अँगौछी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँगौछी † संज्ञा स्त्री॰ दे॰ 'अँगोछी' । उ॰—एक अँगोछी अपने अपने गले में डाले आकर सत्यगुरु के चरणों पर गिरे ।—कबीर मं॰ पृ॰ ५०९ ।