अकुण्ठित

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अकुंठित वि॰ [सं॰ अकुण्ठित]

१. जो कुंठित न हो । तेज । उ॰— परम अकुंठित विरोधिनी सकंठता की, कुलिस सी कठिन कठोरता में ढाली है ।—रसक॰, पृ॰ ३१३ ।

२. जिसे टाला न जा सके । अटल । उ॰—हैं दानव दल दंडन खल खंडन ए । अरि—कुल कंठ—कुठार—अकुंठित व्रत धरे ।— पारिजात, पृ॰ ७ ।