अँतहकरण

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँतहकरण पु संज्ञा पुं॰ दे॰ 'अंतहकरण' । उ॰—वर नारि नेत्र निज वदन विलासा, जाणियौ अँतहकरण जई ।-बेलि दू॰ १७२ ।