अँधार

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँधार ^१ पु † संज्ञा पुं [सं॰ अन्धकार, प्रा॰ अंधार] अंधकार । तम । अँधेरा । अँधियारा । उ॰—मृगनैनी कामिनि बिना लागत सबै अँधार ।—ब्रज॰ ग्रं॰, पृ॰ ९९ ।

अँधार ^२ पु † संज्ञा पुं॰ [सं॰ आधार=सहारा] रस्सी का जाल जिसमें घास भूसा आदि भरकर बैल की पीठ पर लादते हैं ।