अँवलउ

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अँवलउ वि॰ [सं॰ प्रा॰ अबल] अस्वस्थ । व्यथित । उ॰ —सज्जण चाल्या हे सखी पड़हउ वाज्यउ द्रंग । काँही रली बधाँमणाँ, काँही अँवलउ अंग । —ढोला॰, दू॰ ३४१ ।