अँजना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँजना पु क्रि॰ अ॰ [सं॰ अञ्ज, प्रा॰ अंज] स्निग्ध होना । उ॰— देखत रूप निरंजन अँजेऊ ।—द॰ सागर, पृ॰ ६४ ।