532. चील्ह—(सं.स्त्री.) एक प्रकार का शिकारी पक्षी जो मृत पशु को खाते हैं। चु
  2533. चुअना—(सं.पु.) छप्पर फाड़कर वर्षा का पानी जहाँ से टपकता हो।
  2534. चुअब—(क्रिया) छप्पर से पानी गिरना, टपकना।
  2535. चुआउब—(क्रिया) बूंद-बूंद टपकना, ऊपर से पानी टपकाना।
  2536. चुक्का—(सं.पु.) समय या अवसर गंवाना, चूककर जाना।
  2537. चुकब—(क्रि) काम खत्म हो जाना, किसी का मर जाना, वस्तु का नष्ट होना।
  2538. चुकाउब—(क्रि.) खतम कराना, समाप्त करवाना, मार डालना।
  2539. चुकाब—(अव्यय) बिल्कुल खत्म या समाप्त हो जाना।
  2540. चुकरी—(सं.स्त्री.) मिट्टी का बना दवात के समतुल्य छोटा सा पात्र, चुकरी कस मुँह, बघेली मुहावरा।
  2541. चुकड़िया—(सं.स्त्री.) मिट्टी का दवात की भाँति पात्र पुलिंग चुकड़ा।
  2542. चुकिया—(सं.स्त्री.) मिट्टी का बना पात्र जो दवात के आकार का हों।
  2543. चुक्खा—(सं.पु.) कलम के बड़े-बड़े बाल के लिए व्यंग्य बोधक शब्द।
  2544. चुक्ख—(सं.पु.) कान के पास के लम्बे बाल, ओंठों की मुस्कान।
  2545. चुकिगा—(क्रि.पु.) खतम हो गया, समाप्त हो गया, मर गया।
  2546. चुचुआउब—(क्रि.) मारकर सिर से खून गिरा लेना, पानी का टपकाना।
  2547. चुट्ट,पुट्ट—(अव्यय.) किसी प्रकार की हरकत न होना, छोटे-छोटे फुटकर कार्य, छोटे-छोटे सामान।
  2548. चुचुआन—(विशे.) लहूलुहान, पानी से लथपथ।
  2549. चुटू—(विशे.) थोड़ा सा, छोटा सा, अति न्यून मात्रा, एक तकिया कलाम।
  2550. चुट्ट-चुट्ट—(विशे.) सूखी लकड़ी, चूड़ी को तोड़ने की आवाज।
  2551. चुटपुट—(विशे.) तिक्तपन, तीखा स्वाद, कड़वापन,हरकत होना।
  2552. चुटकवैदिया—(सं.पु.) हल्की-फुल्की जड़ी-बूटी की दवाई।
  2553. चुँदिआउब—(क्रिया) किसी की शिखा पकड़ना, किसी को पकड़कर लाना, किसी को अपनी मुट्टी में करना।
  2554. चुदई—(सं.स्त्री.) शीर्ष की चोटी या प्रमुख शिखा, सिर के बाल।
  2555. चुनी—(सं.स्त्री.) दाल दलते समय निकलने वाले दाल के छोटे-छोटे कण।
  2556. चुनूगून—(सं.पु.) चिड़ियों पर आश्रित छोटे-छोटे बच्चे।
  2557. चुपकइया—(अव्यय) धीरे से लुके-छिपे, चोरी-चोरी गोपनीय ही।
  2558. चुप्पे—(अव्यय) गुप्त रुप से, धीरे से, बिना किसी को बताए, मौन रहना।
  2559. चुपाब—(क्रिया) चुप हो जाना, शांत एवं स्थिर होना, मुँह बंद कर लेना।
  2560. चुपरब—(क्रिया) हाँ मे हाँ मिलाना, रोटी में घी का लेपन करना।
  2561. चुप्पा—(विशे.) कम बोलनेवाला, जो किसी बात का उत्तर जल्दी न दे।
  2562. चुपारे—(अव्यय) चुपचाप बिना शोरगुल किये, धीरे से, गोपनीय ढंग।
  2563. चुपाई—(सं.स्त्री.) जागते हुये भी सोते जैसा बन जाना, मौन साध लेना।
  2564. चुमा-चुम्म—(सं.पु.) न अधिक न कम की मात्रा, ठीक नाप के अनुरूप।
  2565. चुरुआ—(सं.पु.) चुल्लू, दोनों गदलियों की कटोरीनुमा बनी आकृति।
  2566. चुरबा—(सं.पु.) चूड़ा, नारियों द्वारा कलाई में पहना जाने वाला एक आभूषण, पकाया हुआ पदार्थ।
  2567. चुरइल—(सं.स्त्री.) चुड़ैल एक प्रेत, प्रेत योनी की नारी, इसी प्रवृत्ति वाली नारी।
  2568. चुरिहार—(सं.पु.) चूड़ी बेचने वाला, चूड़ी पहनाने वाला व्यक्ति।
  2569. चुरिया—(सं.स्त्री.) चूड़ी, चुरिया केर आड़, बघेली मुहावरा।
  2570. चुर—(सं.स्त्री.) शेर का गुफा, शेर का विश्राम स्थल, छोटा सा घर।
  2571. चुरब—(क्रिया) आग मे पदार्थ का पक जाना, धूप के कारण फल का तुचकना।
  2572. चुन्न पुन्न—(अव्यय) धीरे-धीरे छूने से ही खर्च हो जाना, फुटकर रुप में वस्तु।
  2573. चुनचुनाव—(क्रि.विशे.) पानी में चूना बुझाने से होने वाली बलक की क्रिया, घाव में चुनचुनाहट का होना।
  2574. चुन्नी—(सं.स्त्री.) चुनावदार साड़ी का पहनावा, नाभि के नीचे कमर में साड़ी का परतदार खोंसी हुई स्थिति।
  2575. चुनब—(क्रिया) चुग लेना, चुनाव कर लेना, प्राण ले लेना।
  2576. चुनिआउब—(क्रि.वि.) साड़ी या धोती को चुनावदार शैली में समेटना, किसी के चूना लगाना, किसी को ठग लेना, मूर्ख बना देना।
  2577. चुनकी—(सं.स्त्री.) बाँस की बनी छोटे आकार की टोकनी।
  2578. चुनिया—(सं.पु.) बिना कत्था का सिर्फ चूना लगा पान।
  2579. चुनरी—(सं.पु.) चूनर, देवी-देवताओं को चढ़ने वाला रुमाल के समतुल्य रंगीन कपड़ा, विवाह के समय कन्या के सिर पर रखा जाने वाला वस्त्र।
  2580. चुन्नू—(विशे.) थोड़ा सा, नाम मात्र के लिये, आकार में अति छोटा।
  2581. चुनहरा—(सं.पु.) वह बड़ा घड़ा जिसमें थोक मात्रा में चूना रखा जाता है।
  2582. चुनहाई—(सं.स्त्री.) चूना रखने वाला घड़ा, धातु का बना चूना वाला पात्र।
  2583. चुन्ना—(सं.पु.) हुक वर्ण श्वेत कीड़े जो पेट से मल के साथ निकलते हैं।
  2584. चुनमरदा—(सं.पु.) खाली चूना तम्बाकू, बिना सुपाड़ी की तम्बाकू।
  2585. चुरउब—(क्रिया) कच्ची वस्तु को ताप में पकाना, भोजन पकाना।
  2586. चुरबाउब—(क्रिया) पकवाना, बनवाना, पक्का करवाना।
  2587. चुरचुराब—(विशे.) टूटती हुई चारपाई की प्रतिध्वनि चुड़पुड़ाहट।
  2588. चुरकुट—(विशे.) टूटकर टुकड़े-टुकड़े हो जाना, पूर्णतः नष्ट हो जाना, अरमान पूर्ण हो जाना।
  2589. चुरबइया—(सं.पु.) भोजन पकाने वाला व्यक्ति।
  2590. चुरुर-चुरुर—(अव्यय) विरल रुप से हल्की- फुल्की पकी फसल के लिये प्रतीक, देशी जूते पहनकर चलने से उत्पन्न ध्वनि, झूला या कोल्हू को गतिशील करने से होने वाली एक विशेष आवाज।
  2591. चुरकी—(सं.स्त्री.) बाँस की बनी कटोरी के समतुल्य टोकनी।
  2592. चुरमन—(सं.पु.) तरल पदार्थ घी या तेल।
  2593. चुलुक—(सं.पु.) एक विशेष प्रकार की उत्सुकता, शौकनुमा, आतुरता।
  2594. चुलबुलाब—(क्रि.वि.) हरकत होना, शरीर को धीरे-धीरे हिलाना-डुलाना।
  2595. चुलचुलाब—(क्रिया) हिलने-डुलने की हरकत करना, जाहिर होना।
  2596. चुलचुलान—(क्रि.वि.) पराकाष्ठा पर पहुँची हुई शौक, यौवन में उतरी हुई इच्छा।
  2597. चुलभा—(सं.पु.) चूल्हा या मिट्टी के बने चूल्हे।
  2598. चुल्हइया—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का चूल्हा।
  2599. चुहब—(क्रिया) चूसना, गन्ना चूसना- चूसने की क्रिया।
  2600. चुहाउब—(क्रिया) गन्ने का रस चुसवाना।
  2601. चुहुरुक-चुहुरुक—(अव्यय) कंधे में वजनदार कामर लेकर चलने से होने वाली आवाज, चारपाई को दबाकर हिलाने से उत्पन्न आवाज।
  2602. चुहुकब—(क्रिया) खून पीना, किसी का शोषण करना, किसी को चूस खाना।
  2603. चुहचुइया—(सं.स्त्री.) चुह-चुह की आवाज करने वाला पक्षी।
  2604. चुहुकबाउब—(क्रिया) चुसवाना, शोषण कराना, पिलाना।
  2605. चुहुकबइया—(सं.पु.) चूसने वाला, शोषण कर्ता, खून पीने वाला। चे
  2606. चेकब—(क्रिया) किसी से कतराना, किसी से कटकर रहना या चलना।
  2607. चेघलाब—(क्रिया) जानते हुये अन्जान बनना, जानकर किसी बात को जानना।
  2608. चेचुरा—(सं.पु.) बाँह, हाथ का ऊपरी हिस्सा, कंधे के नीचे की स्थिति।
  2609. चेंच—(सं.पु.) एक वनस्पति, एक पौधा विशेष का नाम।
  2610. चेचर—(सं.पु.) मन्दबुद्धि वाला, चेचर प्रवृत्ति का व्यक्ति।
  2611. चेंचे—(सं.स्त्री.) कमजोरी जाहिर कर हँसी उड़ाना, चिड़िया के बोलने का शब्द।
  2612. चेंटक—(सं.पु.) बहाना, कौतुक, जादू का खेल।
  2613. चेचरा—(सं.पु.) मन्दबुद्धि वाला, जो औरतें की भाँति बोलता हो।
  2614. चेड़ा—(सं.पु.) हृष्ट-पुष्ट एवं जवान लड़का, नौजवान या वयस्क व्यक्ति।
  2615. चेपू—(सं.पु.) जबरिया चिपकने वाला, लिपटने के गुण वाला।
  2616. चेरउरी—(क्रिया) दैन्यतापूर्ण विनती, दोनों हाथ जोड़कर निवेदन करना।
  2617. चेलाने—(सं.पु.) शिष्यों की बस्ती या घर-गाँव, शिष्यों के घरों में।
  2618. चेलाइन—(सं.स्त्री.) शिष्यायों, सेविका, सेवा करने वाली।
  2619. चेलान—(सं.पु.) शिष्यवृत्ति का स्थान या चेलों का घर।
  2620. चेहेड़िआउब—(क्रिया) किसी की बात को दुहरा-दुहराकर उसे बोर करना, कमजोरी उध्द्वत कर हंसी उड़ाना, समाज में किसी को लज्जित करना। चू
  2621. चूरन—(सं.पु.) चूर्ण, महीन, पीसा हुआ।
  2622. चूकब—(क्रिया) चूक जाना, पीछे रह जाना।
  2623. चूसब—(क्रिया) चूसना, किसी का शोषण करना।
  2624. चूँतिया—(विशे.) मूर्ख, बेवकूफ, मन्द अक्ल। चो े
  2625. चोकरा—(सं.पु.) आटा पीसने से निकला अनाज का वाह्य आवरण।
  2626. चोक्क-चोक्क—(अव्यय) पश्चाताप करते समय मुँह से निकली ध्वनि।
  2627. चोकरब—(क्रिया) उदारतापूर्वक देना, वापसी देना।
  2628. चोखलाउब—(क्रिया) दोनों ओंठ जोड़कर नुकीली आकृति बना लेना, किसी वस्तु को छीलकर नुकीली करना।
  2629. चोंख—(विशे.) पैना, धारदार, नुकीला, उत्कृष्ट प्रजाति या गोत्र।
  2630. चोंगी—(सं.स्त्री.) चिलम, तेल डालने वाला संकीर्ण क्षिद्र का पात्र, कुप्पी।
  2631. चोंगा—(सं.पु.) लाउडस्पीकर, धतूरा बाद्य, चोंगी या चिलम के लिये व्यंग्य।
  2632. चोरदन्त—(सं.पु.) वह दाँत जो बत्तीस दाँत के अतिरिक्त निकलता हों।
  2633. चोचाल—(सं.पु.) प्रिया या स्नेहिल, लाड़- प्यार, वात्सल्यमय सम्वाद।
  2634. चोला—(सं.पु.) शरीर, सम्पूर्ण जीवन, शारीरिक ढाँचा।
  2635. चोचलाब—(क्रिया) प्यार-दुलार युक्तवार्ता, अपनत्व पूर्ण, वात्सल्यमय क्रिया- कलाप, तोतलवाणी में ठुनकना।
  2636. चोटलग—(सं.पु.) जरुरत से अधिक चतुर चालाक बनने वाला, एकलौता।
  2637. चोट्टा—(सं.पु.) चोर, कामचोर, जी चुराने वाला, कार्य मे कमजोरी करने वाला।
  2638. चोटाहिल—(विशे.) घायल, चोंट खाया हुआ।
  2639. चोटइया—(सं.स्त्री.) चोटी, सिर का शिखा, छोटे- छोटे बच्चों के सिर केबाल।
  2640. चोटिला—(सं.पु.) बाल समेटने वाला नारियों के जूड़े का बन्धन विशेष, बाल गुंथने वाली चोटी।
  2641. चोट्टी—(सं.स्त्री.) चोर नारी के लिये गाली, चोरी करने वाली।
  2642. चोंता—(विशे.) गोबर की वह मात्रा जो पाँचों अँगुली से एकबार में उठाई जा सके।
  2643. चोंथब—(क्रिया) किसी के शरीर की खाल पकड़कर उगुलियों से अपनी ओर खींचना, चुटकी काटना, शरीर में नाखून गड़ाना।
  2644. चोथवाउब—(क्रिया) चुटकी कटवाना, खाल खिंचवाना।
  2645. चोंथबइया—(सं.पु.) चुटकी काटने वाला, खाल खींचने वाला।
  2646. चोदड़-उर—(सं.पु.) छोटे-छोटे बच्चों का समूह, बच्चों की अधिक संख्या।
  2647. चोदरबंगी—(विशे.) मूर्खता पूर्ण कार्य, बचपना युक्त कार्य, जिस कार्य का कोई अर्थ न हो।
  2648. चोदरा—(सं.पु.) एक गाली विशेष, जिसका पानी उतर चुका हो।
  2649. चोरतलिया—(सं.स्त्री.) ऐसी ताली जो पेचीले ढंग से खुलती बंद होती हो।
  2650. चोरक्कब—(क्रिया) भैंस की आवाज विशेष, उदारवादी दृष्टिकोण।
  2651. चोरीमा—(अव्यय) गोपनीय ढंग से बिना मूल्य की वस्तु, चोरी से प्राप्त।
  2652. चोरउधहा—(अव्यय) लुके स्थित का कार्य, गोपनीय ढंग से किया गया कार्य।
  2653. चोरकट—(सं.पु.) चोर बदमास, धोखेबाज, बेईमान, उचक्का।
  2654. चोला—(सं.पु.) शरीर का ढाँचा, श्वासयुक्त शरीर। छ
  2655. छइहा—(सं.पु.) जो हर तरह से परेशान होकर हार मान लिया हो।
  2656. छइरब—(क्रिया) मन मुताबिक घूमना- बागना, कुसमय घूमना।
  2657. छई—(सं.स्त्री..) कष्टकारी या हानिकारक सिर दर्द लेना, अवांछित बोझ।
  2658. छँउकब—(क्रिया) साग-सब्जी बनाते समय पात्र में रखे गर्म तेल में मिर्च मशाला डालकर भुनने की क्रिया करना।
  2659. छँउकबाउब—(विशे.) तेल में मशाला भुनवाना, तलवाने में सहयोग करना।
  2660. छँउकबइया—(सं.पु.) मशाला बघारने वाला व्यक्ति।
  2661. छउनी—(सं.पु.) बकरी का बच्चा, दूधपिया बच्चा पुलिंग ‘छउना’, छौना।
  2662. छकलब—(क्रिया) मनमाने ढंग से घूमना, मन पसंद कार्य करना।
  2663. छकउड़ी—(सं.पु.) किसी व्यक्ति विशेष का नाम।
  2664. छकड़ा—(सं.पु.) छः पहिये वाली लकड़ी की गाड़ी, बच्चों का खिलौना।
  2665. छकतीरब—(क्रिया) कार्य को करने के पश्चात् उपलब्धि पूर्ण करना।
  2666. छकउब—(क्रिया) धोखाधड़ी युक्त क्रिया, भ्रम में डाल देना, किसी को मूर्ख बना देना।
  2667. छकलिया—(सं.स्त्री.) पुरुषों द्वारा ऊपर धारण किया जाने वाला वस्त्र जिसमें बटन के स्थान पर कपड़े की 6 रस्सी लगी रहती है।
  2668. छकाउब—(क्रिया) किसी को मूर्ख बनाना, धोखा देना।
  2669. छकब—(क्रिया) भ्रमित हो जाना, खाकर हिचजाना, मूर्ख बन जाना, धोखा खा जाना।
  2670. छछुन्दर—(सं.स्त्री.) चूहे के आकार का एक जीवधारी जिसका मुँह लम्बा व पतला होता है, ‘छछुन्दर कस मुहु’ बघेली मुहावरा।
  2671. छछलब—(क्रिया) जमीन पर लताओं का फैलना, बच्चों द्वारा किसी माँग को लेकर माँ से हठधर्मिता करने की क्रिया।
  2672. छछोरा—(सं.स्त्री.) बदचलन बालिका, नटखट युवती, इधर-उधर घूमते रहने वाली।
  2673. छछकालन—(सं.पु.) कुकृत्य एवं घटना को स्मरण करके हाँनि पहुँचाने की स्थिति में उसके नाम से रोते रहना।
  2674. छज्जा—(सं.पु.) द्वार के ऊपर की पटिया जो बाहर की ओर निकली रहती है।
  2675. छटिलाउब—(क्रिया) फिसलाना, आगे-पीछे करना।
  2676. छटिलब—(क्रिया) फिसलना, जमीन पर पाँव फिसलने की क्रिया।
  2677. छटाँक—(सं.स्त्री.) एक तौल के पैमाने की मात्रा का नाम, जिसका वजन 100 ग्राम होता है, 100 ग्राम का पुराना बाट।
  2678. छटन—(सं.पु.) हाथ से समय संयोग व सुअवसर का चूकते रहना।
  2679. छटपटाब—(क्रिया) तड़पना, हाथ-पैर पटकना, चिन्तित होना।
  2680. छटकब—(क्रिया) बंधन से मुक्त होना, हाथ से छूट जाना, फिसलकर दूर होना, वक्त को छोड़ देना, जेल से छूटना, छटपटाना।
  2681. छटकाउब—(क्रिया) घर मे बँधे पशुओं को बन्धन मुक्त करना, स्वतंत्र छोड़ना, घर से बाहर निकालना।
  2682. छठमासा—(सु.पु.) जो माँं के गर्भ से छठवें महीने में ही जन्म ले लिया हो।
  2683. छठी—(सं.स्त्री.) बालक के जन्म के छठवें दिन होने वाला एक संस्कार।
  2684. छड़ाउब—(क्रिया) छुड़ाना, दो व्यक्तियों या वस्तुओं का अलग-अलग करना, बंदी को स्वतंत्र कराना, बंद मुट्ठी खोल देना।
  2685. छड़ा—(सं.पु.) नारियों द्वारा पाँव में पहने जाने वाला चाँदी का आभूषण।
  2686. छड़बाउब—(क्रिया) किसी बंदी को छुड़वाना, लड़ते हुये को अलग करना।
  2687. छतीसा—(सं.पु.) चतुर, चालाक एवं तिकड़मबाज, अति बदमास, नाई।
  2688. छतोदरा—(सं.पु.) छाती फट जाये भाव पर केन्द्रित एक गाली।
  2689. छदर-विदिर—(अव्यय) यत्र-तत्र बिखरना, दूर-दूर हो जाना, तितर-बितर की क्रिया, इधर-उधर फैला हुआ।
  2690. छदॉम—(सं.पु.) तावे की धातु का पैसा, छिद्रदार एक पैसे का सिक्का।
  2691. छनहर—(विशे.) सुगठित एवं सुन्दर शरीर, मध्यम कद।
  2692. छनकब—(क्रि.वि.) आग की ताप में पानी भरा बर्तन देर तक गर्म करने से पानी के कम हो जाने की क्रिया।
  2693. छनन—(सं.पु.) छन-छन की ध्वनि करना।
  2694. छनिहर—(सं.पु.) ऐसा कच्चा घर जिसकी छप्पर मे खपड़े छाये हुये हों।
  2695. छन्गा—(सं.स्त्री.) छः अंगुलियाँ जिसके एक हाथ में हो।
  2696. छन्नी—(सं.स्त्री.) पानी या अन्य पदार्थ छानने वाला बारीक क्षिद्रनुमा पात्र, बाँस की छोटी सी टोकनी।
  2697. छपकब—(क्रिया) चिपकना, चिपककर छिपना, दब जाना।
  2698. छपछप—(विशे.) अनाज भरकर पात्र के मुखड़ा को समतल की गई मात्रा।
  2699. छपटब—(क्रिया) चिपकना, जमीन से चिपककर पड़ना, किसी को देखकर छिप जाना।
  2700. छपबिइया—(सं.पु.) छपवाने वाला, प्रकाशित कराने वाला, प्लास्टर करवाने वाला।
  2701. छपबाउब—(क्रि.) छपवाना, दीवाल पर प्लास्टर कराना।
  2702. छपइया—(सं.पु.) छापने वाला, प्लास्टर करने वाला, छपाई का कार्य करने वाला।
  2703. छपास—(सं.पु.) छपने की लालशा, प्रकाशित होने की पिपाशा।
  2704. छपरा—(सं.पु.) कच्चे घर के ऊपर की लकड़ी का भाग या छप्पर।
  2705. छपकब—(क्रि.) किसी की ओट में छिपना, शरीर से लिपट जाना, कागज पर गोंद लगाकर चस्पा होना।
  2706. छबाउब—(क्रि.) छप्पर सुधरवाने का कार्य कराना, छप्पर में खपड़े चढ़वाना।
  2707. छबइया—(सं.पु.) छप्पर छाने वाला, छाया बनाने वाला व्यक्ति।
  2708. छबुँदिया—(सं.स्त्री.) छःबिन्दी का भौरे के रंग का एक जहरीला कीड़ा।
  2709. छबाई—(क्रि.) घर की छप्पर छाने का चल रहा कार्य, छाने की मजदूरी।
  2710. छमछमऊहन—(क्रि.वि.) आतुरता के साथ, नृत्य सा करते हुए, बिना अवरोध के उछलते हुए, आने की स्थिति।
  2711. छमासी—(ब.मु.) छमासी घेरना, (बघेली मुहावरा), देर तक सोना।
  2712. छरहर—(विशे.) फुर्तीला किन्तु एकहरा, सुगठित वदन वाला व्यक्ति, सुन्दर एवं सुडौल।
  2713. छरिहाब—(क्रि.वि.) जमीन पर गिरना, टुकड़े- टुकड़े हो जाना, पदार्थ का कण में बिखरना।
  2714. छरछर—(सं.पु) बुरा लगना, कष्टकारी बातें, अभद्र वार्ता,मनोदशा के विपरीत बातें, अप्रिय व्यवहार की अनुभूति।
  2715. छरकब—(सं.पु.) किसी घटना या कारण अथवा भय विशेष के कारण किसी से कटते-छंटते व बचकर सतर्क रहने की क्रिया।
  2716. छरदू—(सं.पु.) ठोस वस्तु का चूर्ण।
  2717. छरछन्द्र—(सं.पु.) भिन्न-भिन्न समय में भिन्न- भिन्न प्रकार की बातें बताना।
  2718. छरबाउब—(क्रि.) चावल का क्षरण करवाना।
  2719. छरब—(क्रि.) काँड़ी एवं मूसल के सहयोग से चावल का क्षरण करना।
  2720. छरहा—(सं.पु.) एक पद के लिए सम्बोधन, किसी गीत का एक बन्द।
  2721. छरछराब—(क्रि.) शरीर के कटे हुए भाग में टिन्चर लगाने या घाव में नमक छिड़कने से होने वाली वेदनात्मक अनुभूति।
  2722. छरबाई—(सं.पु.) छरण करने के बदले मेहनताना, मजदूरी।
  2723. छरबइया—(सं.पु.) चावल का क्षरण करके साफ बनाने वाला व्यक्ति।
  2724. छल्ला—(सं.पु.) उँगलियों में पहने जाने वाली मुंदरी या मुद्रिका।
  2725. छल्लिआउब—(क्रि.) अनाज से भरे बोरों को क्रमशः एक के ऊपर एक को रखना।
  2726. छल्ली—(सं.स्त्री.) बोरों के ऊपर एक दूसरे पर ऊँची रखी ढेरी।
  2727. छल्लिवइया—(सं.पु.) छल्ली लगाने वाले मजदूर विशेष।
  2728. छल्लिबाइ छल्लिबाई—(सं.पु.) छल्ली लगाने की ली गई मजदूरी या पारिश्रमिक।
  2729. छाउब—(क्रि.) छाया के निमित्त, कच्चे घर की छप्पर पर खपरा आदि छाने की क्रिया, छा जाना या छाया करना, छाया बनाना।
  2730. छाटबं—(क्रि.) किसी वस्तु की छटनी करना, किसी वस्तु का अलग करना।
  2731. छाटन—(सं.पु.) अनुपयोगी या छटा हुआ अंश, अनाज से निकला अपुष्ट अनाज या कूड़ा कर्कट।
  2732. छाँड़ब—(क्रि.) छोड़ना या छोड़ देना, किसी को बिरादरी से अलग कर देना, चर्चा बन्दकर देना, बंदी को मुक्त करना।
  2733. छाड़न-छूड़न—(अव्यय) प्रयोग के पश्चात् बचा हुआ अंश, खाने के बाद अवशेष, छोटी हुई अनुपयोगी मात्रा।
  2734. छाती के पीपर—(ब.मु.) एक बघेली मुहावरा, व्यंग्य बोधक, वक्षस्थल के बासुदेव।
  2735. छाता—(सं.पु.) छत्ता, धूप एवं वर्षा से बचाने वाला पात्र।
  2736. छात—(सं.पु.) बर्र या मधु के कीड़ों द्वारा बनाया जाने वाला छत्ता।
  2737. छाती छोलन—(ब.मु.) परेशान करने वाले व्यक्ति पर केन्द्रित बघेली मुहावरा।
  2738. छापब—(क्रि.) पतली मिट्टी से दीवाल या फर्स की चिकनी छपाई या लेपन की क्रिया, प्रिन्टिग करना, कागज पर चित्र बनाना।
  2739. छापा—(सं.पु.) चित्र,चौकोर, रेखा, छपाई किया हुआ, चित्रकारी।
  2740. छाली—(सं.स्त्री.) किसी वृक्ष के वाह्य आवरण का छिलका, छाल।
  2741. छाहिर—(सं.पु.) छाया, वृक्ष की छाया का प्रतिबिम्ब का जमीन पर पड़ना।
  2742. छाये—(क्रि.) छवाई कर दिये, छप्पर छा दिये। छि
  2743. छिउलहनी—(सं.स्त्री.) पलास के वृक्षों वाले वन या जगह विशेष।
  2744. छिकँरबाउब—(क्रि.) नाक से प्ररस या पानी निकलवाना।
  2745. छिकइया—(सं.पु.) छीकने वाला व्यक्ति विशेष।
  2746. छिकरबइया—(सं.पु.) नाक से प्ररस निकालकर नाक साफ करने वाला व्यक्ति।
  2747. छिउला—(सं.पु.) पलास नामक वृक्ष जो वन-बगार में उगता है।
  2748. छिकरब—(क्रि.) नाक से प्ररस निकालना, प्ररस को नाक से अलग करना।
  2749. छिछिआउब—(क्रि.) किसी को अपमानित करके अस्तित्व विहीन बनाना, अनुपयोगी मानकर दुतकारते रहना, हँसी उड़ाना।
  2750. छिटबा—(सं.पु.) तीज-त्यौहार के अवसर पर दिया जाने वाला बाँस का पात्र।
  2751. छिटकब—(क्रि.) फैलना प्रकाश या किसी चर्चा का फैलना विस्तार करना।
  2752. छिटिकबइया—(क्रि.) चारों ओर फैलाना, प्रचारित व प्रसारित कर देना।
  2753. छिटकाउब—(क्रि.) प्रचारित-प्रसारित करने वाला व्यक्ति।
  2754. छिटुआ—(क्रि.वि.) छिटाई करके बोया गया बीज वाला खेत।
  2755. छिटकी—(विशे.) छोटे वाली, जिस धोती मे छीट हो।
  2756. छिटिक-कंरउदा—(ब.मु.) स्वच्छन्द विचरण, ब. मु.।
  2757. छितरिया—(सं.स्त्री.) टूटी हुई टोंकनी, टूटी टोकनी का हिस्सा।
  2758. छितराउब—(क्रि.) जमीन पर फैलाना, फेंककर फैलाना, तितिर-बितिर करना।
  2759. छितराब—(क्रि.) जमीन पर गिरने से टुकड़े-टुकडे़ रूप में विभक्त होने की क्रिया, फैल जाना।
  2760. छितरान—(विशे.) अव्यवस्थित रूप से चारों ओर फैला या बिखरा हुआ।
  2761. छितरबइया—(सं.पु.) वस्तु को तितिर-बितिर करने वाला व्यक्ति।
  2762. छिदिक्का—(सं.पु.) पानी का कीचड़ से उछलकर पड़ने वाली बूँद।
  2763. छिनमाँ-- (क्रि.) क्षण भर में, थोड़,े समय में, देखते-देखते।
  2764. छिनार—(सं.स्त्री.) चरित्रहीन नारी, कई पति साजने वाली।
  2765. छिरब—(क्रि.) वस्त्र का फट जाना, किसी नारी का भग जाना।
  2766. छिनबुद्वी—(सं.पु.) छड़भर में बदल जाने वाला व्यक्ति।
  2767. छिन्गी—(सं.स्त्री.) हाथों की सबसे छोटी वाली उँगुली।
  2768. छिकिल्ली—(सं.स्त्री.) गिरदान की आकृति का छप्पर वाला एक जीव-जन्तु।
  2769. छिबुलकी—(सं.स्त्री.) बदचलन नारी, कोसी जाने वाली एक अश्लील गाली।
  2770. छिमाबा—(क्रि.) क्षमा करना, पानी की बूँद बिरल होना।
  2771. छिरहा—(सं.पु.) जिसके नाक में गुस्सा हो, क्षणभर में नाराज होने वाला।
  2772. छिलनी—(सं.स्त्री.) फल या सब्जी छीलने का औजार।
  2773. छिलइया—(सं.पु.) छीलने का कार्य करने वाला व्यक्ति विशेष। छी
  2774. छीकब—(क्रि.) छींकना, किसी कार्य का करने के लिए असगुन होना।
  2775. छीछन—(सं.पु.) नाक से निकलने वाला चिपचिपा तरल प्ररस।
  2776. छीछिल—(विशे.) उथल या उथला, ऊपर का मुहाड़ा फैली हुई अवस्था।
  2777. छीट—(सं.स्त्री.) किसी साड़ी या कपड़े में बने हुए छापा या चित्र।
  2778. छीटब—(क्रि.) बिखराना, इधर-उधर फैलाना, छिटाई करना।
  2779. छीद—(सं.स्त्री.) एक प्रकार की वनस्पति जिसकी पत्तियों से झाडू बनता है, पशुओं को स्वच्छन्द दौड़ने की सूचना।
  2780. छीदब—(क्रि.) व्यक्ति को आगे जाने से रोकना, मवेशियों की रखवाली करना।
  2781. छीना—(सं.स्त्री.) घड़े का टुकड़ा, फूटा हुआ घड़ा।
  2782. छीलन—(सं.स्त्री.) सब्जी का निकला हुआ छिलका। छु
  2783. छुअबाउब—(क्रि.) स्वयं स्पर्श करवाना।
  2784. छुअब—(क्रि.) किसी को स्पर्श करना, छूने की क्रिया।
  2785. छुआउब—(क्रि.) स्पर्श करना, छुआने की क्रिया।
  2786. छुअउहल—(सं.पु.) गाँव का एक खेल जिसमें एक खिलाड़ी छिपता या भागता है तथा प्रतिद्वन्दी उसे छूने का प्रयास करता है।
  2787. छुइला—(सं.पु.) पलास, पलास के वृक्ष।
  2788. छुइलहनी—(सं.स्त्री.) जहाँ पलास के पौधों की अधिकता हो वह प्रक्षेत्र।
  2789. छुछुइ छुछुई—(सं.स्त्री.) हबूब फैलाना एक प्रकार का पटाखा, छुछुई छोड़ब ब.मु.।
  2790. छुछुआब—(क्रि.) बिना प्रयोजन के इसके उसके- घर आना-जाना।
  2791. छुछन्द—(विशे.) हृदय से साफ-सुथरा पेट, पीठ न मारने वाला।
  2792. छुट्ट—(विशे.) बिना लगाम, अंकुश विहीन संकोच रहित, खुलेआम।
  2793. छुट्टा—(विशे.) मुक्त, खुल्ला, जो न बांधा हो, जो खुले रूप में रहता है।
  2794. छुटबिटार—(सं.पु.) अशुद्वि फैलाना, गन्दगी फैलाना, अछूत को छूना, छुआछूत हो जाना।
  2795. छुटकब—(क्रि.) बंधनमुक्त होना, छूट आना, फिसल जाना।
  2796. छुटकाऊब—(क्रि.) बंधी गाँठ खोलना, किसी बंदी व्यक्ति को मुक्त कराना, खूँटे से बँधे पशु को छोड़ना।
  2797. छुतिहर—(सं.स्त्री.) चरित्रहीन एवं कर्कश तथा झगड़ने वाली नारी।
  2798. छुतिहरा—(सं. स्त्री.) न छूने योग्य, घड़ा, अशुद्वियुक्त, पुराना कड़ा।
  2799. छुतिहाइ छुतिहाई—(सं.स्त्री.) छूत चढ़ना, अछूत कार्य का दोष लगाना।
  2800. छुन्ना—(सं.पु.) कच्चे आम का छिलका, छुन्ना, चाछना।
  2801. छुन्नी—(सं.स्त्री.) छोटे शिशुओं का पुलिंग, मूत्रांग।
  2802. छुनछुनाब—(क्रि.) छुन-छुन की आवाज होना, घुँधुरु की ध्वनि।
  2803. छुनन-मुनुन—(सं.पु.) बच्चे के पैर के आभूषण का चलने से उत्पन्न शब्द है।
  2804. छुनुन-मुनुन—(सं.पु.) कमर में धारित घुँघरू या पाँव की पायल की ध्वनि।
  2805. छुपकब—(क्रि.) किसी व्यक्ति से किसी व्यक्ति का चिपकना, स्वयं आलिंगन करना, बच्चों का माँ की गोद में छिपकना।
  2806. छुपुकबइया—(सं.पु.) सीने से लगाने वाला, छाती से चिपका लेने वाला व्यक्ति।
  2807. छुपकाऊब—(क्रि.) सीने से लगाना, छाती से चिपकाना, शरीर से सटा लेना।
  2808. छुरूरब—(क्रि.) हाथ द्वारा अनाज की बालें निकालना।
  2809. छुरूर-छुरूर—(अव्यय) उँचाई में रखे हुए बोरों से चावल का जमीन पर गिरना व गिरते हुए समय में एक ध्वनि विशेष का होना।
  2810. छुरछुराब—(क्रि.) उँचाई से जमीन पर अनाज गिरने की ध्वनि।
  2811. छुर—(सं.स्त्री.) बिल्ली, बिल्ली को आगे बढ़ने से रोकने के लिए संकेत।
  2812. छुल-छुल—(सं.पु.) छोटा सा प्यारा सा बच्चा जिनको लोग चूमते-चाटते हैं।
  2813. छुल्ल-छुल्ल—(अव्यय) रूक-रूक कर जल का निकलना, पेशाब करते समय निकलने वाली ध्वनि।
  2814. छुलछुलाउब—(क्रि.) पेशाब करने की क्रिया, बघेली मुहावरा।
  2815. छुही—(सं.स्त्री.) सफेद रंग की मिट्टी जिससे दीवाल की पुताई की जाती है।
  2816. छुहिया—(सं.स्त्री.) ऐसी घटिया जिसमें सफेद पत्थर अधिक-अधिक मात्रा में हो।
  2817. छुहिआउब—(क्रि.) सफेद मिट्टी से पोताई करना, दीवाल पर छूही चढ़ाना। छू
  2818. छूछ—(विशे.) खाली, सूखा, सूनी, कोख, बिना बछडे़ की गाय।
  2819. छूछूमाई—(सं.स्त्री.) हास्य, विनोद की दृष्टि से किया गया कार्य, सहजतः कार्य।
  2820. छूछै—(विशे.) यों ही, वैसे ही, बिना मतलब के ही।
  2821. छूँछी—(सं.स्त्री.) जिसके पास कुछ न हो, धन वैभव रहित।
  2822. छूँछ छरीदा—(ब.मु.) संतान रहित, एकदम स्वतंत्र, बिल्कुल अकेले, खाली हाथ। छे
  2823. छेऊ—(सं.पु.) चेतावनी देना, किसी को गलत कार्य से रोकना, समझाइस।
  2824. छेउका—(सं.पु.) छिद्र, अन्तराल, प्रक्रिया, बारी के बीच का क्षिद्र।
  2825. छेक्क—(सं.पु.) छींकते समय निकलने वाली नाक की ध्वनि।
  2826. छेकब—(क्रि.) किसी की राह रोकना, न जाने देना, छुपकर किसी को आगे बढ़ने से रोकना।
  2827. छेकबाउब—(क्रि.) रास्ता बंद करवाना, चलते व्यक्ति को रास्ते में रोकवाना।
  2828. छेका—(सं.पु.) दीवाल या खेत की सीमा पर लगी बारी का बीच से टूटा होना।
  2829. छेदा—(सं.पु.) क्षिद्र, पोल, छेदा होब, ब.मु.।
  2830. छेदब—(क्रि.) क्षिद्र करना, नुकीली चीज आर-पार करना, सुई चुभाना।
  2831. छेदिया—(सं.स्त्री.) खेत की बारी में आदमी के निकलने को बना क्षिद्र।
  2832. छेदबइया—(सं.पु.) क्षिद्र करने वाला, कर्णवेधन कर्ता, सुई चुभाने वाला।
  2833. छेदबाउब—(क्रि.) सुई चुभवाना, क्षिद्र करवाना, भेदन करवाना।
  2834. छेदवाइ छेदवाई—(सं.पु.) कर्ण भेदन करने के बदले दिया गया पारितोषिक।
  2835. छेनी—(सं.स्त्री.) लोहे को काटने वाला औजार।
  2836. छेमन—(सं.पु.) कहीं कुछ कहना, कभी कुछ कहना, अस्थिर मानसिकता।
  2837. छेरिया—(सं.स्त्री.) बकरी, अज।
  2838. छेरीहा—(सं.पु.) बकरी चराने वाले लोग, बकरी रखने वाले व्यक्ति।
  2839. छेरिअऊँ-- (विशे.) बकरी की तरह हरकत, बकरी की गतिविधि की भाँति।
  2840. छेहर—(सं.पु.) शिशु, महिलाएँ, बच्चियों का समूह। छो
  2841. छोकला—(सं.पु.) किसी वस्तु का वाह्य आवरण या छिलका।
  2842. छोकड़ा—(सं.पु.) युवक, लड़का, नृत्य करने वाला व्यक्ति, खिलौना।
  2843. छोकता—(सं.पु.) छाँछ, निस्सार अंश, स्याही, शोषित करने वाला कागज।
  2844. छोकताउब—(क्रि.) कागज से अधिक स्याही को शोषित कराना।
  2845. छोछट—(क्रि.) वात्सल्य व स्नेहयुक्त शिशु के साथ माँ का व्यवहार।
  2846. छोछटही—(सं.स्त्री.) जो वात्सल्य दिखावा की दृष्टि से स्नेह करती हो।
  2847. छोटनरेबा—(सं.पु.) छोटे उम्र का शिशु जिसमें बचपना हो, बच्चों जैसी गतिविधियों वाला।
  2848. छोटकीबा—(सं.स्त्री.) छोटकानी, छोटी औरत, छोटी लड़की को सम्बोधन।
  2849. छोटकबा—(सं.पु.) छोटा छोटबा, छोटकइला, छोटबादा, छोटकाऊ, छोटकू आदि।
  2850. छोड़ब—(क्रि.) छोड़ना, निश्चित स्थान में पहुँचाना, त्याग देना।
  2851. छोडबाउब—(क्रि.) पहुँचवाना, त्याग करवाना, प्रेरित करके छोड़वाना।
  2852. छोड़बइया—( (सं.पु.) त्यागने वाला, पहुँचाने वाला।
  2853. छोडान—(विशे.) छूटी हुई, जो दूध पिलाना बन्द कर दी हो, बिना दूध देती, अलगता गाय भैंस।
  2854. छोपा—(सं.पु.) पानी भरे खेत के खुले भाग में धान की बोनी।
  2855. छोपब—( (क्रि.) किसी वस्तु को किसी वस्तु से ढकना।
  2856. छोरबाउब—(क्रि.) बंधी गाँठ खुलवाना, बंधे व्यक्ति को स्वतंत्र करवाना।
  2857. छोरब—(क्रि.) मुक्त करना, गाँठ खोलना, किसी बँधी वस्तु को खोलना।
  2858. छोरबइया—(सं.पु.) गाँठ को खोलने वाला व्यक्ति।
  2859. छोरलगाउब—(ब.मु.) निष्कर्ष निकालना, अंतिम छोर तक पहुँचना।
  2860. छोर—(सं.पु.) किसी वस्तु का किनारा अंत का भाग।
  2861. छोलरब—(क्रि.) चोट से चमड़ी छिल जाना, घास की छिलाई हो जाना।
  2862. छोलब—(क्रि.) छोलना, घास छीलना, घास निकालकर चिकना करना।
  2863. छोलइया—(सं.पु.) छीलने वाली घास की छिलाई करने वाला।
  2864. छोलबाउब—(क्रि.) छिलवाना, घास छिलवाने में योगदान करना।
  2865. छोहलग—(विशे.) आकर्षक, सौन्दर्य, सुन्दर एवं सुगंधित शरीर वाला व्यक्ति।
  2866. छोहगइला—(सं.पु.) काठ का पुतला जो विवाह के समय वर के हाथ में रहता है।
  2867. छोहराइली—(सं.स्त्री.) काठ की पुतली जो विवाह के समय कन्या के हाथ में रहती हो।
  2868. छोडकीबा—(सं.स्त्री.) छोटकानी, छोटी औरत, छोटी लड़की को सम्बोधन।
  2869. छोहारा—(सं.पु.) छुहाड़ा, पौष्टिक सूखा फल।
  2870. छोहाब—(क्रि.) पश्चाताप के साथ कोई वस्तु किसी को देना।
  2871. छोहातू—(विशे.) अकस्मात्, विरल दृष्टि से, अर्ध अवलोकन, आंशिक रूप से।
  2872. छोहदियाब—(क्रि.) बढ़ते मन का रूक जाना, पश्चाताप करते हुए कार्य करना, डरते-डरते कार्य करना। ज
  2873. जइसन—(अव्य.) जैसा, जो, जिस प्रकार, जिस तरह आदि।
  2874. जइसनक जइसनके—(अव्य.) जिस प्रकार से, जिस विधि से, जिस तरीके से।
  2875. जइलबार—(विशे.) अधिक, पर्याप्त मात्रा, आकार में बहुत बड़ा, भरपूर।
  2876. जइकल—(विशे.) चकित होकर किसी वस्तु को देखे और देखता ही रहे।
  2877. जइहा जइहौ—(क्रि.वि.) जाऊँगा, जाऊँगी।
  2878. जइसेने—(अव्य.) जैसे ही, जैसा, पूर्व की भाँति, आदि अर्थ देने वाला शब्द।
  2879. जइहेय—(क्रि.भ.वि.) जाओगे, जायेंगे, क्या जाओगे।
  2880. जइह जइहैं—(क्रि.) जायेंगे, जाना है, आदर सूचक शब्द या कथन।
  2881. जई—(क्रि.) जाइये, जाओ, जायें।
  2882. जइल क जइल के—(विशे.) पर्याप्त मात्रा में, अधिकता बोधक शब्द।
  2883. जउआल—(सं.पु.) आपत्ति एवं अड़चन युक्त कार्य, तबाह करने वाला वातावरण एवं परिस्थिति।
  2884. जउहर—(सं.पु.) अनहोनी कार्य, लड़ाई-झगड़ा, आश्चर्य चकित कर देने वाला गाली- गलौज, वाद-विवाद।
  2885. जउन—(अव्य.) जो देखने लायक हो, सुन्दर।
  2886. जउने—(अव्य.) जिसे, जिससे, जिसको।
  2887. जउॅकबइया—(सं.पु.) कार्य करने के लिए हिम्मत करने वाला, देखताक कर मन बनाने वाला।
  2888. जऊॅ—(विशे.) अच्छी, सुन्दर,देखने योग्य,जो कि, जो कार्य, अन्य।
  2889. जऊकब—(क्रि.) किसी कार्य को करने के पूर्व अनुमान लगाना, विचार करना, देखकर मन बनाना, करने के लिए साहस जुटाना।
  2890. जक्क-जिक्क—(अव्यय) अस्वाभाविक एवं हास्यास्पद, चितमन, अचेत अवस्था में पागलों की भाँति, इधर-उधर देखने की क्रिया।
  2891. जकब—(क्रि.) दबना, भय लगने की क्रिया, संकोच के कारण भयभीत होना।
  2892. जकीरा—(सं.पु.) राजा-रजवाड़ों का घर- राजी हवेली।
  2893. जकड़ब—(सं.पु.) विक्षिप्त मानसिकता का व्यक्ति, सहमी-सहमी प्रवृत्ति का विवेक शून्य व्यक्ति।
  2894. जकला—(क्रि.) किसी को रस्सी में बॉधना, किसी को मारना-पीटना, शरीर में या किसी अंग में ऐंठन या शिथिलता।
  2895. जक्किआब—(क्रि.) जक्का मार जाना, आश्चर्य चकित होना।
  2896. जक्का—( (ब.मु.) कुछ न समझना, विवेकशून्य स्थिति, जहाँ का तहाँ, ज्यों का त्यों स्थिति में खडे़ रह जाना।
  2897. जग्ग—( (सं.पु.) यज्ञ, अनुष्ठान आदि कार्य।
  2898. जगबाउब—(क्रि.) सोते हुए को जगवाना, निन्द्रा भंग करवाना।
  2899. जग्गपुरूष—(सं.पु.) यज्ञ के समय काष्ठ का बनाया जाने वाला प्रतीक पुरुष।
  2900. जगहर—(क्रि.वि.) जागरण, अनिद्रा, जागते रहने की स्थिति।
  2901. जग्गशाला—(सं.पु.) यज्ञ के लिए बनी पर्णकुटी, यज्ञशाला।
  2902. जगबइया—(सं.पु.) जागते रहने वाला जागरण कर्ता, किसी को जगाने वाला आदमी, जन जागरण में संलग्न व्यक्ति।
  2903. जजकब—(क्रि.) भय या स्वप्न के कारण बिस्तर से उछलना या कूदना, भयभीत होकर किसी को दबाना या काटना-छांटना।
  2904. जजकाउब—(क्रि.) डराकर उछलवा देना, किसी को डराते रहना, भयभीत करना।
  2905. जधिया—(सं.वि.) चड्डी, पज्जी, जाँघिया।
  2906. जघेला—(सं.पु.) जाँघ का ऊपरी हिस्सा।
  2907. जजकबइया—(सं.पु.) भयभीत करने वाला व्यक्ति, घबड़ाहट व डर पैदा कर देने वाला।
  2908. जजरब—(क्रि.) निशाना लगाकर किसी को हाथ से जोर से मारना।
  2909. जजमान—(सं.पु.) चेला, शिष्य समुदाय, शिष्यों का संगठन।
  2910. जटबइया—(सं.पु.) ठग, धोखा देकर ठग लेने वाला व्यक्ति।
  2911. जटब—(क्रि.) प्रलोभन देकर किसी को फुसलाना, धोखा देकर काम साधना।
  2912. जटर-मटर—(अव्यय) किसी निश्चित स्थान से किसी वस्तु को इधर-उधर हटा देना, अनाप-सनाप या कृत्रिम प्रतिउत्तर, हेरा-फेरी।
  2913. जटा-जूट—(सं.पु.) लम्बे-लम्बे-केश एवं डाढी के लिए प्रतीक।
  2914. जटा—(सं.पु.) बडे़-बडे़ बाल, नारियल का छिलके से सलग्न रेशे।
  2915. जट्ठा—(सं.पु.) अधजला हुआ व्यक्ति या वस्तु।
  2916. जड्ड—(विशे.) अति कठोर वस्तु, कठोर प्रवृत्ति वाला व्यक्ति।
  2917. जड़बोग—(विशे.) जो बाँस की तरह पूर्णतः जड़ हो, मोटी बुद्वि या जड़ प्रवृत्ति का।
  2918. जड़कार—(सं.पु.) ठण्ड का महीना, शीत ऋतु या जाडे़ का मौसम।
  2919. जड़मुठ्ठ—(विशे.) ऐसा व्यक्ति जो काष्ठ की तरह जड़ हो, पूर्ण-रूपेण मूर्ख।
  2920. जड़ाबर—(सं.पु.) रबी एवं खरीफ की ऋतुओं में किसान द्वारा हलवाहे या चरवाहे को दिया जाने वाला उपहार।
  2921. जड़ाब—(क्रि.) ठंड लगने का एहसास होना, ठंड का लगना।
  2922. जड़ान—(विशे.) ठंडी के कारण ग्रसित एवं सिकुडा हुआ।
  2923. जड़हा—(सं.पु.) जाडे़ के बस, जाडे़ के ऋतु वाला फल, ठंड वाली वस्तु।
  2924. जड़ब—(क्रि.) कृत्रिम बातें साज देना, किसी को मार-पीट देना, जड़ देना।
  2925. जताकता—(अव्यय) यत्र-तत्र, कहीं- कहीं, विरल रूप से, यदा-कदा।
  2926. जथारथ—(सं.पु.) यथार्थ एवं न्याययुक्त बात, विश्वसनीय व्यक्ति।
  2927. जनाब—(क्रि.) जिससे जानकारी हो, महसूस करना, मालूम पड़ना, एहसास होना।
  2928. जनगाँथी—(सं.पु.) कुम्हड़ा जो प्रायः बरसात में फलता है।
  2929. जनबहा—(सं.पु.) जानकार, जानने वाला, जानकारी रखने वाला, विज्ञ, भिज्ञ।
  2930. जनबही—(सं.पु.) जानकारी, किसी विशेष विषय का ज्ञान, पूर्व सूचना।
  2931. जनउहल—(सं.पु.) कहानी, पहेली, पहेली की भाँति पूँछे, गये प्रश्न, ज्ञान वर्द्धक परीक्षा।
  2932. जनउक—(विशे.) जानने-समझने लायक, परिपक्व व्यक्ति, वयस्क व्यक्ति।
  2933. जनमांस—(सं.पु.) घरात पक्ष द्वारा दिये जाने वाला रात्रिकालीन प्रवास स्थल, जीवन या दिनचर्या।
  2934. जनबाउब—(क्रि.) अवगत करवाना, यथार्थ बोध करा देना, जानकारी दे देना।
  2935. जनाउब—(क्रि.) ज्ञात कराना, बुझाना, पहेली बुझाना, बताना।
  2936. जनीजन जनीजने—(क्रि.) एक-एक व्यक्ति,बारी-बारी से हर व्यक्ति।
  2937. जनबुध—(विशे.) जानने-समझने एवं निर्णय लेने योग्य, परिपक्व अवस्था।
  2938. जन्नाब—(क्रि.वि.) आँख निकालना व लड़ने के लिए तत्पर होना, किसी व्यक्ति से अकड़ना, झगड़ा करने के लिए शरीर को तोड़ना-मरोड़ना।
  2939. जनकतनी—(सं.स्त्री.) पत्थर या लकड़ी की बनी हुई फिरंगी या लट्टू।
  2940. जनाउर—(सं.पु.) हिंसक वन्य प्राणी, निगल लेने वाला बड़े मुँहवाला जंगली जानवर, शेर-चीता।
  2941. जना—(अव्यय) संदिग्ध अवस्था, शायद, संभवतः, लगता है।
  2942. जनेऊ—(सं.स्त्री.) यज्ञोपवीत।
  2943. जन जने—(सं.स्त्री.) व्यक्ति, जन, आदमी, प्राणी, आदि अर्थों में प्रचलित।
  2944. जपब—(क्रि.) जाप करना, जपना, स्मरण करना।
  2945. जपबाउब—(क्रि.) जाप करना, जाप करवाने में सहयोग करना।
  2946. जपबइया—(सं.पु.) जाप करने वाला, जापकर्ता।
  2947. जबा—(सं.पु.) जौ, एक प्रकार का अनाज, लहसुन का एक दाना, आदिवासियों का परम्परागत पर्व एवं मान्यता।
  2948. जबऊआ—(क्रि.वि.) जाने की मनःस्थिति, प्रस्थान करने वाला।
  2949. जकीरा—(सं.पु.) राजा, रजवाड़ों का सहायक घर, मनोरंजन स्थल।
  2950. जबइया—(सं.पु.) प्रस्थान करने वाला, चले जाने वाले व्यक्ति।
  2951. जबरवार—(विशे.) भारी भरकम व्यक्ति, वजनी एवं मोटा तगड़ा, बड़ा एवं सम्पन्न।
  2952. जबरिआन—(विशे.) अक्खड़पन के कारण जिद रोपे हुए, ताकत के बल अड़ा।
  2953. जबरिआब—(क्रि.) जबरदस्ती ठसे रहना या अड़ जाना, मनमानी करना।
  2954. जबरइ जबरई—(अव्यय) बिना स्वीकृति या सहमति के जबरिया, दबंगी के बल पर।
  2955. जबरा—(विशे.) जो शक्तिशाली एवं समर्थ हो, मनचाहा कार्य करने में समर्थ।
  2956. जबर—(विशे.) जो भारी हो, जो बहुत बड़ा हो,जो अति मोटा-ताजा या धन-धान्य से सम्पन्न हो, बड़ा श्रेष्ठ।
  2957. जबरपेली—(अव्यय) उचित-अनुचित का विचार किये बिना अपनी मर्जी से कार्य करने की प्रकृति या प्रवृत्ति।
  2958. जब जबै—(अव्यय) जब, जिस समय, जैसे ही, जब ही।
  2959. जबऊँ-- (क्रि.वि.) जो जाने की स्थिति में हो, मरने लायक।
  2960. जबाई—(क्रि.) किसी स्थान से प्रस्थान करना, विदाई।
  2961. जमहा—(सं.पु.) लगान लेकर भूमि स्वामी द्वारा कृषि कार्य हेतु दिया गया खेत।
  2962. जम्फर—(सं.स्त्री.) लड़कियों द्वारा कमर के नीचे धारण किये जाने वाला घाघरानुमा विशेष वस्त्र।
  2963. जमाइन—(सं.स्त्री.) एक प्रकार के मसाले का पौध।
  2964. जमकल जमकला—(सं.पु.) जनसमूह की बैठक, निरर्थक भीड़ हो, जलामयी दृश्य।
  2965. जमजमाब—(क्रि.) किसी स्थान में डटे रहना, इत्मिनान से आसन लगा लेना।
  2966. जमानी—(सं.स्त्री.) यौवन, मौखिक रूप से कथन आदि।
  2967. जमान—(विशे.) नौजवान, वयस्क व्यक्ति, वाणी,शब्द या स्वर, जीभ।
  2968. जमना—(सं.पु.) बिना बोये-लगाये उगने वाली घास।
  2969. जमा—(सं.पु.) खेत का लगान, कृषि कार्य का किनारा, तरल का ठोस हुआ।
  2970. जमोकब—(सं.पु.) किसी कथन को गवाह द्वारा कहने वाले के समक्ष सत्यापित करना या कराना, किसी कही गई बात को पूछना, पुछवाने का कार्य।
  2971. जमोकबाउब—(क्रि.) आमने-सामने कथन की पुष्टि कर देना, कथन को सत्यापित करवा देना।
  2972. जमती—(सं.स्त्री.) जामुन का फल, जामुन का पेड़।
  2973. जमर जमरे—(सं.पु.) पास में, किसी से चिपक कर बैठने की स्थिति, बगल में।
  2974. जमोकब—(क्रि.) साक्ष्य द्वारा किसी बात का सत्यापन कराने की क्रिया, आमने-सामने, यथार्थ वस्तुस्थिति, पूछताछ।
  2975. जये—(क्रि.) चले जाना, जाना, जाइएगा, जाना ही।
  2976. जरबइय जरबइया—(सं.पु.) जलाने वाला, भूनने वाला, जला देने वाला व्यक्ति।
  2977. जरजॉती—(विशे.) ईर्ष्यायुक्त कार्य, ईर्ष्या के कारण किया गया कार्य, ऐसे कार्य जो पूर्णतः अनुचित-अव्यवहारिक एवं अशोभनीय हो।
  2978. जरफरात—(विशे.) खौलता हुआ तरल पदार्थ, तुरंत निकाली गई वस्तु।
  2979. जरबेरिया—(सं.स्त्री.) वन में फलने वाली मौसमी बेर की छोटी-छोटी झाड़ियाँ।
  2980. जरबाउब—(क्रि.) जलवाना, जलाने का कार्य करवाना।
  2981. जराउब—(क्रि.) स्वंय जलाना, जला देना, भून देना।
  2982. जरब—(क्रि.) आग में जलना, ईर्ष्या के कारण जलना, द्वेश भावना का पनपना।
  2983. जरंसा—(सं.स्त्री.) बुखार की अनुभूति होना, ऐसा लगना मानो बुखार है।
  2984. जर—(सं.पु.) जड़, इसे बरिजरी भी कहा जाता है, पास,बगल,पुरूष।
  2985. जरै—(विशे.) जले, जलने की अनुभूति, तपना, जलन होने की अनुभूति।
  2986. जरतुअ जरतुआ—(सं.पु.) जो परायी विभूति देखकर ईर्ष्या द्वेष के कारण जलता हो।
  2987. जहरबात—(सं.पु.) एक प्रकार का जहरीला बात का रोग।
  2988. जरमेटब—(सं.पु.) सभी वस्तु को समेट कर खा लेना, लाक्षणिक अर्थ बाँह से बाँध लेने की क्रिया।
  2989. जरेठ—(सं.पु.) किसी पौधे का जड़ वाला भाग, जड़ सहित डंठल।
  2990. जरकुट—(सं.पु.) किसी पौधे के जड़ की पतली-पतली शाखायें, जड़ सहित पौध का पतला तना के टुकड़े, झाडियों की सूखी जड़ें।
  2991. जलीहा—(सं.पु.) जाली वाला आम का फल।
  2992. जलिआन—(विशे.) ऐसा फल जिसमें जाली पड़ गयी हो, जालीयुक्त।
  2993. जल्ल-बिल्ल—(विशे.) अव्यवस्थित रूप से वस्तु को फैलाकर रखना, पागलों जैसा इधर-उधर देखना, अस्थिर कृत्य एवं गतिविधियाँ।
  2994. जलिआब—(क्रि.) फल में जाली का आना या पड़ना, फल का पुष्ट होना।
  2995. जलजलाब—(क्रि.) जलने के बाद पड़ा हुआ फफोला, जलती दोपहरी।
  2996. जलजला—(सं.पु.) बोल-बाला, मान्यता एवं अस्तित्व, दबदबा एवं प्रतिष्ठा।
  2997. जल्लाधि—(सं.पु.) कसाई की एक जाति, बिना मोह ममता एवं दया का व्यक्ति, कठोर दिल वाला प्राणी।
  2998. जलामल्ल—(विशे.) थलभाग में जहाँ-जहाँ जल ही जल भरा हो, जलामय दृश्य।
  2999. जलकेशर—(सं.स्त्री.) एक धान की विशेष प्रकार की प्रजाति।
  3000. जलाहल—(विशे.) बहुत ही भयावह एवं खतरनाक, प्रखर, जहरीला।
  3001. जलहली—(सं.स्त्री.) देवताओं की मूर्ति विराजने का जालीदार पात्र।
  3002. जस का तस—(अव्यय) ज्यों का त्यों, जैसा का तैसा, कोई किसी से कम नहीं।
  3003. जसी—(क्रि.) जिसे बिना श्रम के यश मिल जाय, यश लूटने वाला।
  3004. जस—(सं.पु.) यश,कीर्ति, श्रेय, जिधर, जहाँ, जिस ओर।
  3005. जसका—(अव्यय) जैसे कि, जिस प्रकार का, जैसा का आदि अर्थों वाला।
  3006. जहिराब—(क्रि.) जानकारी देना, दिखाई पड़ना, विदित कराना।
  3007. जहिया—(अव्यय) जिस दिन, जिस समय, जब। जा
  3008. जाँगर—(सं.पु.) पौरुष या शारीरिक क्षमता- दक्षता, क्रियाशीलता, तत्परता।
  3009. जाघा—(सं.स्त्री.) जमीन, खेत, अचल भूमि, स्थान, जगह।
  3010. जाड़ी—(क्रि.वि.) बिना क्रम टूटे, सधन रूप से चल रहा कार्य, जरूरी कार्यं।
  3011. जाता—(सं.पु.) पत्थर की चक्की, जिसमें आटा पीसा जाता है, जाओ तो।
  3012. जानपाडे़—(सं.पु.) मनोविनोदी (बघेली लोकोक्ति) जो सबमर्म को जान लेता हो।
  3013. जानुक—(सं.पु.) जानने-समझने वाली उम्र का वयस्क बालक या व्यक्ति।
  3014. जानमान—(अव्यय) किसी के स्वरूप का ज्यों का त्यों दूसरे व्यक्ति का होना।
  3015. जाब—(क्रि.) जायेंगे, जाना है, जाने का मन करता है।
  3016. जाबय—(क्रि.) जाऊँगा, जाना है, जाना चाहते हो, प्रश्नवाची शब्द?।
  3017. जानागोंइया—(विशे.) जाना-पहिचाना साथी, पूर्व से पूर्ण परिचित।
  3018. जामन—(सं.पु.) दही के लिए दूध में डाला जाने वाला मठा या खटाई।
  3019. जामाजोड़ जामाजोड़ा—(सं.पु.) दूल्हे का विवाह के समय का विशेष वस्त्र।
  3020. जामा—(सं.पु.) अंकुर के लिए भिगोया हुआ बीज, फल-फूल या धान।
  3021. जारब—(क्रि.) जलाना,भूनाना, जला देना, दाग देना।
  3022. जाहिर—(सं.पु.) सूचना देना, सबको बताकर, दिखाकर खुलेआम। जि
  3023. जिआन—(सं.पु.) पौरुष, जी, जीवन, जिआन होब, बघेली मुहावरा।
  3024. जिआउब—(क्रिया) जिलाना, जिन्दा करना, जिन्दा रखना, पालना- पोषना।
  3025. जिअब—(क्रिया) जीना, जिन्दा रहना, जीवित होना।
  3026. जिअनी—(सं.स्त्री.) ऐसी गाय जो किसी के द्वारा किसी व्यक्ति को पालने पोषने या जिलाने के लिये निःशुल्क दान रुप मे दी गई हो।
  3027. जिऊ—(सं.पु.) जीव, जीवन, जान, प्राण आदि अर्थों वाला शब्द।
  3028. जिउचल—(विशे.) कठिन परिश्रम करने में सक्षम या समर्थ, बलवान या हृष्ट-पुष्ट।
  3029. जिउलेन—(सं.पु.) जीवन ले लेने वाला, हत्यारा, प्राणघाती।
  3030. जिउमार—(सं.पु.) हत्या करने वाला, दूसरे प्राणी का वध करने वाला।
  3031. जिउजामा—(अव्यय) शारीरिक क्षमता एवं दक्षता, स्वास्थ्य शारीरिक कुशलता।
  3032. जिउजुड़ाब—(ब.मु.) आत्मा को संतोष होना, जलता मन ठंडा होना।
  3033. जिउना—(सं.पु.) जीव, प्राण, जान, शरीर।
  3034. जिकिर—(सं.पु.) किसी बिन्दु विशेष की चर्चा, जिक्र करना।
  3035. जिगरा—(सं.पु.) सिर के बाल या बड़े-बड़े रोम आदि।
  3036. जिगरी—(सं.पु.) बाल फैलाये रहने वाली नारी, पुलिंग जिगरहा।
  3037. जिड्डी—(सं.पु.) जिद या हठधर्मिता की प्रवृत्ति।
  3038. जिताउब—(क्रिया) जिताना, जिता देना, जीत हासिल कराना।
  3039. जितबाउब—(क्रिया) प्रयासोपरान्त जीतने में सहयोग करना, विजयी बनवाना।
  3040. जितबइयाँ-- (सं.पु.) विजय दिलाने वाला, विजयी बना देने वाला।
  3041. जितँऊ—(विशे.) जीतने योग्य, जीत दर्ज करने लायक।
  3042. जितनहा—(सं.पु.) जो हमेशा जीत जाता हो, हारी न मानने वाला।
  3043. जिन्ती—(विशे.) जितनी, जितनी संख्या यामात्रा।
  3044. जितार—(सं.पु.) जो सबसे लड़ता-झगड़ता व मारपीट करता रहता हो।
  3045. जिन्नगी—(सं.स्त्री.) जिन्दगी या जीवन के लिये संज्ञावाची शब्द।
  3046. जिन्नार—(सं.पु.) चौड़े फन वाला सर्प, जहरीला बड़ा एवं भयावह कीड़ा।
  3047. जिन्हा—(अव्यय) जिस दिन, जिस रोज, जब, जिस समय।
  3048. जिरहानान—(सं.पु.) जीरायुक्त मशालेदार नमक।
  3049. जिलकन—(विशे.) जलाशय के नीचे का वह खेत जहाँ हमेशा पानी की कमी बनी रहती हो। पानी के कारण सदैव गीला रहना।
  3050. जिल्ला—( (सं.पु.) जलाशय की मेड़ के नीचे पानी का निकलते रहना या झरना की भाँति शनैः-शनैः पानी का संचित होना।
  3051. जिल्लान—(विशे.) जिल्ला खाया हुआ, जल से आच्छादित हुआ।
  3052. जिल्लाब—(क्रिया) खेत में सदैव पानी भरे रहने से खेत गीला रहना।
  3053. जितारिया—(विशे.) सबको परास्त कर देने वाला, सबसे जीता हुआ। जु
  3054. जुआ—(सं.पु.) गन्दगी के कारण सिर पर उत्पन्न होने वाला जूं, हल-जुआ।
  3055. जुई—(सं.स्त्री.) भैंस या गाय का मूत्रांग विशेष।
  3056. जुइती—(सं.स्त्री.) पशुओं के शरीर पर बालों के मध्य पड़ने वाले जूं, एवं स्वेत रंग के पेशुआ आदि।
  3057. जुगाड़—(ब.मु.) जोड़-गाँठ करके व्यवस्था बनाने की प्रक्रिया, उपाययुक्त निदान, युक्तियुक्त पहल।
  3058. जुग—(सं.पु.) एक साथ, चौपड़ खेल की गोट, युग, काल, जमाना।
  3059. जुगुति—(सं.स्त्री..) युक्ति या उपाय, समस्या के समाधान हेतु निकाला गया हल।
  3060. जुगजुगाब—(सं.स्त्री.) धराशायी, व्यवस्था का थोड़ा-थोड़ा संभल जाना, आग का प्रज्जवलित होना।
  3061. जुगुर-जुगुर—(अव्यय) आंशिक रूप से दीपक या आग का जलते रहना।
  3062. जुगुल जोडी—(अव्यय) दाम्पत्य जोड़ी, दो व्यक्तियों की सुन्दर समरूपता।
  3063. जुगराज—(सं.पु.) युवराज,राजा, महाराज के राजकुमारों के लिए आदर सूचक।
  3064. जुज्झ—(सं.पु.) लड़ाई, झगड़ा, युद्ध।
  3065. जुझाऊब—(क्रिया) प्रेरित करके किसी को लड़ा-भिड़ा देना।
  3066. जुट्टा—(विशें.) ऐसा फल जो एक दूसरे से जुड़े हुए हों, या चिपके हुए हों, जोड़ीनुमा व्यक्ति का पैदा होना।
  3067. जुठहाई—(क्रिया) जो व्यक्ति दूसरे का जूँठा भोजन करता हो, उसकी प्रवृत्तिगत प्रकृति के लिए उलाहना एवं आलोचना।
  3068. जुठन्तर—(सं.पु.) भोजन के पश्चात् का जूँठा भोजन का कण यत्र-वत्र विखरे हुए हों, अपवित्र स्थल।
  3069. जुड़ाइ जुड़ाई—(सं.स्त्री..) ठंडी के कारण शरीर पर चकत्तेदार ददोरे पड़ना।
  3070. जुड़बाऊब—(क्रिया) गर्म पदार्थ को आग से दूर रखकर उसे ठण्डी अवस्था में लाना, जिउ जुड़बाउब ब.मु.।
  3071. जुड़ाब—(क्रिया) ठंड होना,शीतल की अनुभूति, शान्ति की अनुभूति।
  3072. जुतहाउ—(सं.स्त्री.) दो पक्षों के बीच जूते चलना, जूते की मार शुरू होना।
  3073. जुमकब—(क्रिया) पास पहुँचना, सामर्थ्य का होना, नजदीक आना।
  3074. जुम्मा—(सं.पु.) जिम्मेदारी या दायित्व, ठेका, जबावदारी आदि।
  3075. जुर बटुरिक जुर बटुरिके—(अव्यय) जन समुदाय का विचार विमर्श के साथ कार्य विशेष के निमित्त एकत्रित या संगठित होने की क्रिया।
  3076. जुरबइया—(क्रिया) जोडनेवाला, टूटे रिश्ते को बनाने वाला।
  3077. जुरबाउब—(क्रिया) जोड़ने में सहयोग करना, एकत्र कराना।
  3078. जुरब—(क्रिया) जुड़ना, जुड़ जाना, इकट्ठा होना, जोड़ होना।
  3079. जुलुफ—(सं.पु.) केश, सिर के सुन्दर बाल, जुल्फ।
  3080. जुल्ल—(सं.पु.) सफेद गप्प, जिसकी आदि- अन्त न हो, धुँआ में लठ मारने वाली बातों का प्रचार-प्रसार।
  3081. जुहाब—(क्रिया) संचित होना, भीड़ लग जाना, अधिक मात्रा में संचयन।
  3082. जुहबाउब—(क्रिया) एकत्रित करना, संचय करने की क्रिया, भीड़ इकट्ठी करना।
  3083. जुहान—(विशे.) एकत्रित हुई स्थिति, इकट्ठा हुए लोग। जू
  3084. जूक-कूप—(ब.मु.) किसी कार्य को सम्पन्न कराने के लिए जुटायी गई सहायक सामग्री।
  3085. जूठन—(वि.सं.पु.) जूँठा भोजन या पदार्थ, खाने के पश्चात् बचा हुआ शेष अंश।
  3086. जूड जूड़—(विशेष) ठंड,शीत का वातावरण, शीतलता की अनुभूति।
  3087. जूड़ा—(सं.पु.) बालों की गाँठ, ठण्डी हो जाना।
  3088. जूना—(अव्यय) सम्पूर्ण दिवस को दो भागों में विभक्त करने पर एक भाग की अवधि, समय।
  3089. जूरी—(सं.स्त्री.) किसी व्यक्ति के मरने पर जलाशय के घाट पर एक स्थान पर गाड़ा हुआ कुशा। जे
  3090. जे-ज जे-जे—(सर्व.) जो-जो, जो-जो लोग।
  3091. जेई—(सर्व.) जिसने, जो।
  3092. जेउनार—(सं.पु.) भोजन, व्यंजनयुक्त भोजन।
  3093. जेऊरी—(सं.स्त्री.) पतली रस्सी।
  3094. जेक जेके—(सर्व.) जिसके।
  3095. जेखे—(सर्व.) जिसके।
  3096. जेखर—(अव्यय) जिसका, जिनकी, अर्थ से प्रयुक्त होने वाला शब्द।
  3097. जेंटा—(विशे.) अनाज को डंठल की जितनी मात्रा एक कखरी में दबाई या रखी जा सके।
  3098. जेटिआउ जेटिआउब—(क्रिया) एक हाथ की कखरी में दबोच लेने की क्रिया।
  3099. जेठऊत—(सं.पु.) पति के बडे़ भाई का पुत्र।
  3100. जेठरी—(विशे.) दो या तीन पत्नी वाले पति की प्रथम पत्नी।
  3101. जेठरऊ—(सं.पु.) किसी माँ-बाप का ज्येष्ठ पुत्र।
  3102. जेठरिया—(सं.स्त्री.) ज्येष्ठ कन्या,बड़ी कुरई, बड़ी बहू या बड़ी भाभी।
  3103. जेड़ी—(सं.स्त्री.) रक्षाबन्धन के अवसर पर दो लम्बे बाँस लेकर उसके मध्य में एक फीट लम्बा बाँस का टुकड़ा आड़ा बाँधकर और दोनो पैर उन्हीं में रखकर लोग रास्ता चलते हैं।
  3104. जेतबा—(सं.पु.) पत्थर की चक्की जिसमें हाथ से घुमाकर आटा पीसा जाता हो।
  3105. जेत्तीदार—(अव्यय) जिस समय, जितनी देर।
  3106. जेन्ता—(विशे.) जितना, जितना अधिक
  3107. जेनका—(अव्यय) जिनको।
  3108. जेतने—(विशे.) जितने, जितने लोग।
  3109. जेतू—(विशे.) जितना, जितनी।
  3110. जेमन—(सं.पु.) रसोई पकाना, रसोई पकाने के पूर्व तैयारी या प्रबंध।
  3111. जेरबा—(सं.पु.) काँटेदार वनस्पतियों की टहनियाँ, काँटेदार वृक्ष या पौधे की शाखाएँ।
  3112. जेरा—(सं.पु.) खेत को घेरे हुए पतली लकड़ी, झाड़ियों की टहनी।
  3113. जेसे—(सर्व.) जिससे।
  3114. जेही—(अव्यय) जिसे, जिसके के लिए पर्यायवाची शब्द। जो
  3115. जो—(अव्यय) अगर,यदि, जो बोलना, यदि बुलाओ।
  3116. जोकड़—(अव्यय) जोकड़, मनोरंजन करने वाला व्यक्ति, हँसाने वाला जोकर, तास की एक पत्ती का नाम।
  3117. जोकड़इ जोकड़ई—(क्रि.वि.) जोकर की तरह गतिविधियाँ एवं नाट्य करने की विशेषता।
  3118. जोखब—(क्रिया) तौलना, नापना, मात्रा जानना।
  3119. जोखइया—(सं.पु.) नाप-तौल करने वाला व्यक्ति, पंसारी,लेखा लगाने वाला।
  3120. जोगिया—(सं.पु.) चींटे के आकार के लाल रंग वाले चीटे, योगियों का समूह।
  3121. जोगा—(सं.पु.) छोटे बच्चों की भयभीत करने के लिए प्रयुक्त होने वाला।
  3122. जोगउ जोगउब—(क्रिया) जुगाड़ बनाकर किसी काम को करना। मितव्यतता के साथ कार्य करना, हिसाब बैठाकर आय के अनुसार कार्य।
  3123. जोग—(सं.पु.) संयोग लग जाना, योग साधना, योग, लग्न, योग्य।
  3124. जोगन जोगनी—(सं.स्त्री.) शुभ मुहूर्त, संयोग का शुभ लग्न या शुभ घड़ी।
  3125. जोगी—(सं.पु.) योगी, तपस्वी, योग साधना का साधक, सन्त-महात्मा।
  3126. जोड़उरिह जोड़उरिहा—(विशे.) ऐसी संतान जो माँ के गर्भ से एक साथ क्रमशः (अल्पावधि के अन्तराल में उसी दिन) जन्म लिये हो।
  3127. जोड़ीमा—(सं.पु.) दो फलों का एक साथ जुड़कर फलना, एक जोड़, एक साथ जन्मीं संतान।
  3128. जोतब—(क्रिया) खेत की जुताई करना, हल चलाना।
  3129. जोती—(सं.स्त्री.) ज्योति, जुताई की हुई भूमि, पत्थर की चक्की के ऊपर अरी में लगने वाली पतली रस्सी, प्रकाश।
  3130. जोतबाउब—(क्रिया) किसी के खेत की जुतवाई करवाना।
  3131. जोत—(सं.पु.) चमड़े के पट्टे जो हल के जुए में लगाकर बैल के गले में बाँधा जाता है।
  3132. जोतवाइ जोतवाई—(सं.पु.) खेत जोतने के बदले में प्राप्त मजदूरी।
  3133. जोतइया—(सं.पु.) हल चलाने वाला हलवाहा या खेत की जुताई करने वाले।
  3134. जोतहरा—(सं.पु.) ऐसा खेत जिसकी जुताई हो चुकी हो।
  3135. जोधँइया—(सं.स्त्री.) चन्द्रमा, जोधा माई।
  3136. जोधा—(सं.पु.) योद्धा, शूरवीर, सूरमा, पराक्रमी, चन्द्रमा।
  3137. जोधावली—(सं.पु.) योद्धा एवं शक्तिशाली, बलवान,किन्तु वक्रोक्ति के साथ।
  3138. जोधामाई—(सं.स्त्री.) चन्द्रमा के लिए मातृत्वयुक्त सम्बोधन।
  3139. जोन्हरी—(सं.स्त्री.) ज्वार, जो खरीफ की फसल में बोई जाती है।
  3140. जोन्हरिह जोन्हरिहा—(सं.पु.) जिस खेत में ज्वार की फसल लगी हो।
  3141. जोबाब—(सं.पु.) जवाब, उत्तर, प्रतिउत्तर के अर्थ में प्रचलित शब्द।
  3142. जोरब—(क्रिया) जोड़ना, एकत्र करना, पूँजी बनाना, संग्रहण करना।
  3143. जोरइ जोरई—(सं.स्त्री.) हरे रंग का कीड़ा, जो फसल एवं सब्जी के पौधे में लगते हैं तथा बुरी तरह से क्षिद्र करके नुकसान पहुँचाते हैं।
  3144. जोरिआउब—(क्रिया) एक दूसरे में जोड़ना,एक सूत्र में बाँधना।
  3145. जोरबइया—(सं.पु.) जोड़ने वाला,एक रस्सी में कई को बाँधने वाला।
  3146. जोरगर—(विशे.) बहुत अधिक, बहुत शक्तिशाली।
  3147. जोरतनिहा—(सं.स्त्री.) जोड़-गाँठ लगाकर तैयार की गई वस्तु।
  3148. जोरतनी—(सं.स्त्री.) एक टुकड़े में कई टुकड़ों के जोड़ने की क्रिया।
  3149. जोर-जुगत—(अव्यय) मनसा-वाचा-कर्मणा से किया गया या किया जा रहा अथक प्रयास, शक्ति एवं युक्ति मिश्रित कार्य।
  3150. जोरन—(सं.पु.) दूध जमाने के लिए प्रयुक्त सहायक सामग्री, मठा।
  3151. जोरा-तगोर जोरा-तगोरी—(अव्यय) विभिन्न प्रकार के प्रयासों से संग्रह की हुई।
  3152. जोरी—(सं.स्त्री.) जोड़ी, जोडी हुई वस्तु जो पहले टूटी रही हो, जोड़ना।
  3153. जोरू—(सं.स्त्री.) पत्नी, औरत के लिए संज्ञावाची शब्द।
  3154. जोरे-बटोरे—(अव्यय) जोड़-बटोरकर परिश्रम के साथ किया गया।
  3155. जोरगर—(विशे) जोरदार, ताकतवर, बहुत तेजी से।
  3156. जोलाहल—(विशे) तहस-नहस, प्राणलेवा, तेज-तर्राट अथवा क्रोधप्रद।
  3157. जोलहा—(सं.पु.) सूत कातने वाला, हाथ से कपड़ा बुनने वाला।
  3158. जोला—(सं.पु.) तहस-नहस कर देने वाला, क्रोध, गुस्सा, आवेश।
  3159. जोसभरा—(सं.पु.) आवेश या आक्रोशवस, अत्यधिक क्रोध से युक्त।
  3160. जोसाब—(क्रि.वि.) क्रोधित होकर लाल- पीला होना, उत्तेजित होना।
  3161. जोहब—(क्रिया) राह देखना, प्रतीक्षा करना, खोजना आदि अर्थों में प्रचलित।
  3162. जोहारब—(क्रिया) पर्वात्सव के अवसर पर भाईचारे का व्यवहार निभाना।
  3163. जोहार—(सं.स्त्री.) पयलगी, प्रणाम एवं अभिवादन आदि।
  3164. जोहैसो—(सं.पु..) बात करते समय प्रयुक्त प्रवृत्तिगत तकिया कलाम।
  3165. जोहाउब—(क्रिया) खोज करवाना, खोजवाना, पता लगवाना।
  3166. जोहइया—(सं.पु.) पता लगाने वाला, खोजने वाला, खोजबीन करने वाला। झ
  3167. झउआ—(सं.पु.) चौड़ी मुँहवाली बाँस की टोकनी जो क्रमशः पेंदा की ओर संकरी होती जाती है।
  3168. झउड़ब—(क्रि.) ऊपर की ओर बढ़ना, लता के फैलने की क्रिया।
  3169. झकलेट—(विशे.) मूड़ी एवं झक्की प्रवृत्ति वाला आदमी, सनकी, झक्की।
  3170. झकाउब—(क्रिया) दिखवाना,झकवाना, प्रयास कराना।
  3171. झकमराउब—(ब.मु.) विवश होना, मजबूर होकर कार्य करना।
  3172. झकइया—(सं.पु.) झांकने-ताकने वाला व्यक्ति।
  3173. झकिया—(सं.स्त्री.) दीवाल में बनाया जाने वाला रोशनदान, खिड़की।
  3174. झगुंली—(सं.स्त्री..) ऐसी चारपाई जिसके रस्सी का बुनाव नीचे झूलता हो, ऐसा बच्चों का नीचे झूलने वाला फ्राक या फटा पुराना वस्त्र।
  3175. झंझाब—(क्रि.वि.) गीले वस्त्र का लगभग सूख जाना।
  3176. झझोरब—(क्रिया) बिना चिंता के भरपेट जी भर खाना, अच्छी खासी बिना श्रम के कमाई करना।
  3177. झँझाउब—(क्रिया) हल्के रूप में सुखवाना, कपड़े का पानी सुखाना।
  3178. झझझा—(सं.पु.) कुण्ड में गिरते समय पानी की आवाज।
  3179. झटकब—(क्रिया) किसी वस्तु को छिपाकर या चुराकर प्राप्त करना, बिना परिश्रम के उपलब्धि, हाथ इधर-उधर फेंकना, आक्रोश के कारण किसी को धक्का देना।
  3180. झटकारब—(क्रिया) दोनों हाथ से हवा में फटकारना ताकि पानी निकल जाय।
  3181. झटकरबइया—(सं.पु.) छपटकर ले-लेने वाला, चोरी कर लेने वाला।
  3182. झट्टी—(अव्यय) जल्दी, जल्दीबाजी, शीघ्रता आदि अर्थों हेतु।
  3183. झटका—(सं.पु.) किसी को धोखा देना, उल्टी- सीधी बातें करना, धोखाधड़ी।
  3184. झट्टिल्ला—(सं.पु.) पुरुष के लिए एक अश्लील गाली।
  3185. झटुहा—(सं.पु.) पुरुष के लिए एक अभद्रगाली।
  3186. झड़ास—(क्रिया) टट्टी की अनुभूति
  3187. झन्ना—(सं.पु.) झरना, दस्त लगना या पतली टट्टी जाना।
  3188. झन झने—(सं.पु.) लोग, जन समुदाय आदि अर्थों के लिए प्रयुक्त शब्द।
  3189. झन-झन—(क्रि.वि.) ईर्ष्यालु प्रवृत्ति की क्रिया, आक्रोश युक्त वाणी।
  3190. झनझनाब—(क्रि.) बडे़ भवन में आवाज प्रतिध्वनित होना।
  3191. झन्झी—(सं.स्त्री.) पैसे का बिल्कुल न होना, नाममात्र, बिल्कुल नहीं।
  3192. झपब—(क्रिया) झेपना या दबना, संकोच या भय के कारण न बोलना, अदब करना, पलक बंद हो जाना।
  3193. झपटब—(क्रिया) दौड़कर आतुरता के साथ कोई वस्तु छुड़ा लेना, पंजे से दौड़कर छोटे जीवधारी को दबोचना।
  3194. झपट्टा—(सं.पु.) झटके से चलने में होने वाली वस्तु की ध्वनि।
  3195. झब्बा—(सं.पु.) बड़े-बडे़ घुँघराले बाल वाला व्यक्ति, बालों से ढके मुखवाला कुत्ता, किसी कुत्ता या आदमी का नाम।
  3196. झपड़ा—(सं.पु.) सघन पत्तियों वाला चारों ओर से तने को घेरने वाला पेड़।
  3197. झम्म—(सं.पु.) कुँआ नदी या तालाब में उँचाई से कूदने पर हुई ध्वनि।
  3198. झमाका—(सं.पु.) बिना रूके हुए पानी भरे स्थल पर ऊँचाई से कूदना।
  3199. झमकाउब—(क्रिया) पशुओं द्वारा इधर-उधर सिर हिलाना-डुलाना।
  3200. झमेला—(सं.पु.) अतिथियों की भीड़, झंझटनुमा, उलझाऊ स्थिति, जन समुदाय।
  3201. झमब—(क्रिया) संतुलन के कारण शरीर का कँप उठना, जमीन में गिर पड़ने की क्रिया, चक्कर आना।
  3202. झरका—(सं.पु.) लकड़ी में लाख लगा हुआ एक वस्तु जिसे स्त्रियाँ कान के छिद्र में पहनती हैं।
  3203. झरहाई—(क्रि.वि.) ईर्ष्या करने की प्रवृत्ति, द्वेशपूर्ण भावना।
  3204. झरहा—(सं.पु.) देखि न सके पराय, विभूति वाली प्रवृत्ति का व्यक्ति।
  3205. झरब—(क्रिया) दस्त लगना, फूल या बाल का झड़ना, फलों का ऊपर से नीचे गिरना।
  3206. झर्रहट—(ब.पु.) व्यंग्यात्मक अभिव्यक्ति के साथ कार्य की सफलता।
  3207. झरबाउब—(क्रिया) झाड़-फूँक करवाना, कपड़े की धूल हटवाना।
  3208. झरबइया—(सं.पु.) झाड़-फूँक करने वाला व्यक्ति या पण्डा।
  3209. झरझराब—(क्रिया) किसी पर नाराज होना, भुनभुनाना।
  3210. झलकब—(क्रि.वि.) झलकना, आंशिक रूप से दिखना, झलकी के रूप में दिखना।
  3211. झलरा—(सं.पु.) शिशुओं के मुण्डन के पूर्व के बढ़ते बाल, झलरी।
  3212. झलरिहा—(सं.पु.) ऐसा शिशु जिसका मुण्डन संस्कार न हुआ हो।
  3213. झल्ला—(सं.पु.) बड़े-बडे़ बालों वाला व्यक्ति, मुण्डन संस्कार न हुए बालक, किसी व्यक्ति का नाम, झल्ली।
  3214. झंलगा—(सं.पु.) बच्चों द्वारा धारण किया गया वह वस्त्र जो सामान्य स्थिति से बहुत बड़ा एवं ढीला हो।
  3215. झलरी—(सं.स्त्री.) चवेना वाली एक ज्वार की किस्म, मुण्डन न हुई कन्या। झा
  3216. झाँइ झाँई—(सं.स्त्री.) आँख की चमड़ी का काला होना,गाल पर चिन्ता का दाग।
  3217. झाँकब—(क्रिया) छिपकर देखना, नीचे सिर करके गहराई झाँकना, झाँक- ताँक करना।
  3218. झागा—(सं.पु.) उलझनयुक्त दृश्य,अड़चन एवं बहानामय परिस्थिति।
  3219. झाँझर—(विशे.) पारदर्शी स्थिति के पत्ते, आर-पार दिखना, शरीर का माँस विहीन कोरा ढाँचा।
  3220. झाड झाडे़—(सं.पु.) उत्सर्जन क्रिया,टट्टी करना या टट्टी करने जाना, दीर्घशंका।
  3221. झापड झापड़—(सं.पु.) ऊँगुली खोलकर हथेली द्वारा प्रहार, तमाचा लगाना।
  3222. झामर—(विशे.) भूख के कारण आँख से न दिखना, चलते समय शरीर में कम्पन का होना।
  3223. झाँपी—(सं.स्त्री.) बाँस की एक सन्दूक, मन्दिरनुमा आकृति की बन्द टोकनी।
  3224. झाँय-झाँय—(सं.स्त्री.) झनकर, सूनसान,वायु का शब्द,आवाज प्रतिध्वनित होना।
  3225. झारब—(क्रिया) झाड़-फूँक करना, शरीर से धूल हटाना,खाना खाना, किसी पर प्रहार करना।
  3226. झार—(सं.स्त्री.) ईर्ष्या, द्वेष भावना, आग में जलते मिर्च का धुआँ, किसी का धन वैभव न देख सकने की प्रवृत्ति।
  3227. झारा—(सं.पु.) पूड़ी या व्यंजन झाड़ने वाला बड़ा करछुवा।
  3228. झालर—(सं.पु.) बच्चों के सिर के जन्म के समय के बाल, बडे़-बडे़ बाल।
  3229. झाला—(सं.पु.) लकड़ी के खम्भे पर घास का छप्पर, नारियों द्वारा कान में धारण करने वाला सोने का आभूषण। झि
  3230. झिकनी—(सं.स्त्री.) चौड़े चूल्हे पर बर्तन के नीचे प्रयुक्त पत्थर की टुकड़ियाँ खपडे़ के नीचे खपडे़ की टुकड़ी।
  3231. झिकबाउब—(क्रि.) किसी से कोई वस्तु निकलवाना, चुरवा लेना।
  3232. झिकझोरब—(क्रि.) किसी को पकड़कर जोर से हिलाना, पीटने के लिए, आक्रोश में हाथ पकड़कर हिला देना।
  3233. झिकँबइया—(सं.पु.) निकालने वाला, अपनी ओर खींचने वाला व्यक्ति।
  3234. झिझिरी—(विशे.) विरल सलाई से बनी टोकनी, अनाज रखने वाली टोकनी।
  3235. झिझकब—(क्रि.) हिम्मत न पड़ना, किसी कार्य में दिक्कत होना, झिझक।
  3236. झिटकी—(सं.स्त्री.) भटकटैया, बारी बनाने हेतु झाड़ी का डंठल।
  3237. झिटकब—(क्रि.) पकड़ने वाले को धक्का देना, झटका देकर अपना हाथ छुड़ाना, ताकत लगाकर बल पूर्वक फेंकना।
  3238. झिंगा—(सं.पु.) छोटे-मोटे कीडे़-मकोडे़, टिड्डा नामक एक कीड़ा।
  3239. झिमकब—(क्रि.) विरल रूप में मन्द-मन्द जल वृष्टि का होना।
  3240. झिमिर-झिमिर—(अव्यय) मन्द फुहार पड़ना, अति विरल रूप में जल वृष्टि का होना।
  3241. झिमाब—(क्रि.) शान्त स्थिति, पानी बरसने की गति का घटना, बच्चों का रोना कम हो जाना, नींद लग जाना।
  3242. झिरकी—(सं.स्त्री.) विरल जल वृष्टि, पानी की बूँद, पानी की फुहार।
  3243. झिरब—(क्रि.) टोकनी से अनाज का नीचे गिरना, झरने से जल निःसृत।
  3244. झिरकुटिया—(सं.स्त्री.) छोटी-छोटी झाड़ियों की पतली-पतली सूखी टहनियाँ।
  3245. झिरिया—(सं.स्त्री.) झरना के द्वारा बना हुआ गहरा कुण्ड।
  3246. झिरा—(सं.पु.) आय के श्रोत, झरना झरने का स्थल, तल या सतह, चोंगी में डाला जाने वाले पत्तों का टुकडा।
  3247. झिलँगी—(विशे.सं.स्त्री.) चारपाई से टूटे बन्धन का झूलदार हो जाना, जीर्ण-शीर्ण चारपाई।
  3248. झिमान—(विशे.) थककर सोयी हुई स्थिति, निद्रा ग्रसित, मौन अवस्था। झी
  3249. झीकब—(क्रि.) पक्ष कहना, अपना हाथ खींचना, किसी से अत्यधिक धन वसूल लेना, जेब से कुछ निकाल लेना, कोई संरचना।
  3250. झीका-झपटी—(बं.पु.) लूट-खसोट, जबरिया छुड़ाना, विवाद या झगड़ा।
  3251. झींगुर—(सं.पु.) पतली टाँग वाला एक विशेष कीड़ा-मकोड़ा।
  3252. झीटी—(सं.स्त्री.) बाँस की पतली-पतली टहनियाँ। झु
  3253. झुक्का—(सं.पु.) अचेत अवस्था में क्षण भर के लिये हो जाना।
  3254. झुकाउब—(क्रि.) नतमस्तक कराना, किसी वस्तु को झुकाने की क्रिया।
  3255. झुकुर—(क्रिया) किसी को देखने के लिए या मारने के लिए चारों ओर से घेर लेना, देखने को लगी गोलाईदार भीड़।
  3256. झुठ्ठी—(सं.स्त्री.) सूखी व दुर्बल शरीर वाली नारी या कन्या पु. छुट्ठा।
  3257. झुठिहा—(सं.स्त्री.) झूठ बोलने वाला व्यक्ति, असत्य बोलने की प्रवृत्तिवाला।
  3258. झुनकी—(सं.स्त्री.) छोटे दाने वाली एक ज्वार।
  3259. झुनझुनी—(सं.स्त्री.) पाँव में झुनझुनाहट हो जाना, शरीर का शून्य होना।
  3260. झुमक झुमकी—(सं.स्त्री.) कानों की बाली, झूलदार कान का गहना,पु. झुमका।
  3261. झुर झुर्र—(ब.मु.) वस्तु या पदार्थ का समग्रतः समाप्त हो जाना, उड़ जाना।
  3262. झुरान—(विशे.) शुष्क अवस्था वाली वस्तु या पदार्थ, सूखे शरीर वाला व्यक्ति, सूखा हुआ अन्न, आर्द्रता रहित स्थिति।
  3263. झुरिया—(सं.स्त्री.) सूखे ख्ेत में सूखे धान की बोवाई।
  3264. झुरहा—(सं.पु.) जो शरीर से दुर्बल हो, सूखे शरीर वाला।
  3265. झुरठ्ठा—(सं.स्त्री.) दुबला-पतला, दुर्बल एवं एकहरे शरीर का व्यक्ति।
  3266. झुरमन—(सं.स्त्री.) आर्द्र पदार्थ को सुखाने से भार में होने वाली कमी।
  3267. झुरबाउब—(क्रि.वि.) किसी वस्तु का सुखाना, नमी-आर्द्रता दूर करना, गीला कपड़ा धूप में या हवा में सुखाना।
  3268. झुरझुरी—(सं.स्त्री.) कपकपी, कम्पन, बुखार आने की स्थिति में ठण्ड का लगना।
  3269. झुर्रइया—(सं.स्त्री.) जल्दी-जल्दी कूदने-फुदकने वाली गौरैया।
  3270. झुलइहेय—(क्रि.) झुलाओगे।
  3271. झुलाय झुलाये—(क्रि.) झुलाइये, क्या झुलाये।
  3272. झुलबे—(क्रि.) झूलोगे, झूलना होगा, हिलोगे।
  3273. झुलबू—(क्रि.) झूला झूलेगी, झूलना होगा, हिलो डुलोगी।
  3274. झुलरब—(क्रि.) किसी पेड़ की डाली में लटकना या झूलना।
  3275. झुलना—(सं.पु.) झूला, झूलदार बच्चों का खिलौना।
  3276. झुलनी—(सं.स्त्री.) झूला, झूलकर चलने वाली जिसका सिर प्रायः डोलता रहता हो, नाक की नथुनी।
  3277. झुलनिया—(सं.स्त्री.) नाक में झूलने वाली बड़ी वृत्ताकार नथुनी।
  3278. झुलउआ—(सं.पु.) झूमते- झामते सी चाल गति पुरूषों का एक वस्त्र विशेष।
  3279. झुलबइया—(सं.पु.) झूला झुलाने वाला व्यक्ति, हिलाने-डुलाने वाला।
  3280. झुलाऊब—(क्रि.) हिलाना-डुलाना, झूले में झुलाना, मानसिकता से अवगत होने के लिए मन जानना। झू
  3281. झूमब—(क्रि.) झूलना, ताकत अजमाना, लगे रहना।
  3282. झूर—(विशे.) सूखा, केवल, खाली, मात्रा, स्वार्थ, सूखा।
  3283. झूरझार—(अव्यय) सिर्फ, निर्धारित, मजदूरी या आदेशित वस्तु।
  3284. झूरा—(सं.पु.) सूखा या अकाल, बच्चों का शरीर सूखने वाला एक रोग, एक प्रकार का महुआ वालीशराब।
  3285. झूर झूरै—(अव्यय) खाली-खाली।
  3286. झूलाखाली—(अव्यय) सूर्यास्त का समय, हल्का अन्धेरा होना, सायंकालीन बेला, गोधूलि का समय।
  3287. झूलब—(क्रि.) झूलना, हिलना-डुलना, झूमते रहना। झे
  3288. झेहझेह—(अव्यय) ऊँचाई से जलाशय पर बार-बार कूदने पर होने वाली पानी की ध्वनि विशेष।
  3289. झेहाका—(अव्यय) बिना रूकावट के पानी में ऊपर से कूदने की क्रिया, सीधे पानी में ऊपर कूदना।
  3290. झोकब—(क्रि.) झोकना, अत्यधिक खाना, अतिसंयोक्ति बातें करना, किसी को ढकेलना।
  3291. झोकबाइ झोकबाई—(सं.स्त्री.) झोंकने के बदले प्राप्त परिश्रामिक या शुल्क।
  3292. झोकबाउब—(क्रि.) किसी से झोंकवाने का काम कराना।
  3293. झोकइया—(सं.पु.) बढ़-बढ़कर बातें करने वाला अतिशयोक्ति बोलने वाला, बहुत अधिक खाने वाला।
  3294. झोकाझोंक—(अव्यय) मुक्तहस्त से बिना चिन्ता किये हुए कोई वस्तु वितरित करना, स्वच्छन्द एवं चिन्ता रहित कार्य।
  3295. झोंखरा—(सं.पु.) बडे़-बड़े एवं अव्यवस्थित बाल।
  3296. झोझर—(सं.पु.) पेट के लिए प्रयुक्त होने वाला शब्द।
  3297. झोझा—(सं.पु.) जालीदार रस्सी का बुनाव जो नीचे की ओर झूल गया हो।
  3298. झोझी—(सं.स्त्री.) ऐसी चारपाई जो बीच में टूटकर नीचे की ओर झुकी हो।
  3299. झोटिआउब—(क्रि.) चोटी पकड़कर मारना- पीटना, चोटी खींचना।
  3300. झोटइया—(सं.स्त्री.) बडे़-बडे़ बालों को आक्रोश में कहा जाने वाला शब्द।
  3301. झोथ—(विशे.) समूह, कई संख्याएँ, बहुतायत छत्ता।
  3302. झोथा—(सं.पु.) गुच्छेदार शैली में फलों का फलना।
  3303. झोप—(क्रि.वि.) चारों ओर से घेर लेना, चारों ओर से ढकी स्थिति।
  3304. झोरब—(क्रि.) आम के फल या किसी वृक्ष में लगे फल में हाथ से पत्थर मारकर तोड़ने या जमीन में गिराने की क्रिया।
  3305. झोरा—(सं.पु.) बडे़ आकार का झोला, पत्थर या लकड़ी की टुकडी फेंककर फल तोड़ने के लिए निर्देश, तोड़िये।
  3306. झोरकट—(सं.पु.) झूठ बोलने वाला, लम्बी- चौड़ी झोकने वाला।
  3307. झोर—(सं.स्त्री.) झोली, भिक्षा माँगने में प्रयुक्त होने वाली सैली।
  3308. झोरीहा—(सं.पु.) ऐसा व्यक्ति जिसकी दिनचर्या झोली पर केन्द्रित हो।
  3309. झोरइया—(सं.स्त्री.) किसी बात को बढ़ा- चढ़ाकर तिल का ताड़ बताकर बातें करने वाले, छोटे आकार की झोली या झोला।
  3310. झोल—(ब.मु.) झोल खाना (बघेली मुहाबरा) जिसका अर्थ होता है पीछे हटना, धोखा होना, चक्कर आना।
  3311. झोलइया—(अव्यय) श्रमिकों-मजदूरों स्त्री-पुरूषों द्वारा कार्य करते समय गाया जाने वाला बघेली लोकगीत।
  3312. झोलबाउब—(क्रि.) छानने एवं छाँटने की क्रिया करवाना।
  3313. झोलब—(क्रि.वि.) कपड़े से छानना, छाँटकर पदार्थ ग्रहण करना।
  3314. झोला—(सं.पु.) दोपहर की कड़ी धूप के बाद नहाने में बुखार आना।
  3315. झंझटि—(सं.स्त्री.) आपत्तिपूर्ण, बड़ी दिक्कतों से युक्त, दिक्कतनुमा, टंटा, बखेड़ा।
  3316. झंगाझोरा—(विशे.) ढीला-ढाला, नीचे से ऊपर तक ढीला वस्त्र पहनना।
  3317. टकर—(सं.स्त्री.) आदत, प्रवृत्ति, टेव।
  3318. टकटकी—(सं.स्त्री.) एकटक देखना, पलक न गिरना, नजर गड़ाना।
  3319. टकबाउब—(क्रि.) खुरदुरा करवाना, टाँका लगवाना।
  3320. टकबाइ टकबाई—(सं.स्त्री.) टांकने की क्रिया, मजदूरी, शुल्क, टांकने का मेहनताना।
  3321. टकिया—(सं.पु.) पत्थर टाँकने वाला, टंकन कर्ता।
  3322. टका—(सं.पु.) सिक्का या रूपया, पैसा।
  3323. टँगरी—(सं.स्त्री.) टाँग, टगरी, चीरना बघेली मुहावरा।
  3324. टटेर—(सं.पु.) ज्वार के सूखे डंठल।
  3325. टरकाउब—(क्रि.) एक स्थान से दूसरे स्थान में रख देना, टाल देना, टालमटोल करना, बहानेबाजी बता देना।
  3326. टटस—(विशे.) ठोस, मजबूत, स्वास्थ्य एवं जवान, चलने-फिरने लायक।
  3327. टटोहब—(क्रि.) टटोलना,किसी वस्तु को खोजना, हाथ से छूकर पता लगाना, थाह लगाना।
  3328. टठुलिया—(सं.स्त्री.) छोटी सी थाली, प्लेट जैसी थाली।
  3329. टठिया—(सं.स्त्री.) थाली, टाठी।
  3330. टनमन—(विशे.) मजबूत, हृष्ट-पुष्ट, चलने योग्य, स्वस्थ्य, पहले से ठीक।
  3331. टन्नाब—(क्रि.) रोते-रोते शांत, रूक जाना, रूदन में ड़ूब जाना।
  3332. टनाटन—(सं.स्त्री.) नगद, चल सिक्का, त्वरित भुगतान, मूल्य देकर वस्तु लेना।
  3333. टंटा-टोरब—(ब.मु.) नामोनिशान मिटा देना, काम तमाम करना, प्रकरण को समूल नष्ट करना, झंझट समाप्त करना।
  3334. टंटनाउब—(क्रि.) टन-टन की क्रिया करना, घण्टी बजाना।
  3335. टन्च—(विशे.) चंचल, तेज तर्राट, होशियार एवं फुर्तीला।
  3336. टंटपाली—(क्रि.वि.) बचकानी हरकत, अनाप- सनाप कार्य, शरारतयुक्त क्रिया।
  3337. टन्ट-घण्ट—(सं.पु.) दैनिक कार्य, वाह्य आडम्बर, टन्टघन्ट बजाकर पूजा का कार्य करना।
  3338. टप्पा—(सं.पु.) खेतों-खलिहानों के गीत, मजदूरों का लोकगीत।
  3339. टपरा—(सं.पु.) बाँस-फूस की झोपड़ी, अस्थायी लकड़ी वाला छोटा सा घर।
  3340. टपाका—(विशे.) सुस्पष्ट आकार बहुत बड़ी बिन्दी, अलग-थलग दिखना।
  3341. टम्ब—(सं.पु.) तास खेलते समय तुरूप का निर्धारण।
  3342. टरबाटारब—(ब.मु.) घर छोड़कर कुछ समय के लिए बाहर निकल जाना, टाल-मटोल करके टाल देना, पिण्ड छुड़ाना।
  3343. टरब—(क्रि.) किसी स्थान से चले जाना, घटना का टल जाना, अदृश्य होना।
  3344. टरकाउब—(क्रि.) एक स्थान से दूसरे स्थान में रख देना, टाल देना, टाल-मटोल करना, बहानेबाजी बता देना।
  3345. टर्राब—(क्रि.) अकड़कर बोलना, कुत्ते सा गुर्राना, कर्कश ध्वनि निकालना।
  3346. टसमस—(सं.स्त्री.) एक स्थान से जरा भी न हिलना, न खिसकना।
  3347. टहकारब—(क्रि.वि.) तेजी से बोलना, सशक्त स्वर।
  3348. टहुआ—(सं.पु.) उबले आम का प्ररस, हल्का-फुल्का कार्य।
  3349. टहूका—(सं.स्त्री.) छोटा-मोटा घरेलू काम, सेवा, काम धंधा।
  3350. टहटी—(सं.स्त्री.) पीतल धातु। टा
  3351. टांँकब—(क्रि.) टाँका लगाना, पत्थर में टंकन करना, खुरदुरा बनाना।
  3352. टांँकी—(सं.स्त्री.) किसी वस्तु पर खुदाई करना, टंकन करने वाली लोहे की कील, टाँकीन लागी, ब. मु.।
  3353. टाँंगब—(क्रि.) लटकाना, ऊपर उठाकर लेना, पकड़ से बाहर वस्तु को रखना, विलम्ब किये रहना, लालच में फंॅसाये रहना।
  3354. टांँगर—(सं.पु.) टाँंग, जँघा।
  3355. टाँगी—(सं.पं.) कुल्हाडी, लटकी हुई, टंँगी हुई।
  3356. टाटक—(विशे.) तरोताजा, तुरन्त का बना हुआ, गर्मागर्म, खाद्य पदार्थ।
  3357. टाँठ—(विशे.) ठोस, हल्का गीला।
  3358. टाठी—(सं.स्त्री.) थाली।
  3359. टाड़—(सं.पं.) परौहा ब्राम्हण की एक प्रजाति।
  3360. टांड़ना—(सं.पु.) परेशानी, समस्या ग्रसित, दुर्गति, आफत, कष्टप्रद स्थिति।
  3361. टापब—(क्रि.) आते-जाते रहना, चक्कर लगाना, सुन्दर अक्षर लिख देना। टाँँ ँ
  3362. य-टाँंय—(सं.स्त्री.) अनावश्यक की वार्ता, टाँंय-टाँय फिस्स (बघेली मुहावरा), तोते की तरह एक साँस में बोलना, अप्रिय शब्द।
  3363. टार बहिटआव—(सं.स्त्री.)टाल मटोल, अनसुनी करना, अनदेखी करना, बहाना बता के टाल देना, टार बहिटीयाब, ब.मु.।
  3364. टार टहुआ—(सं.पु.) हल्का-फुल्का काम करना, इधर से उधर वस्तु को रखना।
  3365. टारब—(क्रि.) टाल देना, दूर कर देना, पास से हटा देना, घर से बाहर कर देना।
  3366. टाल—(सं.पु.) तेन्दूपत्ता का क्रय केन्द्र, लकड़ियों का संचयन स्थल। टि
  3367. टिक्कड़—(सं.पु.) हाथ से बनी मोटी-मोटी रोटियाँं।
  3368. टिकब—(क्रिया) बहुत दिनों तक किसी के यहाँं ठहरे रहना, किसी वस्तु का वस्तु पर टिकना, अति टिकाउपन होना, पाँव जम जाना।
  3369. टिकउना—(सं.पु.) उपहार या पारतोषिक, टीका नामक परम्परागत व्यवहार।
  3370. टिकुरा—(सं.पु.) उच्च भूमि, टीलानुमा, खेत, टीला।
  3371. टिकुली—(सं.स्त्री.) बिन्दी, गोल आकार की नारी श्रृँगार वस्तु।
  3372. टिकोरी—(सं.स्त्री.) आम के प्रारम्भिक फल, शिशु आम्रफल।
  3373. टिटरीटी—(विशे.) चिड़चिड़ा व्यक्ति, अति दुर्बल एवं कमजोर।
  3374. टिटिंगा—(विशे.) अति दुर्बल शरीर वाला, एकहरा शरीर का आदमी।
  3375. टिपुर्रब—(क्रि.) किसी के ऊपर जल्दी ही बिगड़ जाना, बात-बात में नाखुश हो जाना।
  3376. टिटिरिही—(सं.स्त्री.) अति दुर्बल, पतला शरीर, एक चिड़िया विशेष का नाम।
  3377. टिटुरिआब—(क्रि.) सिकुडना, ठंण्ड या भय के कारण अंगों को सिकोड़ना।
  3378. टिटिम्मा—(सं.पु.) आवश्यक औपचारिकता, परम्परागत कार्य, रूढ़िगत मान्यता।
  3379. टिड़िन—(सं.पु.) तामस, बात-बात में बिगड़ने की प्रवृत्ति, जोश।
  3380. टिपिर टिपिर—(अव्य) बिरल पानी की बूँदे, छप्पर पर बूँद गिरने से उत्पन्न ध्वनि, पानी की बूँदों सा बातें करना।
  3381. टिपकी—(सं.स्त्री.) भाल की बिन्दी, शून्य आकार का चिन्ह।
  3382. टिर्रा—(विशे.) अति दुर्बल, पतला, एकहरा शरीर, व्यक्ति का नाम।
  3383. टिहुनी—(सं.स्त्री.) जहाँ से हाथ मुड़ता है वहाँं की गाँठ।
  3384. टिहुनिआब—(क्रि.) घुटनों से मारना, घुटने से किसी का शरीर दबाना।
  3385. टिहुनिआब—(क्रि.) घुटना मोड़कर जमीन पर बैठना।
  3386. टिल्ल पो—(ब.मु.) बच्चों का शोरगुल, कार्य करने से आगे-पीछे होना। टी
  3387. टी.टी.—(विशे.) जीर्ण-शीर्ण एवं चिड़चिड़ापन, अति दुर्बल एवं पतला।
  3388. टीकुर—(सं.पु.) चोंट लगने से फोड़े की तरह किसी अंग में फूल आना।
  3389. टीडी—(सं.स्त्री.) टिट्डी दल, टीड़ीकुस उतराब, बघेली मुहावरा।
  3390. टीप—(सं.स्त्री.) लेन-देन वाला खाता, स्पर्श कर पाना, दस्तावेज।
  3391. टीमटाम—(सं.स्त्री.) दिखावायुक्त सजावट, कृत्रिम सौंदर्य हेतु श्रृँगार।
  3392. टीहड़—(सं.स्त्री.) कमर के नीचे हिप की गुटकेदार हड्डी, टीहड़ मराना, बघेली मुहावरा। टु
  3393. टुकबा—(सं.पु.) पुराने कपडे का एक टुकड़ा।
  3394. टुकुर टुकर—(अव्य) एकटक किसी को देखना, मौन रहकर चुपचाप देखते रहना, लाठी टेककर धीरे-धीरे चलना। (क्र.वि.)
  3395. टुच्चा—(विशे.) बदमाश एवं घृणित व्यक्ति, ओछा कार्य करने वाला।
  3396. टुच्चई—(क्रि.) बचकानी हरकत, निन्दनीय कार्य, अति छोटेपन, ओछा कार्य।
  3397. टुटुआउब—(क्रि.) लालचवश, किसी के द्वार में खड़े रहना, किसी के घर में दुके रहना, किसी के द्वार में बार- बार बने रहना।
  3398. टुटपॅुंजिहा—(विशे.) अल्प पूंँजी का व्यक्ति, कम पूँजी वाला।
  3399. टुटाहिल—(ब.मु.) बचपन से ही पेट भर भोजन न पाने वाला, पैर से टूटा हुआ शरीर से कमजोर।
  3400. टुटहा गोड़—(ब.मु.) कोई भी आदमी, कैसा भी व्यक्ति, बघेली मुहावरा।
  3401. टुटुरिआन—(विशे.) ठंड के कारण, सिकुड़े हुये अंग, दबा मन रहना।
  3402. टुडटुराउब—(क्रि.) चना चबाना, दाँत से चना चाबने की आवाज।
  3403. टुनटुन—(सं.पु.) अति प्यारा एवं नटखट शिशु, किसी का नाम।
  3404. टुनमुनाब—(क्रि.) दुर्बल व्यक्ति का स्वस्थ्य एवं चैतन्य हो आना, मरीज आदमी का चलने-फिरने लगना।
  3405. टुनगुन—(विशे.) चंचल, स्वस्थ्य, गतिशील, नटखट।
  3406. टुन—(क्रि.) आक्रोश के कारण नाराज होना, नाराज होकर शीर्ष में चढ़ना।
  3407. टुप्प—(विशे.) बूँद, अति अल्प मात्रा।
  3408. टेघरब—(क्रि.) पानी-पानी होना, अत्यधिक प्रभावित होकर भाव-विभोर हो जाना, सहृदय हो जाना, किसी वस्तु का पिघल जाना।
  3409. टेधराउब—(क्रि.सं.) पिघलाना, सहृदय करना, प्रभावित एवं आकर्षित करना।
  3410. टेटबा—(सं.पु.) घास-फूस एवं पत्तियों की परतीया बाड़ा, घास-फूस का दरवाजा।
  3411. टेटमुहा—(वि.) घोड़े की तरह मुंँह वाला व्यक्ति, एक गाली।
  3412. टेटुआ—(सं.पु.) घोड़ा, लादने वाला गदहा।
  3413. टेंटर—(सं.स्त्री.) कमर के नीचे का भाग, आँख की फूली, टेंट।
  3414. टेंट—(सं.स्त्री.) धोती का फेड, टेट भरा रहना, बघेली मुहावरा।
  3415. टेडुआब—(क्रि.) आवेश में आकर अकड़ना, लड़ने के लिये उतावला होना, पुरूष मूत्रांग का उत्तेजित होना, मर जाना, या समाप्त हो जाना।
  3416. टेढनउक—(विशे.) झुकी हुई, मुड़ी हुई, कुछ तिरछी सी, सर्पाकार आकृति।
  3417. टेंढ—(विशे.) तिरछा या अशुद्व, वक्रोक्ति बात, बिल्कुल-टेढ़ा।
  3418. टेंढंॅमुहा—(विशे) टेढ़े मुँह वाला व्यक्ति, तिरछे मुँहवाला।
  3419. टेढबा—(विशे.) टेढ़ा चलने वाला व्यक्ति, टेढ़ी-मेढ़ी वस्तु, टेढ़े मुँह वाले।
  3420. टेढई—(सं.पु.) टेढ़ी गर्दन बाला, तिरछे मुंॅहवाला, किसी का नाम।
  3421. टेढबंॅइता—(विशे.) टेढा पाँव करके चलने वाला, तिरछे पाँव का व्यक्ति।
  3422. टेना—(सं.पु.) बाँस की टहनियाँ, सूखे बाँस की उपशाखाएँ।
  3423. टुपकब—(क्रि.) बूँद-बूँद कर गिरना, पानी टपकना, धरती पर चूकर गिरना।
  3424. टुपकाउब—(क्रि.) बूँद-बूँद कर गिराना, टपकाना, तरल पदार्थ चुआना।
  3425. टुपुर-टुपुर—(अव्य) अनावश्यक रूप से जल्दी बोलना, बिना अवसर का प्रयोजन विहीन बोलना, बघेली मुहावरा।
  3426. टुमाँकी—(सं.पु.) बीच में बोलकर सबकों हँसा देना, बीच-बीच में कुछ कहकर ठहाका लगवाना।
  3427. टुरूर टुरूर—(अव्य) अनाज का खूब सूख जाना, सूखे चना चाबने पर उत्पन्न आवाज। टू
  3428. टूका—(सं.पु.) रोटी का एक टुकडा, आधा या आंशिक भाग।
  3429. टूट—(विशे.) टूटी हुई वस्तु, बिना लगाम के बोलने वाला, निर्भीक एवं निर्लज्ज वक्ता।
  3430. टूंटा—(सं.पु.) घाटा या घाटा का सौदा, नुकसान या हानि।
  3431. टूरा—(सं.स्त्री.) प्रिय कन्या, प्रिय पुत्री, बिटिया। टे
  3432. टेंउ—(सं.स्त्री.) आदत या प्रवृत्ति, प्रकृति या स्वभाव।
  3433. टेउब—(क्रि.) पत्थर में घिसकर धार पैनी करना, मूँछ में ताव चढ़ाना।
  3434. टेउनखरा—(सं.पु.) औजार की धार पैनी करने वाला पत्थर, धार पैनी करने वाली।
  3435. टेकब—(क्रि.) चरण स्पर्श करना, पाँव पड़ना, जमीन पर टिकाना, टेक या सहारा लेना, चेचक के बाद टीका लगाकर विदा करना।
  3436. टेपर—(विशे.) टेढ़ा-मेढ़ा, कुछ तिरछा सा, आँख की तिरछी चितवन।
  3437. टेपुआब—(क्रि.) गुर्राना, मर जाना, अकड़ना एवं ऐंठना।
  3438. टेम—(सं.स्त्री.) दीपक की लौ, दीपक की ज्योति।
  3439. टेमरि—(सं.स्त्री.) पशुओं के पूछ का बाल, जवान या समर्थवान होना।
  3440. टेंय टेंय—(ब.मु.) तोते की तरह बोलते रहना, बीच में अनावश्यक बोलना।
  3441. टेरब—(क्रि.) किसी को पुकारना या बुलाना, आवाज देना।
  3442. टेरी—(सं.स्त्री.) आम की टहनी।
  3443. टोका—(सं.पु.) किसी पात्र का छिद्र, कपड़े में छेद हो जाना, टोंक दो, टोंकिए या टोंक दीजिये। टो
  3444. टोंट—(सं.पु.) तोते की चोंच, पक्षियों का मुख।
  3445. टोटका—(सं.पु.) तांत्रिक प्रयोग, तंत्र-मंत्र।
  3446. टोड़क्का—(सं.पु.) सुपाड़ी का टुकड़ा, नामक की बड़ी सी डली, ठोस टुकड़ा।
  3447. टोरही—(सं.स्त्री.) टोना जादू जानने वाली, टोना मारने वाली।
  3448. टोनी—(सं.स्त्री.) हँसिया का नुकीला वाला भाग, औजार का पैना हिस्सा।
  3449. टोनकब—(क्रि.) उँगली मोड़कर किसी के सिर पर मारना, बीच में टोंक देना, हँसिया की टोनी से प्रहार करना।
  3450. टोपरी—(सं.स्त्री.) टोकनी, बाँस का बना पात्र।
  3451. टोपरा—(सं.पु.) बड़े आकार की बाँस की टोकनी, बांँस का बड़ा सा पात्र।
  3452. टोरइली—(सं.पु.) बचपना, बचकानी हरकत, बच्चों की गतिविधि।
  3453. टोरब—(क्रि.) तोड़ना, मरोड़ना, सीमा उल्लंघन करना, रिश्ता खत्म कर देना, मवेशियों को काट खाना।
  3454. टोरबा—(सं.पु.) छोटी उम्र का लड़का, छोटा सा बच्चा।
  3455. टोरउना—(सं.पु.) कम उम्र का लड़का, कुछ तोड़ने का पारिश्रमिक।
  3456. टोरइया—(विशे.) तोड़ने वाला।
  3457. टोरिया—(सं.स्त्री.) बच्चा मर जाने के बाद भी दूध देते रहने वाली दुधारू गाय-भैंस छोटी उम्र की लड़की, बिटिया या पुत्री।
  3458. टोर्रा—(सं.पु.) नमक का बड़ा सा टुकड़ा, सुपाड़ी की बड़ी-बड़ी टुकड़ियाँं।
  3459. टोला—(सं.पु.) कुछ घरों का समूह, गांँव का एक मुहल्ला।
  3460. टोहब—(क्रि.) खोजना या अन्वेषण करना, थाह लगाना, धीरे-धीरे चलना।
  3461. टोहिटोहि—(अव्य) थाह लगा-लगाकर आगे बढ़ना, पांँव जमा-जमाकर जाना। ठ
  3462. ठउर—(सं.स्त्री.) जगह, भोजन करने के लिए जमीन पोतना, ठौर, स्थान।
  3463. ठउरि आउब—(क्रि.) भोजन स्थल को पानी से सींचना, पवित्र बनाना।
  3464. ठउरिबइया—(सं.पु.) भोजन स्थल में ठउर लगाने वाला।
  3465. ठउर ठिकाना—(ब.मु.) संभावना, सुव्यवस्थित, निशि्ंचतता।
  3466. ठउँका—(सं.पु.) यथोचित अड्डा, निर्धारित जगह, निश्चित स्थान, ठिकाना।
  3467. ठउकाउब—(क्रि.) ठिकाना लगाना, जगह खोजना, तय करना, पता लगाना।
  3468. ठउँकइया—(सं.पु.) ठिकाना तय करने वाला, खोजकर तय करने वाला।
  3469. ठउहा—(सं.पु.) ठिकाने लगाना, स्थिर होना, हार मानकर चुप होना, शांत हो जाना।
  3470. ठक्कर—(क्रि.) ठोकर, धक्का।
  3471. ठक्करिआउब—(क्रि.) ठोकर मारना, ठोकर देकर भगाना, दर किनार करना।
  3472. ठक्काठाही—(ब.मु.) दो टूक, खरी-खरी, स्पष्ट, बिना दबाव संकोच के।
  3473. ठकुर सोहाती—(ब.मु.) मुंँह देखकर व्यवहार, पक्षपात पूर्ण।
  3474. ठगब—(क्रि.) ठगना, झटका मारकर लूट लेना।
  3475. ठगाब—(क्रि.) ठग जाना, ठगी का शिकार होना, लुट जाना।
  3476. ठगबाउब—(क्रि.) किसी से ठगवाना, ठगने में सहयोग करना।
  3477. ठगबरब—(क्रि.) किसी द्वारा ठग जाना, लुट जाना, घाटा खा जाना।
  3478. ठगुआ—(सं.पु.) ठगने वाला, जिसके ठगने की आदत पड़ गई हो।
  3479. ठगइया—(सं.पु.) ठगने वाला, ठग लेने वाला, ठग।
  3480. ठगनहर—(सं.पु.) जो हमेशा ठगता रहता हो।
  3481. ठगबिद्या—(ब.मु.) ठगने के लिए अमल में लाई गई विधि व बुद्वि।
  3482. ठगिहौं—(क्रि.) ठगूँगा, ठग लूँगी, ठग लूँगा।
  3483. ठगेंवतै—(क्रि.) ठग लिया था, ठगा था, ठग ली थी।
  3484. ठटरी—(सं.स्त्री.) शरीर का ढॉँचा, बिना माँस का शरीरिक ढाँचा पुलिंग ’ठटरा’।
  3485. ठठाउब—(क्रि.) किसी को मारना-पीटना, अस्त्र से प्रहार करना।
  3486. ठठुरब—(क्रि.) ठंड से ठिठुरना, ठंड से सिकुड़ना।
  3487. ठठ्ठा—(क्रि.वि.) हँसी का ठहाका, ठठ्ठा मारना बघेली मुहावरा।
  3488. ठठुरान—(विशे.) ठंड के कारण सिकुड़ा हुआ, हाथ या अंग।
  3489. ठंठनाब—(क्रि.वि.) सूखकर अतिठोस होना, खाली घड़े का सूखा होना।
  3490. ठंडाब—(क्रि.) ठंडा होना, ठंड लगना, शान्त होना, चुप हो जाना।
  3491. ठढुकब—(क्रि.) चलते-चलते रूकना, रूक- रूक कर चलना, थोड़े समय हेतु खड़े हो जाना, रूककर प्रतीक्षा करना।
  3492. ठंडवाउब—(क्रि.) ठंडी कराना, शीतल करवाना, ठंडा कराना।
  3493. ठढेसुर—(सं.पु.) दरवाजे पर अड़े रहने वाला, प्रायः खड़े रहने वाला।
  3494. ठंडवइया—(सं.पु.) ठंडा करने वाला व्यक्ति, मावला शांत कराने वाला।
  3495. ठनठनाब—(क्रि.) सूखकर खरा होना, बातचीत में सामना करना।
  3496. ठनकब—(क्रि.) सिर का ठनकना, धातु पर धातु पटकने से आवाज होना।
  3497. ठनगन—(क्रि.) इच्छा होते हुए भी न करने का नाटक करना, बहाने बाजी।
  3498. ठनबाउब—(क्रि.) लड़ाई छिड़वा देना, झगड़े हेतु पानी दे देना।
  3499. ठनब—(क्रि.) दो पक्षों में लड़ाई छिड़ जाना।
  3500. ठनठन गोपाल—(ब.मु.) शून्य उपलब्धि, शून्य मूल्य, कुछ नहीं।
  3501. ठनठनाउब—(क्रि.) सूखा घड़ा सा बजाना।
  3502. ठप्प—(सं.पु.) एकदम बन्द, निरस्त, बिल्कुल स्थगित।
  3503. ठप्पा—(सं.पु.) मुहर, चिन्ह।
  3504. ठर्रा—(सं.पु.) महुए से तैयार कच्ची शराब, चबेना के अप्रस्कुटित दाने।
  3505. ठसब—(क्रि.) जबरिया चिपककर बैठना, अनामंत्रित के बाद भी प्रवेश लेना।
  3506. ठसइया—(सं.पु.) जबरिया ठसने वाला, बिना बुलाये जम जाने वाला।
  3507. ठस—(विशे.) ठोस एवं पुष्ट, शख्त एवं कठोर।
  3508. ठसका—(सं.पु.) गले में पानी अड़ने से खाँसी आ जाना,गले में पानी अड़ना।
  3509. ठसिके—(विशे.) ठीक से, जोर लगाकर, ठीक से, दो टूक शब्दों में।
  3510. ठसिआउब—(विशे.) दबाव देकर कार्य करने हेतु विवश कर देना।
  3511. ठहिक ठहिके—(अव्य.) आराम से, रूककर, इत्मिनान से, सोच-विचार के।
  3512. ठहुरूक—(विशे.) ठीक ठाक, अच्छा या जोरदार, देखने योग्य।
  3513. ठहाका—(सं.पु.) अट्टहास, जोर की हँसी।
  3514. ठहरब—(क्रि.) रूकना, विश्राम करना, रूक जाना, रह जाना।
  3515. ठहराउब—(क्रि.) रोकवाना, रूकने की व्यवस्था करना, ठहरवाना।
  3516. ठहरबइया—(सं.पु.) ठहरने वाला, रूकने वाला, विश्राम कर्ता, ठहरवाने वाला।
  3517. ठहनाव—(क्रि.) निर्भीकता पूर्वक अकड़ना, भय रहित उत्तर देना। ठा
  3518. ठाढ—(विशे.) एकदम खड़ा, सीधा, दण्डाकार।
  3519. ठाँय—(सं.स्त्री.) बन्दूक से गोली छूटने से उत्पन्न ध्वनि।
  3520. ठारी—(सं.स्त्री.) कड़ाके की ठंडी, ठंडी के कारण जमी हुई ओस। ठाँँ ँ
  3521. व-ठाँंव—(अव्य) शान्त एवं सन्नाटा, अपने- अपने स्थान में हो जाना।
  3522. ठासब—(क्रि.) दबाव देकर बढ़ता कदम रोकना, चेतावनी देना।
  3523. ठासा—(सं.पु.) घमण्ड, अहंकार, अपने गुमान में उतान।
  3524. ठाहिर—(सं.स्त्री.) स्थिर या स्थायी, उपयुक्त एवं अच्छी, पुलिंग ’ठाहर’।
  3525. ठास—(सं.पु.) ठेके पर कृषि हेतु किसी को दी गई जमीन। ठि
  3526. ठिकधर—(विशे.) सुनिश्चित एवं सही, सही ठिकाना, व्यक्ति का सुधर जाना।
  3527. ठिगना—(विशे.) नाटा कद का, छोटे कद का, स्त्री.लिंग ’ठिगनी’।
  3528. ठिठुरब—(क्रि.) ठिठुरना, ठंड से सिकुड़ना। ठु
  3529. ठुकसा—(सं.पु.) सूखी रोटी का टुकड़ा, खाली सूखी रोटी।
  3530. ठुँठबा—(विशे.) बिना सींग का बैल, ऊँगली कटा आदमी, बिना डाली व पत्ते का वृक्ष।
  3531. ठुँठिया—(विशे.) लूला व्यक्ति, छोटे कद वाला, बिना सींग का बैल।
  3532. ठुनकब—(क्रि.) किसी वस्तु के पानी के लिए मचलना या जिद करना।
  3533. ठुनकइया—(सं.पु.) मचलने वाला, जिद करने वाला व्यक्ति।
  3534. ठुनकाउब—(क्रि.) मचलवाना या जिद करने के लिए उत्प्रेरित करना।
  3535. ठुनकिहौं—(क्रि.) मचलूँगा, मचलूँगी, जिद करूँगा या करूँगी।
  3536. ठुर्रू—(सं.पु.) भूनने पर न प्रस्फुटित हुए चबेना के दाने।
  3537. ठुँठाब—(क्रि.) पत्ते झड़ जाना और ठूँंठा होना, सींग विहीन होना। ठू
  3538. ठूंँठा—(सं.पु.) नग्न पेड़, बिना पत्ता के जड़ सहित कटा हुआ पेड़।
  3539. ठूठी—(सं.स्त्री.) सींग विहीन गाय व भैंस, लूली महिला।
  3540. ठॅूंठ—(सं.पु.) वृक्ष का जड़ से लगा छोटा तना, दो टूक बोलने वाला व्यक्ति।
  3541. ठूमुक—(विशे.) नाटे कद का आदमी व बैल।
  3542. ठूसब—(क्रि.) जबरिया डालना, दबा- दबाकर डालना, खूब खा लेना। ठे
  3543. ठें—(अव्य) पर, ऊपर में।
  3544. ठेउहा—(विशे) स्थिर व शान्त, पेट का पानी पच जाना, ठेउहा, ब. मु.।
  3545. ठेउहाउब—(क्रि.) चेतावनी देकर ठिकाने लगा देना।
  3546. ठेकब—(क्रि.) बालों की छटाई करना, बढ़ते कदम में अंकुश लगाना।
  3547. ठेकबाउब—(क्रि.) अनुमानित मूल्यांकन करवाना, बालों को छँटवाना।
  3548. ठेकबइया—(सं.पु.) बालों को छाँटने वाला, ठेका तय कराने वाला व्यक्ति।
  3549. ठेक्कड—(सं.पु.) बराबरी करना, सामना करना, धक्का।
  3550. ठेकहा—(सं.पु.) ऐसा कार्य जो ठेके में लिया गया हो, ठेके का कार्य।
  3551. ठेकार—(सं.पु.) शरीर पर बड़े-बड़े निकले हुए चकत्ते।
  3552. ठेकुरा—(सं.पु.) अवारा पशु के गले में अंकुश हेतु बँधी लकड़ी।
  3553. ठेंगा—(सं.पु.) अँगूठा, कुछ नहीं का संकेत।
  3554. ठेंघब—(क्रि.) कोई वस्तु ले लेना, टिकना, टेंकना, सहारा लेना।
  3555. ठेंघबाउब—(क्रि.) भारा उठाने में सहारा लगवाना।
  3556. ठेघबइया—(सं.पु.) पकड़कर वस्तु स्वीकारने वाला, सहारा देने वाला।
  3557. ठेंघाउब—(क्रि.) किसी के हाथ में कुछ देना, ओट लगाना, सहारा लेकर टिकाना।
  3558. ठेंघी—(सं.स्त्री.) तकिया कलाम, बोलने की टेक।
  3559. ठेंघना—(सं.पु.) टेकने वाली वस्तु, सहारा लेने वाली छड़ी।
  3560. ठेंठी—(विशे.) नाटे कद की नारी या गाय।
  3561. ठेंठरी—(सं.स्त्री.) बेसन की ग्रामीण सलोनी, गाँव का एक व्यंजन।
  3562. ठेंठ—(विशे.) निरा ग्रामीण, बिना किसी मिलावट के, अकृत्रिम या मौलिक।
  3563. ठेंठा—(सं.पु.) गदेली में फोड़ों का ठोस रूप, गदेली के चिन्ह।
  3564. ठेंठाब—(क्रि.) हाथों में फोड़ों का पड़ जाना, आदती हो जाना।
  3565. ठेंठान—(विशे.) ठेठें पड़े हुए, ऐसी गदेली जिसमें ठेठें ही ठेठें हों।
  3566. ठेपी—(सं.स्त्री.) शीशी का ढक्कन, कान में ऊँगली डालना, शीशी का काग।
  3567. ठेलब—(क्रि.) ताकत लगाकर अन्दर कीओर डालना, सहारा देकर आगे बढ़ाना।
  3568. ठेलबाउब—(क्रि.) धक्का देकर गतिमान करवाना, स्वयं डलवाना।
  3569. ठेलबइया—(सं.पु.) धक्का लगाने वाला, जोर लगाकर आगे बढ़ाने वाला व्यक्ति।
  3570. ठेला—(सं.पु.) लकड़ी की गोमती, ट्रक या भार वाहक।
  3571. ठेलिया—(सं.स्त्री.) नारियों द्वारा पैर की उँगलियों में धारित छल्ला।
  3572. ठेलिहौं—(क्रि.) ठेलूँगी, धक्का देकर बढ़ाउँगी, सहारा दूँगी।
  3573. ठेलबइहौं—(क्रि.) किसी से डलवाउँगी, धक्का देकर गतिमान करूँगी।
  3574. ठेलमठेल—(ब.मु.) खींचातानी की स्थिति, आपसी मतभेद का होना।
  3575. ठेव—(सं.पु.) चेतावनी, अंकुश, हिदायत, रोक-थाम।
  3576. ठेस—(सं.पु.) धक्का पहुँचना, उँगलियों में ठोकड़ से लगी चोट।
  3577. ठेसब—(क्रि.) जबरिया ठूँस-ठूँस कर डालना, दबाव देकर घुसेड़ना।
  3578. ठेहर—(विश.) मध्यम कद, न लम्बा न छोटा कद। ठो
  3579. ठोंकब—(क्रि.) चोट मारकर कील धंसाना, ठोंकना, मारना-पीटना।
  3580. ठोंकबाउब—(क्रि.) ठोंकवाना, किसी को पिटवाना।
  3581. ठोंकबइया—(सं.पु.) प्रहार करने वाला, ठोकने वाला, पिटाई करने वाला।
  3582. ठोकड़ा—(सं.स्त्री.) एक वर्ष पहले की जनित दुधारू गाय व भैंस।
  3583. ठोकड़—(सं.स्त्री.) पैर में लगी चोट, चोट मारना, धक्का खाना।
  3584. ठोकड़िआउब—(क्रि.) ठोकर मारकर हटा देना, ठुकरा देना, धक्का देकर भगा देना।
  3585. ठोकड़िआब—(क्रि.) ठोकर खा जाना, धक्का खाना, ठुकरा दिया जाना।
  3586. ठोंके ठहनाब—(ब.मु.) अकारन अकड़बाजी करना, चोरी और सीना जोरी करना, डंके की चोट पर बिना भय के बोलना।
  3587. ठोक्कड़—(सं.पु.) मुकाबला या बराबरी, चोट या ठेस लगना।
  3588. ठोंगा—(सं.पु.) मोटे-मोटे बास के 2-2 फीट के लम्बे टुकड़े।
  3589. ठोर्रसइ ठोर्रसई—(सं.स्त्री.) हँसी-मजाक, मनोविनोदी बातें एवं वार्ता।
  3590. ठोर्रसऊँ-- (विशे.) मजाकिया शैली में मनोविनोदी अंदाज में।
  3591. ठोर्रसहा—(सं.पु.) हँसी-मजाक करते रहने वाले प्रवृत्ति का आदमी।
  3592. ठोसब—(क्रि.) जबरिया डालना, ठूँस-ठूँस कर खाना।
  3593. ठोसबाउब—(क्रि.) ठूँस-ठूँस कर डलवाना, प्रवेश करवाना, अन्दर करवाना।
  3594. ठोसबइया—(सं.पु.) ठोंसने वाला, ठूँस-ठूँस कर डालने वाला।
  3595. ठोसीमा—(विशे.) ठोस ढंग से बना, ठोस, मजबूत एवं ठोस युक्त। ड
  3596. डउआ—(सं.पु.) लकड़ी का बना करछुल के विकल्प का पात्र।
  3597. डउका—(सं.पु.) पुरुष, मर्द, स्त्री.लिंग ’डउकी’।
  3598. डउरि—(सं.स्त्री.) ढाँचा, खाका, बनावट, शक्ल सूरत।
  3599. डउरब—(क्रि.) ढाँचा बनाना, नमूना तैयार करना, खाका खींचना।
  3600. डउड़िआब—(क्रि.) अकेलेपन की उदासी की अनुभूति करना, अकेलापन लगना।
  3601. डउड़ी—(सं.स्त्री.) मुनादी, नगड़िया द्वारा सूचना, मुनादी पीटना, ब.मु.।
  3602. डॅउकब—(क्रि.) ताक में रहना, घात लगाये रहना, इंतजार करना।
  3603. डक—(सं.पु.) दोष, अशुभ, डक परब ब. मु.।
  3604. डकार—(सं.पु.) मुख से गैस का उद्गार, पेट भरने का सूचक।
  3605. डखना—(सं.पु.) पंख, उपशाखाएँ, परिवार या वंश के सदस्य।
  3606. डगर—(सं.पु.) रास्ता, एक हिंशक जानवर।
  3607. डगना—(सं.पु.) नाव खेने वाला लम्बा बाँस, स्त्री.लिंग डगनी।
  3608. डगनी—(सं.स्त्री.) मिट्टी खुदाई का नपना, गन्ने का एक नग।
  3609. डग—(सं.पु.) साइकल में कम्पन की स्थिति, दो पांँव के बीच की दूरी।
  3610. डगर डिगिर—(ब.मु.) अति दुर्बल चाल, डगमगाते हुए चलना, पाँव का लड़खड़ाना।
  3611. डगडगाव—(क्रि.वि.) डगमगाना या कँपना, लड़खड़ाकर चलना।
  3612. डगडउआ—(सं.पु.) एक प्रकार की घास, किसी गाँव का नाम।
  3613. डग्गा—(सं.पु.) फाग गीत का एक किश्म, उथले किस्म का खेत, चार पहिया भार वाहक।
  3614. डड़हरा—(सं.पु.) करछुल की डण्डी, पकड़ने वाला हिस्सा, मूठ या हत्था।
  3615. डड़उकी—(सं.स्त्री.) पतली सी छोटी छड़ी, छोटा बाँस का दो फीट का टुकड़ा, पुलिंग ’डड़उका’।
  3616. डड़ार—(सं.पु.) मैदानी भू-भाग, वह खेत जो सदैव पड़ती पड़ा रहता हो।
  3617. डड़बार—(सं.पु.) कभी न जोता बोया जाने वाला खेत, खाली मैदान।
  3618. डड़ई—(सं.स्त्री.) पतली बाँस की छोटी सी छड़ी।
  3619. डड़िया—(सं.स्त्री.) विवाह में वर पक्ष द्वारा ले जाई गई साड़ी विशेष, ऊँची भूमि वाला उचहन खेत।
  3620. डड़िआउब—(क्रि.) धोती को फाड़कर दोनों छोर को फिर सिल देना।
  3621. डड़ब—(क्रि.) घाटा होना, दण्डित हो जाना, नुकसान हो जाना।
  3622. डड़बाउब—(क्रि.) घाटा बैठा देना, किसी को दण्डित करवाना।
  3623. डढिल्ला—(सं.पु.) दाढ़ी वाला, लम्बी दाढ़ी वाला व्यक्ति।
  3624. डढ़ियल—(सं.पु.) जिसके बड़ी-बड़ी दाढ़ी उगी हो, दाढ़ी वाला व्यक्ति।
  3625. डढेल—(सं.पु.) व्यंजन पकाने के पश्चात कड़ाही में बचा हुआ तेल या घी।
  3626. डण्डाकार—(सं.पु.) दण्डवत, लम्बवत लेट जाना।
  3627. डण्डकमंडल—(सं.पु.) अपना उपयोगी सामान, घर गृहस्थी का सामान ब. मु.।
  3628. डण्डी—(सं.स्त्री.) छोटी सी बाँस की लकड़ी, पुलिंग ’डण्डा’।
  3629. डफुला—(सं.पु.) एक ग्राम्य वाद्ययंत्र, स्त्री.लिंग ’डफुली’।
  3630. डफल डफल—(अव्य) वाद्ययंत्र की बेसुरी आवाज।
  3631. डबरा—(सं.पु.) पानी से भरा गढ्ढा, पानी भरे गढ्ढे में भैंस का पड़ना।
  3632. डबिया—(सं.स्त्री.) छोटे आकार की डिब्बी।
  3633. डबुलिया—(सं.स्त्री.) मिट्टी की बनी सकरे मुखवाली मिट्टी की लोटिया, ’डबुलिया कस मुँह, बघेली मुहावरा, पुलिंग ’डबुला’।
  3634. डब्बल—(सं.पु.) पुराने प्रचलन का एक पैसे का सिक्का।
  3635. डब्बा—(सं.पु.) डिब्बा, शून्य उपलब्धि, शट्टे का पैसा डूबना।
  3636. डब्बी—(सं.स्त्री.) डिबिया, दिया, सिंदूरदान, चिमनी।
  3637. डभका—(सं.पु.) चावल पानी एक साथ डालकर पकाया गया भात।
  3638. डम्फान—(सं.पु.) दिक्कतनुमा कार्य, अतिरिक्त व्यवस्था।
  3639. डमाडोल—(विशे.) मुहाने तक भरा पानी, दयनीय स्थिति, संदिग्ध हालात।
  3640. डमरिआउब—(क्रि.) डामर लगाना, डामर से पात्र में पुताई कराना।
  3641. डमरिहा—(सं.पु.) जिस बर्तन में डामर लगा हो, डामर रखने का पात्र।
  3642. डरिया—(सं.स्त्री.) डली, एक वस्तु की टुकड़ी, डिगलिया।
  3643. डरइया—(सं.स्त्री.) वृक्ष की उपशाखाएँ, डाली।
  3644. डरक्का—(सं.पु.) नमक की बड़ी सी डली।
  3645. डरीमा—(सं.पु.) डाली में ही पका हुआ फल, डाल का पका फल।
  3646. डरील—(विशे.) डाली वाला, जिसमें डालियाँ हो, डालियों से युक्त वृक्ष।
  3647. डल—(विशे.) कमजोर, दयनीय, गिरी हुई स्थिति।
  3648. डँंहकाउब—(क्रि.) घाटा खाना, लुट जाना, पिट जाना, गंवा देना।
  3649. डहठान—(सं.पु.) शिशु जन्म के छठवें दिन का उत्सव विशेष, शिशु संस्कार।
  3650. डहरब—(क्रि.) पशुओं का चलकर आगे अग्रसर होना।
  3651. डहराउब—(क्रि.) पशुओं को गतिमान करना, पशुओं को गन्तव्य की ओर ले जाना।
  3652. डहर डहर—(अव्य) पशुओं को अग्रसर करने का सांकेतिक शब्द। डा
  3653. डाइन—(सं.स्त्री.) चुड़ैल, राक्षसिन, चुड़ैल प्रवृत्ति की नारी।
  3654. डाँगर—(विशे.) वयोवृद्व, निर्बल व्यक्ति, बूढा एवं कमजोर।
  3655. डाँगब—(क्रि.वि.) कूद कर पार होना, लाँघना।
  3656. डाँटा—(सं.पु.) खुफिया लगना, छिपकर बातें सुनना।
  3657. डाँटी—(सं.स्त्री.) डाटी टइया (बघेली मुहाबरा), दिक्कतें, उलझने, अशान्ति।
  3658. डाँठ—(सं.पु.) शीशी का काग, गेंहूँ का डंठल।
  3659. डाढ—(सं.पु.) गलफड़े के अंतिम मसूढ़े, जबड़े की माँसपेशी।
  3660. डाढा—(सं.पु.) सब्जी बनाने हेतु प्रयुक्त तेल-मशाला, कुँए के अंदर पावदान, दीवाल में छोड़ी गई चौड़ाईनुमा खंधा।
  3661. डाढीजार—(सं.पु.) एक मनोविनोदी नारियों द्वारा दी जाने वाली गाली।
  3662. डाँड़ा—(सं.पु.) औजार का मूठ, करछुल का पृष्ठ भाग। डाँँँ
  3663. ड़—(सं.पु.) हरजाना, जुर्माना, नुकसानी, घाटा। डाँड़
  3664. बाँध—(ब.मु.) जुर्माने के रूप में दण्ड, कार्य करने के लिए विवश करना।
  3665. डाँड़ी—(सं.स्त्री.) तराजू, तराजू में लगी डंडी, एक लाइन, ककरीली भूमि।
  3666. डाबर—(अव्य) दबे पाँव चलने की शैली, चुपके-चुपके आना-जाना।
  3667. डामर—(सं.स्त्री.) डामरि।
  3668. डार—(सं.स्त्री.) डाली, पौधों की शाखाएँ, वंश की उपशाखाएँ।
  3669. डारा—(सं.पु.) दो खम्भों में रखी लम्बवत लकड़ी या रस्सी।
  3670. डारब—(क्रि.) डालना, घुसेड़ना, प्रवेश कराना, क्षिद्र में घुसेड़ना।
  3671. डाला—(सं.पु.) ट्रक, भार वाहक, किसी गाँव का नाम।
  3672. डाह—(सं.पु.) पाने की इच्छा, पाने का लोभ, लालसा व लालच।
  3673. डाहिल—(विशे.) प्रगतिशील, वृद्वि योग्य, होनहार। डि
  3674. डिगिलिया—(सं.स्त्री.) गुड़ या नमक की डली, एक ठोस टुकड़ी, मिट्टी की डली।
  3675. डिग्गी डोला—(क्रि.वि.) एक व्यक्ति द्वारा सिर व दूसरे द्वारा पांँव पकड़कर चलने की शैली, दो आदमी द्वारा उठाकर चलने की विधि।
  3676. डिठमन—(सं.पु.) जेठ मास की एकादशी का एकव्रत वाला त्यौहार।
  3677. डिठिआर—(सं.पु.) जिसकी आँखों में अभी सब कुछ दिखता हो, मजबूत आंँखों वाला।
  3678. डिठउरी—(सं.स्त्री.) छोटा सा डिठौना, डीठ से बचने हेतु एक टोटका।
  3679. डिठिआउब—(क्रि.) देखकर नजर लगा देना, डीठ लगा देना।
  3680. डिठोन—(सं.पु.) जेठ मास की एकादशी तिथि को मनाया जाने वाला हिन्दू त्यौहार।
  3681. डिढ—(विशे.) मजबूत व पुष्ट, हृष्ट-पुष्ट, धनवान।
  3682. डिढके—(विशे.) मजबूती के साथ, खूब जोर से, जमकर, पर्याप्त।
  3683. डिढान—(विशे.) दानों की परिपक्वता, सख्त एवं पुष्ट दाने से युक्त।
  3684. डिढबाउब—(क्रि.) पुष्ट एवं परिपक्व करवाना व कराना।
  3685. डिढबइया—(सं.पु.) फल या दानों को पुष्ट व परिपक्व करवाने वाला।
  3686. डिब्बा—(सं.पु.) पानी व अनाज नापने रखने का टीन का पात्र।
  3687. डिबिया—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का काजल व सिन्दूर रखने का पात्र।
  3688. डिमारी—(सं.स्त्री.) डिमार या दीमक।
  3689. डिमरिआन—(विशे.) दीमक का खाया हुआ, दीमक लगी हुई वस्तु।
  3690. डिल्ल—(सं.स्त्री.) बैल के मध्यभाग में उठा माँस का गोला।
  3691. डिलिया—(सं.स्त्री.) नमक गुड़ या मिट्टी की एक डली या टुकड़ी।
  3692. डिलहा—(विशे.) खुदाई या कशीदादार किवाड़ा, ढीले से युक्त खेत।
  3693. डिल्लारिया—(विशे.) बड़े-बड़े डिल्लों वाला बैल विशेष।
  3694. डिलार—(सं.पु.) जोता हुआ खेत, जिस खेत में डीले ही डीले हों।
  3695. डिलरहा—(सं.पु.) मिट्टी के ढेलों से परिपूर्ण खेत।
  3696. डिलिआउब—(क्रि.) खेतों के डीले संचित करना, मिट्टी के ढेलों से प्रहार करना।
  3697. डिहुला—(सं.पु.) मोटी एवं काले छिलके वाली एक धान की किस्म। डी
  3698. डीठ—(सं.स्त्री.) नजर, आशंका का रोग, टोना-जादू।
  3699. डीमी—(सं.स्त्री.) दीमक, दिमाक के कीड़े।
  3700. डीला—(सं.पु.) मिट्टी के टुकड़े, ढेला।
  3701. डीलि—(सं.स्त्री.) शारीरिक ढाँचा, शारीरिक बनावट, नाक-नक्श।
  3702. डीह—(सं.स्त्री.) पुराने घर की जगह, गॉंव का देवता, गोत्र जाति का परिचय। डु
  3703. डुग्गी—(सं.स्त्री.) छोटे आकार की नगड़िया, मुनादी या सूचना।
  3704. डुराब—(क्रि.) हिल-डुल जाना, सत्य से चूक जाना, प्रण टूट जाना।
  3705. डुगाउब—(क्रि.) हिला-डुला देना, हिलाना, ध्यान भंग कर देना।
  3706. डुगबइया—(सं.पु.) ध्यान भंग करने वाला, डुलाने वाला।
  3707. डुगुर डुगुर—(अव्य) शरीर डुलाते हुए चलना, ठंड की कंपकपी से शरीर हिलना।
  3708. डॅुंठहा—(सं.पु.) बिना पत्ती का ठूंठ वृक्ष, डुठुरी युक्त अनाज।
  3709. डॅुंठबा—(सं.पु.) एक हाथ से विकलांग व्यक्ति, सींग टूटा बैल।
  3710. डुठुरू—(सं.पु.) अप्रस्फुटित चबेना के दाने।
  3711. डुड़बा—(विशे.) टूटी सींग का पशु, बिना पत्ते शाखा का वृक्ष, काठ का मोटा सा टुकड़ा।
  3712. डुड़बइठा—(सं.पु.) मर जाने की अशुभ कामना वाली एक गाली, स्त्री.लिंग डुड़बइठी।
  3713. डुबाउब—(क्रि.) डुबाना, पानी में पूरी वस्तु को डालना।
  3714. डुबाब—(क्रि.) डूब जाना, पानी के अन्दर समा जाना।
  3715. डुबकँइया—(अव्य) डुबकी लगाते हुए जल में गतिमान होने की शैली।
  3716. डुबकी—(सं.स्त्री.) गोता लगाना, पानी में डूबना और फिर उतराना।
  3717. डुहकइया—(विशे.) अविरल अश्रुधार, अश्रुधार युक्त रूदन की शैली। डुहुक- डुहुक कर रोना, बघेली मुहावरा।
  3718. डुहुराब—(क्रि.) किसी की ओर जाने का मन बनाना, धीरे-धीरे पहुँचना। डू ू
  3719. डॅूठा—(सं.पु.) पत्ते विहीन, ठूँठ, जड़ से लगा छोटा तना।
  3720. डॅूंड़ा—(सं.पु.) मोटी लकड़ी का टुकड़ा, जिसकी सींग टूटकर छोटी हो (विशेष)
  3721. डूड़ी—(विश.) बिना सींग की गाय या भैंस, छोटी सींग वाली। डे
  3722. डेउढा—(विशे.) डेढ़ गुना अधिक, एक सही एक बटे दो की मात्रा।
  3723. डेचकी—(सं.स्त्री.) एल्यूमोनियम का छोटा सा पात्र, पुलिंग ’डेचका’।
  3724. डेढहथा—(विशे.) डेढ़ हाथ की लम्बी लाठी, जिसके डेढ़ हाथ ही हो।
  3725. डेड़हा—(सं.पु.) सर्प की एक प्रजाति।
  3726. डेबर—(सं.पु.) लिखने-पढ़ने में जिसका बांया हाथ चलता हो, बांया हाथ।
  3727. डेबरहा—(सं.पु.) बायें हाथ से लिखने व खाने वाला व्यक्ति।
  3728. डेबा—(सं.पु.) बांया हाथ।
  3729. डेरइया—(सं.स्त्री.) डाली, वृक्ष की शाखायें व उपशाखायें।
  3730. डेलार—(सं.पु.) जुता हुआ खेत, जिस खेत में मिट्टी के ढीले हों।
  3731. डेलहा—(सं.पु.) ऐसा खेत जो मिट्टी के ढीले से संतृप्त हो।
  3732. डेला—(सं.पु.) मिट्टी की डली, मिट्टी के टुकड़े।
  3733. डेलहरा—(सं.पु.) जिस खेत में बड़े-बड़े मिट्टी के डेले ही डेले हों।
  3734. डेली—(सं.स्त्री.) मिट्टी की डली, पुलिंग डेला।
  3735. डेहरी—(सं.स्त्री.) देहली, द्वार का निचला हिस्सा।
  3736. डेहरउटा—(सं.पु.) द्वार के बाहर ओरमानी के नीचे बने पतले चबूतरे।
  3737. डेहिरिआउब—(क्रि.) देहली को गोबर से पुताई- लिपाई करना। डो
  3738. डोकलइया—(सं.स्त्री.) नारियल की खोपड़ी, खोपड़ी का कटोरानुमा आधा भाग।
  3739. डोकिया—(सं.स्त्री.) नारियल की क्षिद्रनुमा आधी झुकावदार खोपड़ी।
  3740. डोकरी—(सं.स्त्री.) बूढ़ी नारी, बुढ़ापे से झुकी हुई बुढ़िया।
  3741. डोकरिया—(सं.स्त्री.) जो बुढ्ढी होकर एकदम झुक गई हो ऐसी नारी।
  3742. डोकरा—(सं.पु.) बुढ्ढा व्यक्ति, झुकी कमर का वृद्व आदमी।
  3743. डोंगा—(सं.पु.) महुए का तरोताजा फूल, देशी काठ की नाव।
  3744. डोंगरिया—(सं.स्त्री.) छोटी पहाड़ी, झाड़ियों व पत्थरों से आच्छादित टीला।
  3745. डोंगरा—(सं.पु.) बड़े आकार का पहाड़।
  3746. डोंड़ा—(सं.पु.) इलायची की भाँंति मशाला, फल की गुठुली।
  3747. डोंड़ी—(सं.स्त्री.) छोटी-सी नाव, फल की गुठुली।
  3748. डोभी—(सं.स्त्री.) रबी की फसल में उगने वाली एक घास विशेष।
  3749. डोभ—(क्रि.वि.) दो क्षिद्रों के बीच का सुई का धागा, सुई की सिलाई।
  3750. डोभरी—(सं.स्त्री.) उबाला गया महुआ, महुए का ग्राम्य व्यंजन।
  3751. डोमार—(सं.पु.) डोम की एक प्रजाति।
  3752. डोमार पर डोमार परै—(ब.मु.) डोम पड़ जाये के आशय की गाली व बघेली मुहावरा।
  3753. डोरा—(सं.पु.) धागा, सूत, संरचना।
  3754. डोरिया—(सं.स्त्री.) नारी केश बाँधने वाला रेशे का धागा विशेष।
  3755. डोरिआउब—(क्रि.) लम्बी रस्सी से पशु को बाँधना, पीछे-पीछे लिये रहना।
  3756. डोरी—(सं.स्त्री.) डोर, रस्सी, महुए का फल- बीज, अटकी हुई श्वांस।
  3757. डोर—(सं.स्त्री.) पतंग की रस्सी या धागा, लम्बी पंक्ति।
  3758. डोल—(सं.स्त्री.) झूला या झाँकी, गोले आकार की बाल्टी, भू डोल।
  3759. डोलची—(सं.स्त्री.) प्लास्टिक की डलिया, पानी भरने की चौड़ी बाल्टी।
  3760. डोलडाल—(अव्य) टट्टी मैदान के लिए संकेत, नित्य क्र्रिया।
  3761. डोलब—(क्रि.) हिलना-डुलना, डगमगाना, एक स्थान से हटना।
  3762. डोलाउब—(क्रि.) हिलाना-डुलाना, इधर-उधर करना।
  3763. डोलबइया—(सं.पु.) हिलाने वाला व्यक्ति, डुगाने व धक्का देने वाला।
  3764. डोला—(सं.पु.) पालकी, आदमी को ढोने वाला विशेष चारपाई नुमा पात्र।
  3765. डोलहा—(सं.पु.) पालकी या डोली उठाने वाले कहार।
  3766. डोलिया—(सं.स्त्री.) खेत की छोटी क्यारियाँ, छोटे आकार की डोली।
  3767. डोहर—(विशे.) हल्की-हल्की तरल पदार्थ की गर्म स्थिति, कुनकुना पानी यादूध।
  3768. डोहरिआन—(विशे.) नाम मात्र का गर्म हुआ दूध व पानी, कुनकुना।
  3769. ढकब—(क्रि.) ढकना, मूंँदना, छिपाना, ढक लेना व ढक देना।
  3770. ढकबाउब—(क्रि.) किसी से ढकवाना, चारों ओर से छुपाना।
  3771. ढकबइया—(सं.पु.) ढकने वाला, मूँदने या छिपाने वाला व्यक्ति।
  3772. ढका मुदा—(ब.मु.) बनी हुई इज्जत, बना बनाया सम्मान।
  3773. ढँखिया—(सं.स्त्री.) टहनियों युक्त सूखी झाड़ी, जो लताओं के लिपटने हेतु लगाई गई हो।
  3774. ढट्ठा—(सं.पु.) कान तक बँधी कपड़े की पट्टी, मुरेठा, स्त्री.लिंग ’ढट्ठी’।
  3775. ढठाब—(क्रि.) निर्भीक हो जाना, आदती बन जाना, घासामीसी होना।
  3776. ढठाउब—(क्रि.) किसी को हथकड़ी लगवाकर बंद करवाना।
  3777. ढनगब—(क्रि.) लुढ़क जाना, लुढ़क-लुढ़क कर बढ़ना, मृत्यु हो जाना।
  3778. ढनगाउब—(क्रि.) किसी को लुढ़काना, मार डालना, अनभल मनाना।
  3779. ढनगइया—(सं.पु.) लुढ़काने वाला व्यक्ति, हत्यारा व्यक्ति।
  3780. ढनढनाब—(क्रि.) वस्तु का लुढककर आगे पहुँच जाना, लुढ़कना।
  3781. ढपूसा—(सं.पु.) उलाहना, असंतोष ज्ञापन, बुरा-भला कथन।
  3782. ढपोरसंख—(ब.मु.) बिना मतलब का बयान करते रहने वाला, झूठी एवं बड़ी-बड़ी घोषणाएँ करने वाला।
  3783. ढपुरा—(सं.पु.) पत्तल के डंठल का ढेप।
  3784. ढपरा—(सं.पु.) खली का टुकड़ा, सूखी रोटी के लिए प्रतीक।
  3785. ढमढमउहन—(विशे.) ढमाढम बाजे-गाजे के साथ कार्य की सम्पन्नता।
  3786. ढमढमाउब—(क्रि.) बाजा बजवाना, उत्सव मनाना, खुशी जाहिर करना।
  3787. ढमढमाब—(क्रि.) ढमढम की आवाज होना, बाजे का बजना।
  3788. ढमढबइया—(सं.पु.) उत्सव मनवाने वाला, ढमाढम बजाने वाला।
  3789. ढरका—(सं.पु.) आँख के आँसू, आँख से पानी बहने वाला रोग।
  3790. ढरकब—(क्रि.) गिर जाना, लुढ़क जाना, शनैः-शनैः आगे बढ़ना, किसी के घर आने-जाने लगना।
  3791. ढरकाउब—(क्रि.) तरल पदार्थ गिराकर बहा देना, पानी से भरा पात्र लुढ़काना। ढरीमा (विशे.) ढलाई किया हुआ आभूषण, कलात्मक गहना।
  3792. ढरबाउब—(क्रि.) साँचे में ढलवाना, गढ़वाना, खुदाईनुमा गहना बनवाना।
  3793. ढरबइया—(सं.पु.) ढालने वाला, खुदाई करके आभूषण बनाने वाला।
  3794. ढरकुलिया—(सं.स्त्री.) नारियों के कान का पुराने चाल का गहना।
  3795. ढर्रा—(सं.पु.) चौड़ा रास्ता, गाँव की गैल, सड़क, तौर तरीका।
  3796. ढलब—(क्रि.) अस्त होना, वातावरण के साथ घुल-मिल जाना, ढल जाना।
  3797. ढलबाउब—(क्रि.) किसी को परिस्थिति के अनुरूप मोड़ लेना।
  3798. ढहब—(क्रि.) धराशायी होना, गिर जाना, गिरकर भूमिगत होना।
  3799. ढहाउब—(क्रि.) खड़ी दीवाल या पेड़ को गिरा देना।
  3800. ढहाब—(क्रि.) पेड़ या दीवाल का अपने आप गिर जाना। ढा
  3801. ढाँकब—(क्रि.) ढकना, चारों ओर से छिपाना, ढक देना, छिपा लेना।
  3802. ढाँखा—(सं.पु.) लताओं के लिपटने के लिए प्रयुक्त शुष्क झाड़ी।
  3803. ढाँगी—(विशे.) काफी लम्बी नारी, ऊबड़-खाबड़ चेहरे वाली।
  3804. ढाठर—(सं.पु.) पेट के प्रकोष्ठ, पेट के दोनों कोठे।
  3805. ढाठी—(सं.स्त्री.) आदत पड़ जाना, अभ्यस्त हो जाना, आदत में परणित होना।
  3806. ढाठब—(क्रि.) ताले के अन्दर बंद कर देना, संभोग क्रिया करना।
  3807. ढाढस—(सं.पु.) धैर्य, साहस, हिम्मत, दृढता, सान्त्वना।
  3808. ढारब—(क्रि.) ढाल देना, किसी के ऊपर मढ देना, अपना दोष दूसरे पर थोपना, देवता को जल चढ़ाना, अशगुन मनाना।
  3809. ढालब—(क्रि.) ढालना, गढ़ना, ढलाई करना।
  3810. ढालू—(विशे.) ढालनुमा स्थिति, ऊँचाई के बाद उतारनुमा जमीन। ढि
  3811. ढिकुरब—(क्रि.) वृद्व होकर आगे की ओर झुक जाना।
  3812. ढिकुरी—(सं.स्त्री.) ढीकुर।
  3813. िंढग ढोरा—(विशे.) नग्न वदन, वस्त्र रहित, नंग-धड़ंग।
  3814. िंढग्ग—(सं.स्त्री.) किनारी, धोती की बाट, कलात्मक लिपाई-पुताई।
  3815. ढिंगही—(सं.स्त्री.) किनारीदार, सस्ती एवं मोटी सादी धोती।
  3816. ढिगिआउब—(क्रि.) चित्रकारी युक्त कच्चे फर्श की लिपाई-पुताई करना।
  3817. ढिठाब—(क्रि.) धीरे-धीरे आदत पड़ जाना, निर्भीक बन जाना, मुँह लगा बन जाना।
  3818. ढिमनिया—(सं.स्त्री.) कहार की पत्नी, कहारिन।
  3819. ढिमर ढिमरा—(सं.पु.) ढीमर या कहार, स्त्री.लिंग ’ढिमरिन’।
  3820. ढिमरहाई—(सं.पु.) कहारों द्वारा गाया जाने वाला विशेष लोकगीत।
  3821. ढिलरब—(क्रि.) खूँटे से छूटना, बाहर निकलना, बंधन मुक्त होना।
  3822. ढिलबइया—(सं.पु.) घर के अन्दर से मवेशी को बाहर निकालने वाला।
  3823. ढिलहर—(विशे.) अति ढीला-ढाला नाप का धारित वस्त्र।
  3824. ढिलर मिलर—(अव्य) अव्यवस्थित एवं अनिश्चततापूर्ण।
  3825. ढिलपोक्का—(विशे.) एकदम से ढीला बिना नाप का, लुंज-पुंज एवं सुस्त प्रवृत्ति, स्त्री.लिंग, ’ढिलपोक्की’। ढी
  3826. ढीठ—(विशे.) हिम्मती, साहसी, निर्भीक, घुला-मिला, संकोच रहित।
  3827. ढीसा—(सं.पु.) गुड़ का बड़ा सा ढेला या टुकड़ा।
  3828. ढीलब—(क्रि.) खूँटे से मवेशी छुटकाना, क्यारी में पानी लगाना।
  3829. ढील ढाल—(अव्य) सुस्त एवं लापरवाह, जबावदारीहीन, जो तटस्थ न हो ऐसी प्रवृत्ति।
  3830. ढुकब—(क्रि.) लालचवश किसी के द्वार पर बैठे रहना।
  3831. ढुकइया—(सं.पु.) पराये द्वार पर प्रायः अड़े रहने वाला।
  3832. ढुकबू—(क्रि.) द्वार पर अड़ी रहोगी, मेरे मुख ताकोगी।
  3833. ढुढबाउब—(क्रि.) किसी से चीज खोजवाना, गुम का पता लगाना।
  3834. ढुढिया—(क्रि.वि.) झारा तलाशी, घर को छान डालना, खोजबीन।
  3835. ढुढिआउब—(क्रि.) घर के सामान की एक तरफ से खोजबीन करना।
  3836. ढुनढुनाब—(क्रि.) लुढ़कते हुए जमीन पर अग्रसर होना, फूल की ढुनढुनी लगना।
  3837. ढुनढुनाउब—(क्रि.) वस्तु को लुढकाना, लुढकाते हुए आगे बढ़ा देना।
  3838. ढुनढुनइया—(सं.पु.) लुढ़काते हुए वस्तु को अग्रसर करने वाला व्यक्ति।
  3839. ढुनढुनी—(सं.स्त्री.) फूल की कली, अविकसित पुष्प।
  3840. ढुनढुनियाब—(क्रि.) फूल में ढुनढुनी का लगना।
  3841. ढुरब—(क्रि.) मन मिलने लगना, मेल मिलाप होने लगना, आना-जाना होना।
  3842. ढुरकब—(क्रि.) धीरे-धीरे बढ़ना, दबे पाँव आना, चालू करना, राह गहना।
  3843. ढुरकइया—(सं.पु.) धीरे-धीरे चलते रहने वाला, आना-जाना, चालू करने वाला। ढू
  3844. ढूकब—(क्रि.) ललचायी आँख से किसी को देखना, एकटक घूरकर देखना।
  3845. ढूढब—(क्रि.) खोजना, गुम का पता लगाना, अन्वेषण करना। ढूँँ
  3846. ूँढी—(सं.स्त्री.) प्रजनन पश्चात् नारियों को दिया जाने वाला घी-गुड़ का लड्डू। ढे
  3847. ढेक—(सं.पु.) जलाशय में रहने वाला बड़ी टांग का एक पक्षी विशेष।
  3848. ढेकुर—(सं.पु.) ढीकुर, ढीकुर सा लम्बा व्यक्ति।
  3849. ढेख—(सं.पु.) लम्बी टाँगों वाला आदमी, एक पक्षी का नाम।
  3850. ढेचकब—(क्रि.) लंगड़ाते हुए चलना, असमान्य चलने की चाल।
  3851. ढेढा—(सं.पु.) आँख की पुतली सहित सम्पूर्ण प्रक्षेत्र।
  3852. ढेपरा—(सं.पु.) खली का बडा सा टुकड़ा, खली जैसा खुरदुरा पाँव।
  3853. ढेपरी—(सं.स्त्री.) खली की टुकड़ी, पत्ते का डंठल।
  3854. ढेप्पी—(सं.स्त्री.) शीशी का काग, शीशी का ढक्कन।
  3855. ढेपुनी—(सं.स्त्री.) पेन का ढक्कन, पत्ता का डंठल का जुड़ाव बिन्दु।
  3856. ढेबरी—(सं.स्त्री.) पत्ते के डंठल का वह बिन्दु जो डाली से संलग्न रहता है।
  3857. ढेर—(सं.पु.) विलम्ब या देर, वस्तुओं की राशि, टाल-मटोल।
  3858. ढेरिया—(सं.स्त्री.) औरतें, लडकियाँ या युवतियाँ।
  3859. ढेरा—(सं.पु.) रस्सी कातने वाला काष्ठ का प्लस आकार का एक उपकरण।
  3860. ढेला—(सं.पु.) गुड़ का डिगला, मिट्टी का ढेला।
  3861. ढेलहा—(सं.पु.) ढेले से युक्त खेत, जो खेत जुता हो।
  3862. ढेलहाब—(क्रि.वि.) ढेलों से प्रहार करके मारपीट करना। ढो
  3863. ढोउब—(क्रि.) ढोना, ढुलाई करना, भारा लादकर पहुँचाना।
  3864. ढोकब—(क्रि.) पानी पीना, गड़गड़ करके पानी पीना।
  3865. ढोकास—(सं.पु.) प्यास, अधिक प्यास की इच्छा।
  3866. ढोकबाउब—(क्रि.) गट्गट् पानी पिलवाना, मन पसार पिवाना।
  3867. ढोकबइया—(सं.पु.) पानी-पीने वाला, जमकर पीने वाला।
  3868. ढोक ढोका—(सं.पु.) गढे़ हुए चौकोर पत्थर, बड़े-बड़े पत्थर।
  3869. ढोकहुर—(विशे.) बहुत बड़ा, प्रतिष्ठित, भारी भरकम।
  3870. ढोग—(सं.पु.) बहाने बाजी, दिखावा, नाटक करना।
  3871. ढोगी—(सं.पु.) नाटकबाज, बहाना बनाने वाला, दिखावा करने वाला।
  3872. ढोढा—(सं.पु.) गला या गर्दन, बड़ा सा नाला, जमीन का लम्बा गढ्ढा।
  3873. ढोढक—(सं.पु.) बहाना बनाना, नाटक करना, कृत्रिम प्रदर्शन, दिखावा।
  3874. ढोढबा—(सं.पु.) बरसाती नाला, ऊबड़- खाबड़ गहरे कन्दरा, गला या गर्दन।
  3875. ढोढ—(सं.पु.) खेतों का कंदरा, जमीन पर छोटे नाले।
  3876. ढोबाई—(सं.स्त्री.) ढुलाई, ढुलाई का पारिश्रमिक, ढोने की मजदूरी।
  3877. ढोबाउब—(क्रि.) भारा ढुलवाना, ढोने का कार्य कराना, ढुलाई में सहभागिता करना।
  3878. ढोबइया—(सं.पु.) ढोने वाला, भारा उठाने वाला।
  3879. ढोबा—(क्रि.) ढुलाई करो, ढुलाई कीजिए, दूसरे के घर से बनाया हुआ खाना लाना।
  3880. ढोबरब—(क्रि.) ढुलाई होना, ढुल जाना।
  3881. ढोलबा—(सं.पु.) बाँस का बना ढोला, स्त्री.लिंग ’ढोलिया’।
  3882. ढोलकी—(सं.स्त्री.) ढोलक, छोटे आकार का ढोल।
  3883. ढोलिया—(सं.पु.) बाँस की बनी छोटे आकार का ढोला।
  3884. ढोलकिहा—(सं.पु.) ढोल बजाने वाला, जो ढोलक बजाने में प्रवीण हो।
  3885. ढोर—(सं.पु.) पशु, जानवर, मवेशी।
  3886. ढोरिअऊँ-- (विशे.) जानवर की तरह, पशुवत व्यवहार का होना।
  3887. ढोरहा—(सं.पु.) मवेशी चराने वाले लोग, पशु का रखवाला।
  3888. ढोरब—(क्रि.) क्यारी में पानी देना, नाली द्वारा खेत में पानी पहुँचाना।
  3889. ढोसब—(क्रि.) धक्का देना, धक्का मारकर गिराना, ठेलना या अंदर करना।
  3890. ढोसरब—(क्रि.) धराशायी होना, लड़खड़ाकर गिरना, किसी पर गिरना।
  3891. ढोसबाउब—(क्रि.) धक्का दिलवाना, धक्का देने में मदत करना।
  3892. ढोसिहौं—(क्रि.) धक्का लगाउँगा, धक्का लगाउँगी, धक्का दूँगी।
  3893. ढोसबइहौं—(क्रि.) धक्का देकर बढ़वाउँगी, मैथुन करवाउँगी।
  3894. ढोसबइया—(सं.पु.) धक्का लगाकर गतिमान करने वाला व्यक्ति। त
  3895. तइ—(सर्व.) तुम, तू बड़ों के अनादर सूचक छोटे के लिए स्नेह ।
  3896. तइगल—(विशे.) हिस्सा लेने में आगे हो जाने की प्रवृत्ति, लाभांश लेने में आगे।
  3897. तइसन—(अव्य) जैसा, उसी प्रकार, जिस प्रकार,पूर्वानुसार ।
  3898. तइँती—(सं.स्त्री.) ताबीज या डिठौना, एक प्रकार का आभूषण ।
  3899. तइनब—(क्रिया) अपने पक्ष में करना, अपनी ओर खींचना ।
  3900. तइनाउब—(क्रिया) अपनी ओर खिंचवाना, खींचने में सहयोग करना ।
  3901. तइसा—(अव्य) जैसा चाहो, जैसा कहो, जैसी इच्छा हो, जो उचित हो।
  3902. तऊ—(अव्य) फिर भी, उस पर भी, उतने पर भी, तो भी ।
  3903. तँऊ—(अव्य) जो, जैसा, जहाँ का तहाँ, यथा स्थान ।
  3904. तउने से—(अव्य)इसलिए, इस कारण से, किसी कार्य होने के कारण का कारक।
  3905. तउनि कि—(अव्य)इसलिए कि, इस कारण से, तो, एक तकिया कलाम शब्द।
  3906. तउलइया—(सं.पु.) तौलने वाला, मूल्यांकन व मापनकर्ता ।
  3907. तउलब—(क्रिया) वजन करना, नाप-जोख करना, तौलने की क्रिया।
  3908. तउलाउब—(क्रिया) तौलवाना, तौलने में सहयोग करना ।
  3909. तउआब—(क्रिया) ताव में आना, गर्म मिजाज का होना, जोश में आना।
  3910. तउलहा—(सं.पु.) आमंत्रित व्यक्ति को घर में भोजन न कराके उसके घर में भेजी गयी बिना पकी भोजन सामाग्री ।
  3911. तउना—(सं.पु.) मिटटी से अनाज रखने का पात्र का मुख बंद करना, निकास बंद करना, पूर्णतः बंद करना ।
  3912. तउहीनी—(सं. स्त्री.) बेइज्जती, अपमान, हँसी उड़ाना, कुबड़ाई करना ।
  3913. तकइया—(सं.पु.) ताकने वाला, चरवाहा, रखववाली करने वाला ।
  3914. तकथा—(सं.पु.) चौकोर, चारपाईनुमा काष्ठ का पात्र, तखता।
  3915. तकबारी—(क्रि.) देखभाल करने की क्रिया, रख-रखाव संबंधी कार्य ।
  3916. तकबाही—(सं. स्त्री.) देखभाल करने का दायित्वपूर्ण कार्य, किसी कार्य की जबावदेही ।
  3917. तकबाउब—(क्रिया) प्रतीक्षा करवाना, इंतजार कराना, देख-रेख करवाना ।
  3918. तकुआ—(सं.पु.) ताकने वाला, देखभाल करने वाला, चरवाहा।
  3919. तकबार—(सं.पु.) रखवाली करने वाला, देखभाल करने वाला चरवाहा।
  3920. तखरिया—(सं.स्त्री.) छोटे वनोपज को तौलने वाला तराजू, बाँस की लगी पलड़ी।
  3921. तंगिआन—(सं. स्त्री.) परेशान, बीमार, दुख- तकलीफ में अर्थात् अभाव में।
  3922. तंगइया—(सं.पु.) फटे-पुराने कपड़ों को हाथ की सुई से काम चलाऊ सिलने वाला, गद्दा-रजाई तागने वाला।
  3923. तँगिआब—(क्रिया) बीमार पड़ जाना, परेशान हो जाना, अस्वस्थ्य पड़ना।
  3924. तँगबाउब—(क्रिया) सिलवाना, धागे से गुंथवाना।
  3925. तजबीजब—(क्रिया) अंदाज करना, निरूपण करना, नाप-माप एवं वजन का अनुमान लगाना।
  3926. तड़बइया—(सं.पु.) ताड़ने वाला, बदमाशी पकड़ने वाला, चतुराई ताक लेने वाला, माप जाने वाला, समझ लेने वाला।
  3927. तड़इया—(सं.पु.) निगरानी व देख-रेख करने वाला व्यक्ति।
  3928. तड़ाउब—(क्रिया) देखने-ताकने का कार्य करवाना।
  3929. तड़ातड तड़ातड़—(क्रि.वि.) अविरल गति से लाठी या हाथ से पीटने का प्रतीक।
  3930. तड़तड़ाव—(क्रि.) आँख में आँसू भर आना, अविरल गति से आँख में आँसू का पदार्पण।
  3931. तड़के—(सं.पु.) भोर में, प्रातःकाल, सूर्योदय के पूर्व का समय।
  3932. तड़काव—(क्रि) तावबस उछलना, कूदना, आवेशित होकर चौकना, बिजली का चमकना, बादल की गर्जना ।
  3933. तड़ाका—(सं.पू.) भोर का प्रथम पहर, तमाचा, तमाचा की ध्वनि।
  3934. तड़ाक—(सं.पु.) तत्काल, गाल पर तमाचा मारने से उत्पन्न ध्वनि, बहुत जल्दी।
  3935. तडं़ग—(वि.) पूर्ण जवान एवं हृष्ट-पुष्ट व्यक्ति, पूर्ण परिपक्व बालक।
  3936. तड़काउब—(क्रि) तड़ाक से मार देना, जमा कर प्राप्त कर लेना।
  3937. तता ओठी—(अव्य) हल में संलग्न, बांया बैल तता, दांया बैल ओठी ।
  3938. तंत के तार—(सं.पु.) आवश्यकता के अनुरूप, पहले की नाप दूसरी के बराबर।
  3939. ततेरव—(क्रि) आँख दिखाना, जलती आग का लुआठा शरीर पर स्पर्श कराके जला देना, बिच्छू का डंक मार देना।
  3940. ततकारब—(क्रिया) हल के बांये बैल को बढ़ने के लिए प्रेरित करना।
  3941. तघड़—(वि.) तंदुरस्त, हृष्ट-पुष्ट, धनवान या संपन्नता की भावमयता।
  3942. तनइया—(सं.पु.) खींचने वाला, खींचातानी करने वाला।
  3943. तनतनाव—(क्रि.) कड़ा रूख अपनाना, खिंचाव की अनुमति, घाव या जख्म में चिलकन होना।
  3944. तनधन—(वि.) पूर्णरूपेण तना हुआ, बिलकुल सीधा शरीर, उभरा सीना ।
  3945. तनेन—(वि.) सावधान की स्थिति, पूर्णतः अकड़ा हुआ, सीना ताने हुए ।
  3946. तन्नाब—(क्रि.) लड़ने के लिए किसी का रूख दिखाई पड़ना, अकड़ना।
  3947. तनबाउब—(क्रि) नींव खोदवाना, आधारशिला रखवाना।
  3948. तनबइया—(सं.पु.) खींचने वाला, खिंचाई के कार्य में सहयोग करने वाला।
  3949. तनब—(क्रि) आधारशिला रखना, खिंचजाना, तन जाना।
  3950. तपइया—(सं.पु.) तापने वाला, संपत्ति बर्बाद करने वाला, आग तापने वाला।
  3951. तपक तउलिया—(बं.मु.) खुशमद, सीमा से अधिक सेवा भाव।
  3952. तपिस्सा—(सं.पु.) तपस्या, तप, कठोर साधना, भूख प्यास, कठिन परिश्रम।
  3953. तपाउव—(क्रि.) आग में आभूषण जलाकर खरे-खोटे का परीक्षण करना।
  3954. तबल मंजनी—(क्रि.) चौका बरतन करने का कार्य, बर्तन साफ करने का कार्य।
  3955. तबौ—(अव्य.) तो भी,तब भी, इतने पर भी, इसके बावजूद भी।
  3956. तबहूं—(अव्य.) रोकने के बाद भी, इसके पश्चात भी, तो भी इतने पर भी।
  3957. तबउ—(अव्य) तो भी, तो पर भी, इतने पर भी, उस पर भी।
  3958. तबहिनै—(अव्य) उसी समय, बीते समय में ।
  3959. तबहिन—(अव्य) उसी समय, उसी समय, तब।
  3960. तबला—(सं.पु.) चौड़े मुख का अल्मोनियम की बटलोई।
  3961. तषै—(अव्य.) तब के समय में, बीते समय में, पुराने जमाने में।
  3962. तबेलिया—(सं.स्त्री.) छोटे से अल्मोनियम का काँस की बटलोई।
  3963. तबाई—(क्रि) अनाज के बर्तन का निकासद्वार को मिटटी से बंद करने की क्रिया।
  3964. तबइया—(सं.पु.) फूटे बर्तन या बर्तन के छिद्र को बंद करने वाला व्यक्ति।
  3965. तबाउब—(क्रिया) बर्तन के छिद्र को पदार्थ से बंद करवाना ।
  3966. तमेरबा—(सं.पु.) धातु के बर्तन बनाने वाली एक प्रजाति, बर्तन बेचने वाले
  3967. तमूरा—(सं.पु.) गोले के आकार की लौकी के सूखे फल से निर्मित वाद्य यंत्र।
  3968. तम्मा—(विशे.) तांबे की तरह बालों वाला, जिसके अधिकांश बाल भूरे हों।
  3969. तम्मिआन—(विशे.) फल, फल का कुछ अंश कत्थई हो जाना, कड़ी धूप से आम का दागदार हो जाना ।
  3970. तमाब—(क्रिया.) भूरा रंग होना, फल का तांबे रंग का हो जाना।
  3971. तमोली—(सं.पु.) पान बेचने वाला, छोटे कद का आदमी।
  3972. तमखुलहा—(स.पु.) तंबाकू का सेवन करने वाले, तंबाकू रखने वाले ।
  3973. तमतभाव—(क्रि) किसी पर आवेशित होना, क्रोधित होकर लड़ने को तत्पर हो उठना, गुस्से से भर जाना ।
  3974. तमखुलिआब—(क्रि) तम्बाकू खाने की अमल की अनूभूति होना।
  3975. तमखुलहाई—(सं.पु.) तम्बाकू वाली, झोली तंबाकू की थैली।
  3976. तमाखुल—(सं.पु.) सुर्ती, तंबाकू, संज्ञावाची शब्द।
  3977. तमहाई—(सं.स्त्री.) तांबे की धातु से बनी हूई, ताम्रपात्र, दागयुक्त आम्रफल।
  3978. तमासगीर—(संपु.) खेल-तमाशा देखने वाले एकत्रित लोग।
  3979. तमकब—(क्रि.) तामस के कारण उछलना- कूदना, आवेशित होकर गुस्सा प्रदर्शित करना।
  3980. तमोलिन—(सं.स्त्री.) पान बेचने वाली, बरई की पत्नी।
  3981. तमान—(अव्य) हर जगह, सर्वत्र, प्रत्येक स्थान में।
  3982. तयहा—(संपु.) पशुओं को पानी पीने के लिए प्रेरक संकेत।
  3983. तँय—(सर्व) तुम, तू के पर्याय में, तुंकारी सुनिश्चित करना।
  3984. तरछी—(सं.स्त्री.) दही पात्र, मठा रखे जाने वाला मिटटी का पात्र, पुलिंग तरछा।
  3985. तरइना—(सं.पु.) आँख से भरे हुए अश्रु नीर, रोने से पूर्व दुखित आँख की दशा।
  3986. तरई—(सं.स्त्री.) तारागण, आँख के मध्य की काली पुतली।
  3987. तरक-मरक—(क्रि.वि.) चाल-ढाल क्रिया कलाप एवं गतिविधियाँ।
  3988. तरवा—(सं.पु.) तलवा, पैर के नीचे का भाग।
  3989. तरूआ—(सं.पु.) सिर का मध्य भाग, खोपड़ी, सिर।
  3990. तरबोरिया—(वि.) तलवे डूबने भर के लिए संचित जल की गहराई।
  3991. तरदब्बू—(वि.) जो दूसरे को पूर्ण दबाव में हो, प्रतिबंधित या एहसान से दबा हुआ, दूसरे के अधीन रहने वाला।
  3992. तरफदारी—(सं.पु.) पक्षपात करना, अंध समर्थन करना, किसी का पक्ष गहना।
  3993. तरी—(अ.) नीचे, निचला भाग, सब्जी या सिकार का मशालेदार रसा ।
  3994. तरपन—(क्रि.) विशिष्ट हवन पूजन या धर्म कर्म-के कार्य-गाय दान या गो पूजन।
  3995. तरउछी—(सं.स्त्री.) हल में चलने योग्य बनाने के लिए बैल के कंधे में रखे जाना वाला जुँए के विकल्प में काठा।
  3996. तर्रोई—(सं.स्त्री.) हरी धारीयुक्त एक फिट लंबी सब्जी का फल।
  3997. तरब—(क्रि) पार हो जाना, मुक्त हो जाना, मोक्ष मिलना, किसी वस्तु को तेल से तलना।
  3998. तरबइया—(सं.पु.) मुक्त कराने वाला, नाप- जोख करने वाला, सब्जी तलने वाला।
  3999. तरइली—(सं.स्त्री.) हल-जुँआ के छिद्र में नियंत्रण के लिए प्रयुक्त होने वाली लकड़ी की कील, नागदंती ।
  4000. तरबोर—(वि.) तलवे डूबने भर के लिए संचित जल।
  4001. तरेठ—(सं.पु.) कमर के नीचे का भाग- नाभि के नीचे का उठा हुआ प्रक्षेत्र।
  4002. तरकी—(सं.स्त्री.) लाख की बनी चूड़ी, मोटी चूड़ी जो कलाई में रहती है।
  4003. तरसइया—(सं.पु.) तरसने वाला, ललचाने वाला।
  4004. तरसब—(क्रि) ललचाते रहना, ललचायी मनःस्थिति, लालायित रहना ।
  4005. तरसाइब—(क्रि) ललचाना, प्रलोभन देकर पिपाशा प्रबल करना।
  4006. तर ऊपर—(वि) एक दूसरे के कद, एक बर्तन पर दूसरा बर्तन रखना।
  4007. तरहंगा—(सं.पु.) कमर से नीचे धारित वस्त्र, सबसे नीचे की वस्तु।
  4008. तरिहौ—(कि.मवि.) नापूँगा, नाप करूँगा, नाप-जोख करूँगी, पहनकर देंखेगें।
  4009. तरवेय—(कि.वि.) तारोगे, नाप जोख करोगे, नाप लोगे।
  4010. तल्ले-मल्ले—(ब.मु.) भरपूर, जीभर उपयोग, मौज-मस्ती के साथ पर्याप्तता।
  4011. तलातल्ला—(वि.) पर्याप्त मात्रा में तरल, भरपूर गीला होना।
  4012. तलबा—(सं.पु.) तड़ा जलाशय, तालाब ।
  4013. तल्ली—(सं.स्त्री.) छोटी सी कील,नाक या कान में पहने जाने के आभूषण में लगने वाली कील।
  4014. तलसवइया—(सं.पु.) खोजबीन करने वाला, अन्वेषणकर्ता।
  4015. तलासब—(क्रिया) तलाश करना,खोजबीन करना।
  4016. तलसबाउब—(क्रि.) खोजवाना, अन्वेषण करवाना, खोजने में सहयोग करना।
  4017. तल्हे—(अ.) तब तक, जब तक, निर्धारित समय के पूर्व, जबलौ।
  4018. तलइया—(सं.स्त्री.) पुष्कर, छोटे आकार का तालाब, तालाबनुमा खेत ।
  4019. तल्हे—(अ.) तब तक, तबलौ ।
  4020. तलघे—(अ.) तब तक, तबलौ, जब तक, अमुक समय तक, अवधि।
  4021. तल्लाब—(क्रि) तरल पदार्थ का बहाना, किसी बर्तन से तरल वस्तु का गिरना, धारनुमा शैली में बर्तन से पानी गिरकर बहना।
  4022. तलतलउअन—(वि.) जलामयी सघन, पूर्णरूपेण भरा हुआ।
  4023. तल्ला—(सं.पु.) पीछा, गहना, देखभाल या निगरानी करना, चर्चा, चिंता जूते के तल का टुकड़ा।
  4024. तलफा—(सं.पु.) चाय की भाँति, पानी एवं दूध में हल्दी गुड़ नमक डालकर काढ़ा।
  4025. तलफब—(कि.) तड़फड़ाना, बेदना से बेचैन होना, जीभ निकालकर लंबी सांस लेना।
  4026. तसलिया—(सं.स्त्री.) पीतल या अल्मोनियम की बनी बटलोई ।
  4027. तसला—(संपु.) अल्मोनियम या पीतल का चौड़े मुखवाला बर्तन।
  4028. तहां—(अन्य) जहां, जिस स्थान में ।
  4029. तहिना—(वि) जब, जहाँ, जैसे ही अर्थ में प्रयुक्त होने वाला शब्द ।
  4030. तहस-नहस—(वि) सत्यानाश कर डालना, नष्ट-भ्रष्ट, तितर-बितर कर
  4031. तहूंँ-- (सर्व) तू भी, तुम भी ।
  4032. तहिआउब—(क्रि) तह लगाना, परत मोड़कर, सुरक्षित रखने की क्रिया ।
  4033. तहबइया—(सं.पु.) तह लगाकर सुरक्षित रखने वाला व्यक्ति । ता
  4034. ता—(योजक) तो क्या जैसे ’ ता का करी’ अर्थात् तो क्या करें ।
  4035. ताई—(सं.स्त्री.) शरीर पर चोट या मार का नीला दाग, कष्ट सूचक चिन्ह
  4036. ताउब—(क्रि) बंद करना, मुख या छिद्र बंद करना।
  4037. ताकब—(क्रि) रखवाली करना, देखभाल करना, रख रखाव-करना ।
  4038. ताका तूकी—(अ.) एक दूसरे की कमी को देखना, झांक-ताक, करने की प्रवृत्ति, ईर्ष्या युक्त निगरानी।
  4039. ताके-ताके—(अव्य.) राह देखते, इंतजार करते- करते।
  4040. ताकी—(क्रि) क्या देखते रहें? क्या देखभाल करें ? प्रतीक्षा करें।
  4041. तागपार—(सं.पु.) विवाह के समय कन्या की कलाई में बांधा जाने वाला शुभ संकेत युक्त एक धागा विशेष ।
  4042. तागब—(क्रि) विरल कार्य करना, विरल धागे से कपड़े की सिलाई ।
  4043. ताड़व—(कि.वि.) किसी का पता लगाने के लिए छुपकर देखना, नजर गड़ाकर देखते रहना,पूर्णरूपेण परखकर समझना।
  4044. तात—(वि.) तारोताजा, एकदम गर्म, ताप गुणवत्ता से युक्त स्थिति ।
  4045. तांँत—(सं.पु.) पशुओं की माँसपेशी का तारनुमा धागा।
  4046. तॅांतसाही—(विश्े.) अत्यंत दुबला-पतला, अति कमजोर धागे जैसा।
  4047. ताना तूनी—(अ.) एक राय का न होना, अपनी- अपनी ओर खींचना।
  4048. ताना—(सं.पु.) वक्रोक्ति, व्यंग्यात्मक उद्बोधन, व्यंग्य कसना या मारना
  4049. तानव—(क्रि) अपनी ओर खींचना, लंबी अवधि बढ़ाना, खींचातानी की क्रिया।
  4050. तापब—(क्रि) नष्ट करना, आग लगाकर जलाना।
  4051. तापुन—(अन्य) तो फिर, निशि्ंचतता बोधक तकिया कलाम।
  4052. तामझाम—(क्रि.वि. ) ऊपर से अधिक दिखावा, वाह्य आडंबर,कृत्रिम प्रदर्शन
  4053. ताम—(सं.पु.) ताम्र धातु या तांबे की वस्तु, तांबा धातु।
  4054. ताये—(वि) वशीभूत, किसी व्यक्ति के अधीनस्थ या आधिपत्य में होना।
  4055. तार बेउत—(सं.पु.) व्यवस्था बनाना, लाग- बाग बैठाना, सविधा व्यवस्था ।
  4056. तार-बार—(अन्य) घरेलू कारोबार, घरेलू स्थिति एवं परिस्थिति ।
  4057. तार तुम्मा—(अन्य) योजना के अनुरूप व्यवस्था, कार्य या आयोजन के पूर्व साधन जुटाना ।
  4058. तारब—(क्रि) पार करना, मोक्ष दे देना, पहलकर नापना-जोखना ।
  4059. तारी—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का ताला, दोनों हथेलियों से उत्पन्न ध्वनि, नाप जोख, क्या कर लूँ? पहनकर नापे।
  4060. तारा तूरी—(अ.) नाप लूँं जोख करने की क्रिया।
  4061. तारौं—(क्रि) नाप लूँ, पहनकरण देख लूँ, क्या नाप जोख कर लूँ, तार लूं।
  4062. तार—(सं.पु.) कारोबार, औकात, हिम्मत, घरेलू स्थिति, धन वैभव,कपड़े सिलने के लिए नाप, समय या व्यवस्था का होना।
  4063. तालेबर—(सं.पु.) धन-धान्य से पूर्व सम्पन्न व्यक्ति, ऐश्वर्यवान या पूंजीपति।
  4064. ताल मुकाम—(अ.) संगीत का सैद्धांतिक एवं व्यवहारिक ज्ञान।
  4065. ताली—(सं.स्त्री.) लय-धुन मात्रा पर आधारित संगीत गाने वाला, स्वर धुन।
  4066. तासा—(विशे.) प्यासा होना, प्यास लग जाना, पानी-पीने की इच्छा।
  4067. ताहम—(अन्य) उस पर भी, तो भी, इतने पर भी, इसके बावजूद भी।
  4068. ताहीं—(अन्य) तब तो, तो फिर तो । ति
  4069. तिआह—(वि) तीसरा विवाह, जिसका विवाह तीन बार हुआ हो।
  4070. तिउराइन—(सं.स्त्री.) तिवारी की पत्नी, तिवारी जाति की नारी के लिए आदरसूचक संबोधन।
  4071. तिकड़मी—(वि) जोड़-गाँठ करके अपना उल्लू सीधा करना।
  4072. तिक्की—(वि) तीन चिन्हों वाली तास की तीसरी पत्ती।
  4073. तिकड़म—(क्रि) दंद-फंद करना, अनाप- सनाप कार्य, बदमाशी एवं चतुराई।
  4074. तिकड़ी—(सं.स्त्री.) तीन लोगों का गुट, झूठी बात सजाकर बाधा डालना, लाग-बांग।
  4075. तिकोनियां—(वि) त्रिकोण, तीन कोने का ।
  4076. तिकोन—(वि) टेढ़ा-मेढ़ा तीन कोण से अच्छादित, तीन कोने का ।
  4077. तिकथी—(सं.स्त्री.) बनायी गई चिता पर संचित लकड़ी।
  4078. तिकोन्ना—(वि.) तीन कोना, तीन कोण से घिरा क्षेत्र, त्रिभुजाकार स्थिति
  4079. तिखरवइया—(सं.स्त्री.) बातों की पुष्टिकरण करने वाला व्यक्ति, जांचने परखने वाला तीसरा आदमी।
  4080. तिघरा—(वि) जस स्थान विशेष में इकट्ठे तीन घर बने हों।
  4081. तिजहाई—(वि.) तीजा के समय बनाया जाने वाला व्यंजन।
  4082. तिड़कव—(क्रि) नाराज होकर कूदना, आक्रोश वश इधर-उधर करना ।
  4083. तिड़िर-बिड़िर—(वि) अस्त-व्यस्त, छितराया हुआ, तितर-बितर।
  4084. तिडी मारव—(ब.मु.) बने बनाये कार्य को बिगाड़ देना, होने वाले कार्य को अपने बयान से रोकवा देना।
  4085. तितुरचरा—(वि)बालों की ऐसी असामान्य छंटाई जो छोटे बड़े-हों।
  4086. तिती—(सं.स्त्री.) बकरियों को बुलाने के लिए आवाज संकेत।
  4087. तितर वितर—(अ.) इधर-उधर होना, बिखर जाना, दूर-दूर होना, अव्यवस्थित होना।
  4088. तिताला—(सं.पु.) वाद्य, राग का एक ढंग व तर्ज, तीन ताल पर केन्द्रित गीत।
  4089. तिदनिया—(सं.स्त्री.) नारियों का एक आभूषण विशेष का नाम।
  4090. तिघिना—(अ.) उस दिन, जिस दिन, पूर्व समय की ओर संकेत ।
  4091. तिनहर—(सं.स्त्री.) घास-फूस छाया हुआ घर, तीन दीवालों वाला मकान।
  4092. तिन्नी—(सं.स्त्री.) साड़ी व धोती का वह भाग जो पर्तदार मोड़कर नाभि के नीचे कमर के सहारे व्यवस्थित किया जाता है।
  4093. तिनहूं—(विश्ेष) तीनों के तीनों लोग, तीनों आदमी ।
  4094. तिनपरवा—(अ.) डेढ़ मास या पैंतालिस दिन की अवधि, तीन पक्ष।
  4095. तिन्न-बिन्न—(अ.) तितर-बितर होना, मतभेद की स्थिति का उत्पन्न होना, इधर-उधर फैल जाना ।
  4096. तिनबाउब—(क्रि) खिंचवाना, खींचने में सहयोग करना।
  4097. तिनबइया—(सं.पु) भारा खींचने वाला, आकृष्टकर्ता।
  4098. तिनपतिया—(वि) तीन पत्तियों से खेला जाने वाला तास का खेल, तीन पत्ती वाली वनस्पति औषधि ।
  4099. तिनगव—(कि) आक्रोश के कारण आवेशित होना, नाराज होकर उछलना।
  4100. तिनगा—(सं.पु.) आग कि चिनगारी, अंगार का एक टुकड़ा।
  4101. तिगुनव—(क्रि) तीन गुना करना, तीन गुना बढ़ा लेना, एक का तीन करने की क्रिया, तीन बार बराबर-बराबर मोड़कर एक करना।
  4102. तिनगुड्डी—(सं.स्त्री.) एक प्रकार का चर्मकार का एक लोह यंत्र।
  4103. तिन्हा—(अ.) जिस दिन, जिस समय, उस दिन।
  4104. तिनपहरा—(वि.) तीन पहर का समय, काम ।
  4105. तिनहथी—(वि) तीन हाथ लंबी वस्तु, इसका पुलिंग तिनहथा।
  4106. तिनबुंदिया—(सं.पु.) तीन सफेद बिंदुओं वाले काले रंग का बरसाती कीड़ा।
  4107. तिनगी—(सं.स्त्री.) आग की छोटी सी चिनगारी।
  4108. तिनघरवा—(वि)तीन के बीच में अदल-बदल कर विवाह करना।
  4109. तिपबइया—(सं.पु.) तापयुक्त करने वाला, गर्म करने वाला व्यक्ति।
  4110. तिपउब—(क्रि) गर्म करना, तपाना, धातु की शुद्धता का परीक्षण करना ।
  4111. तिपबाउब—(क्रि) तापयुक्त करवाना, किसी से गर्म करवाना।
  4112. तिपइहों—(क्रि.वि) गर्म करूँगा, धातु को आग में डालकर परीक्षण करूँगा।
  4113. तिफरव—(क्रि.वि.) किसी वस्तु को तीन बर्तनों में डालना, तीन बराबर भाग में विभक्त करना।
  4114. तिबरिआन—(सं.पु.) तिवारियों का मुहल्ला , एक गाँव का नाम।
  4115. तिबारा—(वि.) तीसरी बार, तीन बार वही , तीसरे दौर में।
  4116. तिबासी—(वि) तीन दिन पहले का बना भोजन, तीन पहर के पूर्व का।
  4117. तिवाह—(वि) खेत की तीन बार जुताई करना।
  4118. तिमड़ा—(सं.पु.) जिसका सिर तीन कोने का हो, गोल न होकर चपटा सिर, सही आँख होते हुए भी तिरछा या नीचे देखने वाला।
  4119. तिमाही—(अ.) तीन माह का कार्यक्रम, तीन महीने के बाद की परीक्षा ।
  4120. तिमासी—(वि.) तीन मास की उम्र वाला जो मात्र तीन महीने का हो।
  4121. तिरपट—(वि.) बहुत अधिक, बहुत जोर, अत्यधिक तेज, तीव्र गति, तिरछापन।
  4122. तिरछाउंआ—(वि) तिरछा होकर देखना या बैठना, टेढ़ी-मेढ़ी स्थिति।
  4123. तिरमड्डा—(वि) तिराहा, तीन घर से होने वाले विवाह की व्यवस्था।
  4124. तिरपाल—(सं.स्त्री.) धूप या वारिश से रक्षा करने में समर्थ मोटा कपड़ा ।
  4125. तिरथहा—(संपु.) तीर्थ यात्रा में गये हुए लोग, तीर्थ स्नान करने जाने वाले।
  4126. तिरबेनी—(सं.पु.) त्रिवेणी, किसी व्यक्ति विशेष का नाम, नदी का नाम ।
  4127. तिरतिराउब—(क्रि) औपचारिक रूप से या नाम मात्र का किसी वस्तु का वितरण, विरल रूप से जमीन पर घास बिखेरना।
  4128. तिरछंऊ—(वि.अ.) तिरछापन लिये हुए, तिरछी स्थिति, वक्रता से।
  4129. तिरसूल—(सं.स्त्री.) त्रिशूल, तीन नोकवाला अस्त्र।
  4130. तिल्ली—(सं.स्त्री.) चुनौती, सौगंध खिलाना, कसम देना।
  4131. तिल—(सं.स्त्री.) एक अनाज विशेष जिससे तेल बनता है।
  4132. तिलबड़िया—(सं.पु.) तिल से बनाया बड़ा, तेल में तला जाने वाले बड़ा।
  4133. तिलमिलआउब—(क्रि) आँख की पलक बार-बार गिराना, आँख का चंकाचौंध होना।
  4134. तिलाक—(सं.पु.) तलाक, एक चुनौती ।
  4135. तिलबाचउथ—(सं.पु.) माघ मास के प्रथम चतुर्थी का परंपरागत त्यौहार।
  4136. तिलबढ़वा—(सं.पु.) शनैः शनैः बढ़ने वाला, एक घास विशेष का नाम।
  4137. तिलबा—(सं.पु.) तिल का लडडू, शरीर में काले तिल का निशान।
  4138. तिलउरी—(सं.स्त्री.) तिल के दाने एवं सफेद कुम्हड़े से बनाया गया बड़ा।
  4139. तिलेठ—(सं.पु.) तिल की लकड़ी, दाना रहित तिल का सुखा डंठल ।
  4140. तिसरहा—(वि.) तीसरा व्यक्ति, पराया व्यक्ति, अपरचित एवं गैर आदमी।
  4141. तिसरबार—(क्रि.वि.) मुण्डन संस्कार के तीसरे चरण का होना।
  4142. तिसराउब—(क्रि.वि.) किसी कार्य को तीन बार करना।
  4143. तिसरकम—(क्रि.वि.) एक काम को तीन बार करना, उसी-उसी काम को ।
  4144. तिसरा—(वि.) तीसरा, तीन-तीन बार गर्भ धारित।
  4145. तिसरहा—(सं.पु.) तीसरा व्यक्ति जो दो के बीच में आये, पराया व्यक्ति।
  4146. तिहंती—(सं.स्त्री.) तीसरे घर की अपरचित नारी, परायी एवं अपरचित औरत ।
  4147. तिहंता—(सं.पु.) तीन लोगों को मार डालने वाला, संबंधियों के अतिरिक्त तीसरा व्यक्ति, पराया या अपरिचित।
  4148. तिहइया—(सं.स्त्री.) खेत की उपज का तीसरा भाग, तृतीयांश।
  4149. तिहाव—(विशे.) किसी वस्तु का तीसरा भाग, एक बटे तीन। ती
  4150. तीज—(सं.स्त्री.) महीने की तृतीय तिथि।
  4151. तीत—(विशे.) तिक्त, चटपट खाद्य, तेज कडुआपन, मिर्च की स्वादानूभूति।
  4152. तीतुर—(सं.पु.) तीतर, एक वेगगामी पक्षी ।
  4153. तीनव—(क्रि.) पकड़कर अपनी ओर खींचने की क्रिया, किसी के हाथ से कोई वस्तु खींच लेना, अपने पक्ष में आकृष्ट करना।
  4154. तीनतकड़म—(ब.मु.) झूठ-फरेब युक्त कार्य, बदमाशी, बेइमानी।
  4155. तीन तिखार—(ब.मु.) बार-बार पूँछकर पक्का करना, तीन बार हाँ कहलाना।
  4156. तीन पाँच—(ब.मु.) जोड़-गाँठ, बदमाशी या चालाकी, हाँ, ना, दंद-फंद ।
  4157. तीरथ—(से.पु.) तीर्थ, तीर्थ स्थान तीर्थ यात्रा।
  4158. तीरापाती—(सं.पु.) पंक्तिबद्ध स्थिति ।
  4159. तीरूस—(ब.मु.) दो वर्ष पहले का वर्ष, दो वर्ष के बाद आने वाला वर्ष ।
  4160. तीसमारी—(ब.मु.) बहादुरी का कार्य, विजय हासिल करना (व्यंग्योक्ति) ।
  4161. तीसौदिन—(अ.) हमेशा, हरदम, प्रत्येक दिन। तु
  4162. तुकबइया—(सं.पु.) निशाना लगाना, किसी के प्रति गलत सोचने वाला निशानेबाज।
  4163. तुक्का—(ब.मु.) घात लग जाना, संयोग बस सिद्धि मिल जाना।
  4164. तुकतोरा—(अ.ं) हिसाब-किताब समय- संयोग, धनात्मक समय का होना ।
  4165. तुक तुक—(अ.) दो बैलों को लड़ने के लिए प्रोत्साहित एवं उत्प्रेरित करने वाली ध्वनि, निशाना लगाकर स्पर्श करना।
  4166. तुचुकब—(क्रि) दुबला होना, पचक जाना, दबकर चपटा होना ।
  4167. तुड़की—(सं.स्त्री.) किसी चीज का छोटा टुकड़ा, बात-बात में चटकना।
  4168. तुतुराव—(क्रि) तोतलाना, अस्पष्ट भाषा निकलना, हकलाना।
  4169. तुतुई—(सं.स्त्री.) कुतिया की तरह अधिक संतान पैदा करने वाली।
  4170. तुन्न—(ब.मु.) नाराजगी की चोटी पर चढ़ जाना, नाराज होकर आग बबूला होना।
  4171. तुपक—(सं.स्त्री.) बंदूक, तोप ।
  4172. तुबे तुबे—(सं.स्त्री.) एक खेल खेलते समय की विशेष ध्वनि या शब्दोच्चारण।
  4173. तुम्मा—(सं.पु.) गोल आकृति की बड़ी लौकी, स्त्री.. तुम्मी ।
  4174. तुमड़ी—(सं.स्त्री.) लौकी का सूखा फल का पात्र।
  4175. तुमड़ा—(सं.पु.) बड़े आकार का लौकी का फल।
  4176. तुरपब—(क्रि) हाथ से की जाने वाली सुंदर सिलाई, हैण्ड स्टीचिंग ।
  4177. तुरपइया—(सं.पु.) हैण्ड स्टीचिंग करने वाला व्यक्ति।
  4178. तुरइया—(सं.स्त्री.) तर्रोई प्रजाति की पतली छोटी नश्ल, एक सब्जी का नाम
  4179. तुरूप—(सं.स्त्री.) तास के खेल का ट्रंप ।
  4180. तुर्रान—(वि.) एकदम से लंबवत बढ़ाव, धूप से सूखकर सिकुड़ा हुआ।
  4181. तुर्राब—(क्रि.) हरी सब्जी के फल का सूखकर तुचुक जाना।
  4182. तुलुलुआ—(वि) अधिक मात्रा में पतली दस्त, बहुत अधिक तरल पदार्थ का बहना, बहुत अधिक पतला दस्त जाना।
  4183. तुलतुलाब—(ंसं.पु.) किसी कार्य के लिए तुरंत तैयार हो जाने की प्रवृत्ति।
  4184. तुलबुलिहा—(सं.पु.) आतुर हो उठने वाला व्यक्ति, गंभीरता विहीन प्रवृत्ति।
  4185. तुल्ला—(क्रि.वि.) तीव्रगति से अति तरल रूप में किसी बर्तन या खेत से बहने की स्थिति, छिद्र से पानी का वेग से बहना।
  4186. तुलुआइस—(क्रि) आवश्यकता से अधिक मक्खन पालिस करना, अत्यधिक सेवा भाव के साथ सम्मान एवं स्वागत करना।
  4187. तुलुल-तुलुल—(अ.) अति चंचल एवं आतुरता युक्त क्रिया कलाप।
  4188. तुल्लाब—(क्रि.वि.) बर्तन में पतली धार द्वारा पानी के नीचे बहना, खेत में भने पानी का निकल जाना ।
  4189. तुह तुहूं—(सर्व.) तुम भी, आप भी ।
  4190. तुहिन—(सर्व) तुम्ही, तुम ही, तू-तू ही। तू
  4191. तू-त तू-तू—(सं.पु.) कुत्ते को बुलाने वाली प्रतीकात्मक ध्वनि।
  4192. तूल—(ब.मु.) तिल का ताड़ बनाना, समस्या मूलक बना देना ।
  4193. तूस—(सं.पू.) कत्थई रंग का पतला कपड़ा। ते
  4194. तेउहार—(सं.पू.) त्यौहार, पर्व का दिन ।
  4195. तेरव—(सं.पु.) ताव, नाराजगी युक्त क्रियाकलाप, तामस, उथलापन ।
  4196. तेरवा—(अ.) जिसके, जिस ।
  4197. तेगब—(क्रि) त्याग देना, सदा सर्वदा के लिए किसी को छोड़ देना ।
  4198. तेमा—(अ.) उसमें, तो पर भी, उस पर भी, इतने पर भी, उतने पर भी ।
  4199. तेरस—(सं.स्त्री.) महीने में होने वाली त्रयोदशी की तिथि।
  4200. तेरहिया—(सं.पु.) तेरही, पुण्य तिथि में सम्मिलित होने वाले लोग ।
  4201. तेरही—(सं.) तेरहवे दिन होने वाला मृतक संस्कार, तेरहवीं।
  4202. तेरा—(वि.) तेरह संख्यावाची शब्द ।
  4203. तोलिया—(सं.पु.) काले रंग का दुर्गन्धयुक्त बरसाती कीड़ा।
  4204. तेलपनियार—(क्रि.वि.) आधातेल और आधा पानी मिलाकर लेपन करना।
  4205. तेलमस—(वि.) तेल में डूबे हुई वस्तु, ऐसा कागज जिसमें तेल लगा हो ।
  4206. तेलमसहा—(सं.पु.) तेल से सना हुआ कपड़ा ।
  4207. तेलवाई—(सं.पु.) तेल लगाने का चलता हुआ दौर, विवाह के समय शरीर में तेल की प्रथा।
  4208. तेलिआउब—(क्रि) चापलूसी करना या किसी के तेल लगाना, लाठी उठाकर किसी को मारने को उद्यृत होना।
  4209. तेलहड़ी—(क्रि) नियमित रूप से तेल रखे जाने वाला मिटटी का पात्र।
  4210. तेलिआन—(सं.पु.) तेली जाति के निवासियों की बस्ती एवं मुहल्ला।
  4211. तेलहा—(वि.) तेल से सना हुआ, तेल से पकाया गया पदार्थ।
  4212. तेलहड़ा—(सं.पु.) तेल रखने का बड़ा पात्र, स्त्री.. तेलहड़ी।
  4213. तेलइया—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का मिटटी का बना पात्र जिसमें तेल रखा जाता हो। तो/तौ
  4214. तोका—(सर्व) तुझे, तेरे को, आक्रोश एवं अपमानयुक्त संबोधन।
  4215. तोखा—(सर्व) तुझको तेरे को अनादर सूचक शब्द।
  4216. तोखार—(वि) बहुत तेज, बड़ा ताकतवर, सबको जीतने वाला।
  4217. तोतरा—(वि.) तोतली वाणी बोलने वाला, तोतला।
  4218. तोतराब—(क्रि) तोतली भाषा बोलना, तुतलाना।
  4219. तोपब—(क्रि) गड्ढे में डालकर ऊपर से मिटटी से ढंक देना।
  4220. तोपान—(वि.) एकदम ढका हुआ, पूर्णतः ढका हुआ, बंद।
  4221. तोपाउब—(क्रि) किसी दूसरे से चारों तरफ ढकवाना।
  4222. तोपइया—(सं.पु.) वस्तु को गाड़ने वाला, वस्तु को चारों ओर से ढकने वाला।
  4223. तोबरा—(सं.पु.) बैलों के मुख में लगाये जाने वाला रस्सी का टोप ।
  4224. तोरा—(सं.स्त्री.) किसी की सेवा-सुश्रुषा, टहला, चाकरी।
  4225. तोरंगा—(सं.स्त्री.) सेवा सत्कार, व्यवस्था के पर्याय में प्रयुक्त होने वाला व्यंग्यार्थ।
  4226. तोर—(सं.प.ु) आम के नुरूआ का पानी, ऐसी भैंस जिसका पड़ेरू मर चुका हो।
  4227. तोरहा—(सं.पु.) तोर, प्ररस से ओत-प्रोत आम।
  4228. तोरइकिन—(सं.स्त्री.) सेवा-सुश्रुषा करने वाली, घर में भोजन बनाने वाली।
  4229. तोसो—(सर्व) तुमसे, आपसे, अपनत्वपूर्ण संबोधन।
  4230. तोहरौ—(सर्व) तुम्हारा भी, आपका भी ।
  4231. तोहंरे—(सर्व) तुम्हारे, आपके, तुम्हारे यहाँ, आपके यहाँ।
  4232. तोहंई—(सर्व) तुमको, तुझे, तुम्हें, आपको।
  4233. तोहंसा तोहंसो—(सर्व) तुममें, आपसे, विश्वनीयता बोधक शब्द।
  4234. तोहार—(सर्व) तुम्हारा, आपका ।
  4235. तोही—(सर्व) तुमको, अपने से छोटे के लिए, स्नेहिल संबोधन।
  4236. तोहारें—(सर्व) तुम्हारा भी, आपका भी ।
  4237. तौ—(अ.) उस पर भी, हाँ-हाँ जी, ऐसा ही है, सही है। थ
  4238. थइली—(सं.स्त्री.) छोटे आकार की थैली, सुपाड़ी-तंबाकू रखने वाली झोली।
  4239. थकवाह—(सं.स्त्री.) थकावट से उत्पन्न शारीरिक शिथिलता, थकान की अनुभूति।
  4240. थकान—(क्रि) थक जाना, परास्त होना ।
  4241. थकबाउब—(क्रि) परास्त करना ।
  4242. थकान—(सं.स्त्री.) मारना-पीटना, हथेली से पीठ पर प्रहार करना।
  4243. थकउहा—(क्रि) थका-मांदा, कुछ थका हुआ, शिथिल।
  4244. थक्का—(सं.पु.) तरल पदार्थ का जमकर ठोस रूप जैसे घी-दही ।
  4245. थथल मथल—(अ.) टाल-मटोल, लेट-लतीफ करना।
  4246. थनहरी—(सं.स्त्री.) माँ का स्तन, शिशु के दुग्धपान करने का दुग्धांग ।
  4247. थन्ना—(सं.पु.) स्थान या जगह, अड्डा, सुनिश्चित या निर्धारित जगह।
  4248. थपोकब—(क्रि) पर्याप्त मात्रा में सांगोपांग लेपन।
  4249. थपकी—(क्रि) गदेली या चपटी चीज से थप-थप करना।
  4250. थपरा—(सं.पु.) हथेली से अँगुलियों के सहारे पीटना, तमाचा।
  4251. थपथेरब—(क्रि) थपकी द्वारा शरीर पर पिटाई करना, हाथ से जल्दी-जल्दी मारना- पीटना, हथेली से पीठ पर प्रहार करना।
  4252. थपडिआउब—(क्रि) किसी को थप्पड़ लगाना, मार देना ।
  4253. थम्हब—(क्रि) ठहर जाना या रूकना, पशुओं का गर्भवती हो जाना ।
  4254. थमइया—(सं.पु) भार उठाने वाला, संभालने वाला व्यक्ति, गिरती वस्तु को गिरने से बचाने वाला।
  4255. थमउना—(ब.मु.) नाम मात्र की प्राप्ति हेतु ब.मु।
  4256. थम्हाउब—(क्रि) किसी को कोई वस्तु पकड़ाना, हाथ में दायित्व सौंपना।
  4257. थरी—(सं.स्त्री.) मिट्टी से बनाये जाने वाली चक्की का निचला भाग।
  4258. थरिया—(सं.स्त्री.) थाली, छोटे आकार का थाल।
  4259. थरहब—(क्रि) बीजारोपण करना।
  4260. थपथपाउब—(क्रि) अच्छे कार्य के बदले पीठ ठोंकना, धन्यवाद ज्ञापित करना
  4261. थरथराब—(क्रि) शरीर का काँपना, घबराहट के कारण शरीर में कंपन।
  4262. थलर थुलुर—(अ.) ढीले माँसपेशियों वाला वृद्ध व्यक्ति, ढीले कपड़े ।
  4263. थलल मलल—(अ.) थुलथुल-ढुलढुल शरीर हुई मांँसपेशियों युक्त।
  4264. थहाउब—(क्रि) थाह लगाना, थाह लेना, गहराई का पता लगाना ।
  4265. थहबाउब—(क्रि) गहराई का पता लगवाना, किसी से मन लेना। था
  4266. थाक—(सं.पु.) थकावट की अनुसूचित शिथिल हो जाना ।
  4267. थाका—(सं.पु.) जिसकी संतान न हो उसकी संपत्ति घर में जाकर रह जाना।
  4268. थाती—(सं.स्त्री.) धारोहर, जमा पूँजी, धन-अमानत।
  4269. थान—(वि.) आभूषणो की संख्या गिनने का एक मानक, नग, अदद।
  4270. थानमनंगा—(क्रि.वि.) बिना हाथ से पकड़े, बैलेंस बनाकर पतली रस्सी पर क्रमशः पाँव बढ़ाकर चलना।
  4271. थाना बिरवाही—(सं.स्त्री.) सब्जी के पेड़-पौधे आदि।
  4272. थाने पमाने—(ब.मु.) स्थायी स्थान, पूर्व स्थान, यथास्थान, अपने नियत स्थान।
  4273. थायब—(क्रि) स्थापित करना, हथेली से चपटा आकार बनाना।
  4274. थार—(सं.पु.) थाली में तरल व्यंजन फैलाकर उसको सूखने के बाद टुकड़ों -टुकड़ों में विभक्त करना ।
  4275. थारी—(सं.स्त्री.) बड़े आकार की थाली ।
  4276. थाह—(सं.स्त्री.) गहराई की सीमा, यथार्थ स्थिति का परीक्षण।
  4277. थाम्हा—(सं.पु.) खंभा, भार रोपने वाली लकड़ी विश्ेष, संभाल।
  4278. थाम्हब—(क्रि) थाम लेना, गिरते को संभालना, भार उठा लेना । थि/थी
  4279. थिर—(वि) स्थिर, अटल, ठहरा हुआ, निर्मल, शांत।
  4280. थिरकब—(क्रि) नृत्य करने की क्रिया, वृत्ताकार फिरना, स्थिर न रहना ।
  4281. थिराब—(क्रि) स्वच्छ जल जो हिलता- डुलता न हो, स्थायी स्थिति ।
  4282. थिरकाउब—(सं.पु.) थिरकने वाला, नाचने वाला, नचइया।
  4283. थिरकउआ—(वि.) नाचते-थिरकते हुए चलने की शैली।
  4284. थीम्हब—(क्रि) संभालना, रोकना, थाम्हना । थु
  4285. थुंकनी—(सं.स्त्री.) पीकदान, थूकने का पात्र विश्ेष।
  4286. थुकइया—(सं.पु.) पीक मारने वाला, थूकने वाला व्यक्ति।
  4287. थुंकिआउब—(क्रि) मूर्ख बनाना, चूना लगाना, किसी को ठग लेना, थूक लगाना
  4288. थुथुआब—(क्रि) मुँह फुलाकर मौन हो जाना ।
  4289. थुथुराब—(क्रि) मारना-पीटना, मारते-मारते मुँह की आकृति बिगाड़ देना ।
  4290. थुथ्थ—(वि.) सूजन हो आना, घाव का सूज आना।
  4291. थुथुना—(सं.पु.) मुँह के लिए व्यंग्यात्मक संबोधन।
  4292. थुथुआन—(वि) फूला हुआ व्यक्ति, माँस से लदा हुआ अत्यंत मोटा तगड़ा व्यक्ति, मोटापन की भयावह स्थिति।
  4293. थुनिहर—(सं.पु.) लकड़ी के लट्ठे से बनाया गया घर व छप्पर।
  4294. थुनिहा—(सं.स्त्री.) दो मुख वाला खंभा ।
  4295. थुरबाउब—(क्रि) दूसरे से दूसरे को मरवाना- पिटवाना ।
  4296. थुरव—(क्रि) मारना, पीटना, कूटना ।
  4297. थुरबइया—(सं.पु.) जमकर पिटाई करने वाला व्यक्ति।
  4298. थुलुर-थुलुर—(अ.) दुल-दुल एवं माँसल माँसपेशियों का हिलना-डुलना। थू
  4299. थू-थू—(अ.) घृणा करने का प्रतीक, मुख की एक ध्वनि।
  4300. थोपव—(क्रि) दोषारोपण करना, दूसरे के सिर पर दोष मढ़ना, मोटी-मोटी रोटी बनाने की क्रिया हेतु व्यंग्यात्मक उद्बोधन।
  4301. थोपबाउब—(क्रि) मोटी-मोटी रोटी बनवाना, शरीर पर मोटा लेपन चढ़वाना।
  4302. थोमराव—(क्रि) गुस्से के कारण मुँह फुला लेना, गाल फुला लेना।
  4303. थेभरिआन—(वि) नाराज होकर मुँह फुलाये मौन स्थिति।
  4304. थोभर—(सं.पु.) मुँह फुलायी हुई मुख की स्थिति, फूला हुआ मुख ।
  4305. थेर—(वि) थोड़ा, अल्पांश, कम, न्यून मात्रा।
  4306. थेरहत—(वि) थोड़ा ही, कम ही, अल्पांश ही, नाम मात्र का ही।
  4307. थोरका—(वि) थोड़ा सा, नाम मात्र का, अल्पांश मात्रा, थोडे समय का।
  4308. थोरू—(वि) थोड़ा सा, जरा सा । द
  4309. दहमरा—(संपु.) पटक दीजिए, फेंक दीजिए, छोटों के लिए प्रिय गाली।
  4310. दइजा—(सं.पु.) दहेज, दइया ।
  4311. दइया—(अ.) आश्चर्यबोधक संबोधन, कथन का तकिया कलाम, ध्यानाकर्षण का विशेष शब्द दहेज।
  4312. दइया नाहर—(ब.मु.) बहुत बड़ा शरीर वाला, आश्चर्यजनक, भयभीत करने वाली वस्तु।
  4313. दहवा—(सं.स्त्री.) दादी के लिए अनुरागात्मक संबोधन ।
  4314. दउरी—(सं.स्त्री.) बाँस की बनी एक टोकनी जिसमें चावल धोया जाता है।
  4315. थूकब—(क्रि) थूक-थूकने की क्रिया, किसी को निंदनीय सिद्ध करना।
  4316. थूथून—(सं.पु.) मुँह का दोनों ओठो वाला प्रदेश, मवेशियों के मुख का अग्रभाग।
  4317. थून—(सं.स्त्री.) नया घर बनाने के लिए शिलान्यास।
  4318. थूहा—(सं.पु.) बड़ा ढेर, मिट्टी की राशि ।
  4319. थून्ही—(सं.स्त्री.) लकड़ी का पतला लट्ठा जो दो मुँही हो। थे
  4320. थेगरी—(सं.स्त्री.) फटे कपड़े में कपड़े की लगी हुई पट्टी।
  4321. थेगरिआउब—(क्रि) फटे पुराने कपड़े पर कपड़े की पटटी सिलाई करने की क्रिया।
  4322. थेगरिहा—(वि) थेगरी लगा हुआ, जोरा तगोरा हुआ।
  4323. थेलउरा—(सं.पु.) गोबर की बड़ी मात्रा में संचित स्थिति।
  4324. थेला—(सं.पु.) तरल पदार्थ की संचित स्थिति, मवेशी या आदमी का माल।
  4325. थेपइया—(सं.पु.) शरीर पर लेपन लगाने वाला व्यक्ति। थो
  4326. थो-थो—(वि.) थेड़ा-थेड़ा, कम-कम
  4327. थेथवा—(सं.पु.) फूला शरीर वाला व्यक्ति ।
  4328. थोंथी—(सं.स्त्री.) ऐसी नारी जो देखने में अधिक मोटी हो किंतु मांसपेशी ढीली हो।
  4329. थोथा—(सं.पु.) ज्वार का बड़ा सा फल दाने वाला पूर्ण क्षेत्र।
  4330. दउरब—(क्रि.) दौड़ना, श्रम करना, घर के भीर अशांतिपूर्ण वातावरण, घर के लोगों को परेशान करते रहना। दउदहन - - अकारण समस्या बन जाना, परेशानी मूलक दायित्व , बिना मतलब की समस्या, तबाह करने वाली परिस्थति।
  4331. दउगरा—(संपु.) अत्यधिक जल वृष्टि का एक दौर।
  4332. दक्खिन—(सं.पु.) दक्षिण दिशा , उत्तर की विपरीत स्थिति।
  4333. दक्खिनहा—(सं.पु.) दक्षिण दिशा में निवास करने वाला , दक्षिण क्षेत्र का निवासी।
  4334. दक्खिनायन—(अ.) दक्षिण दिशा की ओर किसी एक वस्तु व्यक्ति की स्थिति।
  4335. दकाई—(क्रि.वि.) दमरी हाँकने के कार्य की मजदूरी।
  4336. दकबाउब—(क्रि) किसी को डंटवाना, बुरा- भला सुनवाना।
  4337. दगाबाजी—(सं.स्त्री.) बदमाशी एवं बेइमानी, चतुराई एवं चालाकी, विश्वासघात।
  4338. दगाबाज—(वि.) धोखा करने या धोखा देने वाला, अविश्वासनीय प्रवृत्ति का व्यक्ति।
  4339. दगाब—(क्रि) दाग लग जाना , फल में सड़न का चिन्ह बनना।
  4340. दगान—(वि.) कलंक या दाग लगा हुआ , सड़न या दाग से युक्त ।
  4341. दगा—(सं.स्त्री.) धोखाधड़ी, बेइमानी, बदमाशी, पीठ पीछे कर लेना।
  4342. दगबाउब—(क्रि) किसी को गर्म लोहे की छड़ी से दागने में योगदान करना।
  4343. दगइला—(सं.पु.) कलंकित व्यक्ति, दाग लगा हुआ फल, खानदानी दोष युक्त आदमी, समाज से तिरस्कृत व्यक्ति।
  4344. दगबइया—(सं.पु.) दागने वाला व्यक्ति , जलाने वाला आदमी विशेष।
  4345. दगला—(सं.पु.) अत्यंत मुलायम , पुरानी रूई या कपास।
  4346. दगदग—(वि.) हरा-भरा चेहरा , चैतन्य मन , प्रसन्नचित मुख, चरक मन।
  4347. दच्च-दच्च—(सं.पु.) बार-बार धक्का लगना, किसी वस्तु पर सिर पटकने से उत्पन्न ध्वनि।
  4348. दच्चा—(सं.पु.) धक्का खाना , धक्का लगना, ठोकर।
  4349. दक्षिनायन—(वि.) दक्षिण दिशा में सूर्य-चन्द्रमा की स्थिति।
  4350. दंतनिपेर—(सं.पु.) बात-बात में निरर्थक दाँत निकालकर हंसने वाला, समय पर कुसमय की बात करने वाला।
  4351. दंतब—(क्रि) बैलों के वे दांत का आना जिससे उसकी अवस्था का पता चलता है, प्रलोभन के कारण देर तक बैठे रहना।
  4352. दताउब—(क्रि) किसी के शरीर पर कोई वस्तु स्पर्श कराना, सटाकर रखना या सांट देना, अड़ा देना या छुआ देना।
  4353. दंतकढ़ा—(वि) जिसके सदैव दाँत बाहर ही निकले रहते हों।
  4354. दंतबिजुरा—(सं.पु.) जिसके सामने के दाँत बेडौल हों, बड़े-बड़े दाँतों वाला ।
  4355. दंतुरा—(वि.) जिसके दो दाँत ओंठ से बाहर निकले रहते हो।
  4356. दंतुली—(सं.स्त्री.) शिशुओं के सुंदर-सुंदर दुधिया दाँत।
  4357. दंतइया—(सं.स्त्री.) पीले रंग की बर्र, बर्र आकार का जहरीला कीड़ा ।
  4358. ददूबा—(सं.पु.) दादाभाई साहब , पितातुल्य उद्बोधन, बड़ों के लिए आदर सूचक।
  4359. ददुआई—(सं.पु.) समकक्ष आयु वाले के लिए प्यार भरा संबोधन।
  4360. दनदनान—(क्रिवि.) बिना किसी रोक-टोक एवं हिचकिचाहट के एकदम से निर्भय रहित, सीधे गतिमान।
  4361. दनादन—(अ.) एकदम सीधे-सीधे, बेहिचक, जल्दी-जल्दी।
  4362. दन्द—(वि) गर्मी के कारण अकुलाहट, ऊष्मा, ऊष्मता।
  4363. दंदबइया—(सं.पु.) किसी को गर्माहट देने वाला व्यक्ति।
  4364. दंदबाउब—(क्रि) कपड़े से ढँककर किसी को ऊष्मायुक्त करना।
  4365. दंद-फंद—(ब.मु.) झूठ का जाल,मिथ्याजाल, बदमाशी एवं बेइमानीयुक्त।
  4366. दंदकब—(क्रि) सेते-सेते उछल पड़ना,भय या डर से कूद पड़ना।
  4367. ददोर—(संपु.) शरीर में पड़े हुए चकता खुजलीयुक्त शारीरिक चर्म रोग।
  4368. ददहा—(सं.पु.) दाद-खाज वाला व्यक्ति,दाद के रोग से ग्रसित व्यक्ति।
  4369. दंदाब—(क्रि) गर्म होना, ओढ़ ढांककर शरीर को गर्म करना।
  4370. दनाई—(सं.स्त्री.) एक प्रकार का रोग।
  4371. दपकब—(क्रि) छिपना, ओट में होना, शरीर चुराकर बैठने की क्रिया।
  4372. दपकी—(सं.स्त्री.) चपटा पात्र जिसमें पानी गर्मी में भी ठंड रहता है।
  4373. दपकाउब—(क्रि) धमकी देना, डरवाना।
  4374. दपकउना—(क्रि) एहसान जताकर किसी को दबाने की प्रक्रिया।
  4375. दपटब—(क्रि) किसी को डांटना- फटकारना, उस पर नाराज होकर गलती एहसास कराना, भूल-सुधार की दृष्टि से डांटना।
  4376. दपटा—(सं.पु.) एक के बाद दूसरा छोड़कर तीसरा दिन।
  4377. दमनी—(क्रि.वि.) प्रशिक्षणरत बैल, हल में चलने के लिए बैल वाला प्रशिक्षण।
  4378. दमकव—(क्रि.) दबाव के कारण कंपन,धरती का दमकना।
  4379. दमटा—(सं.पु.) शरीर पर चकत्ते पड़ना, चौड़े आकार की फुड़िया-फुंसी ।
  4380. दमरी—(सं.स्त्री.) अनाज की गहराई के लिए बैलों के समूह का एक परिधि में भ्रमण क्रिया, एक दाम विशेष के लिए पर्याय।
  4381. दमदमाउब—(क्रि) पैरों से किसी वृक्ष की डाली को हिलाना।
  4382. दमना—(सं.पु.) एक प्रकार की घास, घाव सुखाने की वनस्पति, औषधि ।
  4383. दये—(क्रि) देना , दीजिएगा।
  4384. दयामन—(सं.पु.) दयनीय चेहरे वाला, जिसे देखने पर तरस आये , दया का पात्र।
  4385. दराइ दराई—(सं.स्त्री.) अनाज का छिलका , अनाज दरने के बाद निकला हुआ छिलका।
  4386. दर्राव—(क्रि) दरार पड़ना , जमीन का फटना।
  4387. दरकुचरब—(क्रि) ऐसे कुचलना कि दाल की तरह अन्न के दो-तीन टुकड़े ही हो।
  4388. दरबाउब—(क्रि) दलने का कार्य करवाना, किसी से धान से चावल बनवाना
  4389. दरबदया—(सं.पु.) दलने वाला मजदूर ।
  4390. दरा—(सं.पु.) नियत या सुनिश्चित स्थान।
  4391. दरबाई—(सं.स्त्री.) लट्ठा गाड़ने का निर्धारित छोटा गड्ढा।
  4392. दर—(सं.पु.) किसी बदनाम व्यक्ति का बार- बार नाम आना, लकड़ी गाड़ने के लिए जमीन पर खोदा गया गड्ढा।
  4393. दरबरिहा—(सं.पु.) दरबार में बैठने वाला , सदैव बराबर करने वाला, बराबरी ।
  4394. दर्रा—(सं.पु.) गड्ढा, जमीन का फटना ।
  4395. दरदापट—(क्रि) तामझाम के साथ भयभीत करना , डराकर किसी को भागना।
  4396. दरदर—(वि.) खुरदुरायुक्त, चिकनाहट रहित, द्वार-द्वार भटकना।
  4397. दरकचरब—(क्रि) पत्थर से अनाज के बड़े-बड़े टुकड़े कर देना।
  4398. दरब—(क्रि) दलना,अनाज को दो टुकड़ों में कर देना, जमीन खोदना ।
  4399. दरिया—(सं.स्त्री.) दलिया, एक काम चलाऊ भोजन।
  4400. दलका—(क्रि) माघ-पूस की विकराल ठंडी से शरीर का काँपना, ठंडी देकर बुखार चढ़ना।
  4401. दरेरब—(क्रि) किसी चीज से कोई चीज रगड़ना या घिसना, घिर्रा मारना।
  4402. दलथम्मन—(सं.पु.) दल को संभालने वाला, किसी दल या संगठन का मुखिया, मोटा-तगड़ा शरीरकाय व्यक्ति, वीर-बहादुर।
  4403. दलदली—(सं.स्त्री.) माघ-पूस की शरीर कंपाने वाली ठंडक, ठंड देकर चढ़ने वाली बुखार।
  4404. दलेला—(स.पु.) मोटा तगड़ा एवं सबसे जीत जाने वाला बैल।
  4405. दलबलियाउब—(क्रि) डर-डपट देकर भयभीत करना, डरवाना।
  4406. दसराहा—(सं.पु.) दशहरा त्यौहार, दशहरा का पर्व।
  4407. दसइया—(संपु.) दशवीं तिथि को जन्मा व्यक्ति, किसी व्यक्ति का नाम ।
  4408. दसदगाठ—(सं.पु.) शरीर की सुंदर एवं आकर्षक संरचना, सब प्रकार से ठीक-ठाक, सांगोपांग, सुडौल।
  4409. दसमासा—(सं.पु.) दस महीने माँ के पेट रहकर जन्म लेने वाला,पुरूषार्थी।
  4410. दसउ—(सं.पु.) दशगात्र का कर्म संस्कार, मृत्यु के दशवे दिन सम्पन्न होने वाला परंपरागत संस्कार ।
  4411. दसकत—(सं.पु.) हस्ताक्षर , अपना नाम ।
  4412. दसाउब—(क्रि) चारपाई या जमीन पर बिछौना बिछाना, कपड़ा फैलाना ।
  4413. दसबाउब—(क्रि) बिस्तर लगवाना , बिस्तर में कपड़े विछवाना।
  4414. दसबइया—(संपु.) बिस्तर लगाने वाला व्यक्ति।
  4415. दसबाई—(सं.पु.) बिस्तर बिछाने की मजदूरी या पारिश्रमिक।
  4416. दहिजार—(सं.पु.) औरतों द्वारा दी जाने वाली प्यार या आत्मीयता की गाली दहिमास -एक प्रकार का नशा जो गर्मी में पशुओं को मार देने से लगता, व्रत रहने के पश्चात् खाना खाने से लगने वाला नशा।
  4417. दहचाल—(क्रि) घर के अंदर उत्पन्न हड़ताल, अशांतियुक्त वातावरण।
  4418. दहिबरा—(सं.पु.) दही और बड़ा, ऐसा बड़ा जो दही में डूबा रहता है।
  4419. दहपोंग—(सं.पु.) मनोविनोद स्वभाव वाला व्यक्ति, मसखरा या हँसोड व्यक्ति, सदैव हँसने-हँसाने वाला व्यक्ति।
  4420. दहकब—(अ.) लड़ने की मन्शा से ओत-प्रोत बैल की आवाज।
  4421. दहिजरा—(सं.पु.) छोटे एवं प्रिय व्यक्ति को आत्मीय गाली।
  4422. दहार—(सं.पु.) अत्यंत गहरा जलकुण्ड, गहरा जलाशय।
  4423. दहबोरब—(क्रि) पानी की धार में बार-बार डूबना , बार-बार पानी के नीचे करना ।
  4424. दहपोंगी—(क्रि) हंसी-मजाक पूर्ण वार्ता करना, मजाकिया बातें । दा
  4425. दाई-माइ दाई-माई—(ब.मु.) दाई-माई करना (मुहावरा), जिसका अर्थ गाली देकर बेइज्जत करना।
  4426. दाईकेर माइक—(ब.मु.) बहुत पीछे या बहुत दूर तक की याद आ जाना।
  4427. दाऊ—(सं.पु.) पिता जी, शिष्ट परिवार में पिता के लिए।
  4428. दांकब—(क्रि) तेज आवाज में डाँटना, गलत कार्य के बदले डाँटना।
  4429. दाख—(सं.पु.) मुनक्का, किसमिस, ड्राई फ्रूट।
  4430. दागब—(क्रि) गर्म वस्तु से किसी के शरीर को दागने की क्रिया, गोली मारना, जलाना।
  4431. दांता—(सं.पु.) घात के चारों ओर निकले माँसपेशियों के कांटे।
  4432. दांती—(सं.स्त्री.) रोज-रोज का घरेलू वाद- विवाद, निशदिन की अशांति।
  4433. दाद दादू—(सं.पु.) छोटे बच्चों के लिए स्नेहिल संबोधन।
  4434. दादी—(सं.स्त्री.) अन्याय, बेइमानी या बदमाशी, कुन्याय करना।
  4435. दादाभाई—(सं.पु.) बडा भाई , बड़े भाई के लिए आदरपूर्ण संबोधन।
  4436. दाबब—(क्रि) दबाना,ऊपर उठने से रोकना, किसी घर में पर्दा डालना, गला दबाने की क्रिया।
  4437. दांया—(विशे.) दाहिना, दांया अंग , दांया हाथ।
  4438. दावा—(क्रि) दबाइए या दबा दो , घटना को लुप्त करने की क्रिया।
  4439. दारा—(सं.पु.) नियत स्थान, सुनिश्चित जगह, वह स्थान जहाँ वह खड़ा था।
  4440. दाय—(सं.पु.) समस्याजन्य स्थिति, कष्टदायी क्रिया, विपत्ति मूलक, आफत, उलझना।
  4441. दार—(सं.स्त्री.) दाल-दलहन अनाज , कच्चीदाल।
  4442. दारी—(अन्य) बारी या क्रम , आक्रोश में एक तकिया कलाम।
  4443. दारि भात—(ब.मु.) पकी हुई दाल एवं चावल , अत्यंत सरल।
  4444. दासन—(सं.पु.) सतह पर बिछाया जाने वाला वस्त्र। दि/दी
  4445. दिड़कब—(क्रि) चटकने की क्रिया, बात- बात में खीझ जाना।
  4446. दिदी—(स.स्त्री.) अम्मा, माँ, माता, गाँव की माताओं के संबोधन।
  4447. दिनदहाड़े—(ब.मु.) खुलेआम, सबके सामने ।
  4448. दिन देउसे—(अ.) दिन दहाड़े , दिन के उजाले में।
  4449. दिनमान—(सं.पु.) दिन के प्रकाश में, दिवस में ।
  4450. दिनांर—(सं.पु.) पुराना व्यक्ति,वह जो अधिक उम्र का हो और कम का दिखता हो।
  4451. दिया—(सं.स्त्री.) दीपक, प्रकाश हेतु मिटटी का बर्तन।
  4452. दियावंती—(सं.स्त्री.) दिया जलाने का काम ।
  4453. दिहिराउब—(क्रि) तोड़कर दरार बना देना , दरार पड़ जाना।
  4454. दिहिन—(क्रि) दिया, दी हुई ,दी गई स्थिति।
  4455. दिनउधी—(सं.स्त्री.) आँख का वह रोग जिससे दिन में धुंधला दिखता है।
  4456. दिहिराब—(क्रि) दरार पड़ जना, चिटक जाना।
  4457. दिन परत—(अ.) आने वाले समय में, जैसे-जैसे समय आयेगा, और आगे।
  4458. दीख—(सं.पु.) सुपरचित स्थान या जगह, देखा हुआ स्थल, जाना-पहचाना ।
  4459. दीदा—(सं.पु.) दिल या आत्मा, इच्छा या मन, हिम्मत व साहस ।
  4460. दीदी—(सं.स्त्री.) माता या अम्मा, ग्रामीण पुराना उद्बोधन माँ के लिए, भारत माता।
  4461. दीन—(क्रि) दिया हुआ, बिना मूल्य के स्वेच्छा से प्राप्त किया हुआ । दु
  4462. दुअरिया—(सं.स्त्री.) दरवाजे के आकार का छोटा सा संकरा निकास द्वार।
  4463. दुआर—(सं.पु.) घर का द्वार, निकास स्थल या दरवाजा, घर का सामना।
  4464. दुआरचार—(सं.पु.) द्वार पर बारात का लगना, द्वारचार।
  4465. दुअरउठा—(सं.पु.) घर के द्वार पर नीचे भाग में लगने वाली लकड़ी की चौखट।
  4466. दुआस—(सं.स्त्री.) हिंदुओं की द्वादशी तिथि ।
  4467. दुअरा—(सं.पु.) घर का निकास द्वार, दरवाजा या सामना।
  4468. दुआर दुआरे—(सं.पु.) घर के दरवाजे का मैदान , द्वार के सामने का स्थल।
  4469. दुआह—(विश्े.) जिसकी पत्नी मरने पर दुबारा विवाह हुआ हो।
  4470. दुबराब—(क्रि) दुबला होना, कमजोर हो जाना, शरीर का सूख जाना।
  4471. दुबराउब—(क्रि) किसी को दुबला एवं कमजोर करवाना।
  4472. दुबराम—(विशे.) शरीर से दुबला-पतला एवं दुबराया हुआ।
  4473. दुइबेरी—(वि.) दो बार , दो चक्र में, दो दौर, सुबह-शाम।
  4474. दुइकलिया—(सं.स्त्री.) दो जगह से गाँठ लगने वाला पुरूषों का ऊपरी वस्त्र।
  4475. दुइनली—(सं.स्त्री.) दो मुँहवाली वस्तु, दो नली बंदूक ।
  4476. दुईजन—(वि.) दो व्यक्ति , दो जन।
  4477. दुइलरी—(सं.स्त्री.) दो लड़ी से निर्मित वस्तु , ऐसा आभूषण या माला।
  4478. दुईहंथी—(सं.स्त्री.) दोनों हाथ से पकड़कर लाठी से प्रहार करना, दो हाथ लंबी हड्डी, दो हाथ से लगने वाली।
  4479. दुइकच्छी—(सं.स्त्री.) दो कांछ लगाने वाले धोती का एक विश्ेष पहनावा।
  4480. दुइज—(सं.स्त्री.) द्वितीया , किसी पक्ष की दूसरी तिथि।
  4481. दुकब—(क्रि) धोखा खा जाना, चूक जाना, पीछे रह जाना।
  4482. दुकेल दुकेला—(वि) जो अकेला न हो, एक और साथ में साथी हो।
  4483. दुक्की—(सं.स्त्री.) दो चिन्हों वाली तास की द्वितीय पत्ती, दो मुँह या दो खण्ड वाली वस्तु।
  4484. दुकड़ा—(सं.पु.) दो कौड़ी, दो टका, दो कड़े वाली वस्तु, एक पैसे का चौथा अंश।
  4485. दुखेभा—(सं.स्त्री.) दुःख का वृतांत, व्यथा कथा, दुखद चर्चा।
  4486. दुखबइया—(सं.पु.) घाव में मारकाट, पुनः दर्द को उभार देने वाला ।
  4487. दुखहाई—(सं.पु.) अभागिन,दुर्भाग्यशाली, नारी के लिए गाली।
  4488. दुक्खम-सुक्खम—(अ.) दुख-सुख, हाल-समाचार, दिनचर्या संबंधी चर्चा।
  4489. दुगधा—(सं.पु.) दुविधा या संदिग्धता, अनिश्चितता पूर्ण परिस्थिति।
  4490. दुगुनब—(क्रि.वि.) एक का दो और दो का चार करना, सीधी दोगुना बढ़ा देना, किसी वस्तु को दो बराबर पर्त में मोड़ना।
  4491. दुतिहा—(सं.पु.) दूती करने वाला, शिकायत पहुँचाने वाला।
  4492. दुतिया—(सं.पु.) दूसरा प्राणी बोलने के लिए सहारा, दूसरा सहयोगी।
  4493. दुदधू—(सं.पु.) दूध या थन, वात्सल्य बोधक।
  4494. दुदहड़ी—(सं.स्त्री.) दूध रखने का मिटटी का पात्र।
  4495. दुदुनुआ—(सं.पु.) व्यंग्य बोधक शब्द जिसका अर्थ होता है बहुत छोटा।
  4496. दुदनिया—(सं.स्त्री.) एक फली में दो दाने वाली ज्वर, दो मनका वाली माला नारियों का चाँदी का आभूषण।
  4497. दुधिया—(वि.) शिशु के छोटे-छोटे प्रारंभिक दाँत, दूध के रंग का सफेद।
  4498. दुनबइया—(सं.पु.) कपड़ों को मोड़ने वाला,खेत की दो बार जुताई करने वाला।
  4499. दुनबउबा—(क्रि) खेत की दो बार जुतवाई करवाना, कपड़ा फोल्ड करवाना।
  4500. दुधारू—(सं.स्त्री.) पर्याप्त दूध देने वाली , गुणवान एवं लाभकारी भाव पर केन्द्रित।
  4501. दुनपट—(क्रि.वि.) लचीली वस्तु को बीच से मोड़ देना दो परत करना।
  4502. दुनउब—(क्रि) बीच में मोड़ देना,किसी को पकड़कर मसल देना।
  4503. दुपहरिय दुपहरिया—(सं.स्त्री.) दोपहर का समय,मध्यान्ह।
  4504. दुफसली—(वि.) दोनों फसलों में उत्पन्न होने वाला।
  4505. दुफसिलिहा—(सं.पु.) ऐसा खेत जिसमें रबी एवं खरीफ की दोनों फसलें बोई जाती हों।
  4506. दुफराउब—(क्रि) बराबर-बराबर दो पात्रों में पदार्थ डलवाना।
  4507. दुफरब—(क्रि) किसी बर्तन के पदार्थ को दो पात्र में करना, एक से दूसरे पात्र में रखना, दो परत करना।
  4508. दुफरबइया—(सं.पु.) एक बर्तन से दूसरे बर्तन में पदार्थ डालने वाला।
  4509. दुबरटठा—(सं.पु.) नितांत दुर्बल व्यक्ति, दुबला-पतला एवं कमजोर शरीर।
  4510. दुभतिहा—(सं.पु.) दो भाँति का व्यवहार करने वाला, मुँह देखी करने वाला।
  4511. दुरघट—(वि.) दुर्लभ बड़े मुश्किल से मिलने वाली प्रियवस्तु या व्यक्ति।
  4512. दुरदुर—(वि.) रवेदार चिकनाहट विहीन जो चिकना न हो ,खुरदुरी स्थिति, कुत्ते को दुतकारने वाला एक विश्ेष ध्वनि संकेत।
  4513. दुरदुराउब—(क्रि) अपमानित करके घर से भगाना, अच्छा व्यवहार न करना।
  4514. दुरूर दुरूर—(वि) हाथ से स्पर्श करने पर जो रवेदार हो , चिकनापन विहीन।
  4515. दुर—(अ.) कुत्ते को हटाने का शब्द, दूर होने के अर्थ में।
  4516. दुराव—(सं.पु.) कसी से गुप्त रखने का भाव, कपट हल।
  4517. दुराभाव—(सं.पु.) मुनमुटाव, बुराभाव, परायापन का भाव, भेदयुक्त भाव।
  4518. दुरबीन—(सं.स्त्री.) दूरबीन,दूर तक की चीज देखने वाला यंत्र विशेष।
  4519. दुलहिन—(सं.स्त्री.) दुल्हन , तत्काल ससुराल आयी नयी औरत, पु.दुलहा।
  4520. दुलरिया—(वि.) प्राणों से प्रिय बेटी, आज्ञाकारी बहू, लाड़-प्यार से पली लड़की।
  4521. दुल्ली—(सं.स्त्री.) दुल्हन, कम उम्र की दुल्हन के लिए स्नेहिल संबोधन ।
  4522. दुलराब—(क्रि) बच्चों द्वारा माँ बाप के साथ वात्सल्य मय वार्ता।
  4523. दुलदुल—(सं.पु.) अपरचित या लगाव रहित आदमी,दूसरा आदमी, पराया व्यक्ति।
  4524. दुसकरम—(क्रि) किसी कार्य को पुनः करना , एक ही काम को बार-बार करना।
  4525. दुसरबार—(सं.पु.) मुण्डन संस्कार के बाद दूसरी बार सिर से बाल का घोटना।
  4526. दुही पल्हान—(ब.मु.) थन या बाल से दूध दुह लिया गया या दुल्हन शेष।
  4527. दुहबाउब—(क्रि) दोहन करवाना, दुहने में योगदान करना।
  4528. दुहबइया—(सं.पु.) दूध दुहने वाला व्यक्ति विशेष।
  4529. दुहब—(क्रि) शोषण करना,गाय-भैंस का दूध दोहन।
  4530. दुना दुनौ—(वि) दोनों, दोनों जन, दोनों के दोनों।
  4531. दूधपीमा—(वि.) दूध पीता शिशु, छोटा सा अंजान बच्चा, दुधमुँहा।
  4532. दूसरा—(वि) कक्षा दो , दो नग, ऐसी गाय या भैंस जो दूसरी बार प्रजनन की हो।
  4533. दूबर—(वि.) शारीरिक दृष्टि से कमजोर दुबला-पतला ।
  4534. दूमब—(क्रि) निर्धारित स्थान से हिलाना- डुलाना, नियत स्थान से हटाना।
  4535. दूम दड़ाका—(ब.मु.) लंबी चौड़ी बातें करना, अब्बे- तब्बे करना, बढ़ा-चढ़ाकर। दे
  4536. देइ देई—(क्रि) दें, दूँ, दीजिए, दो, दे दो, दे दीजिए।
  4537. देइहौं—(क्रि) दूँगी, देऊँगी,देऊँगा।
  4538. देउनहर—(वि.) देनदार, तत्काल देने वाली प्रवृत्ति का उदारवादी व्यक्ति।
  4539. देउता—(सं.पु.) देवता, देवतुल्य, पूजनीय व्यक्ति, देवता की प्रवृत्ति वाला।
  4540. देउरानी—(सं.स्त्री.) छोटे भाई की पत्नी, छोटी बहू, देवर की पत्नी।
  4541. देखा सिखी—(अ.) दूसरों को देखकर करने का भाव, नकल।
  4542. देखाव—(क्रि) दिखना , दिखाई पड़ना।
  4543. देखनउक—(वि.) देखने लायक, दर्शनीय देखने येग्य।
  4544. देखबइया—(सं.पु.) देखने के लिए आये दिन आये हुए लोग, देखने वाले। देनहर दाई फटहा पइला (ब.मु.) जो उदारवाहिता के पर्याय में व्यग्यार्थ ।
  4545. देखान—(विशेष) दिख गया , देख लिया, देखने में आ गया।
  4546. देवाला—(सं.पु.) देवी-देवताओं का नियत स्थल, देवांगन, दिवालिया घोषित करना।
  4547. देब देबै—(क्रि) दूँगा, देंगे, दिया जाएगा, आप देंगे ?
  4548. देबारी—(सं.स्त्री.) दीवाली, दीपावली का त्यौहार, दीप दान का अवसर।
  4549. देवरब—(क्रि) कोई वस्तु देने की प्रवृत्ति , उदारवादी दृष्टिकोण।
  4550. देबरबा—(सं.पु.) देवर के लिए स्नेहिल संबोधन, पति का छोटा भाई।
  4551. देबरउत—(सं.पु.) देवर का पुत्र , पति के छोटे भाई की संतान।
  4552. देवी कढ़त—(क्रि) चेचक निकलना , चेचक का प्रकोप होना।
  4553. देविअन—(सं.स्त्री.) देवी का मंदिर, देवालय का परिसर, जहाँ देवी-देवता विराजे हों उस नियत जगह के लिए संबोधन।
  4554. देबरब—(क्रि) कोई वस्तु देने का मन बनाना।
  4555. देबइया—(सं.पु.) देने वाला, दाता , दानकर्ता ।
  4556. देबरउतिन—(सं.स्त्री.) देवर की पुत्री।
  4557. देवाइ देवाई—(क्रि.वि.) देने की शैली, देने की उदारवादिता, देने का ढंग या भाव।
  4558. देसहा—(सं.पु.) अपने गाँव से उत्तर की दिशा में निवास करने वाला व्यक्ति, सुविकसित गाँव का निवासी।
  4559. देसहाइ देसहाई—(सं.स्त्री.) गाँव की सीमा प्रतिस्थापित होने वाली ग्राम देवी।
  4560. देसावरी—(सं.पु.) देशी वस्तु या सामान, देश के भीतर निर्मित,वस्तु।
  4561. देही—(सं.पु.) आत्मा, शरीरी जीव जन्म।
  4562. देहाती—(वि.) गाँव देहात का निवासी, ग्रामीण।
  4563. देहंगर—(वि) शरीर से हृष्ट-पुष्ट, मोटा- तगड़ा व्यक्ति, पर्याप्त मजबूत। दो
  4564. दोअपोंअ—(अ.) आनाकानी करना, वादा खिलाफी करना।
  4565. दोऊ—(वि.) दोनों युगल, दोनों का दोनों।
  4566. दोख—(सं.पु.) अशुभ,दोषयुक्त जिसे देखने से अनिष्ट हो अशुभ संकेत।
  4567. दोखी—(सं.पु.) दोष आरोपित व्यक्ति, अशुभकारी व्यक्ति।
  4568. दोख पाप—(अ.) भूल-चूक, शरीर के विविध दोष, कलंक का पाप शारीरिक व्याधि।
  4569. दोगही—(सं.स्त्री.) घर के सामने का खुला ओसरा।
  4570. दोगी—(सं.स्त्री.) पशुओं के गले में या छोटे बच्चों के गले।
  4571. दोनिया—(सं.स्त्री.) पत्ते से बनायी जाने वाला कटोरीनुमा पात्र।
  4572. दोमा—(वि.) दूसरी बार गर्भंवती हुई गाय या भैंस।
  4573. दोसी—(सं.पु.) मित्र या दोस्त,प्रिय साथी, सहेली, दोषी।
  4574. दोहरा—(सं.पु.) सुपाड़ी का छोटा सा टुकड़ा, एक साथ दो नारियल फोड़ना।
  4575. दोह—(सं.पु.) पुनर्विवाह,जिसकी पत्नी मर चुकी हो।
  4576. दोहनी—(सं.स्त्री.) दूध दुहने वाली मिटटी का पात्र, घी या मठा रखने वाला।
  4577. दोहपन—(सं.पु.) दोष, किसी कार्य का दोषरोपण, कलंक।
  4578. दोहराउब—(क्रि.वि.) एक घड़े के ऊपर दूसरा घड़ा रखना, पुनरावृत्ति करना। ध
  4579. धइकार—(सं.पु.) बंसोर के समतुल्य एक जाति विशेष।
  4580. धउपट—(संज्ञा) कठोर परिश्रम, आवश्यकता से अधिक दौड़ धूप।
  4581. धउरब—(क्रि) दौड़ना , तीव्र गति से चलना।
  4582. धउराई—(सं.स्त्री.) दौड़ने का प्रतिफल, मेहनत का परिणाम।
  4583. धउरइया धउरइयां—(सं.पु.) दौड़ने वाला व्यक्ति, दौड़ लगाने वाला।
  4584. धउरतिय धउरतियां—(अ.) दौड़ते हुए त्वरित एवं तीव्रगति से आना, तत्परता के साथ।
  4585. धउकब—(क्रि) हवा देना या हवा देने की प्रक्रिया।
  4586. धक्किआउब—(क्रि.वि.) धक्का देने की क्रिया, किसी को स्पर्श करना।
  4587. धकाउब—(क्रि) बिना किसी अवरोध के जबरदस्ती कार्य कर लेना।
  4588. धपकब—(क्रि) रूक-रूक कर चलना, लंगड़ाती हुई चाल।
  4589. धजी—(सं.स्त्री.) फीते के आकार की पुरानी धोती का एक लंबा टुकड़ा।
  4590. धड धड़—(सं.पु.) कमर के ऊपर का भाग, जड़ के ऊपर का तना भाग।
  4591. धउधउ—(वि) उदार मनवाला, उदारवादिता, देने वाला।
  4592. धड़ल्ले—(अ.) बिना अवरोध या भय बाधा के, वेग से, बेधड़क।
  4593. धता—(सं.पु.) पाठ पढ़ाना, मूर्ख बनाना, झूठ बोलकर झटका मारना।
  4594. धत—(अन्य) तिरस्कार के साथ मनाही का एक शब्द।
  4595. धंधबइया—(सं.पु.) हथकड़ी लगवाने वाला, जेल में बंद करवाने वाला।
  4596. धतुरहा—(सं.पु.) शांडिल्य गोत्री ब्राम्हण की एक प्रजाति।
  4597. धतूर—(सं.पु.) कनक का एक पौधा, धतूरा।
  4598. धंधउब—(क्रि) पुलिस द्वारा किसी को बंद कराना, बंधवाना या हथकड़ी डलवाना। धंधमल - - अनिश्चित, असमंजस युक्त।
  4599. धंधोला—(सं.पु.) आग की लपट, होली, ज्वाला।
  4600. धंधकब—(क्रि) जलती लौ निकालना, गर्म लगना।
  4601. धन्नासेठ—(सं.पु.) प्रसिद्ध धनिक, बहुत धनवान व्यक्ति।
  4602. धनाब—(क्रि) मवेशियों का गर्भवती होना ।
  4603. धनखर—(स.पु.) धान बोई जाने वाले खेत, एक फसली जमीन।
  4604. धन्नि—(वि.) धन्य है , धन्यवाद है।
  4605. धन्ने—(सं.पु.) धरना, हड़ताल करना , हठपूर्वक किसी के द्वार पर बैठना।
  4606. धनपनिया—(सं.स्त्री.) धान मे रूका हुआ पानी , धान के खेत में पानी का भरा रहना
  4607. धनइत—(सं.पु.) बड़ा धनवान,धन का घमण्ड दिखाने वाले के लिए व्यंग्य बोधक।
  4608. धनुकधारी—(सं.स्त्री.) धनुष-बाण धारण करने वाला, किसी व्यक्ति विशेष का नाम
  4609. धन्नी—(सं.स्त्री.) गाटर के विकल्प रूप में प्रयुक्त होने वाली चौकोर इमारती लकड़ी।
  4610. धवाई—(सं.स्त्री.) दौड़ने की चाल गति , दौड़ने की शैली।
  4611. धबइया—(सं.पु.) दौड़-धूप करने वाला व्यक्ति।
  4612. धबा—(सं.पु.) एक प्रकार की वनस्पति पौध, एक जंगली पेड़।
  4613. धमधामाउब—(क्रि) किसी की पीठ पर मुष्टिका से जल्दी-जल्दी मारना।
  4614. धम्म-धम्म—(अ.) पोलाईयुक्त सतह पर चलने से होने वाली धम्म-धम्म ध्वनि।
  4615. धम्मन—(सं.पु.) हारमोनियम वाद्य का पर्दा, हवा देने वाला वाद्य का हिस्सा।
  4616. धमाका—(सं.पु.) आघात, प्रहार, धमाका, घूँसा।
  4617. धमधूसड़—(सं.पु.) असामान्य रूप से मोटा- तगड़ा, लेद निकला व्यक्ति।
  4618. धमकब—(क्रि) खाना खाने के लिए व्यंग्यात्मक संबोधन, मारने के लिए प्रतीक, मैथुन करना।
  4619. धमकाउब—(क्रि) धमकी देना, खानाखिलवाना।
  4620. धरपकड धरपकड़—(क्रि) दो लड़ते हुए व्यक्ति के मध्य बीच-बचाव करना, पुलिस द्वारा अपराधी को पकड़ा जाना।
  4621. धरमसंकट—(ब.मु.) अनिर्णात्मक स्थिति, निर्णय न ले पाना, बीच में लटका हुआ।
  4622. धरनहर—(सं.वि.) अवसर या उत्सव विशेष में पहनी जाने वाली साड़ी या आभूषण, झगड़ा में बीच-बचाव करने वाली।
  4623. घरबांधि—(अव्य) जबरिया किसी से कार्य करवाना , बिना मन के दबाव।
  4624. धरबाउब—(क्रि) वस्तु को रखवाना, रखवा लेना, कुत्ते से कटवाना।
  4625. धरबइया—(सं.पु.) वस्तु को रखने वाला, रखवा लेने वाला व्यक्ति।
  4626. धरनउक—(विश्े) संभाल कर रखे रहने लायक।
  4627. धराउब—(क्रि) किसी के हाथ में कोई वस्तु रख देना , वस्तु दे देना।
  4628. धरभर—(क्रि.वि.) धार के बल , धार वाले हिस्से से प्रहार करना।
  4629. धरब—(क्रि) काटना या काटकर खा जाना, मार डालना।
  4630. धसब—(क्रि) पाँव धसना, अंदर हो जाना। धा
  4631. धाई कमाइ धाई कमाई—(ब.मु.) कड़े परिश्रम की कमाई, दौड़-धूप करके की गई संचित संपति।
  4632. धाउब—(क्रि) दौड़ना, किसी की पुकार सुनकर दौड़ पड़ना।
  4633. धाकड धाकड़—(वि.) दबंग, दमदार , सरहग, सुविख्यात।
  4634. धॉंधर—(सं.पु.) पेट का दोनों कोष्टक, पेट-पीठ के बीच का भाग।
  4635. धाये तोरा—(अ.) जल्दी-जल्दी दौड़-धूप करके की गई त्वरित व्यवस्था।
  4636. धाय-धाय—(अ.) तोप या बंदूक की ध्वनि, वायु उत्सर्जन पर होने वाली ध्वनि।
  4637. धांय—(सं.स्त्री.) तोप बंदूक के छूटने का शब्द, ऊपर से वस्तु गिरने से उत्पन्न आवाज।
  4638. धारी—(स.ंस्त्री.) लकीर, लंबवत रेखा जो वस्त्र और फल पर दिखे।
  4639. धारीदार—(वि.) खड़ी लकीर युक्त वस्त्र या फल या वस्तु।
  4640. धारा—(वि.) बर्तनों की संख्या , इतने नग या इतने बर्तन। धि
  4641. धिकब—(क्रि) गर्म होना, पक जाना, तापयुक्त होना।
  4642. धिकबइय धिकबइया—(सं.पु.) तपाने वाला, गर्म करने वाला।
  4643. धासब—(क्रि) दबाव देकर जमीन के अंदर कर देना, खंभा गाड़कर गड्ढे की पोलाई को मिटटी से भरना।
  4644. धिमाउब—(क्रि) रफ्तार को कम कर देना।
  4645. धिमाब—(क्रि) तेज रफ्तार को कम कर देना।
  4646. धिमान—(वि.) कराहते हुए शांति स्थिति में हुई स्थिति।
  4647. धिरउब—(क्रि) किसी की हँसी उड़ाना, परेशान करना, खिसवाना।
  4648. धिरबाउब—(क्रि) किसी से किसी को परेशान करवाना या हँसी उड़वाना।
  4649. धिरबइया—(सं.पु.) खिसवाने वाला या हँसी उड़ाने वाला व्यक्ति। धु
  4650. धुंइधी—(सं.स्त्री.) अपच की डकार, अजीर्ण होने पर उत्पन्न गैस।
  4651. धुआस—(सं.स्त्री.) आटा की शैली में पीसने के लिए पानी से धुली व सूखी हुई उड़द की छिलका रहित दाल।
  4652. धुआंदेव—(ब.मु.) कष्ट पहुँचाना, नुकसान करना, किसी कार्य का अति करना, सीमा तोड़कर चलना।
  4653. धुइनी—(सं.स्त्री.) मोटी लकड़ी में लगाई गई आग जो बहुत दिनों तक न बुझे।
  4654. धुकुर-धुकुर—(अ.) धू-धू करके दीपक की लौ जलना, अति मंदगति से नाड़ी चलना, सांस टूटती हुई धड़कन।
  4655. धुकुर -पुकुर—(सं.पु.) दिल का धक-धक होना, जी-घबड़ाना, चित की अस्थिरता।
  4656. धुकुरब—(क्रि) पिटाई करना, पीट देना, मार पीट देना।
  4657. धुकब—(क्रि) धोखा खा जाना, चूक जाने की क्रिया, गति में रूकावट पड़ना
  4658. धुकधुकी—(सं.स्त्री.) भय लगना या डर का बना रहना, हृदय की धड़कन।
  4659. धुक—(सं.पु.) अमल का स्मरण , व्यसन की याद, नशा करने की इच्छा ।
  4660. धुक्का—(सं.पु.) किसी आदत या व्यसन की इच्छा।
  4661. धुधुरिआन—(वि.) धूल-धूसरित शरीर, धूल से सनी वस्तु।
  4662. धुधुरिआब—(क्रि) धूल-धूसरित होना , धूल में सन जाना।
  4663. धुधुंरूक—(सं.पु.) सूर्यास्त के समय का परिदृश्य, हल्का अंधेरा छा जाना ।
  4664. धुधुआन—(विशे.) मस्त , मास से लदा हुआ , मोटा तगड़ा।
  4665. धुधुरिआउब—(क्रि.वि.) किसी के धूल लगा देना, किसी को सस्ते में ठग लेना।
  4666. धुड़ेहरी—(सं.स्त्री.) होली का दूसरा दिवस , फाग का दिन।
  4667. धुतुरूआ—(सं.पु.) शहनाई की शैली का मुँह से बजने वाला बाजा।
  4668. धुघ्धा—(सं.पु.) धूल या धूलयुक्त गर्दा, उड़ती हुई धूल।
  4669. धुंधुआउब—(क्रि) व्यंग्य एवं आक्रोश में ही प्रयुक्त, आग लगाना , नष्ट करदेना।
  4670. धुधुआब—(क्रि) खा-पीकर मोटा-तगड़ा होना, मोटापा से फूल जाना।
  4671. धुन—(सं.पु.) एकाग्र मस्ती, स्थिर चित्त, लगन, अपनी गति में मस्त रहना।
  4672. धुनकबइया—(सं.पु.) रूई ओटने वाला, मारपीट करने वाला।
  4673. धुनकबाउब—(क्रि) रूई की धुनाई करवाना, भरवाना।
  4674. धुनकब—(क्रि) रूई औटना, कपास की धुनाई करने की क्रिया।
  4675. धुनब—(क्रि) जोर से सिर पर प्रहार करना, जोर से पिटाई करना।
  4676. धुनाइ धुनाई—(क्रि.वि.) किसी की पिटाई, मरम्मत करना, रूई की ओटाई करना।
  4677. धुपास धुपासे—(अन्य) भूखे-प्यासे रहकर कार्य करना, कड़ी धूप में।
  4678. धुरब—(क्रि) चूर्ण का छिड़काव , मन रखना या बहलाना।
  4679. धुरकब—(क्रि) घाव में पावडर छिड़कना ।
  4680. धुरिआउब—(क्रि) धूल लपेटना , धूल लगाना।
  4681. धुरचटटा—(स.पु.) एक तरफ से बिना अंतर के विशुद्ध झूठ या झूठ बोलने वाला।
  4682. धुरमुस—(सं.पु.) लोहे का एक औजार जिससे गिट्टी की कुटाई की जाती है।
  4683. धुसड़ा—(वि.) धूल से ओत-प्रोत, धूल की तरह रंग वाला।
  4684. धुसड़ाव—(क्रि) धुल-धूसरित हो जाना, शरीर की चमक उड़ जाना।
  4685. धूधूर—(सं.स्त्री.) धूल-धूल का संचित समूह , सूखी मिटटी के कण ।
  4686. धूर—(सं.स्त्री.) धूल-धूल के कण, मिट्टी के महीन अंशों का समूह ।
  4687. धूरि केरि जेड़री—(ब.मु.) सफेद गप्प मारना, झूठ का पुल बाँधना।
  4688. धूसड धूसड़—(सं.पु.) धूल के रंग, धूल से सना हुआ। धो
  4689. धोई धाई—(अ.) साफ सुथरी, पूर्ण पवित्र, निश्कलंक स्वच्छ छवि।
  4690. धोउब—(क्रि) धोना या साफ सफाई करना।
  4691. धोखिया—(सं.स्त्री.) धोखा देने वाली, जो धोखे से पैदा हो गई हो।
  4692. धोखिआब—(क्रि) धोखा खा जाना, सही ढंग से न समझ पाना।
  4693. धोगरव—(क्रि) मारना-पीटना, टुकड़े कर देना।
  4694. धोंधा—(सं.पु.) बहुत बड़ा छिद्र, मोटा- ताजा एवं फूला व्यक्ति।
  4695. धोधाव—(सं.पु.) मोटा-तगड़ा, इतनी अधिक मोटाई या असामान्य मोटापन।
  4696. धोधवा—(क्रि) अच्छे मोटे-तगड़े लंबे-चौड़े आदमी के लिए मनोविनोदी उद्बोधन।
  4697. धोबाउब—(क्रि) धुलवाना, साफ करवाना, धुलने में सहयोग करना।
  4698. धोबइया—(सुं.पु.) धुलाई करने वाला, साफ करने वाला।
  4699. धेमन—(सं.पु.) किसी वस्तु के धोने से शेष निकला पानी, मैल युक्त पानी।
  4700. धोबान—(विशे.) धुला हुआ , धोया हुआ , साफ सुथरा।
  4701. धोहा—(सं.पु.) भूसा में लट्ठ मारने से उत्पन्न ध्वनि, धेह की आवाज निकलना।
  4702. धंधोला—(क्रि.वि.) लंबी लपट के साथ जलना, होली की भाँति लौ।
  4703. धौ. विधौ.—(अ.) अनिश्चितता या अनिर्णयात्मकता की स्थिति शंका या संदेह। न
  4704. नइब नइबा—(वि.) नवीन वस्तु, अनूठी या नयी नवेली , वाद में क्रय की गयी वस्तु।
  4705. नइहर—(सं.स्त्री.) किसी नारी का मायका, मा-बाप का गाँव।
  4706. नउगिरही—(सं.स्त्री.) नारियों का आभूषण।
  4707. नउतिआन—(क्रि) भूत-प्रेत की झाड़-फूँक करते, जादू-टोना से मुक्ति दिलाना।
  4708. नउबंधा—(सं.पु.) नया बाँध, किसी खेत विशेष का नाम, नवीन मेंड़ से युक्त बांध।
  4709. नउलख नउलखा—(सं.पु.) नौ लाख के लागत का बना स्वर्ण आभूषण।
  4710. नउपरहा—(सं.पु.) नया व्यक्ति, पूर्व से अपरिचित, जो नया-नया आया हो, जो पहले कभी भी न देखा हो।
  4711. नउपर—(सं.पु.) नया खेत जो पहली बार जोता-बोया गया हो, वह व्यक्ति जो किसी कार्य को पहली बार कर रहा हो।
  4712. नउतिहा—(सं.पु.) झाड़-फूँक करने वाला तांत्रिक विद्या का ज्ञाता।
  4713. नउठट—(क्रि) नया पुराना करना, टूटी छप्पर में नए बाँस लगाना।
  4714. नउआ—(सं.पु.) नाई नापित, स्त्री.लिंग नउनिया नाउन।
  4715. नउआन—(सं.पुं.) नाई जाति के निवासियों की बस्ती या मुहल्ला।
  4716. नउमी—(सं.स्त्री.) रामनवमी का पर्व, नवमी तिथि, कक्षा नौ किसी संख्या की नौ इकाई।
  4717. नउधरामन—(वि.) मान-सम्मान में आघात पहुँचाने योग्य कार्य, प्रतिष्ठा दाँव, में लगाने लायक कार्य, ऊँगली उठने येग्य।
  4718. नउसिखिया—(सं.पु.) नया कार्य का नया कर्ता, जो परिपक्व न हो, नया-नया, किसी कार्य का कर्ता, नया प्रशिक्षणार्थी।
  4719. नउआनार—(ब.मु.) एक साथ दो काम , आम के आम गुठलियों के दाम ।
  4720. नकनकाब—(क्रि) नाक के बल बोलना , अस्पष्ट बोलना।
  4721. नकसुर—(क्रि) नाक के बल बोलने वाला या बात करने वाला।
  4722. नकलोह नकलोहू—(सं.प्र.) कुछ रक्त कुछ पीप का एक साथ निकलना।
  4723. नकुआब—(क्रि.वि.) नाक के बल स्वर निकलना, बात करते समय नाक से बोलना।
  4724. नकटा—(सं.प्र.) बेशर्म आदमी, जिसे लाज- शर्म न महसूस हो।
  4725. नकबेसर—(स.प्र.) नाक की नथुनी, वृत्ताकार आकृति में नाक में धारण करने वाला स्त्रियों का आभूषण।
  4726. नकबेल—(सं.प्र.) नाक की नथुनी , बृत्ताकार आकृति में नाक में धारण करने वाला स्त्रियों का आभूषण।
  4727. नकुआ—(सं.प्र.) नाक, सर्वोच्च वस्तु, सर्वोत्तम एवं प्रतिष्ठित व्यक्ति, मुख्य भाग या प्रमुख व्यक्ति।
  4728. नकुना—(सं.प्र.) नाक की तरह नुकीले आकृति का आम।
  4729. नगेसड़—(स.प्र.) छोटा बच्चा जो बिना कपड़े पहने स्थिति में हो या जो दिगंबरी साधू-संत मुनि, नंग-धडंग रहने वाला व्यक्ति।
  4730. नगड़ा—(सं.पु.) दुष्ट व्यक्ति, वस्त्र विहीन।
  4731. नगरा—(स.पु.) काठ के बने हल का एक अंग, कृषि औजार का एक नाम, हल का कंट्रोलर पार्ट।
  4732. नगरिया—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का नगाड़ा, छोटी नगरी, चर्मकार जाति का वाद्ययंत्र।
  4733. नगीचे—(अ.) नजदीक , समीपस्थ, पास में, आस-पास में।
  4734. नगमाचै—(सं.पु.) नागपंचमी का पर्व, श्रावण मास की पंचमी तिथि, नाग देवता को दूध पिलाये जाने वाला दिवस।
  4735. नगाड़ा—(सं.पु.) बहुत बड़े आकार का नगाड़ा, किसी गोपनीय वार्ता का प्रचार-प्रसार, नगाड़ा पीटना, बघेली मुहावरा।
  4736. नगड़ई—(विशे.) नग्न प्रदर्शन, विधि विरूद्ध एवं अशिष्ट व्यवहार।
  4737. नगाव—(क्रि) अस्वस्थ्य व्यक्ति, बीमार पशु, शिथिल मन, रोग-व्याधि ग्रसित
  4738. नगद—(विशे.) अच्छा या मजबूत, नगद।
  4739. नगिनिया—(सं.स्त्री.) नागिन नामक सर्पिणी, नग्न रहने वाली प्रजाति की साध्वी।
  4740. नचाउब—(क्रि) नचाना, घुमाना,फिराना, नृत्य कराना।
  4741. नचबाउब—(क्रि) नृत्य करवाना, किसी को परेशान करना।
  4742. नचइया—(सं.पु.) नाचने-गाने वाला, नृत्य- गान पेशे में संलग्न व्यक्ति।
  4743. नचउना—(सं.स्त्री.) मोजरा, नाचने का पारिश्रमिक, नृत्य क्रिया के बदले प्राप्त धन।
  4744. नटबा—(सं.प्र.) छोटा बछड़ा, हल में न चला हुआ बैल।
  4745. नटिया—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का पतला नाटा बैल, कम उम्र का नया बछड़ा।
  4746. नटब—(क्रि) कहकर बिलकुल बदल जाना, एक उत्तर में अड़े रहना।
  4747. नटइ नटई—(सं.स्त्री.) राग या आवाज, कण्ठ या गला, कण्ठ का स्वर।
  4748. नजरिआउब—(क्रि) नजर लगाना, डींठ लगाना।
  4749. नतपतोह—(सं.स्त्री.) नाती पत्नी, पुत्र की बहुरानी, प्रपौत्र वधू।
  4750. नतिनिया—(सं.स्त्री.) पुत्र की पुत्री, प्रपौत्री, बेटे की बेटी।
  4751. नतिअउ—(सं.पु.) नाती, पुत्र का पुत्र, प्रपौत्र, स्नेहिल आम व्यक्ति।
  4752. नतीबा—(सं.पु.) नाती, प्रपौत्र के लिए स्नेहिल संबोधन।
  4753. नथिआ—(स.ंस्त्री.) नारियों के नाक का वृत्ताकार आभूषण।
  4754. नथुना—(सं.पु.) नाक, बड़े आकार की नथुनी।
  4755. नदबा—(सं.पु.) बटलोई के आकार का मिट्टी का पात्र।
  4756. नदाब—(क्रि) शांत हो जाना, झगड़ा खतम हो जाना, नाराजगी का दूर होना।
  4757. नधब—(क्रि) काम में संलग्न होना, निरंतर काम में लगे रहना।
  4758. नधबाउब—(क्रि) खेत में हल चलवाना, हल जुआ में बैल को संलग्न कराना।
  4759. नधबइया—(सं.पु.) नांधने वाला, बैल को हल जुआ में संलग्न करने वाला, हलवाहा।
  4760. ननिआउर—(सं.पु.) नाना का घर, माता का मायका।
  4761. ननदोई—(सं.पु.) पति का बहनोई, ननद का पति, ननदोय।
  4762. नन्हिआउब—(क्रि.वि.) छोटे-छोटे टुकड़ों में विभक्त करना, महीन या बारीक रूप में कटाई करना।
  4763. ननद—(सं.स्त्री.) पति की बहन।
  4764. नपिया—(सं.प्र.) जमीन नापने वाला, नाप- जोख करने वाला।
  4765. नपउना—(सं.पु.) नापने की मजदूरी, नपाई शुल्क।
  4766. नपाउब—(क्रि) नाप करवाना, सीमा का नाप-जोख कराना।
  4767. नपबइया—(संपु.) नाप-जोख करने वाला, नापने वाला।
  4768. नपना—(सं.पु.) जिससे नापने का कार्य किया गया हो, मापक यंत्र।
  4769. नबेरब—(क्रि) छांटना, मनपंसद चयन करना, उपयुक्त छंटाई।
  4770. नमाईन—(ब.मु.) बड़े मुश्किल में, नया-नया, नमाइन के तुपकदार मूड़े में गोरसी, लोकोक्ति।
  4771. नमइंह नमइंहा—(सं.पु.) जो पहलीबार कोई चीज देखा हो, अंजान व अनभिज्ञ।
  4772. नरइया—(सं.स्त्री.) नाले से छोटी आकार वाली जल प्रवाहिनी अनाज जैसे गेंहूँ का शेष डंठल, नाड़े के आकार की पतली रस्सी।
  4773. नरबा—(सं.पु.) नाला, नाले के आकार की जमीन की आकृति।
  4774. नरेहटी—(सं.पु.) गला या गर्दन, कण्ठ की उभरी हड्डी।
  4775. नररब—(क्रि) किसी को अकारण परेशान करना,प्रताड़ित करना।
  4776. नरिआब—(क्रि) जोर-जोर से चिल्लाना,गला फाड़कर आवाज निकालना।
  4777. नरिबाउब—(क्रि) किसी को चिल्लाने के उत्प्रेरित कर देना।
  4778. नरइ नरई—(सं.स्त्री.) फसल का डंठल।
  4779. नरिअर—(सं.पु.) नारियल का फल, नारियल का पेड़, झुकावदार आकार के खपड़े के लिए संबोधन।
  4780. नरिया—(सां.स्त्री.) छप्पर में छाया जाने वाला खपड़ा जो ऊपर भाग में रखा जाता है।
  4781. नरिअरा—(सं.पु.) नालीनुमा शैली का खपड़ा, नारियल का पेड़।
  4782. नर—(सं.पु.) कय एवं दस्त का एक साथ होना।
  4783. नखा—(सं.पु.) वर्षा के पानी से निर्मित पतला नाला, छोटा मोटा नाला।
  4784. नरघेहिआ—(सं.स्त्री.) पानी निकास की पतली नाली, बर्तन साफ करने का जल।
  4785. नरदा—(सं.पु.) वह स्थान जहाँ निश्चित रूप से भोजन बनाने वाले बर्तनों को साफ किया जाता है।
  4786. नलही—(सं.स्त्री.) लोहे की नाल लगी जूती, नाल ठोकी वस्तु।
  4787. नसान—(विशे.) खराब प्रवृत्ति या बिगड़ी आदत, विधवा औरत।
  4788. नसाब—(क्रि) वस्तु का खराब हो जाना, बिगड़ जाना, विकृत सरंचना।
  4789. नसाउब—(क्रि) बने काम को बिगाड़ देना, बनाकर मिटा देना।
  4790. नसतड़क—(क्रिवि.) नसों का इधर-उधर हो जाना, शरीर के किसी अंग में मोच का आ जाना, अपने नियत स्थान से नस का हट जाना।
  4791. नसबइया—(सं.पु.) बिगाड़ देने वाला व्यक्ति , खराब करवाने वाला।
  4792. नहकोट—(क्रि.वि.) नाखून से बना शरीर का चिन्ह, शरीर को नाखून का छिलाव, शरीर में नाखून की रेख।
  4793. नंग धड़ंग—(विशे.) नंगा, वस्त्र विहीन, दिगंबर।
  4794. नंघा—(विशे.) नग्न व्यक्ति, वस्त्र विहीन या निपर्दा व्यक्ति, दुष्ट प्रवृत्ति वाला व्यक्ति,मुँहफट्ट एवं बदनाम आदमी। ना
  4795. नांई—( (अ.) समतुल्य, समान, तरह, भाँति, नापित।
  4796. नाउब—(क्रि) डालना,किसी वस्तु में कोई वस्तु डालना।
  4797. नाकब—(क्रि) लांघना, पार होना, ऐसा बैरियर जिसे कूदकर या लाँघकर पार हो सकें, पशुओं के प्रवेश निषेधक, अवरोधक।
  4798. नागा—(सं.पु.) नंगे वदनवाले साधु, बीमार व्यक्ति या बुखार की वेदना, खराब कार्य।
  4799. नाट—(सं.स्त्री.) पानी भरे बाँध से अतिरिक्त जल निकास का रास्ता, पानी का उछाल द्वार।
  4800. नाटा—(सं.पु.) ठिगने कद का प्राणी,बछड़ा या यौवनायुक्त नया बैल।
  4801. नाटर घुसुआ—(ब.मु.) इधर का उधर करना, भीतर का बाहर करना।
  4802. नातर—(अ.) नहीं तो, अन्यथा या तो फिर, बल्कि, इसके बिना, नहीं तो, फिर वैसा, नहीं फिर ऐसा।
  4803. नात—(सं.पु.) रिश्तेदार , संबंधी।
  4804. नांद—(सं.पु.) मिटटी का बना हुआ टब, पानी भरने का पात्र।
  4805. नादब—(क्रि) टिक पाना या किसी का किसी के पास रह पाना।
  4806. नादिया—(सं.पु.) मंसा मुँहवाला बैल, महादेव के प्रतीक रूप में मान्यता प्राप्ति बैल।
  4807. नाधब—(क्रि) बैलों को खेत जोतने के लिए हल में संलग्न करना।
  4808. नापब—(क्रि) नापना, नाप-जोख करना, पैमाइश करना।
  4809. नामी—(क्रि) नामजादी, मशहूर, नामधारी, माना-जाना नाम।
  4810. नार—(सं.पु.) जोर से आवाज करना, पशुओं का अविरल गति से करूण क्रंदन, लताओं की उपलताएँ।
  4811. नासब—(क्रि) काम को बिगाड़ देना, नष्ट करना, आशा में पानी फेरना।
  4812. नान्ह—(वि.) छोटे-छोटे कण, महीन या बारीक, अतिसूक्ष्म या छोटा, बहुत छोटे-छोटे अंश।
  4813. नाहर—(सं.पु.) शेर या बाघ, बहुत खतरनाक एवं भयावह कीड़ा।
  4814. नाहक—(सं.पु.) बिना मतलब के, अकारण, व्यर्थ में । नि
  4815. निकठउर निकठउरे—(सं.पु.) खुला मैदान, बिना छाया की जगह, खुले आसमान के तले उठने बैठने लायक सममतल भूमि।
  4816. निकबर—(क्रि) विशुद्ध रूप से, पूर्णतया, शुद्ध, मिलावट रहित, एक ही राशि या प्रजाति का समूह।
  4817. निकचाब—(क्रि) काम तमाम कर डालना, थोड़ा सा बचना, स्थान या उद्देश्यके करीब, कुछ नजदीक पहुँच जाना।
  4818. निकूच—(वि.) आवश्यकता से अधिक कृपण, आवश्यक आवश्यकता के मद में भी न खर्च करने वाला।
  4819. निकहा—(वि.) सुंदर एवं अच्छा, प्रशंसनीय, कल्याणकारी कार्य।
  4820. निकाइ निकाई—(सं.पु.) भलाई, अच्छापन, सुंदरता, कुशलता।
  4821. निकरबाउब—(क्रि) किसी को कहकर बाहर निकलवाना।
  4822. निकरब—(क्रि) पकड़कर घर से बाहर करना, किसी को गाँव से निकाल देना, निकालना, बाहर करना।
  4823. निकरबइया—(सं.पु.) बाहर निकालने वाला, निकाल लेने वाला।
  4824. निकास—(सं.पु.) अंदाज, परीक्षण, सत्य का ज्ञान।
  4825. निकार—(सं.पु.) निकलने का रास्ता, निकास द्वार, घर के दरवाजे एवं द्वार की दिशा,घर का सामान।
  4826. निखिद्ध—(वि.) निकृष्टि वस्तु, विचारभाव मानसिकता, क्रियाकलाप, व्यवहार, भोजन, निंदनीय एवं घृणित व्यक्ति।
  4827. निखोसा—(सं.पु.) जड़ या मूर्ख, मूल्य विहीन व्यक्ति, बिना सामर्थ्य का कार्य करने वाला, अनादर सूचक एक गाली।
  4828. निखरा—(क्रि) अंतिम निर्णय, रहस्य जानना, विवरण लेना।
  4829. निगहा—(सं.पु.) काले रंग का चीटा, एक कीड़ा-मकोड़ा विशेष।
  4830. निगही—(सं.स्त्री.) स्त्री. वाचक, चींटी काले रंग का मटा।
  4831. निघारब—(क्रि) चक्की से आटा एकदम निकाल लेना।
  4832. निचोउब—(क्रि) दबाकर या ताकत लगाकर निचोड़ना, दूध दुहना, शोषण करना, रससार चूस लेना।
  4833. निचोबइया—(सं.पु.) निचोड़ लेने वाला, निचोड़ने वाला।
  4834. निचोमन—(सं.पु.) निचोड़ने से निकलने वाला तरल पदार्थ, कपड़े से निकला गंदा पानी।
  4835. निचटटा—(वि.) बिलकुल या सामने, एकदम या एकबारगी, बिना बाधा-विघ्न के, बहुत दूर तक का दिखना।
  4836. निचटबइया—(सं.पु.) एकदम से पानी पोंछकर साफ करने वाला।
  4837. निचटब—(क्रि) बर्तन से पानी पोंछ सा लेना, जमीन से पानी साफ करना चाट सा लेना।
  4838. निचटबाउब—(क्रि) पानी पोछवाना, पोछवाकर साफ करवाना।
  4839. निचंदर—(वि.) खुला एवं निर्मल आकाशीय स्थिति, बादलरहित एवं प्रकाशयुक्त आकाश।
  4840. निछला—(वि.) स्वतंत्र एवं स्वंच्छद, विशुद्ध वस्तु, वह अनाज जिसमें दूसरे अनाज के दाने न मिले हों।
  4841. निछरब—(क्रि) फली के छिलके का अलग होकर दाना निकल आना, फट जाना।
  4842. निछक्का—(क्रि.वि.) ऊपर ही ऊपर छलांग लगाना, एकदम से बिना शरीर का अंग स्पर्श हुए कूद जाना।
  4843. निछरबाउब—(क्रि) फली के दाने अलग करवाना, कपड़े फड़वा देने में योगदान करना।
  4844. निछरबइया—(सं.पु.) फली से दाने अलग करने वाला, कपड़े फाड़ने वाला व्यक्ति।
  4845. निझरिगा—(क्रि.वि.) पौधे में लगे फल का पूर्णतः झड़ जाना,फल के पककर समाप्त हो जाने की स्थिति, चुकता हो जाना।
  4846. निझररब—(क्रि) पेड़ में फले फल का खत्म हो जाना, फल पेड़ में न दिखना।
  4847. निझारब—(क्रि) फल का झड़ जाना, समाप्त हो जाना।
  4848. निझरबइया—(सं.पु.) पेड़ से फल तोड़कर पेड़ को खाली कर देने वाला।
  4849. नितलबे—(वि) ऐसा कार्य जिसके उत्पादन में स्वयं का स्वामित्व हो , जिस व्यवस्था से किसी को लेना-देना न हो।
  4850. निथारब—(क्रि) बर्तन से पानी निकाल लेना और एक बूँद भी न छोड़ना।
  4851. निथरबइया—(सं.पु.) एक-एक बूँद पानी निथारने वाला व्यक्ति।
  4852. निथरबाउब—(क्रि बर्तन से एक-एक बूँद पानी निथरवा लेना।
  4853. निदाउब—(क्रि) खेत की निराई करना, अन्न के पौधे से घास निकालना।
  4854. निदूहब—(क्रि) किसी का पूर्णरूपेण शोषण करना, किसी को ऐसे लूटना कि उसके पास कुछ न बचे।
  4855. निदबाउब—(क्रि) किसी से खेत में घास की निरवाई करवाना।
  4856. निदइया—(सं.पु.) निराई करने वाला व्यक्ति।
  4857. निदाइ निदाई—(वि) निदाई की मजदूरी, मेहनताना।
  4858. निधाँस—(वि.) बिलकुल खुला बदन, शरीर के ऊपरी भाग की नग्न स्थिति, खुली पीठ, खाली पेट, बिना कुछ खाये-पीये स्थिति।
  4859. निनार—(वि.) अलग-थलग, रहन-सहन, पृथक भोजन व्यवस्था, आत्म निर्भर एवं बँटवारा करके पृथक व्यवस्था।
  4860. निधुंआ—(वि) मंद आग, धुँआ रहित अंगार।
  4861. निपटव—(वि.) काम से उबरना, किसी काम को कर लेना, किसी से झगड़ा करने की धमकी, प्रश्न के अनुरूप जबाव देने को तैयार रहना।
  4862. निपटबइया—(सं.पु.) निपटारा करने वाला, निर्णय करके मामला समाप्त करने वाला।
  4863. निपटारा—(क्रि.वि.) फैसला, निदान, निर्णय।
  4864. निपोकनंगा—(ब.मु.) जिसके और कोई न हो, धन संपत्ति बिलकुल न हो ऐसा आदमी, दिवालिया हुआ सा व्यक्ति।
  4865. निपटाउब—(क्रि) मामले का रफा-दफा करवाना, काम खत्म करवाना, निपटारा करवाना।
  4866. निपरदा—(वि.) खुल्लम-खुल्ला, पूर्णतया नग्न,वस्त्र विहीन शरीर, शर्मनाक स्थिति।
  4867. निपांग—(सं.पु.) जो पाँव से अपंग हो, संबल विहीन, चलने-फिरने में असमर्थ, साधन-सुविधा रहित।
  4868. निपोरबा—(सं.पु.) नगण्य व्यक्ति, ऐरा-गैरा आदमी, अयोग्य एवं अस्तित्व विहीन, अपमान या उलाहना जन्य गाली।
  4869. निपुरा—(सं.पु.) पुरूर्षो के लिए एक गाली, स्त्री.. निपुरी।
  4870. निपुरचुपुर—(अ.) कार्य में आना-कानी करना, अस्पष्ट एवं संदिग्ध क्रियाकलाप।
  4871. निपोरबाउब—(क्रि) किसी के द्वारा किसी को मरवा डालना, किसी से अपने मूत्रांग की चमड़ी खुलवाना।
  4872. निपेचब—(क्रि) छिलके से दाना निकाल लेना, शान दिखाना नाव का सउखि निवोचब, बघेली मुहावरा।
  4873. निपचब—(क्रि) पोल, जगह पाकर पुलक जाना, अस्त्र के मूठ का निकल जाना।
  4874. निपचबइया—(सं.पु.) पोलाई से घुसकर आर-पार हो जाने वाला व्यक्ति।
  4875. निपचाउब—(क्रि) पोलाई से निकलवाना।
  4876. निपोरब—(क्रि) निकालना, दाँत काढ़ना, मूत्रांग की चमड़ी खोलना, मार डालना।
  4877. निपोर—(क्रि) कुछ नहीं, बाँस का एक पोर , अपशब्द एवं अश्लील का पर्याय, अपशब्द, गाली (ब.मु.)।
  4878. निफारब—(क्रि) कोई नुकीली वस्तु चुभाकर आर पार कर देना।
  4879. निफरब—(क्रि) अनाज की बाल निकालना , इस पार से उस पार चुभकर निकलना।
  4880. निबहब—(क्रि) उपयोग या उपभोग, गुजारा करना,कार्य में प्रयोग करना।
  4881. निबाहब—(क्रि) अंत तक साथ निभाना, किसी का जीवन निर्वाह, दायित्व को अच्छे ढंग से पूरा करना।
  4882. निबहिबइया—(सं.पु.) निभाने वाला , सामान का प्रयोग करने वाला, निबहि करने वाला।
  4883. निबला—(सं.पु.) धन-दौलत से गरीबजन, प्राणी एवं शरीर से कमजोर जान।
  4884. निबलाब—(क्रि) दिन-प्रतिदिन कमजोर होना, सूख जाना व रोग ग्रस्त होना।
  4885. निबहुर—(विशे.) जो जाकर कभी वापस न आये।
  4886. निबलइ निबलई—(सं.स्त्री.) निर्बलता, कमजोरी।
  4887. निबलान—(वि.) जो अति दुर्बल हो गया हो , दुबला हुआ व्यक्ति।
  4888. निमिया—(सं.स्त्री.) नीम का छोटा सा पेड़, किसी नारी विशेष का नाम, नीम की तरह कड़वी वाणी बोलने वाली।
  4889. नियाउ—(सं.पु.) न्याय का निर्णय , विवादित विषय का न्यायिक निपटारा, उचित-अनुचित का फैसला।
  4890. निरदंग—(सं.पु.) पूर्ण स्वतंत्र एवं स्वच्छंद , जिस पर किसी प्रकार का भार का दायित्व न हो।
  4891. नियर—(अ.) नजदीक, समीप, पास।
  4892. निरामन—(सं.पु.) खर-पतवार निकालकर रखा गया कचरा, खरीफ फसल के खेत से निकली घास।
  4893. निरजल निरजला—(वि.) निर्जल,बिना पानी के , बिना पानी पिये व्रत।
  4894. निरउही—(सं.स्त्री.) फसल से घास निकालने का पारिश्रमिक, खरीफ के पौध धान या कोदो समूह से निकली घास।
  4895. निराइ निराई—(सं.स्त्री.) निरउहीं या निरमन, निदाई।
  4896. निरहोर—(सं.पु.) घुटने और पाँव के बीच का हिस्सा, पेडूरी के ऊपरी भाग।
  4897. निरभोटब—(क्रि) समूल रूप से पत्ती या फल तोड़ना, इस तरह किसी पौधे से फल तोड़ना कि उसमें कुछ न बचे।
  4898. निरा—(वि) एकदम, बिलकुल, नितांत, बिना मिलावट के, विशुद्ध।
  4899. निरदइ निरदई—(वि.) कठोर हृदय वाला, मोह ममता विहीन, जिसके दया-धर्म न हो।
  4900. निरमा—(सं.पु.) बर्तन या कपड़ा साफ करने का साबुन, विकल्प वाला चूर्ण।
  4901. निरबाह—(सं.पु.) जीवन-यापन, दैनिक दिनचर्या पूरी करना, गुजारा चलाना, पार लगाना या वचन निभाना।
  4902. निरमोहिल—(वि) जिसके हृदय में मोह-ममता का अंश तक न हो।
  4903. निरवंसी—(वि.) जिसके वंश में कोई न बचाहो।
  4904. निरबारब—(क्रि) विवादित वस्तुस्थिति को सुलझा देना, जान से मार डालना, उलझन से मुक्त करना।
  4905. निरबरबइया—(सं.पु.) उलझन से मुक्त कराने वाला, विवाद से सुलझाने वाला।
  4906. निल्लोह—(वि) मुख में बिना दाना पानी डाले की स्थिति, पूर्णतः खाली पेट, सुध खबर न लेने वाला।
  4907. निलज्ज—(वि.) जिसके लज्जा-शर्म न हो।
  4908. निसोच—(वि.) बिना चिंता के सोच-विचार रहित, विघ्न-बाधा विहीन।
  4909. निहुरइयां—(अ.) निहुरे’-निहुरे, झुके-झुके, लुके-लुके।
  4910. निहाई—(संस्त्री.) लोहा पीटने वाला लोहार का लोहे का औजार, धार निकालने वाला लोह का गुटका।
  4911. निहुरब—(क्रि) किसी के सामने किसी व्यक्ति का झुकना।
  4912. निहुराउब—(क्रि) किसी वस्तु को अपनी ओर झुकाना, अपने आगे झुकाना, अपने अधीन या काबू में करना, अपनी ओर लटकाना।
  4913. निहुरबइया—(अ.) हमेशा सामने झुक जाने वाला, किसी को झुकाने वाला।
  4914. निहरबइया—(सं.पु.) देखने वाला, दूसरे को समझने व देखने वाला।
  4915. निहारब—(क्रि) देखना, नजर टिकाये रखना, दृष्टि लगाना, मुँह ताकना।
  4916. निहरबाउब—(क्रि किसी से दिखवाने के लिए दबाव बनाना। नी
  4917. नीक—(वि) अच्छा या शुभलायक, उत्तम स्वभाव व उच्च विचार वाला हितकर, सुंदर तथा साफ-सुथरी छवि युक्त।
  4918. नीक नागा—(ब.मु.) भला-भला, ऐन-केन प्रकारेण, अच्छा-बुरा जैसा बन पड़ा, (ब.मु.) किसी प्रकार से कोटा पूर्ति।
  4919. नीक नीके—(अ.) अच्छे ढंग से स्वस्थ्य एवं सानंदपूर्वक, सकुशल एवं प्रसन्नचित, अच्छी तरह से।
  4920. नीछब—(क्रि) छिलका छीलना, फली से दाने निकालना, पहने कपड़े फाड़ देना, रूई से बिनौला अलग करना।
  4921. नीचे—(अ.) नीचे की ओर तले, घटकर, कम।
  4922. नीदब—(क्रि) उगी फसल के पौधें से घास छीलना, खरपतवार निकलना।
  4923. नउनाउब—(क्रि) किसी वस्तु को बनाते-बनाते या सजाते-संवारते समय बिगाड़ देना, व्यंग्य की दशा में प्रयोग। ने
  4924. नेउन—(सं.पु.) गुणवान या जानकर, विशेषज्ञ या गुणी व्यक्ति।
  4925. नेउतब—(क्रि) निमंत्रित करना, निमंत्रण देना, किसी विद्या विशेष में पारंगत।
  4926. नउता—(सं.पु.) आमंत्रण, निमंत्रण।
  4927. नेउतहरी—(सं.पु.) आमंत्रित या निमंत्रित व्यक्ति, अतिथि गण।
  4928. नेगनहरी—(सं.स्त्री.) उत्सव विशेष में हक लेने वाली, विवाहोत्सव में पारंपरिक ढंग दायित्व विशेष के लिए निर्धारित नारीपात्र।
  4929. नेग—(सं.पु.) किसी उत्सव विश्ेष में प्रचलित परंपरागत हक किसी दायित्व के बदले प्रोत्साहन अंश।
  4930. नेबार—(सं.पु.) पलंग बुनने का सूत का पट्टा, नेवाड़।
  4931. नेमी—(वि.) धर्म-कर्म करने वाला, नियम का पालन करने वाला।
  4932. नेम—(स.पुं.) नियम दस्तूर परंपरा धर्म रीति रिवाज का पालन।
  4933. नेमुआ—(सं.पु.) निब्बू, नींबू।
  4934. नेबुआ अरापक—(ब.मु.) एकदम भूखे, दाना-पानी खाये बिना।
  4935. नेरिआब—(कि.) जोर-जोर से चिल्लाना, गला फाड़-फाड़कर पुकारना, चीखना, चिल्लाना।
  4936. नेरिबाउब—(क्रि) किसी के द्वारा जोर-जोर से चिल्लवाना।
  4937. नेरा जोरा—(ब.मु.) हिसाब-किताब फैसला, पूर्ण निर्णय, बघेली मुहावरा।
  4938. नेरिबइया—(सं.पु.) जोर-जोर से चिल्लाने वाला आदमी।
  4939. नेरूआ—(सं.पु.) किसी फल को पौध के अंग से जोड़ने वाला डंठल, फल का वह निश्चित भाग जड़ा डंठल जुड़ा रहता है।
  4940. नेरभर—(अ.) नजदीक तक पास तक, बहुत पास।
  4941. नेर नेरे—(अ.) नजदीक या पास में, साथ में या करीब।
  4942. नेरा—(सं.पु.) हरे बाँस की पतली लंबवत खपच्ची, हरे लंबे बाँस को पतले- पतले परत में विभक्त खण्ड विशेष।
  4943. नेव—(सं.पु.) नींव या आधार, किसी वस्तु की बुनियाद। नो
  4944. नोइ नोई—(सं.स्त्री.) पशु दोहन के समय पैरों में बाँधी जाने वाली रस्सी।
  4945. नेउब—(क्रि रस्सी से गाय का पाँच दुहने हेतु बाँधना।
  4946. नोकड़ी—(सं.पु.) नौकरी, मजदूरी, सेवा।
  4947. नोकड नोकड़—(सं.पु.) नौकरी करने वाला, पराधीन व्यक्ति, अधीनस्थ या सेवक, नौकर।
  4948. नोकड़िहा—(सं.पु.) नौकरी करने वाला व्यक्ति।
  4949. नेकब—(क्रि) टोकना, चुनौती देना,पानी चढ़ाना, अशगुन करना।
  4950. नोख नोखे—(सं.पु.) तेज या जोरदार , तेज व्यक्ति बनने की दशा में व्यंग्य बोधक, किसी व्यक्ति का नाम।
  4951. नोकइया—(सं.पु.) रोकने-टोकने वाली प्रवृत्ति का व्यक्ति।
  4952. नोचइया—(सं.पु.) तोड़ने वाला या छीनने वाला, लूट-खसोट करने वाला।
  4953. नोचब—(क्रि) तोड़ लेना, लपटकर छुड़ा लेना।
  4954. नोचबाउब—(क्रि) किसी से तुड़वा लेना, चमड़ी निकलवा लेना।
  4955. नोन—(सं.पु.) नमक, नोन, पानी केर कान, बघेली मुहावरा।
  4956. नोनखर—(वि.) नमकीन स्वाद।
  4957. नोनचा—(सं.पु.) नमक मिलाकर धूप में सुखाया गया आम का छिलका।
  4958. नोनहा—(सं.पु.) खारा या नमकीन स्वाद का पदार्थ, नमक रखने वाला पात्र।
  4959. नोय नोये—(ब.मु.) प्रतिबंधित या अनुबंधित।
  4960. नोहर—(वि.) अच्छी एवं सुंदर वस्तु, स्वादिष्ट एवं ताजा पदार्थ। प
  4961. पइना—(सं.पु.) चबेना भूनने वाला मिट्टी का बड़ा कटोरानुमा पात्र।
  4962. पइजामा—(सं.पु.) पजामा।
  4963. पइरब—(क्रि.) पानी पर तैरना, यहाँ-वहाँं मन दौड़ाना।
  4964. पइराउब—(क्रि.) किसी कौ तैरवाना, तैरने के लिए प्रेरित करना।
  4965. पइरा—(सं.पु.) पुआर, पिअरा, तैरा, तैरिए।
  4966. पँइती—(सं.स्त्री.) पूजा-पाठ में धारित घाँस की अँगूठी, पैंती।
  4967. पइनारी—(सं.स्त्री..) हलवाहे की कील लगी लाठी।
  4968. पइसरम—(सं.पु.) परिश्रम, मेहनत, प्रयास।
  4969. पइला—(सं.पु.) एक किलो की क्षमता का काष्ठ का पात्र।
  4970. पइजनी—(सं.स्त्री..) घुँघुरू लगी बड़ी पायल।
  4971. पइसुनी—(सं.स्त्री.) गंगा नदी, भव सागर।
  4972. पइलगी—(सं.स्त्री.) दुआ-सलामी, चरण स्पर्श, अभिवादन।
  4973. पइराँव—(विशे.) तैरने योग्य पानी की मात्रा या गहराई।
  4974. पइरी—(सं.स्त्री.) नारियों के पाव का गहना, एक दौर में होने वाली गहाई की फसल डंठल।
  4975. पइहेय—(क्रि.) पाओगे, पा लोगे, पा जाओगे।
  4976. पइहौं—(क्र्रि.) पाऊँगा, पाऊँगी, पा जाउँगी।
  4977. पइरबेय—(क्रि.) तैरोगे, तैरोगी, पहरोगी।
  4978. पइरबू—(क्रि.) पहरोगी, तैरोगी।
  4979. पइसा—(सं.पु.) पैसा, धन-सम्पत्ति।
  4980. पउहाउब—(क्रि.) जलाशय में प्रवाहित करना, विसर्जन करना।
  4981. पउठा—(सं.पु.) बरसात में पाँव रखने के लिए प्रयुक्त पत्थर के टुकड़े।
  4982. पउनेआठ—(ब.मु.) पउने आठ होना अर्थात् न समझ या मंद अक्ल का।
  4983. पउआ—(सं.पु.) एक पाव का बाट, एक पाव का बर्तन, पहुँच होना, शराब का प्रतीक, पउआ जमाउब, बघेली मुहावरा।
  4984. पउनीपरजा—(सं.पु.) किसान के सहयोगी जैसे बढ़ई, लुहार, नाई, कुम्हार।
  4985. पउलीबुडाँव—(विशे.) पाँव का तलवा डूबने भर के पानी की गहराई।
  4986. पउतहा—(सं.पु.) कहीं से निशुल्क पाया हुआ, प्राप्त हुआ सामान, दान या दहेज में मिली वस्तु।
  4987. पकब—(क्रि.) पकना, परिपक्व होना, समर्थ बनना, पक जाना।
  4988. पकउब—(क्रि.) पकाना, परिपक्व बनाना।
  4989. पकबाउब—(क्रि.) किसी से पकवाना, पूरा बनवाना।
  4990. पका—(विशे.) पूर्ण परिपक्व, पका हुआ।
  4991. पकरान—(विशे.) पका हुआ, पीलापन लिए हुए।
  4992. पकपकाब—(क्रि.) घाव का पककर बहना, पानी से गीला होकर कीचड़ उभर आना, क्रोधित होकर वार्ता करना।
  4993. पकऊँ—(विशे.) पकने योग्य स्थिति, पकने वाली स्थिति।
  4994. पकबइया—(सं.पु.) परिपक्व बनाने वाला, पकाने वाला।
  4995. पकरा—(विशे.) सूखी तम्बाकू-चूना, पके बालों वाला व्यक्ति।
  4996. पकती—(सं.स्त्री..) पसुली, पीठ की पतली पसलियाँ।
  4997. पकराब—(क्रि.) कुछ-कुछ पकना, पकने की स्थिति में आना या होना।
  4998. पउठिआब—(क्रि.) वर्षा के बाद आँगन में पाँव रखने जगह की मिट्टी का ठोस हो जाना।
  4999. पउन—(विशे.) एक चौथाई, कम मात्रा।
  5000. पउठी—(सं.स्त्री.) आधा पाव का काष्ठ का नपना, पुराना ग्राम्य पैमाना।
  5001. पउली—(सं.पु.) पाँव का तलवा।
  5002. पउँद—(सं.स्त्री.) मण्डप के नीचे वर- कन्या के चलने के लिए बिछी धोती या वस्त्र।
  5003. पउँदर—(सं.पु.) जमीन पर इधर-उधर अव्यवस्थित फैली हुई वस्तुस्थिति। ‘पउदर परब’ बघेली मुहावरा।
  5004. पउसरा—(सं.पु.) निःशुल्क प्याऊ, ’पउसरा खुलब’ बघेली मुहावरा।
  5005. पउलब—(क्रि.) टुकड़े-टुकड़े काटना, खण्डित करना।
  5006. पउलबाउब—(क्रि.) किसी से टुकड़े-टुकडे़ कटवाना।
  5007. पउलबइया—(सं.पु.) टुकड़े-टुकड़े काटने वाला व्यक्ति।
  5008. पउलबाई—(सं.पु. ) काटने के बदले प्राप्त पारिश्रमिक, मेहनताना।
  5009. पउढब—(क्रि.) पड़ना या सोना, समतल लेट जाना।
  5010. पउढाउब—(क्रि..) किसी को पड़ाना या लेटाना।
  5011. पउढबइया—(सं.पु.) किसी को पड़ाने या लेटाने वाला व्यक्ति, पड़ने या लेटने वाला।
  5012. पउरूख—(सं.पु.) पौरूष, क्षमता, पुरूषार्थ।
  5013. पउनिआउब—(क्रि.) किसी वस्तु का तीन भाग एक तरफ इकट्ठा कर देना।
  5014. पकड़ब—(क्रि.) पकड़ना।
  5015. पकड़ाउब—(क्रि.) किसी से पकड़वाना, किसी के हाथ में वस्तु देना।
  5016. पकड़बाउब—(क्रि.) किसी से कोई वस्तु पकड़वाना, पकड़ने में सहयोग।
  5017. पकड़बइया—(सं.पु.) पकड़ने वाला व्यक्ति।
  5018. पकड़ँऊ—(विशे.) किसी वस्तु का पकड़ में आने योग्य स्थिति।
  5019. पकउड़ी—(सं.स्त्री..) पकौड़ी, भजिया, व्यंजन।
  5020. पक्खान—(ब.मु.) टसमस न होना, आसन जमाकर जम जाना।
  5021. पख—(सं.स्त्री.) कमी, कलंक, दाग, कमजोरी, दोष, गड़बड़ी।
  5022. पखउरा—(सं.पु.) भुजा का जोड़ स्थल, कधे के नीचे का पृष्ठ भाग।
  5023. पखिआरी—(सं.स्त्री.) पतिंगा, बरसाती कीड़ा।
  5024. पखुरी—(सं.स्त्री.) पंखुरी, फूल की कली, पतली हड्डी या पसली।
  5025. पखना—(सं.पु.) पंख, पखना खोंसब, बघेली मुहावरा।
  5026. पखारब—(क्रि.) पछारना, कपड़ा साफ करना, पाँव पूजना।
  5027. पखरबाउब—(क्रि.) पछरवाना, कपड़ा धुलवाना, पाँव पुजवाना।
  5028. पखरबइया—(सं.पु.) पछारने वाला, पाँव पूजने वाला, कपड़ा धुलने वाला।
  5029. पखरबाई—(सं.स्त्री.) कपड़ा पछारने का पारिश्रमिक या मेहनताना।
  5030. पखबरिया—(सं.पु.) पखवारा, पंद्रह दिवस का एक पक्ष।
  5031. पगँब—(क्रि.) किसी के प्रति आकर्षित हो जाना, आसक्त होना।
  5032. पगँउब—(क्रि.) किसी को अपनी ओर आकृष्ट कर लेना।
  5033. पगॅंबाउब—(क्रि.) आकृष्ट करवाना।
  5034. पॅंगबइया—(सं.पु.) आकर्षित कर लेने वाला व्यक्ति।
  5035. पगड़ी—(सं.स्त्री.) सिर पर कपड़े की बॅंधी मुरेठी, पुलिंग ’पगड़ा’।
  5036. पगहा—(सं.पु.) मेहमानी में साथ गया अतिरिक्त व्यक्ति।
  5037. पगुराब—(क्रि.) पशुओं का प्रवृत्तिगत मुँह चलाना, पशुओं की पाचन प्रक्रिया।
  5038. पगरइत—(सं.पु.) जिसके घर मांगलिक कार्य हो रहा हो वह मुखिया, स्त्री.लिंग ’पगर इतिन’।
  5039. पगिया—(सं.स्त्री.) मौर को सिर पर कसने वाला पतला गमछा।
  5040. पगडंडी—(सं.स्त्री.) आदमी के आने जाने हेतु गॉंव की पतली गैल, सँकरा रास्ता।
  5041. पंगति—(सं.स्त्री.) भोजन के लिए पंक्तिबद्व बैठे लोग, पाँत।
  5042. पगरा—(सं.पु.) बाउण्ड्री वाल, नग्न दीवाल।
  5043. पगबाउब—(क्रि.) आटे के व्यंजन पर गुड़ या शक्कर का लेप चढ़वाना।
  5044. पगबइया—(सं.पु.) पाग या शक्कर का लेप लगाने वाला व्यक्ति।
  5045. पगड़िहा—(सं.पु.) जिसके सिर पर पगड़ी बंधी हो वह व्यक्ति।
  5046. पच्छघात—(सं.पु.) शरीर के पृष्ठभाग का घाव, न दिखने वाला शरीर का फोड़ा।
  5047. पच्छू—(अव्य.) पीछे की ओर, पश्चिम दिशा में, पृष्ठ भाग।
  5048. पच्छिम—(अव्य.) पश्चिम दिशा, पाश्चात्य सभ्यता।
  5049. पच्छिमायन—(अव्य.) पश्चिम दिशा में सूर्य के नक्षत्र की स्थिति, पश्चिम दिशा से बहने वाली हवा।
  5050. पच्छिमही—(सं.स्त्री.) पश्चिम दिशा से चलने वाली एक हवा, पछुआ।
  5051. पचड़ब—(क्रि.) पचड़ी से ढीली पोलाई कसना।
  5052. पचड़ी—(सं.स्त्री.) कसाव के लिए प्रयुक्त लकड़ी की छोटी-छोटी टुकड़ियाँ, घाव की पट्टी।
  5053. पचड़ा—(सं.पु.) माथा-पच्ची वाली उलझन, विवादित एवं समस्या मूलक वस्तु।
  5054. पचड़िआउब—(क्रि.) लकड़ी की पचड़ी से कुल्हाड़ी के बेट को कसना।
  5055. पचउरी—(सं.स्त्री.) बिना मतलब की पंचायत रोपना, अनावश्यक उत्प्रेरणा।
  5056. पचपेंड़िया—(सं.स्त्री.) एक जगह पर लगे हुए पाँच पेड़, स्थान का नाम।
  5057. पचकब—(क्रि.) तुचक जाना, फूली हुई वस्तु का तुचकना, मोटापा कम होना।
  5058. पचब—(क्रि.) पच जाना, हजम हो जाना।
  5059. पचकाउब—(क्रि.) सूजन कम कराना, फूली वस्तु का तुचकवाना।
  5060. पचउब—(क्रि.) हजम कर लेना, पचा लेना।
  5061. पचबाउब—(क्रि.) पचवाना, पाचन क्रिया ठीक करवाना, किसी का पानी पचवाना।
  5062. पचबइया—(सं.पु.) पचाने वाला, जो हजम कर लिया हो।
  5063. पचँहड—(सं.पु.) पाँच बर्तनों का समूह, दान के पाँच नग बर्तन विशेष।
  5064. पचहँथी—(विशं.) अच्छी ऊँची पूरी वस्तु, पाँच हाथ की लम्बी।
  5065. पचपचाब—(क्रि.वि.) पककर पिघल जाना, पके घाव का विकसना।
  5066. पचपचान—(विशे.) पककर एकदम पिलपिली हुई, अति पकी हुई।
  5067. पचक्का—(सं.पु.) थूँक की पिचकारी, उछला हुआ तरल का छींटा।
  5068. पँचमासा—(विशे.) पाँच महीने में ही जन्मा हुआ, पाँच महीने।
  5069. पच्च पच्च—(अव्य.) थूकने की ध्वनि विशेष, पाँव से निकला मवाद।
  5070. पंचाइत—(सं.स्त्री.) पंचायत, निर्णय हेतु एक बैठक।
  5071. पंचइतहा—(सं.पु.) समझौता करने वाले लोग, पंचायत कर्ता।
  5072. पंचा—(सं.पु.) पाँच हाथ की धोती, धोती का आधा टुकड़ा।
  5073. पछरब—(क्रि.) पीछे रह जाना, पिछल जाना, दूर रह जाना।
  5074. पछहुत—(अव्य.) पीछे-पीछे पहुँच जाना, पीछे से प्रहार, पीछे की ओर।
  5075. पछलग—(सं.पु.) आने के तुरंत बाद, पीछे-पीछे किसी का पहुँचना, पीछे लगे रहना।
  5076. पछताब—(क्रि.) पश्चाताप करना, कार्य करके सोच-विचार करना।
  5077. पछरबाउब—(क्रि.) किसी से कपड़े साफ करवाना, कपड़ा धुलवाना।
  5078. पछारब—(क्रि.) पटककर कपड़ा धुलना, कपड़ा धोना व साफ करना।
  5079. पछरबइया—(सं.पु.) कपड़ा साफ करने वाला, कपड़ा धुलने वाला।
  5080. पछिआब—(क्रि.) किसी का पीछा करना, प्रश्रय लेकर बढ़ना, अनुकरण करना।
  5081. पछिबाउब—(क्रि.) अपने पीछे-पीछे घुमवाना, पीछे पीछे चलवाना।
  5082. पछिबइया—(सं.पु.) जो अपने पीछे-पीछे किसी को चलवाता हो, जिसके पीछे लोग रहे आते हों।
  5083. पंछर—(विशे.) अति पतला तरल पदार्थ, दूध में पानी की अधिक मात्रा।
  5084. पंछरिआब—(क्रि.) जी मिचलाना, जी घुमाना, मुँह में पानी आना।
  5085. पंछरउँ—(विशे.) पतला एवं अस्वादिष्ट, स्वाद रहित, जिसका कोई स्वाद न हो।
  5086. पछिलीखेड़ा—(अव्य.) सबसे पीछे, अंतिम दौर में, सबके बाद।
  5087. पछेला—(अव्य.) उलटी गति, पीछे की ओर चलना, पीछे पॉंव बढाने की शैली।
  5088. पछोरब—(क्रि.) सूप द्वारा अनाज से कूड़ा कर्कट अलग करना।
  5089. पछिआन—(विशे.) पीछा किये हुए, पीछा रहे हुए।
  5090. पछिलब—(क्रि.) पीछे हटना, शिथिल पड़ जाना, निष्क्रिय होना।
  5091. पछेलब—(क्रि.) पीछे कर देना, प्रतिस्पर्धा में बढ़ जाना।
  5092. पछोरबाउब—(क्रि.) किसी से अनाज साफ करवाना।
  5093. पछोरबइया—(सं.पु.) सूप से अनाज और कंकड अलग-अलग करने वाला।
  5094. पछलग्गू—(विशे.) पीछे-पीछे लगे रहने वाला, पीछे-पीछे रहकर कार्य करने वाला।
  5095. पछाडब—(क्रि.) परास्त कर देना, जमीन पर उठाकर चारों खाना चित्त कर देना।
  5096. पछूहा—(सं.पु.) पछलगा, अनुयायी, पीछे चलने या खाने वाला, जो पिछड़ जाये वह।
  5097. पछितिया—(सं.स्त्री.) पछीत, पृष्ठ भाग, घर के पीछे का भाग।
  5098. पछारी—(सं.पु.) पीछे का हिस्सा, पृष्ठ भाग, बाद का।
  5099. पछिलबइया—(सं.पु.) वस्तु को पीछे हटाकर रखने वाला, दौड़कर पीछे कर देने वाला।
  5100. पछारीदार—(विशे.) अन्त में, अन्तिम दौर में, सबके बाद में।
  5101. पँजरब—(क्रि.) ताना मारना, हॅंसी उड़ाना, व्यंग्य कसना, उल्टमासी कथन।
  5102. पजबाउब—(क्रि.) कन्दमूल पैदा करवाना, प्याज की पैदावार बढ़ाना।
  5103. पजबइया—(सं.पु.) अधिक संतान पैदा करने वाला, कन्दमूल की पैदावार बढ़ाने वाला।
  5104. पँजरबाउब—(क्रि.) किसी को किसी से व्यंग्य करवाना, ताना मरवाना।
  5105. पँजरबइया—(सं.पु.) व्यंग्य या ताना मारने वाला व्यक्ति।
  5106. पजाँन—(विशे.) पर्याप्त मात्रा में पैदा हुई स्थिति।
  5107. पजाब—(क्रि.) प्याज की गाँठ का बड़ी- बड़ी पैदावार होना।
  5108. पंजीरी—(सं.स्त्री.) गुड़ मिश्रित आटा भुना चूर्ण, पंजीरी बाँटना बघेली मुहावरा।
  5109. पटउब—(क्रि.) कर्ज चुकाना, उधारी भरकर पूरा करना।
  5110. पटपर—(सं.पु.) पथरीली व पड़ती भूमि, अपुष्ट दाने युक्त धान, कान के नीचे का कपोल प्रक्षेत्र, स्त्री.लिंग ’पटपरी’।
  5111. पटदर—(सं.पु.) उपमा देना, दृष्टान्त देना, उदाहरण बताना, बराबरी।
  5112. पट्ट—(विशे.) जमीन पर पेट के बल लेटा हुआ, दोनों आँख की अंधी स्थिति।
  5113. पट्ट परब—(क्रि.वि.) जमीन पर पेट के बल पर पड़ना, आँखों का फट जाना।
  5114. पटरा—(सं.पु.) चपटी आकृति वाली लकड़ी, चारों ओर पैर फैलाकर पशु की स्थिति।
  5115. पटउँहा—(सं.पु.) पटावदार घर का कमरा, अटारीदार कक्ष।
  5116. पटब—(क्रि.) तालमेल होना, निराकरण हो जाना, आपसी समझौता होना, उधारी समाप्त होना, कर्ज मुक्ति होना।
  5117. पटाउब—(क्रि.) तालमेल बिठाना, मिलाना, पटाना।
  5118. पटबाउब—(क्रि.) विवादित मामले का समझौता कर देना, गढ्ढे को पटवाना।
  5119. पटाब—(क्रि.) समाप्त हो जाना, शान्त हो जाना, बन्द या दूर हो जाना।
  5120. पटान—(विशे.) समाप्त हो चुका हुआ, समस्या से उबर जाना।
  5121. पटोन्तरा—(सं.पु.) आपस में समझाइस हो जाना, मामला पट जाना।
  5122. पटा—(सं.पु.) लकड़ी का पीढ़ा, बैठने का काष्ठ पात्र।
  5123. पटउहल—(सं.पु.) आपसी समझौते से पटने योग्य मामला।
  5124. पटिया—(सं.स्त्री..) लकड़ी या पत्थर की पटिया, खेत का चौकोर अंश।
  5125. पटिआउब—(क्रि.) पाटी पारना, केश व्यवस्थित करना।
  5126. पटाव—(सं.पु.) लकड़ी से पटा हुआ अटारीदार घर।
  5127. पटपटाब—(क्रि.) आँखों का पूर्णतः फूट जाना, समूल नष्ट होना।
  5128. पटपटाउब—(क्रि.) आँख तिलमिलाना, बार- बार अधिक पलक पटकना।
  5129. पटोहा—(सं.पु.) छप्पर में प्रयुक्त बाँसनुमा पतली लकड़ी।
  5130. पटइन—(क्रि.) पटाया, शान्त कराया, निपटारा करा दिये।
  5131. पटहेरिया—(सं.स्त्री.) घर के अन्दर दीवाल पर डाली गई छोटी छत।
  5132. पटबइया—(सं.पु.) पटोत्तरा कराने वाला, समझौता कराने वाले लोग।
  5133. पट्टीदार—(सं.पु.) हिस्सेदार, परिवार के लोग, स्त्री.लिंग पट्टीदारिन।
  5134. पट्टी—(सं.स्त्री.) प्रजाति विशेष का वंश, जातिगत पहिचान या गोत्रवंशज।
  5135. पटाढा—(सं.पु.) पशुओं के मल में पड़ने वाले लम्बे श्वेत कृमि।
  5136. पटनहा—(सं.पु.) पटना गाँव का निवासी, पटना से आकर बसा हुआ व्यक्ति, स्त्री.लिंग पटनहाईन’।
  5137. पट—(सं.पु.) मंदिर के किवाड़, देवताओं के द्वार का परदा।
  5138. पटुआ—(सं.पु.) अमारी या बकौड़ की एक लट।
  5139. पटनई—(सं.स्त्री.) घर के कमरे का पटाव, कच्चे घर में बनी अटारी।
  5140. पटपरा—(सं.पु.) छप्पर में प्रयुक्त समतलाकृति वाला खपड़ा।
  5141. पटिअइत—(सं.पु.) वंश परिवार के जन, हिस्सेदार।
  5142. पट्ट पट्ट—(अव्य.) शरीर पर पड़े प्रहार की ध्वनि, जल्दी-जल्दी।
  5143. पठउब—(क्रि.) भेजना, विदा करना।
  5144. पठबाउब—(क्रि.) भेजवाना, किसी से कोई वस्तु भेजना, दूर तक पहुँचाना।
  5145. पठउनी—(सं.स्त्री.) मेहमान को दी गई विदाई की सामग्री, दुल्हन की तीसरी बार की विदाई।
  5146. पठरिया—(सं.पु.) पठारी जाति का कोई व्यक्ति, किसी का नाम।
  5147. पठबइया—(सं.पु.) भेजने वाला, भेजवाने वाला, विदा करने वाला।
  5148. पठबाई—(सं.पु.) भेजने-भेजवाने के बदले प्राप्त मेहनताना।
  5149. पठबउबे—(क्रि.) भेजोगे, भेजवाओगे।
  5150. पठबायेउतै—(क्रि.) भेजा था, भेजवाया था, भेजवायी थी।
  5151. पठबइहौं—(क्रि.) भेजवाऊँगा, भेजवाऊँगी, पहुँचाऊँगी।
  5152. पढबाती—(सं.पु.) निरन्तर रट लगाये रहने वाला, पढबाती होब बघेली मुहावरा।
  5153. पढब—(क्रि.) पढ़ना, लिखावट वाँचना, अध्ययन करना।
  5154. पढबाउब—(क्रि.) दूसरे से पढ़वाने का कार्य कराना, पढ़वाने का कार्य कराना।
  5155. पढइया—(सं.पु.) विद्यार्थी, पढ़ने-लिखने वाला छात्र।
  5156. पढबइया—(सं.पु.) पढ़ाने-लिखाने वाला व्यक्ति, शिक्षक, पढ़वाने वाला।
  5157. पढिना—(सं.स्त्री.) एक मछली विशेष का नाम, तंदुरूस्त युवती के लिए गाली।
  5158. पढिहौं—(क्रि.) पढूँगी, पढूँगा।
  5159. पढइहौं—(क्रि.) पढ़वाऊँगी, पढवाऊँगा, पढ़ाँऊँगी।
  5160. पढनउक—(विशे.) पठनीय, पढ़ने लायक, पठन करने योग्य।
  5161. पढोखर—(सं.स्त्री.) जवानी भरी लड़की के लिए अश्लील गाली।
  5162. पड़िया—(सं.स्त्री.) भैंस की जवान बच्ची, पुलिंग ’पड़वा’।
  5163. पड़ेरू—(सं.पु.) छोटे-छोटे भैंस के बच्चे।
  5164. पड़ा—(सं.पु.) भैंस का नर बच्चा, स्त्री.लिंग ’पड़ी’।
  5165. पड़ाक—(विशे.) गदेली का प्रहार, तत्काल।
  5166. पड़ाका—(सं.पु.) पटाखा, सुन्दर युवती के लिए मनचलों का प्रतीक।
  5167. पड़ोख—(क्रि.) अलसी का डंठल विष रहित करना।
  5168. पड़ोरा—(सं.पु.) एक हरी वनस्पति जिसकी तरकारी बनाई जाती है।
  5169. पतउखी—(सं.स्त्री.) पत्ते की कटोरी, दोना, पत्ते की चिलम।
  5170. पतरोइ पतरोई—(सं.पु.) सूखी पत्तियों का समूह, बिखरी हुई सूखी पत्तियाँ।
  5171. पतरइला—(विशे.) एकहरे वदन वाला, दुबली- पतली काया वाला, स्त्री.लिंग पतरइली।
  5172. पतरसुट्टा—(विशे.) लम्बा एवं दुबला- पतला, स्त्री.लिंग ’पतरसुट्टी’।
  5173. पतरिआब—(क्रि.) पतला होना, वर्षा की बूँदों का विरल हो जाना।
  5174. पतरिआउब—(क्रि.) मोटी चीज को पतली करने की क्रिया।
  5175. पतरिआन—(विशे.) वर्षा का कम हो जाना, बारिश का थम जाना।
  5176. पतनिआब—(क्रि.) उलझनों के कारण परेशान हो जाना।
  5177. पतनिआउब—(क्रि.) किसी को समस्याग्रसित करना, परेशान करना।
  5178. पतनिआन—(विशे.) परेशान, समस्या ग्रसित, उलझा हुआ।
  5179. पतरी—(सं.स्त्री.) पत्तल, पत्तल की थाली।
  5180. पतरंघा—(विशे.) बिल्कुल दुबला-पतला अंगों वाला, स्त्री.लिंग पतरंघी।
  5181. पतुआब—(क्रि.) हल्की वजन वाली वस्तु का हवा में डगमगाना, पीछा करना,।
  5182. पतनि—(सं.स्त्री.) पतन, दुर्गति, परेशानी।
  5183. पतीला—(सं.पु.) चौड़े मुख का गंजापात्र, स्त्री.लिंग पतीली।
  5184. पतुरिया—(सं.स्त्री.) वेश्या, मनचली नारी।
  5185. पतुरछेमन—(ब.मु.) कभी कुछ कभी कुछ बताना या कहना, नाटकबाज।
  5186. पत्ताल—(सं.पु.) पाताल, धरती के नीचे की असीमित गहराई।
  5187. पत्तुर—(सं.पु.) इसी लायक, इसी प्रकार के व्यवहार योग्य।
  5188. पतरेगंबा—(सं.पु.) पत्तों में रहने वाला हरे रंग का एक कीड़ा।
  5189. पतरमुही—(विशे.) जिसका मुँह पतला हो, पुलिंग ’पतरमुहा’।
  5190. पथब—(क्रि.) पथ्य भोजन देना, स्वस्थ्य बनाने हेतु पौष्टिक आहार देना।
  5191. पथबाउब—(क्रि.) पाथने का कार्य करवाना, पाथने में सहयोग करना।
  5192. पथहा—(सं.पु.) जिसे बीमारी के बाद पथ्य भोजन दिया जाता हो।
  5193. पथरी—(सं.स्त्री.) पत्थर की टुकडी, पत्थर का कटोरीनुमा पात्र, पथरी रोग।
  5194. पथरिआउब—(क्रि.) पत्थर से मार करना, पत्थर फेंककर मारना।
  5195. पथरिहाब—(क्रि.वि.) पत्थरों से मार का दौर, पत्थर से प्रहार होना।
  5196. पथरा—(सं.पु.) पत्थर, एकदम सख्त व ठोस, बर्फ।
  5197. पथरहा—(विशे.) पत्थरों से ओतप्रोत, जिस जमीन में कंकड पत्थर हों।
  5198. पथ पथ—(अव्य.) बार-बार, समझा-समझा कर, निखार कर बताना।
  5199. पथरील—(विशे.) पथरीली, ककड़ीली, पत्थरोंयुक्त।
  5200. पथनउक—(विशे.) पथ देने योग्य, जो पथ्य लायक हो गया हो।
  5201. पथरब—(क्रि.) प्रसारित होना, फैलना, फैल जाना, जुते खेत का पट जाना।
  5202. पथरा पूजब—(ब.मु.) मनौती करना, देवी-देवताओं का पूजन करना।
  5203. पदनी—(सं.स्त्री.) नारी के लिए एक अभद्र गाली।
  5204. पदनों—(संम्बो.) नारी को इशारा या सम्बोधनयुक्त अश्लील गाली।
  5205. पदरब—(क्रि.) परेशान हो जाना, वायु का उत्सर्जित हो आना।
  5206. पदाउब—(क्रि.) अकारण परेशान करना, परास्त करना, खेल में खूब दौड़ाना।
  5207. पदाब—(क्रि.) हिम्मत टूट जाना, दबाव के कारण वायु निकल आना।
  5208. पदरक्का—(क्रि.वि.) जोर-जोर से दौड़ना, आँख मीचकर पूरी ताकत से दौड़ना।
  5209. पदलेंहड़ी—(सं.पु.) छोटे-छोटे बच्चों का बहुतायत संख्या में समूह। पदरिआउब - (क्रि.) कार्य कराकर कृतज्ञ न होना, खाकर तत्काल भुला देना।
  5210. पदनिआउब—(क्रि.) नारी वर्ग को बुरा भला कहना, नारी के लिए अश्लीलगाली।
  5211. पदनहेठ—(सं.पु.) नारी के लिए सांकेतिक अश्लील गाली।
  5212. पदर्रा—(सं.पु.) दिन भर पादते रहने वाला, बहुत अधिक पादने वाला।
  5213. पदोड़ा—(सं.पु.) कार्य के बदले परिहास पाना, कार्य का उलटा प्रतिफल।
  5214. पधारब—(क्रि.) पधारना, आगमन होना, बैठना।
  5215. पधारी—(क्रि.) पधारिए, बैठिये, आइये।
  5216. पदहिआइन—(विशे.) पादने की दुर्गंध की भाँति गन्ध, गैस जैसी गन्ध।
  5217. पनपिआई—(सं.स्त्री.) गले की उभरी हुई गाँठ, गला, जलपानयुक्त स्वागत, वधू को प्रथम बार देवर द्वारा पानी पिलाने की एक रीति।
  5218. पनचुचही—(विशे.) पतला एवं कम मीठा रस, पुलिंग ’पनचुचहा’।
  5219. पनीहा—(सं.पु.) पानी में रहने वाला जन्तु, पानी, प्याला, एक अचार।
  5220. पनघोट्टा—(विशे.) अति पतलारू, दाल या सब्जी में जरूरत से अधिक पानी का होना।
  5221. पना—(सं.पु.) कच्चे आम का भुना हुआ रस, पना करब बघेली मुहावरा।
  5222. पनही—(सं.पु.) जूती, देशी चमड़े के जूते।
  5223. पनहिआव—(क्रि.वि.) जूतों से मार-पीट का होना या मारपीट का दौर।
  5224. पनहिआउब—(क्रि.) किसी को जूते-चप्पल से पीटना।
  5225. पनपना—(सं.पु.) पनपना काँपना (बघेली मुहावरा), हिम्मत या कलेजा।
  5226. पनिआउब—(क्रि.वि.) खुशामदी करना, चापलूसी करके खुश करना।
  5227. पनीहा—(सं.पु.) पानी वाली वस्तु, पानी में रहने वाले जन्तु-जीव।
  5228. पन्नी—(सं.स्त्री..) चमकीला व चिकना एक विशेष किस्म का कागज।
  5229. पन्निहा—(सं.पु.) पानी में रहने वाला सर्प, ब्राम्हण की एक प्रजाति।
  5230. पनबिरिया—(सं.स्त्री..) पान, विकल्प में खाई जाने वाली एक पत्ती।
  5231. पनघटी—(क्रि.वि.) पानी घट जाना, बेइज्जती होना, अपमानित हो जाना।
  5232. पनिभरा—(सं.पु.) पानी भरने व पिलाने वाला घरेलू नौकर।
  5233. पनहा—(सं.पु.) पान खाने व बेचने वाला, किसी कपड़े की चौड़ाई।
  5234. पनसोख—(सं.पु.) अधिक या बार-बार प्यास लगने वाला एक रोग।
  5235. पन—(सं.पु.) चरण, अवस्था का क्रम, उम्र का हिस्सा।
  5236. पन्चा—(सं.पु.) पुरुष धोती का आधा टुकड़ा।
  5237. पनारा—(सं.पु.) कमल फूल की जड़, कमल का पानी वाला डंठल।
  5238. पनिहा—(सं.पु.) पानी में रहने वाला एक सर्प, पानी वाली वस्तु या अचार।
  5239. पपड़ी—(सं.स्त्री.) पापड़, रोटी की ऊपरी परत, जमीन की ऊपरी पतली परत।
  5240. पपिआब—(क्रि.) किसी पर शंका-संदेह करना, अविश्वास का होना।
  5241. पपेला—(सं.पु.) पानी की बहती मोटी धार, अंदर ही अंदर पानी का बहाव।
  5242. पपरी—(सं.स्त्री.) पतली, पापड़, पुलिंग ’पपरा’।
  5243. पपड़िआब—(क्रि.) गीली जमीन या घाव का सूखकर पतली परत जम जाना।
  5244. पबस्त—(सं.पु.) पौरुष, घरेलू व्यवस्था, हिम्मत, मजबूती व सम्पन्नता।
  5245. पबाई—(सं.स्त्री.) शासनाधीन गाँव, एक पहलू, एक भाग।
  5246. पबइया—(सं.पु.) पाने वाला, प्राप्तकर्ता, भोजन करने वाला, छू लेने वाला।
  5247. पबरब—(क्रि.) प्राप्त कर लेना, प्रयास के कारण पा लेना।
  5248. पबाउब—(क्रि.) भोजन कराना, प्रयास करके किसी वस्तु को किसी वस्तु तक पहुँचाना।
  5249. पबरित—(सं.पु.) पवित्र, साफ सुथरा।
  5250. पमान—(सं.पु.) जूते का तल्ला, चप्पल का तला।
  5251. पमारा—(सं.पु.) विस्तृत वर्णन, अलग- अलग वर्णन, पूर्ण विवरण।
  5252. पम्पा—(सं.पु.) हैण्डपम्प, पम्प, नल।
  5253. पय—(यो.) किन्तु, पर, परंतु, कमी, खामी, कलंक, खोट।
  5254. परसाल—(अव्य.) बीता वर्ष, आने वाला वर्ष।
  5255. परसोरथ—(सं.पु.) परस्वार्थ, परोपकार, दूसरे का उपकार।
  5256. परौं—(अव्य.) परसों, कल के बाद, कल के पहले।
  5257. परसँउ—(अव्य.) बीते कल के पूर्व का दिन, आने वाले कल के बाद की तिथि।
  5258. परिखाउब—(क्रि.) प्रतीक्षा कराना, इन्तजार करवाना, किसी को रोकवाना।
  5259. परिखाव—(सं.पु.) प्रतीक्षा, इन्तजारी, ठहराव व रूकावट।
  5260. परथन—(सं.पु.) रोटी प्रसारण में प्रयुक्त सूखा आटा, घूस का लॉंच, कार्य पूर्णता के लिए व्यय किया गया धन।
  5261. परपंची—(सं.पु.) जो हमेशा बहानेबाजी बताता हो।
  5262. परपन्च—(सं.पु.) प्रपंच, बहाना, भिड़ने- भिड़ाने वाली बातें।
  5263. परब—(क्रि.) पड़ना, आराम करना, लेटना, सोना।
  5264. पराउब—(क्रि.) पड़ाना, सुलाना, लेटाना।
  5265. परबइया—(सं.पु.) सुलाने या लिटाने वाला व्यक्ति, पड़ाने वाला।
  5266. परबरिस—(सं.पु.) परोपकार, मदद, सहयोग, असहाय की व्यवस्था।
  5267. परेंठ—(सं.पु.) पडती भूमि, प्रजनन न करने वाले दुधारू पशु।
  5268. परबन्ध—(सं.पु.) प्रबंध, देख-रेख, रख- रखाव, व्यवस्था।
  5269. परदनी—(सं.स्त्री.) पुरुषों की धोती।
  5270. परान—(सं.पु.) प्राण, प्राणप्रिय, पुत्र, जान।
  5271. परेनुआ—(सं.पु.) प्राण पखेरू, प्राणों से प्यारा।
  5272. परेबा—(सं.पु.) एक सुंदर पक्षी का नाम।
  5273. परई—(सं.स्त्री.) मिट्टी की बड़ा सा दीया, घड़े का मुख ढ़कने वाला पात्र।
  5274. परिखब—(क्रि.) प्रतीक्षा करना, इंतजार करना, राह देखना।
  5275. परसाल—(अव्य.) बीते वर्ष, पिछले साल, अगले वर्ष।
  5276. परेम—(सं.पु.) प्रेम, लगाव, प्यार, स्नेह।
  5277. परेमी—(सं.पु.) प्रेमी, स्नेही, नेमी प्रेमी।
  5278. परगापादन—(ब.मु.) तिकड़म करने में निपुण, दन्द-फंद बताने में सिद्ध।
  5279. पराभंस—(सं.पु.) परहेज रहित, छुआछूत न मानने वाला, सबके घर सब कुछ खा लेने वाला।
  5280. परसब—(क्रि.) परोसना, पारूस करना।
  5281. परसाउब—(क्रि.) परोसवाना, पारूस करने में सहयोग करना।
  5282. परसबइया—(सं.पु.) परोसने वाला, पारूस कर्ता।
  5283. परछी—(सं.स्त्री..) कच्चे घर की ओसार, घर के सामने की दलान।
  5284. परछन—(सं.पु.) वधू प्रवेश के समय पानी फेरने की परम्परागत रीति।
  5285. परगसिया—(सं.स्त्री..) छोटे आकार की कड़ाही।
  5286. परगासब—(क्रि.) चन्द्रोदय, चन्द्रमा निकलना, चन्द्रमा का प्रकाशित होना।
  5287. परगासी—(क्रि.वि.) चन्द्रोदय की स्थिति, चन्द्रमा निकलने के पूर्व का वातावरण।
  5288. परिया—(सं.स्त्री..) बगिया की क्यारी, लम्बे समय से बीमार व्यक्ति।
  5289. परायठ—(सं.पु.) जो हमेशा पड़ती पड़ी रहती हो वह भूमि, जिस दुधारू पशु के कभी प्रजनन न हुआ हो।
  5290. परपराब—(क्रि.वि.) कपड़ा फाड़ने पर होने वाली ध्वनि, पेड़ का कटना।
  5291. परपराउब—(क्रि.) ओर-छोर फाड़ देना, दो टुकड़े फाड़कर कर देना।
  5292. परती—(सं.स्त्री.) घास-फूस व पत्ते से बना टाट, पड़ती भूमि।
  5293. परतब—(क्रि.) मोड़-मोड़ कर तह पर तह जमाना।
  5294. परी—(सं.स्त्री.) तेल निकालने वाली लोहे की हुकदार कटोरी।
  5295. परीबा—(सं.स्त्री.) पूर्णमासी के बाद की तिथि।
  5296. परन्गत—(सं.पु.) हिम्मत टूटना, हौसला टिकना, पूर्णता पाना।
  5297. परमान—(सं.पु.) प्रमाण, दृष्टान्त, सबूत, गवाह।
  5298. परनाम—(सं.पु.) प्रणाम, नमस्कार, अभिवादन।
  5299. परिनाम—(सं.पु.) परिणाम, प्रतिफल, निष्कर्ष।
  5300. परसोतिया—(सं.पु.) बच्चों को होने वाला पीला रोग।
  5301. परेत—(सं.पु.) प्रेत, भूत, डरावना प्रतीक, स्त्री.लिंग परेतिन।
  5302. परेतहा—(सं.पु.) जो व्यक्ति प्रेत बाधा से ग्रसित हो, जहाँ पर प्रेत रहता हो वह जगह।
  5303. पर्र पर्र—(क्रि.वि.) कपड़ा फाड़ने पर होने वाली ध्वनि, वायु उत्सर्जन के समय की आवाज, पर्र-पर्र करना, बघेली मुहावरा।
  5304. पलगरिया—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का बच्चों वाला पलंग।
  5305. पलथी—(सं.स्त्री.) दोनों पैर मोड़कर एक दूसरे पर रखी हुई स्थिति, आसन।
  5306. पलथिआउब—(क्रि.) दोनों पैर मोड़कर आसन जमाकर बैठना।
  5307. पलथिआन—(विशे.) पलथी मारकर बैठा हुआ, स्थायी रूप से जमा हुआ।
  5308. पलथिआब—(क्रि.) पलथी मारकर बैठ जाना।
  5309. पलानी—(सं.स्त्री.) मेड़ पर पीछे से चढ़ाई गई अतिरिक्त मिट्टी।
  5310. पल्ली—(सं.स्त्री.) ओढ़ने पर पीछे से चढ़ाई गई अतिरिक्त मिट्टी।
  5311. पलागों—(सं.पु.) अभिवादन, छोटों द्वारा बड़ों के लिए सम्मान सूचक प्रणाम।
  5312. पलानब—(क्रि.) उलाहना से भर देना, गाली देना, घोडे़ पर सवार होना, घोड़े के पीठ पर।
  5313. पलसाउब—(क्रि.) कृषि पौध को इधर-उधर करना।
  5314. पलिया—(सं.स्त्री.) साग सब्जी के लिए बनाई गई क्यारी।
  5315. पलिआब—(क्रि.) पाला व तुषार से कृषि का ग्रसित होना।
  5316. पलिआन—(विशे.) खा-पीकर हृष्ट- पुष्ट एवं तैयार हुई नारी, मोटी तगड़ी।
  5317. पलाब—(क्रि.) पाला मार जाना, पाला लग जाना, ठंड लगना।
  5318. पलान—(सं.पु.) खा-पीकर हृष्ट-पुष्ट, पाला लगा हुआ खेत व कृषि।
  5319. पलटव—(क्रि.) वाहन का दुर्घटना ग्रस्त होना, कहकर मुकर जाना, अदला-बदली करना, दिशा व स्थिति बदल कर वस्तु को रखना, पलटाना।
  5320. पलटाउब—(क्रि.) पलट देना, जबाव दे देना, इधर से उधर कर देना।
  5321. पलटा—(क्रि.वि.) अदल-बदल की क्रिया, बदलना, विनिमय।
  5322. पलई—(सं.स्त्री.) पँसुली, शरीर की पतली हड्डियाँ, पलई चलना, ब.मु।
  5323. पलपलाउब—(क्रि.) आवाज के साथ पतली टट्टी करना।
  5324. पल्टबइया—(सं.पु.) बदला करने वाला, कहकर बदल जाने वाला, इधर से उधर-पलट देने वाला।
  5325. पलझा—(अव्य.) इस ओर, इस तरफ, इस पहल।
  5326. पल्ला—(क्रि.वि.) इस ओर, वस्तु का एक पहलू, दु्रतगति से दौड़ना, धोती का एक छोर।
  5327. पल्हाब—(क्रि.) थनों का दूध-दुहने योग्य हो जाना।
  5328. पल्हान—(विशे.) दूध-दुहने की स्थिति में थन का होना, दूध उतरा हुआ बाल।
  5329. पल्हबाउब—(क्रि.) दूधारू मवेशी को दूध- दुहने योग्य बनाना।
  5330. पल्हवइया—(सं.पु.) थनों को सहलाकर दुहने लायक करने वाला।
  5331. पलहुआउब—(क्रि.) पिघलाकर खुश कर लेना, मिलाना, पटाना, मक्खन पालिश करना।
  5332. पलटन—(सं.पु.) प्लाटून, फौज या सेना, अधिक संख्या में लोग।
  5333. पलँइचा—(विशे.) मोटी तगड़ी, मोटापा पर केन्द्रित नारी हेतु गाली।
  5334. पल्लेप—(सं.पु.) औपचारिकता, नाममात्र का, कोटापूर्ति, रस्म पूरी हो जाना।
  5335. पलहा—(सं.पु.) बेर की पत्ती कूटने वाले लोग, पाल लगा हुआ खेत।
  5336. पलटी—(क्रि.वि.) बदलने की क्रिया, विनिमय, अदल-बदल, बारी।
  5337. पलरा—(सं.पु.) तराजू, तराजू के दोनों पहलू, पलड़ा।
  5338. पलेबा—(सं.पु.) जुताई-बुवाई के पूर्व खेत में सींचा गया पानी।
  5339. पसारब—(क्रि.) फैलाना, प्रसारित करना, विस्तृत करना।
  5340. पसरबाउब—(क्रि.) फैलवाना, प्रसारित करवाना।
  5341. पसरबइया—(सं.पु.) हाथ फैलाने वाला, मारकर जमीर पर गिरा देने वाला।
  5342. पसरब—(क्रि.) जमीन पर ओर-छोर पड़ जाना, फैल जाना, विस्तृत होना।
  5343. पसाउब—(क्रि.) चावल पकाकर माड़ अलग करना या निकालना।
  5344. पसडबाउब—(क्रि.) पके चावल से अतिरिक्त पानी किसी से निकलवाना।
  5345. पसबइया—(क्रि.) पके चावल से माड़ निकालने वाला व्यक्ति।
  5346. पसंघा—(ब.मु.) असामान्य, अतुलनीय, तौल व वजन में बहुत कम।
  5347. पसीझब—(क्रि.) पानी भरे घड़े के पेंदी से पानी या पसीना का झलकना, मन अनुरूप कर लेना।
  5348. पसिनान—(विशे.) पसीने से सना हुआ, पसीने से लथपथ।
  5349. पसिनहा—(सं.पु.) पसीने से गीला वस्त्र, पसीने से सना कपडा।
  5350. पसनी—(सं.स्त्री.) शिशु का पुंसवन संस्कार, अन्न-प्रासन।
  5351. पसनिहा—(सं.पु.) जिसका अन्न प्रासन हो रहा हो वह शिशु।
  5352. पस—(सं.पु.) मवाद, पीप, घाव से निःसृत प्ररस।
  5353. पसही—(सं.स्त्री.) अपने आप रेशे वाली एक धान विशेष।
  5354. पसहिया—(सं.पु.) ऐसा खेत जिसमें पसही जमी हुई हो।
  5355. पंसोख—(सं.पु.) बार-बार या अधिक पानी पीने वाला एक रोग।
  5356. पसइहौं—(क्रि.) चावल से माड अलग करूँगी।
  5357. पसट—(सं.पु.) हल एवं जुए में प्रयुक्त होने वाली एक रस्सी।
  5358. पसोटा—(सं.पु.) कोड़ा, लोचदार मारने का उपकरण।
  5359. पसोटब—(क्रि.) कोडे़ से मारना, जमकर पीटना।
  5360. पसोटइया—(सं.पु.) कोडे़ से मार लगाने वाला व्यक्ति।
  5361. पसोटिआउब—(क्रि.) किसी को पसोटे से मारपीट की क्रिया करवाना।
  5362. पसुरी—(सं.स्त्री.) पंसुली, पतली हडिड्याँ।
  5363. पसुहाई—(सं.स्त्री.) पशुओं के काम आने वाली, पशुओं का व्यापार।
  5364. पसर—(सं.पु.) एक गदेली भर अनाज की मात्रा।
  5365. पहल—(सं.पु.) पकने हेतु पलास के पत्तों से ढककर रखे गये आम।
  5366. पहलब—(क्रि.) पत्तों के बीच में आम के फल रखकर पकाना।
  5367. पहिलउठी—(विशे.) प्रथम बार, प्रथम दौर में, पहले पहल।
  5368. पहिलेव—(अव्य.) पहले भी, पूर्व में भी, इसके पहले।
  5369. पहला—(सं.पु.) रूआ, कपास, अति मुलायम (विशे.)
  5370. पहकब—(क्रि.) पानी से खेत का ढीलों का लथपथ हो जाना।
  5371. पहिरब—(क्रि.) पहनना, वस्त्र धारण करना।
  5372. पहिराउब—(क्रि.) पहनाना, वस्त्र धारित करवाना।
  5373. परिहरबइया—(सं.पु.) पहनाने वाला व्यक्ति।
  5374. पहिरबाई—(क्रि.वि.) पहनने का तौर- तरीका, पहनाने की मजदूरी।
  5375. पहरहा—(सं.पु.) लकड़ी काटने पहाड़ जाने वाले लोग।
  5376. पहरहाइ पहरहाई—(क्रि.वि.) जंगल जाकर कटाई करना और लकड़ी लाने का कार्य।
  5377. पहरिया—(सं.स्त्री.) पहाड़ी, छोटी-छोटी पहाड़ियाँ।
  5378. पहरूअ पहरूआ—(सं.पु.) पहाड़ में लकड़ी काटने आने-जाने वाले लोग।
  5379. पहर—(अव्य.) दिन की एक अवधि, दोपहर या शाम।
  5380. पहँसुल—(सं.स्त्री.) साग-सब्जी काटने की हँसिया।
  5381. पहुँची—(सं.स्त्री.) शिशुओं के लिए धागे की चूड़ी।
  5382. पहुना—(सं.पु.) दामाद, बेटी का पति।
  5383. पहटब—(क्रि.) मवेशियों को पीटकर दूर भगाना।
  5384. पहटा—(सं.पु.) ऐसी काठ की पटरी जिससे ढीले सपाट किये जाते हैं।
  5385. पहटबाउब—(क्रि.) मवेशियों को एक स्थान से दूसरे स्थान पहुँचवाना।
  5386. पहिलौपहिल—(अव्य.) सबसे पहले, पहलीबार, सर्वप्रथम।
  5387. पहटबइया—(सं.पु.) मवेशियों को दूर भगाने वाला व्यक्ति।
  5388. पहटी—(सं.स्त्री.) जोता खेत समतल करने वाली चपटी पटरी।
  5389. पहिरन—(सं.पु.) कमर के नीचे का भाग, पहनकर उतारा हुआ वस्त्र।
  5390. पहुआ—(सं.पु.) मेहमान के साथ आने वाले अन्य लोग।
  5391. पहीहा—(सं.पु.) मुख्य घर के बजाय सहायक घर आकर रहने वालाव्यक्ति। पा
  5392. पाई—(सं.स्त्री.) चावल के कीडे़, मात्राएँ, रत्ती से छोटा पुराना पैमाना, मिली हुई, भोजन लीजिए।
  5393. पाई पुरिया—(ब.मु.) इधर से उधर आना- जाना लगा रहना, यहॉं का संदेश वहाँ और वहाँ का यहाँ पहुँचाना।
  5394. पाइक—(सं.पु.) क्षत्रिय की एक प्रजाति, चावल में पडे़ कीट।
  5395. पाउब—(क्रि.) दौड़कर छू लेना, बराबरी करना, पा जाना, भोजन करना।
  5396. पाकब—(क्रि.) पकना, घाव का पक जाना, परिपक्व होना।
  5397. पाकठ—(विशे.) पका हुआ, अनुभवी, पुराना।
  5398. पाका—(सं.पु.) मुँह का घाव, मुँह में फोड़ा।
  5399. पाख—(सं.पु.) पखवारा, महीने का एक पक्ष, मेंड़ का पृष्ठ भाग, घर की छप्पर का चौड़ाई वाला प्रक्षेत्र।
  5400. पाखा—(अव्य.) उस तरफ, दूसरा पहलू, उस पार, खेत का उच्च भाग।
  5401. पाखर—(सं.सु.) खेत का उच्च वाला हिस्सा, खेत का ऊपरी छोर।
  5402. पाग—(सं.पु.) शक्कर या गुड़ का सिरा, व्यंजन में चढ़ा शक्कर का लेपन।
  5403. पागब—(क्रि.) आटे बनी वस्तु पर शक्कर का पारा चढ़ाना।
  5404. पाँगब—(क्रि.) किसी को अपने बस में कर लेना, अपनी ओर किसी को आकर्षित कर लेना।
  5405. पागुर—(सं.पु.) जुगाली, पशुओं द्वारा मुँह चलाने की पाचन प्रक्रिया।
  5406. पागा—(सं.पु.) सिर में बंधी पगड़ी, लम्बा साफा।
  5407. पाँच—(सर्व.) लोग बाग, समूह बोधक संख्या।
  5408. पाँचा—(सं.पु.) पाँच कगूरे का कृषि औजार, बाँस का ग्राम्य कृषि उपकरण।
  5409. पाँचउ—(विशे.) पाँचों के पाँचों, पाँच के पाँच, पाँच लोग।
  5410. पाछू—(अव्य.) पीछे, बाद में, अन्त में, पश्चात्।
  5411. पाछ—(सं.पु.) चले जाने के बाद का समय, मरने के बाद का समय, पीछा।
  5412. पाछे—(अव्य.) पीछे, बाद में, अन्त में, उपसंहार में।
  5413. पाछू पाछू—(ब.मु.) किसी के पीछे-पीछे दौड़ते रहने के भाव में।
  5414. पाँजर—(सं.पु.) जंघा का प्रक्षेत्र, बिल्कुल बगल में।
  5415. पाँजी—(विशे.) नदी में पाँव डूबने भर की जल स्थिति या जल स्तर।
  5416. पाट—(सं.पु.) नदी का किनारा, नदी की चौड़ाई, विवाहोत्सव में प्रयुक्त काठ पर रखा पत्थर का पटरा।
  5417. पाटब—(क्रि.) गढ्ढा भरना, मिट्टी से ढकना, उथल करना, जमीन में गाड़ना।
  5418. पाटी—(सं.स्त्री.) खेत की छोटी सी टुकड़ी, काठ का स्लेट, बाल संभालना, चारपाई की लम्बवत् लकड़ी।
  5419. पाटिस—(क्रि.) पाट दिया, ढक दिया, गढ्ढा भर दिया।
  5420. पाठ—(सं.पु.) अपने गाँव से दक्षिण के गाँव, पारायण, पाठ पढाना, बघेली मुहावरा।
  5421. पाढ़—(सं.पु.) कमर के पीछे की माँसपेशी, बाजी मार लेना।
  5422. पाढ़ा—(सं.पु.) दाने रहित धान के पौध, अपुष्ट धान के दाने।
  5423. पाढ़िन—(सं.स्त्री.) एक मछली विशेष, युवती के लिए गाली।
  5424. पातर—(विशे.) पतली, दुबला-पतला, तरल में पानी की अधिकता।
  5425. पातपुआ—(विशे.) एकदम पतला वस्त्र, बिल्कुल सड़ा हुआ पुराना वस्त्र।
  5426. पाँत—(सं.पु.) पंगति, पंक्तियों में बैठने की शैली।
  5427. पाथब—(क्रि.) हाथ से उखली बनाना, थपकी देकर गाली वस्तु को प्रसारित करना।
  5428. पाद—(सं.पु.) गुदा द्वार से उत्सर्जित वायु।
  5429. पादब—(क्रि.) पाद निकलना, हिम्मत छूट जाना।
  5430. पापिठ्ठ—(विशे.) पापी एवं कुकर्मी, शंकालु एवं संदेह करने वाला।
  5431. पापर—(सं.पु.) बेसन का पापड़।
  5432. पापलीन—(सं.पु.) एक विशेष कपड़ा की किस्म।
  5433. पाबा—(सं.पु.) चारपाई या कुर्सी का एक पहलू, पुल का एक खम्भा।
  5434. पामन—(सं.पु.) हक में लगना, सेवकों द्वारा परम्परागत ढंग से त्यौहार में मांगे गये व्यंजन।
  5435. पायेन—(क्रि.) पा गये, पा लिये, जो पाँव के बल जन्मा हो (वि.) प्राप्त कर लिया।
  5436. पायगयेंब—(क्रि.वि.) प्राप्त कर लिया, पा चुकी, दौड़कर छू ली।
  5437. पाँयलागी—(सं.पु.) प्रणाम सूचक अभिवादन विशेष।
  5438. पार—(सं.पु./अव्य) किसी का पक्ष, वादा निभाकर पूरा करना, एक तरफ का पहलू, पार लगाना, एक छोर से दूसरे छोर।
  5439. पारब—(क्रि.) पड़ाना या लेटाना, सुलाना, खपड़ा विकसित करना, पिण्डा पारब बघेली मुहावरा।
  5440. पारूस—(क्रि.) पंगत में भोजन का परोसा जाना, भोजन परोसने का कार्य।
  5441. पारन—(सं.पु.) उपवास के बाद प्रथम अन्न ग्रहण।
  5442. पाल—(सं.पु.) टहनियों से अलग की गई बेर की पत्तियाँ।
  5443. पालब—(क्रि.) पालना-पोषना, पाल लेना।
  5444. पाला—(सं.पु.) ओस, तुषार, दबाव में फँस जाना, मैदान का आधा भाग, खेल की पाली, अधिक ठंड का होना।
  5445. पालकी—(सं.स्त्री.) काठ की बनी स्थायी डोली।
  5446. पालटी—(सं.स्त्री.) पार्टी, प्रीतभोज, दलबन्दी, विशेष समारोह।
  5447. पालट—(क्रि.वि.) अदला-बदली, वस्तु विनिमय।
  5448. पालस—(विशे.) जमीन की सतह पर पड़ाकर रखी हुई वस्तु की स्थिति।
  5449. पाँसा—(सं.पु.) कुल्हाड़ी के धार का पिछला भाग, चौपर खेल, चंदन के चौकार टुकडों।
  5450. पाही—(सं.स्त्री.) मुख्य घर छोड़कर जहाँ किसान दूसरे सहायक घर में रहता हो। पि
  5451. पिअइहौ—(क्रि.) पिलाऊँगी, दुग्धपान करवाऊँगी।
  5452. पिअउबे—(क्रि.) पिलाओगे, पिलाओगी, क्या पिलाओगी।
  5453. पिअक्कड—(सं.पु.) खूब दारू-शराब पीने वाला, नसेड़ी, नसाखोर।
  5454. पिअसहा—(सं.पु.) प्यासा, प्यास से ग्रसित व्यक्ति।
  5455. पिआग—(सं.पु.) शराबी, नशाखोर, दारूबाज, दारूखोर।
  5456. पिअरा—(सं.पु.) धान का दानेयुक्त डंठल, पुआल।
  5457. पिआस—(सं.स्त्री.) प्यास, पानी-पीने की व्याकुलता।
  5458. पिआसा पिआर- पिआसा पिआर—(विशे.) प्यासा, प्यास की चाहत वाला व्यक्ति, पिआसी।
  5459. पिआर—(विशे.) प्यारा, अतिप्रिय, प्रिय लगने वाला, स्त्री.लिंग ’ पिआरी’।
  5460. पिअर—(विशे.) पीला, पीले रंग का।
  5461. पिअरई—(विशे.) पीलापन, पीले रंग से युक्त।
  5462. पिअरिया पिआर—(विशे.) पीले वस्त्र धारण करने वाला विशेष व्यक्ति।
  5463. पिअराब—(क्रि.) पीला होना, पीला पड़ जाना।
  5464. पिअरी—(सं.स्त्री.) विवाह के समय धारित पीले रंग की धोती विशेष।
  5465. पिअरिआन—(विशे.) पीली हुई, पीली पड़ी हुई, पीले रंग में तब्दील।
  5466. पिअरियाबाबा—(विशे.) पीले वस्त्रों वाला सन्त या महात्मा।
  5467. पिआज—(सं.पु.) प्याज।
  5468. पिअब—(क्रि.) पीना, ग्रहण करना, चूसना, दुग्धपान करना।
  5469. पिअतुआ—(सं.पु.) दुधपिया, दुधमुँहा, जो अभी दूध पर आश्रित हो।
  5470. पिअनी—(सं.स्त्री.) मजदूरी के साथ दिया गया बोनस, प्रोत्साहन धन।
  5471. पिअना—(सं.पु.) दूधारू पशुओं का आहार, खली।
  5472. पिआगी—(सं.पु.) दारूखोर, शराब के नशे में धुत रहने वाला।
  5473. पिआउब—(क्रि.) पिलाना, पिलवाना, दुग्धपान कराना।
  5474. पिअबइया—(सं.पु.) पिलाने वाला, दुग्धपान कराने वाली।
  5475. पिअइया—(सं.पु.) पीने वाला, दुग्धपान करने वाला।
  5476. पिअइहैं—(क्रि.) पिलायेंगे, पिलायेंगी, जरूर पान करायेगी।
  5477. पिआ—(आज्ञा.) पिओ, पी लो, पी लीजिए।
  5478. पिकपिकाब—(क्रि.) बिना अर्थ का बड़बड़ाते रहना, निरर्थक बोलना।
  5479. पिकपिकबइया- पिकपिकबइया—(सं.पु.) दिनभर बिना मतलब के बोलते रहने वाला।
  5480. पिकपिकहा—(सं.पु.) हमेशा जो अस्पष्ट व्यर्थ की बाते बड़बड़ाता हो।
  5481. पिच्ची—(सं.स्त्री.) कुचली हुई, दबकर जो कुचल गई हो, माथा पच्ची।
  5482. पिचपिचाब—(क्रि.) पके घाव से पश या मवाद का बहना।
  5483. पिचपिचान—(विशे.) घाव जो पककर मावाद से खूब भरा हो, सडे भोजन से द्रवित पानी।
  5484. पिचक्का—(क्रि.वि.) घाव का छींटा, वेग के साथ फोड़े से निकला प्ररस।
  5485. पिछलग्ग पिछलग्गू—(सं.पु.) पीछे-पीछे लगे रहने वाला व्यक्ति, अनुयायी।
  5486. पिछउरा—(सं.पु.) विवाह के समय दाम्पत्य को गठबंधन करने वाला चादर।
  5487. पिछउरी—(सं.स्त्री.) चादर, विस्तर पोश, बेड शीट।
  5488. पिट्ट-पिट्ट—(अव्य) जल्दी-जल्दी आँख की पलकें पटकना।
  5489. पिटबाउब—(क्रि.) किसी की पिटाई कराना, पिटवाना।
  5490. पिटबइया—(सं.पु.) पीटने वाला, पिटाई करने वाला।
  5491. पिटरब—(क्रि.) पिट जाना, मार खाना, पीछे हो जाना।
  5492. पिटाई—(क्रि.वि.) मारने पीटने के कार्य का दौर।
  5493. पिटपिटाउब—(क्रि.) आँख की पलक पिट्ट- पिट्ट करना।
  5494. पिटइलहा—(सं.पु.) जो हमेशा मार खाता हो, मार खाने का आदती व्यक्ति।
  5495. पिटउँआ—(विशे.) पीटने की शैली में प्रहार।
  5496. पिठाँह—(सं.पु.) पीठ, पृष्ठ भाग।
  5497. पिढ़बा—(सं.पु.) बैठने के लिए काष्ठ का पीढा या पटा।
  5498. पिढ़इ पिढ़ई—(सं.स्त्री.) हल की एक पतली लकड़ी, लिखने वाली काष्ठ की स्लेट।
  5499. पिण्डा पारब—(ब.मु.) पिण्डदान, एक गाली विशेष।
  5500. पितरा—(सं.पु.) पितृ देव, पितृ देवता।
  5501. पितरपख—(सं.पु.) पितृ पक्ष।
  5502. पितरहाइन—(सं.स्त्री.) पितृ पक्ष के दिन, पितृ आगमन के दिवस।
  5503. पितिआनी—(सं.स्त्री.) चाची, चाचा की पत्नी।
  5504. पितिआउत—(सं.पु.) चचेरा, चचेरी।
  5505. पिधुलब—(क्रि.) पिघला कर चटनी कर देना, घाव का पिस जाना।
  5506. पिधुलरान—(विशे.) पके घाव का दबकर, पिघला हुआ।
  5507. पिघलरा—(विशे.) पककर जो पिघल गया हो, मवाद युक्त घाव।
  5508. पिन्ना—(विशे.) पिनपिनाकर बोलने वाला, नाक से बोलने वाला, स्त्री.. ’पिन्नी’।
  5509. पिनपिनिहा—(सं.पु.) नाक के बल स्वर निकालने वाला व्यक्ति।
  5510. पिनपिनाब—(क्रि.) नाक से बोलना, पिनापिनाकर बोलना, पिनपिनाना।
  5511. पिनिन पिनिन—(अव्य.) रोवन प्रवृत्ति, नाक के बल बोलने का आदती।
  5512. पिपिहिरी—(सं.स्त्री.) बाँसुरी, सीटी, सुरीला वाद्ययंत्र।
  5513. पिबाउब—(क्रि.) पिलाना, पिलवाना, दुग्ध पान कराना।
  5514. पिबइया—(सं.पु.) पिलाने वाला, दुग्धपान कराने वाला व्यक्ति।
  5515. पिबायेन—(क्रि.) पिला दिये, पिला चुके, पिला लिये।
  5516. पिबइहेय—(क्रि.) पिलाओगे, पिलाओगी, क्या दुग्ध पान कराओगे।
  5517. पिबइहा पिबइहौं—(क्रि.) पिलाऊँगी, पिलाऊँगा, दुग्ध पान कराऊँगी।
  5518. पिरकी—(सं.स्त्री.) दानेदार छोटी-छोटी फुड़िया या फुन्सी।
  5519. पिरकिहा—(सं.पु.) जिसके दानेदार फुड़िया पड़ी हो वह व्यक्ति।
  5520. पिराब—(क्रि.वि.) दर्द होना, पीड़ा करना, वेदना की अनुभूति होना।
  5521. पिरबाउब—(क्रि.) पीड़ा पहुँचाना, दर्द उभारना।
  5522. पिरबइया—(सं.पु.) दर्द देने वाला, पीड़ा बढ़ाने में सक्रिय व्यक्ति।
  5523. पिरवाई—(विशे.) प्रसव की पीड़ा से ग्रसित।
  5524. पिलबा—(सं.पु.) कुत्ते का बच्चा, पिल्ला, स्त्री.लिंग ’पिलइया’।
  5525. पिल्ला—(सं.पु.) किसी वस्तु का एक पहलू, किवाड़े का एक भाग।
  5526. पिलन्टा—(सं.पु.) छोटे कद का आदमी, किसी व्यक्ति का नाम।
  5527. पिलउब—(क्रि.) गढ्ढे में गोट डालना, एक ग्रामीण खेल।
  5528. पिलबाउब—(क्रि.) गढ्ढे में गोटी डलवाना।
  5529. पिलबइया—(सं.पु.) गोट गढ्ढे में डालने या पिलाने वाला।
  5530. पिलोरा—(सं.पु.) नवजात शिशु, छोटा सा बच्चा, अबोध बालक।
  5531. पिल्होट—(सं.पु.) हाल का जन्मा शिशु, दुधमुँहा बच्चा, छोटा सा शिशु।
  5532. पिलपिल—(विशे.) पककर अत्याधिक गुल-गुला हुआ फल।
  5533. पिसान—(सं.पु.) आटे का चूर्ण, आटा।
  5534. पिसना—(सं.पु.) पिसाई के निमित्त रखा हुआ अनाज, पिसाई का शुल्क।
  5535. पिसबाउब—(क्रि.) पिसाई का कार्य करवाना, पीसने में मदद करना।
  5536. पिसबइया—(सं.पु.) पीसने का कार्य करने वाला व्यक्ति, तास फेटने वाला।
  5537. पिसरब—(क्रि.) कुचल जाना, पिस जाना, दबकर चूर्ण हो जाना।
  5538. पिसाई—(सं.पु.) आटा पीसने की मजदूरी या मेहनताना।
  5539. पिसाप—(सं.पु.) पेशाब, मूत्र।
  5540. पिसापा—(विशे.) जिसे पेशाब लगी हो, पेशाब से ग्रसित व्यक्ति।
  5541. पिसनही—(सं.स्त्री.) जिस पात्र में पिसान या आटा रखा जाता हो। पी
  5542. पीका—(सं.पु.) बाँस से प्रस्फुटित नये पौध, पौध की जड़ से निकली कोपले।
  5543. पीड़ा—(सं.पु.) प्रजनन के बाद घी-गुड़ से बना लड्डू।
  5544. पीटब—(क्रि.) पीटना, पिटाई करना।
  5545. पीठी—(सं.स्त्री.) पीसी हुई गीली दाल का समूह।
  5546. पीढ़ा—(सं.पु.) बैठने के लिए बना काष्ठ का पात्र।
  5547. पीती—(सं.पु.) बड़े पिता जी, चाचा, पिता के भाई।
  5548. पीप—(सं.स्त्री.) मवाद, पके फोड़े का पानी।
  5549. पीपर—(सं.स्त्री.) पीपल, पीपल औषधि, छाती के पीपर बघेली मुहावरा। पु
  5550. पुकाँदूध—(विश.) बहुत अधिक खट्टा, अति खट्टा स्वाद।
  5551. पुचपुची—(सं.स्त्री.) आँख में लगाई जाने वाली ट्यूब (दवाई), व्यर्थ की वार्ता।
  5552. पुखा—(सं.पु.) बरसात का एक नक्षत्र।
  5553. पुचुराब—(क्रि.) चुपके-चुपके बिना मतलब की बातें करना।
  5554. पुचुरामन—(ब.मु.) एक ही बात को बार-बार बताना, बिना प्रयोजन के वही-वही कार्य करना।
  5555. पुचुर पुचुर—(अव्य.) आँखों का मिचमिचाना, पककर अति ढीली एवं गीली स्थिति।
  5556. पुचारब—(क्रि.) प्रोत्साहित करना, पानी चढ़ाना, चने के झाड़ में चढ़ाना।
  5557. पुचकारब—(क्रि.) पुचकारना, रोते को स्नेह प्रदर्शित कर चुप कराना।
  5558. पुचरबइया—(सं.पु.) पुकारने वाला, प्रोत्साहित व उत्प्रेरित करने वाला।
  5559. पुचरबाउब—(पानी) पानी चढ़वाना, किसी को उत्प्रेरित करवाना।
  5560. पुछइया—(सं.पु.) कही बात को पूछने वाला, प्रश्नकर्ता।
  5561. पुछटेब—(क्रि.) दोनों टाँग से पीछे की ओर पूँछ करके पकड़ना, पीछा किये रहना।
  5562. पुंजमनिया—(विशे.) वितरण की वह प्रणाली जिससे सबको मिल जाय, बहुत कम मात्रा, वस्तु की काम चलाऊ उपलब्धता।
  5563. पुटकिआउब—(क्रि.) पोटली में खाद्यान्न को बॉंधना।
  5564. पुटुर-पुटुर—(अव्य) बिना प्रयोजन के अनावश्यक मुंह चलाते रहना। पुट्ट-पुट्ट - - सूखी लकड़ी तोड़ने से होने वाली ध्वनि, अति कमजोर का प्रतीक।
  5565. पुटिआउब—(क्रि.) मिला-जुलाकर किसी को अपने पक्ष में कर लेना।
  5566. पुन—(अव्य) फिर से, पुनः, दुबारा, अनन्तर।
  5567. पुनि—(अव्य) पुनः, फिर से, अगेन।
  5568. पुन्न—(सं.पु.) पुण्य, कल्याणकारी।
  5569. पुन्नेठ—(विशे.) छोटा मुँह बड़ी बातें, बड़ों जैसा बच्चों की वार्ता।
  5570. पुनिया—(सं.स्त्री.) पिनपिनाते हुए बोलने वाली नारी, पूर्णिमा को जन्मी स्त्री.।
  5571. पुन्नमासी—(सं.स्त्री.) पूर्णमासी।
  5572. पुन्नियाइ पुन्नियाई—(सं.स्त्री.) पुण्यदायी, दान-पुण्य के निमित्त प्रदत्त।
  5573. पुन्ना—(सं.पु.) पिनपिना कर बोलने वाला, पूर्णिमा को जन्मा बालक।
  5574. पुन्नहा—(सं.पु.) दान-पुण्य में प्राप्त वस्तु, दान-पुण्य हेतु संचित वस्तु।
  5575. पुतरिया—(सं.स्त्री.) पुतली, खिलौना, पुतली जैसी सुन्दर नारी।
  5576. पुतरी—(सं.स्त्री.) आँख की पुतली, अतिप्रिय, गुड़िया का खिलौना।
  5577. पुतउ—(सं.स्त्री.) पुत्र वधु, पतोहू।
  5578. पुतहिया—(सं.स्त्री.) पतोहू, पुत्र वधू।
  5579. पुतहुआब—(क्रि.) पुत्र वधू के आने की लालसा का होना।
  5580. पुजमान—(सं.पु.) पूजनीय, जिसका पाँव पूज लिया गया हो।
  5581. पुजरब—(क्रि.) अस्त्र से कट जाना, पूजा का हो जाना, पूरा पड़ जाना।
  5582. पुजाउब—(क्रि.) माँग के अनुसार पूर्ति कर लेना, पाँव की पूजा करा लेना।
  5583. पुजबाउब—(क्रि.) अपनी पूजा करवाना, पूर्ति करा लेना।
  5584. पुजबइया—(सं.पु.) पूर्ति करने वाला, पूजा या पूजन कर्ता।
  5585. पुजउब—(क्रि.) मात्रा पूरा करना, आवश्यकता के अनुसार पूरा कर देना।
  5586. पुँजिगर—(विशे.) पूँजीपति या धनवान, पूंॅजी से समृद्व एवं मजबूत।
  5587. पुँजिआब—(क्रि.) पूँजी संचित करना, पूँजी की दृष्टि से सम्पन्न होना।
  5588. पुजहाई—(सं.स्त्री.) पूजा सामग्री वाली झोली, पूजालय।
  5589. पुजाई—(क्रि.वि.) घर देवता या ग्राम्य देवता की परम्परागत पूजा।
  5590. पुजिगा—(क्रि.वि.) पूर्ण हो गया, सबको मिल गया, पूरा पड़ गया।
  5591. पुजेरी—(सं.पु.) पुजारी, मंदिर का पुजारी, पूजा-पाठ करने वाला।
  5592. पुट्ठा—(सं.पु.) कापी-किताब का कवर, कमर के पीछे का माँसल भाग।
  5593. पुट्ठ—(विशे.) पुष्ट, मजबूत, ताकतवर।
  5594. पुट्ठाब—(क्रि.) पुष्ट होना, खाकर तन्दुरुस्त बनना।
  5595. पुटपुर—(सं.पु.) ऊँची भूमि, कम उपजाऊ जमीन, कंकरीला-पथरीला खेत।
  5596. पुटकी—(सं.स्त्री.) पोटली।
  5597. पुटकिहा—(सं.पु.) पोटली बनाने वाला कपड़ा विशेष।
  5598. पुतउहाई—(सं.स्त्री.) जिस नारी के घर पुत्र वधू आ चुकी हो, पुत्र वधू वाली नारी।
  5599. पुपुआब—(क्रि.) प्रलोभन बस पीछे-पीछे घूमना, कह-कह कर प्रचारित करना।
  5600. पुरइन—(सं.स्त्री.) जलाशय का फूल, पुरैन, बेसन का व्यंजन, दीवाल का चित्र।
  5601. पुरहर—(सं.पु.) पूरी, ऊँची पूरी, पूर्ण परिपक्व, सार्मथ्यवान।
  5602. पुरब—(क्रि.) गढ्ढा का भर जाना, घाव का भर जाना।
  5603. पुरबाउब—(क्रि.) गढ्ढे को भरवाना व पूरा कराना।
  5604. पुरायँठ—(सं.पु.) पूर्वजों की भाँति बातें करने वाला, पुराना व्यक्ति।
  5605. पुरनमा—(सं.पु.) पुराना वस्त्र या घर, पुरानी वाली वस्तु, पुराना हीं।
  5606. पुरनिहा—(सं.पु.) पुराने चाल-चलन व परम्परा का पोषक।
  5607. पुरपुराब—(क्रि.) कागज या कपड़ा को फाड़ना, पुर-पुर की आवाज होना।
  5608. पुरपुराउब—(क्रि.) पुर-पुर की आवाज कराते हुए फाड़ना।
  5609. पुर पुर—(सं.पु.) वायु उत्सर्जन के समय की एक ध्वनि, फाड़ने से उत्पन्न ध्वनि।
  5610. पुरखा—(सं.पु.) पूर्वज, पूर्व पुरूष, कुलवंश का बडा बूढा।
  5611. पुरखातूॅं—(क्रि.वि.) छोटी मुँह बड़ी बातें करना, बच्चे द्वारा बूढ़ों जैसी बातें करना।
  5612. पुरबइया—(सं.स्त्री.) पूर्व दिशा से बहने वाली हवा।
  5613. पुरबायेन—(अव्य) पूर्व दिशा से आने वाली हवा विशेष, पूर्व की ओर।
  5614. पुरबा—(सं.पु.) वर्षा का एक चरण, एक नक्षत्र।
  5615. पुरचुल—(सं.पु.) अति दीन-हीन एवं दैन्यता प्रदर्शित करने वाला।
  5616. पुरिया—(सं.स्त्री.) पुड़िया, जहर की पुड़िया, बघेली मुहावरा।
  5617. पुरिहाव—(सं.पु.) पूड़ी बनने या खाने का दौर।
  5618. पुरियानदंन—(ब.मु.) जहर का खजाना, गुड़ का बाप कोल्हू।
  5619. पुरिआउब—(क्रि.) पुडिया बनाना, पुड़िया लगाना।
  5620. पुलकब—(क्रि.वि.) संकीर्ण क्षिद्र से पार हो जाना, पोलेपन से प्रवेश कर निकल जाना, छूट जाना।
  5621. पुलकाउब—(क्रि.) निकलवाना, पोलेपन से प्रवेश कराकर भगा देना।
  5622. पुलुकबइया—(सं.पु.) संकीर्ण क्षिद्र से प्रवेश कर आगे निकल जाने वाला।
  5623. पुल्ली—(सं.स्त्री.) हिस्सा बाँट का दस्तावेज, पेन का ढक्कन, आभूषण की कील, वंश विवरण पत्रिका।
  5624. पुलुलुआ—(सं.पु.) एकदम पानी जैसी पतली टट्टी।
  5625. पुल्लाउब—(क्रि.) खो-खो के खेल में खिलाड़ी को बढ़ाना व गतिमान करना।
  5626. पुलपुलिया—(सं.स्त्री.) पतली टट्टी, कढ़ी जैसा पतला मैला।
  5627. पुलइया—(सं.पु.) अतिप्रिय शिशु के लिए स्नेहिल उद्बोधन।
  5628. पुसउल—(सं.पु.) पूस मास की परीवा की तिथि व त्यौहार।
  5629. पुसपरीबा—(सं.पु.) पूस महीने की परीवा को होने वाला ग्राम्य त्यौहार। पू
  5630. पूँक—(सं.स्त्री.) गुदा, गुदा द्वार की लाल माँसपेशी।
  5631. पूकमारी—(सं.स्त्री.) गुदा पर केन्द्रित नारी के लिए अश्लील गाली।
  5632. पूँछब—(क्रि.) पूछना, प्रश्नोत्तर करना, जानकारी लेना।
  5633. पूँछी—(क्रि.) पूछिए, पूँछ लीजिए, पूँछ लो, पूछो।
  5634. पूजब—(क्रि.) आवश्यकता की पूर्ति हो जाना, अस्त्र से गला उतार लेना।
  5635. पूठी—(सं.स्त्री.) एक वनपौध जिसके छिलके से रस्सी बनती है।
  5636. पूरब—(सं.पु.) पूर्व, पूर्व दिशा, घाव को भरना (कि.वि.)
  5637. पूरा—(सं.पु.) ढोलक में मढ़ा चमड़ा, वधू विदाई में प्राप्त रीतिगत पूड़ियाँ मिष्ठान।
  5638. पूरी—(सं.स्त्री.) दाल वाली पूडी, धान के ठंडलों का बॅंधा गठ्ठा।
  5639. पूरपार—(विशे.) पूरी-पूरी मात्रा, आवश्यकता एवं पूर्ति एक बराबर, न कम न ज्यादा मात्रा।
  5640. पूरन—(विशे.) सभी चीजों की पूर्णता व सम्पन्नता, पूर्णतः पूर्ति।
  5641. पूरन पात—(सं.पु.) पूजा-पाठ व धार्मिक अनुष्ठान में थाल में दिया गया आरती हेतु चावल। पे
  5642. पें—(सं.पु.) रोते समय की एक ध्वनि विशेष।
  5643. पेउँदी—(सं.स्त्री.) बड़े आकार की एक मीठी बेर की किस्म।
  5644. पेउला—(सं.पु.) अनाज रखने का बडा सा मिट्टी का पात्र, कुठिला।
  5645. पेंउसरी—(सं.स्त्री.) पेंउस, प्रजनन के बाद वाले दूध का जमाया गया व्यंजन।
  5646. पेउहा—(सं.पु.) दुग्धपान के लिए भूखा शिशु, दुधपिहा बच्चा।
  5647. पेंगा—(सं.स्त्री.) जबड़े तक फटे मुँह वाली एक चिड़िया, पेंगा कस मुँहु फाट, बघेली मुहावरा।
  5648. पेंगल—(सं.पु.) पोंगा आदमी, दन्तविहीन बूढ़ा व्यक्ति।
  5649. पेंच—(सं.पु.) दांव पेंच, मशीन के पुर्जें।
  5650. पेंचहा—(सं.पु.) दांव पेंच व नियम कानून जानने वाला।
  5651. पेज—(सं.पु.) प्याज।
  5652. पेजहा—(सं.पु.) प्याज का खेत, प्याज खरीदने-बेचने वाला।
  5653. पेज पानी—(ब.मु.) रूखा-सूखा भोजन।
  5654. पेजहाई—(सं.स्त्री.) प्याज का व्यापार, प्याज वाली जमीन व पात्र।
  5655. पेटभराँव—(अव्य) पेटभर, भरपेट, तृप्ति होने की मात्रा।
  5656. पेटपकन—(ब.मु.) पेट का पानी पचा देने वाला, समस्या मूलक जन।
  5657. पेटहा—(विशे.) जिसे मात्र अपने पेट की चिंता हो, दूसरे का हक छीनकर खाने वाला, स्त्री.लिंग ’पेटही’।
  5658. पेटागिन—(सं.स्त्री.) भूखों मरने वाला, भूख के मारे चिपका हुआ पेट।
  5659. पेटपोछना—(अव्य) अन्तिम संतान, जिसके जन्म के बाद संतानोपत्ति बन्द हो गई हो।
  5660. पेटका—(अव्य) पेट के बल लेटा हुआ, पीठ ऊपर की ओर करके पड़ना।
  5661. पेटकुँइया—(अव्य) जमीन पर पेट सटाकर पड़ने की स्थिति।
  5662. पेटारथू—(ब.मु.) जो अपना पेट भरने के चक्कर में रहता हो।
  5663. पेटुआ—(सं.पु.) बकौड़ा का रेशा, अमारी का छिलका।
  5664. पेटलण्डी—(विशे.) आँख चुराकर खाने वाली, पुलिंग ’पेटलण्डा’।
  5665. पेटबइठा—(विशे.) भूख के कारण पेट के प्रकोष्ठ जिसके बैठे ले।
  5666. पेटकढ़ा—(विशे.) जिसका लेद निकल आया हो।
  5667. पेडहरा—(सं.पु.) जड़वाला लकड़ी का हिस्सा।
  5668. पेंडा—(सं.पु.) पौधे का जड़ वाला तना, नीचे का हिस्सा।
  5669. पेडाब—(क्रि.) पेड़ से शाखाओं का फूटना, वृक्ष का मोटा होना, जेल में बंद होना, अन्दर होकर बन्द कर लेना।
  5670. पेडान—(विशे.) पेड़ में प्रस्फुटित शाखायें, मोटा हुआ पेड़।
  5671. पेढबा—(सं.पु.) पेड़, वृक्ष।
  5672. पेंढा—(सं.पु.) वृक्ष का निचला भाग, पौध का जल वाला अंश।
  5673. पेंदर—(सं.स्त्री.) नाभि के नीचे का उच्च भाग।
  5674. पेंदरब—(क्रि.) मारना-पीटना।
  5675. पेदराउब—(क्रि.) किसी से किसी कोमरवाना- पिटवाना।
  5676. पेंदरइया—(सं.पु.) मारने-पीटने वाला व्यक्ति।
  5677. पेंदी—(सं.स्त्री.) बर्तन का निचला वाह्य तल, वस्तु का निचला भाग।
  5678. पेन्हाब—(क्रि.) गाय-भैंस के थनों का दुहने योग्य होना।
  5679. पेन्हबाउब—(क्रि.) दुधारू पशु के बाल को दुहने लायक बनाना।
  5680. पेन्हबइया—(सं.पु.) थनों में दूध उतारने वाला व्यक्ति।
  5681. पेन्हान—(विशे.) थनों में दूध की उतरी हुई अवस्था।
  5682. पेरब—(क्रि.) पेरना, रस निकालना, परेशान करना।
  5683. पेरबाउब—(क्रि.) पेरने का कार्य करवाना।
  5684. पेरबइया—(सं.पु.) रस निकालने वाला, पेरने वाला व्यक्ति।
  5685. पेररब—(क्रि.) बीच में दबकर पिस जाना, दो पाटों के बीच फँसना।
  5686. पेराब—(क्रि.) पिस जाना, तिलहन से तेल निकल आना।
  5687. पेराई—(सं.पु.) पेरने के बदले प्राप्त मजदूरी, पेरने का दौर।
  5688. पेरबाई—(सं.स्त्री.) पेराई का मेहनताना, तेल निकालने की मजदूरी।
  5689. पेरँउसा—(सं.पु.) पुआल की भूसानुमा टुकड़ियाँ।
  5690. पेरूआ—(सं.पु.) चारपाई के पावे, पेरूआ कस मुँहु, बघेली मुहावरा।
  5691. पेलब—(क्रि.) ताकत लगाकर डाल देना, खाना खा लेना।
  5692. पेलबाउब—(क्रि.) किसी से डलवाना, दूसरे से पेरने का कार्य करवाना।
  5693. पेलइया—(सं.पु.) ताकत के साथ डालने वाला, खाने वाला।
  5694. पेलाई—(सं.पु.) पेलने की मजदूरी, पेलने का दौर।
  5695. पेलचब—(क्रि.) नुकीली कील डाल देना, जमकर डालना-निकालना।
  5696. पेलचाउब—(क्रि.) किसी से डलवाना।
  5697. पेलिपराब—(ब.मु.) प्राण बचाकर भागना, भयवश मैदान छोड़कर भाग जाना।
  5698. पेल्हर—(सं.पु.) अण्ड-कोश।
  5699. पेल्हउरी—(सं.स्त्री.) छोटे आकार का अण्डकोष, बच्चों का अण्ड- कोश।
  5700. पेल्हड़ब—(क्रि.) अण्डकोश के प्रक्षेत्र में मार करना।
  5701. पेल्ला—(सं.पु.) दिनभर खाने वाला, स्त्री.लिंग ’पेल्ली’।
  5702. पेलिआब—(क्रि.) आँख मींचकर जबरिया घुस जाना।
  5703. पेसब—(क्रि.) नुकीली कील चुभा देना, घुसेड़ना या चुभाना।
  5704. पेसुआ—(सं.पु.) पशुओं के शरीर पर पड़ने वाले श्वेत जूँ।
  5705. पेसुआब—(क्रि.) पशुओं के शरीर में जूँ का पड़ जाना।
  5706. पेसुआन—(विशे.) जूँ पड़ा हुआ पशुओं का शरीर।
  5707. पेहंटा—(सं.पु.) छोटेकद का आदमी, अबोध शिशु, स्त्री.लिंग ’पेहटी’। पो
  5708. पोई—(सं.स्त्री.) एक प्रकार की भाजी, साग की एक विशेष पत्ती।
  5709. पोइसा पोइस—(ब.मु.) बिना अर्थ के पीछे-पीछे घूमना, अनावश्यक चक्कर काटना, दौड़कर आना- जाना।
  5710. पोइलहा—(सं.पु.) ब्राम्हण जाति का एक गोत्र विशेष।
  5711. पोउब—(क्रि.) गदेली के सहारे रोटी बनाना, पोउब पाथब ब. मु।
  5712. पोकबा—(सं.पु.) बाँस का एक मोटा सा डंडा।
  5713. पोक्किआउब—(क्रि.) बाँस के मोटे डंडा से मार करना।
  5714. पोक्का—(सं.पु.) बाल छोटा किया हुआ, चिकनी मुण्डी का।
  5715. पोकहट—(सं.पु.) अतिवृद्व एवं जर्जर हुआ बूढ़ा व्यक्ति।
  5716. पोंकब—(क्रि.) पतला दस्त जाना, पतली टट्टी करना।
  5717. पोंकाउब—(क्रि.) पतला दस्त निकलवा लेना।
  5718. पोकइया—(सं.पु.) पतली-पतली टट्टी या दस्त करने वाला।
  5719. पोकना—(सं.पु.) दस्त के दौरान निकला हुआ तरलीय मैला।
  5720. पोंकास—(सं.पु.) बार-बार दस्त आने की अनुभूति या इच्छा।
  5721. पोंकासा—(विशे.) जिसे पतली टट्टी करने की इच्छा जागृति हो गई हो।
  5722. पोकपोकाब—(क्रि.) बिना मतलब की बातें, बक-बकाते रहना।
  5723. पोकनहा—(सं.पु.) जो हमेशा पतली टट्टी करता रहता हो।
  5724. पोक्क-पोक्क—(अव्य) पोली चीज में धक्का देने से होने वाली आवाज।
  5725. पोखरी—(सं.स्त्री.) पोखर, जलाशय।
  5726. पोंग पोंगा—(सं.पु.) जिसे लाभ-हानि का ज्ञान न हो।
  5727. पोगरी—(सं.स्त्री.) पोलदार बाँस की टुकड़ी, पोगड़ी खाद्य सामग्री।
  5728. पोंगर—(सं.पु.) घुटने के नीचे की मोटी हड्डी वाला भाग।
  5729. पोचहा—(सं.पु.) बिना बीज की फली, चना विहीन फली, लपोचड़ा किस्म का व्यक्ति, स्त्री.लिंग ’पोचही’।
  5730. पोंछब—(क्रि.) पोंछना, पोछाई करना।
  5731. पोंछबाउब—(क्रि.) किसी दूसरे से पोंछवाना, साफ करवाना।
  5732. पोछना—(सं.पु.) पोछने वाला कपड़ा, पोंछा का कपड़ा।
  5733. पोछबइया—(सं.पु.) पोंछने वाला, पोंछा लगाने वाला।
  5734. पोछाब—(क्रि.) सफाई हो जाना, साफ- सुथरा बना देना।
  5735. पोछान—(विशे.) पोंछकर बिल्कुल साफ- सुथरा किया हुआ।
  5736. पोटा—(सं.पु.) नाक से निकला हुआ अधिक प्ररस, छोटे-छोटे बच्चे।
  5737. पोटरी—(सं.स्त्री.) पोटली, कपड़े में बंधी अनाज की गठरी।
  5738. पोड़र—(विशे.) पोलापन, पोलाईयुक्त, पोलनुमा, अठोस।
  5739. पोड़िलाब—(क्रि.) गला फाड़कर जोर-जोर से चिल्लाना।
  5740. पोड़िलाउब—(क्रि.) छिलाई करके लकड़ी के एक सिरे को नुकीला बनाना।
  5741. पोड़िका—(सं.पु.) कृषि कार्य की संविदा, बैल और मजदूरों की साझेदारी।
  5742. पोड़िकहरू—(सं.पु.) किसी के हल में अपना बैल संलग्न कर कृषि कार्य करने वाला।
  5743. पोड़की—(सं.स्त्री.) एक विशेष चिड़िया की किस्म।
  5744. पोता पोती—(ब.मु.) एकदम लीप-पोत देना, मिटा देना, चिन्ह नष्ट कर देना।
  5745. पोतिआउब—(क्रि.) भोजन पकाने वाले बर्तन में मिट्टी का लेपन लगाना।
  5746. पोतहड़ी—(सं.पु.) पोतने के लिए प्रयुक्त बड़ा पात्र विशेष।
  5747. पोतब—(क्रि.) पोतना, पुताई करना।
  5748. पोतबाउब—(क्रि.) किसी से पोतवाना, पुतवाई का कार्य कराना।
  5749. पोताब—(क्रि.) पोतने का कार्य होना।
  5750. पोतान—(विशे.) पुताई का हो चुकना, पोता हुआ साफ सुथरा।
  5751. पोतबइया—(सं.पु.) पुताई का कार्य करने वाला।
  5752. पोताई—(सं.पु.) पुताई का चलता हुआ कार्य, पोतने की मजदूरी।
  5753. पोत्ता—(सं.पु.) स्लेट के अक्षर मिटाने वाला गीला कपड़ा।
  5754. पोतना—(सं.पु.) फर्श की पुताई में प्रयुक्त गीला कपड़े की टुकड़ी।
  5755. पोती—(सं.स्त्री.) भोजन पकाने के बर्तन में लगाया गया मिट्टी का लेप।
  5756. पोत—(सं.पु.) धन-दौलत, सम्पत्ति या पूँजी, पूर्वज की पूँजी।
  5757. पोथा—(सं.पु.) अण्डकोश।
  5758. पोटरा—(सं.पु.) उँगुली के नाखूनों के ठीक नीचे का माँसल भाग।
  5759. पोथी—(सं.स्त्री.) प्याज की एक गाँठ, लहसुन की गाँठ।
  5760. पोथन्ना—(सं.पु.) बड़ी एवं भारी पुस्तक, पुस्तक के लिए व्यंग्य कथन।
  5761. पोथीहा—(सं.पु.) पुस्तक लेकर चलने वाला, पुस्तक वाला कक्ष।
  5762. पोंद—(सं.पु.) चूतड़, हिप।
  5763. पोदासी—(सं.स्त्री.) बड़े-बड़े चूतड़ वाली नारी, नारी के लिए एक गाली।
  5764. पोंदाड़िया—(सं.पु.) बड़े-बड़े पोंद वाला व्यक्ति, स्त्री.लिंग ’पोदाड़ी’।
  5765. पोंदीपँइया—(क्रि.वि.) सहारा देकर ऊपर उठाना, प्रोत्साहन देकर बढ़ाना।
  5766. पोदाइस—(क्रि.) किसी की खुशामदी पूर्ण व्यवस्था बनाना।
  5767. पोंदासे—(का.) पोंद में, पोंद पर।
  5768. पोन्डा—(विशे.) जो अठोस हो, पोलनुमा, स्त्री.लिंग पोन्डी।
  5769. पोन्डहा—(सं.पु.) ऐसा पौध जिसका तना पोलाईयुक्त हो।
  5770. पोपरी—(सं.स्त्री.) पपड़ी, बेसन का पापड़।
  5771. पोबाउब—(क्रि.) गदेली के सहारे रोटी प्रसारित करवाना।
  5772. पोबाब—(क्रि.) रोटी का बन जाना, रोटी का प्रसारित हो चुकना।
  5773. पोबाई—(सं.स्त्री.) रोटी पोने का चल रहा कार्य, (कि.) रोटी बनाने का मेहनताना।
  5774. पोबइया—(सं.पु.) रोटी बनाने वाला व्यक्ति विशेष।
  5775. पोबउबेय—(क्रि.) रोटी बनवाओगी, पोने का कार्य कराओगी।
  5776. पोबइहौं—(क्रि.) रोटी बनवाऊँगी, बनवाने में सहयोग करूँगी।
  5777. पोमन—(सं.पु.) रोटी बनाने के पश्चात शेष बचा हुआ आटा।
  5778. पोंय पोंय—(अव्य) भैंस के चिल्लाने की एक प्रवृत्तिगत आवाज, ध्वनि।
  5779. पोर—(सं.पु.) दो गाँठों के बीच का बाँस का भाग।
  5780. पोरसा—(सं.पु.) हाथ खड़ा करने पर नीचे से ऊपर तक की उँचाई का माप।
  5781. पोरहा—(सं.पु.) पोर-पोर वाली लाठी या गन्ना का डंठल।
  5782. पोलबा—(सं.पु.) छड़ी में बँधा हुआ धातु का छल्ला, पेन का ढक्कन।
  5783. पोलखर—(विशे.) पोलाईयुक्त जगह, जिस वस्तु के नीचे पोलापन हो।
  5784. पोलका—(सं.स्त्री.) पुराने प्रचलन की औरतों की ब्लाउज।
  5785. पोलपट्टी—(ब.मु.) रहस्य, कमजोरी, गड़बड़ी, कमी, भेद।
  5786. पोलिंदा—(सं.पु.) कागजों का लपेटा हुआ बन्डल या गट्ठा।
  5787. पोलइया—(सं.पु.) शिशुओं के लिए स्नेहित सम्बोधन।
  5788. पोसाब—(क्रि.) पसन्द आना, मन में अच्छा लगना, रूचि के अनुरूप।
  5789. पोसता—(सं.पु.) किवाड़े के पल्लू में लगने वाली बेड़ी पटरी, एक ड्राई फ्रूट।
  5790. पोस्मान—(सं.पु. ) किवाड़े में लम्बी लगी हुई मजबूती हेतु एक लकड़ी।
  5791. पोहब—(क्रि.) पोली जगह में डाल देना, अन्दर कर देना।
  5792. पोहबाउब—(क्रि.) किसी को भरपेट भोजन करवाना, डलवाना।
  5793. पोहइया—(सं.पु.) डालने वाला, भोजन करने वाला।
  5794. पोहानंदन—(ब.मु.) जो खाने-पीने में हमेशा आगे रहता हो।
  5795. पोहगर—(सं.पु.) होशियार, चतुर चालाक, व्यंग्य प्रहार।
  5796. पोहकड़—(सं.पु.) छोटे बच्चों के लिए मनोविनोदी सम्बोधन।
  5797. पोहन्दा—(सं.पु.) खूब खाने वाला, बड़ी-बड़ी चूतड़वाला, स्त्री.लिंग ’पोहन्दी’। फ
  5798. फइल—(विषे.) पर्याप्त जगह, विस्तृत स्थान।
  5799. फइलबार—(विषे.) पर्याप्त स्थान, विस्तृत जगह।
  5800. फइलब—(क्रिया) फैलना, प्रसारित होना, प्रचार हो जाना।
  5801. फइलाउब—(क्रिया) फैलाना, प्रसारित कर देना, प्रचारित करना।
  5802. फइलान—(विषे.) फैला हुआ, चारों तरफ जानकारी हुई स्थिति।
  5803. फइलइया—(सं.पु.) प्रचार-प्रसार करने वाला, फैलाने वाला।
  5804. फइलबाउब—(क्रिया) फैलवाना, फैलाने मे योगदान करना, प्रचार करवाना।
  5805. फइले—(विषे.) किनारे, दूर, एकदम एकान्त, स्वतंत्र, अलग।
  5806. फइसला—(सं.पु.) निर्णय, फैसला, निपटारा, निराकरण।
  5807. फँइकब—(क्रिया) फेंकना, फेंक देना, घर से दूर कर देना।
  5808. फँइकाउब—(क्रिया) किसी से फेंकवाना, फेंकने के लिये प्रेरित करना।
  5809. फँइकबइया—(सं.पु.) फेंकने वाला, फेंकवाने वाला, दूर हटाने वाला।
  5810. फउद—(सं.पु.) फौज या सेना, घर में बच्चों की अधिक संख्या।
  5811. फउलेंद—(सं.पु.) अधिक संख्या में अनावष्यक बच्चे।
  5812. फकइता—(सं.पु.) जमीन में गड़ी नुकीली कील, फसल का सख्त डंठल।
  5813. फकरा—(सं.पु.) वर्षा के पानी की मन्द-मन्द फुहार।
  5814. फक्क—(विषे.) स्वच्छ, सफेद, एकदम ध् ावल, साफ-सुथरा, निर्दाग।
  5815. फँकिआउब—(क्रिया) गदेली द्वारा दूर से ही मुँह में डाल लेना।
  5816. फकइया—(सं.पु.) फाँक कर खाने वाला, लम्बी- चौड़ी हांकने वाला।
  5817. फँकिया—(सं.स्त्री..) कद्दू के उबाले हुये टुकड़े।
  5818. फँकनी—(सं.स्त्री..) फाँक कर खाने वाली औषधि चूर्ण।
  5819. फगुनहट—(सं.पु.) फाल्गुन मास के दिन या ऋतु।
  5820. फगुना—(सं.पु.) फाल्गुन मास में जन्मा व्यक्ति विषेष।
  5821. फगुआ—(सं.पु.) होली का त्यौहार, फाग, होली गीत।
  5822. फगुआउब—(क्रिया) फाल्गुन का रंग चढ़ जाना, मजाकिया शैली में बोलना।
  5823. फगुहार—(सं.पु.) फाग गाने वाले लोग, फाग की टोली।
  5824. फटहा—(विषे.) फटा पुराना, फटा हुआ, स्त्री.लिंग फटही।
  5825. फटाफट—(अव्य.) तत्काल, एकदम से, जल्दी-जल्दी।
  5826. फटहाई—(विषे.) दूसरे की बुराई, दूसरे के खिलाफ अनाप-सनाप बयान।
  5827. फटब—(क्रिया) फटना, फट जाना, दूध बिगड़ जाना, दिल फटना, दो टुकड़े होना।
  5828. फटबाउब—(क्रिया) फड़वाना, फाड़ने में सहयोग करना।
  5829. फटफटाब—(क्रिया) फट-फट की आवाज होना, घबड़ाहट युक्त आतुरता।
  5830. फटफटाउब—(क्रिया) फट-फट की आवाज करना।
  5831. फटर-फटर—(अव्य.) फट-फट की आवाज का निकलना या होना।
  5832. फट्टी—(सं.स्त्री..) टाट या कपड़े की बैठकी, पुलिंग फट्टा।
  5833. फटफटबइया—(सं.पु.) फट-फट की ध्वनि करने वाला व्यक्ति।
  5834. फटिकब—(क्रिया) फेंकना, फेंक देना, अनाज पछोरना।
  5835. फटिकाउब—(क्रिया) फेंकवाना, फेंकवा देना, पछोरवाना।
  5836. फटकबइया—(सं.पु.) अन्न पछोरने का कार्य करने वाला।
  5837. फटका—(सं.पु.) बाँस का बना फाटक, किवाड़ा, स्त्री.. फटकी।
  5838. फटिकाब—(क्रिया) धक्का लगने से उछल कर दूर गिरना, दूर स्थानान्तरण।
  5839. फटकदलाल—(ब.मु.) गैर जिम्मेदार, फक्कड़ी, जिसे कोई चिन्ता न हो।
  5840. फटकारब—(क्रिया) डाँट-फटकार लगाना, अनाज का कूड़ा-कर्कट अलग करना, हाथ मार लेना, गीला कपड़ा झटकारना।
  5841. फटकरबाउब—(क्रिया) दूसरे से डाँट-फटकार दिलवाना, पछोरवाना।
  5842. फटकन—(सं.स्त्री..) फटक कर अन्न से निकाली गई भूसी व कचड़ा।
  5843. फटनहा—(सं.पु.) जल्दी फट जाने वाला कमजोर वस्तु, स्त्री.. फटनही।
  5844. फटकाई—(सं.पु.) पछोरने की मजदूरी, फटकने का मेहनताना।
  5845. फड़फड़ाब—(क्रिया) पंख फड़फड़ाना, घबड़ाना, आतुर हो उठना।
  5846. फड़फडाउब—(क्रिया) पंख का फड़-फड़ करना, किसी को घबड़वा देना।
  5847. फड़फड़िहा—(सं.पु.) घबड़ा जाने वाला, आतुर होकर कार्य कर बैठने वाला।
  5848. फड़मबाज—(सं.पु.) तिकड़मी व्यक्ति, बेइमानी व बदमानी बताकर कार्य सिद्ध करने वाला, नामाजादी धोखेबाज।
  5849. फड़मबाजी—(क्रि.वि.) उलटी-सीधी बातें, धोखा- धड़ी पूर्ण, झटका मारने वाली बातें।
  5850. फड़—(सं.पु.) तेंदूपत्ती का टाल, जुआ- तास का मजमा।
  5851. फतँइया—(सं.पु.) फटेहाल स्थिति वाला, अस्तित्व विहीन, वक्त का मारा हुआ, फतइयाँ कस घोड़ी, ब.मु।
  5852. फतांही—(सं.स्त्री..) पुराने चाल की कमीच, बिना बाँह की शर्ट।
  5853. फदफदान—(विषे.) अव्यवस्थित ढंग से पूरे घर में फैला हुआ।
  5854. फदफदाउब—(क्रिया) पूरे घर में बेतरकीब ढंग से फैला देना।
  5855. फदफदइया—(सं.पु.) वस्तु को इधर-उधर फैला देने वाला व्यक्ति।
  5856. फदफदाब—(क्रिया) वस्तु का अव्यवस्थित ढंग से फैला हुआ होना।
  5857. फदर-फदर—(विषे.) फद्-फद् की आवाज करते हुये दौड़ की शैली।
  5858. फद्द-फद्द—(अव्य.) गीली जमीन पर पाँव पटकने से उत्पन्न ध्वनि।
  5859. फना—(सं.पु.) करछुल का चौड़ा मुखौटा, सर्प का फन।
  5860. फन्नी—(सं.पु.) तामसी व स्वाभिमानी, ताव न सहने वाला।
  5861. फन्ने खॉ—(ब.मु.) किसी की न सुनने व बातें न सहने वाले के लिये व्यंग्यार्थ सूचक।
  5862. फनफनाब—(क्रिया) आवेषित होकर बोलना, नाराज होना, फन फैलाकर फुसकारना।
  5863. फनफूटब—(ब.मु.) बुद्धि खुल जाना, गले में सरस्वती का बैठ जाना, स्वर निकालना।
  5864. फफाब—(क्रिया) कोयलों से भरा हुआ, एकदम हरा-भरा, पत्तों से पौध का लद जाना।
  5865. फब—(सं.पु.) स्मरण, याद, सुधि, दिमाक में युक्ति।
  5866. फबब—(क्रिया) उचित लगना, शोभा देना, उपयुक्त होना।
  5867. फम्फा—(विषे.) एकदम हलका, बहुत ही पतला, हवा में उड़ जाने लायक।
  5868. फर—(सं.पु.) फल।
  5869. फरब—(क्रिया) फलना, फल लगना, फल का फलना।
  5870. फरी—(विषे.) फल से लदी हुई, पर्याप्त फल लगा हुआ।
  5871. फरफराब—(क्रिया) फड़फड़ाना, पंख का फड़-फड़ होना।
  5872. फरबाउब—(क्रिया) फड़वाना, किसी से फड़वा देना, दो टुकड़े करवाना।
  5873. फरबइया—(सं.पु.) फाड़ने का कार्य करने वाला।
  5874. फरुहा—(सं.पु.) फल, फावड़ा।
  5875. फरुही—(सं.स्त्री..) जमकर फलने वाली, प्रतिवर्ष फल देने वाली।
  5876. फरकाउब—(क्रिया) नाक फड़काना, नाक सिकोड़ना, नाक फरकाउब, ब.मु।
  5877. फरकइया—(सं.पु.) नाक फरकाते रहने वाला आदमी।
  5878. फरगब—(क्रिया) औजार को धारदार बनाना, पैनी धार बनाने हेतु माँजना।
  5879. फरगाउब—(क्रिया) औजार को धारदार बनवाना, मुँह फरगाउब, ब.मु.।
  5880. फरगबइया—(सं.पु.) औजार को धारदार बनाने वाला, औजार मंजवाने वाला।
  5881. फरिका—(सं.पु.) दरवाजे के सामने की आरक्षित भूमि।
  5882. फराँक—(सं.पु.वि.) फैला हुआ भू-भाग, विस्तृत क्षेत्र, पर्याप्त स्थान का होना। फराँँ ँ
  5883. के—(अव्य.) दूर-दूर, एकान्त में, कट-कट कर।
  5884. फरिया—(क्रिया) लड़कियों की फ्राक, फ्राक की तरह एक वस्त्र।
  5885. फरफंद—(सं.पु.) दंद-फंद, बहाने बाजी, झूठ-फरेबयुक्त वार्ता।
  5886. फरफंदी—(विषे.) हमेषा तीन-पाँच करने वाला, इधर-उधर की जोड़गाँठ करने वाला।
  5887. फरा—(सं.पु.) महुए के रस से बनी खीर, गर्मी की दानेदार पड़ी फुड़िया।
  5888. फरचंट—(विषे.) होषियार, तेज-तर्राक, चतुर चालाक।
  5889. फरफरान—(विषे.) फहराती हुई, फड़फड़ाकर आती हुई।
  5890. फरिआब—(क्रि.) दिखाई पड़ने लगना, हल्का- हल्का अंधकार का कम होना।
  5891. फरेंदा—(सं.पु.) फाड़कर तैयार की गई जलाऊ लकड़ी, फलदार वृक्ष, फलदार वनस्पति।
  5892. फरथाला—(सं.पु.) बीच से फाड़ी हुई वस्तु का एक टुकड़ा।
  5893. फरहर—(विषे.) पके चावल का चावल से न चिपके रहने की स्थिति।
  5894. फरकब—(क्रिया) फड़काना, विकार से अंग का कूदना।
  5895. फर्र-फर्र—(विषे.) देखते-देखते उड़ जाना।
  5896. फर्राब—(क्रिया) फरफराते हुये उड़ जाना, फर-फर की आवाज करना।
  5897. फर्रउहन—(सं.पु.) फड़फड़ाते हुये शैली में।
  5898. फरदा—(सं.पु.) बीच से फाड़कर दो टुकड़ा लकड़ी का एक हिस्सा।
  5899. फरहार—(सं.पु.) व्रत में लिया गया फल, फलाहार।
  5900. फराहारी—(सं.पु. फलहारी, जो फल का सेवन करता हो।
  5901. फलाने—(सर्व.पु.) अमुक, एक तकिया कलाम।
  5902. फलिहाउब—(क्रि.) भरे पानी में बर्तन या कपड़ा डालकर हिलोरना व साफ करना।
  5903. फलिआउब—(क्रिया) किसी को उलाहना से बुरा-भला कहना।
  5904. फलदान—(सं.पु.) वरीक्षा की एक रस्म, विवाह की संविदा।
  5905. फलगट्टा—(सं.पु.) अति ढीला-ढाला, साया, चलते समय फट्फटाने वाला वस्त्र।
  5906. फलब—(क्रिया) सूट करना, फलदायी होना, लाभदायक होना।
  5907. फलनिया—(सर्व.स्त्री..) अमुक नारी, एक तकिया कलाम।
  5908. फला—(सर्व.) अमुक, ये।
  5909. फलनमा—(सर्व.) अमुक, ये।
  5910. फसकब—(क्रिया) माँस लद जाना, मोटा होना जाना, माँस फूल आना।
  5911. फसकाउब—(क्रिया) पदार्थ को फैला देना, भूसा को फैला देना।
  5912. फँसब—(क्रिया) उलझ जाना, फँस जाना, चक्कर में पड़ जाना।
  5913. फसबाउब—(क्रिया) किसी को फँसा देना, सहयोग करके फँसवाना।
  5914. फसबइया—(सं.पु.) फसाने वाला, मामले में फँसा देने वाला।
  5915. फँसा—(विषे.) किसी से संलग्न, किसी में फँसा हुआ।
  5916. फँसाब—(क्रिया) अपने आप चक्कर में फँस जाना।
  5917. फसही—(सं.स्त्री..) खेत में अपने आप उग आने वाली एक धान।
  5918. फँसउहल—(सं.पु.) फँसने-फँसाने वाला प्रकरण।
  5919. फसर्रब—(क्रिया) गहरी निद्रा में निशि्ंचत होकर सोना।
  5920. फसफसान—(विषे.) उभर कर ऊपर दिखता हुआ, फैला व उभरा हुआ।
  5921. फसिल—(सं.स्त्री..) फसल, अनाज का उत्पादन।
  5922. फहराब—(क्रिया) फहरवाना, आरोहित कराना, उड़ जाना।
  5923. फहरबइया—(सं.पु.) फहराने वाला, आरोहणकर्ता। फा
  5924. फाँकब—(क्रिया) गदेली में उठाकर सीधे मुँह में फेंक लेना।
  5925. फाँका—(सं.पु.) फल का एक आधा भाग, गदेली भर अनाज।
  5926. फाँकी—(सं.स्त्री..) ककड़ी की एक टुकड़ी, फल का आधा हिस्सा।
  5927. फाटन—(सं.पु.) हाथ-पाँव में कटने का दर्द, एक रोग।
  5928. फाटब—(क्रिया) फटना, फट जाना, खण्डित होना।
  5929. फाँदब—(क्रिया) लांघ जाना, कूद जाना, नये कार्य का शुभारंभ, किसी को फँसा लेना।
  5930. फाफट—(ब.मु.) सक्रिय होने का दिखावा, हाथ-पाँव फड़फड़ाना, फाफट कूटना, ब.मु.।
  5931. फाँफी—(सं.स्त्री..) भूसे का अनुपयोगी महीन कण, एकदम हलकाव, कमजोर।
  5932. फार—(सं.स्त्री..) हल की लोहे की फाल।
  5933. फारब—(क्रिया) फाड़ना, फाड़ देना, दो टुकड़े करना, फैलाना।
  5934. फाँस—(सं.स्त्री..) बाँस या लकड़ी की पतला रेखा, फाँस ठोकना, ब.मु.।
  5935. फाँसब—(क्रिया) किसी को फाँस लेना, बन्धनबद्ध करना। फि
  5936. फिकिर—(सं.स्त्री..) फिक्र, चिन्ता, सोच, परवाह।
  5937. फिचबाउब—(क्रिया) कपड़े पछरवाना, कपड़े धुलवाना।
  5938. फिंचाब—(क्रिया) कपड़ों का धुल जाना, वस्त्र साफ होना।
  5939. फिचान—(विषे.) धुले हुये कपड़े, साफ किये गये वस्त्र।
  5940. फिचबइया—(सं.पु.) कपड़े धुलने वाला, कपड़ा साफ करने वाला।
  5941. फिटिकब—(क्रिया) फेंकना, फेंक देना, उठाकर फेंक देना।
  5942. फिटिकाउब—(क्रिया) फेंकवाना, किसी को फेंकने को प्रेरित करना।
  5943. फिटकइया—(सं.पु.) दूर फेंकने वाला व्यक्ति।
  5944. फिटिका—(विषे.) फेका हुआ, जमीन पर पड़ा हुआ।
  5945. फिटिर-फिटिर—(अव्य.) फंटे बाँस के पटकने से उत्पन्न ध्वनि।
  5946. फिटकिरी—(सं.स्त्री..) एक प्रकार की नमक के रंग की औषधि।
  5947. फिट्ट-फिटान—(ब.मु.) आवष्यकता के अनुरूप, चाहत के अनुसार पूर्ति, बात तय हो जाना।
  5948. फिन—(अव्य.) फन, फिर से।
  5949. फिफिआब—(क्रिया) परेषान होकर भटकना, तलाष में इधर-उधर भटकना।
  5950. फिफिआउब—(क्रिया) किसी को परेषान करके भटकवाना।
  5951. फिरब—(क्रिया) घूमना, फेरी लगाना, चारों तरफ भ्रमण करना, चक्कर काटना।
  5952. फिरबाउब—(क्रिया) घुमाना, चक्कर कटवाना, फेरी लगवाना।
  5953. फिरबइया—(सं.पु.) फिराने वाला, घुमाने वाला, चक्कर लगाने वाला।
  5954. फिराउब—(क्रिया) चारों तरफ घुमाना, चक्कर कटवाना।
  5955. फिरंगी—(सं.स्त्री..) एक खिलौना, चक्कर काटने वाला लट्टू।
  5956. फिटिहिरी—(क्रि.वि.) वेग के साथ चारों ओर वृत्ताकार भ्रमण।
  5957. फिराक—(सं.स्त्री..) फ्रॉक, लड़कियों का वस्त्र, तलाष या खोज।
  5958. फिरियाद—(सं.पु.) उलाहना से ओत-प्रोत षिकायत।
  5959. फिरियादब—(क्रि.) उलाहना देकर षिकायत सुनाना।
  5960. फिरता—(सं.पु.) वापस पैसा लेना, शेष वापसी, वस्तु की कीमत देखकर बच रहे शेष राषि को वापस लेना।
  5961. फिरेबिल—(सं.स्त्री..) साइकल का एक पुरजा, फ्रेबिल।
  5962. फिसड्डी—(विषे.) ऐसी-वैसी वस्तु, अस्तित्व विहीन व औचित्यहीन।
  5963. फिंसमाफास—(ब.मु.) छोटी बात को बड़ी बनाना, तर्क में तर्क करना।
  5964. फिस्स—(क्रि.वि.) खत्म करना, चर्चा का समाप्त हो जाना।
  5965. फिसलब—(क्रिया) फिसलना, फिसल जाना, छूट जाना, सरक जाना।
  5966. फिसलाउब—(क्रि.) फिसलाना, फिसलवाने में सहभागिता निभाना।
  5967. फिसलइया—(सं.पु.) फिसलवाने का कार्य करने वाला। फु
  5968. फुइया—(सं.स्त्री..) फुफू, बुआ, पिताजी की बहन।
  5969. फुकबाउब—(क्रिया) फूँक मरवाना, झाड़-फूँक कराना, आभूषण कसवाना।
  5970. फुकबइया—(सं.पु.) फूँकने वाला, नष्ट करने वाला व्यक्ति।
  5971. फुकहाई—(ब.मु.) दिवालिया हो जाना, घर में कुछ न बचना।
  5972. फुकनी—(सं.स्त्री..) हवा फूँकने वाली बाँस की पोलदार नली।
  5973. फुकुर-फुकुर—(विषे.) मंद लव, कम प्रकाष देती हुई बाती के जलने का ढंग।
  5974. फुचड़ा—(सं.पु.) कपड़े का फूल, नारी के केष के जूड़े का फूलवाला फीता।
  5975. फुटकब—(क्रिया) प्रस्फुटित होना, अंकुरित होकर उग आना, सूखे घाव का फिर से पक आना।
  5976. फुटफइल—(ब.मु.) दूर-दूर होना, विरोध के कारण अलग-अलग हो जाना।
  5977. फुटहा—(सं.पु.) टूटा-फूटा बर्तन, फूटा हुआ खण्डित पात्र, स्त्री.. फुटही।
  5978. फुटहाई—(सं.स्त्री..) विरोध, तोड़ने-फोड़ने वाली बातें, बुराई पूर्ण वार्ता।
  5979. फुटबँधवा—(सं.पु.) फूटी मेड़ वाला बाँध, जिसकी मेड़ फूटी हुई हो वह बाँध।
  5980. फुदुकब—(क्रिया) चुनना या चुगना, चिड़ियो द्वारा बाल से दाने चुगना।
  5981. फुदुकबाउब—(क्रिया) चिड़ियों से दाने चुगवाना।
  5982. फुदुकबइया—(सं.पु.) चिड़ियों को दाना चुगाने वाला, चुगने या चुनने वाला।
  5983. फुदकँबइया—(क्रि.वि.) कूदते हुये चलना, हलके पाँव से उछल-उछल कर बढ़ना।
  5984. फुदुर-फुदुर—(अव्य.) फुदुक-फुदुक कर चलना, मेढ़क सी चाल।
  5985. फुनई—(सं.स्त्री..) वृक्ष की चोटी, किसी वस्तु का ऊपरी छोर।
  5986. फुन्नी—(सं.स्त्री..) पौध का सर्वोच्च षिखर, फसल का बाल वाला हिस्सा।
  5987. फुफ्फा—(सं.पु.) फूफा जी, पिता जी के जीजा, बुआ के पति।
  5988. फुफुआउर—(सं.पु.) फूफा जी का गॉव-घर, बुआ की ससुराल।
  5989. फुर—(सं.स्त्री..) सत्य, सही, सच्चाई, यथार्थ।
  5990. फुरिन—(विषे.) एकदम सही, सच मायने में, वास्तव में।
  5991. फुरिन-फुर—(अव्य.) सच-सच, सही-सही, एकदम सत्य, पूर्णतः सही।
  5992. फुरकब—(क्रिया) अघुलित पदार्थ को जीभ के सहारे मुह से फेकना।
  5993. फुरा जमोकी—(ब.मु.) यथार्थ सत्यापन, आमने- सामने प्रमाणित करना, गवाह द्वारा कथन को उसके मुख पर कहलवा देना।
  5994. फुरफुरी—(सं.स्त्री..) बुखार आने के पूर्व ठंड की अनुभूति, रोमांचित स्थिति।
  5995. फुरबाउब—(क्रिया) कथन का आमने-सामने पुष्ट करवाना, कथन को सत्यापित- प्रमाणित करवाना, कही बातें को फिर से कहलवाना।
  5996. फुरबोलिया—(सं.पु.) सदा सत्य बोलने वाला, स्पष्ट व सही बोलने वाला।
  5997. फुरहूँ-- (विषे.) सही-सही में, वास्तव में, सच मायने में।
  5998. फुर्र-फुर्र—(सं.स्त्री..वि.) चिड़िया के पंख की उड़ते समय की आवाज, जल्दी- जल्दी।
  5999. फुर्राब—(क्रिया) फुर्र-फुर्र करके उड़ जाना, नोटों को उड़ा देना।
  6000. फुर्रा—(सं.पु.) बच्चों का एक ग्राम्य खेल, फुर्रा बोलबा, ब.मु.।
  6001. फुर्राउब—(क्रिया) नोटों को हवा मे फुर्रा देना, फैलाना व उड़ाना।
  6002. फुरसतिहा—(सं.पु.) जो काम से बिल्कुल फुरसत हो, एक दम खाली।
  6003. फुलउब—(क्रिया) पानी में कपड़ा भिगोना, वस्त्र गीत करना।
  6004. फुलबाउब—(क्रिया) कपड़े को पानी में गीला करवाना, भिगवाना।
  6005. फुलाउब—(क्रिया) फुलाना, प्रषंसा करके प्रोत्साहित करना, झाड़ पर चढ़ाना।
  6006. फुलबइया—(सं.पु.) फुलाने वाला या पानी चढ़ाने वाला।
  6007. फुलइया—(सं.पु.) पानी से कपड़ों को भिगोने वाला व्यक्ति।
  6008. फुलाब—(क्रिया) फूल लगना, फूल का विकसित होना, फूल जाना।
  6009. फुलान—(विषे.) फूल लगा हुआ, फूला हुआ।
  6010. फुलहा—(सं.पु.) फूल धातु से बने बर्तन, स्त्री.. फुलही, फूलों का बाग।
  6011. फुलहाई—(सं.स्त्री..) काँस के धातु वाली थाली या कटोरी।
  6012. फुलेहरा—(सं.पु.) फूलों से सजायी गई झाँकी, देवाला में बोया गया जौ-पौधा।
  6013. फुलउरी—(सं.स्त्री..) मात्र बेसन की बनी अमिश्रित पकौड़ी या भजिया।
  6014. फुलउटा—(ब.मु.) भ्रम पूर्ण घमण्ड, थोथा गर्व, फूला न समाना।
  6015. फुलनी—(सं.स्त्री..) शरीर फूलने वाला एक रोग, फूलने वाली किन्तु न फलनें वाली।
  6016. फुलिया—(सं.स्त्री..) नारी के नाक का आभूषण।
  6017. फुलकब—(क्रिया) मुँह के पदार्थ को जीभ के सहारे उगल देना।
  6018. फुलकँइया—(अव्य.) हलके पाँव, धीरे-धीरे चलना, दबे पाँव वाली चाल।
  6019. फुलमन—(सं.पु.) भिगोने के लिये पानी में डाला गया अनाज।
  6020. फुलझरिया—(सं.स्त्री..) फूल-फूलने वाली झाड़ियाँ, फूलने वाली वनस्पति।
  6021. फुलउरिहाव—(क्रि.वि.) फुलउरी बनाने का दौर, फुलउरी।
  6022. फुलेल—(सं.पु.) सुगंधित तेल, इत्र, अँतर, फूलों का प्ररस।
  6023. फुलसुँघना—(ब.मु.) बहुत कम खाने के आर्थ में व्यंग्य बोधक, ब.मु.।
  6024. फुलपन्ट—(सं.पु.) फुल पैण्ट, पैण्ट, पतलूम।
  6025. फुलबा—(विषे.) पानी से गीला किया हुआ, भिगोया हुआ।
  6026. फुसुन्नव—(क्रि.वि.) नाक से लम्बी साँस आवेषवस निकालना, लड़ने के लिये अकड़कर उद्यत होना, षिषकी भरकर रुदन करना।
  6027. फुसलाउब—(क्रिया) पुचकार कर बहलाना, लेपन करके मिला-पटा लेना।
  6028. फुहराउब—(क्रिया) गाली-गलौज करना, अष्लील गालियाँ देना।
  6029. फुहरइया—(सं.पु.) अष्लील गाली देने वाला व्यक्ति।
  6030. फुहुरान—(विषे.) सूखे बालों का तितिर- बितिर व अव्यवस्थित ढंग।
  6031. फुहराब—(क्रिया) बालों का पूरे सिर में बेतरतीब फैलना।
  6032. फुहउना—(सं.पु.) इत्र सना रुई का फूहा, कपास या रुई। फू ू
  6033. फूँका परब—(ब.मु.) घर में धन-सम्पत्ति का शून्य हो जाना।
  6034. फूँकब—(क्रिया) फूकना, नष्ट करना, बर्बाद होना, फूँक मारना।
  6035. फूटा—(सं.पु.) भुना हुआ चबेना, ज्वार का प्रस्फुटित दाना।
  6036. फूदा—(सं.पु.) घड़े के गले का फन्दा, मवेषी के गले में बधी रस्सी का गाँठ नुमा छोर।
  6037. फूटब—(क्रिया) फूट जाना, टूट जाना, फल का विकसित होना, नयी कोपले उग आना।
  6038. फूलब—(क्रिया) फूलना, फूल उठना, भीग जाना, सूजन हो आना।
  6039. फूली—(सं.स्त्री..) आँख में पड़ी हुई फुड़िया, मोतिया बिन्दु से आँख में पड़ी गाँठ।
  6040. फूल—(सं.पु.) काँसा धातु।
  6041. फूली-फाली—(ब.मु.) एकदम मोटी-तगड़ी, गर्भवती।
  6042. फूलब-फरब—(ब.मु.) पुष्पित एवं पल्लवित होना, विकास करना एवं बढ़ना।
  6043. फूसड़—(सं.पु.) गुदा द्वारा बाहर निकली हुई लाल माँसपेषी, फूसड़ कढ़ब, (ब.मु.)।
  6044. फूहर—(विषे.) बुरी-भली गाली, अष्लील एवं अभद्र, अषोभनीय एवं खराब।
  6045. फूहा—(सं.पु.) कपास या रुई का अल्पांष, इत्रयुक्त फूहा। फे
  6046. फेंकब—(क्रिया) फेंक देना, हटा देना, दूर भगा देना, फैला देना।
  6047. फेंकबाउब—(क्रिया) फेंकवाना, फेकने के लिये प्रेरित करना।
  6048. फेकइया—(सं.पु.) फेंकने वाला, फैला देने वाला।
  6049. फेकाब—(क्रिया) धक्का से जाकर दूर गिरना।
  6050. फेकँउआ—(विषे.) फेंकने योग्य वस्तु, फेंकते हुये शैली में।
  6051. फेकरब—(क्रि.) स्याल का बोलना, स्याल की चीत्कार।
  6052. फेकारे—(सं.पु.) नग्न सिर, खुले बाल, मूड़ फेकारे, ब.मु.।
  6053. फेटा—(सं.पु.) कमर में बँधा पुरुष धोती का एक छोर, कमर में बँधा गमछा।
  6054. फेटब—(क्रिया) तरल पदार्थों को मिलाना, फेंटकर एकाकार करना, मथ डालना।
  6055. फेटबाउब—(क्रिया) मथवाना, फेंटकर आपस में मिलवा देना।
  6056. फेटबइया—(सं.पु.) मथकर दो तरल पदार्थों को मिलाने वाला।
  6057. फेटाब—(क्रि.) मिश्रित हो जाना, मथा जाना।
  6058. फेंड़—(सं.पु.) कमर के चारों ओर का प्रक्षेत्र।
  6059. फेनकुट—(सं.पु.) मुँह से निकला हुआ फेनदार थूक।
  6060. फेन—(सं.पु.) दूध का फेन, पानी का फेन।
  6061. फेनाब—(क्रिया) फेन का उभर आना, फेन उठ आना।
  6062. फेनहा—(सं.पु.) फेन वाला दूध, जिसमें फेन उठ आया हो ऐसी वस्तु।
  6063. फेनान—(विषे.) दूध में फेन का उभार।
  6064. फेना—(सं.पु.) दूध, दूध का फेन, फेनयुक्त दूध।
  6065. फेनिअर—(सं.पु.) फेनियल, फिनायल का तेल।
  6066. फेफरी—(सं.स्त्री..) ओंठ में जमी सूखी पपड़ी, थूक सूखी स्थिति।
  6067. फेफरिआन—(विषे.) सूखी पपड़ी जमे हुये ओंठ।
  6068. फेफरिआब—(क्रिया) ओंठ पर फेफरी या सूखी परत का जम जाना।
  6069. फेफरी लागब—(ब.मु.) अभाव के कारण मुँह में फेफरी जम जाना।
  6070. फेफसा—(सं.पु.) अठोस लकड़ी, किसी वस्तु का छोटा सा कण।
  6071. फेरब—(क्रिया) फिराना, घुमाना, लौटा देना, वापस करना, इधर से उधर कर लेना।
  6072. फेरबाउब—(क्रि.वि.) घमवाना, लौटवाना, बदलवाना, वापस कराना, आभूषण को तपवाना।
  6073. फेरबइया—(सं.पु.) बदलने वाला, वापस करने वाला।
  6074. फेरि—(अव्य.) पुनः, फिर से, दुबारा।
  6075. फेरमनिया—(क्रि.वि.) आंषिक फेर-बदल, खपड़ों का छप्पर में नया-पुराना करना।
  6076. फेरबा—(सं.पु.) छल्लेदार सोने का एक आभूषण या अँगूठी।
  6077. फेरी—(क्रि.वि.) दौरा, परिक्रमा, चक्कर, कई बार आना-जाना, पुनआर्गमन, पुलिंग फेरा।
  6078. फेरीहा—(सं.पु.) फेरी करने वाला, दौरा में आने वाला।
  6079. फेर—(अव्य.) बाद में, फिर से, पुनः।
  6080. फेरिहौं—(क्रिया) लौटाऊँगी, बदलूँगी, वापस करूँगी। फो
  6081. फोकला—(सं.पु.) रोटी की परत, लकड़ी का छिलका, दलहन की छिलका।
  6082. फोकलइया—(सं.स्त्री..) दलहन की फोकली या छिलकी, दाने रहित फली।
  6083. फोकट—(विषे.) निःषुल्क, बिना लागत की, बिना श्रम की, बिना मूल्य की।
  6084. फोकटहा—(सं.पु.) बिना कीमत दिये वस्तु को मुफ्त में लेने वाले, अस्तित्व विहीन आदमी, निर्धन एवं दरिद्र व्यक्ति।
  6085. फोक्का—(सं.पु.) कंघी की हुई बालों का उठाव, बालों में लगा फीते का फूल।
  6086. फोक्क पचीस—(ब.मु.) खाली हाथ हो जाना, स्तर विहीन, शून्य उपलब्धि।
  6087. फोक्कस—(सं.पु.) सजा-धजा बनावटी चेहरा, ताम-झाम नुमा सौन्दर्य।
  6088. फोंका—(सं.पु.) एक गदेली भर अन्न की मात्रा, इस अवधि में।
  6089. फोंकिआउब—(क्रिया) गदेली में अनाज लेकर मुँह में फाँक लगाना।
  6090. फोंकिबइया—(सं.पु.) गदेली से अनाज का फाँका मारने वाला।
  6091. फोदहटि—(सं.स्त्री..) परेषानी युक्त उलझन, आपत्ति युक्त कार्य।
  6092. फोफली—(सं.स्त्री..) जिसके सारे दाँत टूट गये हों, पुलिंग फोफला।
  6093. फोफलब—(सं.पु.) जिसके दाँत टूटने से गाल चिपक गये हों।
  6094. फोर—(ब.मु.) दौड़-धूप करना, जोर कसना, अथक प्रयास करना।
  6095. फोरब—(क्रिया) फोड़ना या तोड़ना, मन मोटाव करा देना, फूट डालना।
  6096. फोरबाउब—(क्रिया) किसी से चोट पहुँचवाना, फोड़वाना।
  6097. फोरबइया—(सं.पु.) फोड़ने वाला, मतभेद डालने वाला, फूट डालने वाला।
  6098. फोरे-फारे—(अव्य.) तोड़ने-फोड़ने से, ऐन- केन-प्रकारेण ढंग से।
  6099. फोरिया—(सं.स्त्री..) फुड़िया व फुंसी, पुलिंग फोरा।
  6100. फोहा—(सं.पु.) खुली अँगुली की मुष्टिका।
  6101. फोहाका—(सं.पु.) खुली अँगुली की गदेली- प्रहार से उत्पन्न ध्वनि।
  6102. फोहकिआउब—(क्रिया) खुली हथेली से पीठ पर प्रहार करना।
  6103. फोह-फोह—(अव्य.) जल्दी-जल्दी खुली हथेली के प्रहार से उत्पन्न आवाज। ब
  6104. बइतब—(क्रिया) पाँव की नस का इधर-उधर हो जाना, पाँव का मोच जाना।
  6105. बइहाब—(क्रिया) भाव-विभोर के कारण पगला जाना।
  6106. बइहा—(सं.पु.) झक्की एवं मूडी मिजाज का व्यक्ति, अर्द्ध रूप से विक्षिप्त प्रवृत्ति वाला।
  6107. बइहरा—(सं.स्त्री..) हवा, वायु, समीर, रीति एवं प्रचलन।
  6108. बइठव—(क्रिया) आसन ग्रहण करना, बैठ जाना, दीवाल का धंस जाना, उभरे फोड़े का दब जाना, चुनाव में प्रत्याषी का निष्क्रिय हो जाना।
  6109. बइठाउब—(क्रि.) किसी को बैठाना, मोचे पाँव की हड्डी को सही जगह कर देना।
  6110. बइठइया—(सं.पु.) हमेषा बैठे रहने वाला, बैठने वाला आदमी।
  6111. बइठोल—(सं.पु.) जो काम न करके हमेषा बैठा रहता हो, अपंग एवं असमर्थ, पत्नी के पास मायके में रहने-बसने वाला।
  6112. बइगन—(सं.पु.) बन्टी फल वाले टमाटर के पौध, भाँटा।
  6113. बइठकी—(सं.स्त्री..) बैठने की छोटी सी चटाई, छोटे आकार की आँसनी।
  6114. बइरी—(सं.पु.) दुष्मन, बैर करने वाला, अनभल सोचने वाला।
  6115. बइरबाछी—(सं.पु.) समस्या उत्पन्न कर देने वाला, अड़चन डालने वाला।
  6116. बइर—(सं.स्त्री..) बेर, एक वनस्पति फल।
  6117. बइकलाब—(क्रिया पगला जाना, पागल बन जाना, देखकर सुध-बुध खो देना।
  6118. बइकल—(विषे. एकदम पागल, मूर्ख एवं पगला।
  6119. बइकलान—(विषे.) पगलाया हुआ, पागलपन से ग्रसित।
  6120. बइकलिया—(सं.स्त्री..) पगली या पागल नारी, पुलिंग बइकलहा।
  6121. बइकलबाउब—(क्रिया) पगलवा देना, किसी को भ्रमित करवा देना।
  6122. बइकलही—(ब.मु.) पागलपन सवार हो जाना, ना समझी का घेर लेना।
  6123. बइँता—(सं.पु.) बायां हाथ, बांये हाथ से प्रमुख कार्य करने वाला।
  6124. बइसखही—(सं.स्त्री..) बैसाख महीने में होने वाली ककड़ी या फल।
  6125. बइना—(सं.पु.) विवाहोपरान्त विदाई में दी गई परम्परागत पूड़ी व मिठाई।
  6126. बइला—(सं.पु.) बैल, बरदा।
  6127. बइजहाइ बइजहाई—(सं.स्त्री..) गर्भवती नारी के मरने से तैयार पिषाचनी।
  6128. बइया—(सं.स्त्री..) बड़ी बहन, बहन के लिये ग्राम्य उद्बोधन।
  6129. बइपारी—(सं.पु.) व्यापरी, लाद-व्यापार करने वाला।
  6130. बइझुकहा—(सं.पु.) अर्ध रूप से विक्षिप्त, झटका आने पर झूल जाने वाला।
  6131. बइझुक—(सं.पु.) झक्की मिजाज का, मूड़ी एवं झक्की प्रवृत्ति का व्यक्ति।
  6132. बइझुकाब—(क्रिया) अर्ध पागल सा होना, विक्षिप्त होना।
  6133. बउरिआब—(क्रिया) पागल हो जाना, घमण्ड में चूर हो जाना।
  6134. बउरिआन—(विषे.) पागलपना से ओत-प्रोत एवं ग्रसित।
  6135. बउरही—(सं.स्त्री..) जो बाउर हो, जो गूंगी हो ऐसी नारी।
  6136. बउराही—(सं.स्त्री..) पागलपन, पागलपना सवार हुई स्थिति।
  6137. बउँकब—(क्रिया) हाथ बढ़ाकर पकड़ना, पकड़कर हाथ से ले लेना।
  6138. बउकबाउब—(क्रिया) हाथ से बढ़ाकर किसी के हाथ में पकड़ाना या देना।
  6139. बउकाँब—(सं.पु.) पहुँच या पकड़ में होना, नजदीक वस्तु का होना।
  6140. बउकबइया—(सं.पु.) हाथ बढ़ाकर दूर रखी वस्तु को पकड़ने वाला।
  6141. बउगरिआब—(क्रिया) गीली जमीन का हवा से हल्की-हल्की सूख जाना।
  6142. बउसिआब—(क्रिया) प्रदर्षनकारी शौक-शान करना, शौक चढ़ना।
  6143. बउराउब—(क्रिया) किसी को पगलवा देना, किसी को इतना भरना कि आतुर बना देना।
  6144. बउरबइया—(सं.पु.) पगलवा देने वाले, मूर्ख बना देने वाले लोग।
  6145. बउजड़—(विषे.) एकदम जड़ एवं सठ प्रवृत्ति का, किसी का कहना न मानने वाला।
  6146. बउरी—(सं.स्त्री..) बाउर प्रवृत्ति की नारी, पुलिंग बउरा, जो न बोलता हो।
  6147. बउराब—(क्रिया) पागल हो जाना, सुध-बुध खो देना, नषा चढ़ जाना।
  6148. बँउड़ी—(सं.स्त्री..) वृक्षों में लिपटने वाली एक लता जो रस्सी के विकल्प में प्रयुक्त होती है।
  6149. बउँड़ब—(क्रि.) गिल्ली की तरह कठिन पेड़ में भी चढ़ जाना, लिपट जाना।
  6150. बउखर—(विषे.) जलवृष्टि के पष्चात् आकाषीय वातावरण का खुल जाना।
  6151. बउगर—(विषे.) हवा में सूखी हुई गीली जमीन की स्थिति, चावल के पके दाने का अलग-अलग रहने की दषा।
  6152. बउली—(सं.स्त्री..) बावड़ी, चौड़े आकार का कूप या जलाषय।
  6153. बउछार—(सं.स्त्री..) वर्षा के पानी के छींटे।
  6154. बउरि—(सं.स्त्री..) बौर, आम्र की बौर।
  6155. बउड़ाउब—(क्रिया) लता को सहारा देकर अग्रेषित करवाना।
  6156. बउड़बइया—(सं.पु.) पेड़ पर चढ़ने वाला आदमी, वृक्ष पर लिपटकर बढ़ने वाला।
  6157. बउल—(सं.स्त्री..) बौर, लता।
  6158. बक—(योजक) बल्कि, नहीं तो फिर, या तो फिर, या फिर।
  6159. बकुरब—(क्रिया) बड़े मुष्किल से स्वर फूटना, दबी जुबान बोलना।
  6160. बकसोठिल—(विषे.) कच्चे अमरूद का स्वाद, अरहर की पत्ती का स्वाद।
  6161. बकसीस—(सं.स्त्री..) परितोषिक, आषीष के साथ प्रदत्त राषि या वस्तु।
  6162. बकसाँइध—(सं.पु.) कसैलानुमा गन्ध आना।
  6163. बकउड़ा—(सं.पु.) बकौड़, पलास की जड़ के रेषे।
  6164. बकोटा—(सं.पु.) पाँचों उँगुलियों से एक बार में उठाई गई वस्तु की मात्रा।
  6165. बकलेल—(विषे.) मन्द अकल वाला, कान न देखकर कौए के पीछे दौड़ने वाला।
  6166. बकचोद—(विषे.) अक्ल से कमजोर, ना समझ, मूर्ख मिजाज का।
  6167. बकचोदहा—(सं.पु.) जिसकी बुद्धि पथरायी हो, बिना दिमाग का आदमी।
  6168. बकचोदी—(सं.स्त्री..) नारियों के लिये एक अभद्र गाली।
  6169. बकटोंटब—(क्रिया) रोक-टोक करना, टोक देना।
  6170. बकतब—(क्रिया) कलपते रहना, बड़बड़ाना, कलपना।
  6171. बकचेंचर—(विषे.) कम चतुर चालाक, अर्ध बुद्धि वाला व्यक्ति।
  6172. बकतन्नी—(सं.स्त्री..) टेढ़ी-मेढ़ी एवं मुड़ी हुई हंसिया।
  6173. बकताउब—(सं.पु.) तड़फड़ाते हुये जीने वाला व्यक्ति।
  6174. बक्कबिक्क—(अव्य.) निरर्थक बकवास, जो मुँह में आये बोलना।
  6175. बकबकाब—(क्रिया) अनाप-सनाप बोलते रहना, निरर्थक बड़बड़ाना।
  6176. बकबकइया—(सं.पु.) अपने आप अनावष्यक बातें बोलते रहनें वाला।
  6177. बकबास—(क्रिया) अर्थहीन बहस, जिस चर्चा का कोई औचित्य न हो।
  6178. बकचन्दी—(ब.मु.) दुर्भाग्य पूर्ण कुसमय का घेरा, बकचन्दी चढ़ब, ब.मु.।
  6179. बकुला—(सं.पु.) तालाब में रहने वाला श्वेत पक्षी, बगुला।
  6180. बकुली—(सं.स्त्री..) हुकदार छड़ी।
  6181. बकसाब—(क्रिया) अरहर के पौध का अफलित होना, फूल व पत्तों का सिकुड़ जाना।
  6182. बकरबिकिर—(अव्य.) जो मुँह में आये निरर्थक बातें बोलते रहना।
  6183. बकाइन—(सं.स्त्री..) वह पौध जिसके छिलके से रस्सी बनाई जाती है।
  6184. बकेन—(सं.स्त्री..) बच्चा विहीन लगती गाय व भैंस एक वर्ष पूर्व प्रजनित दुधारू पषु।
  6185. बकसुआ—(सं.स्त्री..) बेल्ट में लगी हुई लोहे की क्लिप।
  6186. बकी—(सं.स्त्री..) नोटों में लगने वाली एक दीमक, कागजों का घुन।
  6187. बक्सा—(सं.पु.) पेटी, सन्दूक या बड़ा सा बाक्स।
  6188. बखर—(सं.पु.) जुताई के बाद ढेलों को समतल व जुताई करने वाला कृषि उपकरण।
  6189. बखोरब—(क्रिया) वार्ता के बीच में ही टोक देना, तर्क-वितर्क करना।
  6190. बखरी—(सं.स्त्री..) किसान का चारों तरफ से बना कच्चा किन्तु बड़ा घर।
  6191. बखारी—(सं.स्त्री..) घर के भीतर अनाज रखने का बनाया गया पात्र।
  6192. बखिया—(सं.स्त्री..) सिलाई, के धागों, टाँका, दो टाँकों के बीच की दूरी।
  6193. बखिआउब—(क्रिया कपड़े की सिलाई करना, सिलाई की बखिया चलाना।
  6194. बखान—(क्रिया) यषोगान, बड़ाई, तारीफ, वर्णन एवं व्याख्या।
  6195. बखेड़ा—(क्रि.वि.) झंझटनुमा वार्ता, आपत्तिदायी वार्ता या समस्या।
  6196. बखरिहा—(सं.पु.) बड़ी बखरी में रहने वाला, जिसकी बखरी मषहूर हो।
  6197. बखरबाउब—(क्रिया) खेत में बखर चलवाना, बखर से जुताई करवाना।
  6198. बगराउब—(क्रिया) फैलाना, प्रचारित करना, शोर कर देना, फैला देना।
  6199. बगरब—(क्रिया) फैल जाना, हवा उड़ जाना, बात का प्रचार-प्रसार हो जाना।
  6200. बगबाउब—(क्रिया) घुमाना, बगवाना, रिष्तेदारों को साथ-साथ भ्रमण कराना।
  6201. बगबइया—(सं.पु.) बागने-घूमने वाला, भ्रमण करते रहने वाला।
  6202. बगाउब—(क्रिया) घुमाना, भ्रमण कराना, चक्कर कटवाना।
  6203. बगबू—(क्रिया) घूमोगी, टहलोगी, भ्रमण करोगी, क्या घूमो-फिरोगी?
  6204. बगजा—(सं.पु.) जलेबी के आकार का ग्राम्य व्यंजन, बिना फल की सिकुड़ी अरहर की फूल- पत्तियाँ।
  6205. बगजाब—(क्रिया) अरहर की फूल-पत्तियों का सिकुड़कर फल न देना, बगजा खाने की इच्छा होना।
  6206. बगजान—(विषे.) अरहर की खेती को अफलित हुर्ह स्थिति।
  6207. बगनउरा—(क्रि.वि.) बिना मतलब की घुमाई, भ्रमण कार्य।
  6208. बगई—(सं.स्त्री..) एक प्रकार का कीड़ा जो पषुओं के कान में प्रवेष कर जाता है, रस्सी बनाई जाने वाली एक प्रकार की लम्बी घास।
  6209. बगइआब—(क्रिया) बराई नामक कीडे़ से कुप्रभावित होना, बेचैनी से ग्रसित होना।
  6210. बगइआन—(विषे.) बगई कीड़े से ग्रसित पषुओं की स्थिति।
  6211. बगइहा—(सं.पु.) बगई लगा हुआ पषु, जिस खेत या जगह में बगई घास उगी हो।
  6212. बगइची—(सं.स्त्री..) छोटे प्रक्षेत्र का फलदार वृक्षों का बाग, बगीचा, पु. बगइचा।
  6213. बगइचहा—(सं.पु.) जिसके पास बड़े-बड़े बगीचे हों, जिसका घर बगीचे में बना हो।
  6214. बगार—(सं.पु.) न जोता-बोया जाने वाला खेत का उच्च भाग, पड़ती भूमि।
  6215. बँगली—(सं.स्त्री..) पुराने प्रचलन की पुरुषों की कुर्ती, पुराने चाल की कमीज।
  6216. बगन्ता—(सं.पु.) हमेषा घूमते-भागते रहने वाला, घूमने का आदी व्यक्ति।
  6217. बगदर—(सं.पु.) बड़े आकार के मच्छर, मच्छर बिरादरी के कीड़े।
  6218. बगरी—(सं.स्त्री..) धान से निकला हुआ बिना साफ किया गया खड़ा चावल।
  6219. बघउब—(सं.पु.) आदिवासियों का बघउत देवता।
  6220. बघेलान—(सं.पु.) बघेल क्षत्रियों की बस्ती या मुहल्ला।
  6221. बघउना—(सं.पु.) बाघ, शेर, सिंह।
  6222. बघारब—(क्रिया) सब्जी में बघार लगाना, दाल को फ्रॉई करना, मसाला छौंककर बनाना।
  6223. बघरबाउब—(क्रिया) मसाले का छौंक लगवाना, दाल को फ्राई करवाना, तलाई करवाना।
  6224. बघरबइया—(सं.पु.) मषाला से बघार देने वाला रसोइया।
  6225. बघम्बर—(सं.पु.) मृत बाघ का चमड़ा, बाघ की चमड़ी की बैठकी।
  6226. बघार—(सं.पु.) छौंके देकर पदार्थ को मसालेदार तलना।
  6227. बघँऊ—(विषे.) बाघ की तरह बोलने बताने वाला, गुर्राकर बोलने की शैली।
  6228. बँचब—(क्रिया) बच जाना, सुरक्षित रह जाना, छूट जाना।
  6229. बचबाउब—(क्रिया) वाचन करवाना, छुड़वा देना।
  6230. बचइया—(सं.पु.) पुस्तक पढ़कर सुनाने वाले, कथा वाचक।
  6231. बचबइया—(सं.पु.) बीच-बचाव करने वाला।
  6232. बच—(सं.पु.) एक औषधीय वनस्पति विषेष।
  6233. बचइहौं—(क्रिया) बचा लूँगी, बचाऊँगी, वाचन कराऊँगी।
  6234. बचर-बचर—(अव्य.) जबरिया, जिदपूर्वक जल्दी-ज