अँगीठ

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँगीठ पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ अग्निष्ठ; पा॰, प्रा॰ अग्गिट्ठ] दे॰ 'अँगीठा' । उ॰—या मन को बिसमिल करूँ दीठ करूँ अदीठ । जो सिर राखूँ आपना पर सिर जलौ अँगीठ ।—कबीर (शब्द॰) ।