अँतरिखा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँतरिखा पु † संज्ञा पुं॰ दे॰ 'अंतरिक्ष—१' । उ॰—बहुतक फिरा करहिं अँतरीखा । अहे जो लाख भए ते लीखा ।-पदु॰, पृ॰ १२० ।