अंग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

पु. [सं.√ अम् गति आदि+गन्]
1. शरीर के विभिन्न अवयव। जैसे-हाथ, पैर, मुँह आदि। मुहा.- (किसी का ) अंग छूना- शपथ खाने के लिए उसके शरीर पर हाथ रखना। अंग लगाना- छाती से लगाना, गले लगाना।
2. शरीर,देह। मुहा- अंग उभरना- जवानी आना। यौवन का प्रारम्भ होना। अंग ऐड़ा करना- ऐठ,बल या शेखी दिखाना। अंग करना- (क) ग्रहण या स्वीकार करना (ख) अपना या आत्मीय बनाना। अंगों में अंग चुराना- लज्जा से संकुचित होना। अंग टूटना- थकावट आदि के कारण विभिन्न अंगों में पीड़ा होना जिसके फलस्वरूप अँगड़ाई आती है। अंग ढ़ीले होना- (क) थक हो जाना (ख) वृद्ध हो जाना। अंग तोड़ना- (क) अंगड़ाई लेना (ख) शारीरिक पीड़ा या कष्ट के कारण बार-बार अंग फटकना। छट पटाना। अंग देना- थोड़ा आराम करना। अंग में न माना- अति प्रसन्न होना। उदाहरण- पुलकि न मावति अंग-सूर। अंग मुस्कराना- (क) अतिप्रसन्न दिखाई पड़ना (ख) प्रसन्नता से रोमांचित हो जाना (ग) शारीरिक सौन्द्रर्य का खिलना। अंग मोड़ना- (क) शरीर के अंगों को लज्जावश छिपाना (ख) भय या संकोच के कारण पीछे हटना। उदाहरण- खेलै फाग अंग नहिं मोड़े सतगुरू से लपटानी। किसी के अंग लगाना- (क) गले लगाना (ख) संभोग करना(खाद्य पदार्थों का) अंग लगना- खाद्य पदार्थों के उपभोग से शरीर की पुष्टि या वृद्धि होना(रोगी के)। अंग लगना- बहुत दिनों से बिस्तर पर पड़े रहने से शरीर में घाव या शय्या-व्रण होना। अंग लगाना- गले लगाना (कन्या को) अंग लगाना- (कन्या को वर के सुपुर्द करना, सौंपना या विवाह में देना। फूले अंग न समाना- बहुत ही प्रसन्न होना।
3. कार्य सम्पादन करने का उपाय या साधन।
4. व्यक्तित्व। उदाहरण- राउरे अंग जोग जग को है-तुलसी।
5. वे अवयव, तत्त्व या सदस्य जिनके योग से किसी वस्तु, संस्था आदि का निर्माण होता है। अंश। जैसे- आप भी तो इस संस्था के अंग हैं।
6. संगीत में राग के स्वरूप या उसके प्रादेशिक प्रकार के विकार से होनेवाला विशिष्ट वर्ग या विभाग। जैसे-पूर्वी अंग का राग।
7. बड़ी तथा महत्वपूर्ण संस्थाओं के उपविभाग जैसे पूर्वी अंग का राग।
8.व्याकरण में प्रत्यय युक्त शब्द का प्रत्यय रहित अंश या भाग। जैसे- रम्+घञ(=राम) में रम् अंग है।
9. भागलपुर के समीपवर्ती प्रदेश का प्राचीन नाम जहाँ की राजधानी चम्पानगरी(आधुनिक चम्पारन) थी।
10. अंग देश के निवासी।
11. नाटक में अंगी(नायक) के सहायक पात्र।
12. मध्य प्राचीन साहित्य में प्रेम या आपसदारी का सूचक एक संबोधन।
13. छ की संख्या (छ वेदांग होते है)।
14. ओर तरफ
15. पक्ष पहलू।

वि.1.अंगो वाला। 2. अप्रधान।गौण। 3. संलग्न। 4.उलटा।

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अंग ^१ संज्ञा पुं॰ [ सं॰ अङ्ग]

१. शरीर । बदन । देह । गात्र । तन । जिस्म । उ॰— अभीशाप ताप की ज्वाला से जल रहा आज मन और अंग ।— कामायनी, पृ॰ २

६२. ।

२. शरीर का भाग अवयव । उ॰— भूषन सिथिल अग भूषन सिथिल अंग— भूषण ग्रं॰, पृ॰१२९ । मुहा॰—अग उभरना = युवावस्था आना अंग करना = स्वीकार करना । ग्रहण करना । उ॰— (क) जाकौ मनमोहन अंग करै ।— सूर (शब्द॰) । (ख) जाको हरि दृढ करि अंग करयो ।— तुलसी (शब्द॰) । अंग छूना= शपथ खाना । माथा छूना । कसम खाना । उ॰— सूर हृदय से टरत गोकुल अंग छुवत हौं तेरी ।— सूर (शब्द॰) ।अंग टूटना= जम्हाई के साथ आलस्य से अंगों का फंलाया जाना । अंगड़ाई आना । अंग तोड़ना ।— अँगड़ाई लेना । अंग धरना = पहनना । धारण करना । व्यवहार करना । अंग में मास न जमना = दुबला पतला रहना । क्षीण रहना । उ॰— नैन न आवै नींदड़ी , अंग न जमै मासु ।— कबीर सा॰ सं॰, भ॰ १, पृ॰ ४३ । अंग मोडना = (१) शरीर के भगों को सिकोड़ना । लज्जा से देह छिपाना । (२) अँगड़ाई लेना । उ॰— अंगन मोरति भोर उठी छिति पूरति सुगंध झकोरन ।— व्यंगार्थ (शब्द॰) । (३) पीछे हटना । भागना । नटना । बचना । उ॰— रे पतंग नि: शंक जल, जलत न मोड़ै अंग । पहिले । तो दीपक जलै पीछे जलै पतंग (शब्द॰) । अंग लगाना =(१) आलिगन कतरना । छती से लगाना । (२) शरीर पुष्ट होना । उ॰— ' वह खाता तो बहुत है पर उसके अंग नहीं लगता' (शब्द॰) । (३) काम में आना । उ॰— ' किसी के अंग लग गया , पड़ा पड़ा क्या होता' (शब्द॰) । (४) हिलना । परचना । उ॰— ' यह बच्चा हमारे अंग लगा है' (शब्द॰) । अंग लगाना या अंग लाना पुं॰ = (१) आलिगन करला । छाती से लगाना । परिरंभण करना । लिपटाना । उ॰— पर नारी पैनी छुरी कोउ नहिं लाओं अंग । (शब्द॰) (२) हिलाना । परचाना । (३) विवाह देना । विवाह में देना । उ॰— ' इस कन्या को किसी के अंग लगा दे' (शब्द॰) । (४) अपने शरीर के आरम में खर्च करना ।

३. भाग । अंश । टुकड़ा ।

४. खंड़ । अध्याय । जैसे— ' गुरूदेव कौ अंग', ' चितावनी कौ अंग', ' सूषिम मारग कौ अंग' ।— कबीर ग्रं॰ ।

५. ओर । तरफ । पक्ष । उ॰— सात स्वर्ग अपवर्ग ससुख धरिय तुला इक अंग ।— तुलसी (शब्द॰) ।

६. भेद । प्रकार । भआंति । तरह । उ॰— (क) कृपालु स्वामी सारिखो, राखै सरनागत सब अंग बल बिहीन को ।— तुलसी ग्रं॰, पृ॰ ५६४ । (ख) अंग अंग नीके भाव गूढ भाव के प्रभआव, जानै को सुभाव रूप पटि पहिचानी है ।— केशव (शब्द॰) ।

७. आधार । आलंबन । उ॰— राधा राधारमन को रस सिगा र में अंग ।— भिखारी॰ ग्रं॰, भथआ॰ १, पृ॰य ४ ।

८. सहायक । सुहृद । पक्ष का । तरफदार । उ॰— रौरे अंग जोग जग ,को है ।— मानस, २ ।२

८४. ।

९. एक संबोधन । प्रिय । प्रियवर । उ॰— यह निश्चय ज्ञानी को जाते कर्ता दीखै करै न अंग ।— निश्चल (शब्द॰) ।

१०. जन्मलग्न (ज्यो॰) ।

११. प्रत्यय- युत्क शब्द का प्रत्यय रहित भाग । प्रकृति । ( व्या॰) ।

१२. छह की संख्या । उ॰— बरसि अचल गुण अंग ससी संवति, तवियौ जस करि श्रीभरतार ।— वेलि, दू॰ ३०५ । १३ वेद के

६. अंग; यथा - शिक्षा, कल्प, व्याकरण , निरूत्क, ज्योतिष और छंद । दे॰ ' वेदांग' ।

१४. नाटक में श्रृगर और वीर रस को छोड़कर शेष रस जो अप्रधान रहते हैं ।

१५. नाटक में नायक या अंगी का कार्यसाधक पात्र ; जैसे — ' वीरचरित' में सुग्रीव, अंगद, विभषण आदि ।

१६. नाटक की ५ संधियो के अंतर्गत एक उपविभआग ।

१७. मन । उ॰— सुनत राव इह कथ्थ फुनि, उपजिय अचरच अंग । सिथिल अंग धीरज रहित, भयो दुमति मति पंग ।— पृ॰ रा॰ ३ ।

१८. ।

१८. साधन जिसके द्वार कोइ कार्य संपादित किया जाय ।

१९. सेना के चार अंग वा विभाग; यथा— हाथी, घोड़े रथ और पैदल । दे॰ 'चतुरंगिणी' ।

२०. राजनीति के सात अंग; यथा — स्वामी, अमात्य, सुहृद्, कोष, राष्ट्र, दुर्ग और सेना । म

२१. योग के आठ अंग; यथा— यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, ध्यान, धारणा ऐर समाधि । दे॰ ' योग' ।

२२. बंगाल में भागलपुर के आसपास का प्राचीन जनपद जिसकी राजधानी चंपापुरी थी । कहीं कहीं विस्तार वैद्यानाथ से लेकर भुवनेश्वर (अड़ीसा, उत्कल) प्रदेश तक लिखा है ।

२३. ध्रुव के वंश का एक राजा ।

२४. एक भत्क का नाम ।

२५. उपाय ।

२६. लय़क्षण ।चिह्न (को॰) ।

अंग ^२ वि॰

१. अप्रधान । गौण ।

२. उलटा । प्रतीप ।

३. प्रधान ।

४. निकट । समीप (को॰) ।

५. अंगोंवाला (को॰) ।

अंग ^३ पुं॰ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ आज्ञा] आज्ञा ।आदेश । उ॰— सो निज स्वामिनि अंग सुनि क्रमिय सुअथ्थह कब्ब ।— पृ॰ रा॰, ६१ ।७६६ ।